बालों का असमय झड़ने का कारण और उपचार- Hair Loss Causes And Remedies In Hindi

बालों का असमय झड़ने का कारण और उपचार-causes and remedies for hair loss in hindi
Written by Pratistha

हर व्यक्ति घने काले बालो कि चाहत रखता है। कोई नहीं चाहता कि बालो का असमय झड़ने कि वजह से वह 25 साल कि उम्र में 40 साल का दिखाई दे। कम उम्र में सिर के बालो का गिरना या hair loss होना बहुत टेंशन देने वाली प्रॉब्लम  है। वर्तमान समय में यह समस्या युवाओं में बहुत तेजी से बढ़ रही है। बाल झ़डना लगभग एक आम समस्या बन गयी है फिर भी लोग इसे रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं करते है। आज इन्टरनेट पर भी रोजाना लाखों लोग बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय सर्च करते हैं और यह बात यही दर्शाती है की युवा आयु में ही हेयर फॉल होना एक गंभीर समस्या बनती जा रही हैं।

बालों का असमय झड़ने का कारण – Hair Loss Causes In Hindi

ऐसे तो हर रोज सभी लोगो के कुछ मात्रा में बाल गिरते ही है पर अगर यह मात्रा जब  ज्यादा हो जाये तो जल्द ही इस ओर ध्यान देना जरुरी है। बालो का असमय झड़ने के कई कारण हो सकते है और उन कारणो की जानकारी निचे दी गयी है।

अनुवांशिक / Hereditary:

बालो का असमय झड़ने का मुख्य कारण है अनुवांशिकता हो सकती है। अकसर देखा गया है कि बालो का असमय झड़ना एक परिवार में चल रही रीती रिवाज के समान है। किसी परिवार में दादा – पिता  – बेटा सभी में समान हेयर लोस होता है, जिसे मेल पटेर्नेड बाल्डनेस (male patterned baldness) भी कहते है। किसी विशेष जीन या क्रोमोजोम कि वजह से एक परिवार के सभी लोगो में यह समस्या समान होती है।

आहार / Diet:

शरीर के विभिन्न अंगो कि तरह बालो को भी काले और घने रहने के लिए सभी विटामिन्स, मिनरल्स, और प्रोटीन आदि कि जरुरत होती है। समान मात्रा के पौष्टिक आहार न लेने पर हेयर लोस होना तय है।

तेलोजेम एफ्फ्लुवियम /Telogen Effluvium:

Telogen Effluvium एक प्रकार की समस्या है जिसमे काफी जल्दी और ज्यादा प्रमाण में हेयर लोस  होता है। यह समस्या गर्भावस्था के बाद, किसी बड़े ओपरेसन के बाद, ज्यादा तनाव, अधिक वजन कम करने या अधिक श्रम करने जैसे कारणो के बाद हो सकती है। यह किसी दर्दनाशक या तनाव कम करनेवाली जैसी दवा का साइड इफ़ेक्ट भी हो सकता है।

हार्मोनल असंतुलन /Hormonal Imbalance:

शरीर में अचानक होनेवाले शारीरिक रसायन या होर्मोंस के असामान्य बदलाव के कारण हेयर लोस  का प्रमाण बढ़ सकता है। महिलाओ में थायरोइड होर्मोन कि कमी जिसे हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism) कहते है कि वजह से हेयर लोस  होता है। महिलाओ में थकावट, बिना कारण वजन बढ़ना, उदासी, कमजोरी और त्वचा शुष्क होना जैसे लक्षण दिखाई देने पर हाइपोथायरायडिज्म के निदान हेतु डॉक्टर कि सलाह अनुसार ब्लड टेस्ट  ( Thyroid Profile ) करा लेना चाहिए। खून कि कमी (Anemia), Poly Cystic Ovarian Syndrome, Dandruff, Chemotherapy और Auto Immune Disorder इन कारणो से हेयर लोस अधिक होता है।

दिनचर्या / Lifestyle:

बालो कि ठीक से देखभाल न करना, लम्बे समय तक धुप और धूल-मिटटी वाली जगह पर रहना, अत्याधिक तनाव, अधूरी नींद और दौड़भाग वाली जिंदगी जैसे कारणो से हेयर लोस  होता है। बार-बार कंगी करना, अलग-अलग रंग या केमिकल  लगाना, कई तरह के तैल और शैम्पू  का उपयोग करते रहना इत्यादि कारणो से भी हेयर लोस  अधिक होता है।

बालो का असमय झड़ना हेयर लोस रोकने के उपाय – Treatment and Home remedies for Hair fall in Hindi

बालो का असमय झड़ना hair loss रोकने के लिए यह जरुरी है कि पहले आप पता करे कि ऊपर दिए गए कारणो में से किस कारण आपके बाल अधिक झड़ रहे है। जब तक मूल कारण का उपचार न किया जाए हेयर लोस  रोकना कठिन कार्य है। हेयर लोस  होने के मूल कारण का उपचार करने के साथ निचे दिए गए अन्य उपाय का उपयोग कर आप हेयर लोस  की  रोकथाम कर सकते है।

  • आपको अपने आहार में सब्जिया, सलाद, अंकुरित अन्न, मौसमी फल, और High Protein Diet लेना चाहिए। आपको अनानास , आवला, गाजर, ओट्स (Oats), पालक, टमाटर, चना, प्याज, अदरक, राजमा और सोयाबीन का अधिक सेवन करना चाहिए।प्रोटीन से भरपूर चीजों का सेवन अधिक करें इससे हेयर फॉलिकल्स मजबूत होते हैं। बालो के बढ़ने और मजबूत होने के लिए Protein, Vitamin A, Vitamin B COMPLEX, Vitamin C, Vitamin E, और Iron कि विशेष आवश्यकता होती है, इसलिए आहार में ऐसे अन्न का समावेश होना जरुरी है जिनमे इन सभी आहार पदार्थो कि प्रचुर मात्रा हो।
  • Hair growth के लिए High Protein Diet लेना बेहद जरुरी है। भारतीय आहार में protein कि मात्रा कम होती है। प्रचुर मात्रा में protein लेने के लिए सुबह नाश्ते में अंकुरित अन्न, मुंग, flax seeds, दूध, सोयाबीन लेना चाहिए। भारतीय खाने में दाल का समावेश हमेशा रहता है पर दाल को पतला बनाने कि जगह दाल गाढ़ी बनानी चाहिए। Snacks में fast food कि जगह पर भुने हुए मूंगफली या चना लेना चाहिए। रोटी बनाने के लिए गेहू के आटे में 1/4 हिस्सा सोयाबीन का आटा मिलाकर रोटी बनाना चाहिए।
  • अगर आप नोनवेज खाना खाते है तो अपने खाने में सी फ़ूड जैसे फिश और अन्य मांसाहारी फ़ूड चिकिन, मीट आदि सामिल कर सकते है|
  • अगर आपकोथकावट, बिना कारण वजन बढ़ना, उदासी, कमजोरी और त्वचा शुष्क होना जैसे लक्षण दिखाई देते है तो Hypothyroidism के निदान हेतु डॉक्टर कि सलाह अनुसार Blood test ( Thyroid Profile ) करा लेना चाहिए।
  • महिलाओ में विशेष कर हेयर फाल का प्रमुख कारण Hypothyroidism ही है। अगर आप Dandruff कि समस्या से परेशान है तो डॉक्टर से इसका इलाज करवाए। आप Dandruff से छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर कि सलाह अनुसार Ketoconazole युक्त shampoo का उपयोग हफ्ते में दो बार कर सकते है।
  • Pregnancy के बाद देखा जाता है कि कई महिलाओ में अधिक हेयर फालहोता है। इसकी खास वजह है आयरन , कैल्शियम, प्रोटीन कि कमी। Pregnancy के दौरान, Breast feeding करते समय और उसके 3 महीने बाद तक  आयरन , कैल्शियम, प्रोटीन प्रचुर मात्रा में लेना चाहिए। Typhoid के संक्रमण के बाद भी अधिक हेयर लोस  होता है। इसमें भी संतुलित आहार और पोषण जरुरी है।
  • जो व्यक्ति Auto Immune Disorder से होने बाले हेयर फॉल से परेशान है उन्हेंदिन में दो बार 1 चमच्च अश्वगंधा चूर्ण शहद के साथ लेना चाहिए।
  • अगर आपकोMale Patterned Baldness कि समस्या है तो आप अपने डॉक्टर कि सलाह लेकर Minoxidil (1-10%) युक्त तेल का उपयोग कर सकते है। इसकी 1 ml मात्रा सुबह और रात में जहा बाल कम हो वह लगाए। ह्रदय और किडनी रोग के रोगी इसका इस्तेमाल न करे।
  • कई दवा के कारण भी हेयर फॉल अधिक होता है जैसे कि दर्दनाशक या तनाव कम करने वाली दवा। अगर आपको कोई दवा लेने के बाद अधिक हेयर फॉल कि समस्या होती है तो अपने डॉक्टर को इसकी जानकारी दे।
  • बार-बार बालों को धोने से बालों को नुकसान पहुंचता है। अधिकांश लोग अपने बालों को सुंदर व सेहतमंद दिखाने के लिए बार-बार और ज्यादा केमिकल वाले शैम्पू का उपयोगकरते हैं बल्कि बालों को धोने के लिए आंवला व अरीठा पाउडर का यूज सबसे अच्छा रहता है। इसके अलावा अगर बालों को धोने के लिए कम केमिकलस वाले शेम्पू का यूज करें। समय-समय पर अपने शैम्पू और कंडीशनर को बदलते रहना चाहिए। आपके बाल तैलीय हैं तो कंडीशनर का इस्तेमाल न करें।
  • गीले बालो (Wet hair) को कपडे सेआराम से सुखाए। गीले बालो में कंगी न करे। गीले बाल नाजुक होते है और आसानी से टूट या गिर सकते है। कंगी करने के लिए मोटे दातो वाला कंगा इस्तेमाल करे। बाल सुखाने के बाद बालो कि अच्छे से मसाज करे। नारियल तेल से मसाज करने से बालो कि जड़ो तक Blood circulation बढ़ता है और बाल बढ़ते और मजबूत होते है।
  • बालो पर अधिक गर्म पानी का उपयोग न करे। अधिक गर्म पानी से बाल शुष्क और नाजुक बन जाते है।स्नान करने के लिए ठन्डे या गुनगुना(lukewarm) पानी का उपयोग करे।
  • कम से कम सप्ताह में एक दिन शंखपुष्पी से बना हुआ असली और शुद्ध चूर्ण थोड़े से पानी में मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं। इसके अलावा भृंगराज के चूर्ण में थोड़ा तिल मिलाकर खाएं।प्याज के रस बालो में लगाने से बालो का झड़ना कम होता है। इन आयुर्वेदिक उपचार से आपके बाल प्राकृतिक रूप से स्वस्थ एवं मजबूत बनेंगे।
  • आप बालो में शुद्धAloe vera gel से हफ्ते में दो बार मसाज भी कर सकते है। मसाज करने के बाद दो घंटे तक इसे ऐसे ही रहने दे और गुनगुने पानी से बालो को साफ़ कर दे। ऐसा करने से बालो कि growth बढती है और बाल मजबूत होते है।
  • शैम्पू करने से पहले बालों को ड्राय रखने से भी बाल झडऩे लगते हैं इसीलिए शैम्पू करने से पहले बालों में हल्के गर्म Olive oil या Coconut oil से मसाज करें। बालों की जड़ों में तेल की अच्छे से मसाज रात को सोने पहले ही कर लेना चाहिए। इससे न सिर्फ बालों की जड़े मजबूत होती है बल्कि बाल shine भी करने लगती है।
  • बार-बार बालो को अलग chemical लगाकर रंग बदलने का प्रयास न करे। Hair Straightening करने से बचे।इनसे बालो को नुकसान पहुचता है।
  • ज्यादा समय तक कड़क धुप में रहने से बचे। धूल-मिटटी और बारिश के पानी से बालो का बचाव करे।
  • बालों का सीधा संबंध पेट से होता है। यदि पाचन तंत्र और हाजमा ठीक नहीं है तो बालों की जड़ें कमजोर होंगी लगातार कब्ज रहने से hair follicles कमजोर हो जाते है और बाल टूटने व झडऩे लगते हैं। इसलिए अपने खान-पान और हाजमे को हमेशा ठीक रखें।
  • बालो के असमय झड़ने hair loss के कारण जो युवा परेशान है वह Hair Transplant भी करा सकते है।Hair Transplant एक सरल और गंजेपन से छुटकारा पाने का permanent इलाज है|
  • चाय, कॉफी, पान-तंबाकू, मिर्च-मसाले आदि नशीले पदार्थों से दूर ही रहें।
  • नियमित व्यायाम करे। रोजाना व्यायाम करने से शरीर में Blood circulation ठीक से होता है और आप निरोगी रहते है।

बाल झड़ना शुरू होने के समय ही तुरंत सावधानी बरतने पर और उचित उपाय करने पर इसे रोका जा सकता हैं। बाल झड़ने की तकलीफ अधिक होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लेना चाहिए।

स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए टॉपिक पर क्लिक करें

हेल्थ टिप्स | घरेलू उपाय | फैशन और ब्यूटी टिप्स | रिलेशनशिप टिप्स | जड़ीबूटी | बीमारी | महिला स्वास्थ्य | सवस्थ आहार |

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration