मलेरिया के कारण, लक्षण और बचने के घरेलू उपाय – Malaria Causes Symptoms and Prevention in Hindi

मलेरिया के कारण, लक्षण और बचने के घरेलू उपाय – Malaria Causes Symptoms and Prevention in Hindi
Written by Jaideep

Malaria in Hindi मलेरिया जीवन को खतरे में डालने वाली खून से संबंधित बीमारी है जो मादा एनोफिलीज मच्‍छर के काटने से होती है। इस बीमारी का कारण प्‍लाज्‍मोडियम परजीवी होता है, जो मच्‍छर के द्वारा हमारे शरीर में पहुंचता है। संक्रमित मच्‍छर एक बार मानव को काटते है जिससे परजीवी हमारे खून में पहुंच जाते है और फिर पूरे शरीर पर अतिक्रमण कर लेते है। इस लेख में आप जानेगे मलेरिया के लक्षण, कारण, जाँच, उपचार, इलाज और बचने के घरेलू उपाय के बारे में।

1. मलेरिया का क्‍या कारण है? – What causes malaria in Hindi
2. मलेरिया के लक्षण क्‍या है – What are the Symptoms of malaria in Hindi
3. मलेरिया की जाँच – How is malaria diagnosed in Hindi
4. मलेरिया की जटिलताएं – Complications of malaria in Hindi
5. मलेरिया का उपचार कैसे किया जाता है – How is malaria treated in Hindi
6. मलेरिया रोकने के उपाय – Tips to prevent malaria in Hindi
7. मलेरिया से बचने के प्राकृतिक घरेलू उपाय – Home Remedies For Malaria in Hindi

8. मलेरिया के लिए आहार – Diet for Malaria in Hindi

मलेरिया का क्‍या कारण है? – What causes malaria in Hindi

मलेरिया तब होता है जब ,कोई मच्‍छर प्‍जाज्‍मोडियम (Plasmodium) परजीवी से संक्रमित होकर किसी व्यक्ति को काटता है।

चार प्रकार के मलेरिया परजीवी होते है-

  • प्‍लाज्‍मोडियम वाईवेक्स पी (Plasmodium vivax p)
  • ओवैल पी (ovale P)
  • मलेरिया (malariae)
  • फेल्सीपेरम पी (falciparum P)

जो मनुष्यों को संक्रमित करते है। मलेरिया से होने बाली मौतों के लिए फेल्सीपेरम सबसे बड़ा कारण होता है। यदि गर्भवती महिला मलेरिया से संक्रमित हो तो यह संक्रमण उसके द्वारा बच्‍चे तक पहुंच सकता है। इसे जन्‍मजात मलेरिया के रूप में जाना जाता है। मलेरिया का संक्रमण रक्‍त में होता है, इसलिए यह खून (Blood) के माध्‍यम से भी फैल सकता है।

जो निम्‍न प्रकार से हो सकता है-

  • अंग प्रत्‍यारोपण (Organ transplantation) के माध्‍यम से
  • संक्रमित सुई या सिरिंज का उपयोग करके
  • संक्रमित व्‍यक्ति का खून लेकर

मलेरिया के लक्षण क्‍या है – What are the Symptoms of malaria in Hindi

किसी व्‍यक्ति के मलेरिया संक्रमित (Infected with malaria) होने पर इसके लक्षण 10 दिन से 4 सप्‍ताह के बीच में दिखाई देते है। कुछ मामलों में लक्षण कई महिनों तक नही दिखते, क्‍योंकि कुछ मलेरिया परजीव शरीर में प्रवेश करने के वाद कई महिनों तक निष्क्रिय रह सकते है।

आइए जानते है मलेरिया को पहचानने वाले आम लक्षण :

  • कपकपाहट के साथ ठंड लगना
  • तेज बुखार
  • अधिक मात्रा में पसीना निकलना
  • सर दर्द करना
  • जी मिचलाना
  • उल्‍टी होना
  • पेट में दर्द होना
  • दस्‍त लगना
  • खून की कमी होना
  • मांसपेशियों में दर्द होना
  • शरीर में ऐंठन होना
  • बार बार बेहोश होना
  • मल के साथ खून आना

(और पढ़े – बुखार कम करने के घरेलू उपाय)

मलेरिया की जाँच – How is malaria diagnosed in Hindi

यदि आप में मलेरिया संक्रमण से संबंधित कोई भी लक्षण दिखे तो आपको तुरंत डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए, क्‍योंकि डॉक्टर मलेरिया का परीक्षण और उपचार करने में सक्षम होता है। डॉक्‍टर आपका स्‍वायस्‍थ परिक्षण (health test) करने के बाद आपके द्वारा किए गए पिछले इलाजों का अध्‍ययन करेगा। आपका डॉक्टर यह निर्धारित करने में सक्षम होगा कि क्या आपके पास एक बड़ा प्लीहा या यकृत में सुजन है यदि आपमें मलेरिया के लक्षण हैं, तो आपका डॉक्टर आपके शरीर में मलेरिया की पुष्टि करने के लिए रक्त परीक्षण कराने को कह सकता है। ये परीक्षण दिखाएंगे:

  • यदि मलेरिया है तो वह किस प्रकार का है
  • यह परजीवी (Parasite) किन प्रकार की दवाओं का प्रतिरोधी है
  • यह बीमारी आपके लिए एनिमिया (Anemia) का कारण तो नहीं है
  • इससे आपके कौन कौन अंग प्रभावित होगें

इसके बाद डॉक्‍टर आपका इलाज प्रारंभ करेंगें।

मलेरिया की जटिलताएं – Complications of malaria in Hindi

मलेरिया जीवन के प्रति कई तरह घातक जटिलताएं (complications) पैदा कर सकता है। जो इस प्रकार है:

  • मलेरिया के कारण मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं (Blood vessels) में सूजन (swelling) आ सकती है।
  • गुर्दे (kidneys), तिल्‍ली यकृत (Spleen liver) अंगों को निष्‍क्रिय या विफल कर सकता है।
  • लाल रक्‍त कोशिकाओं (red blood cells) का विनाश करके एनीमिया (Anemia) का कारण बन सकता है।
  • यह लो शुगर लेवल (low sugar level) का कारण भी बन सकता है।

मलेरिया का उपचार कैसे किया जाता है – How is malaria treated in Hindi

मलेरिया एक जानलेवा बीमारी हो सकती है, खासकर अगर आपको फेल्‍सीपेरम प्रकार का मलेरिया है। इस रोग का उपचार आम तौर पर अस्‍पताल में किया जाता है। डॉक्‍टर आपको हुए संक्रमण (Infection) के आधार पर दवाएं लिखेगें। कई वार ऐसा होता है कि वे दवाएं परजीवी (Parasite) की प्रतिरोधक क्षमता को नष्‍ट नही कर पाती तो चिकित्‍सक अन्‍य दवाओं का प्रयोग करते है। कुछ प्रकार के मलेरिया जैसे पी वाईवेक्स (P vivax) और पी ओवल (P ovale) के जीवाणु आपके पेट लंबी अवधि के निष्‍क्रिय पड़े रहते है जो बाद में संक्रमण (Infection) को पुन: फैला सकते है। यदि आपको इस प्रकार का संक्रमण होता है तो डॉक्‍टर द्वारा इस प्रकार की दवाएं दी जाती है जो भविष्‍य में इनके फिर से होने पर उन्‍हें  रोकने में सक्षम हों।

मलेरिया रोकने के उपाय – Tips to prevent malaria in Hindi

मलेरिया रोकने के उपाय – Tips to prevent malaria in Hindi

मलेरिया के लिए अन्य टीकों की तरह किसी प्रकार का टीका उपलब्ध नहीं है। आप इसके लिए अपने डॉक्टर पर ही निर्भर करते है।

यदि आपको मलेरिया होता है तो आपके लिए डॉक्‍टर द्वारा कुछ दवाएं निर्धारित की जा सकती है। ये दवाएं उन अन्‍य सामान्‍य दवाओं की तरह ही उपयोग की जा सकती है।

मच्‍छरों से बचने के लिए आप मच्‍छरदानी (Mosquito net) का उपयोग कर सकते है। जिसके काटने से आप मलेरिया संक्रमित हो सकते है

मलेरिया से बचने के प्राकृतिक घरेलू उपाय – Home Remedies For Malaria in Hindi

  1. मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय है चकोतरा – Grapefruit For Malaria in Hindi
  2. मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय है दालचीनी – Cinnamon Home Remedies For Malaria in Hindi
  3. चूना और नींबू है मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय – Lime and Lemon For Malaria in Hindi
  4. मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय अदरक – Ginger Home Remedies For Malaria in Hindi
  5. मलेरिया से बचाव का उपाय है तुलसी – Basil Home Treatment  For Malaria in Hindi
  6. मलेरिया से बचने के लिए संतरे का रस – Orange Juice Home Remedies For Malaria in Hindi
  7. मेथी बीज मलेरिया से बचने का देशी इलाज – Fenugreek Seeds Home Treatment  For Malaria in Hindi
  8. मलेरिया से बचाव का उपाय है सरसों का तेल – Mustard Seed Oil Home Remedies For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय है चकोतरा – Grapefruit For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय है चकोतरा - Grapefruit For Malaria in Hindi

 हमारे द्वारा लिया जाने वाला भोजन, फल और सब्‍जीयां हमारे उपचार का एक अंग होता है। मलेरिया के लिए सबसे प्रभावी धरेलू उपचार में से एक है चकोतरा, इसे प्रतिदिन नियमित रूप से सेवन करना चाहिए ।

(और पढ़े – चकोतरा के फायदे, गुण और नुकसान)

मलेरिया से बचाव के तरीके में करें दालचीनी का सेवन – Cinnamon Home Remedies For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय है दालचीनी – Cinnamon Home Remedies For Malaria in Hindi

 मलेरिया के उपाय के लिए दालचीनी (Cinnamon) एक बहुमूल्‍य उपाय है। पिसे हुई एक चम्‍मच दालचीनी में एक चुटकी कालीमिर्च पाउडर (freshly ground black pepper)और एक चम्‍मच शहद (Honey) को एक गिलास पानी में उबालें और ठंडा होने के बाद इसको पीएं। यह मलेरिया (malaria) से लड़ने में हमारी मदद करता है।

(और पढ़े – सर्दियों में शरीर के लिए दालचीनी किसी वरदान से कम नहीं)

चूना और नींबू है मलेरिया से बचाव के उपाय – Lime and Lemon For Malaria in Hindi

 चूना और नींबू है मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय – Lime and Lemon For Malaria in Hindi

चूना और नींबू, कार्टैन प्रकार के मलेरिया बुखार को कम करने में महात्‍वपूर्ण भूमिका निभाते है।

चूने की थोड़ी सी मात्रा लें और एक नींबू के रस के साथ एक गिलास पानी में घोल कर इसका सेवन करें यह आपकी बुखार को कम करने में मदद करेगा।

(और पढ़े – गर्म नींबू पानी पीने के फायदे जानकर आप अपने दिन की शुरुआत इसे पीकर ही करेंगे )

मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय अदरक – Ginger Home Remedies For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचने का घरेलू उपाय अदरक – Ginger Home Remedies For Malaria in Hindi

 आपको चाहिए अदरक का एक टुकड़ा और एक कप पानी । अदरक को बारीक काटने के बाद इसे एक कप पानी में कुछ देर के लिए उबालें । ठंडा करने के बाद आप इसे काढ़े के रूप में पी सकते है, स्‍वाद बढाने के लिए आप इसमें शहद भी मिला सकते है। इस तरह इसे एक दिन में दो या तीन बार पीना चाहिए।

(और पढ़े – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग )

अदरक (Ginger) में जिंजरोल जैसे सक्रिय घटक, रोगाणू रोधी (Antibacterial) और प्रतिरोधी तत्‍व होते है जो हमारे स्‍वास्‍थ के लिए लाभकारी होते है। इस तरह के उपाय आपको सरदर्द के साथ साथ पाचन को भी ठीक करता है।

मलेरिया से बचाव का उपाय है तुलसी – Basil Home Treatment  For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचाव का उपाय है तुलसी – Basil Home Treatment  For Malaria in Hindi

पवित्र तुलसी के पत्ते मलेरिया की रोकथाम में एक लाभकारी उपाय हैं। तीन ग्राम काली मिर्च पाउडर के साथ पवित्र तुलसी के ग्यारह ग्राम पत्तियों को लेकर पेस्ट तैयार करें और इसका दिन में एक बार उपयोग करें। यह मिश्रण ठंड के कारण मलेरिया बुखार में लाभदायक होता है।

(और पढ़े – तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान )

मलेरिया से बचने के लिए संतरे का रस – Orange Juice Home Remedies For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचने के लिए संतरे का रस – Orange Juice Home Remedies For Malaria in Hindi

 आपको संतरे का रस (Orange juice) भोजन के साथ उपयोग करना चाहिए। क्‍योंकि इसमें विटामिन सी की अच्‍छी मात्रा होती है। विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करता है। भोजन के साथ संतरे के रस का उपयोग आपकी बुखार (Fever) को कम करने में मदद करता है।

मलेरिया की आयुर्वेदिक दवा है मेथी के बीज  – Fenugreek Seeds Home Treatment  For Malaria in Hindi

 मेथी बीज मलेरिया से बचने का देशी इलाज – Fenugreek Seeds Home Treatment  For Malaria in Hindi

पांच ग्राम मेथी (Fenugreek) या मेथी के कुछ बीजों को रात में भिगोंऍं और सुबह इस पानी को खाली पेट पीने से यह बुखार (Fever) को कम कर सकता है। आप इसका सेवन तब तक कर सकते है जब तक कि मलेरिया संक्रमण (Malaria infection) पूरी तरह से ठीक ना हो जाए।

(और पढ़े – मेथी के फायदे और नुकसान)

बुखार के कारण अक्‍सर रोगी को कमजोरी (Weakness) महशूस होती है। मैथी के बीज इस कमजोरी को दूर करने में मदद करते है। ये हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) को बढ़ाने के साथ मलेरिया परजीवी (Malaria parasite) को नष्‍ट करने में सहायक होते है। इसलिए मलेरिया रोगी को मैथी का सेवन अधिक करना चाहिए।

आयुर्वेदिक मेडिसिन फॉर मलेरिया सरसों का तेल – Mustard Seed Oil Home Remedies For Malaria in Hindi

मलेरिया से बचाव का उपाय है सरसों का तेल – Mustard Seed Oil Home Remedies For Malaria in Hindi

सरसों का तेल, विशेष रूप से काली सरसों के बीज एंटीमलेरियल (Antimalarial) गतिविधि वाले होते है। इसका उपयोग नियमित रूप से आहार के साथ जोड़कर किया जा सकता है। यह शरीर को संक्रमण से बचाता है। इसलिए सरसों या सरसों के तेल (Mustard oil) का उपयोग मलेरिया पीड़ित व्यक्ति को जरूर करना चाहिए।

(और पढ़े – सरसों के तेल के फायदे स्वास्थ्यवर्धक लाभ और नुकसान)

मलेरिया में क्या खाये, मलेरिया के लिए आहार – Diet for Malaria in Hindi

मलेरिया के लिए आहार - Diet for Malaria in Hindi

मलेरिया के लिए बुनियादी आहार तीन चरणों में विभाजित किया जा सकता है

  1. मलेरिया का निदान करने के बाद, मरीज को संतरे का रस आहार में दिया जाना चाहिए जो एक सप्ताह से 10 दिनों तक दिया जा सकता है।
  2. 10 दिनों के बाद, ताजे फल को रोगी के आहार का एक बड़ा हिस्सा बनाना चाहिए। रोगी को पपीता, संतरे, सेब, अनानास, अंगूर और आमों का सेवन करना चाहिए। फल आहार 3 दिनों के लिए होना चाहिए
  3. रोगी एक संतुलित और स्वस्थ आहार चार्ट का पालन कर सकता है जिसमें फलों, सब्जियां, साबुत अनाज और सूखे मेवे शामिल हैं। इस दौरान मरीज को 1200 कैलोरी आहार लेना चाहिए

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की उपरोक्त घरेलू उपचार का उपयोग करके एक स्वच्छ और साफ वातावरण अपने आसपास बनाकर रखने पर मलेरिया से खुद को बचाया जा सकता है।  मच्छर से बचाने वाली क्रीम, दवाएं और साधनों का उपयोग करके और रात में मच्छरदानी का उपयोग कर मलेरिया से बचा जा सकता है।

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | घरेलू उपाय | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी | बीमारी | महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration