पीरियड्स (मासिक धर्म) में कमर दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय – Lower Back Pain During Period: Causes, Symptoms And Home Remedies In Hindi

पीरियड्स (मासिक धर्म) में कमर दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय - Lower Back Pain During Period: Causes, Symptoms And Home Remedies In Hindi
Written by Deepti

Lower Back Pain During Period in hindi क्या आपको भी पीरियड्स में कमर दर्द होता है? तो हम आपको इसके लिए आसान से घरेलू उपाय बता रहे हैं, इनकी मदद से आप माहवारी में होने वाले कमर दर्द से छुटकारा पा सकती हैं। पीरियड्स में कमर दर्द की समस्या महिलाओं को बहुत परेशान करती है। इस दौरान किसी को कम तो किसी को तेजी से कमर दर्द होता है। यह दर्द आपके पीरियड्स आने के कुछ दिन पहले शुरू हो सकता है। हालांकि, इससे बचने के लिए अक्सर महिलाएं दवा ले लेती हैं, लेकिन हर महीने होने वाले इस दर्द से राहत पाने के लिए दवा लेना आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार, ऐसे समय में पेन किलर खाने से खून पतला हो जाता है, रक्तचाप असंतुलित होता है।

इसके बजाए अगर आप घर बैठे कुछ नुस्खे अपनाएं, तो आपको पीरियड्स में कमर दर्द से बहुत जल्दी आराम मिलेगा। लड़कियों और महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान शारीरिक दर्द, पेट में ऐंठन, चिड़चिड़ापन, जी मिचलाना, व मूड स्विंग जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इन सब में मासिक धर्म के समय कमर में दर्द तो सबसे आम समस्या बन चुकी है।

महिलाओं के लिए मासिक धर्म उनके जीवन की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। इस दौरान हर लड़की और महिला को कमर दर्द की समस्या से जूझना ही पड़ता है। यह दर्द चलने और काम करने के दौरान असुविधा पैदा करता है। ऐसी कई महिलाएं हैं, जिनको पीरियड्स में होने वाले दर्द को सहन करना मुश्किल हो जाता है। वैसे तो मासिक धर्म में कमर दर्द को रोकने के बहुत से उपाय हैं, लेकिन हम आपको कुछ चुंनिदा घरेलू उपायों के बारे में बताएंगे, जो धीरे-धीरे आपके दर्द को कम कर देंगे। लेकिन सबसे पहले जानना जरूरी है, कि पीरियड्स में कमर दर्द होता क्या है।

1. पीरियड्स में लड़कियों को क्यों होता है कमर में दर्द – Ladkiyon ko periods me kyu hota hai tej kamar dard in Hindi
2. पीरियड्स में कमर दर्द के कारण – Causes of lower back pain during periods in Hindi
3. पीरियड्स में कमर दर्द के लक्षण – Symptoms of Period Back Pain in Hindi
4. पीरियड्स में कमर दर्द का उपचार – Treatment of back pain in periods in Hindi
5. मासिक धर्म या पीरियड्स में कमर दर्द के घरेलू उपाय – Period me kamar dard ke gharelu upay in Hindi

6. मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द से बचने के टिप्स – Tips to avoid back pain in periods in Hindi
7. क्या पीरियड से एक हफ्ते पहले कमर दर्द होना चिंता की बात है – Is it a matter of concern to have back pain a week before the period in Hindi
8. मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द होने पर डॉक्टर को कब दिखाना है – When to see a doctor if you have back pain during menstruation in Hindi

पीरियड्स में लड़कियों को क्यों होता है कमर में दर्द – Ladkiyon ko periods me kyu hota hai tej kamar dard in Hindi

पीरियड्स में लड़कियों को क्यों होता है कमर में दर्द - Ladkiyon ko periods me kyu hota hai tej kamar dard in Hindi

महिलाओं की कमर में दर्द होना पीरियड्स आने का सबसे आम संकेत है और इस दौरान इस किस्म का दर्द होना सामान्य है। दरअसल, मासिक धर्म में गर्भाशय की मांसपेशियां सिकुड़ने लगती हैं, जिस कारण महिलाओं को पीठ से लेकर कमर और पेट में दर्द का अनुभव होता है। निचली कमर में होने वाले दर्द को डिसमिनेरिया (dysmenorrhea) भी कहते हैं। विशेषज्ञों की मानें, तो हर महीने महिलाओं के शरीर में अंडा बनाने के लिए यूटेराइन लाइनिंग (यूटेरस की लाइनिंग) बनती है, जिसे एंडोमेट्रियम कहते हैं। अगर आप प्रेग्नेंट नहीं होतीं, तो ऐसी स्थिति में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन लेवल में गिरावट आती है।

साथ ही गर्भाशय में कुछ बदलाव भी महसूस होने लगते हैं। अगर आपका गर्भाशय बहुत तेजी से सिकुड़ता है, तो इसका असर आसपास की ब्लड वैसल्स पर भी पड़ता है। इसी वजह से निचले पेट के साथ निचली कमर में भी तेजी से दर्द महसूस होता है। उच्च प्रोस्टाग्लैंडिन वाली महिलाओं को भी तेज कमर दर्द हो सकता है।

(और पढ़े – डिसमेनोरिया (कष्टयुक्त मासिकस्राव) क्या है, कारण, लक्षण और इलाज…)

पीरियड्स में कमर दर्द के कारण – Causes of lower back pain during periods in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द के कारण - Causes of lower back pain during periods in Hindi

पीरियड्स के उन दिनों में कमर में दर्द होने के कई कारण हैं। नीचे बताए गए कारणों से पीरियड्स में कमर दर्द की शिकायत हो सकती है।

ओव्यूलेशन (Ovulation) – ओव्यूलेशन के दौरान ऐंठन के साथ आपको पीठ के निचले हिस्से में दर्द महसूस हो सकता है। यह तब होता है, जब आपका अंडाशय एक अंडा जारी करता है। यह आपके मासिक धर्म चक्र के मध्य में होता है। ओव्यूलेशन के कारण दर्द अचानक बढ़ सकता है। यह कुछ देर के लिए या फिर दो दिन तक के लिए भी रह सकता है।

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) – यह एक असामान्य प्रजनन संबंधी स्थिति है। इस स्थिति में गर्भाशय के बाहरी हिस्से में सेल्स विकसित हो जाते हैं। इस अवधि से पहले पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है।

गर्भाशय में सिस्‍ट या यूट्रीन फाइब्रॉइड (Uterine fibroids) – ये गैर कैंसरजन्य वृद्धि है, जो यूटेराइन वॉल पर बनती हैं। इस कारण भी पीरियड्स से पहले और बाद में कमर दर्द की शिकायत होती है।

एडिनोमायोसिस (Adenomyosis) – इस स्थिति में यूट्रस लाइनिंग के टिशू मांसपेशियों की गर्भाशय की दीवार में बढ़ने लगते हैं। यह पीरियड्स की अवधि के दौरान और बाद में कमर दर्द का कारण हो सकता है।

सर्वाइकल स्टेनोसिस (Cervical stenosis)- इस स्थिति में कई महिलाओं की सर्वाइकल ओपनिंग बहुत छोटी होती है और ये मासिक धर्म के प्रवाह को बाधित करता है। इससे गर्भाशय पर दबाव बढ़ता है, जिससे कमर दर्द होता है।

पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज (Pelvic inflammatory disease) – यह डिसीज फीमेल रिप्रोडक्टिव ऑर्गन का एक इंफेक्शन है, जो आमतौर पर बैक्टीरिया के कारण होता है। आप एंटीबायोटिक दवाओं के साथ पीआईडी (PID) का इलाज कर सकते हैं।

असामान्य गर्भावस्था (Abnormal pregnancy) – इसमें अस्थानिक गर्भावस्था, या गर्भपात शामिल है।

(और पढ़े – पीरियड्स के दिनों में दर्द क्यों होता है जानें मुख्य कारण)

पीरियड्स में कमर दर्द के लक्षण – Symptoms of Period Back Pain in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द के लक्षण – Symptoms of Period Back Pain in Hindi

यदि आपको कष्टार्तव (dysmenorrhea) है, तो आपको पीठ दर्द के साथ कई अन्य लक्षणों का अनुभव हो सकता है। इन लक्षणों में शामिल हैं:

मासिक धर्म के दौरान एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) पीठ के निचले हिस्से में दर्द का एक आम कारण है। ऊपर सूचीबद्ध लक्षणों के अलावा, एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों में शामिल हैं:

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि एंडोमेट्रियोसिस में बहुत कम या ध्यान देने योग्य लक्षण भी हो सकते हैं।

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी), जो पीठ के निचले हिस्से में दर्द का कारण भी बन सकती है, में कष्टार्तव के अलावा निम्न लक्षण हैं:

पीआईडी अक्सर यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) के कारण होता है, जैसे कि गोनोरिया और क्लैमाइडिया। संक्रमण से बैक्टीरिया प्रजनन अंगों में फैल सकता है।

यह टैम्पोन के उपयोग के कारण भी हो सकता है। यदि आपको लगता है कि आपको एसटीआई या पीआईडी है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – महिलाओं की कमजोरी के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

पीरियड्स में कमर दर्द का उपचार – Treatment of back pain in periods in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द का उपचार - Treatment of back pain in periods in Hindi

पीरियड्स में होने वाले कमर दर्द का कारण जानकर डॉक्टर आपको कुछ उपचार बता सकता है, जैसे- बर्थ कंट्रोल पिल्स। ऐसी पिल्स, जिनमें एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन होते हैं, यह दर्द को कम करने में मददगार हैं।

  • प्रोजेस्टेरोन, जो दर्द को भी कम करता है।
  • नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स, जैसे इबुप्रोफेन और एस्पिरिन, शरीर द्वारा बनाई गई प्रोस्टाग्लैंडिन की मात्रा को कम करके दर्द को शांत करते हैं।
  • यदि कमर के निचले हिस्से में दर्द एंडोमेट्रियोसिस के कारण होता है, तो दवा एक विकल्प हो सकता है। गोनैडोट्रोपिन-रिलीजिंग हार्मोन एगोनिस्ट दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़े – कमर दर्द दूर भगाने के लिए आजमाएं ये घरेलू नुस्खे और उपाय…)

मासिक धर्म या पीरियड्स में कमर दर्द के घरेलू उपाय – Period me kamar dard ke gharelu upay in Hindi

मासिक धर्म या पीरियड्स में कमर दर्द के घरेलू उपाय - Period me kamar dard ke gharelu upay in Hindi

माहवारी के दिनों में कमर दर्द होने पर भले ही महिलाएं या लड़कियां दवाओं का सहारा लेती हैं, लेकिन आगे चलकर इससे सेहत को नुकसान पहुंचता है। नीचे हम आपको पीरियड्स में कमर दर्द दूर करने के कुछ उपाय बता रहे हैं, जिन्हें आप घर में आसानी से आजमा सकती हैं।

पीरियड्स में कमर दर्द कम करने के लिए करें गर्म पानी का प्रयोग – Periods me kamar dard kam karne ke liye hot water ka prayog in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द कम करने के लिए करें गर्म पानी का प्रयोग - Periods me kamar dard kam karne ke liye hot water ka prayog in Hindi

मासिक धर्म के समय कमर दर्द में गर्म पानी से सिकाई करना सबसे अच्छा और आसान घरेलू उपाय है। सिकाई से गर्भाशय की मांसपेशियों को आराम मिलता है, जिससे दर्द कम हो जाता है। इसके लिए आप रबड़ के बैग या प्लास्टिक की बोतल में पानी भरकर पीठ के निचले हिस्से की सिकाई करें।

(और पढ़े – गर्म पानी से नहाने के फायदे और नुकसान…)

पीरियड्स में कमर दर्द से बचने का घरेलू नुस्खा दालचीनी – Periods me kamar dard se bachne ka gharelu nuskha cinnamon in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द से बचने का घरेलू नुस्खा दालचीनी - Periods me kamar dard se bachne ka gharelu nuskha cinnamon in Hindi

दालचीनी में कैल्शियम, फाइबर और आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके साथ दालचीनी में कुछ ऐसे गुण भी होते हैं, जो पीरियड्स में कमर दर्द और सूजन की समस्या को खत्म करते हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए एक गिलास गर्म पानी में एक-एक चम्मच दालचीनी और शहद मिलाकर माहवारी के पहले दिन दो से तीन बार पीएं। इससे दर्द कम करने में बहुत राहत मिलेगी।

(और पढ़े – दालचीनी के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान…)

पीरियड्स में कमर दर्द का घरेलू इलाज सौंफ – Periods me kamar dard ka gharelu ilaj fennel seeds in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द का घरेलू इलाज सौंफ - Periods me kamar dard ka gharelu ilaj fennel seeds in Hindi

सौंफ गर्भाशय में होने वाली ऐंठन को शांत करके बैचेनी और दर्द से राहत दिलाती है। एक कप उबलते पानी में एक चम्मच सौंफ डालें और मध्यम आंच पर पांच मिनट के लिए उबालें। अब इसे ठंडा करने के लिए रख दें और एक चम्मच शहद मिलाएं। इस हर्बल चाय को पीरियड के शुरूआती दो या तीन दिन में दो बार पीने से कमर दर्द में बहुत लाभ मिलेगा।

(और पढ़े – सौंफ का पानी पीने के फायदे और नुकसान…)

माहवारी में कमर दर्द का घरेलू से बचाए अदरक – Maahvari me kamar dard se bachae ginger in Hindi

माहवारी में कमर दर्द का घरेलू से बचाए अदरक - Maahvari me kamar dard se bachae ginger in Hindi

अदरक को भी मासिक धर्म के समय दर्द के उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। दरअसल, महिलाओं के गर्भाशय में एक केमिकल होता है, जो दर्द के लिए जिम्मेदार होता है। अदरक इस दर्द वाले केमिकल को कम करता है, जिससे आपको पीरियड्स में कमर दर्द से छुटकारा मिल जाता है। इसके लिए एक कप पानी में अदरक का एक छोटा टुकड़ा डालकर पांच मिनट के लिए उबालें। अब इसे थोड़ा ठंडा करें और इसमें शहदनींबू मिलाएं। इस हर्बल चाय को माहवारी के दिनों में रोजाना दिन में तीन बार पीएं। कमर दर्द में राहत मिलेगी।

(और पढ़े – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग और नुकसान…)

मासिक धर्म में कमर के दर्द का आसान उपाय तुलसी – Maasik dharm me kamar ke dard ka asan upay tulsi in Hindi

मासिक धर्म में कमर के दर्द का आसान उपाय तुलसी - Maasik dharm me kamar ke dard ka asan upay tulsi in Hindi

तुलसी भी पीरियड्स के दिनों में कमर दर्द का अच्छा उपचार है। यह आयुर्वेदिक औषधि के रूप में काम करती है। इसके लिए तुलसी के पत्तों को एक कप उबलते पानी में डालें और फिर ढंककर रख दें। ठंडा होने पर इसे पीएं। दिन में तीन या चार बार इसे पीने से दर्द गायब हो जाएगा।

(और पढ़े – तुलसी के फायदे और नुकसान…)

पीरियड्स के दिनों में कमर दर्द दूर भगाने का उपाय पपीता – Periods ke dino me kamar dard bhagane ka upay papaya in Hindi

पीरियड्स के दिनों में कमर दर्द दूर भगाने का उपाय पपीता - Periods ke dino me kamar dard bhagane ka upay papaya in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द को दूर भगाने के लिए पपीता बहुत असरदार साबित होता है। इसमें आयरन, विटामिन, कैरोटीन और कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। पीरियड्स आने से पहले पपीते को अपने आहार में शामिल करें। इससे दर्द में बहुत जल्दी आराम मिलेगा।

(और पढ़े – पपीता खाने के फायदे और नुकसान…)

मासिक धर्म में कमर दर्द में आराम दिलाए धनिया के बीज – Periods me kamar dard me aaram dilaye coriander seeds in Hindi

मासिक धर्म में कमर दर्द में आराम दिलाए धनिया के बीज - Periods me kamar dard me aaram dilaye coriander seeds in Hindi

अगर आपको अनियमित माहवारी के साथ बहुत ज्यादा कमर दर्द भी होता है, तो धनिए के बीज आपके लिए रामबाण उपाय साबित होंगे। सबसे पहले धनिए के बीजों को एक कप पानी में उबालें और ठंडा कर लें। अब इस मिश्रण को ठंडा कर दिन में दो बार पीएं। कमर दर्द में बेहद आराम मिलेगा।

(और पढ़े – धनिया के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान…)

पीरियड्स में कमर दर्द को दूर करे दही – Periods me kamar dard door kare dahi in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द को दूर करे दही - Periods me kamar dard door kare dahi in Hindi

दही में भरपूर मात्रा में विटामिन डी और कैल्शियम पाया जाता है। इसलिए ये दोनों ही तत्व दर्द से राहत दिलाने में बहुत मददगार साबित होते हैं। पीरियड्स के दिनों में अपने आहार में दही शामिल करें। एक दिन में कम से कम तीन से चार बार दही का सेवन करना चाहिए। ध्यान रखें, कि दही में कुछ मिलाए नहीं, बल्कि सादे दही का सेवन दर्द में ज्यादा फायदा पहुंचाएगा।

(और पढ़े – दही खाने से सेहत को होते हैं ये बड़े फायदे…)

पीरियड्स में कमर दर्द में लाभदायक सेंधा नमक – Periods me kamar dard me laabhdayak epsom salt in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द में लाभदायक सेंधा नमक - Periods me kamar dard me laabhdayak epsom salt in Hindi

सेंधा नमक में मैग्नीशियम सल्फेट होता है और कहा जाता है, मैग्रीशियम सल्फेट में किसी भी तरह के दर्द को दूर करने के गुण होते हैं। इसलिए मासिक धर्म में गुनगुने पानी में सेंधा नमक डालकर स्नान करें। पीरियड्स की तारीख से एक या दो दिन पहले ही सेंधा नमक का स्नान लेना शुरू कर दें। बहुत राहत मिलेगी।

(और पढ़े – सेंधा नमक के फायदे गुण लाभ और नुकसान…)

मासिक धर्म में कमर दर्द से बचने के लिए मेथीदाना – Maasik dharm me kamar dard se bachne ke liye fenugreek in Hindi

मासिक धर्म में कमर दर्द से बचने के लिए मेथीदाना - Maasik dharm me kamar dard se bachne ke liye fenugreek in Hindi

मेथीदाने में कई तरह के दर्द को भगाने के चिकित्सीय गुण होते हैं। इसमें प्रोटीन की अधिक मात्रा होती है, जिससे पीरियड्स में होने वाले दर्द में बहुत आराम मिलता है। इसके लिए एक चम्मच मेथीदाने को एक गिलास पानी में रातभर के लिए भिगोकर रख दें और सुबह उठकर खाली पेट इस पानी का सेवन करें। पीरियड्स शुरू होने से दो दिन पहले आप इस उपाय को कर सकते हैं।

(और पढ़े – मेथी का पानी पीने के फायदे और नुकसान…)

पीरियड्स में कमर दर्द को दूर करे लैवेंडर तेल – Periods me kamar ka dard door kare lavender oil in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द को दूर करे लैवेंडर तेल - Periods me kamar ka dard door kare lavender oil in Hindi

लैवेंडर ऑयल में मासिक धर्म में होने वाले दर्द को दूर करने के गुण होते हैं। इसे सूंघने से भी दर्द में बहुत आराम मिलता है। इसे आजमाने के लिए तीन से चार बूंद लैवेंडर ऑयल के साथ एक से दो चम्मच नारियल के तेल की मिलाएं। इस मिश्रण को दर्द की जगह पर लगाएं। आप चाहें, तो लैवेंडर तेल की कुछ बूंद पानी में डालकर इसकी भाप भी ले सकती हैं। पीरियड्स के दिनों में इस उपाय को एक से दो बार कर सकती हैं।

(और पढ़े – लैवेंडर ऑयल के फायदे और नुकसान…)

माहवारी में कमर के दर्द से राहत दिलाएं पेपरमेंट ऑयल – Peppermint oil to relieve backache in menstruation in Hindi

माहवारी में कमर के दर्द से राहत दिलाएं पेपरमेंट ऑयल - Peppermint oil to relieve backache in menstruation in Hindi

पेपरमेंट ऑयल में मैंथॉल के गुण होते हैं, जो दर्द व थकान को दूर करने में आपकी मदद करते हैं। इसके लिए पेपरमेंट ऑयल की तीन से चार बूंद लें और इसमें दो चम्मच नारियल का तेल मिला लें। अब इस तेल के मिश्रण को प्रभावित क्षेत्र पर लगाकर दो मिनट तक मसाज करें। कमर दर्द होने पर इस उपाय को दिन में एक बार तो जरूर करें।

(और पढ़े – पुदीना के तेल के फायदे और नुकसान…)

पीरियड्स में कमर दर्द से बचने के लिए लें पौष्टिक आहार- Take nutritious diet to avoid back pain in periods in Hindi

पीरियड्स में कमर दर्द से बचने के लिए लें पौष्टिक आहार- Take nutritious diet to avoid back pain in periods in Hindi

माहवारी के दिनों में महिलाओं के शरीर में खून की कमी हो जाती है, ऐसे में उन्हें पौष्टिक आहार लेने की बहुत जरूरत होती है। इन दिनों महिलाओं को आयरन और मैग्नीशियम से भरपूर आहार लेना चाहिए। साथ ही हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करने से भी खुद को स्वस्थ रख सकती हैं। इतना ही नहीं, अपनी डाइट में विटामिन डी को भी शामिल करें। यह आपको पनीर, अंडे, मछली, संतरे का जूस व दालों में मिल सकता है।

(और पढ़े – पीरियड के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या नहीं…)

मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द से बचने के टिप्स – Tips to avoid back pain in periods in Hindi

मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द से बचने के टिप्स - Tips to avoid back pain in periods in Hindi

पीरियड के दौरान होने वाले कमर दर्द से बचने के लिए आप नीचे दिए जा रहे टिप्स अपना सकते हैं।

  • कमर दर्द से बचने के लिए एसिटामिनोफेन या एंटीइंफ्लेमेट्री जैसे नेप्रोक्सोडियम और इबुप्रोफेन लें।
  • स्वस्थ आहार लें, अपने आहार में भरपूर मात्रा में मैग्नीशियम और विटामिन बी शामिल करें।
  • धूम्रपान से बचे रहें और शराब का सेवन भी न करें।
  • मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द से बचने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • कमर के नीचे गर्म पानी की बोतल या हीटिंग पैड लगाएं।
  • मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द से बचने के लिए गर्म पानी से नहाएं।
  • 10-15 मिनट तक कमर की मालिश या मसाज करें।
  • मासिक धर्म में कमर दर्द से राहत पाने के लिए रिलेक्सेशन टेक्नीक अपनाएं।
  • पिलाटे और योगा करने से दर्द में बहुत आराम मिलेगा।
  • दिनभर में कम से कम 7 से 8 गिलास पानी पीएं
  • मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द से बचने के लिए एक्यूपंचर तकनीक अपनाएं।
  • नमक और कैफीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें।

(और पढ़े – कमर दर्द के लिए योगासन…)

क्या पीरियड से एक हफ्ते पहले कमर दर्द होना चिंता की बात है – Is it a matter of concern to have back pain a week before the period in Hindi

क्या पीरियड से एक हफ्ते पहले कमर दर्द होना चिंता की बात है - Is it a matter of concern to have back pain a week before the period in Hindi

पीरियड्स से एक हफ्ते पहले आपको कमर में दर्द शुरू हो जाता है, तो चिंता की कोई बात नहीं है। पीरियड्स के एक हफ्ते पहले होने वाला कमर दर्द प्रीमेंस्ट्रूयल सिंड्रोम का एक हिस्सा होता है। पीएमएस भावनात्मक, व्यवहार और शारीरिक लक्षणों का एक संयोजन है, जो एक महिला में उसका मासिक धर्म आने से पहले होता है। मासिक धर्म के लक्षण मासिक धर्म चक्र के 14वें दिन से शुरू हो सकते हैं और आपके मासिक धर्म शुरू होने के सात दिन बाद तक रह सकते हैं।

(और पढ़े – प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के कारण, लक्षण और इलाज…)

मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द होने पर डॉक्टर को कब दिखाना है – When to see a doctor if you have back pain during menstruation in Hindi

मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द होने पर डॉक्टर को कब दिखाना है - When to see a doctor if you have back pain during menstruation in Hindi

यदि आपको पीठ के निचले हिस्से में बहुत तेज दर्द हो रहा है जो सीधे आपके दैनिक जीवन के कार्य को प्रभावित करता है, तो तुरंत डॉक्टर को देखना सबसे अच्छा होता है। अगर आपको एंडोमेट्रियोसिस, पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज या डिसमेनोरिया की आशंका है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करना एक अच्छा उपाय है।

यदि आप अपनी अवधि के दौरान कई असहज लक्षणों का अनुभव करती हैं, तो यह एक अंतर्निहित कारण हो सकता है।

पीरियड्स के दिनों में महिलाओं को कमर में दर्द होना आम बात है। उन दिनों में कमर दर्द की समस्या को खत्म तो नहीं किया जा सकता, लेकिन इस लेख में हमारे द्वारा बताए गए कारण और घरेलू उपायों को जानकर कमर के दर्द को कुछ हद तक कम जरूर किया जा सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार, जिन महिलाओं को एंडोमेट्रियोसिस, पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज और यूट्रीन फाइब्रॉइडस की समस्या है, तो उनमे यह दर्द गंभीर हो सकता है। इसके लिए पूरी तरह घरेलू उपचारों पर निर्भर न रहें, बल्कि तुरंत डॉक्टर से संर्पक करें।

(और पढ़े – पीरियड्स के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration