गर्भाशय की जानकारी, रोग और उपचार – Uterus information in Hindi

गर्भाशय की जानकारी, रोग और उपचार - Uterus information in Hindi
Written by Rajendra Patel

Uterus information in Hindi गर्भाशय मादा प्रजनन तंत्र  (Female reproductive system) का एक अंग है, जो मासिक धर्म, गर्भधारण और प्रसव  सहित कई प्रजनन कार्यों के लिए ज़िम्मेदार है। यह शरीर के भीतर हार्मोनल बदलाव के प्रति उत्तरदायी है। गर्भाशय की दीवारें मोटी किन्तु मांसपेशियों से बनी होती हैं। गर्भाशय भ्रूण को सुरक्षा और पोषण प्रदान करता है। भ्रूण निर्माण से लेकर उसका समस्त विकास गर्भाशय में ही होता है। इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि गर्भाशय की  स्थिति, आकार, कार्यप्रणाली, बीमारियाँ और गर्भाशय को स्वस्थ कैसे रख सकते हैं।

  1. गर्भाशय की स्थिति – Uterus location in Hindi
  2. गर्भाशय का आकार – Uterus size in Hindi
  3. गर्भाशय रचना – Uterus anatomy in Hindi
  4. गर्भाशय के कार्य – Uterus functions in Hindi
  5. गर्भाशय की स्थिति – Uterus Position in Hindi
  6. जन्मजात गर्भाशय की स्थिति – Congenital uterus conditions in Hindi
  7. गर्भाशय के रोग – Uterine diseases in Hindi
  8. गर्भाशय में संक्रमण पेल्विक सूजन – Pelvic inflammatory disease (PID) in Hindi
  9. PID ​​के मुख्य लक्षण – Symptoms of PID in Hindi
  10. गर्भाशय का कैंसर – Uterus cancer in Hindi
  11. गर्भाशय समस्या के लक्षण- Uterus problem Symptoms in Hindi
  12. गर्भाशय को स्वस्थ के लिए सुझाव – Suggestion for Uterus health in Hindi
  13. पैप स्मीयर गर्भाशय के रोग से बचने के लिए – Pap smear in Hindi
  14. कंडोम का प्रयोग गर्भाशय संक्रमण से बचने के लिए – Use a condom in Hindi
  15. गर्भाशय समस्याओं से बचने के लिए अच्छा भोजन खाएं – Eat healthy food in Hindi

गर्भाशय की स्थिति – Uterus location in Hindi

Uterus/गर्भाशय सामान्यतः पेट में  नाभि और दोनों टांगो के बीच के निचले भाग के केंद्र में स्थित होता है और गोल  स्नायु बंधन  (Round ligaments) द्वारा दोनों पैरों की जांघों के किनारों से जुड़ा होता है। यह आम तौर पर पेल्विक के केंद्र में थोड़ा आगे झुका हुआ होता है। इस स्थिति को गर्भाशय के पूर्ववर्ती गर्भाशय (Anteverted uterus) कहा जाता है। यदि यह थोड़ा पीछे की ओर झुका हुआ होता है, तो इसे गर्भाशय के प्रतिवर्ती  (Retroverted uterus) कहा जाता है। महिलाओं में गर्भाशय लगभग 15-20% रेट्रोवर्टेड स्थिति में होता है। सामान्यतः यह केवल एक प्राकृतिक भिन्नता है जिसके साथ आप पैदा हुए हैं। आप अल्ट्रासाउंड स्कैन या पेल्विक परीक्षण के माध्यम से आपकी गर्भाशय की स्थिति की जान सकती हैं।

(और पढ़े – अल्ट्रासाउंड क्या है और सोनोग्राफी की जानकारी)

गर्भाशय का आकार – Uterus size in Hindi

Uterus/गर्भाशय, महिला शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। महिलाओं में गर्भाशय का आकार उनकी आयु पर निर्भर करता है। जैसे- 13-17 वर्ष की लड़कियों में गर्भाशय का आकार 3.5cm लम्बा और 1cm व्यास का होता है। सामान्य स्थिति में गर्भाशय का आकार 7.6cm लम्बा और 4.2cm चौड़ा होता है। गर्भवती होने पर गर्भाशय का आकार भ्रूण विकास के साथ-साथ परिवर्तित होता रहता है। इसके साथ-साथ गर्भाशय का आकार महिलाओं की जीवनशैली और खान-पान पर निर्भर करता है।

(और पढ़े –गर्भावस्था में आहार जो देगा माँ और बच्चे को पूरा पोषण)

गर्भाशय रचना – Uterus anatomy in Hindi

गर्भाशय रचना - Uterus anatomy in Hindi

Uterus/गर्भाशय के अंदर निम्न रचनाएँ पाई जाती हैं-

फंडस – Fundus गर्भाशय के ऊपरी हिस्से को fundus कहते है। यह विस्तृत और घुमावदार होता है। फैलोपियन ट्यूब गर्भाशय से केवल Fundus के माध्यम से नीचे की ओर जुड़ी होती हैं।

कोर्पस – corpus  यह गर्भाशय का मुख्य भाग होता है। यह बहुत मांसपेशी है और एक विकासशील भ्रूण को समायोजित (Adjust) करने के लिए फैल सकता है। प्रसव के दौरान corpus की संकुचन मांसपेशियों की दीवारें गर्भाशय और योनि के माध्यम से बच्चे को धक्का देने में मदद करती हैं जिससे प्रसव में आसानी होती है।

कॉर्पस को Endometrium नामक एक श्लेष्म झिल्ली द्वारा जाना जाता है। यह झिल्ली प्रत्येक मासिक चक्र के दौरान अपनी मोटाई बदलकर सेक्स हार्मोन के लिए जिम्मेदार होती है। अगर अंडे को निषेचित (Fertilize) किया जाता है, तो यह एंडोमेट्रियम से जुड़ा होता है। यदि कोई निषेचन नहीं होता है, तो एंडोमेट्रियम कोशिकाओं की बाहरी परत को छोड़ देता है, जो मासिक धर्म के दौरान स्रावित किया जाता है।

(और पढ़े –पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार)

इस्थ्मस – isthmus कॉर्पस और गर्भाशय के बीच गर्भाशय का हिस्सा isthmus कहलाता है। यह वह जगह है जहां गर्भाशय की दीवारें गर्भाशय की तरफ संकीर्ण होने लगती हैं।

गर्भाशय ग्रीवा – Cervix यह गर्भाशय का सबसे निचला हिस्सा होता है। यह एक चिकनी श्लेष्म झिल्ली के साथ जुड़ा रहता है और गर्भाशय और योनि को आपस में जोड़ता है। गर्भाशय ग्रीवा आमतौर पर एक गाढ़ा चिपचिपा पदार्थ स्रावित करता है। हालांकि, Fertilization के दौरान, यह शुक्राणु को आसानी से गर्भाशय में जाने की अनुमति देने के लिए यह पतला हो जाता है। 

गर्भाशय के कार्य – Uterus functions in Hindi

गर्भाशय मादा प्रजनन तंत्र का एक अभिन्न अंग है जो प्रजनन तंत्र के अनेक महत्वपूर्ण कार्य करता है –

  • मासिक चक्र को सुचारु रूप से चलाने और हार्मोन संतुलन को बनाये रखता है।
  • यह निषेचन के बाद बने भ्रूण को आश्रय प्रदान करता है।
  • इसका कार्य  भ्रूण को पोषण प्रदान करना होता है।
  • यह भ्रूण को रक्षा प्रदान करता है।
  • भ्रूण विकास में सहायता करता है।
  • z ygote प्रत्यारोपण में अपनी अहम भूमिका रखता है।

(और पढ़े –महिला बांझपन के कारण, लक्षण, निदान और इलाज)

गर्भाशय की स्थिति – Uterus Position in Hindi

कभी-कभी महिलाओं के गर्भाशय में कुछ विकृतियाँ आ जाती हैं जिसके कारण उनके गर्भाशय की स्थिति सामान्य से अलग होता है ऐसी कुछ परिस्थितियां निम्नानुसार हैं-

जन्मजात गर्भाशय की स्थिति – Congenital uterus conditions in Hindi

कुछ महिलाओं का गर्भाशय जन्म से ही विकृत रहता है, जिसके कारण उनका जीवन सामान्य महिला से अलग होता है। एक रिपोर्ट के आधार पर लगभग 300 में से 1 महिला जन्मजात गर्भाशय की स्थिति से पैदा होती हैं। कभी-कभी ऐसी महिलाओं को गर्भावस्था के समय अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जन्मजात गर्भाशय की स्थितियों के कुछ उदाहरण निम्न प्रकार हैं-

Septate uterus: इसमें गर्भाशय की मांसपेशियों का एक समूह uterus को दो भागों में बाँट देता है।

Bicornuate uterus: Uterus में एक बड़ी गुहा के स्थान पर दो छोटी-छोटी गुहा होती हैं।

Didelphic uterus: कभी-कभी गर्भाशय विकृति के कारण गर्भाशय एक युग्मित अंग के रूप में मौजूद होता है जिसमें दो अलग गर्भाशय के साथ एक दोहरा गर्भाशय होता है, और शायद ही कभी एक दोहरी योनि भी होती है।

Unicornuate uterus: इस परिस्थिति में गर्भाशय के केवल आधे भाग में ही विकसित होता है।

Endometriosis: यह विकृति तब होती है जब एंडोमेट्रियम झिल्ली, जो गर्भाशय को घेरे रहती है कभी-कभी गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूब के बाहर तक बढ़ जाती है जिसके कारण मासिक धर्म या सेक्स के समय गंभीर दर्द हो सकता है।

Uterus fibroids: गर्भाशय की दीवारों पर असामान्य रूप से आकार में बहुत छोटे कुछ दाने हो जाते हैं जो अलग कोई लक्षण पैदा नहीं करते हैं, परन्तु कुछ महिलाएं रक्तस्राव और दर्द का अनुभव करती हैं। इसके अलावा, कुछ मामलों में प्रजनन संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं।

गर्भाशय के रोग – Uterine diseases in Hindi

  1. गर्भाशय में संक्रमण पेल्विक सूजन – Pelvic inflammatory disease (PID) in Hindi
  2. PID ​​के मुख्य लक्षण – Symptoms of PID in Hindi
  3. गर्भाशय का कैंसर – Uterus cancer in Hindi
  4. गर्भाशय समस्या के लक्षण- Uterus problem Symptoms in Hindi

गर्भाशय में संक्रमण पेल्विक सूजन – Pelvic inflammatory disease (PID) in Hindi

पेल्विक सूजन रोग (PID) मादा प्रजनन अंगों के भीतर एक संक्रमण है। यह एक बैक्‍टीरिया से होने वाली बीमारी है।

PID ​​के मुख्य लक्षण – Symptoms of PID in Hindi

पेट-दर्द के साथ-साथ सेक्स और पेशाब के दौरान दर्द होते हैं। अन्य संभावित लक्षणों में असामान्य योनि स्राव, थकान, और अनियमित रक्तस्राव शामिल है। अगर समय पर उपचार ना किया गया, तो PID ​​बांझपन का कारण बन सकता है।

गर्भाशय का कैंसर – Uterus cancer in Hindi

कैंसर गर्भाशय में कहीं से भी शुरू हो सकता है, सामान्यतः यह एंडोमेट्रियम झिल्ली में सबसे ज्यादा होता है। गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के कारण गर्भाशय की कोशिकाओं को भी प्रभावित कर सकता है। गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लिए मुख्य के कारण निश्चित नहीं हैं, लेकिन कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ-साथ धूम्रपान, शराब और असुरक्षित यौन सम्बन्ध गर्भाशय कैंसर का कारण हो सकते हैं।

(और पढ़े –अंडाशय का कैंसर: प्रारंभिक लक्षण, जाँच, और उपचार)

गर्भाशय में समस्या के लक्षण- Uterus problem Symptoms in Hindi

गर्भाशय समस्या के अनेक लक्षण हैं जिनमें से कुछ मुख्य लक्षण हैं-

  • मासिक धर्म बहुत अधिक मात्रा में रक्त स्राव।
  • असामान्य या बदबूदार योनि स्राव
  • पेल्विक या निचले हिस्से में दर्द।
  • मासिक धर्म या संभोग के दौरान दर्द।
  • पेशाब या मल त्याग के दौरान दर्द।

गर्भाशय को स्वस्थ रखने के लिए सुझाव – Suggestion for Uterus health in Hindi

गर्भाशय महिला शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। इसे स्वस्थ रखने के लिए निम्न सुझाव हैं-

पैप स्मीयर गर्भाशय के रोग से बचने के लिए – Pap smear in Hindi

एक प्रक्रिया जिसमें एक छोटे ब्रश का उपयोग गर्भाशय से अनचाही कोशिकाओं को धीरे-धीरे हटाने के लिए किया जाता है जिनकी सूक्ष्मदर्शी द्वारा जांच की जा सके जो गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का कारण बन सकती है।

पैप स्मीयर अन्य स्थितियों, जैसे संक्रमण या सूजन खोजने में भी मदद कर सकता है।

गर्भाशय में संक्रमण खिलाफ टीका करण – Get vaccinated against HPV in Hindi

Human papillomavirus infection (HPV) एक गर्भाशय में होने वाला संक्रमण है, जिसके कारण महिला के गर्भाशय के साथ-साथ उसके किसी भी अंग में संक्रमण हो सकता है। अतः गर्भाशय स्वस्थ रखने के लिए एचपीवी के खिलाफ टीका करण प्राप्त करना चाहिए, एचपीवी टीका 9 और 26 वर्ष की आयु के बीच महिलाओं के लिए उपलब्ध है। एफडीए के अनुसार, एचपीवी टीका गर्भाशय ग्रीवा, योनि और गुदा कैंसर को 90 प्रतिशत तक रोक सकती है।

कंडोम का प्रयोग गर्भाशय संक्रमण से बचने के लिए – Use a condom in Hindi

कंडोम का प्रयोग गर्भाशय संक्रमण से बचने के लिए - Use a condom in Hindi

सेक्स के दौरान एक कंडोम का उपयोग यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई), को फैलने से रोकने में मदद करता है, जो पीआईडी ​​या गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकता है।

अतः सेक्स करने से पहले कंडोम का उपयोग अवश्य करें। बाजार में महिला कंडोम और पुरुष दोनों के लिए कंडोम उपलब्ध हैं।

(और पढ़े – क्या आप जानते है कंडोम का सही इस्तेमाल? अगर नहीं तो ये खबर आपके लिए है!)

(और पढ़े –कहीं आप भी तो नहीं करते सेक्स के दौरान दो कंडोम का उपयोग)

गर्भाशय समस्याओं से बचने के लिए अच्छा भोजन खाएं – Eat healthy food in Hindi

गर्भाशय समस्याओं से बचने के लिए अच्छा भोजन खाएं - Eat healthy food in Hindi

संतुलित आहार का सेवन कर आप गर्भाशय को स्वस्थ रख सकती हैं। आप अपने भोजन में क्या-क्या ले सकती है, जो आपको और आपके गर्भाशय को स्वस्थ रखने में सहायक है।

निम्नलिखित प्रकार का भोजन आपके गर्भाशय को स्वस्थ रखने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं-

  • फ़ोलिक एसिड युक्त भोजन, जैसे शतावरी, ब्रोकली, और अन्य हरी सब्जियों में समृद्ध खाद्य पदार्थ।
  • विटामिन C युक्त भोजन, जैसे संतरे और अंगूर के रूप में समृद्ध खाद्य पदार्थ।
  • बीटा कैरोटीन युक्त भोजन, जैसे गाजर, फलों का रस, और खरबूजा में समृद्ध खाद्य पदार्थ।
  • विटामिन E युक्त भोजन जैसे साबुत अनाज की रोटी और अंकुरित अनाज।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration