जड़ीबूटी

मेथी के फायदे, उपयोग और नुकसान – Fenugreek Seeds (Methi) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

मेथी के फायदे और नुकसान - Fenugreek Benefits and side effects in Hindi

Methi ke fayde in hindi मेथी हर घर में सामान्य मसालों की तरह उपयोग की जाने वाली एक आयुर्वेदिक औषधी होती है। मेथी दाना पाचन क्रिया के लिए लाभकारी होता है। मेथी के बीज के पाउडर का प्रयोग बहुत सी बीमारियों को दूर करने के लिए दवाओं को बनाने में पूरक के रूप में किया जाता है। शुगर (Diabetes), मासिक धर्म (Menstrual cycle), मोटापा, पेट की सूजन जैसी बीमारियों को दूर करने के लिए यह असरदार होती है। भारत में सदियों से  मेथी के पत्ते और दानों को आयुर्वेदिक औषधि के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। इस लेख में आप जानेंगे मेथी के फायदे, गुण, लाभ, उपयोग और नुकसान (Methi Ke Fayde Aur Nuksan in Hindi) के बारे में।

मेथी में बहुत से एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन होते है जो हमारे स्वास्थ्य पर अच्‍छे प्रभाव के लिए जाने जाते है। मेथी को एक कीट प्रतिरोधक के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। इसमें नाइट्रोजन, और पोटेशियम अच्‍छी मात्रा में होते है। इसका प्रयोग पुरूष बांझपन (Male infertility), पुरुष हर्निया माताओं में दूध उत्पादन, रक्त शर्करा के स्तर में कमी, टेस्टोस्टेरोन और पुरुष कामेच्छा में वृधि, और सूजन का इलाज आदि के उपचार में भी किया जाता है। आज के इस लेख में हम आपको मेथी के फायदों (methi ke fayde) के बारे में तो बताएंगे ही। साथ ही मेथी से नुकसान के बारे में भी जानकारी देंगे।

विषय सूची

1. मैथी क्‍या है – What is Fenugreek in Hindi
2. मेथी के फायदे – Fenugreek ke fayde in hindi

  1. स्‍वस्‍थ मस्तिष्‍क के लिए मेथी के फायदे – methi ke fayde For Brain Function in Hindi
  2. मेथी के लाभ मधुमेह के लिए – Fenugreek For Diabetes in Hindi
  3. मासिक धर्म के दर्द से बचने में मेथी पाउडर के फायदे – methi powder ke fayde For Menstrual periods in Hindi
  4. मेथी के फायदे वजन कम करने में – methi dana for weight loss in hindi
  5. मैथी के फायदे कोलेस्‍ट्रोल कम करने में – methi dana ke fayde For lower Cholesterol in Hindi
  6. मेथी के फायदे त्‍वचा के लिए – Fenugreek Benefits For Skin in Hindi
  7. मैथी के औषधीय गुण पाचन के लिए – Fenugreek For Digestion
  8. बुखार के लिए लाभकारी मेथी के फायदे – Fenugreek Benefits For Fever in Hindi
  9. मेथी के फायदे स्‍तन दूध बढ़ाने में – Fenugreek benefits For Breast milk production in Hindi
  10. मेथी के गुण कैंसर से बचने के लिए – Fenugreek Prevent Cancer in Hindi
  11. गठिया के लिए मेथी के फायदे – Fenugreek Prevent Arthritis in Hindi

3. मैथी के नुकसान – Methi ke nuksan in hindi

मैथी क्‍या है? – What is Fenugreek in Hindi

मेथी क्‍या है – What is Fenugreek in Hindi

मेथी (वैज्ञानिक नाम Trigonella foenum-graecum) एक पौधा है जो लगभग 2-3 फीट (60–90 सेमी) लंबा होता है। इसमें हरे पत्ते, छोटे सफेद फूल और फली होती है जिसमें छोटे, सुनहरे-भूरे रंग के बीज होते हैं।

मैथी के बीज को भारत में मेथी दाना के नाम से भी जाना जाता है मेथी वर्ष में एक बार फलने बाला औषधीय पौधा है, जिसमें छोटे- छोटे सफेद फूल आते है यह मटर परिवार (Fabaceae) का पेड़ है। मेथी का स्‍वाद कुछ कड़वा सा होता है जैसे अजवाइन, या जली हुई चीनी के समान। इसका उपयोग मसालों के रूप में भी किया जाता है। यह सूजन को ठीक करने में मददगार होता है। औद्योगिक रूप से मेथी का उपयोग मेथी अर्क (Extract), साबुन और सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। भूमध्य क्षेत्र, दक्षिण यूरोप और पश्चिम एशिया में इसकी खेती बहुतायत में होती है।

हजारों वर्षों से, मेथी का उपयोग त्वचा की समस्याओं और कई अन्य बीमारियों के इलाज के लिए वैकल्पिक और चीनी दवा में किया जाता है। मेथी के बीज और पाउडर का उपयोग कई भारतीय व्यंजनों में भी किया जाता है।

आपको बता दें मैथी और मेथी के तेल में एंटीमाइक्रोबायल, एंटीआक्‍सीडेंट, एंटीडाइबेटिक और एंटीट्यूमोरिजेनिक (Antimicrobial, Antioxidant, Anti-diabetic and Anti-tumorigenic) गुण होते है। जो कि हमारे स्‍वास्‍थ के लिए लाभदायक होते है। यहाँ उन आयुर्वेदिक उपायों पर एक नज़र डालते हैं जो आमतौर पर मेथी दाना का उपयोग करते हैं आइए, अब हम सेहत, त्वचा और बालों के लिए मेथी के फायदे (methi ke fayde) जानते हैं।

मेथी के पौष्टिक तत्व – Fenugreek Seeds Nutritional Value in Hindi

मेथी के बीज में एक स्वस्थ पोषण प्रोफ़ाइल होता है, जिसमें फाइबर और खनिजों की अच्छी मात्रा होती है, जिसमें लोहा और मैग्नीशियम शामिल हैं। साबुत मेथी के एक चम्मच (11.1 ग्राम) में 35 कैलोरी और कई पोषक तत्व होते हैं:

  • फाइबर: 3 ग्राम
  • प्रोटीन: 3 ग्राम
  • कार्ब: 6 ग्राम
  • वसा: 1 ग्राम
  • लोहा: दैनिक मूल्य का 20%
  • मैंगनीज: दैनिक मूल्य का 7%
  • मैग्नीशियम: दैनिक मूल्य का 5%

मेथी के फायदे – Methi ke fayde in hindi

मेथी के फायदे - Fenugreek ke fayde in hindi

मेथी के फायदे स्‍वस्‍थ मस्तिष्‍क के लिए – Methi ke fayde For Brain Function in Hindi

मैथी में कई प्रभावकारी गुण होते है उनमें से एक गुण यह है कि यह हमारे मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ और निरोगी रखता है। यह अल्‍जाइमर (Alzheimer’s) जिसे हम भूलने की बीमारी भी कहते हैं और पार्किंसंस रोगो के लक्षणों को कम कर उनसे होने वाले नुकसानों से हमारी रक्षा करता है। मेथी बीज के पाउड़र का उपयोग अल्‍जाइमर रोग के साथ साथ ऑक्‍सीडेटिव तनाव, सूजन, याददाश्त में कमी (Memory loss) को कम करने में मदद करता है। इन्‍ही वजह से मेथी हमारे स्‍वास्‍थ के लिए फायदेमंद होती है।

मधुमेह के लिए मेथी के लाभ – Fenugreek For Diabetes in Hindi

शुगर के मरीजों को अक्सर अपनी डाइट में मेथी के दाने शामिल करने के लिए कहा जाता है। मैथी में रक्‍त शर्करा को कम करने के गुण पाए जाते है। कुछ अध्‍ययन बताते है कि मैथी के बीजों का सेवन करने से टाईप – 2 डायबिटीज (Type-2 diabetes) वाले लोगों के खून में शुगर का स्‍तर कम होता है। मेथी के बीजों को प्रतिदिन 5 – 50 ग्राम तक ही खाना चाहिए। मेथी के दाने रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करते हैं और इंसुलिन की संवेदनशीलता को बेहतर करते हैं। मधुमेह वाले लोगों में मैथी के उपयोग से मूत्र में शर्करा की मात्रा कम हो जाती है।

साक्ष्य रक्त शर्करा नियंत्रण और टाइप 1 और 2 मधुमेह के उपचार में मेथी की भूमिका का समर्थन करते है। एक अध्ययन में, टाइप 1 मधुमेह वाले लोगों ने दोपहर और रात के खाने में 50 ग्राम मेथी के बीज का पाउडर लिया। 10 दिनों के बाद, प्रतिभागियों ने बेहतर रक्त शर्करा के स्तर और कुल और एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल में कमी का अनुभव किया।

एक अन्य अध्ययन में, बिना मधुमेह वाले लोगों ने मेथी ली। उन्होंने सेवन के 4 घंटे बाद रक्त शर्करा के स्तर में 13.4% की कमी का अनुभव किया। इंसुलिन फ़ंक्शन को बेहतर बनाने में मेथी की भूमिका के कारण ये लाभ हो सकते हैं। मेथी के पाउडर या बीज का उपयोग करके अध्ययन में देखा गया कि यह प्रभाव इसकी उच्च फाइबर सामग्री के कारण हो सकता है।

मेथी के बीज के पाउडर और आंवला के संयोजन से मधुमेह की बीमारी का मुकाबला करने में मदद मिल सकती है। “सूखे आंवले का पाउडर, हल्दी और मेथी के बीज के पाउडर को बराबर मात्रा में लें। इस मिश्रण के एक चम्मच को मधुमेह से रहत  के लिए दिन में तीन बार पानी के साथ लिया जा सकता है”।

(और पढ़े – मधुमेह को कम करने वाले आहार )

मासिक धर्म के दर्द से बचने में मेथी पाउडर के फायदे  – Methi powder ke fayde For Menstrual periods in Hindi

महिलाओं को मासिक धर्म के समय असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है। मेथी के दाने इससे राहत दिलाने में कारगर काम करते हैं। मेंथी पाउडर का उपयोग मासिक धर्म के तीन दिन पहले से इस्‍तेमाल किया जाए तो इस प्रकार की समस्‍या से बचा जा सकता है। साथ ही मासिक धर्म से जुड़ी अन्य समस्याओं से भी राहत मिल सकती है। मेथी में एस्‍ट्रोजेन जैसे गुणों के साथ डायोजजेनिन और इससोफ्लावोन जैसे यौगिक होते है जो मासिक धर्म से जुड़े ऐंठन जैसे लक्षणों को कम करने में मदद करते है। यदि इससे पीडि़त महिला नियमित रूप से मेथी का उपयोग करे तो उसे मासिक धर्म के समय होने वाली पीड़ा को दूर करने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़े – पीरियड्स में पेट दर्द का घरेलू उपाय)

मेथी के फायदे वजन कम करने में – Methi dana for weight loss in hindi

आप अपने बढ़ते वजन को लेकर परेशान है। यदि ऐसा है तो डरें नहीं क्‍योंकि आपके लिए वजन कम करने की एक आयुर्वेदिक औषधी के रूप में मैंथी दाना उपलब्‍ध है। अगर आप वजन कम करना चाहते हैं, तो मेथी आपकी मदद कर सकती है। यह आपके वजन को कम करने में आपके लिए बेहद लाभकारी साबित हो सकती है। परिक्षणों से पता चलता है कि मेथी के बीजों का सेवन करने वाले व्‍यक्तियों में वसा की मात्रा चमत्‍कारिक ढ़ंग से घटने लगता है। यदि इसका सेवन नियमित रूप से किया जाए तो यह आपके वजन को घटाने में मदद सकता है।

सुबह खाली पेट भीगीं हुई मैथी को खाने से आप अपने वजन को कम कर सकते है। मेथी के दाने शरीर में फैट को जमा नहीं होने देते। मेंथी में उपस्थित घुलनशील फाइबर पेट की सूजन को कम कर सकते है जिससे आपकी भूख दवाने और वजन घटाने में फायदा होता है।

(और पढ़े – पानी पीकर वजन कम करने के उपाय)

मेथी के फायदे कोलेस्‍ट्रोल कम करने में – Methi dana ke fayde For lower Cholesterol in Hindi

कोलेस्‍ट्रोल को कम करने में मेथी अद्वितीय है।शोध के अनुसार मेथी के दानों में कोलेस्ट्रॉल को कम करने की क्षमता है। मेथी के बीजों का सेवन करने से निम्न घनत्व वाला लिपोप्रोटीन (lipoprotein) या खराब कोलेस्ट्रॉल कम होता है। इसलिए यदि स्‍वस्‍थ शरीर की इच्‍छा रखते है तो मैथी को अपने आहार में शामिल करें यह आपके स्‍वास्‍थ के लिए लाभकारी होता है।

मेथी के फायदे त्‍वचा के लिए – Fenugreek Benefits For Skin in Hindi

मैथी आपकी त्वचा के लिए भी फायदेमंद होती है। इसमें म्‍यूसीज (mucilage) होता है यह एक चिपचिपा (gooey) पोषक पदार्थ होता जो आपकी त्वचा को शुष्क होने से बचाता है। मेथी का पेस्‍ट चेहरे पर लगाने से यह आपके चेहरे के दागो को दूर करता है और आपके रंग को निखारता है। यह सैपोनिन एक्‍सपोजर (saponin exposure) के बाद त्‍वचा कोशिकाओं में आई सूजन (swelling) को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – गोरी और चमकदार त्वचा पाने के लिए बाबा रामदेव के सौंदर्य टिप्स)

मैथी में बहुत सारे कैरोटीनोइड होते हैं जो एंटीऑक्‍सीडेंट अणु होते जो शरीर में विटामिन ए के रूप में परिवर्ति होते है। यह त्‍वचा के घाव भरने के साथ उसके विकास को बढ़ाने में मदद करता है।

मुँहासे के लिए मेथी के बीज के फायदे – Fenugreek seeds for acne in Hindi

जिन्हें कील-मुंहासों की शिकायत है, उन्हें मेथी का उपयोग जरूर करना चाहिए। मुंहासों को खत्म करने में मेथी दाना मददगार साबित हो सकता है। मेथी की चाय के नियमित सेवन से रक्त को शुद्ध करने और संक्रमण को दूर रखने में मदद मिल सकती है। यह त्वचा को स्वस्थ, स्पष्ट और फुंसी मुक्त रखने में मदद कर सकता है। मेथी के पत्तों को किसी दूसरे पेस्ट में मिलाया जा सकता है जिसे प्रभावित जगह पर लगाया जा सकता है। मुँहासे ठीक करने के लिए इसे रात में लगाएं और सुबह धो लें।

बालों की सेहत के लिए मेथी दाना के लाभ – Fenugreek seeds for hair health in Hindi

मेथी के पेस्ट को स्कैल्प क्लींजर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। “स्कैल्प और बालों पर ताजा मेथी का पेस्ट लगाएँ और 20 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर बिना किसी शैम्पू के पानी से धो लें।” बालों के मास्क में पहुंचने के लिए मेथी के बीज के पाउडर का उपयोग अन्य सामग्रियों के साथ किया जा सकता है जो बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं और बालों के झड़ने से रोक सकते हैं। मेथी के दाने, मुंग की दाल , शिकाकाई , नीबू के छिलके और करी पत्ते को बराबर मात्रा में लें। इसे हेयर क्लींजर की तरह इस्तेमाल करें।

मेथी के औषधीय गुण पाचन के लिए – Methi khane ke fayde For Digestion in Hindi

मैथी हमारी पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करती है। आजकल हमारा खान-पान जिस तरह को हो गया है, उससे हमारा पाचन तंत्र लगातार खराब हो रहा है। इससे बचने के लिए मेथी का सेवन करना एक अच्छा उपाय है। इसमें बहुत सारे फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant) अच्‍छी मात्रा में होते है। यह हमारे शरीर मे उपस्थित हानिकारक बैक्‍टीरिया को हटाने मे मदद करते है। इसमें उपस्थित फाइबर घुलनशील होता है जिसको आसानी से पचाया जा सकता है। मेथी का चाय (Tea) के रूप में उपयोग करने से हम अपच, कब्ज और पेट दर्द जैसी समस्‍याओं को दूर कर सकते है।

कब्‍ज के लिए आप मैथी के काढ़े का उपयोग कर सकते है। आंत्र को साफ करने के लिए मेथी साग करी उत्कृष्ट है। इस तरह यह आपके पाचन और पेट से जुड़ी समस्‍याओं को दूर करने में आपकी मदद कर सकती है। बदहजमी, कब्ज, एसिडिटी और गैस जैसी समस्याओं को मेथी के सेवन से दूर किया जा सकता है। कब्ज के कारण खराब हुए पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए मेथी कारगर घरेलू नुस्खा है।

(और पढ़े –क्या आप जानते है पेट में खाना पच रहा है या सड़ रहा है)

बुखार के लिए लाभकारी मेथी के फायदे – Fenugreek Benefits For Fever in Hindi

हालांकि बुखार को ठीक करने में मेथी के बीजों की कम भूमिका होती है, लेकिन यह निश्चित रूप से उन स्थितियों से जुड़ी कुछ असुविधाओं को दूर करता है जिनमें बुखार के साथ दस्त या पेचिश होता है। मेथी में बुखार (Fever) को कम करने के गुण विद्यमान होते है। यदि आप बुखार से पीडित है तो आप मैथी शहद और नीबू के रस के घोल का सेवन करें। यह आपके शरीर के अधिक तापक्रम और कमजोरी को दूर करने में सहायाता करेगा। साथ ही यह मिश्राण आपको गले की खांसी और दर्द से भी राहत दिलाने मदद करता है।

मेथी की चाय के सेवन से मुंह में होने वाले दुर्गंध से छुटकारा मिल सकता है जो अक्सर बुखार और लंबे समय तक बीमारी का अनुभव करता है। आधा चम्मच मेथी के बीज लें और उन्हें उबालें। इसे ठंडा होने दें, बीज को बाहर निकाल दें। एक चम्मच नींबू का रस, कुछ शहद मिलाएं और सेवन करें।

(और पढ़े- ऐसे दूर रहें वायरल फीवर से)

मेथी के फायदे स्‍तन दूध बढ़ाने में – Methi benefits For Breast milk production in Hindi

शोध बताते हैं कि मेथी दूध बढ़ाने के लिए एक सुरक्षित, प्राकृतिक विकल्प हो सकता है। अनुसंधान से पता चलता है कि मेथी स्तनदूध उत्पादन और नवजात शिशुओं में वजन बढ़ने की दर को बढ़ा सकती है। स्तनपान करा रहीं महिलाओं को मेथी का सेवन जरूर करना चाहिए, इससे स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ती है। कुछ शोधों के अनुसार मेथी के बीज के पाउडर का सेवन स्तनपान कराने वाली महिलाओं (Breastfeeding women) में दूध उत्‍पादन बढ़ता है। कुछ अध्‍ययन यह भी बताते है कि मैथी को अकेले ही या अन्‍य पदार्थो के साथ चाय के रूप में लेने पर भी दूध की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है।

मेथी के गुण कैंसर से बचने के लिए – Fenugreek Prevent Cancer in Hindi

मैथी मे उपस्थित फाइबर हमारे शरीर से हानि पहुंचाने वाले तत्‍वों को इक्‍हट्टा कर बाहर निकालने में मदद करते है। साथ ही कैंसर को रोकने में मदद करते है। इसलिए मैथी का उपयोग हमें नियमित करना चाहिए।

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय)

मेथी के फायदे कामेच्छा बढ़ाने में – Fenugreek boost testosterone levels in men in Hindi

प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि मेथी पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर और यौन कार्य को बढ़ावा दे सकती है। पुरुषों के लिए मेथी का उपयोग के सबसे आम कारणों में से एक है पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा देना। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि इसका लाभकारी प्रभाव है, जिसमें कामेच्छा में वृद्धि भी शामिल है। एक 6-सप्ताह के अध्ययन में यौन क्रिया और कामेच्छा में परिवर्तन का आकलन करने के लिए 600 मिलीग्राम मेथी के सेवन 30 पुरुषों के द्वारा किया गया। अधिकांश प्रतिभागियों ने ताकत बढ़ाने और यौन कार्य में सुधार की सूचना दी। हालांकि, अभी इसपर और अधिक शोध की आवश्यकता है।

मेथी खाने के फायदे गठिया के लिए – Fenugreek Prevent Arthritis in Hindi

इसलिए, मेथी दाने के फायदे (methi dana ke fayde) जोड़ों व हड्डियों में होने वाले दर्द से भी राहत दिला सकते हैं। गठिया (Arthritis) एक प्रकार की बीमारी होती है जिसे आम बोल चाल की भाषा में गठिया बाद कहा जाता है। यह जोड़ो में होने वाली सूजन और असहनीय दर्द देता है। साथ ही मांसपेशियों में बहुत तेज दर्द पैदा करता है। इससे निपटने के लिए मेथी रामबाण नुस्खा है, जिसे सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है। इस समस्‍या से बचने के लिए हमे मेथी को नियमित रूप से खाना चाहिए। कुछ अध्‍ययनों द्वारा भी इसकी पुष्‍टी की जा चुकी है। मेथी में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ये तत्व जोड़ों की सूजन को कम करके आर्थराइटिस के दर्द से राहत दिलाते हैं।

(और पढ़े – गठिया (आर्थराइटिस) कारण लक्षण और वचाब)

मेथी के नुकसान – Methi ke nuksan in Hindi

मेथी के नुकसान – Fenugreek side effects in Hindi

मैथी को सामान्‍य और संतुलित रूप से खाने पर किसी प्रकार की हानि नहीं होती है। यदि इसका उपयोग ज्‍यादा समय तक या ज्‍यादा मात्रा में किया जाता है तो इससे कुछ कष्‍टदायक प्रभाव हो सकते है जैसे कि दस्‍त, पेट में दर्द, सूजन, गैस की समस्‍या, गले में खरखराहट, चेहरे में सूजन एलर्जी आदि हो सकती है। इसका ज्‍याद उपयोग आपके शरीर ब्‍लड शुगर की मात्रा को कम कर सकता है। आइये जानते है मेथी खाने के नुकसान क्या है-

  • मेथी के नुकसान गर्भावस्‍था में (Pregnancy) : गर्भावस्था के समय मैथी का उपयोग सुरक्षित होता है। लेकिन प्रसव पूर्व मेथी का सेवन करने से नवजात शिशु के शरीर से अजीब सी गंध आ सकती है जो “मेपल सिरप मूत्र रोग” के लक्षण के रूप में आपको गुमराह कर सकती है। यह प्रभाव कुछ समय के लिए होते है। (और पढ़े – गर्भावस्था के समय क्या न खाएं)
  • ज्यादा मेथी के नुकसान बच्चों के लिए (for children): मेथी बच्‍चों के लिए सामान्‍य रूप से खाने पर लाभकारी और सुरक्षित होती है। लेकिन कुछ जांचों से पता चलता है कि मेथी की चाय पीने से बच्‍चों के समझने की शक्ति कम हो सकती है। (और पढ़े – अगर चाहिए परीक्षा के समय तेज दिमाग तो बच्चों के आहार में सामिल करें इन चीजो को)
  • मेथी के नुकसान मधुमेह में (diabetes) : यदि आप मधुमेह की दवा और मेथी दोनों  ले रहे हैं, तो आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर को मापना चाहिए ताकि वे बहुत कम न हों और हाइपोग्लाइसीमिया का कारण बनें। चूंकि मेथी रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है, और मेथी डायबिटीज रोगियों के खून में चीनी के स्तर को प्रभावित कर सकती है। यह रक्त शर्करा को कम करने का गुण दर्शाती है। यदि आप मधुमेह रोगी है और मेथी को नियमित रूप से खा रहे है तो आप खून में शुगर मात्रा (sugar in blood) की जांच कराते रहें।
  • रक्तस्राव: मेथी में Coumarin नामक एक रासायनिक यौगिक होता है जो रक्त को पतला करने का काम कर सकता है। हालांकि शोधकर्ता अभी तक यह नहीं जानते हैं कि मेथी की सामान्य खुराक का रक्त पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है या नहीं, लेकिन वे लोगों को रक्त-पतला होने या एंटी-कोआगुलेंट दवाओं के साथ मेथी के सेवन से सावधान रहने और मेथी की खुराक लेने से पहले अपने डॉक्टरों से परामर्श करने की चेतावनी देते हैं।
  • एलर्जी प्रतिक्रियाएं: जब भी आप अपने आहार में किसी नयी चीज शुरू कर रहे हैं, तो आपको किसी भी संभावित एलर्जी प्रतिक्रियाओं के बारे में पता होना चाहिए। मेथी छोले, हरी मटर, सोयाबीन, और मूंगफली के ही परिवार से है, इसलिए आपको अपने शरीर की प्रतिक्रिया के बारे में विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए अगर आपको इनमें से किसी भी खाद्य पदार्थ से एलर्जी है। एक से एलर्जी का मतलब यह नहीं है कि आपको दूसरे से भी एलर्जी होगी, लेकिन आपको सावधानी से आगे बढ़ना चाहिए यदि आपने पहले कभी भी मेथी का सेवन नहीं किया है।

(और पढ़े – सरसों के बीज के फायदे और स्वास्थ्य लाभ )

मेथी के बीज वात और कफ वाले लोगों के लिए उत्कृष्ट हैं। मेथी बीज प्रकृति में गर्म होते हैं और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए इस तरह के प्राकृति वाले लोगों को शरीर में अतिरिक्त अग्नि की आवश्यकता होती है। मेथी के बीज अम्ल-विरोधी होते हैं। मेथी के बीज के पाउडर को भोजन के बाद लिया जा सकता है। भोजन के बाद 1/2 चम्मच मेथी के बीज के पाउडर एसिडिटी दूर करने और पाचन को बढ़ावा देने के लिए लिया जा सकता है। अंकुरित मेथी के बीज मधुमेह रोगियों के लिए और अग्नाशय के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्ट हैं। रात भर भिगोएँ और अपने स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए इन्हें सुबह पानी सही है।

उपलब्ध प्रमाणों के आधार पर, मेथी में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने, टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा देने और स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए लाभदायक है। मेथी कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती है , सूजन को कम कर सकती है और भूख नियंत्रण में मदद कर सकती है, लेकिन इन क्षेत्रों में अधिक शोध की आवश्यकता है।

मेथी के बीज के उपयोग के विभिन्न तरीकों को जानने के लिए किसी प्रमाणित आयुर्वेद चिकित्सक से संपर्क करें जिसके माध्यम से मेथी के बीज और पत्ते दोनों का उपयोग अधिकतम स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने में आपकी सहायता के लिए किया जा सके।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration