मुहांसों के प्रकार और उनका इलाज types of acne (pimples) and treatment Hindi
मुँहासे

मुहांसों के प्रकार और उनका इलाज -Types Of Acne And How To Treat Them in Hindi

मुहांसों के प्रकार और उनका इलाज -types of acne and how to treat them in Hindi

Types of pimples in hindi आपने अक्सर सुना होगा कि सभी प्रकार के मुहांसों के लिए एक शब्द का इस्तेमाल होता है जिसे ब्रेकआउट कहते हैं। लेकिन यह हमेशा एक सटीक विवरण नहीं होता कि आपको किस प्रकार के मुंहासे हैं और आपकी स्किन किस प्रकार के मुहांसों को उत्पन्न कर रही है। इसलिए हम आपको मुंहासों के प्रकार और मुंहासों का इलाज -types of acne and how to treat them in Hindi, pimples treatment in hindi के बारें में विस्तार से बताने जा रहे है

मुहांसे होने का कारण – Reason For Acne in Hindi

मुहासों का कारण मुख्यतः एक पोर्स का क्षेत्र होता है जो कि भरा होता है निम्न चीजों से जो मुहांसे का कारण बनती हैं

  • अधिक मात्रा में तेल का उत्पादन सीबम – excess production of oil (sebum)
  • बैक्टीरिया – bacteria
  • हार्मोन – hormones
  • मृत स्क्रीन की कोशिकाएं- dead skin cells
  • बाल की जड़ या बाल – ingrown hairs

मुंहासे आमतौर पर किशोरावस्था के दौरान हार्मोनल उतार-चढ़ाव के साथ उत्पन्न होते हैं। लेकिन जरूरी नहीं कि है ये केवल किशोरावस्था में ही हों वयस्कों में भी मुंहासे होना एक आम बात होती है। ऐसे लाखों लोग हैं जिन्हें मुंहासे हैं और यह बच्चों और वयस्कों दोनों के बीच सबसे आम त्वचा की समस्या में से एक है।

आप को किस प्रकार के मुंहासे उत्पन्न हो रहे हैं इसे जान लेना उसके उपचार के लिए सबसे आवश्यक बात होती है। मुंहासे किसी भी प्रकार की सूजन के बिना हो सकते है इसमें निम्न प्रकार शामिल होते हैं।

(और पढ़ें – मुंहासे के लिए घरेलू उपचार)

मुहासों के प्रकार – Acne Types in Hindi

  • ब्लैकहैड्स – blackheads
  • व्हाइटहेड्स – whiteheads
  • पेप्युल्स – Papules
  • पुस्टूल – pustules
  • नोडुल्स (पिंड) – nodules
  • अल्सर – cysts

एक बार में एक से अधिक प्रकार के मुंहासे होना मुमकिन हो सकता है कुछ मामलों में मुंहासे का प्रकार गंभीर हो सकता है और एक त्वचा विशेषज्ञ के पास जाने की आवश्यकता पढ़ सकती है।

मुंहासों का इलाज कैसे करें – Subtypes Of Acne And How You Can Treat Them in Hindi

ऊपर आपने जाना मुहांसों के पीछे क्या कारण होता है और मुंहासे के प्रकार क्या होते हैं। इसको जानने के बाद आप अपने मुंहासे की पहचान कर सकते हैं कि किस प्रकार के मुंहासे आपकी त्वचा पर उत्पन्न हो रहे हैं और उनका इलाज भी किया जा सकता है। आइए जानते हैं मुंहासों के प्रकार और मुंहासों का इलाज कैसे कर सकते हैं।

(और पढ़ें – मुँहासों को दूर करने के घरेलू उपाय)

नॉनइंफ्लेमेटरी मुंहासे का इलाज – Noninflammatory Acne Treatment in Hindi

 इस प्रकार के मुंहासे में ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स शामिल होते हैं यह सामान्य रूप से सूजन पैदा नहीं करते हैं और इनका इलाज ओवर द काउंटर दवाओं से किया जा सकता है।

सैलिसिलिक एसिड अक्सर मुहांसों को ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है जो कि आमतौर पर नॉन इंफ्लेमेटरी मुंहासों पर सबसे अच्छा काम करता है। यह स्किन को ताजगी देता है साथ ही साथ मृत कोशिकाओं को निकालने का काम करता है जो कि ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स को जन्म देती हैं।

आप मुहांसे दूर करने वाले क्लीनर डोनर्स और मॉश्चराइजर में इसे देख सकते हैं। इसका इस्तेमाल कर मुंहासों का इलाज किया जा सकता है।

ब्लैकहेड्स (ओपन कॉमेडोन) – Blackheads (Open Comedones)

आपको बता दें कि ब्लैकहैड्स तब होते हैं जब सीबम और मृत त्वचा कोशिकाओं के संयोजन से त्‍वचा छिद्र भर जाता है। इस प्रकार के त्वचा का ऊपरी हिस्सा खुला होता है जिससे इसकी सतह पर ब्लैक रंग वाला एक विशिष्ट पदार्थ दिखाई देता है।

(और पढ़े – नाक पर से ब्लैकहेड्स साफ करने के घरेलू उपाय)

व्हाइटहेड्स (बंद कॉमडोन) – Whiteheads (Closed Comedones)

त्‍वचा में व्हाइटहेड्स तब होते है जब एक छिद्र सीबम और मृत त्वचा कोशिकाओं द्वारा भरा जाता है। लेकिन ब्लैक ब्लैकहेड्स के विपरीत इसका ऊपरी भाग बंद हो जाता है और ऐसा लगता है कि त्वचा के थोड़ी सी जगह पर फैला हुआ है।

व्हाइटहेड्स का उपचार करना अधिक कठिन होता है क्योंकि इसके पोर्स पहले से ही बंद होते हैं इसके लिए सैलिसिलिक एसिड वाले उत्पाद उपयोगी होते हैं। रेटिनोएड कॉमेडोनल इस प्रकार के मुहांसों को ठीक करने के लिए सर्वोत्तम परिणाम देते हैं।

(और पढ़े – मुँहासे में आहार प्रमुख भूमिका निभाता है जाने कैसे)

सूजन वाले मुंहासों का इलाज – Inflammatory Acne Treatment in Hindi

लाल और सूजन वाले मुंहासों को इंफ्लेमेटरी मुहांसे कहा जाता है। यहां पर सीबम और मृत त्वचा मिलकर इंफ्लेमेटरी मुंहासे को उत्पन्न करते हैं साथ ही साथ कुछ बैक्टीरिया भी पोर्स को बंद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। बैक्टीरिया त्वचा की सतह के नीचे गहरे संक्रमण को उत्पन्न करते हैं इससे मुहांसों में धब्बे और निशान बन सकते हैं जिन से छुटकारा पाना काफी कठिन होता है।

बेंजोईल पेरोक्साइड से युक्त उत्पाद का उपयोग कर सूजन को कम करने और त्वचा के भीतर मौजूद बैक्टीरिया से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है यह अतिरिक्त सीबम को हटा देते हैं।

(और पढ़ें – मुहासे के दाग धब्बे हटाने के घरेलू उपाय)

पेपल्स मुंहासों का इलाज – Papules Pimples Treatment in Hindi

पेपल्स तब होते हैं जब आपको पोर्स के आस-पास की दीवारगंभीर रूप से शूज और टूट जाती हैं यह एक कड़ा भरा हुआ छिद्र होता है जो कि टच करने पर मुलायम महसूस होता है इन छिद्रों के आसपास की त्वचा आमतौर पर गुलाबी होती है।

(और पढ़ें – मुँहासे (पिंपल्स))

पुस्टूल मुंहासों का इलाज  Pustules Pimples Treatment in Hindi

पुस्टूल भी आपके चेहरे की स्किन के क्षेत्रों पर उत्पन्न होते हैं लेकिन एक पेपल्स के विपरीत इन में मवाद भरी होती है यह त्वचा से ऊपर उभर आते हैं और आम तौर पर इनका रंग लाल होता है और इनके शीर्ष पर पीले या सफेद रंग का एक सिर पाया जाता है।

(और पढ़ें – ऑयली स्किन पर दिखने वाले पिंपल्स को दूर करने के घरेलू उपाय)

पिंड वाले मुंहासों का इलाज – Nodules Pimples Treatment in Hindi

नोडुल्स तब होते हैं जब पोर्स के साथ सूजन उत्पन्न होती है और इसके अन्दर कुछ भरा हुआ मौजूद होता है पुस्टूल और पेप्युल्स के विपरीत त्वचा के नीचे गहरे मौजूद होते हैं।

क्योंकि नोड्यूल्स त्वचा के भीतर इतने गहरे हैं इसलिए आप घर पर इनका उपचार नहीं कर सकते इसके लिए आपको प्रिस्क्रिप्शन मेडिसिन की जरूरत होती है।

आप के चिकित्सक या त्वचा विशेषज्ञ कुछ मौखिक दवाओं को दे सकते हैं जिसमें isotretinoin (sotret) दवा शामिल होती है यह विटामिन ए के रूप में बनाई गई मेडिसिन है और इसे 4 से 6 महीनों तक दैनिक रूप से लिया जाता है यह पोर्स के भीतर तेल ग्रंथि को कम कर नोड्यूल्स का इलाज करती है और इसे रोकने में मददगार साबित होती है।

(और पढ़े – ऑयली स्किन होने के कारण और छुटकारा पाने के घरेलू उपाय)

अल्सर वाले मुंहासों का इलाज – Cysts Pimples Treatment in Hindi

अल्सर तव विकसित हो सकते हैं जब पोर्स बैक्टीरिया और मृत कोशिकाओं के संयोजन से भर जाता है अल्सर त्वचा के भीतर गहरे होते हैं और नोड्यूल्स की तुलना में सतह के नीचे होते हैं।

यह बड़े लाल या सफेद धब्बों के रूप में दर्द देने वाले होते हैं अल्सर मुहांसों का सबसे बड़ा रूप है और उनका गठन आमतौर पर गंभीर संक्रमण से उत्पन्न होता है इस प्रकार के मुहासे त्वचा पर गंभीर निशान छोड़ सकते है।

डॉक्टर के द्वारा पिस्क्राइब दवा आईसोटेटिनोइन (सॉटेट) को आमतौर पर अल्सर का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है कुछ गंभीर मामलों में आपका त्वचा विशेषज्ञ शल्य चिकित्सा से आपकी सिस्टर को वहां से हटा सकता है।

(और पढ़ें – पिंपल हटाने के 25 घरेलू उपाय)

मुहासे कितने गंभीर होते है और इनका इलाज कैसे करें – How Severe Is Each Type Of Acne in Hindi

ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स मुहांसों के सबसे छोटे रूप माने जाते हैं इस तरह के मुहांसों को ओवर द काउंटर दबाओ से जो कि सैलिसिलिक एसिड पर आधारित होती हैं का इस्तेमाल कर ठीक किया जा सकता है।

यदि ओटीसी दवाओं का असर नहीं होता हैं, तो कॉमडोन का उपयोग सामयिक रेटिनोइड के इलाज में किया जाता हैयह एक प्रकार का रेटिनॉयड है, जिसे एडैपलीन कहा जाता है, जो अब काउंटर पर उपलब्ध है।जो की ब्लैकहैड्स और व्हाइटहेड्स को साफ करने में यह बहुत प्रभावी है।

Pustules और papules मुँहासे के अधिक मॉडरेट रूप हैंये ओटीसी मेडिसिन के साथ ठीक हो भी सकते है और नहीं भी। मॉडरेट मुँहासे को त्वचा विशेषज्ञ से एक मौखिक या टोपिकल प्रिस्क्रिप्शन की आवश्यकता हो सकती है।

नोड्यूल्स और अल्सर मुहांसों का सबसे गंभीर रूप है, मुँहासे को साफ करने के लिए आपको एक त्वचा विशेषज्ञ को दिखाना होगा, नोड्यूल्स और अल्सर को दबाने या फोड़ने पर ये निशान छोड़ सकते हैं।

(और पढ़ें – मुहांसे दूर करने के लिए चेहरे पर भाप लेने के फायदे)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration