HIV एड्स के शुरुआती लक्षण जो आपको पता होने चाहिए – Symptoms of HIV AIDS in Hindi

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण जो आपको पता होने चाहिए - Symptoms of HIV AIDS in Hindi
Written by Ganesh

अमेरिका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार 1.2 मिलियन से अधिक लोग वर्तमान में एचआईवी से संक्रमित हैं और 12.8 प्रतिशत 8 में से 1 लोग अपने संक्रमण से अनजान रहते हैं एचआईवी-एड्स आज एक गंभीर समस्या के रूप में जाना जाता है इसलिए आज हम आपको HIV एड्स के शुरुआती लक्षण के बारे में बताने वाले हैं ताकि आप इस अनजान खतरे से बच सकें और इनके लक्षण को पहचान कर उचित जांच कराकर अपने आप को संतुष्ट कर सकें| इसका संक्रमण हो जाने पर इसके कुछ आरंभिक लक्षण भी नजर आने लगते हैं। अगर आपको यह चीजें पता होंगी तो आप इसका निदान आसानी से कर सकेंगे। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि हम एचआईवी टेस्ट को लेकर काफी शरमाते हैं। हालांकि आज के समय में एचआईवी जांचने के और भी कई तरीके उपलब्ध हैं।

HIV एड्स ह्यूमन इम्यून डिफिशंसी वाइरस (human immunodeficiency virus) के लिए जाना जाता है यह वायरस प्रतिरक्षा प्रणाली के सीडी 4 कोशिकाओं (CD4 cells) को नष्ट कर देता है जिंहें टी सेल्स (T cells) भी कहते हैं

यदि चिकित्सकीय उपचार नहीं किया जाता तो एचआईवी-एड्स धीरे-धीरे प्रगति करता रहता है जो कि एक घातक बीमारी है जो आगे चलकर हमारे प्रतिरक्षा प्रणाली को विफल कर देती है जिससे मरीज में गंभीर समस्या जैसे की कमजोरी, कोई घातक संक्रमण और कैंसर जैसे कई कारणों से लड़ने की क्षमता खत्म हो जाती है

एच आई वी कैसे होता है – How is HIV occur in hindi

ऐसे हो सकता है एड्स

  • संक्रमित व्यक्ति से असुरक्षित यौन संबंधों के ज़रिए।
  • किसी संक्रमित व्यक्ति की इस्तेमाल की गई सुई के इस्तेमाल से।
  • संक्रमित ख़ून चढ़ाए जाने से।
  • शरीर में किसी कटी हुई जगह पर संक्रमित द्रव्य के छूने से।
  • एचआईवी संक्रमित महिला की संतान गर्भ और जन्म के समय या फिर स्तनपान के ज़रिए उस रोग का शिकार हो सकती है।

सबसे आसान तरीके जिसके द्वारा HIV एड्स वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं उच्च जोखिम वाले यौन व्यवहार और इंजेक्शन के माध्यम होते हैं आइये जानते है इनके बारें में

यौन व्यवहार के माध्यम से एचआईवी वायरस का शरीर में प्रवेश HIV AIDS Exposure Through Sexual Behaviour in Hindi

  1. एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ संभोग से जिसमें गुदा संभोग और योनी संभोग दोनों शामिल है। किंतु आपको बता दें कि सबसे ज्यादा HIV एड्स के खतरे गुदा संभोग का स्थान पहला है और एचआईवी एड्स संक्रमण के लिए योनी संभोग दूसरे सबसे ज्यादा जोखिम वाले यौन व्यवहार में आता है।
  2. कई साथियों के साथ असुरक्षित संभोग करने से यह अन्य यौन संचारित संक्रमण को जन्म दे सकता है। जिससे आप संभोग के माध्यम से एचआईवी वायरस को संक्रमित करने के लिए अधिक संवेदनशील बन सकते हैं। कई साथियों के साथ असुरक्षित यौनसंबंध आपको STD जैसे रोगों का शिकार बना सकता है।
  3. पैसे के बदले संभोग के कारण इस में आमतौर पर कई सहयोगियों को उच्च जोखिम वाले यौन व्यवहार शामिल होते हैं जो पैसे को लेकर संभोग क्रिया करते हैं।

(और पढ़ें – एचआईवी एड्स क्या है, लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव)

इंजेक्शन के माध्यम से HIV एड्स के वायरस का शरीर में प्रवेश – HIV AIDS  Exposure Through Injection in Hindi

  1. एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ ड्रग इंजेक्शन एक उपकरण जैसे सीरिंज, सुई का इस्तेमाल करना आपको भी संक्रमित कर सकता है।
  2. एक एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ ड्रग प्रिपरेशन उपकरण सांझा करना भी आप को प्रभावित कर सकता है।
  3. स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ता एक एचआईवी संक्रमित सुई के साथ गलती से होने वाले खतरे के कारण खुद को एचआईवी संक्रमित बना सकता है।
  4. बिना प्रमाणित और सड़क पर बिकने वाली सुई या सीरेंज का उपयोग आपको एचआईवी से संक्रमित कर सकता है। क्योंकि इन विक्रेताओं ने अक्सर इस्तेमाल की गई सुइयां और सिरेन्ज की मरम्मत और उन्हें नई चीजों के रूप में तैयार कर उन्हें बेचा जाता है।
  5. HIV एड्स दूषित रक्त या अंग या ऊतक का प्रत्यारोपण किसी दूसरे व्यक्ति में किए जाने पर HIV एड्स के फैलने का खतरा बढ़ जाता है।

आपको बता दें कि एक बार एचआईवी से संक्रमित हो जाने पर इससे छुटकारा पाना संभव नहीं है। बचाव ही इसका सबसे अच्छा इलाज माना जाता है।

हालांकि HIV एड्स के लक्षणों की जल्दी पहचान उचित चिकित्सा उपचार और एक स्वस्थ जीवन शैली के साथ एक HIV एड्स पॉजिटिव व्यक्ति के लिए भी एक लंबा और आसान जीवन जीना संभव है

एचआईवी के बारे में भ्रांतियाँ  – Misconceptions about HIV in Hindi

एचआईवी नहीं होता-

  • हवा से, खाँसी से या छींक से
  • चुंबन से, छूने से या हाथ मिलाने से
  • एक ही बर्तन के इस्तेमाल से
  • एक ही शौचालय के इस्तेमाल से
  • मच्छरों के काटने से
  • एक साथ तैरने से
  • एचआईवी संक्रमित व्यक्ति का बनाया खाना खाने से

एचआईवी परीक्षण  – HIV test in Hindi

HIV एचआईवी के लिए एक आम तरह के परीक्षण के तहत एक ख़ास ऐंटीबॉडी या बीमारी से संघर्ष करने वाली प्रोटीन का पता लगाया जाता है।
एचआईवी की मौजूदगी की वजह से ऐंटीबॉडीज़ बनती हैं. मगर ये प्रक्रिया संक्रमण के छह से 12 हफ़्ते बाद ही शुरू होती है।
ये वायरस का सामना करने में बहुत सक्षम नहीं होते मगर इस बात के विश्वसनीय सूचक होते हैं कि वायरस मौजूद है।
जैसे ही कोई व्यक्ति संक्रमित होता है वह दूसरों को भी संक्रमित करने योग्य हो जाता है मगर कुछ हफ़्तों तक उसके परीक्षणों से इसका पता नहीं चलता।

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण – Symptoms of HIV AIDS in Hindi

एचआईवी संक्रमित होने के लक्षण संक्रमित होने के बाद तुरंत नहीं दिखते। इसमें आपको कम से कम समय दो से 6 सप्ताह या फिर इससे भी अधिक समय जो कि कई सालों का हो सकता है होता है।

यहां हम आपको HIV एड्स के शुरुआती लक्षण 10 लक्षण बताने जा रहे हैं जो आपको पता होना चाहिए ताकि आप इस अनजाने खतरे से बच सकें।

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है बुखार – The most common symptoms of HIV AIDS is fever in Hindi

एक HIV एड्स  एड्स संक्रमित व्यक्ति में सबसे सामान्य प्राथमिक लक्षण बुखार माना जाता है।

प्रारंभिक HIV एड्स  के दौरान बुखार एक बार आने के बाद दो से 4 सप्ताह के लिए आवर्ती हो सकता है। मतलब बुखार बार बार आ सकता है साथ ही साथ वह रेगुलर बना रह सकता है। इस प्रकार के बुखार को पहचानने के लिए रात में पसीना आना अक्सर इस प्रकार के संक्रमण से संबंधित बुखार के लिए जाना जाता है।

प्रैक्सिस मैं प्रकाशित 2005 के एक अध्ययन के अनुसार प्राथमिक HIV एड्स  संक्रमण के 62 रोगियों में से 77 प्रतिशत रोगी बुखार से प्रभावित होने की सूचना दी गई थी। इसलिए इस स्थिति को प्राथमिक लक्षण के रुप में स्थापित किया गया।

क्योंकि बुखार आना एक प्रकार के वायरल संक्रमण के लिए प्रतीक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को दर्शाता है। इसलिए HIV एड्स के शुरुआती लक्षणों को पहचानने में बुखार एक अच्छा संकेत होता है और यह यह प्रदर्शित करता है। कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली अभी तक कमजोर नहीं हुई है।

(और पढ़े – सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है रात में पसीना आना – Primary symptoms of HIV AIDS are night sweats in Hindi

अगर आप सोने में अपने आप को असमर्थ पाते हैं क्योंकि आप जैसे ही रात में सोते हैं तो आप अपने शरीर से निकलने वाले अधिक पसीने को रोक नहीं पाते और जिससे आपकी नींद बाधित होती है। तो इस प्रकार के लक्षण HIV एड्स  के संक्रमण के प्राथमिक कारणों में से एक माने जाते हैं और यह चिंता का कारण हो सकता है।

एचआईवी ग्रस्त व्यक्ति को रात में लगातार पसीना आता रहता है। व्यक्ति अपने पसीने से राहत पाने के लिए अपने सारे कपड़े उतार देता है किंतु इन सब के बाद भी अत्यधिक पसीने के कारण सोना असंभव होता है।

प्रारंभिक HIV एड्स  के निदान के एक विषय में नैदानिक संक्रामक रोगों में प्रकाशित 2015 के एक अध्ययन के अनुसार जो व्यक्ति कई सहभागियों के साथ असुरक्षित संभोग में लगे हुए थे उनमें सामान्य रूप से किए गए परीक्षण में रात में पसीना आना शामिल था।

रात में पसीना आना आम तौर पर HIV एड्स  से ग्रस्त रोगियों में बुखार के साथ भी आता है।

(और पढ़ें – रात में पसीना आने के कारण और उपाय)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है गले में खराश – The initial symptoms of HIV AIDS AIDS is sore throat in Hindi

एक पीड़ादायक गला HIV एड्स  के शुरूआती सामान्य लक्षण हो सकता है। HIV एड्स  पॉजिटिव रोगियों में बुखार के साथ गले में खराश होने की संभावना बहुत अधिक होती है।

कई रोगियों में इसे एक संकेत के रूप में देखा जाता है इस में बुखार की शुरुआत से पहले गले में खराश आ जाती है।

क्लीनिक संक्रमित रोगों में प्रकाशित एक 2002 के अध्ययन के अनुसार 74 संक्रमित वेश्याओं में प्राथमिक HIV एड्स  संक्रमण के गंभीर लक्षण में से गले में खराश होने की पहचान की गई थी।

गले में खराश होने पर आप भोजन और पानी के साथ साथ अपने लार को निगलने में दर्द का अनुभव कर सकते हैं।

इस प्रकार का गले में खराश एक हफ्ते से 2 सप्ताह तक हो सकता है और कई बार मुंह के अल्सर के साथ भी होता है।

(और पढ़ें – गले की खराश को ठीक करने के घरेलू उपाय)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है सूजी हुई लसीका ग्रंथियां – Initial symptoms of HIV AIDS  is the swollen lymph nodes in Hindi

शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कोशिकाओं के द्वारा पूरे शरीर में फैली रहती है उनके वितरण के लिए प्रारंभिक स्थानों में से एक लिंफ नोड (लसीका ग्रंथि) होती है। लिंफ नोड्स गले में नीचे की ओर पाए जाते हैं। चूंकी HIV एड्स कोशिकाओं का मुख्य कार्य प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर बनाना होता है। इसलिए वे शरीर की प्रमुख प्रतिरक्षा बढ़ाने वाली कोशिकाओं की पहचान कर उन पर हमला करते हैं जिसमें लिंफ नोड शामिल होता है।

लिंफ नोड्स की सूजन आपके शरीर को यह संकेत देती है कि आप की प्रतिरक्षा प्रणाली HIV एड्स  संक्रमण के कारण होने वाले नुकसान को कम करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है जिसकी वजह से उस में सूजन आ जाती है।

इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल माइक्रोबायोलॉजी में प्रकाशित एक 2002 के अध्ययन के अनुसार HIV एड्स से प्रभावित 54 रोगियों में से 30 रोगियों में लिंफ नोड रिएक्टिव हाइपरप्लासिया (reactive hyperplasia) की सूजन की सूचना दी थी।

लसीका ग्रंथि मैं अत्यधिक दर्द और स्पर्श करने पर सूजन के साथ दर्द दिखाई दे सकते हैं और यह सूजन धीरे-धीरे गायब भी हो सकती है। यदि सूजन 2 से 4 सप्ताह से अधिक रहती है तो यह चिंता का कारण होता है।

(और पढ़ें – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है रेसेस एंड सेबोरहाइक डर्माटाइटिस – Symptoms of HIV AIDS is Rashes and Seborrheic Dermatitis in Hindi

एक्टा डर्माटोवेनरोल क्रोएशिया में प्रकाशित एक 2008 के अध्ययन के अनुसार चेहरे और सीने पर पर सीब्रोरिक जिल्द की सूजन HIV एड्स  के शुरुआती लक्षणों में से एक होती है

प्रारंभिक एचआईवी संक्रमण मरीजों में सेबोरहाइक डर्माटाइटिस 30 से 83 प्रतिशत के बीच फैलता है

सेबासोउस ग्रंथियां (Sebaceous glands) मुख्यता चेहरे से छाती ऊपरी पीठ और जननांग क्षेत्र में स्थित होती है HIV एड्स  एड्स के शुरूआती लक्षण इन क्षेत्रों के आस-पास लाल सूजन खुजली और परतदार त्वचा की उपस्थिति को दर्शाते हैं जो कि 2 से 3 सप्ताह या उससे अधिक समय तक हो सकती है

2005 में प्रकाशित एक अध्ययन में एनल्स ऑफ फैमिली मेडिसिन में प्राथमिक HIV एड्स केस स्टडी को कई मेडिकल सर्विसेस के लिए चुना गया था

रोगियों के लिए औसत आयु सीमा 17 से 54 वर्ष थी और सभी रोगियों में एचआईवी संक्रमण के प्राथमिक लक्षणों को पाया गया इनमें से रोगियों के शरीर पर दाने दार चकत्ते आना दूसरा सबसे अधिक सामान्य रूप से प्राथमिक लक्षण के रूप में देखा गया|

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है मांस पेशियों में दर्द – Symptoms of HIV AIDS is Muscle Pain and Joint Pain in Hindi

हालांकि इस प्रकार की स्थितियाँ किसी बीमारी के कारण भी हो सकती फिर भी यह स्थिति HIV एड्स  संक्रमण के प्राथमिक लक्षण को पहचानने के लिए उपयोगी हैं।

मुस्कुलोस्केलेटल विकार (Musculoskeletal disorders) जो की मांसपेशियों और हड्डियों को प्रभावित करते हैं। अक्सर HIV एड्स  के शुरूआती लक्षण होते हैं। द अमेरिका जनरल ऑफ ऑर्थोपेडिक सर्जन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द दो या दो से अधिक जोड़ों के माध्यम से गंभीर दर्द के रूप में प्रकट हो सकता है जो 2 से 24 घंटे के बीच बना रहता है।

इंडियन जनरल ऑफ सेक्सुअली डिसीज़ (Sexually Transmitted Diseases) में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है कि प्राथमिक HIV एड्स  के 300 मरीजों के मुस्कुलोस्केलेटल लक्षण 1 वर्ष के लिए मूल्यांकन किए गए थे।

इसमें पाया गया कि 63.2 3% रोगियों में मुस्कुलोस्केलेटल विकारों की सूचना दी इनमें से 46.7 प्रतिशत शरीर में दर्द का पता चला है 26.7 प्रतिशत में जोड़ों में दर्द की शिकायत की है और 8.3 प्रतिशत की पीठ में दर्द हुआ है जबकि 6.7 प्रतिशत ने ऑस्टियोपोरोसिस की रिपोर्ट की थी।

यह सभी लक्षण बता बताते हैं कि आपके रोग में प्रगति प्रगति हो रही है

(और पढ़े – एचआईवी एड्स से जुड़े मिथक और तथ्य)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है थकान का होना – The primary symptom of HIV Aids is fatigue in Hindi

HIV एड्स संक्रमण से ग्रस्त होने पर थकान को ऊर्जा की कमी और थकावट के रूप में देखा जा सकता है जो कि आपको पर्याप्त नींद लेने के बाद भी दूर नहीं होती और इस प्रकार की थकान आप को निरंतर बनी रहती है जबकि आप कोई शारीरिक परिश्रम भी नहीं करते फिर भी आपका शरीर थका हुआ महसूस करता है

जर्नल ऑफ क्लीनिकल नरसिंग में प्रकाशित 2006 के एक अध्ययन में 15 रोगियों ने हाल ही में अपने दैनिक जीवन में एक बाधा के रूप में एचआईवी की पहचान कि जिस में पाया कि उन्हें मुख्य रूप से अपने शरीर में थकान महसूस होती है

अध्ययन आगे बताता है कि थकान HIV एड्स  के एक व्यापक रूप से छिपा हुआ लक्षण होता है और रोगी के परिवार वाले और मित्र इस प्रकार की थकान से HIV एड्स  के लक्षणों को पहचान करने में विफल होते हैं

मरीज को काम करने में घबराहट के साथ साथ चलने में परेशानी बयान और अन्य गतिविधियों में भाग लेने की क्षमता में काफी कमी आ जाती है

एड्स केयर में एसोसिएशन ऑफ नर्सों के द जनरल में प्रकाशित 2008 के एक अध्ययन के अनुसार यह मानसिक स्पष्टता ध्यान और एकाग्रता को भी प्रभावित करता है

इस प्रकार की थकान अवसाद और चिंता को पैदा कर सकता है।

(और पढ़ें – थकान दूर करने के उपाय)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण है सिर दर्द – Early symptoms of HIV AIDS are headache in hindi

एचआईवी रोगियों द्वारा अनुभव किए जाने वाले दर्द का सबसे आम और लगातार प्रकार के रूप में सिरदर्द को जाना जाता है। इस प्रकार का सिर दर्द रोगी के जीवन को गंभीर रुप से प्रभावित करता है और रोगी के दिन प्रतिदिन की गतिविधियों को बाधित करता है।

प्राथमिक सिरदर्द जिसमें सिर दर्द, तनाव के कारण सिर दर्द और एक तरफ सिर दर्द कई हफ्तों के लिए बना रहता है और जो किसी भी अंतर्निहित बीमारी से संबंधित नहीं होता इस प्रकार का संकेत प्राथमिक HIV एड्स  के संक्रमण का कारण होते हैं।

(और पढ़े – माइग्रेन और सिर दर्द में अंतर क्या होता है)

माध्यमिक सिरदर्द (मेनिसिटिस से साइनस सिरदर्द या सिरदर्द) अन्य बीमारियों से जुड़े हैं जो HIV एड्स  के बाद के चरणों में विकसित होते हैं। जब रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली और कमजोर हो जाती है जिससे उस समय के अवसरवादी संक्रमण को बढ़ने की अनुमति मिलती है।

अक्सर तनाव संबंधी प्रकार के सिर दर्द इन माध्यमिक बीमारियों के कारण माध्यमिक सिर दर्द का कारण बनते हैं।

2000 में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक 131 रोगियों में HIV एड्स के साथ-साथ 45.8 प्रतिशत तनाव से जुड़े सिरदर्द, 16 प्रतिशत मे आइसक्रेन की रिपोर्ट की और 6.1 प्रतिशत अन्य प्रकार के सिर दर्द की सूचना दी।

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण में मतली और उल्टी होना – Nausea and vomiting in early signs of HIV Aids in hindi

STD और एड्स के इंटरनेशनल जर्नल में प्रकाशित 2008 के अध्ययन के मुताबिक मतली और उल्टी HIV एड्स के सबसे आम लक्षण हैं।

चूंकि एचआईवी संक्रमण प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचाता है। इसलिए शरीर प्रारंभिक चरणों में बैक्टीरिया कवक और वायरल संक्रमण का शिकार बन सकता है।

मतली आपके शरीर का सबसे आसान तरीका होता है यह पता लगाने का कि आपका शरीर संक्रमणों के द्वारा प्रभावित हो रहा है।

इसके अलावा यदि आप नियमित रूप से मितली महसूस कर रहे हैं तो यह एचआईवी का संकेत हो सकता है।

(और पढ़े – उल्टी और मतली को रोकने के उपाय)

HIV एड्स के शुरुआती लक्षण का संकेत है दस्त – Diarrhea is early signs of HIV Aids in Hindi

मतली और उल्टी की तरह अतिसार बैक्टीरिया कवक और वायरल संक्रमण के कारण जठरांत्र संबंधी मार्ग में एक विकार उत्पन्न हो जाता है। जब प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है जिसके कारण दस्त होना HIV एड्स  संक्रमण का प्रारंभिक लक्षण हो सकता है।

प्रारंभिक HIV एड्स  के एक सामान्य लक्षण में दस्त गंभीर रूप से रोगी के जीवन की गुणवत्ता को नुकसान पहुंचाता है और अपने नियमित गतिविधियों के साथ हस्तक्षेप करता है।

ऊपर लेख में आपने जाना की HIV एड्स के शुरुआती लक्षण क्या होते है। लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना भी बहुत जरुरी है की ये सारे लक्षण जो आपको बताये गए है वह किसी और बीमारी के कारण भी हो सकते है। इसलिए आपको इनसे घबराने की जरुरत नहीं है अगर आपको इन लक्षणों में से कोई भी अनुभव होते है तो आप डॉक्टर से सलाह ले सकते है और अपने लक्षणों के कारण का पता लगा सकते हैं।

(और पढ़े – एचआईवी टेस्ट क्या है, प्रकार, प्रक्रिया)

एड्स से बचने के उपाय – Measures to Avoid AIDS in Hindi

आज के समय में एचआईवी को रोकने के लिए बहुत से एड्स से उपाय उपलब्ध हैं। परहेज के अलावा, कम लोगों के साथ यौन सम्बन्ध बनाना, सुइयों को कभी भी साझा नहीं करना और हर बार जब आप यौन संबंध बनाते हैं, तो कंडोम का सही तरीके से उपयोग करना।

(और पढ़े – महिलाओं में एचआईवी एड्स के लक्षण)

सुरक्षित यौन संबंध सबसे कारगर तरीका है HIV AIDS एचआईवी एड्स से बचने का।

Leave a Comment

1 Comment

  • हुमको चार साल हो जुका मने बिना कंडोम का किया था लेकिन मेरा वजन कम नही होता bukh भी लगती है थोड़ा infecrion जैसा हो जाता है जब मौसम चेंज होता है तो

Subscribe for daily wellness inspiration