कैल्शियम की कमी के लक्षण और इलाज – Calcium Deficiency Symptoms And Treatment In Hindi




कैल्शियम की कमी के लक्षण और इलाज - Calcium Deficiency Symptoms And Treatment In Hindi
Written by Daivansh

आज आप जानेंगे कैल्शियम की कमी के लक्षण और इलाज calcium deficiency symptoms and treatment in hindi के बारे में। शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों में एक कैल्शियम भी है जो शरीर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हड्डियों को और दांतो की मजबूती के लिए  कैल्शियम जरूरी पोषक तत्व है। हर किसी को एक दिनभर में कैल्शियम की एक निश्चित मात्रा की जरूरत होती है। एक स्वस्थ्य मनुष्य को दिन भर में 1000 से 1200 मिली ग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है। वहीं गर्भवती महिलाओं को पूरे दिन में 1200 से 1300 मिली ग्राम कैल्शियम की आवश्कता होती है।

आजकल न सिर्फ बूढ़ों में बल्कि जवान और बच्चों में भी कैल्शियम की काफी कमी देखी जा रही है। कैल्शियम की कमी के कारण हड्डिया पतली और कमजोर होने लगती है जिससे ऑस्टियोपोरोसिस होने की संभाबना बढ़ जाती है| हम बता रहे हैं कुछ लक्षण जिनसे आप जान पायेंगे कि आपके शरीर में कैल्शियम की कमी है या नहीं

  1. हड्डियों में कमजोरी

  • कैल्शियम हड्डियों के बनने में मदद करता है और कैल्शियम की कमी होने पर इसका पहला लक्षण हड्डियों पर दिखाई देता है। कैल्शियम की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और फ्रैक्चर होने की संभावना बढ़ जाती है। कैल्शियम कमी से उम्र के साथ आस्टियोपेरोसिस का होने का खतरा भी बढ़ जाता है।
  1. मांसपेशियों में खिंचाव का कारण है कैल्शियम की कमी 

  • मसल्स के निर्माण में कैल्शियम की अहम भूमिका होती है। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर इसका सीधा असर मांसपेशियों पर पड़ता है और उनमें खिंचाव होने लगता है। इसकी कमी से खासतौर पर जांघों और पिंडलियों में असहनीय दर्द होता है।
  1. नाखूनों का कमजोर होना कारण है कैल्शियम की कमी का

  • आपके नाखून भी एक तरह की हड्डियां ही होती हैं इन्हें भी बढ़ने और मजबूत होने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है। कैल्शियम की कमी से नाखून कमजोर होने लगते हैं और आसानी से टूट जाते हैं। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर नाखूनों पर सफेद निशान दिखने लगते हैं।
  1. दांतों का कमजोर होना

  • शरीर में मौजूद 99 प्रतिशत कैल्शियम हड्डियों और कैल्शियम की कमी से दांतों में दर्द और झनझनाहट होने लगती है और दांत कमजोर होकर टूटने लगते हैं। छोटे बच्चों में कैल्शियम की कमी से दांत देर से निकलते हैं।
  1. थकान

  • कैल्शियम की कमी से हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द रहने की वजह से शरीर में थकान होने लगती है। इस वजह से नींद न आना, डर लगना और तनाव जैसी समस्याएं होने लगती हैं। महिलाओं में बच्चे के जन्म के बाद अक्सर कैल्शियम की कमी हो जाती है और वे थकान महसूस करने लगती हैं।
  1. मासिक धर्म में अनियमितता

  • महिलाओं में कैल्शियम की कमी की वजह से मासिक धर्म देर से और अनियमित तौर पर होता है। मासिक धर्म से पहले कैल्शियम की कमी के कारण ज्यादा दर्द होता है और खून भी ज्यादा आता है। कैल्शियम महिलाओं के गर्भाशय और ओवेरियन हार्मोन्स के विकास में मदद करता है।
  1. जल्दी-जल्दी बीमार पड़ना

  • कैल्शियम रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा ये श्वसन तंत्र ठीक रखता है और आंतों के संक्रमण को रोकता है। कैल्शियम की होने पर व्यक्ति जल्दी जल्दी बीमार पड़ने लगता है।
  1. बालों का झड़ना

  • बालों के विकास में कैल्शियम की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इसकी कमी से बाल झड़ने लगते हैं और रुखे हो जाते हैं। अगर आपको ऐसी समस्या है तो ये शरीर में कैल्शियम की कमी का संकेत हो सकती है।

कैल्शियम की कमी को दूर करने के घरेलु उपाय

आप अपने खान पान और जीवनशैली में थोड़े से बदलाव करके कैल्शियम की कमी को दूर कर सकते है| यहाँ पर कैल्शियम की कमी को पूरा करने के सबसे कारगर उपाय दिए जा रहे है

1.कैल्शियम युक्त पदार्थो का अधिक सेवन करें

शरीर में कैल्शियम के स्तर को बढाने के लिए सबसे सरल सरल और जरुरी कदम होता है कैल्शियम युक्त पदार्थ का सेवन करना| कैल्शियम उक्त पदार्थ की लिस्ट निम्नलिखित है-

  • मलाई निकला हुआ कम बसा वाला दूध|
  • दुग्ध उत्पाद जैसे दही और मक्खन|
  • गहरे हरे रंग बाली पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, गोभी, सल्जम आदि|
  • अनाज|
  • संतरे का जूस|
  • शीरा|
  • सोयाबीन और इससे बने खाद्य पदार्थ|

2.सुबह की सूरज की रोशनी

रोज सुबह (10am से 4pm को छोड़कर ) 10 से 15 मिनट धूप लेने से शरीर को जरुरी विटामिन डी मिलता है| इस दौरान यह ध्यान रखे की आपके सरीर पर ज्यादा से ज्यादा अंगो पर डायरेक्ट सनलाईट पड़ना चाहिए| विटामिन डी शरीर में से ज्यादा से ज्यादा कैल्शियम को सोखने में मदद करता है|

3.विटामिन डी युक्त पदार्थो का सेवन करें

सूरज के जरिये विटामिन डी लेने के साथ-साथ विटामिन डी युक्त पदार्थो का भी सेवन करे| कुछ विटामिन डी युक्त पदार्थ निम्न है- वसायुक्त मछली, दूध, अंनाज, पनीर, अंडा, मक्खन आदि | आप अपने डॉक्टर की सलाह लेकर विटामिन डी के सप्लीमेंट (टेबलेट) भी ले सकते है|

4.मेगनीसियम युक्त पदार्थो का सेवन करें

मेगनीसियम भी कैल्शियम के अवशोषण के लिए आवश्यक पोषक तत्व है| इसलिए मेगनीसियम की कमी के कारण भी शरीर में कैल्शियम की कमी हो सकती है| चुकी हमारा शरीर मेगनीसियम को स्टोर नहीं करता है इसलिए मेगनीसियम युक्त पदार्थो का सेवन जरुरी होता है|

मेगनीसियम के सबसे अच्छे सोर्स निम्न है- पालक, शलजम, सरसों का साग ,ब्रोकली, खीरा, हरी सेम साबुत अनाज, कद्दू के बीज, टिल के बीज, बादाम और काजू|

कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए ऊपर दिए गए उपायों को अपनाने के साथसाथ नीचे दिए गए खाद्य पदार्थो का सेवन कम करे

1.ड्रिंकिंग सोडा का सेवन न करें

ड्रिंकिंग सोडा और खाने का सोडा शरीर में कैल्शियम के अवशोषण कमे बाधा डाल सकता है इसलिए इसके सेवन से बचना चाहिए|

ड्रिंकिंग सोडा के अधिक सेवन से खून में फास्फेट का स्तर बढता है| खून में अधिक फास्फेट होने से हड्डियों में कैल्शियम का छय होने लगता है और उरिन में कैल्शियम का उत्सर्जन बढ़ जाता है|

2.अधिक केफीन का सेवन न करें

कई लोग अपने दिन की शुरुआत एक अस्रोंग काफी पीने के साथ करते है| लेकिन यदि आपको कैल्शियम की कमी है तो इस आदत को छोड़ना पड़ेगा| कफीन हड्डियों की सतह से कैल्शियम का छय करके उन्हें पतला कर देता है|

2006 में ओस्तिओपोरोसिस इंटरनेशनल जर्नल में पब्लिश हुए एक शोध के अनुसार रोज 4 कप काफी पीने से ओस्तिओपोरोसिस फेक्चर होने की सम्भावना काफी बढ़ जाती है|

3.सोडियम के अधिक सेवन से बचें

नमक में सोडियम का स्तर अधिक होने पर कैल्शियम के अब्शोषण में कमी आती  है| इसलिए अपने कैल्शियम लेवल को बढाने के लिए नमक कम खाएं |

सोडियम के कारण मूत्र में कैल्शियम के छय की मात्र बढ़ जाती है|

अपने भोजन को अधिक स्वादिस्ट बनाने के लिए नमक की जगह हर्ब और मसालों का इस्तेमाल करें| इसके साथ ही प्रोसेस फूड्स का सेवन न करे क्योकि इनमे अत्यधिक सोडियम होता है |

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | घरेलू उपाय | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी |  महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration