तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान – Tulsi green tea benefits and side effects in hindi

तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान - Tulsi green tea benefits and side effects in hindi
Written by Sneha

Tulsi green tea  तुलसी की चाय एंटीऑक्सिडेंट्स और प्राकृतिक फिटोकेमिकल्स से भरपूर है, जो चाय तैयारी के दौरान पानी में घुल जाते है और चाय में व्याप्त हो जाते  है। मुख्य रूप से तुलसी चाय प्रतिरक्षा प्रणाली, श्वसन प्रणाली, पाचन तंत्र और तंत्रिका तंत्र का सुधार करता है। इसमें रोगाणुरोधी और immune modulatory गुण हैं, जो आम सर्दी, आवर्तक संक्रमण, फ्लू, उत्पादक खाँसी और ब्रोंकाइटिस को रोकने में मदद करते हैं। यह भूख और पाचन उत्तेजक भी है।इसलिए, तुलसी चाय शरीर में भूख, पाचन और समग्र चयापचय में सुधार करने में मदद करता है। यह गुस्से को शांत करने और तनाव से मुक्त रहने में मदद करती है, इसलिए यह तनाव विकार, अवसाद और चिंता वाले लोगों के लिए उपयोगी है। तुलसी की चाय के फायदे इसमें मोजूद एंटीऑक्सीडेंट मुक्त कणों को दूर करके कैंसर और अन्य बीमारियों से बचाती है।

तुलसी क्या है- What Is Tulsi in hindi

Tulsi तुलसी को पवित्र पौधे के रूप में माना जाता है और भारत में एक पवित्र पौधों के रूप में पूजा की जाती है जो चिकित्सीय शक्तियों के रूप में जाना जाता है। यह ज्यादातर भारतीय परिवारों में उगाया जाता है और चमत्कारी स्वास्थ्य लाभ के साथ एक रमणीय और उत्साही चाय को बनाने में इस्तेमाल किया जाता है जो शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हुए जहरीले पदार्थ और चिंता को दूर करती हैं। यह एंटी-ऑक्सीडेंट से भरा होता है और कैफीन की कमी नहीं होने देती है।

(और पढ़े – ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान, बनाने की विधि)

तुलसी की चाय की खासियत – Good Points about Tulsi Tea in hindi

  1. इसमें चीनी नहीं होती
  2. कोई कोलेस्ट्रॉल नहीं होता
  3. कोई संतृप्त वसा नहीं होती
  4. कैफीन मुक्त होती है
  5. कैल्शियम बहुत अधिक पाया जाता है (और पढ़े – कैल्शियम की कमी के लक्षण और इलाज)
  6. फाइबर बहुत अधिक पाया जाता है
  7. लोहे की उच्च मात्रा पायी जाती है

तुलसी की चाय में पाए जाने वाले पोषक तत्व Nutrients in Tulsi Tea in hindi

  • बी CARYOPHYLLENE
  • एस्कॉर्बिक एसिड
  • कैरोटेन (विटामिन ए)
  • रोजमरारी एसिड
  • यूआरएसओएलआईसीआई एसिड
  • APIGENIN
  • सेलेनियम
  • जस्ता
  • मैंगनीज

तुलसी की चाय बनाने के विधि – How to Prepare Tulsi Green Tea in hindi

जादा से जादा स्वास्थ्य लाभ पाने के लिए, तुलसी ग्रीन टी का दैनिक सेवन करना चाहिए। लेकिन तुलसी की चाय को भी सही ढंग से तैयार किया जाना चाहिए। ताकि इसके गुणों का पूरा लाभ मिल सके यहां हम आपको तीन तरह से तुलसी की चाय बनाने के बारे में बताने जा रहे है

  1. तुलसी की चाय
  2. नींबू तुलसी चाय (गर्म या ठंडा) दोनों रूप में
  3. दूध के साथ अदरक वाली तुलसी की चाय (गरम)

1. तुलसी की चाय Simple Tulsi Tea in hindi

इसके लिए आपको दो बढ़े चममच तुलसी के पत्तो को बारीक कट लेना है फिर एक पेन में पानी ले कर 5 से 10 मिनट के लिए इसे उबाल लें, आपकी तुलसी की चाय तैयार है

2. नींबू तुलसी की चाय  – Lemon Tulsi Tea in hindi

नीबू तुलसी की चाय बनाने के लिए आप कटे हुए तुलसी के पत्तो को लें और 1 कप पानी 5-10 मिनट उबले फिर इसमें नीबू का रस डाले, आप गर्मियां में अपने स्वाद अनुसार शहद औए चीनी को इसमें मिला सकते है

3. अदरक तुलसी चाय दूध के साथ – Ginger Tulsi Tea with Milk in hindi

तुलसी के पत्ते ले लें और अदरक के स्लाइस चीनी के साथ 10 से 15 मिनट के लिए उबाल लें। दूध मिलाएं और पांच मिनट के लिए उबाल लें उबाल आने पर गैस से उतर ले और गर्म सर्व करें यदि आप तुलसी चाय में शहद मिलाना चाहते हैं, तो इसे गर्म करें और फिर अपने स्वाद के अनुसार शहद का मिश्रण करें।

(और पढ़े – तुलसी के फायदे और नुकसान)

तुलसी हरी चाय पीने का सबसे अच्छा समय – best time to drink tulsi green tea in hindi

आपकी तुलसी हरी चाय का समय उस उद्देश्य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप इसे ले रहे हैं। विभिन्न कारणों से तुलसी ग्रीन टी ली जाती है। कुछ लोग वजन कम करने के लिए तुलसी हरी चाय पीते हैं जबकि दूसरे इसके एंटीऑक्सिडेंट और अन्य स्वास्थ्य लाभों की वजह से लेते हैं।

हरी चाय में मोजूद एंटीऑक्सिडेंट के पूरा लाभ प्राप्त करने के लिए, आपको भोजन के बीच हरी चाय लेना चाहिए

ग्रीन टी पर अध्ययन में यह पाया है कि हरी चाय में वसा और प्रोटीन जैसे मैक्रो पोषक तत्वों का अवशोषण कम होता है। इसलिए  आपको अपने भोजन से पहले या बाद में कम से कम दो घंटे पहले अपनी हरी चाय लेनी चाहिए।

हरी चाय दो तरीकों से वजन घटाने को सहायक होती  है: यह शरीर की चयापचय को बढ़ाकर और वसा के अवशोषण को बाधित करके। यदि आप वजन कम करने के लिए हरी चाय का उपयोग करना चाहते हैं, तो आप इसे अपने भोजन के साथ ले जा सकते हैं।

अधिकतम स्वास्थ्य लाभ के लिए, लोग दिन में तीन से पांच कप तुलसी की चाय रोजाना पीते हैं तुलसी चाय को आप पूरे दिन में कभी भी आनंद ले सकते है, सुबह से रात तक हालांकि, एक दिन में एक कप तुलसी चाय फायदेमंद है। बीमारी के समय, तुलसी चाय की मात्रा बढ़ायी जा सकती है।

तुलसी की चाय के फायदे – Tulsi green tea benefits in hindi

तनाव का करने का करे तुलसी की चाय Tulsi green tea benefits for stress reliever in hindi

तुलसी की चाय का उपयोग चयापचय नियामक के रूप में किया जाता है जो शरीर के विभिन्न पर्यावरणीय कारकों के अनुकूल होने और इन कारकों के कारण होने वाले नुकसान को रोकने की क्षमता को बढ़ाता है। जिससे तनाव को कम करने में मदद मिलती है  तुलसी की चाय के फायदे दिलाएं|

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय)

कब्‍ज से छुटकाराBenefits of tulsi green tea for constipation in Hindi

Tulsi तुलसी के साथ हल्दी की चाय बनाकर पीने से पेट संबंधी बीमारियां दूर होती हैं। जिससे गैस कब्जियत जैसी परेशानियों से मुक्ति मिलती है।

तुलसी की चाय के फायदे एसिडिटी दूर करेने में tulsi green tea for acidity in hindi

यह पेय पदार्थ शरीर के अंदर जाकर पाचन क्रिया को मजबूत बनाता है। इसके अलावा एसिड के बनने वाले स्तर को कम कर बैलेंस करता है, जिससे एसिडिटी की समस्या दूर होती है।

(और पढ़े – एसिडिटी के कारण, लक्षण और बचाव के घरेलू उपाय)

वजन कम करने में तुलसी की चाय के फायदे – tulsi green tea for weight loss in hindi

यह पेयपदार्थ शरीर में जमा फेट्स को कम कर कोलेस्‍ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है। जिससे शरीर का वजन नहीं बढ़ पाता है। आप वजन घटाने के लिए इसका सेवन कर सकती है

कैंसर से बचाए तुलसी की चाय – Benefits of tulsi green tea for cancer in hindi

इस पावर फुल औषधिय चाय में phytonutrients के गुण पाए जाते हैं। जिससे ब्रेस्‍ट कैंसर और प्रो-स्‍टेट कैंसर जैसे रोगों को शरीर में पनपने नहीं देता। (और पढ़े – स्तन कैंसर कारण, लक्षण और बचाव के तरीके)

तुलसी की चाय के फायदे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने में – Benefits of tulsi green tea for diabetes in hindi

Tulsi तुलसी की चाय पीने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। तुलसी की चाय में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण अस्थमा से बचाता है (और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय)

तुलसी की चाय के नुकसान Tulsi green tea side effects in hindi

वैसे तो तुलसी उपभोग और सामयिक उपयोग के लिए सुरक्षित है, परंतु
1. तुलसी की उच्च खपत से यूगनल स्तर बढ़ सकता है जो हमारे शरीर के लिए विषाक्त साबित हो सकता है।
2. तुलसी में हमारे शरीर के खून को पतला करने की क्षमता है। और इसलिए इसे अन्य विरोधी थक्के दवाओं के साथ नहीं लिया जाना चाहिए।
3. यदि लोग मधुमेह या हाइपोग्लाइसीमिया से पीड़ित हैं और दवा के तहत तुलसी का उपभोग करते हैं, तो इससे रक्त शर्करा में अत्यधिक कमी हो सकती है।
4. तुलसी गर्भवती महिलाओं में गर्भाशय के संकुचन को प्रोत्साहित कर सकती है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration