कैमोमाइल चाय के फायदे और नुकसान – Chamomile Tea Benefits and side effects in Hindi

कैमोमाइल चाय के फायदे और नुकसान – Chamomile Tea Benefits and side effects in Hindi
Written by Jaideep

कैमोमाइल चाय (टी) हर्बल चाय होने के कारण स्‍वास्‍थ्‍य लाभों का खजाना है, ग्रीन टी के बारे में तो आप सभी ने जरूर सुना होगा, पर क्‍या आप कैमोमाइल चाय के फायदे जानते हैं। यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही उपयोगी है। स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं और पारंपरिक उपचार के रूप में कैमोमाइल टी (Chamomile Tea) का लंबे समय से उपयोग किया जा रहा है। कैमोमाइल टी के फायदे इस लिए भी बहुत हैं क्‍योंकि इसे हर्बल चाय माना जाता है।

इस चाय में एंटी-इन्‍फ्लामेट्री और एंटी-स्पाज्मडिक (antispasmodic) गुण होते हैं। कैमोमाइल टी के फायदे त्‍वचा की रक्षा करने, तनाव को कम करने, नींद को नियंत्रित करने और मासिक धर्म में होने वाली ऐंठन (menstrual cramps) को शांत करने आदि के लिए जाने जाते हैं। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करने में मदद करती है और पेट की सूजन से भी छुटकारा दिलाती है।

अधिकांश लोगों के लिए कैमोमाइल चाय अन्‍य उपचारों के पूरक के रूप में उपयोग करने पर सुरक्षित होती है। लेकिन गंभीर बीमारियों के दौरान मुख्‍य चिकित्‍सा के स्‍थान पर इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए और किसी भी समस्‍या के लिए पहले अपने डॉक्‍टर से संपर्क जरूर करना चाहिए।

1. कैमोमाइल चाय क्‍या है – What is Chamomile Tea in Hindi
2. कैमोमाइल चाय के पोषक तत्‍व – Chamomile tea nutritional value in Hindi
3. कैमोमाइल टी के फायदे – Chamomile Tea ke fayde in Hindi

4. कैमोमाइल टी के नुकसान – Chamomile Tea ke Nuksan in Hindi

कैमोमाइल चाय क्‍या है – What is Chamomile Tea in Hindi

कैमोमाइल चाय क्‍या है – What is Chamomile Tea in Hindi

यह एस्टरेसिया (Asteraceae) परिवार से संबंधित पौधा है जिसके सूखे फूलों का उपयोग कई प्रकार आयुर्वेदिक और प्राकृतिक उपचार और प्रलेप (poultices) के लिए उपयोग किया जाता है। इनके साथ-साथ इसका उपयोग सबसे लोकप्रिय चाय के रूप मे भी किया जाता है। इस चाय का नाम स्‍पेनिश में मंजानिला चाय (Manzanilla tea) है। ये पौधे कई प्रकार के होते हैं, इस लिए यह दूनिया के हर हिस्‍से में अलग-अलग प्रजाति में पाए जाते हैं। लेकिन इन पौधों के पोषक तत्‍व (Nutrients) लगभग समान ही होते हैं। जर्मन और रोम में पाई जाने वाली कैमोमाइल टी के फायदे अधिक हैं क्‍योंकि इस किस्‍म के पौधे में सबसे ज्‍यादा पोषक तत्‍व और यौगिकों का समावेश होता है।

कैमोमाइल चाय सुखद स्‍वाद और स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के कारण वर्षों से उपयोग की जाने वाली औषधी बन गई है। इस चाय में फ्लेवोनोइड (flavonoids) और अन्‍य शक्तिशाली एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं जो स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही महत्‍वपूर्ण होते हैं। हालाकि इसे आमतौर पर एक औषधीय पेय (Herbal drink) के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। लेकिन कुछ विशेष स्थितियों में इसे अलग प्रकार से भी उपयोग किया जा सकता है।

(और पढ़े – तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान…)

कैमोमाइल चाय के पोषक तत्‍व – Chamomile tea nutritional value in Hindi

इस आयुर्वेदिक चाय की दो आम किस्‍में है रोमन और जर्मन। कैमोमाइल चाय इन पौधों के फूलों को सुखाकर तैयार की जाती है। कैमोमाइल चाय स्‍वाभाविक रूप से कैफीन रहित (caffeine free) होती है। कैमोमाइल चाय में उपस्थित पोषक तत्‍वों में कैलोरी, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, पोटेशियम, फ्लोराइड, फोलेट और विटामिन ए की थोड़ी सी मात्रा होती है। इन पोषक तत्‍वों की उपस्थिति के कारण कैमोमाइल चाय के फायदे मानव स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत अधिक बढ़ जाते हैं।

कैमोमाइल टी के फायदे – Chamomile Tea ke fayde in Hindi

कैमोमाइल टी के फायदे – Chamomile Tea ke fayde in Hindi

बहुत से लोग कैमोमाइल चाय का उपयोग कैफीन मुक्‍त (caffeine free) काली या ग्रीन टी के विकल्‍प के रूप में करते हैं। इसके अलावा कैमोमाइल चाय एंटीऑक्‍सीडेंट से भरपूर होती है जो दिल की बीमारी (heart disease) और कैंसर सहित कई समस्‍याओं के खतरों को कम करने में मदद करती है। कैमोमाइल चाय का एक विशेष गुण पाचन और नींद से संबंधित समस्‍याओं को दूर करना है। आप इस आर्टिकल के माध्‍यम से कैमोमाइल चाय के फायदे जान सकते हैं।

(और पढ़े – ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान…)

मधुमेह के लिए कैमोमाइल चाय के फायदे – Chamomile Tea for Diabetes in Hindi

मधुमेह के लिए कैमोमाइल चाय के फायदे – Chamomile Tea for Diabetes in Hindi

आप शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर को नियंत्रित करने के लिए कैमोमाइल टी के फायदे ले सकते हैं। अध्‍ययनों से पता चलता है कि कैमोमाइल चाय में एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं जो हाइपरग्लिसिमिया (hyperglycemia) और मधुमेह संबंधि समस्‍याओं की प्रगति को रोकने में मदद करते हैं। कैमोमाइल चाय एचबीए 1 सी और इंसुलिन के स्‍तर को कम करने में मदद करते हैं।

कैमोमाइल चाय एंजाइमों को भी रोक सकती है जो मधुमेह संबंधी समस्‍याएं जैसे मधुमेह न्‍यूरोपैथी (neuropathy (तंत्रिका क्षति)), मोतियाबिंद, रेटिनोपैथी (retinopathy (आंखों के रेटिना क्षति )) और नेफ्रोपैथी (nephropathy (गुर्दे की क्षति ) आदि इन सभी प्रकार की समस्‍याओं से बचने के लिए आप कैमोमाइल चाय का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय…)

पेट विकार के लिए कैमोमाइल फूल की चाय के लाभ – Chamomile Tea for Stomach Disorders in Hindi

यदि आप पेट की जलन से पीड़ित हैं और आपके पेट की आंतों में सूजन और मरोड़ हो रही है तो कैमोमाइल चाय का उपयोग करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें एंटी-इन्‍फ्लामेट्री गुण होते हैं जो आपकी आंतों की समस्‍या को दूर करने में आपकी बहुत ही मदद करते हैं। कैमोमाइल चाय का सेवन करने से यह पेट की गैस और मल त्‍याग को आसान बनाती है। यदि आपके पेट में अल्‍सर है तो आप उसका उपचार कराने के साथ-साथ कैमोमाइल चाय का सेवन करें यह अल्‍सर और ऐंठन (spasms) की उपचार प्रक्रिया को बढ़ाने में लाभकारी होती है।

(और पढ़े – खराब पेट को ठीक करने के घरेलू उपाय…)

अनिंद्रा को दूर करने में कैमोमाइल चाय का उपयोग – Chamomile Tea for insomnia in Hindi

अनिंद्रा को दूर करने में कैमोमाइल चाय का उपयोग – Chamomile Tea for insomnia in Hindi

जो लोग नींद की समस्‍या (Insomnia) पीड़ित होते हैं उनके लिए कैमोमाइल चाय किसी औषधी से कम नहीं होती है। कैफीन रहित कैमोमाइल चाय का सेवन करने से यह अच्‍छी नींद लाने और नींद की गुणवत्‍ता में सुधार करती है। कैमोमाइल चाय में एंटीऑक्‍सीडेंट फ्लैवोनॉयड होता है जिसे एपिगेनिन (Apigenin) कहते हैं। एपिगेनिन कैमोमाइल चाय का महत्‍वपूर्ण घटक है जो उनींदापन (Insomnia) की समस्‍या को हल करने में मदद करता है।

अच्‍छे परिणाम प्राप्‍त करने के लिए 3-4 कप कैमोमाइल चाय पीने का प्रयास करें, यह आपकी नींद की गुणवत्‍ता में विशेष सुधार लाती है।

(और पढ़े – अनिद्रा के कारण, लक्षण और उपचार…)

मासिक धर्म के दर्द के लिए कैमोमाइल चाय के गुण – Chamomile Tea for Menstrual Pain in Hindi

महिलाओं में मासिक धर्म के समय होने वाली समस्‍याओं के लिए कैमोमाइल चाय के फायदे बहुत ज्‍यादा होते हैं। कुछ अध्‍ययन बताते हैं कि मासिक धर्म की ऐंठन को दूर करने के लिए कैमोमाइल चाय का सेवन करना फायदेमंद होता है। कैमोमाइल चाय के एंटी-इन्‍फ्लामेट्री (Anti-Inflammatory) गुण महिलाओं के मासिक धर्म से संबंधित लक्षणों को कम करने में मदद करती है जैसे कि सूजन, ऐंठन (Cramping), चिंता, पसीना आना, सोने में दिक्‍कत और मूड स्विंग्‍स आदि। इस लिए उन महिलाओं के लिए कैमोमाइल चाय के फायदे होते हैं जो मासिक धर्म से संबंधित परेशानियों से गुजर रही हैं।

(और पढ़े – पीरियड में ब्लीडिंग कम करने के घरेलू उपाय…)

कैमोमाइल टी के फायदे त्‍वचा के लिए – Chamomile Tea for Skin Care in Hindi

आप अपनी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ्‍य और चमकदार बनाने के लिए कैमोमाइल चाय का उपयोग कर सकते हैं। कैमोमाइल चाय की एंटी-इन्‍फ्लामेट्री और एंटीऑक्‍सीडेंट प्रकृति होने के कारण न केवल इसे पेय के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है बल्कि इसका उपयोग त्‍वचा के ऊपर भी किया जा सकता है। कैमोमाइल टी एक्जिमा (eczema) जैसी त्‍वचा समस्‍याओं का भी इलाज कर सकती है। यह आपके चेहरे की त्‍वचा दोषों और झुर्रियों की उपस्थिति को कम करने में मदद करती है। साथ ही यह आपके ऑक्‍सीडेटिव तनाव को कम करने और प्रतिरक्षा (Immunity) को बढ़ावा देकर आपकी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ्‍य बनाने में मदद करती है।

(और पढ़े – त्‍वचा में निखार के लिए सल्‍फर युक्‍त भोजन…)

प्रतिरक्षा शक्ति के लिए कैमोमाइल के फायदे – Chamomile Tea Boost Immune System in Hindi

प्रतिरक्षा शक्ति के लिए कैमोमाइल के फायदे – Chamomile Tea Boost Immune System in Hindi

यदि आप बार-बार वायरल संक्रमण से ग्रसित होते हैं तो कहीं न कहीं यह दर्शाता है कि आपकी प्रतिरक्षा शक्ति कमजोर है। यदि आप अपनी प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको कैमोमाइल चाय के फायदे पता होना चाहिए। कैमोमाइल चाय में मौजूद फेनोलिक यौगिक आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और संक्रमणों से बचाने में आपकी मदद करते हैं। इस आयुर्वेदिक चाय में मौजूद अन्‍य पोषक तत्‍व भी ठंड, फ्लू और रक्‍त के गाढ़ा होने (congestion) जैसी समस्‍याओं को दूर करने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)

कैमोमाइल टी के फायदे हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए – Chamomile Tea Good for Heart Health in Hindi

कैमोमाइल टी के फायदे हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए – Chamomile Tea Good for Heart Health in Hindi

एंटीऑक्‍सीडेंट (Antioxidant) और फ्लैवोन, की अच्‍छी मात्रा कैमोमाइल टी में उपलब्‍ध रहती है। ये दोनों घटक ब्‍लड प्रेशर और कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को कम करने में मदद करते हैं जो आपके हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरा बनते हैं। बुजुर्ग व्‍यक्तियों के लिए कैमोमाइल टी बहुत ही फायदेमंद होती है। यदि आप या आपके प्रियजनों को कार्डियोवास्कुलर (Cardio vascular) संबंधित कोई समस्‍या है तो आप कैमोमाइल चाय के फायदे प्राप्‍त करने का प्रयास कर सकते हैं।

(और पढ़े – हार्ट अटेक कारण और बचाव…)

कैंसर के लिए कैमोमाइल फूल की चाय के फायदे – Chamomile Tea Benefits for Cancer in Hindi

कुछ अध्‍ययनों से पता चलता है कि कैमोमाइल चाय कैंसर की कोशिकाओं (Cancer cells) को नष्‍ट करने में मदद करती हैं या उन्‍हें प्रथम स्‍टेज पर ही विकसित होने से रोक सकती है। कैमोमाइल चाय मे निहित एपिगेनिन (apigenin) कुछ प्रकार के कैंसर के गठन को रोकने में मदद करता है।

इसमे एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेट्री गुण होते हैं जो मुक्‍त कणों (free radicals) से छुटकारा पाने में मदद करते हैं। ये मुक्‍त कण ही कैंसर का कारण होते हैं। कैमोमाइल चाय का उपयोग कर आप प्रोस्‍टेट (prostate), स्‍तन, त्‍वचा और डिम्‍बग्रंथि के कैंसर को रोकने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – अंडाशय का कैंसर: प्रारंभिक लक्षण, जाँच, और उपचार…)

मुँहासों के लिए कैमोमाइल टी का उपयोग – Chamomile Tea for Acne prevention in Hindi

एंटीआक्‍सीडेंट की अच्‍छी मात्रा होने के कारण यह मुंहासों के उपचार के लिए कैमोमाइल टी के फायदे का उपयोग किया जा सकता है। शरीर के मुक्‍त कणों को दूर करने में कैमोमाइल टी बहुत ही उपयोगी होती है। यह बैक्‍टीरिया की रोकथाम करने में सक्षम होता है, जो कि मुँहासों का प्रमुख कारण होता है। कैमोमाइल में उपस्थित एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इन्‍फ्लामेट्री गुण आपकी त्‍वचा के छिद्रों को साफ करने और बैक्‍टीरिया को हटाने में मदद करता है। इसके लिए आप इस चाय को मुँहासे प्रभावित क्षेत्र में लगा कर लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

(और पढ़े – मुहांसों के प्रकार और उनका इलाज…)

कैमोमाइल चाय के गुण तनाव को दूर करे – Chamomile Tea for Depression in Hindi

चिंता और अवसाद को कम करने के लिए आप कैमोमाइल टी का उपयोग कर सकते हैं। कैमोमाइल चाय के फायदे तनाव से छुटकारा पाने में मदद करते हैं। कैमोमाइल चाय में पाये जाने वाले एपिगेनिन नामक एक यौगिक मन और शरीर पर उत्‍तेजक न्‍यूरोट्रांसमीटर (neurotransmitter) और हार्मोन के प्रभाव को कम करने में मदद करता है। कैमोमाइल चाय डोपामाइन और सेरोटोनिन (dopamine and serotonin) के कार्यों को संशोधित करने में भी मदद करती है। इस तरह यह तनाव और अवसाद को कम करने में मदद करती है।

(और पढ़े – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार…)

मांसपेशियों के दर्द में कैमोमाइल चाय के फायदे – Chamomile Tea for Muscle Spasms in Hindi

मांसपेशियों के दर्द को कम करने के लिए कैमोमाइल चाय का उपयोग किया जा सकता है। कैमोमाइल चाय ग्‍लाइसीन (Glycine) के स्‍तर को बढ़ाती है जिसे मांसपेशियों की ऐंठन (Muscle spasms) को शांत करने के लिए दिखाया गया है। कैमोमाइल में उपस्थित ग्‍लाइसीन तंत्रिका को आराम दिलाने में मदद करता है, जो चिंता और तनाव से राहत दिलाने में मदद करता है।

(और पढ़े – जोड़ों में दर्द का घरेलू उपचार…)

कैमोमाइल टी के फायदे सूजन और दर्द में – Chamomile Tea for Reduce swelling and pain in Hindi

चोट से होने वाली सूजन बहुत ही दर्दनाक हो सकती है। यदि आप सूजन (swelling) को दूर करने के लिए एंटी-इन्‍फ्लामेट्री  दवाओं का उपयोग करते हैं तो इसके कुछ दुष्‍प्रभाव भी हो सकते हैं। ऐसे में आप कैमोमाइल चाय का उपयोग कर सकते हैं। कैमोमाइल टी में प्राकृतिक एंटी-इन्‍फ्लामेट्री (Anti-Inflammatory) गुण होते हैं जो आपके शरीर से सूजन को कम करने में मदद करते हैं। आप अपनी मांसपेशियों (Muscles) को आराम देने के लिए कैमोमाइल चाय का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

ओस्टियोपोरोसिस के लिए कैमोमाइल चाय के फायदे – Chamomile Chai for Osteoporosis in Hindi

हड्डीयों से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने के लिए आप कैमोमाइल टी का उपयोग कर सकते हैं। कैमोमाइल ओस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) की गतिविधियों को उत्‍तेजित करने में मदद करती है जो हड्डीयों के निर्माण में मदद करती है। इस प्रकार कैमोमाइल चाय के फायदे हड्डीयों को मजबूत करने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

(और पढ़े – ऑस्टियोपोरोसिस होने के कारण, लक्षण और बचाव…)

डार्क सर्कल के लिए कैमोमाइल टी के फायदे – Chamomile Tea for Dark Circles in Hindi

जब भी आप कैमोमाइल चाय का सेवन करते हैं तो चाय बनाने के बाद कैमोमाइल टी वैग को नहीं फैंकना चाहिए। क्‍योंकि यह आपकी आंखों के आसपास होने वाले डार्क सर्कल को दूर करने में प्रभावी रूप से मदद कर सकते हैं। इस चाय को बनाने के बाद आप इसके टी वैग को ठंड़ा करें और अपनी आंख के आसपास जहां ज्‍यादा डार्क सर्कल हो वहां लगाएं और हल्‍की मालिश करें। यह आपके चेहरे के डार्क सर्कल को दूर करने में प्रभावी होता है।

(और पढ़े – डार्क सर्कल हटाने के आसान तरीके…)

कैमोमाइल चाय पीने के फायदे सनबर्न का इलाज करे – Chamomile Tea for treats Sunburn in Hindi

सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी (harmful ultraviolet) किरणें आपकी त्‍वचा के लिए विभिन्‍न समस्‍याएं पैदा कर सकता है। कैमोमाइल टी अपने एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इन्‍फ्लामेट्री गुणों के लिए जाना जाता है। इस समस्‍या से बचने के लिए आप कैमोमाइल चाय का नियमित सेवन करें और साथ ही इस चाय को ठंड़ा करके सूती कपड़े की सहायता से सनबर्न (Sunburn) वाले क्षेत्र में लगाएं।

(और पढ़े – डिहाइड्रेशन से बचने के घरेलू उपाय, जानलेंगें तो कभी नहीं होगी पानी की कमी…)

एंटी-एजिंग के लिए कैमोमाइल के फायदे – Chamomile Tea Benefits for Anti-Ageing in Hindi

एंटीऑक्‍सीडेंट (Antioxidant) के पावर हाउस के रूप में कैमोमाइल टी को जाना जाता है। जो त्‍वचा को फ्री रेडिकल्‍स की क्षति से बचाता है। यह कोशिकाओं और ऊतकों के विकास में भी मदद करता है और बुढ़ापे के संकेतों को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – टैनिंग हटाने के घरेलू उपाय है…)

कैमोमाइल टी के नुकसान – Chamomile Tea ke Nuksan in Hindi

कैमोमाइल टी के नुकसान – Chamomile Tea ke Nuksan in Hindi

यह एक आयुर्वेदिक चाय है इस कारण से कैमोमाइल टी के फायदे अधिक और नुकसान बहुत ही कम हैं। लेकिन फिर भी इसका अधिक मात्रा में सेवन करना नुकसानप्रद हो सकता है। कैमोमाइल चाय अधिक मात्रा में सेवन करने से कुछ इस प्रकार के नुकसान (Chamomile tea side effects) हो सकते हैं।

  • गंभीर एलर्जी वाले लोग विशेष रूप से पराग के लिए एलर्जी, उन लोगों को कैमोमाइल टी का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • शिशु और छोटे बच्‍चों को कैमोमाइल चाय (Chamomile tea), शहद और अन्‍य प्राकृतिक उत्‍पादों का सेवन नहीं कराना चाहिए।
  • जो लोग किसी विशेष प्रकार की दवाओं का सेवन कर रहे हैं, उन्‍हें कैमोमाइल चाय का सेवन नहीं करना चाहिए या फिर इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं द्वारा कैमोमाइल टी का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि यह उनके लिए गर्भापात का कारण बन सकती है।
  • अधिक मात्रा में कैमोमाइल चाय का सेवन करने से सूजन, आंखों की जलन, उल्‍टी और मतली भी हो सकती है। इसलिये इसका सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।

(और पढ़े – ग्रीन टी या लेमन टी कौन है बेहतर…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration