ज्यादा पसीना आने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाए – Excessive sweating – Causes, symptoms and Home remedies in Hindi

ज्यादा पसीना आने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाए - Excessive sweating – Causes, symptoms and Home remedies in Hindi
Written by Ramkumar

Pasina rokne ke upay in hindi बहुत ज्यादा पसीना आना (जिसे हाइपरहाइड्रोसिस भी कहा जाता है) एक बहुत ही वास्तविक और शर्मनाक समस्या है, लेकिन ज्यादा पसीना आने का इलाज करने के लिए बहुत सारे उपाए जैसे की घरेलू नुस्खे, एंटीपर्सपिरेंट इत्यादि हैं जिनका इस्तेमाल करके आप इस समस्या से बच सकते हैं। कुछ लोगो को ऑफिस के पहुँचने से पहले ही पसीने में भीग जाते हैं और इसका उनपर और उनके कलीग्स पर भी बुरा असर पड़ता है। कभी कभी ज्यादा पसीना आपको चिड़चिड़ा भी बना सकता है और इसका आपके पारिवारिक जीवन या सामाजिक जीवन पर विपरीत प्रभाव पड़ता।

ज्यादा पसीना आने की समस्या से पीड़ित लोग रोजमर्रा की ज़िन्दगी में और दूसरों के संपर्क में आने से इतना कतराते हैं, जिसके बारे में आसपास के लोग शायद न सोचें। ज्यादा पसीना आना एक ऐसी स्थिति है जिसमे किसी भी उम्र के पुरुषों और महिलाओं के हाथों और पैरों में अत्यधिक पसीना आता है। हालांकि इस स्थिति के बारे में शायद ही कभी बात की जाती है, और हम में से ज्यादातर को यह भी पता नहीं होता है कि यह जनसंख्या का 3 प्रतिशत लोगो को प्रभावित करता है। उन तीन प्रतिशत के लिए, दूसरों के साथ बातचीत करना या किसी प्रियजन के साथ संपर्क का आनंद लेना तनाव का गंभीर कारण होता है।

क्या आपको को लग रहा है कि शायद आप हाइपरहाइड्रोसिस से पीड़ित हैं? तो आप अपने डॉक्टर को दिखा कर इस स्थिति के बारे में जान सकते हैं। पसीना रोकने के लिए  नीचे दिए हुए कुछ सुझावों को पढ़ें, हो सकता है ये उपाय आपके लिए फायदेमंद हो चाहे आप ज्यादा पसीना आने की समस्या से पीड़ित हों या नहीं।

1. अत्यधिक पसीना क्या है – What is excessive sweating in Hindi
2. ज्यादा पसीना आने या हाइपरहाइड्रोसिस के लक्षण – Symptoms of Hyperhidrosis in Hindi
3. ज्यादा पसीना आने का कारण – Causes of hyperhidrosis in Hindi

4. ज्यादा पसीना आने से बचने के लिए घरेलू उपचार – Home remedies for Excessive sweating in Hindi

5. ज्यादा पसीना आने से रोकने के कुछ टिप्स – Tips for controlling heavy sweating in Hindi

अत्यधिक पसीना क्या है – What is excessive sweating in Hindi

अत्यधिक पसीना क्या है - What is excessive sweating in Hindi

“सामान्य” पसीना क्या है, इसके कोई मुख्य दिशानिर्देश नहीं हैं, लेकिन यदि आपको लगता है कि आप बहुत अधिक पसीना महसूस करते हैं और आपके पसीने से आपके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करना शुरू हो गया है, तो आपको हाइपरहाइड्रोसिस हो सकता है।

ज्यादा पसीना आने या हाइपरहाइड्रोसिस के लक्षण – Symptoms of Hyperhidrosis in Hindi

जादा पसीना आपके पूरे शरीर को प्रभावित कर सकता है, या फिर यह केवल कुछ क्षेत्रों को प्रभावित कर सकता है। जैसे की :

  • बगल या आर्म पिट्स
  • अपके हाथों के हथेलियों
  • अपके पैरों के तलवों
  • चेहरा और छाती
  • ऊसन्धि या ग्रोइन एरिया
  • इसके अलावा आप शारीरिक संपर्क से बचते हैं, जैसे हाथ मिलाते हुए, क्योंकि आप अपने पसीने के बारे में जानकर संकोच महसूस करते हैं।
  • आप नृत्य या अभ्यास जैसी गतिविधियों में भाग नहीं लेते हैं, इस डर से की वे आपका पसीना और बढ़ा देंगे।
  • अत्यधिक पसीना आपके काम में हस्तक्षेप कर रहा है – उदाहरण के लिए, आपको उपकरण रखने या कंप्यूटर की-बोर्ड का उपयोग करने में कठिनाई होती है।
  • आपको सामान्य दैनिक गतिविधियों, जैसे ड्राइविंग के साथ समस्याएं आ रही हैं।
  • आप पसीने से निपटने में काफी समय व्यतीत कर रहे हैं – उदाहरण के लिए, अक्सर अपने कपड़ों को धोना या बदलना और स्नान करना।
  • आप सामाजिक रूप से कट चुके हैं और किसी भी सामाजिक कार्यक्रम में जाने पर आप संकोच महसूस करते हैं।

(और पढ़े – पसीने की बदबू दूर करने के तरीके और घरेलू उपाय…)

ज्यादा पसीना आने का कारण – Causes of hyperhidrosis in Hindi

ज्यादा पसीना आने का कारण - Causes of hyperhidrosis in Hindi

  1. प्राथमिक हाइपरहाइड्रोसिस (ज्यादा पसीना आने) के कारण – Causes of Primary Hyperhidrosis in Hindi
  2. माध्यमिक हाइपरहाइड्रोसिस (ज्यादा पसीना आने) के कारण – Causes of Secondary Hyperhidrosis in Hindi

कई मामलों में, ज्यादा पसीना आने का (हाइपरहाइड्रोसिस) का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है और यह पसीने को नियंत्रित करने वाले तंत्रिका तंत्र में समस्या होने के कारण माना जाता है। इसे प्राथमिक हाइपरहाइड्रोसिस के रूप में जाना जाता है।

जब ज्यादा पसीना आने की जांच हो जाती है उन स्तिथियों में इसे माध्यमिक हाइपरहाइड्रोसिस कहा जाता है। इसमें कई अलग-अलग ट्रिगर्स हो सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

प्राथमिक हाइपरहाइड्रोसिस (ज्यादा पसीना आने) के कारण – Causes of Primary Hyperhidrosis in Hindi

  • गर्भावस्था या रजोनिवृत्ति
  • चिंता
  • कुछ दवाएं
  • कम रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइकेमिया)
  • एक अति सक्रिय थायराइड ग्रंथि (हाइपरथायरायडिज्म)
  • संक्रमण

(और पढ़े – फंगल इन्फेक्शन क्या है, कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार…)

माध्यमिक हाइपरहाइड्रोसिस (ज्यादा पसीना आने) के कारण – Causes of Secondary Hyperhidrosis in Hindi

(और पढ़े – एचआईवी एड्स से जुड़े मिथक और तथ्य…)

ज्यादा पसीना आने से बचने के लिए घरेलू उपचार – Home remedies for Excessive sweating in Hindi

  1. पसीना कम करने का उपाय है नींबू – Pasina rokne ka tarika Lemon in Hindi
  2. पसीने से छुटकारा पाने के लिए एप्पल साइडर विनेगर – Apple cider vinegar to control Excessive sweating in Hindi
  3. पसीना कम करने के उपाय टमाटर का रस – Pasina rokne ka tarika Tomato Juice in Hindi
  4. आलू और अन्य पोटेशियम से भरपूर फूड्स- करें ज्यादा पसीने को काबू  – Potatoes for excess sweat control in Hindi
  5. पसीना रोकने के उपाय हरी और काली चाय इन हिंदी – Green and black tea for curing hyperhidrosis in Hindi
  6. ज्यादा पसीना आने का इलाज है व्हीटग्रास जूस (गेहूं का रस) – hath se pasina rokne ka ayurvedic treatment Wheatgrass juice in Hindi
  7. कॉर्नस्टार्च और बेकिंग सोडा दिलाये पसीने से छुटकारा – Pasine se chutkara ke liye Cornstarch and baking soda in Hindi
  8. चेहरे पर पसीना रोकने के उपाय टी ट्री ऑइल – Tea Tree oil for treating excessive sweat in Hindi

ज्यादा पसीना आने का इलाज करने के लिए आप घरेलू उपाय अपना सकते हैं अपने आपको स्वेटर के नीचे छुपाये रखने से पहले या एक शांत वातावरण में जाने से पहले, अगर आपको अत्यधिक पसीने से बचना है तो इन तकनीकों को आजमा सकते हैं।

नीचे हमने ज्यादा पसीना आने से बचने के लिए कुछ उपाए लिखे हैं जिन्हें आप फॉलो कर सकते हैं –

पसीना कम करने का उपाय है नींबू – Pasina rokne ka tarika Lemon in Hindi

पसीना कम करने का उपाय है नींबू - Pasina rokne ka tarika Lemon in Hindi

नींबू में साइट्रिक एसिड होता है, जो बैक्टीरिया को समाप्त करता है और अत्यधिक पसीने को कम करने में मदद करता है। आप आधे नींबू को अपने अंडरआर्म पर हल्के से निचोड़ते हुए रगड़ सकते हैं और या फिर बेकिंग सोडा के साथ नींबू के रस की थोड़ी मात्रा मिलाएं और इसे कॉटन के साथ लगायें। कम से कम 30 मिनट के लिए नींबू का रस लगाने की कोशिश करें फिर अच्छी तरह से धोलें।

(और पढ़े – नींबू के फायदे और नुकसान…

पसीने से छुटकारा पाने के लिए एप्पल साइडर विनेगर – Apple cider vinegar to control Excessive sweating in Hindi

पसीने से छुटकारा पाने के लिए एप्पल साइडर विनेगर – Apple cider vinegar to control Excessive sweating in Hindi

ऐप्पल साइडर विनेगर के इस्तेमाल के कई स्वास्थ लाभ हैं। यह रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है, दिल की धड़कन और हार्ट बर्न से राहत देता है और वजन घटाने में भी सहायता करता है।

जब इसको सीधे त्वचा पर लगाया जाता है, तब यह बैक्टीरिया को हटाने और छिद्रों को बंद करने में मदद करता है। अपने पसीने वाले इलाकों में विनेगर रगड़ने के लिए सूती का प्रयोग करें। इसे रात भर छोड़ दें और सुबह स्नान में इसे धो लें।

विनेगर का मिक्सचर पीने से भी हाइपरहाइड्रोसिस का प्रभाव कम होता है।

एक गिलास पानी में ऐप्पल साइडर विनेगर और शहद के दो चम्मच मिलाएं। इसे खाली पेट पर प्रतिदिन एक बार इसे पीएं। इसके प्रभाव दिखने में कुछ दिन का समय लगेगा।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान…)

पसीना कम करने के उपाय टमाटर का रस – Pasina rokne ka tarika Tomato Juice in Hindi

पसीना कम करने के उपाय टमाटर का रस – Pasina rokne ka tarika Tomato Juice in Hindi

टमाटर भी आपके छिद्रों को कम करते हैं और आपके आंतरिक तापमान को विनियमित करके पुराने पसीने को कम कर सकते हैं। टमाटर को अपने भोजन में शामिल करें या बस रोजाना टमाटर के रस का एक गिलास पीने से आपका अत्यधिक पसीना नियंत्रित हो जायेगा।

आप चाहे तो टमाटर के रस को दस मिनट तक अंडर आर्म्स में लगा भी सकते हैं

(और पढ़े – टमाटर के फायदे और नुकसान…)

आलू और अन्य पोटेशियम से भरपूर फूड्स- करें ज्यादा पसीने को काबू  – Potatoes for excess sweat control in Hindi

आलू और अन्य पोटेशियम से भरपूर फूड्स- करें ज्यादा पसीने को काबू  - Potatoes for excess sweat control in Hindi

बहुत अधिक सोडियम खाने के कारण आपके शरीर में पानी बना रहता है। आलू और ब्रोकोली जैसे पोटेशियम समृद्ध खाद्य पदार्थ शरीर से अधिक पसीना आने की प्रक्रिया को उलट देते हैं। इस प्रभाव के कारण, आलू आपकी त्वचा से अतिरिक्त पानी को अवशोषित करके पसीना से छुटकारा दिलाने में मदद करता हैं।

पसीना कम करने के लिए रोजाना कुछ मिनटों के लिए अपनी बगल, पैर या हाथों में एक आलू का टुकड़ा रगड़ें।

(और पढ़े – आलू के फायदे और नुकसान…)

पसीना रोकने के उपाय हरी और काली चाय इन हिंदी – Green and black tea for curing hyperhidrosis in Hindi

पसीना रोकने के उपाय हरी और काली चाय इन हिंदी - Green and black tea for curing hyperhidrosis in Hindi

चाय जैसे गर्म पेय पीना पसीने को बढ़ा सकते हैं। लेकिन हरी चाय में मैग्नीशियम और विटामिन बी होता है, जो आपके पसीने के ग्रंथियों को बांधता है और आपको शांत रखता है। यदि आप बहुत ज्यादा पसीने से परेशान हैं, तो सुबह कॉफी के सेवन की जगह ग्रीन टी या हरी चाय पीने का प्रयास करें।

ब्लैक टी भी पसीना कम करने में लाभकारी है। 3-4 कप गर्म पानी में दो काली चाय के बैग डालें। इसे 10 मिनट तक रहने दे। एक कपड़े को इसमें सोखे और इसे अपने अंडरआर्म पर रगड़ें।

यदि आप अपने हाथों या पैरों में हाइपरहाइड्रोसिस का अनुभव करते हैं, तो उन्हें 20-30 मिनट के लिए चाय के पानी में पेरों को डुबो कर रखें।

(और पढ़े – ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान…)

ज्यादा पसीना आने का इलाज है व्हीटग्रास जूस (गेहूं का रस) – hath se pasina rokne ka ayurvedic treatment Wheatgrass juice in Hindi

ज्यादा पसीना आने का इलाज है व्हीटग्रास जूस (गेहूं का रस) – hath se pasina rokne ka ayurvedic treatment Wheatgrass juice in Hindi

एक प्राकृतिक डिटोक्सिफायर, गेहूं के रस में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन बी 12, विटामिन बी 6 और फोलिक एसिड भरपूर होते हैं। गेहूं आपके रक्त में स्तिथ एसिड को खत्म करता है। गेहूं के एक चम्मच रस पीने से पसीने को कम करने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़े – व्हीटग्रास जूस (गेंहू के जवारे ) के फायदे और नुकसान…)

कॉर्नस्टार्च और बेकिंग सोडा दिलाये पसीने से छुटकारा – Pasine se chutkara ke liye Cornstarch and baking soda in Hindi

कॉर्नस्टार्च और बेकिंग सोडा दिलाये पसीने से छुटकारा - Pasine se chutkara ke liye Cornstarch and baking soda in Hindi

कॉर्नस्टार्च और बेकिंग सोडा प्राकृतिक जल-अवशोषक एजेंट हैं। क्योंकि बेकिंग सोडा शरीर की गंध को निष्क्रिय करता है और एक प्राकृतिक डिओडोरेंट के रूप में भी काम करता है। कई डिओडोरेंट्स में बेकिंग सोडा इस्तेमाल होता है।

आप दो हिस्सों के कॉर्नस्टार्च के साथ तीन हिस्सों को बेकिंग सोडा डालकर अपने खुद का पाउडर डिओडोरेंट बना सकते हैं। मिश्रण को सीधे अपनी सूखी त्वचा पर लगाएं और इसे पानी से धोने से पहले 30 मिनट तक स्किन पर रहने दें।

(और पढ़े – बेकिंग सोडा से करें लिंग की जांच और जाने लड़का होगा या लड़की…)

चेहरे पर पसीना रोकने के उपाय टी ट्री ऑइल – Tea Tree oil for treating excessive sweat in Hindi

चेहरे पर पसीना रोकने के उपाय टी ट्री ऑइल - Tea Tree oil for treating excessive sweat in Hindi

चाय और विनेगर की तरह, टी ट्री ऑइल पसीना पैदा करने वाले जीवाणु से लड़ने के लिए प्राकृतिक रूप में कार्य करता है। टी ट्री ऑइल में एक कॉटन बॉल को सोंखे और रोजाना अपने अंडरआर्म पर लगायें। आपको कुछ दिनों में प्रभाव का अनुभव करेंगे।

(और पढ़े – टी ट्री ऑयल के फायदे और नुकसान…)

ज्यादा पसीना आने से रोकने के कुछ टिप्स – Tips for controlling heavy sweating in Hindi

ज्यादा पसीना आने से रोकने के कुछ टिप्स - Tips for controlling heavy sweating in Hindi

जब आप अलग-अलग एंटीपरिस्पेंट्स ढूँढने की कोशिश कर रहे हैं, या आपके डॉक्टर द्वारा जो भी अन्य उपचार की सिफारिश की जा रही है, उस वक़्त आप पसीने को कम करने के लिए नीचे बताये जा रहे ज्यादा पसीना आने से रोकने के कुछ टिप्स भी शामिल कर सकते हैं।

भारी कपड़े न पहनें जो पसीना बढ़ाते हैं। इसके बजाय, कॉटन और रेशम जैसे हल्के, हवादार कपड़े पहनें। एक अतिरिक्त शर्ट के साथ जाइये जब आप जानते हैं कि आप गर्मी में व्यायाम या बाहर व्यायाम करेंगे। आपके पैर से भी पसीना आ सकता है, इसलिए ऊनी मोजे पहनें जो नमी को दूर निकलते हैं।

एंटी बेक्टेरिअल साबुन का प्रयोग-बैक्टीरिया को नियंत्रित करने के लिए एक जीवाणुरोधी या एंटी बेक्टेरिअल साबुन का उपयोग करके हर दिन शावर या स्नान करें। नहाने के बाद अपने आप को पूरी तरह सुखालें और एंटीपरिस्पेंट लगायें।

पसीना सोखने वाले कपड़े पसीने को अवशोषित करने के लिए अंडरआर्म लाइनर और जूतों के अन्दर पसीना सोखने वाली चीजे का प्रयोग करें ताकि यह आपके कपड़ों को खराब न करे या गंध शुरू न करे।

ज्यादा मसालेदार भोजन और शराब दोनों आपके पसीने को बढ़ा सकते हैं, जैसे चाय और कॉफी जैसे गर्म पेय या स्पाइसी फूड। इसलिए इनसे दूर रहे।

अगर आप ज्यादा पसीना आने से परेशान हैं तो चिंता न करे और इन उपायों को फॉलो करें और इस समस्या से मुक्त हों। यदि आप घरेलू नुस्खो से अपने पसीने पर कंट्रोल न कर पायें तो कृपया डॉक्टर से जरुर मिलें।

(और पढ़े – पर्सनल हाइजीन से जुड़ी 10 गलतियां जिन्हें कभी नहीं करना चाहिए…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration