दस्त (लूस मोशन) रोकने के उपाय – Loose Motion (Diarrhea) Rokne Ke Gharelu Upay In Hindi

दस्त ठीक करने के घरेलू उपाय - Home Remedies for Loose Motions (Diarrhea) in Hindi
Written by Pratistha

लूस मोशन रोकने के उपाय दस्त जो कि किसी को भी पसंद नहीं होते पेट से संबंधित बीमारी है। इसे डायरिया भी कहते हैं दस्त होना एक प्रकार से पेट के लिए लाभदायक होता है। क्योंकि यह आपके शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। लेकिन अगर दस्त 2 दिन से ज्यादा होते हैं तो यह आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए आज हम आपको दस्त रोकने के घरेलू उपाय बताने वाले हैं। जिनका उपयोग कर आप बड़े आसानी से घर पर ही दस्त से राहत पा सकते हैं।

दस्त (लूस मोशन) के कारण – Loose Motions (Dast, Diarrhea) ke Karan in Hindi

डायरिया या दस्त के आम कारण खाने का सही से ना पच पाना होता है दस्त के अन्य कारणों में बैक्टीरिया और वायरस इंफेक्शन के कारण भी आपकी पाचन तंत्र में समस्या उत्पन्न हो सकती है जिससे दस्त लगने की संभावना बढ़ जाती है दस्त लगने पर हमारे शरीर से लगातार पानी की कमी होती रहती है जिससे हमारे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी होने पर उल्टी और पेट दर्द, प्यास, बुखार, मतली, भूख की हानि और निर्जलीकरण के साथ सुस्ती का अनुभव भी होने लगता है।

इन सभी से बचने के लिए आपको अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए, दस्त से सभी प्रभावित हो सकते हैं चाहे वह बच्चे हो या बड़े आइए जानते हैं दस्त रोकने के घरेलू उपाय और नुस्खे क्या है।

(और पढ़ें – बच्चों के दस्त (डायरिया) दूर करने के घरेलू उपाय)

लूस मोशन रोकने के उपाय – loose motion Rokne Ke Gharelu Upay in Hindi

दस्त रोकने के घरलू उपाय – Loose motion treatment in hindi

आज हम आपको बताने वाले हैं कि दस्त को किस तरह से ठीक किया जा सकता हैऍ दस्त होने पर सबसे जरूरी काम होता है पानी की कमी को पूरा करना। इसके लिए आपको अधिक मात्रा में पानी पीते रहना है साथ ही साथ आप नींबू के पानी और ओआरएस के घोल को भी ले सकते हैं। यह दोनों उपाय दस्त में पानी की कमी को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है। आइए जानते हैं और वह कौन से उपाय हैं जिनसे आप दस्त को घर बैठे ही रोक सकते हैं।

(और पढ़ें – दस्‍त (डायरिया) के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या ना खाएं)

लूस मोशन रोकने के उपाय है अदरक – Ginger for Loose Motions in Hindi

अदरक का उपयोग पाचन को मजबूत बनाने के लिए किया जाता रहा है। इसलिए अदरक का उपयोग दस्त रोकने के घरेलू उपाय का एक अच्छा विकल्प साबित होता है। एक चम्मच सूखी अदरक पाउडर (dried ginger powder) को थोड़े से जीरा पाउडर और दालचीनी पाउडर के साथ शहद में मिलाएं और इसे दिन में तीन बार लें। इसके अलावा आप अदरक की चाय का भी उपयोग दस्त को ठीक करने में कर सकते हैं। अदरक की चाय को पीने से पेट में उठने वाली  ऐंठन और पेट दर्द में राहत प्राप्त होती है जोकि दस्त के कारण होती है। आप अदरक के रस के साथ नींबू के रस के बराबर मात्रा में मिलाकर इसमें थोड़ी मात्रा में काली मिर्च को मिलाकर दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करने से डायरिया से छुटकारा पा सकते है।

(और पढ़ें – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय)

दस्त ठीक करने का घरेलू उपाय है केले का सेवन – Bananas for Loose Motions in Hindi

केला का सेवन दस्त को ठीक करने में आपकी मदद कर सकता है। केले में मौजूद पेक्टिन एक प्रकार का घुलनशील फाइबर है जो आंत में तरल पदार्थों के अवशोषण करने में मदद करता है। जिससे दस्त में निकल रहे तरल पदार्थ में कमी आती है जिससे आप शरीर में पानी की कमी से बच सकते हैं। जब भी आप को दस्त हो तो आपको नाश्ते के रूप में एक से दो केले को खाना एक अच्छा विकल्प माना जाता है।

इसके अलावा केले के साथ इमली के चूर्ण को मिलाकर उसमें स्वादानुसार एक चुटकी नमक मिलाकर खाने से डायरिया में राहत प्राप्त होती है।

(और पढ़ें – रोज सुबह केला और गर्म पानी के सेवन के फायदे जानकर दंग रह जाएगे आप)

बच्चे को दस्त रोकने के उपाय है दही – Yogurt for Loose Motions in Hindi

खाने के साथ दही का सेवन दस्त से उबरने में मदद करने का एक प्रभावी तरीका होता है। दस्त में पाए जाने वाले बैक्टीरिया आपकी आंत में जाकर सुरक्षा प्रदान करने वाली एक परत बनाते हैं और आपके अंदर के विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं।

इसलिए जब भी आप को दस्त हो तो आप दही (yogurt) का सेवन करें जब तक आपके पेट और पाचन तंत्र से संबंधित बीमारी जिसमें दस्त भी शामिल है। जब तक आप ठीक नहीं हो जाते तब तक दही के अलावा अन्य डेयरी उत्पादों का सेवन ना करें। क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य को और बिगाड़ सकते हैं। किंतु आप दही का सेवन अवश्य करें क्योंकि यह आपके पेट के स्वास्थ्य को सही करता हैं।

(और पढ़े – दही खाने से सेहत को होते हैं ये बड़े फायदे)

दस्त ठीक करने के घरेलू उपाय मेथी के बीज – Methi seeds for diarrhea in Hindi

मेथी के बीज में मौजूद चिकनापन के कारण उन्हें दस्त के लिए एक उपयोगी प्राकृतिक औषधि माना जाता है। मेथी के बीज का सेवन आपके मल को बढ़ाएंगे और इस तरह दस्त की गंभीरता और बेचैनी से राहत प्रदान करते हैं। आप मेथी के बीज का उपयोग करने के लिए दही के साथ मेथी के बीज की एक चम्मच को मिलाकर इस को सीधे ही खा सकते हैं।

इसके अलावा आप मेथी के बीज के साथ दही के 2 चम्मच और भुना हुआ जीरा मिलाकर दिन में दो से तीन बार ले सकते हैं। इससे आपको दस्त में जल्दी ही आराम प्राप्त होगा। मेथी के बीज का उपयोग छोटे बच्चों के लिए उपयुक्त नहीं होता इसलिए उन्हें मेथी के बीज खिलाने से बचें।

(और पढ़े – मेथी के फायदे और नुकसान)

लूस मोशन रोकने के उपाय कैमोमाइल चाय – Chamomile Tea Helps Loose Motions in Hindi

कैमोमाइल चाय का सेवन दस्त रोकने के लिए जाना जाता है यह पेट दर्द से भी राहत प्रदान करती है और आंतों के खिंचाव को दूर करता है। आप दस्त रोकने के घरेलू उपाय के लिए दो कप कैमोमाइल चाय को पी सकते हैं। एक चम्मच कैमोमाइल फूलों और पुदीना की पत्ती को उबलते हुए इसे दस से पंद्रह मिनिट के लिए रखें और जब यह ठंडी हो जाए तो इसे दिन में दो से तीन बार पीयें।

कैमोमाइल में उपस्थित tannins की उच्च मात्रा के साथ इसकी antispasmodic प्रकृति अतिसार के लक्षणों से बहुत जल्दी राहत प्रदान करती है।

(और पढ़े – कैमोमाइल चाय के फायदे और नुकसान)

दस्त ठीक करने के घरेलू नुस्खे है संतरे के छिलके – Orange Peel Tea Helps Loose Motions in Hindi

संतरे के छिलकों की चाय का उपयोग आप दस्त को ठीक करने में कर सकते हैं। क्योंकि संतरे के छिलकों में पाचन को सही करने की क्षमता पाई जाती है। सबसे पहले आप संतरे को लीजिए और उसे अच्छे से धो लीजिए और उसके ऊपर के छिलके को निकाल लीजिए। आधे कब गर्म पानी में संतरे के छिलकों को डालकर थोड़ी देर उबाल लीजिए और कुछ देर इंतजार करने के बाद इसमें शहद या शक्कर को मिलाएं इस प्रकार से बनी चाय को दिन में दो से तीन बार सेवन करने पर दस्त रोकने में सहायता प्राप्त होती है।

(और पढ़े – संतरे के छिलके के फायदे रूप निखारने के लिए)

पतले दस्त रोकने के उपाय है आलू – Potatoes for diarrhea in hindi

आलू में स्टार्च की मात्रा अधिक होती है इसलिए आलू को दस्त रोकने के घरेलू उपाय के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आलू को आप उबालकर सीधे ही खा सकते हैं। इससे आपको पेट दर्द और पेट की अकड़न से राहत प्राप्त कर सकते है। इसके अलावा आप आलू और चावल को साथ में उबालकर एक अच्छा भोजन तैयार कर सकते हैं और दस्त में इसका सेवन कर सकते हैं। जिससे आपको जल्दी दस्त को ठीक करने में सहायता प्राप्त होगी।

जब भी आप दस्त से पीड़ित हो तो फ्राइड राइस और तले हुए मसालेदार भोजन खाने से बचें। क्योंकि ऐसे में आप की स्थिति और भी खराब हो सकती है।

(और पढ़े – आलू के फायदे और नुकसान)

दस्त रोकने का घरेलू उपाय है चावल  Rice for Loose Motions in Hindi

जब भी दोस्त होते हैं तो सबसे अधिक सिफारिश सफेद चावल की की जाती है। क्योंकि सफेद चावल एक नरम भोजन होता है और स्‍टार्च से भरपूर होता है जो कि पचाने में आसान होता है। इसलिए दस्त को ठीक करने के लिए सफेद चावल का सेवन किया जा सकता है। लेकिन आप को ध्यान रखना है कि चावल को किसी मसाले के साथ नहीं खाना है। हां आप यदि दस्त को जल्दी ठीक करना चाहते हैं तो चावल के साथ दही या छाछ की थोड़ी सी मात्रा को इसमें जोड़ सकते हैं इससे आपको जल्दी ही लाभ प्राप्त होगा।

(और पढ़े – चावल खाने के फायदे और नुकसान)

दस्‍त का घरेलू उपाय सहजन की पत्तियां – Drumstick Leaves For Loose Motion in Hindi

यदि आप दस्‍त से पीड़ित हैं तो इसका इलाज करने के लिए ड्रमस्टिक (Drumstick) पत्तियों का उपयोग कर सकते हैं। लेकिन ऐसा माना जाता है कि इस उपचार का उपयोग 22 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों के लिए किया जाना चाहिए। सहजन की पत्तियां बहुत ही पौष्टिक होती हैं साथ ही इनमें एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटीमाइक्रोबायल गुण भी अच्‍छी मात्रा में होते हैं जो दस्‍त से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। दस्‍त का उपचार करने के लिए आपको सहजन की पत्तियों का 1 चम्‍मच रस और थोड़े से शहद के मिश्रण को पीने की आवश्‍यकता है। इसके अलावा आप सहजन की सूखी पत्तियों को भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

लेकिन इनका उपयोग करते समय आपको सावधान रहने की आवश्‍यकता है। सहजन की पत्तियों का बहुत ही कम मात्रा में सेवन किया जाना चाहिए। अधिक मात्रा में इसका उपयोग आपकी समस्‍या को और अधिक बढ़ा सकता है।

(और पढ़े – सहजन के फायदे गुण लाभ और नुकसान)

दस्‍त रोकने का उपाय है दालचीनी – Dast Rokne Ka Upay Hai Dalchini in Hindi

आप दस्‍त के दौरान होने वाली परेशानियों से बचने के लिए दालचीनी पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। दालचीनी में एंटी-इंफ्लामेटरी, एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटीमाइक्रोबायल गुण होते हैं। ये गुण पेट की समस्‍याओं को दूर करने और दस्‍त का इलाज करने में मदद करते हैं। दस्‍त के दौरान दालचीनी का उपयोग करने के लिए आपको ½ चम्‍मच दालचीनी पाउडर, 1 चम्‍मच शहद और 1 गिलास गर्म पानी की आवश्‍यकता होती है। दालचीनी के पाउडर और शहद को गर्म पानी में मिलाएं और इस मिश्रण का सेवन करें। आप इसे कुछ दिनों तक नियमित रूप से दिन में 2 बार उपभोग कर सकते हैं। यह दस्‍त से आपको राहत दिलाने में मदद करता है।

(और पढ़े – दालचीनी के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान)

पतला पैखाना रोकने के उपाय है पुदीना – Mint Home Remedies For Loose Motion in Hindi

आप ताजगी और शीतलता प्राप्‍त करने के लिए पुदीने का उपयोग करते हैं। लेकिन पुदीना आपको दस्‍त से भी राहत दिला सकता है। इसके लिए आप पुदीने के साथ शहद और नींबू के रस का उपयोग कर सकते हैं। क्‍योंकि पुदीना आपकी आंतों को शांत करने मदद करता है जिससे अपचन के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। शहद और नींबू का रस सूजन को कम करने में मदद करता है और इनमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट दस्‍त के रोगाणुओं से शरीर की रक्षा करते हैं।

इसके लिए आपको ताजे पुदीना का 1 चम्‍मच रस, नींबू का 1 चम्‍मच रस, 1 चम्‍मच शहद और 1 कप गर्म पानी की आवाश्‍यकता होती है। आप इन सभी अवयवों को आपस में अच्‍छी तरह से मिलाएं और गर्म पानी के साथ तुरंत ही उपभोग करें। इस मिश्रण का आपको दस्‍त के दौरान दिन में 2 बार सेवन करना चाहिए।

(और पढ़े – पुदीना के फायदे  गुण लाभ और नुकसान)

पतले दस्त रोकने के उपाय सेब का सिरका – Dast Ka Ilaj Hai Sev Ka Sirka in Hindi

एप्‍पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar) में एंटीमाइक्रोबायल और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। ये गुण पाचन तंत्र को संक्रमण और सूजन से बचाते हैं। पेक्टिन (Pectin) की उपस्थिति के कारण पाचन में सुधार करने और ढ़ीले मल को रोकने में मदद करता है। दस्‍त का उपचार करने के लिए सेब साइडर सिरका के 2 छोटे चम्‍मच, 1 गिलास गर्म पानी और शहद की आवश्‍यकता होती है। आप इन सभी को आपस में मिलाएं और इसका सेवन करें। अच्‍छे परिणाम प्राप्‍त करने के लिए इस मिश्रण को दिन में दो बार सेवन करें।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान)

दस्त रोकने की घरेलू दवा है जीरा पानी – Dast Ki Dawa Hai Jeera Water in Hindi

आयुर्वेदिक दवा के रूप विभिन्‍न प्रकार की समस्‍याओं को दूर करने के लिए जीरा का उपयोग किया जाता है। विशेष रूप से यह पेट से संबंधित समस्‍याओं के लिए फायदेमंद होता है। जीरा में प्राकृतिक एंटीसेप्टिक गुण आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करने वाले बैक्‍टीरिया को नष्‍ट करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही जीरा पाचन में सहायता करने और आंतों की सूजन को ठीक करने में मदद करता है। दस्‍त के लिए आप 1 चम्‍मच जीरा को 1 गिलास पानी में मिलाएं और गर्म करें। अच्‍छी तरह से उबालने के बाद इस मिश्रण को ठंडा करें और दिन में कम से कम 4 बार इसका सेवन करें। विशेष रूप से प्रत्‍येक भोजन के बाद।

(और पढ़े – जीरे का पानी पीने के फायदे और नुकसान)

लूज मोशन के घरेलू उपाय नारियल पानी से – loose motion Ka Gharelu Upchar Nariyal Pani in Hindi

बार-बार दस्‍त लगने के कारण आपके शरीर में पानी की कमी हो सकती है। लेकिन नारियल पानी का उपयोग कर आप निर्जलीकरण (Dehydration) का इलाज कर सकते हैं। यह दस्‍त के प्रमुख दुष्‍प्रभावों में से एक है। नारियल पानी का उपभोग आपके शरीर में खोए हुए पोषक तत्‍व और तरल पदार्थ की कमी को पूरा करता है। इसके लिए आपको नियमित रूप से दिन में 1-2 गिलास नारियल पानी पीने की आवश्‍यकता है। यह आपके शरीर को ऊर्जा दिलाने के साथ ही दस्‍त के लक्षणों को कम करने में सहायक होता है।

(और पढ़े – नारियल पानी के फायदे और  स्वास्थ्य लाभ)

इसके अलावा दस्त से राहत पाने के लिए आप बहुत सारा पानी का सेवन करें साथ ही साथ आप तरल पदार्थों के सेवन को जारी रखें जैसे कि नारियल का पानी, सब्जी जूस, जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन अधिक करें।

ऊपर बताए गए दस्त रोकने के घरेलू उपाय से ज्यादातर व्यक्तियों के दस्त में राहत प्राप्त होती है लेकिन यदि आप के लक्षण इन उपायों को करने के बाद भी सही नहीं होते और आप की स्थिति में कोई सुधार नहीं पाया जाता तो आप जल्दी किसी डॉक्टर से परामर्श करें और उचित समाधान प्राप्त करें।

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी | बीमारी | महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration