सेंधा नमक के फायदे गुण लाभ और नुकसान  - Epsom salt benefits & side effects
खनिज पदार्थ

सेंधा नमक के फायदे गुण लाभ और नुकसान – Epsom Salt Benefits And Side Effects in Hindi

सेंधा नमक के फायदे गुण लाभ और नुकसान - Epsom salt benefits and side effects in hindi

Epsom salt in hindi सेंधा नमक के फायदे और स्वास्थ्य लाभ अनेक हैं, सेंधा नमक का पोषण मूल्य इतना अधिक है कि मानव शरीर के विभिन्न हिस्सों पर उनका अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। आपकी सुविधा के लिए हमने इस लेख में स्वास्थ्य, त्वचा और बालों की श्रेणियों में सेंधा नमक के लाभों को बताया है। व्रत और त्यौहार में इस्तेमाल होने वाला सेंधा नमक के फायदे गुण और लाभ अनेक है। सेंधा नमक (Rock salt) प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला नमक है। ये नमक उत्तरी भारतीय उप महाद्वीप में खनिज पत्थर (Mineral stone) के रुप में पाया जाता है। आज के लेख में आप जानेगे सेंधा नमक के फायदे (Epsom salt benefits in hindi) और सेंधा नमक के नुकसान (Sendha namak side effects in hindi) के बारें में।

सेंधा नमक को सैन्धव नमक भी कहा जाता है जिसका मतलब है कि सिंध के इलाके से आया हुआ। सेंधा नमक में सोडियम क्लोराइड (Sodium chloride in Epsom salt ) सबसे प्रमुख घटक है। सोडियम के अलावा इसमें फास्फोरस, कैल्शियम, पोटेशियम, लोहा, मैग्नीशियम, जस्ता, सेलेनियम, तांबा, ब्रोमिन, ज़िरकोनीयम और आयोडीन (Iodine) की उच्च मात्रा में पाई जाती है। सेंधा नमक में पाया जाना वाला ये खनिज मनुष्य की विभिन्य बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। आईए जानते है कि सेंधा नमक के प्रयोग से मनुष्य कौन- कौन से बीमारियों से खुद को बचा सकता है। और सेंधा नमक के फायदे और नुकसान क्या है?

विषय सूची

सेंधा नमक क्या है – What is rock salt in Hindi

सेंधा नमक उस खनिज हेलाइट का दूसरा नाम है जिसे आमतौर पर सोडियम क्लोराइड के रूप में जाना जाता है और इसका रासायनिक सूत्र NaCl है। इसे आमतौर पर टेबल सॉल्ट या हिंदी में सेंधा नमक ’या काला नमक’ के रूप में जाना जाता है। यह ज्यादातर रंगहीन या सफेद होता है, हालांकि इसका रंग हल्के नीले, गहरे नीले, बैंगनी से गुलाबी, लाल, नारंगी, पीले या भूरे रंग से भिन्न हो सकता है और यह इसमें मौजूद अशुद्धियों की मात्रा और प्रकार पर निर्भर करता है।

कैसे बनता है सेंधा नमक – How To Make Rock Salt in Hindi

सेंधा नमक (Rock salt) उच्चतम गुणवत्ता वाले कच्चे नेचुरल खनिज से बने होते हैं। सेंधा नमक खनिज युक्त नमक है। इस नमक को चट्टानी खानों से काटकर बनाया जाता है। इसलिए इसे Rock salt भी कहते है इससे कुचलने के बाद यह सफेद और हल्का गुलाबी हो जाता है। समुद्री नमक की तरह इसका भी इस्तेमाल घर के खाना बनाने में किया जा सकता है। इसे ज्यादातर लोग उपवास में खाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार इसे दैनिक उपयोग में लेने की सलाह दी जाती है।

यह बड़े-बड़े जल निकायों जैसे अंतर्देशीय सीमांत समुद्रों, संलग्न खण्डों और मुहल्लों से अर्द्ध-शुष्क क्षेत्रों में जहाँ यह भारी मात्रा में पाया जाता है, के पानी के वाष्पीकरण द्वारा बनता है। भारतीय उपमहाद्वीप में, यह हिमालय क्षेत्र में पाया जाता है जहाँ इसे हिमालयी क्रिस्टल नमक के रूप में जाना जाता है।

सेंधा नमक और आम नमक के बीच अंतर – Difference between rock salt and common salt in Hindi

सेंधा नमक और आम नमक के बीच एक अंतर है जिसका हम ज्यादातर उपभोग करते हैं। सेंधा नमक, नमक का सबसे शुद्ध रूप है जो भारत में कम मात्रा में उपलब्ध है। इस प्रकार, यह वाणिज्यिक नमक की तुलना में महंगा है। वाणिज्यिक नमक के विपरीत जो आयोडीन युक्त होता है, सेंधा नमक बड़े चंकी क्रिस्टल के साथ अधिक दानेदार होता है, इसमें नमकीन स्वाद कम होता है और यह रासायनिक रूप से संसाधित नहीं होता है। यह आम नमक के एक स्वस्थ विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि यह खनिजों में समृद्ध है और उच्च रक्तचाप, शरीर या आंखों में सूजन जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण नहीं बनता है।

आइसक्रीम बनाने में इसका उपयोग किया जाता है क्योंकि यह आइसक्रीम मेकर में बर्फ के साथ पैक करने पर हिमांक कम कर देता है, इस प्रकार आइसक्रीम बनाने के लिए ठंडा हो जाता है। इसका उपयोग ज्यादातर सीज़निंग और संरक्षण के लिए किया जाता है।

सेंधा नमक के फायदे – Epsom Salt Benefits in Hindi

सेंधा नमक के फायदे - Epsom salt benefits in hindi

स्‍वास्‍थ्‍य के लिए सेंधा नमक का उपयोग लाभकारी माना जाता है। जैसा कि पहले बताया गया है, सेंधा नमक नमक का सबसे शुद्ध रूप है जो पर्यावरण प्रदूषक और रासायनिक घटकों से रहित है। इसमें कैल्शियम, लोहा, जस्ता, पोटेशियम, मैग्नीशियम, तांबा और शरीर द्वारा आवश्यक 92 ट्रेस तत्वों में से 84 शामिल हैं।  इसके कुछ स्वास्थ्य लाभ इस प्रकार हैं। आइए जाने सेंधा नमक के फायदे क्‍या हैं।

सेंधा नमक के गुण पौष्टिकता से भरपूर – Sendha Namak Ke Swasthya Labh in Hindi

आपको बता दें कि सेंधा नमक में वे सारे तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को जरुरी होते हैं। इसमे लोहा, कैल्शियम, पोटेशियम, जिंक आदि की भरपूर मात्रा होती है। इसे आप खाने में मिलाकर खा सकते हैं या फिर बाजार में सप्लीमेंट्स, पाउडर और पिल्स मौजूद होती है जिसे आप ले सकते है। लेकिन आप सप्लीमेंट्स या पाउडर को बिना डॉक्टर के सुझाव के ना लें क्योंकि हर अच्छी चीज के भी कुछ न कुछ साइड इफेक्ट जरूर होते  है।

(और पढ़ें – काला नमक खाना सेहत के लिए होता है लाभकारी)

सेंधा नमक के फायदे पाचन क्रिया बढ़ाए – Epsom Salt Benefits For Digestion in Hindi

रॉक साल्‍ट में औषधीय गुण है जिसके कारण ये पाचन क्रिया को बढ़ाने में मदद करता है। ये औषधि की तरह काम करता है जिससे पाचन में सुधार आता है। सेंधा नमक के फायदे पाचन को बढ़ाते है जिससे भूख और गैस में राहत मिलती है। यह पाचन में सहायता करता है और रेचक और पाचन विकारों को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह भूख में सुधार करता है, गैस को दूर करता है और सीने में जलन को शांत करता है।

(और पढ़े – क्या आप जानते है पेट में खाना पच रहा है या सड़ रहा है)

सेंधा नमक के फायदे साइनस में दे राहत – Epsom Salt Benefits For Sinus in Hindi

औषधीय गुणों से भरपूर सेंधा नमक के सेवन से साइनस की परेशानी से राहत मिलती है। इसके साथ ही सेंधा नमक से गार्गिल (Gargle with rock salt) करने से गले में सूजन, दर्द, सूखी खांसी और टॉन्सिल से राहत मिलती है। जो लोग ब्रोंकाइटिस, दमा या सांस की अन्य समस्याओं के परेशान  है उनको सेंधा नमक की भाप लेना फायदेमंद साबित हो सकता है।

यह सांस की समस्याओं और साइनस से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है। सेंधा नमक से गरारे करने से गले का दर्द, गले की सूजन, सूखी खांसी और टॉन्सिल से राहत मिलती है। सेंधा नमक पानी में घोलकर नमकीन पानी (ब्राइन) तैयार किया जाता है, जिसका उपयोग अस्थमा, ब्रोंकाइटिस या अन्य नाक और कान की गड़बड़ी से पीड़ित रोगियों के लिए चेहरे की स्टीम (भाप) में किया जाता है।

(और पढ़े – साइनस क्या होता है कैसे कर सकते हैं घर ही इस बीमारी का ईलाज)

सेंधा नमक से खुद के लिए बनाए सी सॉल्ट बाथ – Sea Salt Bath Made From Epsom Salt in Hindi

नमक (rock salt ) में कई ऐसे गुण होते है जो शरीर के लिए लाभकारी होते है। सेंधा नमक से आप सी सॉल्ट बाथ (Sea salt bath) बना सकता है। इसे बनाने के लिए नहाने वाले पानी में एक चम्मच सेंधा नमक मिला ले और उसे इस्तेमाल करें। सॉल्ट वाटर (Salt water bath) से नहाने से राहत मिलेगी, ये गले की मांसपेशियों को शांत करता है साथ ही शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है। इसके अलावा ब्लड प्रेशर (Blood pressure) को भी कंट्रोल करता है। यह तनाव और शरीर के दर्द को भी कम करता है।

(और पढ़ें – शरीर को खूबसूरत बनाने के लिए सी-साल्ट से बने स्क्रब का करें इस्तेमाल)

सेंधा नमक के फायदे गठिया के दर्द में – Benefits of rock salt in arthritis pain in Hindi

एक गिलास पानी के साथ सेंधा नमक मिलाकर बने नमकीन पानी को पीने से गठिया, गुर्दे और मूत्राशय की पथरी से राहत मिल सकती है। इस  नमकीन पानी से बनी लप्सी का उपयोग गाउट या गठिया के कारण घाव, मुँहासे या दर्द के इलाज के लिए किया जा सकता है।

सेंधा नमक के सबसे आश्चर्यजनक लाभों में से एक यह है कि यह मांसपेशियों में ऐंठन को खत्म करता है। मांसपेशियों में ऐंठन का अनुभव करने वाले लोग पानी में एक चम्मच सेंधा नमक मिलाकर पी सकते हैं और कुछ मिनटों के भीतर आराम पा सकते हैं।

स्क्रब की तरह करें सेंधा नमक का इस्तेमाल – Use Of Epsom Salt As A Scrub in Hindi

पैरों से गंदगी और दुगंध को निकालना है तो सेंधा नमक का इस्तेमाल कर सकते है। इसे आप पैरों के स्क्रब के तौर पर इस्तेमाल कर सकते है। इसके लिए आधी बाल्टी गुनगुने पानी में 2 चम्मच सेंधा नमक मिलाए और उसमें अपने पैरों को ड़ाल दें। इसके अलावा सेंधा नमक को आप क्लींजर (Epsom salt as a cleaner) के रूप में इस्तेमाल कर सकते है। सेंधा नमक जमी हुई गंदगी और अतिरिक्त तेल को बहार निकाल देता है।

(और पढ़ें – घर पर मैनीक्योर और पेडीक्योर कैसे करें)

सेंधा नमक के फायदे करें डैंड्रफ की छुट्टी – Epsom Salt Benefits For Dandruff in Hindi

डैंड्रफ की समस्या (Dandruff problem) काफी आम है। इसके कारण बालों का झड़ना बढ़ जाता है। अगर आपके सर में खुजली या फिर डैंड्रफ है तो आप सेंधा नमक के उपयोग से छुटकारा पा सकते है (Sendha namak for dandruff)। इसमें एक्सफोलिएटिंग गुण होते है जिसके कारण स्केल्प की डेट सेल्स से छुटकारा मिल सकता है। इसके लिए आफ शैम्पू के बोतल में सेंधा नमक मिला कर रख दें और फिर उसी शैम्पू से अपना सिर को धो ले।

(और पढ़े – रूसी दूर करने के घरेलू उपाय)

शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी को करता है दूर करता है सेंधा नमक – Epsom Salt Benefits For Electrolytes in Hindi

इलेक्ट्रोलाइट्स हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। इसके बिना शरीर को अपना कार्य पूरा करने  में दिक्कत आएगी। रोजाना सेंधा नमक के सेवन से इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी (Lack of electrolytes) को दूर करता है। और शरीर के पीएच लेवल को बनाए रखता है। इसके साथ ही सेंधा नमक शरीर में मौजूदा गंदगी और टॉक्सिक मिनरल्स को बहार निकाल देता है। सेंधा नमक दाद (Ringworm) और कीड़े के काटे (Insect bite) हुए और गठिया (Arthritis) के दर्द से रोगों के उपचारो से निजात दिलाता है।

यह खनिजों के अवशोषण की सुविधा देता है। यह शरीर के इलेक्ट्रोलाइट्स को फिर से भरने और पीएच संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रक्त परिसंचरण और खनिज संतुलन को उत्तेजित करके यह विषाक्त खनिजों को हटा देता है।

(और पढ़ें – गठिया का आयुर्वेदिक उपचार)

सेंधा नमक के फायदे से नाखून को बनाए चमकिला – Sendha Namak Ke Fayde For Nails in Hindi

अकसर नाखून के रंग में पीलापन देखने को मिलता है। अगर आपके नाखून भी पीले पड़ गए है तो सेंधा नमक (Epsom salt) के इस्तेमाल से इसके रंग को वापस पा सकते है। इससे आपके नाखूनों की खोई हुई चमक भी वापस आ जाएगी।

सेंधा नमक के अन्य फायदे – Other benefits of rock salt in Hindi

यह उच्च और निम्न रक्तचाप के संतुलन को बनाए रखकर रक्तचाप को स्थिर करता है।

यह वजन घटाने में सहायक खनिजों को बराबर करता है जो कि अधिक भूख लगना (क्रेविंग) को रोकता है और वसा की मृत कोशिकाओं को खत्म करता है।

सेंधा नमक का उपयोग कई रोगों और बीमारियों जैसे गठिया के दर्द और दाद, सूजन और कीड़े के काटने से जलन को ठीक करने के लिए एक घरेलू उपचार के रूप में किया जाता है।

नींबू के रस के साथ सेंधा नमक का सेवन पेट के कीड़ों को खत्म करने और उल्टी को रोकने में मदद कर सकता है। यह इन्फ्लूएंजा के खिलाफ भी राहत प्रदान करता है।

सेंधा नमक का इस्तेमाल दांतों को सफेद करने या माउथ फ्रेशनर के रूप में किया जा सकता है। सेंधा नमक से गरारे करने से गले की खराश से राहत मिलती है।

सभी आवश्यक ट्रेस तत्व प्रदान करके, यह प्रतिरक्षा प्रणाली में काफी सुधार करता है। यह श्वसन, संचार और तंत्रिका तंत्र को भी एक महत्वपूर्ण सीमा तक सुधारता है।

यह लार और पाचन रस के प्रवाह को बनाए रखने में मदद करता है। आप ताज़ा पेय बनाने के लिए अपनी लस्सी में कुछ कटे हुए पुदीने के पत्तों के साथ एक चुटकी सेंधा नमक मिला सकते हैं।

सेंधा नमक को लाल होने तक तांबे के बर्तन में स्टोर कर रखा जा सकता है।

यह हड्डियों और संयोजी ऊतक को मजबूत करता है।

आइए एक नज़र डालते हैं कि सेंधा नमक हमारी त्वचा, बालों और स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करते हैं।

(और पढ़े – नाखूनों को ऐसे रखें स्वस्थ और खूबसूरत)

त्वचा के लिए सेंधा नमक के फायदे – Benefits of Rock Salt For Skin in Hindi

इसके कई स्वास्थ्य लाभों के अलावा, इसके सफाई और विषहरण गुणों के कारण आपकी त्वचा के लिए कई तरह से सेंधा नमक का उपयोग भी किया जाता है। त्वचा के लिए इसके कुछ लाभ इस प्रकार हैं।

मृत त्वचा कोशिकाओं का संचय आपकी त्वचा की खुरदरी, सुस्त और वृद्ध उपस्थिति के लिए जिम्मेदार है। सेंधा नमक मृत त्वचा कोशिकाओं को बाहर निकालता है और आपकी त्वचा की प्राकृतिक परत की रक्षा करता है, जिसके परिणामस्वरूप एक जवा और चमकती हुई त्वचा प्राप्त होती है।

यह आपकी त्वचा को फिर से जीवंत करने के लिए त्वचा के ऊतकों को भी मजबूत करता है, इस प्रकार यह स्किन को युवा और दृढ़ दिखता है। सेंधा नमक के स्क्रब से अपनी त्वचा की मालिश करें और अपनी त्वचा को निखारें, इसे साफ और तरोताजा होने के लिए कुछ देर के लिए छोड़ दें और मृत त्वचा कोशिकाओं को बाहर करें जिससे आपकी त्वचा सुस्त न दिखे।

खनिजों से समृद्ध होने के कारण, सेंधा नमक का उपयोग घर पर बने स्पा उत्पादों के एक उत्तम विकल्प के रूप में बॉडी स्क्रब के रूप में किया जा सकता है।

इसमें उत्कृष्ट सफाई गुण हैं। नमक के दाने आपकी त्वचा के पोर्स को किसी भी साबुन या क्लींजर से बेहतर तरीके से साफ कर सकते हैं जो आपकी त्वचा को आसानी से सांस लेने में मदद करते हैं। आप अपने क्लींजर या फेस वॉश के साथ एक टेबल स्पून सेंधा नमक मिला सकते हैं और ग्लोइंग स्किन के लिए अपना चेहरा इससे स्क्रब कर सकते हैं।

अपने शरीर को सेंधा नमक के पानी में भिगोने से नमक में मौजूद खनिजों और पोषक तत्वों को आपके शरीर में उनके अवशोषण की सुविधा के लिए आयनों के रूप में आपकी कोशिकाओं तक पहुंचाया जा सकता है। यह त्वचा के रक्त परिसंचरण को बढ़ाकर आपकी त्वचा में सुधार करता है।

चूँकि यह त्वचा को ड्राई नहीं करता है, इसलिए इसे फुट सोख, फुट स्क्रब या हैंड स्क्रब के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

सेंधा नमक आपके नाखूनों के नीचे का पीलापन दूर करने में प्रभावी होता है, जिससे वे खूबसूरती से चमकने लगते हैं।

रोजाना सुबह और शाम को नींबू और अदरक के रस में सेंधा नमक मिलाकर लगाने से त्वचा में निखार आता है।

बालों के लिए सेंधा नमक के फायदे – Benefits Rock Salt For Hair in Hindi

सेंधा नमक वास्तव में आपके बालों के लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकता है। इसकी सफाई और exfoliating गुणों के कारण, यह अक्सर शैंपू और बालों के घरेलू उपचार में एक घटक के रूप में उपयोग किया जाता है। बालों के लिए इसके कुछ लाभ नीचे दिए गए हैं:

अपने उत्कृष्ट सफाई गुणों के कारण, सेंधा नमक अपने प्राकृतिक स्वस्थ तेल को अलग किए बिना आपके बालों से मृत त्वचा कोशिकाओं और गंदगी को हटाने में मदद करता है। बस आपको अपने शैम्पू में सेंधा नमक मिलाना है। इस मिश्रण से अपने बालों को धोएं और अवशेषों को हटाने के लिए ठंडे पानी का इस्तेमाल करें।

आप अपने कंडीशनर और सेंधा नमक के बराबर भागों को मिला सकते हैं और इसे अपने बालों पर लगा सकते हैं। 20-30 मिनट बाद धो लें। इससे आपके बालों में वॉल्यूम बढ़ेगा। और वो घने दिखने लगेगें।

सेंधा नमक के नुकसान – Epsom Salt Side Effects in Hindi

सेंधा नमक के नुकसान – Epsom salt side effects in hindi

आपने जाना की सेंधा नमक के फायदे पाचन ठीक करने से लेकर रूसी दूर करने तक अनेक है लेकिन हर फायदेमंद चीज के इस्तेमाल में सावधानी रखने जरुरी है आपने सेंधा नमक के फायदे तो जान लिए अब हम आपको सेंधा नमक के नुकसान के बारें में बताने जा रहे है।

  • प्रेगनेंट महिला को सेंधा नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • बहुत कम लेकिन कुछ लोगो को सेंधा नमक के सेवन से उल्टी, पेट में दर्द और दस्त जैसी सिकायत हो सकती है इसलिए पहले थोड़ी मात्रा में rock salt का सेवन करें।
  • मधुमेह और किडनी की समस्या से ग्रस्त लोगो को इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • 5 साल से छोटे बच्चो को सेंधा नमक नहीं दिया जाना चाहिए।
  • आपको बता दें की सेंधा नमक में आयोडीन की मात्रा ना के बराबर होती है इसलिए आयोडीन की कमी से बचने के लिए आपको दुसरे आयोडीन युक्त नमक का इस्तेमाल भी इसके साथ करना चाहिए ताकि आपको सम्पूर्ण स्वास्थ्य लाभ प्राप्त हो।

शुक्र है, इन दुष्प्रभावों की घटना बहुत दुर्लभ है। अपने लाभों को पुनः प्राप्त करने के लिए निश्चित, छोटी खुराक में एप्सोम नमक का उपयोग करना सुरक्षित है। तो, सिफारिश की खुराक क्या है? चलो पता करते हैं!

सेंधा नमक की अनुशंसित खुराक क्या हैं?

फुट सोख: आधा कप एप्सोम नमक + गर्म पानी से भरा एक बेसिन

गर्म पानी का स्नान: गर्म पानी के साथ 2 कप सेंधा नमक + एक बाथटब पानी

आवश्यक जानकारी : सेंधा नमक को खाने के बजाय उसका बाहरी तरीके से उपयोग करने की कोशिश करें, क्योंकि इसमें मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है और अचानक इसके रक्त में घुलने से आपको समस्या हो सकती है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration