एचआईवी टेस्ट क्या है, प्रकार, प्रक्रिया – What Is HIV Test, Types, Procedure In Hindi

एचआईवी टेस्ट क्या है, प्रकार, प्रक्रिया - What Is HIV Test, Types, Procedure In Hindi
Written by Daivansh

HIV Test in hindi एचआईवी परीक्षण (HIV test) व्यक्तियों में HIV संक्रमण की स्थिति का पता लगाने के लिए एक सामान्य रक्त या लार परीक्षण है। यह परीक्षण HIV के प्रकोप को कम करने के लिए अतिआवश्यक है। इसके अतिरिक्त कई प्रकार के परीक्षण, रक्त या शरीर के तरल पदार्थ के माध्यम से संक्रमण की स्थिति की जांच करने के लिए उपलब्ध हैं। इनकी मदद से व्यक्ति के संक्रमित होने की स्थिति का पता आसानी से लगाया जा सकता है। HIV एक संक्रमित बीमार है जिसका निदान समय पर किया जाना अति आवश्यक होता है। आज के इस लेख में आप जानेंगे कि एचआईवी टेस्ट क्या है, इसके प्रकार कितने हैं, एचआईवी टेस्ट किट क्या है और एचआईवी की जांच कैसे करें ।

व्यक्तियों में एचआईवी संक्रमण का तुरंत पता नहीं लगाया जा सकता है, क्योंकि शरीर में एंटीबॉडी (antibodies) के निर्माण और वायरस के बढ़ने में समय लगता है। अतः संक्रमित व्यक्ति में पहले 3 महीने तक HIV के सकारात्मक परिणाम (positive result) देखने को नहीं मिल सकते हैं, जिसका मतलब है कि संक्रमित होने के बावजूद भी प्रारंभिक परीक्षण नकारात्मक परिणाम (negative result) प्रदर्शित कर सकता है।

1. एचआईवी टेस्ट क्या है – What is HIV TEST in Hindi
2. एचआईवी परीक्षण के प्रकार – Types Of HIV Testing In Hindi
3. एचआईवी की जांच कैसे करें – Home HIV Tests In Hindi
4. होम एचआईवी परीक्षण के फायदे – Benefits Of Home HIV Tests In Hindi
5. क्या होम एचआईवी टेस्ट सटीक हैं – Are Home HIV Tests Accurate In Hindi
6. एचआईवी टेस्ट के परिणाम (रिजल्ट) – HIV test Results in Hindi

7. एचआईवी टेस्ट की प्रक्रिया – HIV Test Procedure In Hindi
8. एचआईवी परीक्षण कब करें – When To Get Tested In Hindi
9. एचआईवी टेस्ट कितनी बार परीक्षण किया जाना चाहिए – How Often Should Be Tested In Hindi
10. क्या गर्भवती महिलाओं के लिए एचआईवी परीक्षण आवश्यक है – Pregnant Women Need HIV Testing In Hindi

एचआईवी टेस्ट क्या है – What is HIV TEST in Hindi

एचआईवी टेस्ट क्या है - What is HIV TEST in Hindi

एचआईवी परीक्षण (HIV test) किसी व्यक्ति के HIV संक्रमित होने की स्थिति को सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका है। बहुत से संक्रमित व्यक्ति किसी भी प्रकार के लक्षणों को प्रगट किए बिना कई सालों तक जीवित रह सकते हैं।

HIV Test (एचआईवी परीक्षण) तीव्र, आसान, दर्द रहित, गोपनीय होते हैं। यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से एचआईवी परीक्षण कराता है, तो वह इसके जोखिमों को कम कर सकता है, तथा अपने यौन भागीदार को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

एचआईवी टेस्ट (HIV test) आमतौर पर एक दो-चरणीय (two-step) प्रक्रिया होती है। पहले चरण में रक्त या लार में एचआईवी-विशिष्ट प्रोटीन (एंटीबॉडी या एंटीजन (antibodies or antigens) का परीक्षण किया जाता है। यदि इस परीक्षण के परिणाम सकारात्मक (positive) है, तो दूसरे चरण में वेस्टर्न ब्लॉट (Western blot) नामक परीक्षण किया जाता है, जो यह सुनिश्चित करता है कि पहला परिणाम सही है या नहीं। यदि दोनों परीक्षण के परिणाम सकारात्मक (positive) हैं, तो संबंधित व्यक्ति 99% एचआईवी से संक्रमित है।

(और पढ़े – HIV एड्स के शुरुआती लक्षण जो आपको पता होने चाहिए…)

एचआईवी परीक्षण के प्रकार – Types Of HIV Testing In Hindi

एचआईवी टेस्ट (HIV test) के तीन मुख्य प्रकार होते हैं:

  • एंटीबॉडी परीक्षण (antibody tests),
  • आरएनए (वायरल लोड) परीक्षण, (RNA (viral load) tests) और
  • एंटीबॉडी-एंटीजन परीक्षण या एचआईवी एबी-एजी परीक्षण (antibody-antigen test or HIV Ab-Ag test)

एचआईवी की जांच के लिए एंटीबॉडी परीक्षण (Antibody Tests)

एंटीबॉडी परीक्षण (antibody tests) मानव शरीर में एंटीबॉडी प्रोटीन की उपस्थिति का पता लगाने की एक प्रक्रिया है। यह एंटीबॉडी (antibody) व्यक्ति के शरीर में एचआईवी के खिलाफ कार्य करने के लिए उत्पन्न होते हैं। इस परीक्षण को सभी एचआईवी परीक्षणों में, सबसे तेज और घरेलू परीक्षण माना जाता हैं। किसी व्यक्ति के शरीर में एचआईवी संक्रमण का पता लगाने के लिए सटीक परिणाम तभी प्राप्त हो सकते हैं जब पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडी का निर्माण किया जाये। संक्रमण के स्थिति में एंटीबॉडी बनने में 3 से 12 सप्ताह का समय लग सकता हैं। एंटीबॉडी परीक्षण के लिए आमतौर पर, रक्त का उपयोग किया जाना बेहतर माना जाता है। क्योंकि रक्त के साथ किए गए परीक्षण, मुँह की लार के साथ किए गये परीक्षण की तुलना में, संक्रमण के तुरंत बाद एचआईवी का पता लगा सकते हैं।

एचआईवी टेस्ट के लिए आरएनए टेस्ट (RNA Test)

इस परीक्षण का प्रयोग रक्त में एचआईवी (HIV) फैलने की मात्रा का अनुमान लगाने के लिए किया जाता है। इसे अक्सर एचआईवी वायरल लोड (viral load) के रूप में जाना जाता है। हालांकि, यह महंगा है, इसलिए इसका उपयोग नियमित रूप से नहीं किया जाता है। लेकिन यदि व्यक्ति को संक्रमण के उच्च जोखिम है और फ्लू जैसे लक्षण हैं, तो डॉक्टर इस परीक्षण की सलाह दे सकता है।

एचआईवी और एड्स की जांच के लिए एंटीबॉडी / एंटीजन संयोजन टेस्ट (Antibody/Antigen Combination Tests)

संयोजन परीक्षण (Combination Tests) एचआईवी एंटीबॉडी और एंटीजन (Antigens) दोनों की जाँच करने के एक रक्त परीक्षण है। एंटीजन (Antigens) पी24 नामक एक प्रोटीन है, जो वायरस का एक हिस्सा है और गंभीर एचआईवी संक्रमण की स्थिति को प्रगट करता है। इस परीक्षण के माध्यम से संक्रमण के 2-4 सप्ताह बाद एंटीबॉडी / एंटीजन को देखा जा सकता है। एक एंटीबॉडी / एंटीजन टेस्ट एक तीव्र HIV परीक्षण के रूप में 20 मिनट में ही सटीक परिणाम प्रदान कर सकता है।

(और पढ़े – एचआईवी एड्स से जुड़े मिथक और तथ्य…)

एचआईवी की जांच कैसे करें – Home HIV Test In Hindi

एचआईवी की जांच कैसे करें - Home HIV Tests In Hindi

एंटीबॉडी की जांच करने के लिए निम्न दो प्रकार के घरेलू एचआईवी परीक्षण उपलब्ध हैं:

होम एक्सेस एचआईवी -1 टेस्ट (Home Access HIV-1 Test)

इस परीक्षण के लिए व्यक्ति रक्त का नमूना लेने के लिए उंगली में सुई चुभाता है और नमूना प्राप्त कर इसे प्रयोगशाला में भेज देता है। यदि परिणाम सकारात्मक है, तो नमूने पर तुरंत एक फॉलो-अप परीक्षण (follow-up testing) किया जाता है। व्यक्ति अपने परिणामों की जानकारी प्राप्त करने के लिए परीक्षण संस्थान में कॉल कर सकते हैं।

एचआईवी टेस्ट किट OraQuick इन-होम एचआईवी टेस्ट (OraQuick In-Home HIV Test)

यह “तेज़ परिणाम” (rapid result) प्रदान करने वाला परीक्षण है। यह परीक्षण किट (kit) और टेस्ट ट्यूब, जिसमें तरल पदार्थ भरा होता है, के साथ किया जाता है। इस परीक्षण के लिए उपयोगी सामान मेडिकल स्टोर या परीक्षण संस्थान से प्राप्त किया जा सकता है। परीक्षण करने के दौरान मसूड़ों पर स्टिक (stick) घुमाकर तरल को इकट्ठा किया जाता है, फिर इस स्टिक (stick) को टेस्ट ट्यूब में डाल दिया जाता है। यह परीक्षण 20 मिनट में परिणाम प्रदान कर सकता है। यदि सकारात्मक परीक्षण प्राप्त होते है, तो व्यक्ति को क्लिनिक या डॉक्टर के कार्यालय में फॉलो-अप परीक्षण (follow-up testing) की आवश्यकता होती है।

होम एचआईवी परीक्षण के फायदे – Benefits Of Home HIV Tests In Hindi

प्रारंभिक चरणों में एचआईवी को नियंत्रित करना और उसका इलाज प्राप्त करना बहुत आसान होता है। होम एचआईवी परीक्षण (HIV test) व्यक्तियों को तुरंत परिणाम प्रदान कर सकता है।

अतः एक होम एचआईवी टेस्ट के माध्यम से व्यक्ति यह जानने में सफलता प्राप्त कर सकता है कि उनके पास HIV वायरस है या नहीं। होम एचआईवी परीक्षण से वायरस की प्रारंभिक पहचान कर दूसरे व्यक्तिओं (यौन सहभागी) में वायरस के प्रभाव को सीमित करने में मदद मिल सकती है।

क्या होम एचआईवी टेस्ट सटीक हैं – Are Home HIV Test Accurate In Hindi

क्या होम एचआईवी टेस्ट सटीक हैं - Are Home HIV Tests Accurate In Hindi

होम एचआईवी टेस्ट, एचआईवी परीक्षण (HIV test) के लिए एक आसन तरीका है। हालांकि, यह टेस्ट डॉक्टर के कार्यालय में किए गए परीक्षणों के मुकाबले, वायरस का पता लगाने में कम सटीक परिणाम प्रदान कर सकता है।

लार में एचआईवी एंटीबॉडी का स्तर, रक्त में एचआईवी एंटीबॉडी के स्तर से कम पाया जाता है। इस कारण से, OraQuick इन-होम एचआईवी टेस्ट, HIV का पता लगाने के लिए 100% सटीक परिणाम नहीं दे सकता है। अतः सटीक परिणाम प्राप्त करने के लिए रक्त नमूने को प्रयोग में लाना चाहिए।

(और पढ़े – बिलीरुबिन ब्लड टेस्ट क्या है, कीमत, परिणाम और सामान्य स्तर…)

एचआईवी टेस्ट के परिणाम (रिजल्ट) – HIV test Results in Hindi

परीक्षण किए जाने से पहले, सम्बंधित व्यक्ति को परीक्षण के परिणाम की जानकारी होनी चाहिए। किए जाने वाले परीक्षण के प्रकार के आधार पर परिणाम, कुछ दिनों, कुछ हफ्तों (प्रयोगशाला परीक्षण) या कुछ मिनटों में प्राप्त किये जा सकते हैं।

यदि परिणाम नकारात्मक प्राप्त होते है, तो स्वास्थ्य केंद्र इस बात की सूचना व्यक्ति को देते हैं। और यदि सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं तो आगे परीक्षण की आवश्यकता पड़ सकती है।

किसी भी प्रकार के एचआईवी परीक्षण के दौरान 2 प्रकार के परिणाम देखे जा सकते हैं:

एचआईवी परीक्षण के नकारात्मक परिणाम – Negative HIV test results in Hindi

यदि एचआईवी परीक्षण (HIV test) का परिणाम नकारात्मक (Negative) प्राप्त होता है, तो इसका मतलब है कि सम्बंधित व्यक्ति के पास उस समय एचआईवी नहीं है। लेकिन नकारात्मक परिणाम (Negative results) भविष्य में HIV न होने की पुष्टि नहीं करता है।

जो व्यक्ति हाल ही में एचआईवी के संपर्क में आने के तुरंत बाद परीक्षण कराते हैं, तो उस स्थिति में नकारात्मक परीक्षण प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन कुछ महीनों बाद एचआईवी के लिए पुनः जाँच की आवश्यकता होती है। नकारात्मक परिणाम के आधार पर यह नहीं कहा जा सकता कि सम्बंधित व्यक्ति का यौन साथी HIV संक्रमित नहीं है।

एचआईवी परीक्षण के सकारात्मक परिणाम (एचआईवी पॉजिटिव) – Positive HIV test results in Hindi

यद्यपि एचआईवी परीक्षण (HIV test) के लिए प्राप्त एचआईवी पॉजिटिव परिणाम (Positive results) व्यक्ति के संक्रमित होने की संभावनाओं को बढ़ा देता है। यदि किसी व्यक्ति के एचआईवी परीक्षण के सकारात्मक परिणाम (Positive results) प्राप्त होते हैं, तो परिणामों की पुष्टि करने के लिए वेस्टर्न ब्लॉट (Western blot) नामक एक परीक्षण की आवश्यकता पड़ती है। यदि इस परीक्षण के परिणाम सकारात्मक प्राप्त होते हैं तो सम्बंधित व्यक्ति को HIV संक्रमित माना जाता है। एचआईवी के लिए सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने वाले व्यक्तियों को अपने यौन भागीदारों को भी परीक्षण और संभावित रूप से इलाज प्रदान करने की आवश्यकता होती है। इलाज के रूप में एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी (Antiretroviral therapy) प्रदान की जा सकती है। इस थेरेपी के अंतर्गत दवा का उपयोग एचआईवी संक्रमण को रोकने में मदद करने के लिए किया जाता है।

एचआईवी टेस्ट की प्रक्रिया – HIV Test Procedure In Hindi

एचआईवी टेस्ट की प्रक्रिया - HIV Test Procedure In Hindi

एचआईवी परीक्षण (HIV test) के लिए कोई विशेष तैयारी की आवश्यक नहीं होती है। यह परीक्षण घर पर या किसी निर्धारित प्रयोगशाला में किया जा सकता है। एचआईवी परीक्षण में आमतौर पर शरीर में एंटीबॉडी की उपस्थिति का पता लगाने के लिए सम्बंधित व्यक्ति के रक्त नमूना का परीक्षण है। रक्त एंटीबॉडी परीक्षण, के सटीक परिणाम, संक्रमित होने के 12 सप्ताह बाद ही प्राप्त हो सकते हैं।

HIV Test (एचआईवी परीक्षण) के लिए निम्न प्रक्रियाएं प्रयोग में लाई जा सकती हैं

रक्त परीक्षण – एचआईवी परीक्षण (HIV test) करने के लिए क्लिनिक में या घर पर रक्त का नमूना लिया जाता है और प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए भेजा जाता है। इस प्रक्रिया में परिणाम उसी दिन या कुछ दिनों के भीतर उपलब्ध किए जा सकते हैं।

होम टेस्टिंग किट (home testing kit) – यह घर पर HIV परीक्षण करने की एक आसन प्रक्रिया है जिसमें परीणाम प्राप्त करने के लिए एक किट की आवश्यकता होती है, जिसे एचआईवी टेस्ट किट (HIV test kit) भी कहा जाता है। इसे परीक्षण संसथान या मेडिकल स्टोर से प्राप्त किया जा सकता है। इस किट का प्रयोग करने से पहले, प्रशिक्षण लेने की आवश्यकता पड़ती है। इस किट के माध्यम से व्यक्ति स्वयं लार नमूना या रक्त नमूना इकट्ठा कर घर पर ही परीक्षण सकता है। परिणाम कुछ ही मिनटों के भीतर प्राप्त किए जा सकते है।

एचआईवी परीक्षण कब करें – When To Get Tested In Hindi

अगर किसी व्यक्ति को लगता है कि उसे एचआईवी हो सकता है, तो तुरंत चिकित्सा सलाह लेनी चाहिए। और इस सम्भावना का निदान करने के लिए HIV परीक्षण किया जाना चाहिए। इस तरह HIV संक्रमित होने से पहले ही इलाज प्राप्त कर गंभीर रूप से बीमार होने से बचा जा सकता हैं।

  • एचआईवी संक्रमण के संपर्क में आने के बाद सम्बंधित व्यक्ति को 1-3 महीने के अंतर से एचआईवी परीक्षण कराना चाहिए।
  • असुरक्षित यौन संबंध और एक से अधिक यौन साथी रखने वाले प्रत्येक व्यक्ति को HIV परीक्षण कराना चाहिए
  • एचआईवी परीक्षण के बाद यदि किसी व्यक्ति के एक से अधिक यौन भागीदार (sex partner) हैं, तो उसे पुनः परीक्षण की आवश्यकता पड़ती है।
  • इंजेक्शन दवाओं (injected drugs) और सुइयों का साझा करने वाले व्यक्ति को परीक्षण कराना चाहिए।
  • यौन संक्रमित बीमारी का निदान किए जाने के दौरान और किसी अज्ञात यौन इतिहास वाले व्यक्ति के साथ यौन संबंध रखने के दौरान परीक्षण की आवश्यकता होती है।

(और पढ़े – सुरक्षित सेक्स करने के तरीके…)

एचआईवी टेस्ट कितनी बार परीक्षण किया जाना चाहिए – How Often Should Be Tested In Hindi

13 से 64 साल की उम्र के सभी लोगों के लिए कम से कम एक बार एचआईवी परीक्षण (HIV test) किए जाने की सिफारिश की जाती है। यदि किसी व्यक्ति में संक्रमण के उच्च जोखिम हैं तो प्रत्येक वर्ष परीक्षण की सिफारिश की जाती है। इसके अतिरिक्त समलैंगिक और उभयलिंगी यौन सक्रिय पुरुषों को हर तीन से छह महीने में परीक्षण कराने की सलाह दी जाती है।

(और पढ़े – समलैंगिकता (होमोसेक्सुअलिटी) के कारण, लक्षण और इलाज…)

क्या गर्भवती महिलाओं के लिए एचआईवी परीक्षण आवश्यक है – Pregnant Women Need HIV Testing In Hindi

क्या गर्भवती महिलाओं के लिए एचआईवी परीक्षण आवश्यक है - Pregnant Women Need HIV Testing In Hindi

गर्भवती महिलाओं के लिए एचआईवी परीक्षण अत्यधिक महत्वपूर्ण होता है। प्रसवपूर्व प्रत्येक महिला को गर्भावस्था की शुरुआत में देखभाल के दौरान एचआईवी परीक्षण (HIV test) की सिफारिश की जाती है। यदि समाज में एचआईवी के उच्च जोखिम कारक मौजूद हैं तो हर तीन महीने में एचआईवी परीक्षण दोहराये जाने की आवश्यकता पड़ सकती है। वर्तमान समय में एचआईवी से संक्रमित गर्भवती महिलाओं के इलाज में काफी प्रगति हुई है। कुछ उचित प्रबंधन के द्वारा संक्रमित गर्भवती महिला से, भ्रूण को वायरस प्रेषित करने की संभावना 2% से भी कम की जा सकती हैं। और यदि उचित प्रबंधन न किया जाये तो, भ्रूण में HIV संचरण का जोखिम 33% से अधिक होता है।

(और पढ़े – जानें प्रेगनेंसी में एनटी टेस्ट (न्यूकल ट्रांसलुसेंसी) कराना क्यों है जरूरी…)

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | घरेलू उपाय | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी | बीमारी | महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration