फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) क्या है, लक्षण, कारण, जांच और इलाज – What is Uterine Fibroids In Hindi

फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) क्या है, लक्षण, कारण, जांच और इलाज - What is Uterine Fibroids In Hindi
Written by Pratistha

Fibroids in Hindi फाइब्रॉएड यानी गर्भाशय में रसौली क्या है? बच्चेदानी या गर्भाशय फाइब्रॉएड वो असामान्य ग्रोथ होती हैं जो किसी महिला के गर्भाशय में विकसित होती है। कभी-कभी ये ट्यूमर काफी बड़े हो जाते हैं और गंभीर पेट का दर्द और हैवी पीरियड फ्लो का कारण बनते हैं। अन्य मामलों में, वे बिल्कुल कोई संकेत या लक्षण नहीं पैदा करते हैं। इनकी वृद्धि आमतौर पर नॉन कैन्सरस (noncancerous) हैं। फाइब्रॉएड होने का कारण अज्ञात है। इस लेख में आप गर्भाशय फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) क्या है, लक्षण, कारण और इलाज के बारे में जानेंगे।

फाइब्रॉएड निम्नलिखित नामों से भी जाना जाता है:

  • लेइोम्योमा (leiomyomas)
  • म्योमास (Myomas)
  • गर्भाशय म्योमास (Uterine Myomas)
  • फिबरोमास (Fibromas)

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) के अनुसार, लगभग 80 प्रतिशत महिलाओं में फाइब्रॉएड की समस्या 50 वर्ष की आयु तक हो जाती है। हालांकि, ज्यादातर महिलाओं में कोई लक्षण नहीं दिखायी देता है और कभी तो यह भी नहीं पता चल पाता कि उनके गर्भाशय में फाइब्रॉएड हैं।
आपके रोग का निदान आपके फाइब्रॉएड के आकार और स्थान पर निर्भर करेगा। यदि वे छोटे होते हैं या लक्षण नहीं पैदा करते हैं तो फाइब्रॉएड को उपचार की आवश्यकता नहीं होती है।

1. फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) के प्रकार – Types of Fibroids In Hindi

2. गर्भाशय में रसौली (फाइब्रॉएड होने) के लक्षण – Symptoms of having Fibroid In Hindi
3. गर्भाशय फाइब्रॉएड के कारण – Causes of Fibroid In Hindi
4. क्या आप फाइब्रॉएड के खतरे में हैं? – Are you having danger of Fibroid In Hindi
5. फाइब्रॉएड का निदान या जांच – Diagnosis of Fibroid In Hindi
6. निम्नलिखित टेस्ट फाइब्रॉएड का पता लगा सकते हैं – Tests to detect Fibroid In Hindi
7. फाइब्रॉएड का इलाज कैसे किया जाता है – Fibroids Treatment In Hindi

8. गर्भाशय फाइब्रॉएड का घरेलू और प्राकृतिक उपचार – Home remedies and natural treatment for Fibroid In Hindi

फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) के प्रकार – Types of Fibroids In Hindi

फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) के प्रकार - Types of Fibroids In Hindi

महिला के गर्भाशय में फाइब्रॉएड किस स्थान पर विकसित हुआ है इससे ये बता सकते हैं की वह किस प्रकार का फाइब्रॉइड है। इसके पांच प्रकार हैं –

इंट्रामरल फाइब्रॉएड – Intramural fibroids in Hindi

यह फाइब्रॉइड का सबसे आम प्रकार है। इंट्रामरल फाइब्रॉएड गर्भाशय की मांसपेशियों की दीवार के भीतर दिखाई देते हैं। इंट्रामरल फाइब्रॉएड बड़ा हो सकता है और आपके गर्भ में फैल सकता है।

सब्सक्राइबर फाइब्रॉएड – Subserosal fibroids in Hindi

सब्सरोसाल फाइब्रॉएड आपके गर्भाशय के बाहर होते हैं, जिसे सेरोसा (serosa) कहा जाता है। वे इतने बढ़ सकते हैं की आपका गर्भाशय एक तरफ से बढ़ा हुआ दिखने लगे।

सब्म्युकोसल फाइब्रॉएड – Submucosal fibroid in Hindi

इन प्रकार के ट्यूमर आपके गर्भाशय के मध्य मांसपेशी परत, या मायोमेट्रियम में विकसित होते हैं। सब्म्युकोसल ट्यूमर अन्य फाइब्रॉएड की तरह आम नहीं हैं।

पिडनकुलेटेड फाइब्रॉएड – Pedunculated fibroid in Hindi

सब्ससिरोज़ल ट्यूमर एक स्टेम विकसित कर सकते हैं, एक पतला आधार जो ट्यूमर का समर्थन करता है। जब वे ऐसा करते हैं, तो वे pedunculated फाइब्रॉएड के रूप में जाने जाते है।

सर्वाइकल फाइब्रॉएड – Cervical fibroids in Hindi

यह फाइब्रॉएड गर्भ की गर्दन में विकसित होते हैं, जिसे सर्विक्स नाम से जाना जाता है।

(और पढ़े – गर्भाशय की जानकारी, रोग और उपचार…)

गर्भाशय में रसौली (फाइब्रॉएड होने) के लक्षण – Symptoms of having Fibroid In Hindi

गर्भाशय में रसौली (फाइब्रॉएड होने) के लक्षण - Symptoms of having Fibroid In Hindi

गर्भाशय में फाइब्रॉएड होने पर आमतौर पर तीन में से कोई एक ही महिला को लक्षणों का अनुभव होता है।

गर्भाशय में रसौली के लक्षण लक्षण नीचे दिए गये हैं:

(और पढ़े – पैर में दर्द का कारण और आसान घरलू उपचार…)

गर्भाशय फाइब्रॉएड होने के अन्य संभावित लक्षणों में शामिल हैं:

  • लेबर की समस्याएं
  • गर्भावस्था की समस्याएं
  • प्रजनन की समस्याएं
  • बार-बार गर्भपात
  • अगर फाइब्रॉएड बड़े होते हैं, तो निचले पेट में वजन बढ़ना और सूजन हो सकती है।
  • एक बार फाइब्रॉइड विकसित हो जाने पर, यह रजोनिवृत्ति तक बढ़ सकता है। चूंकि रजोनिवृत्ति के बाद एस्ट्रोजेन का स्तर गिरता है, जिससे फाइब्रॉइड आमतौर पर कम हो जाएगा।

(और पढ़े – गोली द्वारा गर्भपात (मेडिकल एबॉर्शन) कैसे किया जाता है, तरीका, नुकसान और कानून…)

गर्भाशय फाइब्रॉएड के कारण – Causes of Fibroid In Hindi

गर्भाशय फाइब्रॉएड के कारण – Causes of Fibroid In Hindi

हार्मोन-  एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन वो हार्मोन होते हैं जो आपके गर्भाशय की लाइनिंग को आपके पीरियड्स के दौरान हर महीने मोटा कर देते हैं। वे फाइब्रॉइड विकास को भी प्रभावित करते हैं। जब रजोनिवृत्ति के दौरान हार्मोन उत्पादन धीमा हो जाता है, फाइब्रॉएड आमतौर पर कम हो जाते हैं।

जेनेटिक्स-  शोधकर्ताओं ने गर्भाशय में फाइब्रॉएड और सामान्य कोशिकाओं के बीच अनुवांशिक मतभेद पाए हैं।

परिवार का इतिहास- फाइब्रॉएड परिवार में आंगे चल सकता है। अगर आपकी मां, बहन या दादी के पास इस स्थिति का इतिहास है, तो आप भी इसे विकसित कर सकती हैं।

गर्भावस्था- गर्भावस्था आपके शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के उत्पादन को बढ़ाती है। गर्भवती होने पर फाइब्रॉएड तेजी से विकसित हो सकते हैं और बढ़ भी सकते हैं।

(और पढ़े – प्रोजेस्टेरोन के कार्य एवं गर्भावस्था में इसकी भूमिका…)

क्या आप फाइब्रॉएड के खतरे में हैं? – Are you having danger of Fibroid In Hindi

क्या आप फाइब्रॉएड के खतरे में हैं? - Are you having danger of Fibroid In Hindi

कई अन्य चीजें गर्भाशय फाइब्रॉएड की संभावनाओं को बढ़ाने में योगदान दे सकती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

(और पढ़े – अच्छी सेहत के लिए विटामिन डी युक्त भोजन…)

फाइब्रॉएड का निदान या जांच – Diagnosis of Fibroid In Hindi

चूंकि फाइब्रॉएड अक्सर लक्षण नहीं दिखाते हैं, इसलिए आमतौर पर नियमित पेल्विक क्षेत्र की जांच के दौरान उनका निदान किया जाता है।

निम्नलिखित टेस्ट फाइब्रॉएड का पता लगा सकते हैं – Tests to detect Fibroid In Hindi

अल्ट्रासाउंड (Ultrasound)- डॉक्टर फाइब्रॉएड की जांच के लिए पेट पर अल्ट्रासाउंड स्कैन कर सकते हैं अथवा योनि में एक छोटी अल्ट्रासाउंड यन्त्र डाल सकते हैं जिससे की अल्ट्रासाउंड छवियां बन जाती हैं और इनकी जाँच हो जाती है।

एमआरआई (Pelvic MRI) – इनसे फाइब्रॉएड के आकार और मात्रा को निर्धारित किया जा सकता है।

हिस्टोरोस्कोपी (hysteroscopy)-  इसमें एक छोटे से डिवाइस का उपयोग किया जाता है जिसमें गर्भ के अंदर की जांच करने के लिए अंत में इसमें कैमरे जुड़े होते हैं। डिवाइस गर्भाशय के माध्यम से योनि और गर्भ में डाला जाता है। यदि आवश्यक हो, तो डॉक्टर क्षेत्र में संभावित कैंसर कोशिकाओं की पहचान करने के लिए एक ही समय में बायोप्सी कर सकते हैं।

लैप्रोस्कोपी (laparoscopy) – लैप्रोस्कोपी में, डॉक्टर पेट की त्वचा में एक छोटा सा कट (incision) करते हैं और पेट की दीवार की परतों के माध्यम से एक हल्के कैमरे के साथ एक छोटी ट्यूब अन्दर डालते हैं। यह कैमरा अब्दोमिनोपेलविक कॅविटी (abdominopelvic) में पहुँचता है जहाँ ये गर्भ और उसके आस-पास की संरचनाओं की छवियाँ लेता है। यदि आवश्यक हो, तो गर्भ की बाहरी परत से बायोप्सी ली जा सकती है।

(और पढ़े – एमआरआई स्कैन क्या है कीमत, प्रक्रिया, फायदे और नुकसान…)

फाइब्रॉएड का इलाज कैसे किया जाता है – Fibroids Treatment In Hindi

फाइब्रॉएड का इलाज कैसे किया जाता है – Fibroids Treatment In Hindi

आपका डॉक्टर आपकी उम्र, आपके फाइब्रॉएड के आकार और आपके समग्र स्वास्थ्य के आधार पर एक उपचार का तरीका बनाएगा। आप संयोजन में भी उपचार प्राप्त कर सकते हैं।

फाइब्रॉएड का इलाज दवा द्वारा – Medication for Fibroids In Hindi

फाइब्रॉएड को कम करने के लिए आपके हार्मोन स्तर को नियंत्रित करने के लिए दवाएं निर्धारित की जा सकती हैं।

गोनाडोट्रॉपिन-रिलीजिंग हार्मोन (जीएनआरएच) / Gonadotropin-releasing hormone (GnRH) एगोनिस्ट्स, जैसे कि लेप्रोलाइड (लूप्रॉन)/ (leuprolide Lupron), आपके एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर को कम करते हैं। यह अंततः मासिक धर्म को रोक देगा और फाइब्रॉएड को कम करता है।

(और पढ़े – पीरियड्स जल्दी लाने और रोकने के घरेलू उपाय…)

फाइब्रॉएड सर्जरी – fibroids Surgery in Hindi

बहुत बड़ी या मल्टीप्ल फाइब्रॉएड ग्रोथ्स को हटाने के लिए सर्जरी की जा सकती है। यह  मायोमेक्टोमी के रूप में जाना जाता है। पेट की मायोमेक्टॉमी (myomectomy) में गर्भाशय तक पहुंचने और फाइब्रॉएड को हटाने के लिए पेट में एक बड़ा चीरा बनाया जाता है। सर्जरी को लेप्रोस्कोपिक रूप से भी किया जा सकता है कुछ छोटे चीरे की मदद से जिसमें शल्य चिकित्सा उपकरण और एक कैमरे का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन सर्जरी के बाद फाइब्रॉएड वापस बढ़ सकते हैं।

यदि आपकी हालत खराब हो जाती है, या यदि कोई अन्य उपचार काम नहीं करता है, तो आपका चिकित्सक हिस्टरेक्टॉमी (hysterectomy) कर सकता है। हालांकि, इसका मतलब है कि आप भविष्य में गर्भ धारण नहीं कर पाएंगी।

न्यूनतम आक्रमणकारी प्रक्रियाएं – Minimally invasive procedures in Hindi

इसे न्यूनतम आक्रमणकारी सर्जरी के रूप में भी जाना जाता है। यह एक नई और पूरी तरह से नॉन इनवेसिव (non-invasive) सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमे फोर्स्ड अल्ट्रासाउंड सर्जरी (एफयूएस)  शामिल है। आप एक विशेष एमआरआई मशीन के अंदर लिये जाते  हैं जिससे की जो डॉक्टर आपके गर्भाशय के अंदर देख सकते हैं। उच्च ऊर्जा, उच्च आवृत्ति की ध्वनि तरंगें फाइब्रॉएड पर डाली जाती हैं जिससे उन्हें समाप्त या नष्ट किया जाता है।

इसी प्रकार, मायोलिसिस (myolysis) इलेक्ट्रिक करंट या लेजर का उपयोग करके फाइब्रॉएड को कम करता है, जबकि क्रायोमायोलिसिस (cryomyolysis) फाइब्रॉएड को फ्रीज करता है। एंडोमेट्रियल एब्लेशन (Endometrial ablation) में गर्मी, बिजली के प्रवाह, या गर्म पानी का उपयोग कर गर्भाशय की लाइनिंग को नष्ट करने के लिए आपके  गर्भाशय में एक विशेष उपकरण डाला जाता है।

एक और सर्जिकल विकल्प गर्भाशय धमनी एम्बोलाइजेशन (uterine artery embolization) है। इस प्रक्रिया में, फाइब्रॉएड की रक्त आपूर्ति को काटने के लिए छोटे कण गर्भाशय में इंजेक्ट किया जाते हैं।

(और पढ़े – बच्चेदानी (गर्भाशय) में सूजन के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय…)

गर्भाशय फाइब्रॉएड का घरेलू और प्राकृतिक उपचार – Home remedies and natural treatment for Fibroid In Hindi

गर्भाशय फाइब्रॉएड का घरेलू और प्राकृतिक उपचार - Home remedies and natural treatment for Fibroid In Hindi

कुछ घरेलू उपचार और प्राकृतिक उपचार फाइब्रॉएड पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • एक्यूपंक्चर
  • योग
  • मालिश
  • ऐंठन के लिए गर्मी लागू करना (अगर आपको भारी रक्तस्राव का अनुभव होता है तो गर्मी से बचें)
  • आहार परिवर्तन भी गर्भाशय फाइब्रॉएड के घरेलू उपचार मदद कर सकते हैं। मीट और उच्च कैलोरी वाले भोजन से बचें। इसके बजाय, फ्लैनोनोइड, हरी सब्जियां, हरी चाय, और ट्यूना या सैल्मन जैसे ठंडे पानी की मछली में उच्च भोजन का चयन करें।
  • यदि आप अधिक वजन वाली हैं तो अपने तनाव के स्तर को कंट्रोल करना और वजन कम करना फाइब्रॉएड से पीड़ित महिलाओं को लाभ पहुंचाता है।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

इसके अलावा अन्य विकल्प जो रक्तस्राव और दर्द को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन फाइब्रॉएड को कम या खत्म नहीं करेंगे, इसमें शामिल हैं:

  • एक इंट्रायूटरिन डिवाइस-आईयूडी/(intrauterine device IUD) जो हार्मोन प्रोजेस्टिन जारी करता है।
  • ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) संक्रमण रोकने वाले पैन किलर्स, जैसे इबुप्रोफेन (एडविल)
  • गर्भनिरोधक गोलियाँ

यदि आप गर्भवती हैं और फाइब्रॉएड हैं, या गर्भवती हो जाते हैं और फाइब्रॉएड होते हैं, तो आपका डॉक्टर सावधानीपूर्वक आपकी स्थिति की निगरानी करेगा। ज्यादातर मामलों में, फाइब्रॉएड गर्भावस्था के दौरान समस्या पैदा नहीं करता है। अगर आपको फाइब्रॉएड है और आप गर्भवती होने की उम्मीद करते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आपमें कोई लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपनी जांच कराये।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक के सभी उपाय और तरीके…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration