पीरियड्स के दिनों में दर्द क्यों होता है जानें मुख्य कारण – Period me pain kyu hota hai in Hindi

पीरियड्स के दिनों में दर्द क्यों होता है जानें मुख्य कारण - Period me pain kyu hota hai in Hindi
Written by Pratistha

पीरियड्स या मासिक धर्म के दिनों में महिलाओं को पेट के निचले भाग में दर्द होता है इसे मेंस्ट्रुअल क्रैम्प्स कहते हैं। यह दर्द पीरियड्स के आने से पहले और उसके दौरान कई महिलाओं को प्रभावित करता है। इस लेख में आप पीरियड्स के दिनों में दर्द होने के कारण, लक्षण, जांच, इलाज और घरेलू उपचार के बारे में जानेगें।

दर्दनाक मासिक धर्म, जिसे डिसमोनोरिया (dysmenorrhea) या पीरियड दर्द के रूप में भी जाना जाता है, धीमे या कम तीव्र दर्द से लेकर बहुत कष्टप्रद और गंभीर भी हो सकता है। मासिक धर्म की ऐंठन ओव्यूलेशन के बाद शुरू होती है जब अंडाशय से अंडा छोड़ा जाता है और वह फैलोपियन ट्यूब में जाता है। दर्द पेट के निचले हिस्से में होता है। यह आमतौर पर मासिक धर्म से 1 से 2 दिन पहले शुरू होता है और 2 से 4 दिनों तक रहता है।

1. दर्दनाक मासिक धर्म के प्रकार – Types of menstrual cramps in Hindi
2. पीरियड्स में दर्द के कारण – Painful menstruation Causes in Hindi
3. दर्दनाक मासिक धर्म चिकित्सा स्थिति का परिणाम भी हो सकता है – Painful periods as a result of Medical condition in Hindi
4. मासिक धर्म में दर्द के लक्षण – Symptoms of Painful periods in Hindi
5. मासिक धर्म के समय दर्द की जांच या निदान – Diagnosis painful menstrual periods in hindi
6. मासिक धर्म के दर्द का इलाज – Treatment of pain due to periods in Hindi
7. मासिक के दर्द को कम करने के उपाय – Ways to reduce Painful menstruation in Hindi

8. मासिक धर्म के समय दर्द में डॉक्टर से जांच कब ज़रूरी है – When you need to see Doctor for treating period pain in hindi

दर्दनाक मासिक धर्म के प्रकार – Types of menstrual cramps in Hindi

दर्दनाक मासिक धर्म के प्रकार – Types of menstrual cramps in Hindi

प्राथमिक डिसमोनोरिया – (primary dysmenorrhea)

जब दर्द  सिर्फ मासिक धर्म के कारण होता है इसे प्राथमिक डिसमोनोरिया के रूप में जाना जाता है।

माध्यमिक डिसमोनोरिया (secondary dysmenorrhea)

यदि क्रैम्पिंग दर्द एक चिकित्सा समस्या के कारण होता है जैसे की एंडोमेट्रोसिस, गर्भाशय फाइब्रॉएड, या श्रोणि सूजन की बीमारी, तब इसे माध्यमिक डिसमोनोरिया कहा जाता है।

(और पढ़े – पीरियड्स जल्दी लाने और रोकने के घरेलू उपाय…)

पीरियड्स में दर्द के कारण – Painful menstruation Causes in Hindi

पीरियड्स में दर्द के कारण - Painful menstruation Causes in Hindi

मासिक धर्म में होने वाले दर्द का कोई पहचाना जाने वाला मुख्य कारण नहीं है। लेकिन कुछ महिलाओं में इसका जोखिम ज्यादा होता है अगर वे नीचे दिए हुए कारणों में शामिल हैं:

प्रोस्टाग्लैंडिन (prostaglandin) नामक एक हार्मोन आपके गर्भाशय में मांसपेशी संकुचन को उत्पन्न करता है जो यूटेरस या गर्भाशय की लाइनिंग को निष्कासित करता है। ये संकुचन दर्द और सूजन का कारण हो सकता हैं। मासिक धर्म शुरू होने से ठीक पहले प्रोस्टाग्लैंडिन का स्तर बढ़ता है।

(और पढ़े – बच्चेदानी (गर्भाशय) में सूजन के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय…)

दर्दनाक मासिक धर्म चिकित्सा स्थिति का परिणाम भी हो सकता है – Painful periods as a result of Medical condition in Hindi

दर्दनाक मासिक धर्म चिकित्सा स्थिति का परिणाम भी हो सकता है - Painful periods as a result of Medical condition in Hindi

प्रीमेनस्ट्रल सिंड्रोम (पीएमएस) Premenstrual Syndrome (PMS): शरीर में हार्मोनल परिवर्तन के कारण मासिक धर्म शुरू होने से 1 से 2 सप्ताह पहले, कुछ लक्षण दिखाई देते हैं जो की रक्तस्त्राव होने के बाद चले जाते हैं।

एंडोमेट्रोसिस (Endometriosis): यह एक दर्दनाक चिकित्सा स्थिति है जिसमें शरीर के अन्य हिस्सों में गर्भाशय की परत से कोशिकाएं बढ़ती हैं, आमतौर पर यह परतें फैलोपियन ट्यूब, अंडाशय, या ऊतक की लाइनिंग जो की श्रोणि या पेल्विस पर है वहां  फैलती हैं।

गर्भाशय में फाइब्रॉएड (Fibroids In The Uterus): ये नॉन-कैंसर ट्यूमर या नॉन-मेलिग्नेंट ट्यूमर हैं जो गर्भाशय पर दबाव डाल सकते हैं या असामान्य मासिक धर्म और दर्द का कारण बन सकते हैं।

श्रोणि सूजन की बीमारी (पीआईडी) (Pelvic Inflammatory Disease-PID): गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब, या अंडाशय का संक्रमण जो की यौन संक्रमित जीवाणुओं के कारण होता है और जो प्रजनन अंगों में दर्द और सूजन का कारण बनता है।

एडेनोमायोसिस (Adenomyosis): एक दुर्लभ स्थिति जिसमें गर्भाशय की लाइनिंग गर्भाशय की मांसपेशियों की दीवार में बढ़ती है और दर्दनाक हो सकती है क्योंकि इससे सूजन और दबाव होता है।

गर्भाशय ग्रीवा स्टेनोसिस (Cervical Stenosis): यह एक दुर्लभ स्थिति है जिसमें सर्विक्स इतना छोटा होता है, यह मासिक धर्म प्रवाह को धीमा कर देता है, जिससे गर्भाशय के अंदर दबाव बढ़ता है जिससे दर्द होता है।

(और पढ़े – प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के कारण, लक्षण और इलाज…)

मासिक धर्म में दर्द के लक्षण – Symptoms of Painful periods in Hindi

मासिक धर्म में दर्द के लक्षण - Symptoms of Painful periods in Hindi

मासिक धर्म से पहले और इसके दौरान पेट में ऐंठन और तेज दर्द होता है। मासिक धर्म ऐंठन आमतौर पर श्रोणि हड्डी के ऊपर, निचले पेट में एक सुस्त, थ्रोबिंग, दर्द देता है। मासिक धर्म ऐंठन के साथ, हल्के से तीव्र पेट की क्रैम्पिंग आपके पीरियड की शुरुआत के 24 घंटे के भीतर शुरू होती है और कुछ दिनों तक जारी रहती है। पीरियड के दर्द के लक्षणों में शामिल हैं:

यदि लक्षण धीरे-धीरे तीव्र हो जाते हैं, या यदि वे 25 साल से अधिक उम्र से शुरू होते हैं, तो डॉक्टर की सलाह लेना एक अच्छा विचार है।

(और पढ़े – पीरियड्स में पेट दर्द का घरेलू उपाय…)

मासिक धर्म के समय दर्द की जांच या निदान – Diagnosis painful menstrual periods in hindi

मासिक धर्म के समय दर्द की जांच या निदान - Diagnosis painful menstrual periods in hindi

आपके चिकित्सक पहले आपके दर्दनाक मासिक धर्म काल के अंतर्निहित कारणों की जांच के लिए अपना चिकित्सा इतिहास जानेगे। वे शारीरिक परीक्षण भी कर सकते हैं। इसमें आपके प्रजनन प्रणाली में किसी भी असामान्यताओं की जांच करने और संक्रमण के लक्षणों की जांच करने के लिए एक श्रोणि परीक्षा भी शामिल हो सकती है।

यदि आपके डॉक्टर को लगता है कि अंतर्निहित विकार मासिक धर्म के समय दर्द के लक्षण पैदा कर रहा है तो वे इमेजिंग परीक्षण कर सकते हैं। इनमें शामिल हो सकते हैं:

अल्ट्रासाउंड: ध्वनि तरंगों को भेजने वाले एक हैंडहेल्ड डिवाइस को आपके शरीर के अंदर देखने के लिए त्वचा पर घुमाया जाता है।

सीटी स्कैन: एक नॉनीनवसीवे विस्तृत इमेजिंग (noninvasive detailed imaging) परीक्षण जो आपके शरीर के अंदर देखने के लिए एक्स-रे का उपयोग करता है।

एमआरआई: एक नॉनीनवसीवे विस्तृत इमेजिंग परीक्षण जो आपके शरीर के अंदर देखने के लिए चुंबकीय क्षेत्रों और रेडियो तरंगों का उपयोग करता है।

(और पढ़े – एमआरआई स्कैन क्या है कीमत, प्रक्रिया, फायदे और नुकसान…)

मासिक धर्म के दर्द का इलाज – Treatment of pain due to periods in Hindi

मासिक धर्म के दर्द का इलाज - Treatment of pain due to periods in Hindi

  • एक आईयूडी मासिक धर्म ऐंठन के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।
  • मासिक धर्म ऐंठन के अधिकांश मामलों के इलाज के लिए ओवर-द-काउंटर दवा उपलब्ध है। एंटी-प्रोस्टाग्लैंडिन गर्भाशय में क्रैम्पिंग को कम करते हैं, रक्त के प्रवाह को हल्का करते हैं, और असुविधा से छुटकारा दिलाते हैं।
  • इन दवाओं में दर्द निवारक भी हो सकते हैं, जैसे ibuprofen या naproxen। ये नॉन स्टेरॉयड एंटी इन्फ्लामेंट्री दवाओं (NSAIDs) के प्रकार हैं। मासिक धर्म के दर्द को कम करने के लिए NSAIDs का भी उपयोग किया जाता है।
  • यदि महिला चाहे, तो एक चिकित्सक से ओव्यूलेशन को रोकने और मासिक धर्म ऐंठन की गंभीरता को कम करने के लिए हार्मोनल जन्म नियंत्रण गोलियां ले सकती हैं। ये गर्भाशय की लाइनिंग को पतला करते हैं, जहां प्रोस्टाग्लैंडिन बनाता हैं। इससे क्रैम्पिंग और रक्तस्राव कम हो जाता है।
  • कुछ मामलों में, जन्म नियंत्रण गोलियां लगातार उपयोग की जा सकती हैं, हर महीने 4 से 7-दिन के ब्रेक के बिना सामान्य रूप ली जा सकती है। इससे रक्तस्त्राव नहीं होगा।
  • अन्य प्रकार के जन्म नियंत्रण, कुछ प्रकार के हार्मोनल आईयूडी, योनि के छल्ले, पैच, और इंजेक्शन सहित सभी क्रैम्पिंग को कम करने में मदद कर सकते हैं।
  • यदि ऐंठन किसी चिकित्सा स्थिति के कारण हैं, जैसे एंडोमेट्रोसिस या फाइब्रॉएड, तो असामान्य ऊतक को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।
  • उपचार आपके दर्द की गंभीरता और अंतर्निहित कारण पर निर्भर करेगा। यदि पीआईडी ​​या यौन संक्रमित संक्रमण (एसटीआई) आपके दर्द का कारण बन रहे हैं, तो आपका डॉक्टर संक्रमण को दूर करने के लिए एंटीबायोटिक्स निर्धारित करेगा।

(और पढ़े – पीरियड्स में दर्द का इलाज…)

मासिक के दर्द को कम करने के उपाय – Ways to reduce Painful menstruation in Hindi

  1. हीट पेड (गर्मी लागू करना) से मासिक धर्म का दर्द कम करें – Heat pad to reduce pain of menstruation in Hindi
  2. आवश्यक तेलों (एस्सेन्शिअल ऑयल्स) की मालिश से मासिक धर्म के दर्द को कम करे – Massage with essential oils to treat pain in menstruation in Hindi
  3. क्या खाएं और क्या न खाएं ताकि मासिक दर्द हो कम – Avoid eating these food to get rid of pain due to periods in Hindi
  4. पीरियड्स के दिनों में दर्द हो तो न ले भावनात्मक तनाव – Avoid stress to reduce pain by periods in Hindi
  5. पीरियड्स के दिनों में दर्द कम करने के लिए व्यायाम करे – Exercise to tackle Period Pain in Hindi
  6. पीरियड्स में दर्द कम करने के घरेलू उपाय – Home remedies for reducing pain of menstruation in Hindi

घरेलू देखभाल उपचार दर्दनाक मासिक धर्म से राहत दिलाने में सफल हो सकते हैं आइये जानते है वो क्या हैं

हीट पेड (गर्मी लागू करना) से मासिक धर्म का दर्द कम करें – Heat pad to reduce pain of menstruation in Hindi

हीट पेड (गर्मी लागू करना) से मासिक धर्म का दर्द कम करें – Heat pad to reduce pain of menstruation in Hindi

अपने पेट की सिकाई करने या पेट पर हीट पेड रखने से निचले हिस्से के दर्द से छुटकारा मिल सकता है। एक 2012 में किये गये अध्ययन के अनुसार 104 डिग्री फ़ारेनहाइट (40 डिग्री सेल्सियस) पर एक गर्म हीट पेड इबुप्रोफेन के जितना प्रभावी था।

यदि आपके पास गर्म पानी की बोतल या हीटिंग पैड नहीं है, तो गर्म स्नान करें या गर्म टॉवल का उपयोग करें। या आप अपना खुद का हीटिंग पैड बना सकते हैं

(और पढ़े – क्या प्रेगनेंसी में पीरियड्स होते है…)

आवश्यक तेलों (एस्सेन्शिअल ऑयल्स) की मालिश से मासिक धर्म के दर्द को कम करे – Massage with essential oils to treat pain in menstruation in Hindi

आवश्यक तेलों (एस्सेन्शिअल ऑयल्स) की मालिश से मासिक धर्म के दर्द को कम करे - Massage with essential oils to treat pain in menstruation in Hindi

लगभग 20 मिनट के लिए मालिश थेरेपी मासिक धर्म के दर्द को कम करने में मदद कर सकती है। एक 2010 के अध्ययन ने एंडोमेट्रोसिस के कारण होने वाली पीरियड्स के दर्द से पीड़ित 23 महिलाओं को देखा। शोधकर्ताओं ने पाया कि मालिश ने तुरंत दर्द को काफी कम कर दिया।

मासिक धर्म के लिए मालिश चिकित्सा में विशिष्ट बिंदुओं को दबाया जाता है जबकि चिकित्सक हाथों से आपके पेट, शरीर के दोनों तरफ और पीछे मालिश करते हैं। इसके अलावा मालिश को अरोमाथेरेपी शैली के लिए आवश्यक तेलों को साथ जोड़ने से अतिरिक्त लाभ मिलेगा।

(और पढ़े – एसेंशियल ऑयल क्‍या है, नाम, फायदे और उपयोग…)

क्या खाएं और क्या न खाएं ताकि मासिक दर्द हो कम – Avoid eating these food to get rid of pain due to periods in Hindi

क्या खाएं और क्या न खाएं ताकि मासिक दर्द हो कम – Avoid eating these food to get rid of pain due to periods in Hindi

मासिक धर्म के दौरान, कुछ खाद्य पदार्थों से बचना एक अच्छा विचार है क्यूंकि यह सूजन और जल प्रतिधारण या वाटर रिटेंशन का कारण बनता है। आईये जाने किन चीजों के सेवन नहीं करना चाहिए –

कुछ आहार के प्रकार जो पीरियड्स के दिनों में दर्द कम करते हैं –

ओमेगा -3 फैटी एसिड और मैग्नीशियम युक्त प्राकृतिक आहार की खुराक पीरियड्स के दिनों में दर्द को कम कर सकती है।

(और पढ़े – ओमेगा 3 फैटी एसिड के फायदे और स्वास्थ्य लाभ…)

पीरियड्स के दिनों में दर्द हो तो न ले भावनात्मक तनाव – Avoid stress to reduce pain by periods in Hindi

पीरियड्स के दिनों में दर्द हो तो न ले भावनात्मक तनाव - Avoid stress to reduce pain by periods in Hindi

भावनात्मक तनाव आपके पीरियड्स के दर्द को बढ़ा सकता है, जबकि ध्यान और विश्राम से उनकी गंभीरता को कम कर सकते हैं।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

पीरियड्स के दिनों में दर्द कम करने के लिए व्यायाम करे – Exercise to tackle Period Pain in Hindi

पीरियड्स के दिनों में दर्द कम करने के लिए व्यायाम करे - Exercise to tackle Period Pain in Hindi

  • व्यायाम शारीरिक गतिविधि, विशेष रूप से योग, मासिक धर्म ऐंठन के दर्द को कम कर सकता है।
  • आपके पीरियड्स से पहले या उसके दौरान व्यायाम का विचार आपको ठीक तो नहीं कर सकता है। लेकिन अभ्यास एंडोर्फिन जारी करता है। और इससे आप खुश होते हैं।
  • योग एक सौम्य व्यायाम है जो एंडोर्फिन जारी करता है और मासिक धर्म के लक्षणों को रोकने या कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी में करें प्री नेटल योग जो है मां और बच्चों के लिए फ़ायदेमंद…)

पीरियड्स में दर्द कम करने के घरेलू उपाय – Home remedies for reducing pain of menstruation in Hindi

पीरियड्स में दर्द कम करने के घरेलू उपाय – Home remedies for reducing pain of menstruation in Hindi

(और पढ़े – हमें सोना क्यों जरूरी है और आपको कितने घंटों की नींद चाहिए…)

मासिक धर्म के समय दर्द में डॉक्टर से जांच कब ज़रूरी है – When you need to see Doctor for treating period pain in hindi

मासिक धर्म के समय दर्द में डॉक्टर से जांच कब ज़रूरी है – When you need to see Doctor for treating period pain in hindi

यदि मासिक धर्म दर्द हर महीने बुनियादी कार्यों को करने की आपकी क्षमता में हस्तक्षेप कर रहा है, तो यह आपके स्त्री रोग विशेषज्ञ से बात करने का समय हो सकता है। अपने लक्षणों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें और यदि आप निम्न में से किसी एक का अनुभव करते हैं:

  • कम से कम तीन दर्दनाक मासिक धर्म काल
  • रक्त के थक्के
  • आईयूडी प्लेसमेंट के बाद लगातार दर्द
  • दस्त और मतली के साथ ऐंठन
  • मासिक धर्म नहीं होने पर श्रोणि दर्द (pelvic pain)

अचानक ऐंठन या श्रोणि दर्द संक्रमण का संकेत हो सकता है। एक इलाज न किया गया संक्रमण जो श्रोणि अंगों को नुकसान पहुंचाता है और बांझपन का कारण बन सकता है। यदि आपमें संक्रमण के लक्षण हैं, तो तत्काल चिकित्सक को दिखाएँ। इन  लक्षणों में शामिल हैं:

  • बुखार
  • गंभीर श्रोणि दर्द
  • अचानक दर्द, खासकर अगर आप जब गर्भवती हो सकती है
  • गंध युक्त योनि निर्वहन
  • पीरियड या मासिक धर्म में दर्द को अनदेखा ना करे और जरुरत पड़ने पर इलाज करायें।

(और पढ़े – महिलाओं में योनि से सफेद पानी आने (ल्यूकोरिया या श्वेत प्रदर) का घरेलू इलाज…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration