मुलेठी के फायदे और नुकसान – Mulethi Benefits and Side Effects in Hindi

मुलेठी के फायदे और नुकसान - Mulethi Benefits and Side Effects in Hindi
Written by Rajat

Mulethi in hindi मुलेठी, जिसे लीकोरिस और यशतिमधू (Yashtimadhu) भी कहा जाता है, एक जड़ी बूटी है। यह मिठाई, चबाने वाली गम, टूथपेस्ट, शीतल पेय और बीयर जैसे पेय पदार्थों में व्यापक रूप से एक स्वादिष्ट एजेंट के रूप में उपयोग की जाती है। मुलेठी के फायदे बहुत है जिनको आज हम आपको बताने वाले है

औषधीय प्रयोजनों के लिए, इस जड़ी बूटी की सूखे जड़ का प्रयोग किया जाता है। वास्तव में, यह दुनिया भर में औषधीय लाभों के लिए उपयोग की जाने वाली जड़ी बूटियों में से एक है।

मुलेठी के मुख्य घटक में से एक ग्लाइसीराहिजिन (glycyrrhizin) है जो इसे विशेष मिठास देता है यह जड़ी बूटी साधारण चीनी की तुलना में 30 से 50 गुना मीठा है इसमें पोषक तत्वों और फ्लेवोनोइड की एक विस्तृत श्रृंखला भी शामिल है

यह विटामिन बी और विटामिन ई का अच्छा स्रोत है। इसमें फास्फोरस, कैल्शियम, कोलिन, लोहा, मैग्नीशियम, पोटेशियम, सेलेनियम, सिलिकॉन और जस्ता जैसे खनिज भी पाए जाते हैं।

इसके अलावा, यह बीटा-कैरोटीन, थाइमोल, फ़िनोल और क्वरेटिन सहित कई जरूरी फाइटोन्यूटरिएंट्स (phytonutrients) भी शामिल होते है।

इसका औषधीय उपयोग मुख्य रूप से अपनी अल्सर विरोधी, एंटीवायरल, एंटिफंगल, एंटीबायोटिक, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-ट्यूमर गुणों के कारण होता है ।

मुलेठी की जड़ अलग-अलग रूपों में बाजार में आसानी से उपलब्ध है। आप इसे दातुन, सुखी जड़, पाउडर, या कैप्सूल के रूप में ले सकते हैं। हालांकि, औषधीय सहायता के रूप में इस जड़ी-बूटियों का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करने का सुझाव दिया जाता है।

मुलेठी के फायदे – Mulethi ke fayde in Hindi

लीकोरिस (नद्यपान ) मुलेठी की जड़ के सबसे मुख्य स्वास्थ्य लाभ यहां बताये जा रहे हैं।

मुलेठी के फायदे पाचन सही रखने में – Mulethi for digestive problem in hindi

नद्यपान जड़ पाचन समस्याओं जैसे कब्ज, एसिडिटी, सूजन, और एसिड रिफ्लेक्ट के उपचार में सहायक होती है। इसका एंटी इन्फ्लामेंट्री प्रभाव और जीवाणुरोधी गुण भी पेट में सूजन को कम करने और संक्रमण से पेट की आंतरिक परत की रक्षा करते हैं। और पढ़े – एसिडिटी के कारण, लक्षण और बचाव के घरेलू उपाय

मेडिकल साइंसेज के जर्नल ऑफ रिसर्च में प्रकाशित एक 2013 का एक अध्ययन, हेलिकोबैक्टर पिलोरी-संक्रमित पेप्टिक अल्सर पर मुलेठी के उपचार को उजागर करता है।

पाचन सहायक के रूप में, एक कप गर्म पानी में मुलेठी पाउडर के 1 चम्मच को डाले। 10 मिनट के लिए ढककर रखें एक सप्ताह के लिए इस चाय को 2 या 3 बार पीना आपके पेट के पाचन के लिए लाभदायक होगा।

मुलेठी के फायदे श्वसन संक्रमण से बचने के लिए – Mulethi for respiratory infection in hindi

यह जड़ीबूटी श्वसन तंत्र के संक्रमण का इलाज कर सकती है, जैसे गले में खराश, ठंड, खांसी और अस्थमा। इसकी एंटी इन्फ्लामेंट्री और एंटीऑक्सीडेंट गुण ब्रोन्कियल ट्यूबों की सूजन को कम करने और वायुमार्ग को शांत करने में मदद करते हैं। यह  गले में बलगम, जो खांसी का कारण बनती है को ख़त्म करता है  और पढ़े – खांसी का घरेलू उपचार, ड्राई कफ हो या वेट कफ

इसके अलावा, इसकी रोगाणुरोधी, जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण सूक्ष्मजीवों से लड़ते हैं जो श्वसन संबंधी बीमारियों का कारण होते हैं और बलगम का अधिक उत्पादन करते हैं।

  • श्वसन समस्याओं से पीड़ित होने पर, लक्षणों से राहत मिलने तक कुछ मुलेठी जड़ चाय के साथ मिलाएं ।
  • आप थोड़ा शहद के साथ मुलेठी पाउडर के आधा चम्मच को मिलाकर खा सकते हैं कुछ दिनों के लिए इसे दो बार रोजाना कर सकते हैं।
  • गले की जलन को शांत करने के लिए, आप कुछ मुलेठी की दातुन को चूस भी सकते हैं।

मुलेठी के फायदे घाव व दाद को ठीक करने के लिए – Mulethi ke fayde for Ringworm in hindi

मुलेठी भी अपने एंटी इन्फ्लामेंट्री और श्लेष्म-चिकित्सा गुणों के कारण नासूर घावों का इलाज करने में सहायता करता है। यह भी दाद वायरस से लड़ने में मदद करता है

  • एक दिन में दो या तीन बार 200 मिलीग्राम डिगलेसीरहाइज़्ड मुलेठी कैप्सूल चवाएं।
  • आप पानी में कुछ डिगलेसीरहाइज़्ड की गोलियां भी मिला सकते हैं और दिन में 4 बार इससे कुल्ला कर सकते हैं।

मुलेठी के फायदे रखें लीवर को स्वस्थ Liquorice for healthy liver in hindi

लीकोरिस यकृत विकारों, जैसे पीलिया, हेपेटाइटिस और गैर-मादक वसायुक्त यकृत रोग के इलाज में मदद करता है। इसकी प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट गुण मुक्त कण और विषैले सामग्री के कारण होने वाली क्षति से जिगर की रक्षा करती है। इसके अलावा, इसकी एंटी इन्फ्लामेंट्री गुण हेपेटाइटिस के कारण आने वाली जिगर की सूजन को कम करने में मदद करती है। और पढ़े – लीवर की कमजोरी कारण लक्षण और दूर करने के उपाय

Phytotherapy अनुसंधान पत्रिका में प्रकाशित एक 2012 के अध्ययन में पाया गया कि Mulethi की जड़ से यकृत रोग के उपचार में मदद मिलती है।

  • यकृत स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए मुलेठी की जड़ की चाय का एक कप पीना चाहिए चाय बनाने के लिए, कप के गर्म पानी के मुलेठी जड़ के आधा चम्मच पाउडर को मिलाएं। , 5 से 10 मिनट ढकें और इसे छानकर पी ले। इस चाय को प्रतिदिन एक हफ्ते के लिए पीना है , कुछ हफ़्ते का ब्रेक लें और फिर इसे दोहराएं।
  • आप लीकोरिस की सीधी खुराक भी ले सकते हैं, लेकिन केवल अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद

मुलेठी का लाभ वजन घटने के लिए Liquorice for weight loss in hindi

मोटापे एक गंभीर स्थिति है जिसे आप मुलेठी के साथ कम कर सकते हैं इस जड़ीबूटी में फ्लेवोनोइड होता है जो शरीर में अत्यधिक वसा संचय को कम करने में मदद करते हैं ।

2009 में रिसर्च एंड क्लिनिकल प्रैक्टिस जर्नल में प्रकाशित मोटापे के अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि मुलेठी फ्लेवोनॉइड ऑयल अधिक वजन वाले लोगों के शरीर से वसा कम करने में मदद करता है।

जिन लोगों ने आठ हफ्तों के लिए प्रति दिन 900 मिलीग्राम तेल लिया उनके पेट की वसा क्षेत्र, शरीर के वजन, बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) और खराब (कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन या एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल में एक महत्वपूर्ण कमी देखी गई।

मुलेठी खाने से मोटापा की रोकथाम और उपचार में मदद मिल सकती है। हालांकि, Mulethi की कैंडी से बचें, क्योकि इसमें अतिरिक्त चीनी पाई जाती है।

मुलेठी का उपयोग मुह की बदबू दूर करने में – Mulethi for Mouth stench in hindi

यह जड़ी बूटी भी मौखिक स्वास्थ्य को ठीक रखने में सहायक है। इसकी जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुण बदबू पैदा करने वाले बैक्टीरिया की वृद्धि को रोक सकते हैं, और साँस की बदबू को दूर करते है और दांतों और मसूड़ों को मजबूत और स्वस्थ रख सकते हैं। और पढ़े – मुँह की बदबू दूर करने के घरेलू उपाय

2012 के अमेरिकन केमिकल सोसायटी के प्राकृतिक उत्पादों के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन ने Mulethi की जड़ के मौखिक स्वास्थ्य लाभ की पुष्टि की है।

  • अपने दांतों को ब्रश करने के लिए सूखे मुलेठी रूट पाउडर का प्रयोग करें या मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए मुलेठी युक्त माउथवाश का उपयोग करें।
  • आप अपने दांतों को ब्रश करने के लिए टूथब्रश की तरह एक नटिका का उपयोग भी कर सकते हैं।

मुलेठी के फायदे प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए Mulethi for immunity in hindi

एक मजबूत, स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली आपके शरीर को वायरस, खराब बैक्टीरिया और संक्रमण से मुक्त रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

लिम्फोसाइट्स और मैक्रोफेज नामक रसायनों के उत्पादन में मुलेठी सहायता करता है , जो आपके शरीर की प्राकृतिक रक्षा तंत्र को बेहतर बनाता है। इसमें शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट भी शामिल हैं जो प्रतिरक्षा तंत्र में सुधार करने में सहायता करते हैं। और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय

मुलेठी के फायदे रजोनिवृत्ति के दर्द से दिलाये राहत – Mulethi for menopause in hindi

मुलेठी से रजोनिवृत्ति से जुड़े कई समस्याओं से निपटने में भी मदद मिल सकती है। इस जड़ीबटी में फाइटोटेस्ट्रोजेनिक योगिक (phytoestrogenic compounds), हार्मोनल असंतुलन, रात में पसीना आना अनिद्रा, अवसाद, और योनि में सूखापन जैसे लक्षणों को कम करने में मदद करता है। और पढ़े – पीरियड्स में दर्द का इलाज

इसके अलावा, मुलेठी में पाया जाने वाला विटामिन बी इन लक्षणों से लड़ने में मदद करने के लिए एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन जैसे हार्मोन को उत्पन्न करने में मदद करता हैं।

ईरानी जर्नल ऑफ फार्मास्युटिकल रिसर्च में प्रकाशित 2012 के प्रारंभिक अध्ययन में रजोनिवृत्त के दर्द पर मुलेठी के सकारात्मक प्रभाव पर प्रकाश डाला गया है। हालांकि, इसपर  और अधिक शोध की आवश्यकता है।

मुलेठी लेने से पहले, सही खुराक के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

मुलेठी के गुण गठिया के इलाज के लिए – Mulethi for arthritis in hindi

इस जड़ी-बूटियों में एंटी इन्फ्लामेंट्री गुण होते हैं जो कि रुमेटी गठिया जैसे पुराने रोगों का इलाज कर सकते हैं ।

इसमें एस्पिरिन जैसी क्रिया होती है जो गठिया के दर्द और सूजन को कम करने में मदद कर सकती है, इसके अलावा, यह फ्री रेडिकल की क्षति को कम कर देता है जो सूजन और दर्द का कारण बनता है।

2010 के बायोमेडिसिन और जैव प्रौद्योगिकी के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि गठिया को रोकने और इलाज करने में मुलेठी के एंटी इन्फ्लामेंट्री गुणों के साथ  भुना हुई मुलेठी को इस्तेमाल किया जा सकता है

गठिया के दर्द और सूजन को कम करने के लिए , रोजाना एक कप मुलेठी की चाय को पीना चाहिय

मुलेठी के फायदे अवसाद दूर करने में – Liquorice for depression in hindi

यह जड़ीबूटी भी अवसाद का इलाज करने में मदद करता है Licorice जड़ में glycyrrhizin पाया जाता है जो हमारे सिर में पाई जाने वाली अधिवृक्क ग्रंथियों के कामकाज में सुधार करता है जिसकी मदद से घबराहट और अवसाद को कम करने में सहायता प्राप्त होती है। और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय

इसके अलावा, इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम और बीटा-कैरोटीन जैसी आवश्यक खनिजों के साथ-साथ फ्लेवोनोइड्स भी शामिल हैं जो अवसाद को कम करने में मदद करते हैं।

महिलाओं में पूर्व और रजोनिवृत्ति के बाद के अवसाद का सामना करने में मुलेठी प्रभावी है।

2003 के जर्नल ऑफ मॉलेक्युलर न्यूरोसाइंस में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, लाइसोर्सिस सेरोटोनिन को फिर से तेज होने से रोकता है, जो रजोनिवृत्त महिलाओं के अवसाद का इलाज करने में मदद करता है।

आप अवसाद कम करने के लिए इस जड़ी बूटी को चाय के रूप में ले सकते हैं।

मुलेठी के नुकसान – Mulethi ke nuksan in Hindi

  • दो सप्ताह से अधिक लंबे समय तक मुलेठी लेने से बचें, क्योंकि यह हानिकारक हो सकता है इससे उच्च रक्तचाप, द्रव प्रतिधारण और चयापचय संबंधी असामान्यताएं जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • यदि आप मूत्रवर्धक या एंटी-हाइपरटेन्सियस ड्रग्स लेते हैं, तो इस जड़ी बूटी को लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें।
  • यदि आपको मधुमेह, किडनी रोग या कम पोटेशियम का कोई रोग है, तो इस जड़ी-बूटियों से पूरी तरह से बचें।
  • यह जड़ी बूटी गर्भवती महिलाओं या शिशुओं के लिए उपयुक्त नहीं है।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration