एसिड रिफ्लक्स के कारण, लक्षण, जांच, इलाज, और परहेज – Acid Reflux Cause, Symptoms, Treatment, Prevention in Hindi

एसिड रिफ्लक्स के कारण, लक्षण, जांच, इलाज, और परहेज - Acid Reflux Cause, Symptoms, Treatment, Prevention in Hindi
Written by Jaideep

Acid reflux in hindi एसिड रिफ्लक्स (Acid Reflux ) या एसिड भाटा एक सामान्य पाचन स्थिति है, जिसमें छाती के निचले क्षेत्र में जलन और दर्द होता है, जिसे हार्टबर्न के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा तब होता है, जब पेट से एसिड भोजन नलिका के माध्यम से गले तक वापस आ जाता है, जिससे पेट और गले में जलन होती है, इसे गैस्ट्रोसोफेजियल रिफ्लक्स (GERD) (Gastroesophageal reflux) भी कहते हैं। एसिड रिफ्लक्स  शिशुओं और बच्चों के साथ-साथ वयस्कों को भी प्रभावित कर सकता है। 12 साल से कम उम्र के बच्चों को आमतौर पर हार्टबर्न का अनुभव नहीं होता है।

आज इस लेख में आप जानेगे की एसिड रिफ्लक्स क्या होता है इसके कारण क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है।

1. एसिड रिफ्लक्स क्या है – What is Acid Reflux in Hindi
2. एसिड रिफ्लक्स के कारण – Acid Reflux Cause in Hindi
3. एसिड रिफ्लक्स के लक्षण – Acid Reflux Symptoms in  Hindi
4. एसिड रिफ्लक्स का निदान – Acid Reflux Diagnosis  in Hindi
5. एसिड रिफ्लक्स का इलाज – Acid Reflux  Treatment in Hindi
6. एसिड रिफ्लक्स की जटिलताएं – Acid Reflux  Risks and complications in Hindi
7. एसिड रिफ्लक्स में खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ – Diet and nutrition for Acid Reflux  in Hindi
8. एसिड रिफ्लक्स में परहेज – Food to Avoid in acid reflux in Hindi
9. एसिड रिफ्लक्स के घरेलू उपचार – Home Remedies for Acid Reflux  in Hindi

10. एसिड रिफ्लक्स से वाचाव के उपाय – Acid Reflux Prevention in Hindi

एसिड रिफ्लक्स क्या है – What is Acid Reflux in Hindi

पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड भोजन का पाचन करने और हानिकारक बैक्टीरियों को नष्ट करने में मदद करता है, जिसे पाचक रस भी कहते है। भोजन नलिका में लोअर एसोफिजिअल स्फिंक्टर (LES) एक तरफ खुलने बाला वाल्व है जो उस समय खुलता है जब भोजन को निगला जाता है। जब एसोफिजिअल स्फिंक्टर (LES) ठीक तरह से बंद नहीं होता है तब पाचक रस और पेट की सामग्री भोजन नलिका के माध्यम से एसोफैगस में वापस लौटआती है, जिससे एसिड आपके एसोफैगस में आ जाता है इस समस्या को ही एसिड भाटा (Acid Reflux ) कहा जाता है।

एसिड रिफ्लक्स के कारण – Acid Reflux Cause in Hindi

Acid Reflux (एसिड भाटा) पेट की असामान्यता (खराबी) से होता है, जिसका मुख्य कारण हाइटल हर्निया हो सकता है। यह तब होता है जब पेट और एसोफिजिअल स्फिंक्टर (LES) का एसिड या भोजन डायाफ्राम से होता हुआ ऊपर आता है, डायाफ्राम हमारे पेट और छाती को एक दुसरे से अलग करता है। डायाफ्राम एसिड को हमारे पेट में एकत्र करके रखने में मदद करता है। परन्तु यदि आपको हाइटल हर्निया है, तब एसिड एसोफैगस की ओर आ जाता है, जिससे एसिड भाटा (Acid Reflux )रोग होता है।

एसिड रिफ्लक्स (Acid Reflux ) रोग होने ने प्रमुख करण निम्न है –

  • अधिक मात्र में भोजन करना और भोजन के तुरंत बाद लेटने से एसिड रिफ्लेक्स होता है।
  • अधिक मोटापा और वजन भी एसिड रिफ्लेक्स का कारण होता है।
  • धूम्रपान, शराब, कार्बोनेटेड पेय, कॉफी, या चाय आदि पेय पदार्थ के सेवन से भी एसिड रिफ्लेक्स हो सकता है।
  • टमाटर, चॉकलेट, लहसुन, प्याज, या मसालेदार या फैटी खाद्य पदार्थ खाने से भी एसिड रिफ्लेक्स होता है।

(और पढ़े – मानव पाचन तंत्र कैसा होता है, और कैसे इसे मजबूत बनायें…)

एसिड रिफ्लक्स के लक्षण – Acid Reflux Symptoms in  Hindi

एसिड भाटा (Acid Reflux ) से आमतौर पर हार्टबर्न के साथ-साथ सीने, गले और पेट में जलन, के साथ दर्द होता है।

इस समस्या में पाचक रस या एसिड गले के पीछे तक पहुंचकर कड़वा या खट्टा स्वाद पैदा करता है।

(और पढ़े – लीवर को साफ करने के लिए खाएं ये चीजें…)

एसिड रिफ्लक्स या हार्टबर्न रोग के अन्य लक्षणों में –

एसिड रिफ्लक्स का निदान – Acid Reflux Diagnosis  in Hindi

एसिड रिफ्लक्स और हार्टबर्न एक सामान्य समस्या है जिसका निदान आसान है हालांकि,  इस रोग से ग्रस्त रोगी को अन्य रोग की शिकायते भी हो सकती है जैसे कि: –

गंभीर लक्षण होने पर डॉक्टर निदान की पुष्टि करने के लिए निम्नलिखित जांच करा सकता है;-

  • एंडोस्कोपी – कैमरा के द्वारा इमेजिंग,
  • बायोप्सी –  प्रयोगशाला विश्लेषण के लिए एक ऊतक का नमूना लेना,
  • बेरियम एक्स-रे – एक चॉकलेटी तरल पदार्थ खिलाकर एसोफैगस, पेट, और ऊपरी डुओडेनम की  तस्वीर लेना।
  • PH मोनिटरिंग – अम्लता परीक्षण कर एसोफैगस में एसिड की जांच करना।

(और पढ़े – अपच या बदहजमी (डिस्पेप्सिया) के कारण, लक्षण, इलाज और उपचार…)

एसिड रिफ्लक्स का इलाज – Acid Reflux  Treatment in Hindi

खासकर जीवनशैली में परिवर्तन, एंटासिड्स, या एसिड-ब्लॉकिंग दवाएं एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को कम करने में सहायता करती हैं।

एसिड को बेअसर करने के लिए अल्का-सेल्टज़र, मालोक्स, माइलंटा, रोलाइड्स, या रियोपान जैसे एंटासिड्स दबाईयां ली जा सकती है। एंटासिड्स में मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड और एल्यूमीनियम हाइड्रॉक्साइड की मात्रा पाई जाती है जो एसिड रिफ्लक्स के निदान में सहायता करती है |

हार्टबर्न के इलाज के लिए Zanatic (ज़नेटिक) दवा उपयोग में लाई जाती है। एसिड भाटा के उपचार के लिए पीपीआई, ओमेपेराज़ोल, रैबेप्राज़ोल, और एसोमेप्राज़ोल समेत, एच 2 ब्लॉकर्स,  सिमेटिडाइन, रैनिटिडाइन और फैमिटीडाइन ओवर-द-काउंटर उपचार, जैसे कुछ एंटाएसिड्स उपलब्ध हैं।

(और पढ़े – पेचिश (आंव) के लक्षण, कारण और उपचार…)

एसिड रिफ्लक्स की जटिलताएं – Acid Reflux  Risks and complications in Hindi

यदि एसिड रिफ्लक्स का इलाज समय पर न किया जाये तो कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है एसिड रिफ्लक्स एसोफैगस को नुकसान पहुंचाता है, जिससे एसोफैगस के अस्तर में सूजन आ जाने से जलन, रक्तस्राव होने लगता है, जिससे भोजन निगलने में कठिनाई होती है, इस समस्या को एसोफैगिटिस के नाम जाना जाता है। एसिड का कोशिकाओं और ऊतकों के बार बार संपर्क में आने से कैंसर का खतरा होता है।

गर्भावस्था के दौरान हार्टबर्न की समस्या होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है, गर्भावस्था के दौरान परहेज, जीवनशैली में सुधार करने से ही एसिड रिफ्लक्स से प्रभावित होने से बचा जा सकता है | गर्भावस्था के दौरान, रात में बहुत देर से खाना न खाने की और हल्का भोजन करने सलाह दी जाती है

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय…)

एसिड रिफ्लक्स में खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ – Diet and nutrition for Acid Reflux  in Hindi

  1. सब्जियां (Vegetables): अच्छे विकल्पों में हरी बीन्स, ब्रोकली, शतावरी, फूलगोभी, आलू, और खीरे को अपने भोजन में शामिल करना लाभदायक होता है।
  2. अदरक (Ginger): अदरक हार्टबर्न और अन्य गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं के लिए एक प्राकृतिक उपचार है। अदरक की चाय एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को कम करने में लाभकारी होती है।
  3. दलिया ( Oatmeal): दलिया पेट में एसिड को अवशोषित कर एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को कम कर सकता हैं।
  4. मीठे फल (Noncitrus fruits): तरबूज, केले, सेब, और नाशपाती समेत गैर-खट्टे फल एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को बढ़ने से रोकने का काम करते हैं।
  5. लीन मीट (Lean meats): एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को को कम करने में कम वसा युक्त चिकन , टर्की, मछली, और समुद्री भोजन जैसे लीन मीट का सेवन करना एसिड रिफ्लक्स में लाभदायक होता है।
  6. इसके साथ ही अंडे का सफ़ेद भाग (Egg whites) का सेवन भी एसिड रिफ्लक्स में लाभदायक साबित होता है।

(और पढ़े – फूड पॉइजनिंग के कारण, लक्षण, निदान, दवा और इलाज…)

एसिड रिफ्लक्स में परहेज – Food to Avoid in acid reflux in Hindi

कुछ खाद्य पदार्थ खाने से भी एसिड रिफ्लक्स रोग हो सकता है,  जैसे

उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ –  उच्च वसा उक्त खाद्य पदार्थ LES को जाम कर देते है जिससे की एसिड की अधिक मात्रा एसोफैगस में वापस आ जाती है, तथा ये खाद्य पदार्थ पाचन क्रिया को निष्क्रिय कर देते है।

निम्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में वसा की मात्रा अधिक पाई जाती है जैसे,- मक्खन, दूध, पनीर, और खट्टा क्रीम जैसे पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पाद, सूअर का मांस, मिठाई या आलू क्रीम जैसे आइसक्रीम और आलू चिप्स, क्रीम सॉस,और मलाई, सलाद, आदि।

खट्टे फल और टमाटर –  फल और सब्जियां  स्वस्थ के लिए लाभदायक होने के साथ साथ इनका अधिक सेवन स्वस्थ पर बुरा प्रभाव डालता है। खट्टे फलों और टमाटरों के अधिक सेवन से GERD या  एसिड रिफ्लक्स का कारण हो सकता है। (और पढ़े – टमाटर के फायदे और नुकसान…)

चॉकलेट – चॉकलेट में मिथाइलक्सैंथिन नामक एक घटक होता है जो एलईएस को प्रभावित करने और एसिड रिफ्लक्स बढ़ाने में मदद करता है। (और पढ़े – क्या आप जानते हैं चॉकलेट खाने के फायदे और नुकसान के बारे में…)

लहसुन, प्याज, और मसालेदार भोजन – इस तरह के भोजन और खाद्य पदार्थ हार्टबर्न के लक्षणों को बढ़ाने में सहायक होते हैं , लेकिन एसिड रिफ्लक्स के लिए कम उत्तरदायी है । 

इसके अलावा अन्य खाद्य पदार्थ भी है जो एसिड रिफ्लक्स रोग के लिए उत्तरदायी है

धूम्रपान, पुदीना, शराब, कार्बोनेटेड पेय, कॉफी, या चाय जैसे कुछ पेय पदार्थ इत्यादि।

एसिड रिफ्लक्स के घरेलू उपचार – Home Remedies for Acid Reflux  in Hindi

एसे बहुत से प्राकृतिक घरेलू उपचार है जिन्हें अपनाकर एसिड भाटा (Acid Reflux ) की  समस्या से बचा जा सकता है अब हम यहाँ कुछ एसे प्राकृतिक घरेलू उपचारों के बारे में जानेगें जिनको अपनाकर आप एसिड रिफ्लक्स से बच सकते है।

  1. बेकिंग सोडा एसिड रिफ्लक्स का घरेलू उपाय है – Baking Soda for Acid Reflux Home Remedies  in Hindi
  2. एसिड भाटा के लिए घर उपचार है मीठे फलों का सेवन – Non Citrus Fruits For Acid Reflux in Hindi
  3. एसिड भाटा रोग का उपचार है च्यूइंग गम –  Chew Gum For Acid Reflux  in Hindi
  4. अदरक वाली चाय से एसिड रिफ्लक्स का उपचार – Ginger Tea For Acid Reflux  in Hindi
  5. एसिड रिफ्लक्स क्योर है खाने के बाद तुरंत न लेटे – Don’t Lie Down After Eating in Hindi
  6. सरसों से एसिड रिफ्लक्स का ट्रीटमेंट  – Mustard For Acid Reflux Treatment in Hindii
  7. कैमोमाइल चाय से एसिड रिफ्लक्स ट्रीटमेंट – Chamomile Tea  For Acid Reflux  Home Remedies in Hindi

बेकिंग सोडा एसिड रिफ्लक्स का घरेलू उपाय है – Baking Soda for Acid Reflux Home Remedies  in Hindi

बेकिंग सोडा एसिड रिफ्लक्स का घरेलू उपाय है – Baking Soda for Acid Reflux Home Remedies  in Hindi

बेकिंग सोडा (Baking Soda) एक क्षार है जो एसिड को निष्क्रिय करने का काम करता है । एसिड भाटा की समस्या होने पर रोज खाने के बाद एक चम्मच बेकिंग सोडा को पानी में घोलकर पीना चाहिए, जिससे एसिड रिफ्लेक्स से राहत मिलती है ।

(और पढ़े – बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा में अंतर…)

एसिड भाटा के लिए घर उपचार है मीठे फलों का सेवन – Non Citrus Fruits For Acid Reflux in Hindi

एसिड भाटा के लिए घर उपचार है मीठे फलों का सेवन – Non Citrus Fruits For Acid Reflux in Hindi

Acid Reflux (एसिड रिफ्लेक्स) के उपचार में सभी फलों में से केले का उपयोग करना बहुत लाभकारी है क्योंकि केले में वे एन्टा एसिड पायें जाते है, जो एसिड रिफ्लेक्स को कम करने में मदद करते है। इसके अतिरिक्त सेब और तरबूज भी एसिड रिफ्लेक्स को कम करने में मदद करते है। संतरे, अंगूर और अनानास जैसे खट्टे फलों का सेवन एसिड रिफ्लेक्स की समस्या को बढ़ाते है।

(और पढ़े – तरबूज खाने के फायदे और स्वास्थ्य लाभ जो अभी तक आपने नहीं सुने होंगे…)

एसिड भाटा रोग का उपचार है च्यूइंग गम –  Chew Gum For Acid Reflux  in Hindi

एसिड भाटा रोग का उपचार है च्यूइंग गम -  Chew Gum For Acid Reflux  in Hindi

जर्नल ऑफ डेंटल रिसर्च ने अध्ययन कर यह बताया कि  भोजन करने के ३० मिनिट बाद चीनी मुक्त (Sugar free) च्यूइंग गम चबाने से एसिड रिफ्लेक्स से राहत मिलती है। च्यूइंग गम चबाने से मुँह में लार की मात्रा बढ़ जाती है, जो एसिड को निष्क्रिय करने का काम करती है

(और पढ़े – दाँतों की देखभाल कैसे करे…)

अदरक वाली चाय से एसिड रिफ्लक्स का उपचार – Ginger Tea For Acid Reflux  in Hindi

अदरक वाली चाय से एसिड रिफ्लक्स का उपचार – Ginger Tea For Acid Reflux  in Hindi

अदरक वाली चाय एसिड रिफ्लेक्स की समस्या को कम करने का अच्छा साधन है भोजन के ३० मिनिट बाद अदरक वाली चाय पीने से एसिड रिफ्लेक्स से राहत मिलती है।

(और पढ़े – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग और नुकसान…)

एसिड रिफ्लक्स क्योर है खाने के बाद तुरंत न लेटे – Don’t Lie Down After Eating in Hindi

एसिड रिफ्लक्स क्योर है खाने के बाद तुरंत न लेटे – Don’t Lie Down After Eating in Hindi

खाना खाने के बाद नीचे समतल जगह में लेटने से एसिड ऊपर आने लगता है, जिससे एसिड रिफ्लेक्स की समस्या होती है। अतः लेटते समय अपने सिर के नीचे उचां तकिया रखना चाहिये। और खाना खाने के तुरंत बाद नही सोना चाहिये।

सरसों से एसिड रिफ्लक्स का ट्रीटमेंट  – Mustard For Acid Reflux Treatment in Hindi

सरसों से एसिड रिफ्लक्स का ट्रीटमेंट  - Mustard For Acid Reflux Treatment in Hindi

सरसों में क्षारीय पदार्थ की मात्र आधिक होती है जो एसिड रिफ्लेक्स या गैस्ट्रोसोफेजियल रिफ्लक्स (GERD) के कारण उत्पन्य हुए एसिड को निष्क्रिय करती है  जिससे एसिड भाटा की समस्या से बचा जा सकता है।

(और पढ़े – सरसों के बीज के फायदे और स्वास्थ्य लाभ…)

कैमोमाइल चाय से एसिड रिफ्लक्स ट्रीटमेंट – Chamomile Tea  For Acid Reflux  Home Remedies in Hindi

कैमोमाइल चाय से एसिड रिफ्लक्स ट्रीटमेंट - Chamomile Tea  For Acid Reflux  Home Remedies in Hindi

पेट में एसिड की मात्र को संतुलित करने के लिए रात में सोने के ३० मिनिट पहले एक कप कैमोमाइल चाय पीना चाहिये जिससे एसिड भाटा (Acid Reflux ) की समस्या से राहत मिलती है , कैमोमाइल तनाव को दूर करने में भी मदद करता है।

(और पढ़े – गले की खराश को ठीक करने के घरेलू उपाय)

एसिड रिफ्लक्स (एसिड भाटा) से वाचाव के उपाय – Acid Reflux Prevention in Hindi

एसिड रिफ्लक्स से वाचाव के उपाय - Acid Reflux Prevention in Hindi

एसिड रिफ्लक्स की समस्या से बचने के लिए निम्नलिखित घरेलू उपचार अपनाये जा सकते है।

  • धूम्रपान न करे।
  • दिन के समय कम एवं हल्का भोजन खाएं।
  • सोने के २ से ३ घंटे पहले भोजन खाएं।
  • अपने बिस्तर के सिर के नीचे  ४ इंच से ६ इंच उचां तकिया रखें।
  • अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त व्यक्ति व्यायाम करें और आहार में परिवर्तन करें।
  • डॉक्टर की सलाह से हार्टबर्न या एसिड भाटा रोग निदान के लिए दवा लें।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration