जड़ीबूटी

अश्वगंधा के फायदे, उपयोग और नुकसान – Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

अश्वगंधा के फायदे, उपयोग और नुकसान – Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

अश्वगंधा एक प्राचीन औषधीय जड़ी बूटी है। अश्वगंधा के बहुत सारे फायदे (Ashwagandha Benefits in Hindi) होते हैं यह बात तो आपने यकीनन सुनी होगी, लेकिन अश्वगंधा के नुकसान (Ashwagandha Side Effects in Hindi) भी होते हैं क्या आपने यह सुना है? आज हम आपको अश्वगंधा के फायदे, उपयोग और नुकसान (Ashwagandha ke fayde aur Nuksan) से जुड़ी सभी जानकारी देने जा रहे हैं। अश्वगंधा, जिसे भारतीय जिनसेंग के रूप में भी जाना जाता है, में स्वास्थ्य लाभ की एक विस्तृत श्रृंखला मौजूद है, अश्वगंधा के फायदों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने, कैंसर से लड़ने, तनाव और चिंता को कम करने और पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने की क्षमता शामिल है।

यह गठिया, अस्थमा और उच्च रक्तचाप को रोकने में भी मदद करती है। इसके अलावा, अश्वगंधा एंटीऑक्सिडेंट की आपूर्ति करती है और प्रतिरक्षा प्रणाली को नियंत्रित करती है। इससे ज्यादा और क्या है जो इसे एक रामबाण औषधी बनाता है? इसमें जीवाणुरोधी (antibacterial) और रोगरोधी (anticonvulsant) गुण भी होते हैं। अब आप सोच रहे होगें कि अश्वगंधा क्या है, तो हम आपको बताते हैं, अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक औषधि है, जो कई बीमारियों, शारीरिक समस्याओं, विकार और रोग को ठीक करने की क्षमता रखती है। इस लेख में हम आपको अश्वगंधा के फायदे और नुकसान के साथ अश्वगंधा के इस्तेमाल से जुड़ी हर जानकारी देने वाले हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें। अश्वगंधा क्या है जानने से पहले उससे जुड़े कुछ इंटरेस्टिंग फैक्ट्स को जान लेतें हैं।

अश्वगंधा से जुड़े मजेदार तथ्य – Ashwagandha Quick Fun Facts in Hindi

अश्वगंधा से जुड़े मजेदार तथ्य - Ashwagandha Quick Fun Facts in Hindi

  • संस्कृत में, इसे अश्वगंधा के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है घोड़े की गंध। इसका नाम घोड़े के पसीने की गंध के कारण रखा गया है जो इसकी जड़ों से निकलती निकलती है।
  • अश्वगंधा का पौधा भारत में उत्पन्न हुआ है और यह सूखे क्षेत्रों में सबसे अच्छा बढ़ता है।
  • यह एक मजबूत पौधा है जो 40 ° C से लेकर 10 ° C तक, बहुत उच्च और निम्न तापमान में भी जीवित रह सकता है।
  • यह समुद्र तल से 1500 मीटर की ऊंचाई तक में होता है।
  • अश्वगंधा का ओरिएंटल मेडिकल स्कूलों में बहुत महत्व रहा है, विशेष रूप से कई सदियों से आयुर्वेद की प्राचीन चिकित्सा पद्धति में।
  • कई तरह के संक्रमणों को दूर रखने के प्रयास में इसे मूल अमेरिकियों और अफ्रीकी लोगों द्वारा भी इस्तेमाल किया गया था।
  • इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल व एंटी स्ट्रेस एजेंट और इम्यून सिस्टम को बेहतर करने वाले गुण मौजूद हैं।

आइए, सबसे पहले यह जान लेते हैं कि अश्वगंधा किसे कहते हैं। इसके बाद हम आपको अश्वगंधा के फायदे के बारे में बताएंगे।

अश्वगंधा (भारतीय जिनसेंग) क्या है? – What is Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा (भारतीय जिनसेंग) क्या है? - What is Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा (वैज्ञानिक नाम Withania somnifera) एक औषधीय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग भारतीय आयुर्वेदिक और चीनी चिकित्सा में हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। यह एक एडाप्टोजेन है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर के तनाव को कम करने में मदद करने की क्षमता रखती है। यह सोलानेसी परिवार से संबंधित है और इसे आम बोलचाल की भाषा में अश्वगंधा के साथ-साथ इंडियन जिनसेंग और इंडियन विंटर चेरी भी कहा जाता है।

कई शताब्दियों से अनेक रोगों के उपचार के लिए अश्वगंधा के उपयोग से आधुनिक चिकित्सा विज्ञान की जिज्ञासा इसमें पैदा हुई है, जिससे पौधे के औषधीय गुणों की जांच में रुचि पैदा हुई है। प्रारंभिक अध्ययनों ने इसमें संभावित चिकित्सीय क्षमताओं की उपस्थिति का संकेत दिया और इन रिसर्च ने पौधे के रासायनिक घटकों को कोई विषाक्तता नहीं दिखाई। [1]

2011 में जर्नल ऑफ स्ट्रेस फिजियोलॉजी एंड बायोकैमिस्ट्री में प्रकाशित प्लांट पर एक वैज्ञानिक रिपोर्ट बताती है कि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडाइजिंग, एंटी-स्ट्रेस, नींद लाने वाला और ड्रग विदड्रॉल गुण हैं। [2] कई जड़ी-बूटियाँ जो इस जड़ी बूटी से बनाई जाती हैं, गठिया और गठिया जैसे मस्कुलोस्केलेटल समस्याओं में सुधार करती हैं। यह एक आयुर्वेदिक टॉनिक के रूप में भी काम करती है जो ऊर्जा को बढ़ाती है और समग्र स्वास्थ्य और दीर्घायु में सुधार करती है।

जापान में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस इंडस्ट्रियल साइंस एंड टेक्नोलॉजी में किए गए शोध में बताया गया है कि अश्वगंधा की पत्तियां चुनिंदा रूप से कैंसर कोशिकाओं को रोक सकती हैं। [3] अब तो आप समझ गए होगें कि यह जड़ी बूटी इतनी लोकप्रिय क्यों है और हर कोई इसके बारे में क्यों जानना चाहता है?

आइए हम इसके फायदों पर चर्चा करते हैं। हम विस्तार से अश्वगंधा के एक-एक फायदे पर एक नजर डाल लेते हैं। इसके बाद अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग कैसे करें, यह भी हम आपको इस लेख में बतायेंगें।

अश्वगंधा के पौष्टिक तत्व – Ashwagandha Nutritional Value in Hindi

अश्वगंधा के फायदे इसमें मौजूद पोषक तत्वों के कारण ही होते हैं तो अश्वगंधा के फायदे जानने से पहले हम इसके पौष्टिक तत्व को जान लेतें हैं। 100 ग्राम अश्वगंधा पाउडर में मौजूद विभिन्न पोषक तत्व कितनी मात्रा में पाए जाते है, वो हम आपको नीचे टेबल में बता रहे हैं।

पोषक तत्व अश्वगंधा पाउडर (प्रति 100 ग्राम)
मॉइस्चर 7.45%
ऐश (राख) 4.41 ग्राम
प्रोटीन 3.9 ग्राम
फैट 0.3 ग्राम
क्रूड फाइबर 32.3 ग्राम
ऊर्जा 245 Kcal
कार्बोहाइड्रेट 49.9 ग्राम
आयरन 3.3 मिलीग्राम
कैल्शियम 23 मिलीग्राम
विटामिन सी 3.7 मिलीग्राम

जिनसेंग या अश्वगंधा के पोषक तत्व जानने के बाद बाद अश्वगंधा के फायदे पर एक नजर डाल लेते हैं।

अश्वगंधा के फायदे – Benefits of Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा के फायदे – Benefits of Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा पूरे शरीर के लिए फायदेमंद होती है। इसका सही तरीके से सेवन करने पर मस्तिष्क की कार्यक्षमता बेहतर हो सकती हैं। अश्वगंधा का उपयोग इम्यूनिटी को बढ़ाने, पुरुषों में यौन क्षमता व प्रजनन क्षमता को बढ़ाने और तनाव को कम करने के लिए भी किया जा सकता है। इसके अलावा, अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो शरीर में फ्री रेडिकल्स को बनने से रोकने में मदद कर सकते हैं। जिससे एजिंग व अन्य बीमारियां दूर हो सकती हैं।

चलिए अब हम सेहत के लिए अश्वगंधा के फायदे क्या है यह जान लेतें हैं। इस लेख में आगे हम यह भी बताएंगे कि अश्वगंधा का सेवन की विधि क्या है।

अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ – Health Benefits of Ashwagandha in Hindi

जिनसेंग या अश्वगंधा के क्या फायदे हैं? अश्वगंधा के नियमित सेवन से विभिन्न स्वास्थ्य लाभ प्राप्त हो सकते हैं। आइए इन स्वास्थ्य लाभों को में विस्तार से जानें:

ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करती है

ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करती है

अश्वगंधा का उपयोग लंबे समय से आयुर्वेदिक चिकित्सा में मधुमेह (शुगर) के इलाज के लिए किया जाता रहा है। आयुर्वेदिक औषधि अश्वगंधा के जरिए डायबिटीज से भी बचा जा सकता है। कई अध्ययनों में, अश्वगंधा को रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए दिखाया गया है ।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ मॉलिक्यूलर साइंसेज में प्रकाशित एक शोध रिपोर्ट से पता चला है कि अश्वगंधा की जड़ों और पत्तियों में पाए जाने वाले फ्लेवोनोइड्स का उपयोग मधुमेह को ठीक करने के लिए किया जाता है। [4]

प्रयोग के हिस्से के रूप में, डायबिटिक चूहों को अश्वगंधा रूट (Ashwagandha roots) और पत्ती के अर्क (Ashwagandha plant Extracts) के साथ टेस्ट किया गया था।

इससे यह निष्कर्ष निकाला गया कि अश्वगंधा में एंटीडायबिटिक (antidiabetic) और एंटीहाइपरलिपिडेमिक (antihyperlipidemic) गुण होते हैं जो उपवास (फास्टिंग) और दोपहर के भोजन के बाद मधुमेह वाले चूहों में रक्त शर्करा के स्तर को काफी कम कर देते हैं जब उन्हें यह 4 सप्ताह या उससे अधिक समय तक तक के लिए अश्वगंधा दी जाती है।

एक टेस्ट-ट्यूब अध्ययन में पाया गया कि इससे इंसुलिन का स्राव बढ़ा और मांसपेशियों की कोशिकाओं में इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार हुआ।

इसके अलावा, कई मानव अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि यह स्वस्थ लोगों और मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है।

सबूत यह बताते हैं कि अश्वगंधा इंसुलिन स्राव और संवेदनशीलता पर इसके प्रभाव के माध्यम से रक्त शर्करा के स्तर को कम करती है।

(और पढ़े – मधुमेह को कम करने वाले आहार…)

अश्वगंधा के फायदे कैंसर रोकने में मदद करे

अश्वगंधा के फायदे कैंसर रोकने में मदद करे

कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी में बहुत असरकारी है अश्वगंधा का इस्तेमाल। यह आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी कैंसर जैसे प्राणघातक रोग के इलाज में मदद कर सकती है। यह कई तरीकों से नई कैंसर कोशिकाओं के विकास को भी बाधित करता है।

अल्टरनेटिव मेडिसिन रिव्यू में प्रकाशित एक शोध अध्ययन में, नेचुरोपैथिक डॉक्टर मैरी विंटर्स ने एंटी कैंसर गुणों के कारण अश्वगंधा को विकिरण चिकित्सा और कीमोथेरेपी के साथ मिलकर ऑन्कोलॉजी (कैंसर का अध्ययन) के एक उभरते नए विकल्प के रूप में वर्णित किया है। [5]

यह कैंसर के उपचार में इसलिए भी उपयोगी है क्योंकि यह ट्यूमर सेल को मारने की गतिविधि में हस्तक्षेप किए बिना कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए जानी जाती है।

(और पढ़े – क्या खाने से कैंसर का खतरा कम किया जा सकता है…)

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करती है

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करती है

अश्वगंधा की जड़, इसके एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों के साथ, हृदय के लिए फायदेमंद है। यह हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करती है और कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित कर सकती है। इस कारण यह ह्रदय से जुड़ी तमाम तरह की समस्याओं से बचाने में मदद कर सकती है।

वर्ल्ड जर्नल ऑफ मेडिकल साइंसेज में एरिज़ोना विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन से संकेत मिलता है कि इसमें हाइपोलिपिडेमिक (hypolipidemic) गुण होते हैं जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नीचे लाने में मदद करते हैं । [6]

(और पढ़े – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए भारतीय घरेलू उपाय और तरीके…)

अश्वगंधा के फायदे तनाव दूर करें

अश्वगंधा के फायदे तनाव दूर करें

कोर्टिसोल को एक तनाव हार्मोन के रूप में जाना जाता है, अश्वगंधा के अर्क को शरीर में कोर्टिसोल (cortisol) के स्तर को कम करने के लिए जाना जाता है और इस प्रकार इसमें तनाव को दूर करने वाले (एंटी-स्ट्रेस) गुण होते हैं। परंपरागत रूप से, यह एक व्यक्ति पर सुखदायक और शांत प्रभाव उत्पन्न करने के लिए जानी जाती है।

अधिक तनाव के कारण लोग न सिर्फ समय से पहले बूढ़े हो जा रहे हैं, बल्कि कई बीमारियों का शिकार भी हो रहे हैं।दु र्भाग्य से, कुछ मामलों में, कोर्टिसोल का स्तर लंबे समय तक बढ़ सकता है, जिससे उच्च रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है और पेट में वसा का भंडारण बढ़ सकता है।

अध्ययनों से पता चला है कि अश्वगंधा कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में मदद कर सकती है।

इंडियन जर्नल ऑफ क्लिनिकल बायोकैमिस्ट्री में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि अश्वगंधा के हर्बल अर्क के साथ इलाज किए गए प्रयोगशाला चूहों ने एक निष्क्रिय नियंत्रण समूह की तुलना में कई तनाव परीक्षणों का सामना डटकर किया, जो उनके साथ थे। [7]

चिंता को कम करती है अश्वगंधा

चिंता को कम करती है अश्वगंधा

अश्वगंधा का सेवन चिंता को कम करने में मदद करता है। भारत में, प्राकृतिक अश्वगंधा का उपयोग पारंपरिक रूप से आयुर्वेद में शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों में सुधार के लिए किया जाता है । इस दवा के प्रभाव, विशेष रूप से अवसाद पर, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, भारत में चिकित्सा विज्ञान संस्थान में अध्ययन किया गया। अध्ययन ने चिंता और अवसाद के संबंध में अश्वगंधा के लाभ का समर्थन किया। [8]

(और पढ़े – चिंता दूर करने के उपाय, तरीके और घरेलू नुस्खे…)

अवसाद के लक्षणों को कम कर सकती है

अवसाद के लक्षणों को कम कर सकती है

यद्यपि इसका पूरी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है, कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अश्वगंधा अवसाद को कम करने में मदद कर सकती है।

64 तनावग्रस्त वयस्कों में एक नियंत्रित 60-दिवसीय अध्ययन में, जिन्होंने प्रति दिन 600 मिलीग्राम अश्वगंधा अर्क लिया, ने गंभीर अवसाद में 79% की कमी की सूचना दी।

हालांकि, इस अध्ययन में प्रतिभागियों में से केवल एक अवसाद का इतिहास था। इस कारण से, परिणामों की प्रासंगिकता स्पष्ट नहीं है। इस तरह उपलब्ध सीमित शोध बताते हैं कि अश्वगंधा अवसाद को कम करने में मदद कर सकती है।

(और पढ़े – अवसाद दूर करने के प्राकृतिक उपाय…)

पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाती है अश्वगंधा

पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाती है अश्वगंधा

अश्वगंधा की खुराक टेस्टोस्टेरोन के स्तर और प्रजनन स्वास्थ्य पर शक्तिशाली प्रभाव डाल सकती है। टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के अलावा, अश्वगंधा वीर्य की गुणवत्ता में सुधार करने में भी मदद करती है।

कई पुरुषों में यौन इच्छा कम होती है साथ ही उनके वीर्य की गुणवत्ता भी अच्छी नहीं होती। इस कारण कई बार उन्हें संतान सुख से वंचित रहना पड़ता है। इस तरह की परेशानियों में अश्वगंधा पुरुषों में यौन क्षमता को बेहतर और वीर्य की गुणवत्ता में सुधार कर सकती है।

अमेरिकन सेंटर फॉर रिप्रोडक्टिव मेडिसिन द्वारा प्रकाशित 2010 के एक वैज्ञानिक अध्ययन ने संकेत दिया कि अश्वगंधा एक कामोद्दीपक (aphrodisiac) के साथ-साथ शुक्राणुओं की संख्या (sperm count) और शुक्राणु की गतिशीलता (sperm mobility) में वृद्धि करके वीर्य की गुणवत्ता (semen quality) में सुधार करने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। [9]

यही कारण है कि, कई शताब्दियों से, लोग बिस्तर में अपने साथी को खुश करने के लिए दवा के रूप में अश्वगंधा का उपयोग करते रहे हैं।

अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है और पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता और प्रजनन क्षमता को काफी बढ़ाती है।

(और पढ़े – सुपर फूड्स जो स्पर्म काउंट (शुक्राणुओं की संख्या) बढ़ाते…)

अश्वगंधा पाउडर के फायदे मांसपेशियों की वृद्धि में मदद करें

अश्वगंधा पाउडर के फायदे मांसपेशियों की वृद्धि में मदद करें

जिनसेंग या अश्वगंधा को मांसपेशियों में वृद्धि, शरीर में वसा को कम करने और पुरुषों में ताकत बढ़ाने के लिए दिखाया गया है।

अश्वगंधा को निचले अंगों की मांसपेशियों की ताकत में सुधार करने और कमजोरी को ठीक करने में मदद करने के लिए उपयोगी पाया गया है। यह न्यूरो-पेशी (neuro-muscular) समन्वय पर भी सकारात्मक प्रभाव डालती है।

अनुसंधान से पता चला है कि अश्वगंधा शरीर की संरचना में सुधार कर सकता है और ताकत बढ़ा सकती है।

(और पढ़े – दुबलापन मिटाने और वजन बढ़ाने के लिय वरदान है अश्वगंधा और शतावरी…)

इरेक्टाइल डिसफंक्शन दूर करने में मदद करती है

इरेक्टाइल डिसफंक्शन दूर करने में मदद करती है

क्या आप स्तंभन दोष से पीड़ित? कामेच्छा और यौन स्वास्थ्य के लिए अश्वगंधा का सेवन एक पारंपरिक आयुर्वेद उपाय है, हालांकि, अश्वगंधा के इरेक्टाइल डिसफंक्शन वाले दावे का समर्थन करने वाले कई वैज्ञानिक अध्ययन नहीं हैं।

नोट: इसका केवल एक पेशेवर चिकित्सा सलाहकार की सिफारिश के तहत स्तंभन दोष (ईडी) के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन से बचने के लिए आहार और घरेलू उपचार…)

अश्वगंधा का उपयोग थायरॉइड ग्रंथि को उत्तेजित करता है

अश्वगंधा का उपयोग थायरॉइड ग्रंथि को उत्तेजित करता है

हमारे गले में मौजूद तितली के आकार की ग्रंथि होती है जिसे थायराइड ग्रंथि कहा जाता है यह शरीर के लिए जरूरी हार्मोंस का निर्माण करती है। जब ये हार्मोंस असंतुलित हो जाते हैं, तो कई तरह की परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है।

हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism) के मामलों में, अश्वगंधा का उपयोग थायरॉयड ग्रंथि को उत्तेजित करने के लिए किया जा सकता है। थायरॉयड ग्रंथि पर इसके प्रभाव पर जर्नल ऑफ फार्मेसी और फार्माकोलॉजी में प्रकाशित 2011 के एक अध्ययन से पता चला है कि यदि दैनिक आधार पर अश्वगंधा की जड़ का अर्क दिया जाता है, तो यह थायराइड हार्मोन के स्राव को बढ़ा सकता है। [10]

इस आधार पर कहा जा सकता है कि थायराइड के दौरान यदि आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह पर अश्वगंधा का सेवन किया जाये तो यह लाभकारी साबित हो सकता है।

(और पढ़े – थायराइड के लक्षण कारण व घरेलू उपचार…)

अश्वगंधा कैप्सूल के लाभ प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करे

अश्वगंधा कैप्सूल के लाभ प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करे

यह तो सभी जानते हैं कि अगर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होगी, तो विभिन्न प्रकार की बीमारियों का सामना करना आसान हो जाता है। अश्वगंधा आपके इम्युन सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करती है। इसलिए प्रतिरोधक क्षमता बेहतर करने के लिए भी अश्वगंधा का सेवन किया जा सकता है।

अध्ययनों से पता चला है कि अश्वगंधा के सेवन से इम्यून सिस्टम रिएक्टिविटी में वृद्धि हुयी और। [11] अश्वगंधा कैप्सूल (Ashwagandha capsules) लाल रक्त कोशिका, श्वेत रक्त कोशिका और प्लेटलेट की संख्या को बढ़ाने में भी मदद कर सकते हैं, जो बदले में प्रतिरक्षा क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं।

सूजन को कम कर सकती है

सूजन को कम कर सकती है

कई पशु अध्ययनों से पता चला है कि अश्वगंधा सूजन को कम करने में मदद करती है।

मनुष्यों के अध्ययन में पाया गया है कि यह प्राकृतिक कोशिकाओं की गतिविधि को बढ़ाती है, जो प्रतिरक्षा कोशिकाएं हैं जो संक्रमण से लड़ती हैं और आपको स्वस्थ रहने में मदद करती हैं। यह सूजन को कम करने के लिए भी जानी जाती है।

अश्वगंधा चूर्ण का सेवन रक्त उत्पादन बढ़ाने में

अश्वगंधा चूर्ण का सेवन रक्त उत्पादन बढ़ाने में

हेमटोपोइजिस (Hematopoiesis) नए रक्त के उत्पादन की प्रक्रिया है। अल्टरनेटिव मेडिसिन रिव्यू में प्रकाशित शोध के अनुसार, अश्वगंधा में हेमटोपोइएटिक गुण (hematopoietic properties) होते हैं। [12]

अध्ययन से पता चला है कि लाल रक्त कोशिका और श्वेत रक्त कोशिका की मात्रा उन चूहों में काफी बढ़ जाती है जिन्हें अश्वगंधा जड़ी-बूटी दी जाती थी। इसका मतलब है की इसका मनुष्य की लाल रक्त कोशिकाओं पर सकारात्मक प्रभाव हो सकता है, जिससे एनीमिया जैसी स्थितियों को रोकने में मदद मिल सकती है।

अश्वगंधा जड़ी-बूटी ऐंठन को रोकती है

जिनसेंग या अश्वगंधा प्राकृतिक हर्बल सूत्र और अर्क आयुर्वेदिक चिकित्सा में पेशी-स्फुरण के साथ बेहोशी और ऐंठन के लिए एक व्यापक रूप से इस्तेमाल किया गया उपाय है। इंडियन जर्नल ऑफ क्लिनिकल बायोकैमिस्ट्री में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में  भी इस अद्भुत पौधे में एंटीकॉन्वेलसेंट गुणों की उपस्थिति देखी गई। [13]

अश्वगंधा के फायदे आँखों के लिए

अश्वगंधा के फायदे आँखों के लिए

तेजी से लोग आंखों से जुड़ी बीमारियां का शिकार हो रहे हैं। जिसमे मोतियाबिंद जैसी बीमारियां प्रमुख हैं। अश्वगंधा का इस्तेमाल आपकी आंखो की रोशनी को बढ़ाने का काम करता है।

अश्वगंधा के एंटीऑक्सीडेंट और साइटोप्रोटेक्टिव (cytoprotective ) गुण मोतियाबिंद (cataract) से बचने में मदद करते हैं। अध्ययन में पाया गया है कि अश्वगंधा मोतियाबिंद के खिलाफ प्रभावशाली तरीके से काम कर सकती है।

अश्वगंधा में होते हैं एंटी इंफ्लेमेटरी गुण

जिनसेंग या अश्वगंधा को रुमेटोलोगिक (rheumatologic) गठिया से जुड़ी समस्याओं की एक किस्म से निपटने के लिए प्रभावी पाया गया है। जड़ी बूटी एक cyclooxygenase अवरोधक के रूप में कार्य करने के लिए जाना जाता है जो सूजन और दर्द को कम करता है। लॉस एंजिल्स कॉलेज ऑफ चिरोप्रैक्टर्स में किए गए शोध से पता चलता है कि अश्वगंधा जड़ी-बूटि में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इसके भीतर पाए जाने वाले एल्कलॉइड, सैपोनिन (saponins) और स्टेरॉइडल लैक्टोन (steroidal lactones) से प्राप्त होते हैं। [14]

अश्वगंधा में होते हैं जीवाणुरोधी गुण

अश्वगंधा संक्रमण से भी निपटने में मदद कर सकती है। आयुर्वेदिक चिकित्सा ग्रंथों के अनुसार, अश्वगंधा मनुष्यों में बैक्टीरिया के संक्रमण को नियंत्रित करने में प्रभावी है। अश्वगंधा में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं।

अल्टरनेटिव मेडिसिन रिव्यू में प्रकाशित 2011 के एक अध्ययन से पता चला है कि अश्वगंधा जड़ी बूटी में जीवाणुरोधी गुण होते हैं। [15] इस अध्ययन से यह भी निष्कर्ष निकाला है कि जब इसका सेवन मौखिक रूप से किया जाता है तब यह यूरिनोजेनिटल(urinogenital), गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (gastrointestinal) और श्वसन पथ के संक्रमण (respiratory tract infections) में प्रभावी थी।

स्मृति सहित मस्तिष्क के कामकाज  में सुधार कर सकती है

स्मृति सहित मस्तिष्क के कामकाज  में सुधार कर सकती है

टेस्ट-ट्यूब और जानवरों के अध्ययन से पता चलता है कि अश्वगंधा चोट या बीमारी के कारण होने वाली स्मृति और मस्तिष्क की समस्याओं को कम कर सकती है।

शोध से पता चला है कि यह एंटीऑक्सिडेंट को बढ़ावा देती है जो तंत्रिका कोशिकाओं को हानिकारक मुक्त कणों से बचाते हैं।

हालांकि अश्वगंधा का उपयोग पारंपरिक रूप से आयुर्वेदिक चिकित्सा में स्मृति को बढ़ाने के लिए किया गया है, इस क्षेत्र में केवल मानव अनुसंधान की एक छोटी मात्रा का आयोजन किया गया है।

50 वयस्कों में 8-सप्ताह के अध्ययन से पता चला है कि 300 मिलीग्राम अश्वगंधा की जड़ के अर्क को दिन में दो बार लेने से सामान्य याददाश्त, कार्य प्रदर्शन और ध्यान में सुधार होता है।

(और पढ़े – याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय, दवा और तरीके…)

अश्वगंधा के सेवन की मात्रा और विधि – Dosage and method of consumption of Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा की जड़ बाजार में सूखे पाउडर, या ताजा जड़ के रूप में उपलब्ध है।

1-2 चम्मच या 5-6 ग्राम अश्वगंधा पाउडर लेने की सिफारिश की जाती है जब आप सामान्य स्वास्थ्य के लिए इसका सेवन करते हैं।

चिंता दूर करने के लिए भी आप अश्वगंधा ले सकते हैं। आप सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध के साथ आर्गेनिक अश्वगंधा की जड़ के पाउडर का सेवन कर सकते हैं।

अश्वगंधा की खुराक प्रत्येक व्यक्ति की उम्र, सेहत व अन्य कारणों पर निर्भर करती है। हालांकि, जब आप किसी विशिष्ट बीमारी के इलाज के लिए यह जड़ी बूटी लेते हैं तो आपको खुराक के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक जैसे चिकित्सा पेशेवर से परामर्श अवश्य करना चाहिए।

अश्वगंधा चाय: आप 10 मिनट के लिए अश्वगंधा पाउडर को पानी में उबाल कर चाय बना सकते हैं । एक कप पानी में एक चम्मच से अधिक अश्वगंधा का उपयोग न करें।

जिनसेंग या अश्वगंधा का उपयोग कैसे करें और इसकी कितनी खुराक खाई जाए, यह तो आपने जान लिया है। अब आर्टिकल के अंतिम भाग में हम अश्वगंधा के नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

अश्वगंधा का उपयोग करने के साइड इफेक्ट्स – Side Effects of Using Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा का उपयोग करने के साइड इफेक्ट्स - Side Effects of Using Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा ज्यादातर लोगों के लिए एक सुरक्षित है, हालांकि इसके दीर्घकालिक प्रभाव अज्ञात हैं। हालांकि, कुछ व्यक्तियों को इसे नहीं लेना चाहिए, जिसमें गर्भवती और स्तनपान करने वाली महिलाएं शामिल हैं। आइये जानतें हैं अश्वगंधा के नुकसान क्या हैं और कैसे इनसे बचा जा सकता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए: गर्भवती महिलाओं को इस जड़ी बूटी के सेवन से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसमें गर्भनिरोधक गुण होते हैं।

चिकित्सकीय इंटरेक्ट: डॉक्टर अश्वगंधा के सेवन में सावधानी बरतने की सलाह देते हैं क्योंकि यह कुछदवाओं के साथ इंटरेक्ट कर सकती है, खासकर उन लोगों के लिए जो मधुमेह, उच्च रक्तचाप, चिंता, अवसाद और अनिद्रा जैसी बीमारियों से पीड़ित हैं।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं: अश्वगंधा को बड़ी मात्रा में सेवन से बचें, क्योंकि इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे दस्त, पेट खराब होना और मतली

इसके अतिरिक्त, अश्वगंधा लेते समय थायरॉयड रोग के लिए दवा लेने वालों को सावधान रहना चाहिए, क्योंकि यह कुछ लोगों में थायराइड हार्मोन का स्तर बढ़ा सकता है।

(और पढ़े – गर्भावस्था के समय क्या न खाएं…)

निष्कर्ष

आयुर्वेद ने हमें जड़ी बूटी के रूप में कई अनमोल उपहार दिए हैं और उन्हीं में से एक उपहार  है अश्वगंधा। अश्वगंधा एक प्राचीन औषधीय जड़ी बूटी है जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं।

आप कई तरह की बीमारियों से अपने आप को बचाने, शरीर में शक्ति बढ़ाने और वजन कम करने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

यह चिंता और तनाव को कम कर सकती है, अवसाद से लड़ने में मदद कर सकती है, पुरुषों में प्रजनन क्षमता और टेस्टोस्टेरोन को बढ़ा सकती है और यहां तक कि मस्तिष्क की कार्यक्षमता को भी बढ़ा सकती है।

अश्वगंधा का सेवन आपके स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने का एक आसान और प्रभावी तरीका हो सकता है।

बेशक, यह औषधि गुणकारी है, लेकिन लंबे समय तक इसका उपयोग करना हानिकारक हो सकता है। इसलिए, किसी आयुर्वेदिक विशेषज्ञ से इसकी मात्रा व समय के बारे में पूछकर ही इसका सेवन शुरू करें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration