पुदीना के फायदे  गुण लाभ और नुकसान – Mint (Pudina) benefits and side effects in hindi

पुदीना के फायदे  गुण लाभ और नुकसान – Mint (Pudina) benefits and side effects in hindi
Written by Pratistha

pudina benefits in hindi Mint जिसे भारत में पुदीना के नाम से जाना जाता है, एक औषधीय जड़ी बूटी है जिसके अनेक फायदे हैं यह पाचन तंत्र में सुधार करना और वजन घटाना, मतली (जी मचलना), डिप्रेशन, थकान और सिरदर्द आदि में आराम प्रदान करने में सहायता करता है। इसके अलावा भी पुदीना की पत्तियों के फायदे व स्वास्थ्य लाभ अनेक है, जैसे कि अस्थमा, स्मरण शक्ति की क्षति और त्वचा की देखभाल संबंधित कई परेशानियों से निजात दिलाने में अहम भूमिका निभाता है। आज के लेख में आप पुदीना के फायदे और पुदीना के नुकसान और पुदीना की चाय बनाने की विधि के बारें में जानेगे।

पुदीना का वैज्ञानिक नाम मेन्था है, इसका इस्तेमाल मुँह और सांसों की बदबू को दूर करने के लिए भी किया जाता है। पुदीना की वैज्ञानिक तौर पर 24 से ज्यादा नस्ल व 100 से अधिक प्रजातियों के होने की पुष्टि हो चुकी है। इस जड़ी बूटी का उपयोग सैकड़ों वर्षों पूर्व से इसके औषधीय गुणों के लिए किया जाता रहा है। मार्केट में दन्त मंजन (toothpastes), चुइंग गम्स, सांस फ्रेशनर (breath fresheners), कैंडीज और इनहेलर जैसे अनेको प्रोडक्ट्स की भरमार है, जिसमे पुदीना (mint) मूल तत्व के रूप में मौजूद होता हैं।

पुदीना के फायदे व स्वास्थ्य लाभ – Mint Leaves Benefits in hindi

अधिकतर लोग पुदीना के फायदे व औषधीय गुणों से अच्छी तरह से परिचित हैं, लेकिन इसमें कौन-कौन से विशिष्ट तत्वों का समावेस है इसकी जानकारी उन्हें नहीं होती आइये जानते है पुदीना की पत्तियों में पाए जाने वाले पोषक तत्व और फायदे व सवास्थ्य लाभ के बारे में

पुदीना में पाये जाने वाले पोषक तत्व – Nutrients found in peppermint in hindi

सामान्य तौर पर पुदीना में भारी मात्रा में पोषक तत्वों का भंडार समाहित रहता है जिसका पूर्ण इस्तेमाल हम नहीं कर पाते।

पुदीना में, एक तिहाई कप या आधे औंस (14 ग्राम) में पोषक तत्व इस अनुपात में शामिल होते है:

  • कैलोरी: 6
  • फाइबर: 1 ग्राम
  • विटामिन ए: आरडीआई का 12%
  • आयरन: आरडीआई का 9%
  • मैंगनीज: आरडीआई का 8%
  • फोलेट: आरडीआई का 4%

पुदीना को अक्सर भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए हल्की मात्रा में उपयोग में लाया जाता है. इसके अलावा पुदीना को एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) व विटामिन A का एक उचित स्रोत के रूप में परिभाषित किया गया है, जिसके इस्तेमाल से आंखों की रौशनी को बरकरार व नाइट विजन जैसी समस्याओ से छुटकारा दिलाता है. पुदीना में पाया जाने वाला एंटीऑक्सिडेंट, ऑक्सीडेटिव तनाव से हमारे शरीर की सुरक्षा में सहायता करते हैं
यद्यपि इसकी बड़ी मात्रा में आम तौर पर खपत नहीं होती है, पुदीना में कई पोषक तत्वों की उचित मात्रा होती है और विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट्स का अच्छा स्रोत होता है।

पुदीना के फायदे – Pudina ke fayde in hindi

पुदीना के फायदे – Pudina ke fayde in hindi

पुदीना के फायदे पाचन तंत्र में – pudina ke fayde for digestion in hindi

मेंथा पाचन प्रणाली (Digestive system) को शक्तिशाली बनाने में मदद करता है, जिससे कि पाचन के सभी कार्य ठीक प्रकार से हो सके, क्योंकि यदि आपकी पाचन शक्ति दुरुस्त नहीं होगी तो भोजन पचाने में आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. जैसे अपच व पेट ख़राब होना आदि।

जब आपका पेट खराब हो रहा हो तो एक कप पुदीने की चाय पीने से आपको राहत मिल सकती है पुदीना की खुशबू आपके मुंह में लार ग्रंथियों को सक्रिय करती है, साथ ही साथ ग्रंथियों जो पाचन एंजाइम को निकलने का कार्य करती है को प्रेरित करती है, जिससे पाचन में सुविधा मिलती है।

पुदीना की सुगंध आपके मुंह में लार ग्रंथियों को सक्रिय करती है, जिसके संपर्क में आने से मुंह में लार और पाचन एंजाइमों का बनाना शुरू हो जाता है. इन्ही विशिष्ट गुण के कारण पुदीना को बड़े पैमाने पर इस्तेमाल में लाया जाता  है।

पुदीना के फायदे लीवर को बनाए मजबूत – Mint benefits for liver in hindi

हमे पुदीना में उपस्थित पोषक तत्वों का आभार व्यक्त करना चाहिए की जब आपका लीवर धीरे- धीरे अपना कार्य उचित प्रकार से नहीं कर पाता. जिससे आपके चेहरे पर मायूसी छा जाती है और इन सभी परिस्थति से निपटने में पुदीना का उपयोग सराहनीय होता है।

(और पढ़े – लीवर को साफ करने के लिए खाएं ये चीजें)

पुदीना के फायदे मेमोरी लोस को रोकता है – Peppermint prevent for memory loss in hindi

एक ताजा रिसर्च के मुताबिक, पुदीना को जागरूकता, धारण शक्ति और संज्ञानात्मक क्रिया के प्रभावो को बढ़ाते हुए देखा गया है। जिसके अनुसार विशेषज्ञ इस नतीजे पर पहुचे है की जो शख्स च्यूइंग गम का सेवन करते है, जिसमें प्रमुख सक्रिय संघटक पुदीना होता है, उनमें उच्च स्तर की धारन करने की शक्ति और उन लोगों की तुलना में दिमागी सतर्कता ज्यादा थी जो ऐसा नहीं करते थे।

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि पेपरमिंट तेल की सुगंध में स्मृति और सतर्कता बढ़ सकती है, जबकि अन्य अध्ययनों में कोई प्रभाव नहीं दिखाई देता है। मस्तिष्क फंक्शन में पुदीना के प्रभाव को और अधिक समझने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है।

पुदीना के फायदे वजन घटाने में – Peppermint for weight loss in hindi

Mint अन्य लाभों की तरह ही वजन घटाने में भी आपकी मदद करता है, पुदीना एक तरह का प्रेरक पदार्थ है जो भिन्न-भिन्न प्रकार के पाचन एंजाइमों को प्रेरित करता है जो आपके खाने में मौजूद पोषक तत्व को अवशोषित करते है, साथ ही वसा के रूप में एकत्रित चरबी को इस्तेमाल करने योग्य ऊर्जा में बदलते हैं। इसलिए, आप वजन कम करने के लिए आहार में पुदीना शामिल करले जिससे आप अतिरिक्त चर्बी को जमने से रोक पायेगे।

पुदीना के पत्ते के फायदे दांत और मुख स्वास्थ में – Pudina ke fayde for oral health in hindi

अपने दांत की देखभाल करने में पुदीना आपकी मदद कर सकता है  आपको लगता है कि टूथपेस्ट मिन्टी क्यों होता है? ऐसा इसलिए है क्योंकि पुदीना के पत्तों के स्वास्थ्य लाभों में से एक यह है कि वे दांत की स्वच्छता के लिए अच्छे हैं सबसे पहले, पुदीना आपकी सांस को ताज़ा करती है जो इसकी विशेषता है। पुदीना भी रोगाणुओ से रक्षा करता है पुदीना मुंह में बैक्टीरिया के विकास को रोकता है और दांतों और जीभ को साफ करता है

(और पढ़े – जीभ पर जमी सफेद परत को साफ करने के घरेलू उपाय)

पुदीना के फायदे कैंसर से बचाते है – Mint benefits for prevent cancer in hindi

कैंसर से बचने में पुदीना हेल्प करता है क्योकि पौष्टिक पौधों की तरह, पुदीने में कैंसर से लड़ने वाली शक्तियां मोजूद होती हैं पुदीना के पत्तों का यह स्वास्थ्य लाभ संभवतः विभिन्न प्रकार के एंजाइमों के कारण होता है जो पुदीना में होता है।

पुदीने के तेल के फायदे दर्द दूर करने में – Mint leaves for pain in hindi

कई प्रकार के दर्द वाले बाम पुदीना के अर्क को अपने उत्पादों में मुख्य घटक के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इसका कारण यह है कि जब उस क्षेत्र में पुदीना से निकालने वाले पदार्थ का उपयोग किया जाता है जहाँ चोट लगी हो या दर्द हो रहा हो, तो यह तुरंत एक ठंडा प्रभाव प्रदान करता है। यह दर्द कम करने में मदद करता है एक और तरीका है पुदीने से निकालने वाली वाष्प को श्वास के द्वारा लेना (inhale the fumes of mint extract)। यह तंत्रिकाओं को शांत करता है और पूरे शरीर को एक आराम महसूस करता है। यह अप्रत्यक्ष रूप से दर्द और सिरदर्द से जुड़ी मितली को दूर करता है।

पुदीना की पत्तियों के फायदे मुँहासे दूर करने में – Mint leaves for acne in hindi

Mint में एक अनूठी प्रॉपर्टी होती है जो खुजली और संक्रमित त्वचा को ठीक करती है। इसमें एंटी इन्फ्लामेंट्री और एंटी बैक्टीरियल गुण होते है जो मुँहासे के कारण त्वचा पर बने गड्डो को हटाने में मदद करता है, और अक्सर कई cleansers, toners और कुछ होंठ बाम में भी प्रयोग किया जाता है। टकसाल के पत्तों में मौजूद मजबूत एंटीऑक्सिडेंट त्वचा को प्राकृतिक चमक देते हैं और सुस्त और सूखी त्वचा को फिर से नई बनाते हैं। पुदीना में salicylic acid की एक उच्च सामग्री होती है जो कि मुंहसो को रोकने में मदद करती है और ब्लैकहैड्स से छुटकारा पाने में भी मदद करती है।

पुदीना की चाय खांसी और सर्दी को दूर करने में – Mint Helps relieve cough and cold in hindi

मिंट की एक बहुत मजबूत गंध जो नाक के मार्गों और वायुमार्ग को खोलने के लिए आराम से श्वास लेने की अनुमति देता है। यह कफ को निकलने में मदद करता है, जब आप खांसी से पीड़ित होते हैं तब इसकी एंटी बैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लामेंट्री गुण श्वसन तंत्र के साथ सूजन को दूर करने में मदद करते हैं। यदि आप खांसी से पीड़ित हैं, तो पुदीना की पत्ती के रस को गर्म पानी में जोड़ें और मुंह के माध्यम से भाप को श्वास से लें और अपने नाक से भाप को बापिस करें। इस तरह पुदीना दोनों गले और नाक से गुजरता है जिससे दोनों क्षेत्रों में राहत मिलती है।

(और पढ़े –खांसी का घरेलू उपचार, ड्राई कफ हो या वेट कफ)

पुदीना के फायदे मासिक धर्म में ऐंठन और दर्द को दूर करने में – Mint for menstrual cramps and pain in hindi

चूंकि पुदीना के पत्ते खून को शुद्ध करते हैं और हमारे शरीर की शांत मांसपेशियों पर anti-spasmodic effect पड़ता है, इसलिए मासिक धर्म के ऐंठन के दर्द को दूर करने के लिए यह एक बहुत अच्छा उपाय है। यह स्थिति के साथ जुड़े मतली को भी राहत देता है। बस पुदीना की चाय के एक गर्म कप या काढ़ा बना लें और दिन में  कई बार घूंट घूंट पीती रहें । इससे आप अपने गर्भाशय को भी शांत कर सकेंगे।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार)

पुदीना के फायदे गर्भवती महिलाओं में – Pudina benefits for pregnant women in hindi

इसके पेट पर होने वाले प्रभावों के कारण, यह गर्भवती महिलाओं के लिए एक अच्छा उपाय है। यह पाचन के लिए आवश्यक एंजाइम को सक्रिय करके सुबह की बीमारी (morning sickness) से संबंधित मतली को दूर करने में मदद करता है। कुछ पत्तों को खाने या हर सुबह पुदीना के कुचले पत्ते की महक इस मुश्किल से उबरने के लिए एक बढ़िया तरीका है। हालांकि, गर्भवती महिलाओं को इसके इस्तेमाल में सावधान रहना चाहिए बच्चा पैदा होने के बाद इसका उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह स्तनपान को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है।

(और पढ़े – गर्भावस्था के दौरान उल्टी रोकने के घरेलू उपाय)

पुदीना के फायदे प्रिरोधक क्षमता बढ़ाने में – Mint leaves Boosts immunity in hindi

इसके पत्ते कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन सी, डी, ई और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की थोड़ी मात्रा जैसे पोषक तत्वों पाये जाते हैं। इन सभी यौगिकों एक साथ शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करते है,  जिससे शरीर को संक्रमण और सूजन से सुरक्षित रखा जाता है।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

पुदीने की चाय के फायदे तनाव दूर करने में – Peppermint tea for stress in hindi

तनाव और चिंता से राहत पाने के लिए, पेपरमिंट चाय सर्वश्रेष्ठ सहयोगियों में से एक है। जड़ी-बूटियों में मौजूद मेन्थॉल मांसपेशियों में आराम करने वाला है और प्रकृति में एंटीस्पास्मोडिक है, पुदीने की चाय का सेवन कर आप मानसिक तनाव से आराम पा सकते हैं।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय)

पुदीना का उपयोग कसे करें – How to use Mint in hindi

आप आसानी से पुदीना को हरी सलाद, डेजर्ट, चिकन और यहां तक ​​कि पानी में जोड़ सकते हैं। पेपरमिंट चाय एक और लोकप्रिय तरीका है जिसे आप अपने आहार में शामिल कर सकते है। आप पुदीना का उपयोग इस तरह से भी कर सकते है।

  • ताजा या सूखे पत्ते खाना: खराब सांस का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है
  • आवश्यक तेलों का इस्तेमाल: मस्तिष्क समारोह और ठंड के लक्षणों में सुधार हो सकता है।
  • इसे त्वचा पर लगाना: स्तनपान कराने से निपल दर्द को कम करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • भोजन के साथ कैप्सूल लेना: आईबीएस और अपच का इलाज करने में मदद करें।

पुदीना की चाय बनाने की विधि – How to Make Peppermint Tea in hindi

पेपरमिंट चाय के बारे में सबसे अचछी बात यह है कि आप इसे घर पर बना सकते है यहां बताया गया है कि आप पुदीना की चाय कैसे बना सकते हैं-

  • एक पैन में कम से कम दो कप पानी उबालेंकुछ पुदीने की पत्तियों को ले और उन्हें तोड़ ले।
  • पत्तियों को कितनी ताकतवर चाय चाहिये, इसके आधार पर कप में मिलाएं।
  • कुछ मिनट के लिए पानी उबाल लें। बर्नर बंद करने के तुरंत बाद पानी को छाने नहीं।
  • पानी में पुदीने के रस को सोखने के लिए थोड़ी देर छोड़ दें।
  • अब इसे एक कप या मग में डाले यदि आप अपनी चाय में कुछ और स्वाद जोड़ना चाहते हैं, तो आप इसमें शहद डाल सकते हैं।
  • याद रखें, चाय बनाने के बाद ही आपको शहद जोड़ना चाहिए, आपको शहद को साथ में गर्म नहीं करना है
  • पेपरमिंट चाय एक स्वास्थ्य टॉनिक है,  इसलिए इसका सेवन करें और रहें।

पुदीना के नुकसान – pudina ke nuksan in hindi

पुदीना के नुकसान – pudina ke nuksan in hindi

  • कई जड़ी-बूटियों की तरह, पुदीना का भी कुछ लोगों पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है
  • यदि आपको गैस्ट्रोएफेजील रिफ्लक्स रोग (astroesophageal reflux disease) से संबंधित कई बीमारी हैं, तो पाचन समस्या को शांत करने के प्रयास में पुदीने का उपयोग न करें। यह लक्षणों को और खराब कर सकता है
  • पेपरमिंट ऑयल अगर बड़ी मात्रा में लिया जाता है, तो नुकसानदायक हो सकता है।
  • एक शिशु या छोटे बच्चे के चेहरे पर पेपरमिंट ऑयल न लगायें, क्योंकि यह श्वास को रोक सकता है।
  • पित्त की पथरी होने पर पुदीना उत्पादों के साथ सावधानी बरतें।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration