धूम्रपान छोड़ने के सबसे असरदार घरेलू उपाय और तरीके – Home remedies to Quit smoking in Hindi

धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय - Home remedies to Quit smoking in Hindi
Written by Jaideep

Quit smoking in hindiआज के समय में हम सभी लोगों की दिनर्चया तनाव भरी होती है, हर किसी व्‍यक्ति को कुछ न कुछ तनाव बना रहता है। यह तनाव हमारे दैनिक जीवन को प्रभावित तो करता ही है साथ यह हमारे स्‍वास्‍थ्‍य पर भी नकारात्‍मक प्रभाव डालता है। लेकिन कहते हैं न “विनाश काले विपरीत बुद्धि” यह उस समय सही साबित होता है जब हम में से कुछ लोग कहते हैं कि तनाव को दूर करने के लिए मादक पदार्थों का सहारा लिया जाता है। धूम्रपान भी एक ऐसा ही जहर है जिसे कुछ लोगों ने अपनी दैनिक जरूरत बना लिया है।

धूम्रपान करने वाले सभी लोग जानते हैं कि यह नुकसान दायक है फिर भी वे धूम्रपान करना नहीं छोड़ते क्‍योंकि उन्‍हें यह नहीं पता कि शरीर को इससे किस-किस प्रकार की समस्‍या हो सकती है। धूम्रपान आपके फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है साथ यह अन्‍य प्रकार की बीमारी जैसे कैंसर, हृदय रोग, फेफड़ों की सूजन आदि का कारण हो सकता है। इसे न छोड़ने का एक विशेष कारण यह भी है कि उन्‍हे पता नहीं है कि वे इस बुरी लत से छुटकारा कैसे पा सकते हैं। जबकि धूम्रपान को छोड़ना शायद मुश्किल हो सकता है पर नामुमकिन नहीं। धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय भी होते है जिनकी आप मदद ले सकते हैं।

आइए जाने धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय क्या है जो आपके जीवन में खुशियों को लौटा सकते हैं और साथ ही आपके परिवार के अन्‍य सदस्‍य जो धूम्रपान नहीं करते हैं उनके स्‍वास्‍थ्‍य को भी प्रभावित न करे।

1. धूम्रपान की शुरुआत कैसे होती है – How smoking begins in Hindi
2. धूम्रपान के कारण – Causes of Smoking in Hindi
3. धूम्रपान के प्रभाव – Effects of Smoking in Hindi
4. धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय –Home remedies for Quit Smoking in Hindi

5. धूम्रपान छोड़ने के बाद – After Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान की शुरुआत कैसे होती है – How smoking begins in Hindi

जब कोई व्‍यक्ति अपने तनाव को सामान्‍य रूप से कम नहीं कर पाता है तो उसे किसी ऐसी चीज की आवश्‍यकता होती है जो उसके तनाव को कम करने में मदद करे और इस नादानी में वह धूम्रपान जैसे आसानी से मिलने वाले नशीले पदार्थो का उपयोग करने लगता है। यह एक ऐसी आदत होती है जिसे व्‍यक्ति शौकवश शुरु तो कर लेता है पर इसे छोड़ना बहुत मुश्किल होता है। धूम्रपान करने वाले अधिकांश लोगों को इससे होने वाले नुकसानों का एहसास ही नहीं होता है या वे लोग इसे अनदेखा करते हैं। यह उन लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता है साथ ही यह उनकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है।

इसके अलावा धूम्रपान करने वाले व्‍यक्तियों के आसपास रहने वाले लोगों को भी वही नुकसान हो सकते हैं जो धूम्रपान करने वाले व्‍यक्ति को होते हैं। यदि आप या आपके कोई प्रियजन धूम्रपान कर रहे हैं तो उन्‍हें रोके, क्‍योंकि यह उनके और आपके स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित करने के लिए पर्याप्‍त है। आप उनकी इस बुरी आदत यानि धूम्रपान छोड़ने के लिए इस लेख में बताए गए उपचारों का उपयोग कर सकते हैं।

धूम्रपान के कारण – Causes of Smoking in Hindi

धूम्रपान के कारण – Causes of Smoking in Hindi

लोगों द्वारा धूम्रपान कई कारणों से शुरू किया जा सकता है। जैसा कि हम जानते है कि मानसिक तनाव को दूर करने के लिए बहुत से व्‍यक्ति धूम्रपान और अन्‍य नशीले पदार्थों का उपयोग करते हैं। लेकिन यही एक मात्र कारण नही है, धूम्रपान करने के और भी बहुत से कारण होते हैं जो लोगों के व्‍यक्तिगत जीवन को प्रभावित भी करते हैं और इसकी तरफ लोगों को आकर्षित भी करते हैं जैसे कि :

  • साथियों का दबाव
  • सामाजिक परिवेश
  • अपनी प्रतिष्‍ठा बढ़ाने के लिए
  • तनाव या अन्‍य परिस्थितियों को संभालने के लिए
  • अपने शौंक को पूरा करने के लिए
  • अत्‍यधिक प्रचार प्रसार से भ्रमित होकर

(और पढ़े – स्मोकिंग की आदत कैसे लगती है, इसके नुकसान और छोड़ने के तरीके…)

धूम्रपान के प्रभाव – Effects of Smoking in Hindi

धूम्रपान के प्रभाव – Effects of Smoking in Hindi

कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का विशेष कारण धूम्रपान होता है। यह धूम्रपान करने वाले व्‍यक्ति और उसके आसपास रहने वाले लोगों को निम्‍न प्रकार की समस्‍याओं से ग्रसित कर सकता है।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय –Home remedies for Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय –Home remedies for Quit Smoking in Hindi

जैसे-जैसे लोग स्‍वास्‍थ्‍य के लिए धूम्रपान के नुकसान से अवगत हो रहे हैं उसी गति से छोड़ने की मांग भी बढ़ रही है। इसके लिए कुछ दवाओं का उपयोग भी किया जाता है। लेकिन ये दवाएं कुछ लोगों के वजट में नहीं होती हैं। लेकिन धूम्रपान छोड़ने के घरेलू और सस्‍ते उपचार भी उपलब्‍ध हैं जो धूम्रपान को छोड़ने में आपकी सहायता कर सकते हैं। आइये जाने धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय क्‍या हैं।

जई पाउडर धूम्रपान छोड़ने की दवा – Oats for Quit Smoking in Hindi

जई पाउडर धूम्रपान छोड़ने की दवा - Oats for Quit Smoking in Hindi

जई (Oats) का उपयोग पुराने समय से ही विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह आपकी धूम्रपान की समस्‍या को भी हल कर सकता है। धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपायों में यह सबसे अच्‍छा साबित हो सकता है। 1 बड़ा चम्‍मच जई पाउडर लें और इसे 2 कप गर्म पानी में डालकर रात भर के लिए छोड़ दें। अगली सुबह इस मिश्रण को लगभग 10 मिनिट तक उबालें। प्रतिदिन भोजन के बाद इस मिश्रण का सेवन करें। यह आयुर्वेदिक दवा आपकी धूम्रपान की इच्‍छा को कम करती है साथ ही यह आपके शरीर से विषाक्‍त पदार्थों (harmful toxins) को बाहर निकालने में भी मदद करती है। यदि आप इसका नियमित सेवन करते हैं तो यह धूम्रपान के प्रति आकर्षित होने के लक्षणों को भी कम करती है।

(और पढ़े – ओट्स खाने के फायदे एवं नुकसान…)

बीड़ी छोड़ने का उपाय लाल मिर्च – Cayenne Pepper for Quit Smoking in Hindi

बीड़ी छोड़ने का उपाय लाल मिर्च – Cayenne Pepper for Quit Smoking in Hindi

लाल मिर्च जिसका उपयोग आप अपने भोजन को तीखा और स्‍वादिष्‍ट बनाने के लिए करते हैं। यह बहुत सी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍यओं को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार के रूप में भी उपयोग किया जाता है। यह लाल मिर्च आपकी धूम्रपान की समस्‍या को हल करने के लिए भी उपयोगी होती है। आप इसका उपयोग कर धूम्रपान को छोड़ सकते हैं। आप इसे अपने आहार में तो लेते ही हैं साथ ही आप एक गिलास पानी में एक चुटकी लाल मिर्च पाउडर को मिला कर सेवन करें। लाल मिर्च तंबाकू और निकोटीन (tobacco and nicotine) जैसी सभी नशे की लत वाली चीजों को श्वसन प्रणाली (respiratory system) से दूर करने में मदद करती है। यह आपके धूम्रपान की इच्‍छा को दबाने में भी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती है।

(और पढ़े – लाल मिर्च के फायदे और नुकसान…)

धूम्रपान छोड़ने की आयुर्वेदिक दवा है जेनशेन – Ginseng for Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान छोड़ने की आयुर्वेदिक दवा है जेनशेन - Ginseng for Quit Smoking in Hindi

जेनशेन (Ginseng) जो एक औषधीय पौधे की जड़ होती है, यह निकोटीन की इच्‍छा को कम करने में बहुत ही प्रभावी होती है। धूम्रपान को छोड़ने के लिए एलोवेरा, जेनशेन और ग्रीन टी को लेने की आदत बनाए। इसे आप दिन में कम से कम दो बार लें। यह न केवल आपको धूम्रपान की आदत से मुक्ति दिलाएगी बल्कि ग्रीन टी, ऐलोवेरा और जेनशेन आपके अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में भी मदद करेगें।

आप जेनशेन पाउडर का उपयोग अपने नाशते में मिलाकर भी कर सकते हैं। जेनशेन निकोटीन मे पाए जाने वाले प्रमुख घटकों में से एक डोपामाइन (dopamine) को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – जिनसेंग के फायदे और नुकसान…)

बीड़ी छोड़ने का उपाय है लोबेलिआ – Lobelia for Quit Smoking in Hindi

 Lobelia for Quit Smoking in Hindi

लोबेलिया धूम्रपान की इच्‍छा को कम करने में भी उपयोगी होता है। लोबेलिआ एक प्रकार का पौधा है जिसके फूल नीले होते हैं। यह धूम्रपान के लक्षणों को कम करने के साथ साथ मतली, जलन, मानसिक एकाग्रता में कमी, बहुत अधिक भूक आदि लक्षणों को भी कम करने में सहायक होती है।

(और पढ़े – जानें गोखरू के फायदे और नुकसान के बारे में…)

धूम्रपान छोड़ने के लिए उपयोगी पानी – Water for Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान छोड़ने के लिए उपयोगी पानी – Water for Quit Smoking in Hindi

पानी मानव शरीर का सबसे अच्‍छा दोस्‍त होता है। यह हमारे शरीर से हानिकारक पदार्थों को दूर करने में बहुत ही प्रभावी होता है। अच्‍छी और संतुलित चयापचय दर के लिए हर बार भोजन से 15 मिनिट पहले एक गिलास पानी पीएं और पूरे दिन के लिए सुरक्षित रहें। यह शरीर को साफ रखने और निकोटीन से संबंधित प्रभावों को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – पानी पीने का सही समय जानें और पानी पीने के लिए खुद को प्रेरित कैसे करें…)

शहद धूम्रपान छोड़ने के लिए गुणकारी – Honey for Quit Smoking in Hindi

शहद धूम्रपान छोड़ने के लिए गुणकारी – Honey for Quit Smoking in Hindi

शहद धूम्रपान को छोड़ने का उत्‍कृष्‍ट उपाय है। शहद में विटामिन, एंजाइम और प्रोटीन होते हैं, जो आसानी से धूम्रपान की आदत छोड़ने में मदद करते हैं। धूम्रपान को छोड़ने के लिए आप प्राकृतिक शहद का उपयोग करें, कृत्रिम शहद का उपयोग करने से आपको शायद लाभ प्राप्‍त न हो।

(और पढ़े – शहद के फायदे उपयोग स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

धूम्रपान छोड़ने का उपाय मूली – Radish for Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान छोड़ने का उपाय मूली – Radish for Quit Smoking in Hindi

मूली का उपयोग कर आप अपने शरीर की अम्‍लता को प्रभावित करता है। कटी हुई मूली का नियमित सेवन करने से आप धूम्रपान को छोड़ने में मदद करती है। जो लोग धूम्रपान के आदि होते हैं उनके लिए मूली बहुत ही उपयोगी सिद्ध हो सकता है। अच्‍छे परिणाम प्राप्‍त करने के लिए आप मूली के साथ शहद का भी उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – मूली खाना है कई स्वास्थ्य लाभों से भरपूर…)

सिगरेट छोड़ने का तरीका मुलेठी –Licorice (Mulethi) for Quit Smoking in Hindi

सिगरेट छोड़ने का तरीका मुलेठी –Licorice (Mulethi) for Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान से बचने के लिए सबसे अच्‍छा उपाय मुलेठी का उपयोग है। जब भी आपको धूम्रपान करने की इच्‍छा हो आप उस समय मुलेठी की दांतून चबा सकते हैं। यह सिगरेट की लत को दूर करने का प्रभावी तरीका होता है। यह आपके पाचन तंत्र में धुआं को नियंत्रित करने में मदद करता है। यदि आप अपनी धूम्रपान की आदत को छोड़ना चाहते हैं तो मुलेठी का उपयोग करें।

(और पढ़े – मुलेठी के फायदे और नुकसान…)

सिगरेट छोड़ने का उपाय हर्बल सिगरेट – Quit Smoking for Herbal Cigarettes in Hindi

सिगरेट छोड़ने का उपाय हर्बल सिगरेट – Quit Smoking for Herbal Cigarettes in Hindi

सिगरेट के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए आप हर्बल सिगरेट का उपयोग भी कर सकते हैं। इस सिगरेट में 0 % निकोटीन होती है। इस सिगरेट को बनाने के लिए बहुत सी जड़ी बूटीयों का उपयोग किया जाता है जैसे कि दालचीनी, वेनिला, मुलेठी, लेमन ग्रास कॉर्नसिल्‍क और लौंग आदि। इन उत्‍पादों से बनी सिगरेट में निकोटीन की मात्रा बिल्‍कुल भी नहीं होती है। आप इस सिगरेट का उपयोग अन्‍य धूम्रपान की तरह ही कर सकते हैं। जो कि आपको किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाते हैं और आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होते हैं। इस प्रकार की हर्बल सिगरेट कई प्रकार के फ्लेवरों में उपलब्‍ध होती है।

(और पढ़े – मंजिष्ठा के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान…)

धूम्रपान छोड़ने का तरीका मल्‍टीविटामिन का उपयोग – Quit Smoking for Multivitamins in Hindi

धूम्रपान छोड़ने का तरीका मल्‍टीविटामिन का उपयोग - Quit Smoking for Multivitamins in Hindi

सिगरेट हमारे शरीर में कई महत्‍वपूर्ण पोषक तत्‍वों की कमी का कारण बनता है। धूम्रपान से होने वाली इस क्षति को पूरा करने के लिए विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन ई का सेवन कर पूरा किया जा सकता है। मल्‍टीविटामिन का सेवन करने से यह धूम्रपान करने की आदत को कम करने में भी सहायता मिलती है। विटामिन ए क्षतिगस्‍त श्‍लेष्‍म (damaged mucus) की मरम्‍मत मे फायदेमंद होता है जबकि विटामिन ई धूम्रपान के कारण कोशिकाओं की क्षति को दूर करने में मदद करता है। आप अपने शरीर में विटामिन सी की कमी को पूरा करने के लिए नारंगी जूस का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – विटामिन D की कमी के कारण लक्षण और उपचार…)

धूम्रपान छोड़ने के बाद क्या होता है – What happens after Quit Smoking in Hindi

धूम्रपान छोड़ने के बाद – After Quit Smoking in Hindi

ऐसा करने पर आपको कुछ लाभ तो तत्‍काल ही मिल सकते हैं और कुछ लाभ लंबे समय के बाद समझ में आते हैं जो आपके स्‍वास्‍थ्‍य के द्रष्टिकोण से आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। आइए जाने धूम्रपान छोड़ने के बाद क्‍या हो सकता है।

(और पढ़े – एसिड रिफ्लक्स के कारण, लक्षण, जांच, इलाज, और परहेज…)

धूम्रपान छोड़ने के 1 घंटे बाद –After 1 hour  quit smoking in hindi

यदि आपने निश्‍चय कर लिया है कि अब आप धूम्रपान नहीं करेंगें तो आपके आखिरी सिगरेट लेने के 30 मिनिट के बाद आपके दिल की धड़कन जो सिगरेट का धुआं न मिलने के कारण बढ जाती है स्‍वत: ही धीरे-धीरे कम होने लगेगी और सामान्‍य स्थिति पर आ जाएगी जो आपके परिसंचरण (circulation) में सुधार लाता है।

सिगरेट छोड़ने के 12 घंटों के बाद – After 12 hours quit smoking in hindi

सिगरेट के धुएं में कार्बन मोनोऑक्‍साइड और बहुत से ज्ञात विषाक्‍त पदार्थ होते हैं। अधिक मात्रा में इसका सेवन करना नुकसानप्रद होता है और यह फेफड़ों और रक्‍त में मिलकर ऑक्‍सीजन को रोकता है। जो आक्‍सीजन की कमी के कारण घुटन का कारण बन सकता है।

यदि आप धूम्रपान करना छोड़ते हैं और लगातार 12 घंटों तक सिगरेट नहीं पीते हैं, तो शरीर में उपस्थित अतिरिक्‍त कार्बन मोनोऑक्‍साइड की सफाई करता है। कार्बन मोनोऑक्‍साइड का स्‍तर सामन्‍य हो जाता है और शरीर मे ऑक्‍सीजन के स्‍तर में भी वृद्धि होती है।

धूम्रपान छोड़ने के 1 दिन बाद – After 1 day quit smoking in hindi

सिगरेट छोड़ने के 1 दिन बाद से ही दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम हो जाता है। धूम्रपान अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को कम करके कोरोनरी हृदय रोग को बढ़ाने का कार्य करता है। धूम्रपान रक्‍तचाप बढ़ाता है और रक्‍त के थक्‍के को बढ़ाता है जिससे स्‍ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।

(और पढ़े – जानें कि क्या होता है अच्छा (HDL) एवं बुरा (LDL) कोलेस्ट्रॉल)

धूम्रपान छोड़ने के 1 दिन के बाद एक व्‍यक्ति का रक्‍तचाप गिरना शुरू हो जाता है, जिससे रक्‍तचाप से संबंधित दिल की बीमारी का खतरा कम जो जाता है। इस कम समय में एक व्‍यक्ति के ऑक्‍सीजन का स्‍तर बढ़ जाता है जिससे शारीरिक गतिविधि और व्‍यायाम करना आसान हो जाएगा।

सिगरेट छोड़ने के 2 दिन बाद – After 2 days quit smoking in hindi

धूम्रपान गंध और स्‍वाद की इंद्रियों के लिए जिम्‍मेदार तंत्रिका को नुकसान पहुंचाता है। धूम्रपान छोड़ने के 2 दिन बाद एक व्‍यक्ति को गंध और स्‍वाद से संबंधित समस्‍या कम हो सकती है।

धूम्रपान छोड़ने के 3 दिन बाद – After 3 days quit smoking in hindi

जब कोई व्‍यक्ति धूम्रपान छोड़ने का साहस करता है तो ऐसा करने पर उसके शरीर से निकोटीन की मात्रा कम होने लगती है। हालांकि शरीर में किसी प्रकार का निकोटीन नहीं होता है। यह प्रारंभिक कमी निकोटीन निकासी का कारण बन सकता है जिससे धूम्रपान छोड़ने के लगभग 3 दिन बाद, बहुत से लोगों को मनोदशा और चिड़चिड़ाहट गंभीर सिरदर्द आदि का अनुभव हो सकता है।

धूम्रपान छोड़ने के 1 माह बाद – After 1 month quit smoking in hindi

यदि कोई व्‍यक्ति धूम्रपान के लिए अपने आप को 1 माह तक रोक लेता है तो इस स्थिति में व्‍यक्ति के फेफड़ों के कार्य में कुशलता आती है। इसलिए पूर्व धूम्रपान करने वालों को कम खांसी और सांस की तकलीफ दिखाई दे सकती है। धूम्रपान छोड़ने पर सहनशक्ति बढ़ जाती है और कार्डियोवैस्‍कुलर क्षमता में भी वृद्धि होती है।

1 से 3 माह के बीच – After 1-3 months quit smoking in hindi

इस अवधि तक धूम्रपान न करने पर परिसंचरण में सुधार होता है।

धूम्रपान छोड़ने के 9 माह बाद – After 9 months quit smoking in hindi

यदि कोई व्‍यक्ति 9 माह तक धूम्रपान नहीं करता है तो उसके फेफड़ें कुछ हद तक स्‍वस्‍थ्‍य हो सकते हैं। ऐसा करने पर आपके फेफड़ें की कार्यकुशलता बढ़ती है और संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है। जो लोग धूम्रपान करते थे उन्‍हें स्‍वत: ही महसूस होने लगता है कि उनका फेफड़ा स्‍वस्‍थ्‍य और सही तरह से कार्य कर रहा है।

धूम्रपान छोड़ने के 1 साल बाद – After 1 year quit smoking in hindi

1 साल तक धूम्रपान छोड़ने के बाद दिल की बीमारी का खतरा कम हो जाता है और धमनी और रक्‍त वाहिकाओं में भी सुधार होने लगता है। धूम्रपान छोड़ने के एक साल बाद कोरोनरी हृदय रोग के लिए व्‍यक्ति का खतरा आधे से कम हो जाता है।

सिगरेट छोड़ने के 5 साल बाद – After 5 years quit smoking in hindi

सिगरेट में बहुत से विषाक्‍त पदार्थ होते हैं जो धमनी और रक्‍त वाहिकाओं को बंद या संकीर्ण करते हैं। ये वही विषाक्‍त पदार्थ होते हैं जो रक्‍त के थक्‍के के विकास की संभावना को बढ़ाते हैं।

धूम्रपान के बिना 5 साल बाद शरीर की धमनियां और रक्‍त वाहिकाओं को पुन: सुचारू रूप से कार्य करने के लिए चौड़ा या संकीर्णता को कम करता है। जिससे स्‍ट्रोक का खतरा कम हो जाता है। यदि आप लगातार 5 वर्षो तक धूम्रपान नहीं करते हैं तो आप अगले 10 वर्षो तक स्‍ट्रोक के खतरे को कम कर सकते हैं।

धूम्रपान छोड़ने के 10 वर्ष बाद – After 10 years quit smoking in hindi

दस वर्षों तक धूम्रपान न करने वाले व्‍यक्ति को फेफड़ों के कैंसर के विकास की संभावना बहुत ही कम हो जाती है जो कि धूम्रपान करने वाले व्‍यक्तियों के लिए जारी रहता है। मुंह गले या अग्‍नाशयी कैंसर के विकास की संभावना में काफी कमी आती है।

सिगरेट छोड़ने के 15 वर्ष बाद – After 15 years quit smoking in hindi

15 वर्ष के बाद कोरोनरी हृदय रोग विकसित करने की संभावना बिना धूम्रपान करने वाले लोगों के बराबर होती है। इसी प्रकार अग्‍नाशयी कैंसर के विकास का खतरा भी सामान्‍य व्‍यक्तियों के बराबर ही होता है।

धूम्रपान छोड़ने के 20 साल बाद – After 20 years quit smoking in hindi

20 वर्षों के बाद, फेफड़ों की बीमारी और कैंसर समेत धूम्रपान से संबंधित कारणों की संभावना खत्‍म हो जाती है या उन व्‍यक्तियों के बराबर होती है जिन्‍होंने कभी भी धूम्रपान नहीं किया है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration