अदरक की चाय के फायदे और नुकसान – Ginger Tea Benefits And Side Effects in Hindi

अदरक की चाय के फायदे और नुकसान - Ginger Tea Benefits And Side Effects in Hindi
Written by Jaideep

Adrak ki chai ke fayde aur nuksan सभी लोग अदरक का उपयोग करते हैं लेकिन क्या आप अदरक की चाय के फायदे जानते हैं। इस जड़ी बूटी के लाभ इतने अधिक हैं कि सभी लोग इसे पूरी तरह से समझ ही नहीं पाते हैं। अदरक का उपयोग विभिन्‍न प्रकार के व्‍यंजनों को स्‍वादिष्‍ट बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। लेकिन भारत जैसे एशियाई देशों में अदरक का उपयोग चाय के साथ व्‍यापक रूप से किया जाता है। अदरक एक पारंपरिक दवा के रूप में भी उपयोग की जाती है। हो सकता है आप अच्‍छे स्‍वाद के लिए चाय में अदरक का उपयोग करते हों। लेकिन अदरक की चाय पीने के फायदे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी फायदेमंद होते हैं। इस आर्टिकल में आप अदरक की चाय के फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे।

1. अदरक की चाय के फायदे – Adrak Ki Chai Ke Fayde in Hindi

2. अदरक की चाय बनाने की विधि – Adrak ki chai banane ki vidhi
3. अदरक की चाय बनाने का तरीका – Adrak ki chai banane ka tarika
4. अदरक की चाय के नुकसान – Adrak ki chai ke nuksan in hindi

अदरक की चाय के फायदे – Adrak Ki Chai Ke Fayde in Hindi

  1. अदरक की चाय के फायदे वजन कम करने में – Ginger tea Benefits for weight loss in Hindi
  2. अदरक की चाय के लाभ मधुमेह के लिए – Adrak Chai Ke Labh Madhumeh Ke Liye in Hindi
  3. अदरक की चाय के गुण दिल के लिए – Adrak ki chai ke fayde dil ke liye in Hindi
  4. अदरक की चाय का उपयोग कैंसर को रोके – Adrak Ki Chai Cancer Ka Ilaj Kare in Hindi
  5. अदरक चाय का प्रयोग मासिक धर्म के लिए – Adrak Ki Chai Ka Pryog Masik Dharm Ke Liye in Hindi
  6. अदरक की चाय पाचन के लिए फायदेमंद – Adrak ki chai ke fayde pachan ke liye in Hindi
  7. अदरक की चाय का इस्‍तेमाल सूजन को रोके – Ginger Tea For Reduce Inflammation in Hindi
  8. अदरक की चाय के लाभ प्रतिरक्षा के लिए – Ginger tea Benefits for immunity in Hindi
  9. अदरक की चाय प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय – Adrak ki chai prajnan shamata badhaye in Hindi

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि अदरक का उपयोग विभिन्‍न प्रकार की औषधीयों के रूप में किया जाता है। क्‍योंकि आयुर्वेद में अदरक को विशेष औषधी माना जाता है। अदरक की चाय के फायदे वजन को कम करने, अल्‍जाइमर को ठीक करने, मधुमेह को रोकने, सर्दी और खांसी का इलाज करने, प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद करे, तनाव कम करने आदि में होते हैं। इस तरह से अदरक की चाय से दिन की शुरूआत करना आपको दिन भर के लिए तनाव मुक्‍त रहने का अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। आइए विस्‍तार से जाने अदरक की चाय पीने के फायदे क्‍या हैं।

अदरक की चाय के फायदे वजन कम करने में – Ginger tea Benefits for weight loss in Hindi

अदरक की चाय के फायदे वजन कम करने में - Ginger tea Benefits for weight loss in Hindi

औषधीय गुणों से भरपूर अदरक का उपयोग आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होता है। लेकिन यदि आप अपने वजन को कम करना चाहते हैं तो अदरक चाय एक बेहत विकल्‍प हो सकता है। क्‍योंकि अदरक की चाय वजन को कम करने और सकारात्‍मक जीवन जीने की प्रक्रिया में अपना अहम योगदान देती है। अदरक में मौजूद घटक शरीर में अतिरिक्‍त वसा को हटाने में सहायक होते हैं। जिससे आपको सामान्‍य वजन प्राप्‍त करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा अदरक में फाइबर की उच्‍च मात्रा आपकी भूख को भी नियंत्रित करने में मदद करती है। इस तरह से यदि आप अपने वजन को कम करने का प्रयास कर रहे हैं तो अदरक की चाय का नियमित सेवन प्रारंभ कर सकते हैं।

(और पढ़े – मोटापा कम करने में बहुत ही असरदार हैं ये हर्बल चाय…)

अदरक की चाय के लाभ मधुमेह के लिए – Adrak Chai Ke Labh Madhumeh Ke Liye in Hindi

अदरक की चाय के लाभ मधुमेह के लिए - Adrak Chai Ke Labh Madhumeh Ke Liye in Hindi

डायबिटीज या प्री-डायबिटीज के लक्षणों को कम करने में अदरक की चाय बहुत ही प्रभावी होती है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि अदरक की प्रकृति और पौष्टिक घटक शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर को प्रभावी रूप से कम करने में मदद करते हैं। एक अध्‍ययन में पाया गया कि नियमित रूप से अदरक की चाय का सेवन करने पर यह शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर को 12 प्रतिशत तक कम कर सकता है। अदरक चाय के औषधीय गुण न केवल ब्‍लड शुगर को नियंत्रित करते हैं बल्कि मधुमेह के दौरान वजन को भी कम करने में सहायक होते हैं। अदरक युक्‍त खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन करने से शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को कम किया जा सकता है।

यदि आप मधुमेह रोगी हैं तो अदरक की चाय का उपयोग आपके लिए बहुत ही लाभकारी हो सकता है। आप अदरक की चाय अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़े – मधुमेह को कम करने वाले आहार…)

अदरक की चाय के गुण दिल के लिए – Adrak ki chai ke fayde dil ke liye in Hindi

अदरक की चाय के गुण दिल के लिए - Adrak ki chai ke fayde dil ke liye in Hindi

आप अपने दिल को स्‍वस्थ्‍य रखने के लिए अदरक की चाय का सेवन कर सकते हैं। हृदय रोग बहुत से महिला और पुरुषों के लिए बहुत ही गंभीर स्थिति पैदा कर सकते हैं। यदि आपको हृदय रोग हैं तो आप इसका समय पर इलाज कराएं क्‍योंकि यह आपके जीवन के लिए खतरा पैदा कर सकता है। अदरक में ऐसे बहुत घटक होते हैं जो आपके हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। एक अध्‍ययन से पता चलता है कि नियमित रूप से अदरक की चाय का इस्‍तेमाल शरीर में स्‍वस्‍थ्‍य रक्‍त परिसंचरण को बढ़ावा देता है और कोलेस्‍ट्रॉल को भी कम करता है।

कोलेस्‍ट्रॉल रक्‍त वाहिकाओं में और फेफड़ों में अवरोध उत्‍पन्‍न कर सकता है जिससे रक्‍त के प्रवाह में व्‍यवधान उत्‍पन्‍न होता है। लेकिन यदि आप अपने दैनिक जीवन में अदरक की चाय को शामिल कर सकते हैं तो इस प्रकार की संभावना से बच सकते हैं। आप भी अपने हृदय को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए अदरक की चाय का प्रयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – दिल का दौरा पड़ने (हार्ट अटैक) के लक्षण …)

अदरक की चाय का उपयोग कैंसर को रोके – Adrak Ki Chai Cancer Ka Ilaj Kare in Hindi

अदरक की चाय का उपयोग कैंसर को रोके - Adrak Ki Chai Cancer Ka Ilaj Kare in Hindi

एंटीऑक्‍सीडेंट की उच्‍च मात्रा के कारण अदरक हानीकारक जीवाणुओं से हमारे शरीर की रक्षा करता है। यही लाभ अदरक की चाय पीने से भी प्राप्त होते हैं। अदरक की चाय में एंटीऑक्‍सीडेंट के अलावा एंटी-इंफ्लामेटरी, जीवाणुरोधी आदि गुण भी होते हैं। जब शरीर की कोशिकाओं द्वारा ऊर्जा का उपभोग किया जाता है तो मुक्‍त कणों का उत्‍पादन होता है जो सामान्‍य है। लेकिन जब अधिक मात्रा में मुक्‍त कणों का उत्‍पादन होता है तो यह शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है। ऐसी स्थिति में कैंसर सहित कई बीमारियों का खतरा हो सकता है।

लेकिन अदरक में मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट कैंसर कोशिकाओं के प्रसार को रोकने और इन कोशिकाओं को नष्‍ट करने में सहायक होते हैं। अध्‍ययनों से यह भी पता चलता है कि अदरक स्‍तन कैंसर के लक्षणों को कम कर सकता है साथ ही यह अन्‍य कैंसर जैसे कोलोरेक्‍टल कैंसर, गैस्ट्रिक कैंसर, डिम्‍बग्रंथि, यकृत, त्‍वचा और प्रोस्‍टेट कैंसर आदि को भी रोक सकता है।

(और पढ़े – क्या खाने से कैंसर का खतरा कम किया जा सकता है…)

अदरक चाय का प्रयोग मासिक धर्म के लिए – Adrak Ki Chai Ka Pryog Masik Dharm Ke Liye in Hindi

अदरक चाय का प्रयोग मासिक धर्म के लिए - Adrak Ki Chai Ka Pryog Masik Dharm Ke Liye in Hindi

महिलाओं के लिए मासिक धर्म की अवधि कष्‍टदायक होती है। इस दौरान उन्‍हें पेट दर्द और ऐंठन आदि की समस्‍या होती है। इस प्रकार की मासिक धर्म संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में अदरक की चाय का उपयोग किया जा सकता है। अदरक में मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण दर्द और ऐंठन के लक्षणों को कम करने में अहम भूमिका निभाते हैं। अक्‍सर देखा जाता है कि महिलाएं मासिक धर्म की ऐंठन और दर्द से बचने के लिए दवाओं का उपयोग करती हैं जिनके कुछ दुष्‍प्रभाव भी होते हैं।

इन दवाओं का उपयोग करने के बजाए उन्‍हें अदरक की चाय का इस्‍तेमाल करना चाहिए। क्‍योंकि यह मासिक धर्म संबंधी समस्‍याओं को दूर करने का सबसे अच्‍छा और प्राकृतिक उपाय है। महिलाओं को इस प्रकार की समस्‍या से छुटकारा पाने के लिए अदरक की चाय का उपभोग करना चाहिए।

(और पढ़े – पीरियड के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या नहीं…)

अदरक की चाय पाचन के लिए फायदेमंद – Adrak ki chai ke fayde pachan ke liye in Hindi

अदरक की चाय पाचन के लिए फायदेमंद - Adrak ki chai ke fayde pachan ke liye in Hindi

मानव शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए पेट का स्‍वस्‍थ्‍य होना बहुत ही आवश्‍यक है। क्‍योंकि शरीर को ऊर्जा पेट और पाचन तंत्र के माध्‍यम से ही प्राप्त होती है। यदि पेट से संबंधित समस्‍याएं जैसे अपच, पेट दर्द, गैस और पेट की सूजन आदि से परेशान हैं तो अदरक की चाय आपके लिए लाभकारी हो सकती है। पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के बहुत से प्राकृतिक उपाय मौजूद हैं जैसे की नींबू पानी या अन्‍य जड़ी बूटीयां। लेकिन अदरक की चाय इन सभी विकल्‍पों की अपेक्षा अधिक सुविधा जनक और फादेमंद होती है।

अदरक से बनी मसालेदार चाय का सेवन पेट को साफ करने में मदद करता है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि अदरक का सेवन करने से आंतों की गैस को बाहर निकालने में मदद मिलती है जो बेचैनी और पेट की सूजन का कारण हो सकती हैं। पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए अदरक का उपयोग प्राचीन समय से ही आयुर्वेद द्वारा किया जा रहा है।

(और पढ़े – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय…)

अदरक की चाय का इस्‍तेमाल सूजन को रोके – Ginger Tea For Reduce Inflammation in Hindi

अदरक की चाय का इस्‍तेमाल सूजन को रोके - Ginger Tea For Reduce Inflammation in Hindi

क्‍या आप और विशेष रूप से जोड़ों की सूजन से परेशान हैं। यदि ऐसा है तो इस समस्‍या का उपचार करने के लिए अदरक की चाय का उपभोग किया जा सकता है। नियमित रूप से अदरक की चाय का सेवन करने से थकान, शारीरिक सूजन, मांसपेशियों और जोड़ों की सूजन आदि से छुटकारा मिल सकता है। इसके अलावा अदरक की चाय के लाभ सूजन, जलन, त्‍वचा की खुजली आदि को रोकने में भी प्रभावी होती है। आप भी अपने शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने, दर्द और सूजन संबंधी समस्‍याओं से निपटने के लिए अदरक की चाय का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

अदरक की चाय के लाभ प्रतिरक्षा के लिए – Ginger tea Benefits for immunity in Hindi

अदरक की चाय के लाभ प्रतिरक्षा के लिए - Ginger tea Benefits for immunity in Hindi

आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए अदरक की चाय का सेवन कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि अदरक की चाय हमारे शरीर को एंटीऑक्‍सीडेंट उपलब्‍ध कराती है। ये एंटीऑक्‍सीडेंट हानिकारक फ्री रेडिकल्‍स को रोकने में मदद करते हैं और हमारे शरीर को रोग ग्रस्‍त होने से बचाते हैं। नियमित रूप से प्रतिदिन 1 कप अदरक की चाय पीने से स्‍ट्रोक का खतरा कम हो जाता है और साथ ही धमनियों में जमे हुए फैट को हटाने में मदद मिलती है। इस तरह से अदरक की चाय शरीर में मौजूद अतिरिक्‍त कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने में भी मदद करती है। आप भी अपनी प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाने के लिए अदरक की चाय का प्रयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)

अदरक की चाय प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय – Adrak ki chai prajnan shamata badhaye in Hindi

अदरक की चाय प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय - Adrak ki chai prajnan shamata badhaye in Hindi

औषधीय गुणों से भरपूर अदरक की चाय में कामोद्दीपक (aphrodisiac) गुण भी होते हैं। नियमित रूप से अदरक की चाय का सेवन करने से पुरुषों की प्रजनन क्षमता और शुक्राणुओं की गुणवत्‍ता में सुधार किया जा सकता है। इस तरह से अदरक की चाय का सेवन पुरुषों की प्रजनन में वृद्धि करने में सहायक माना जाता है। इसके साथ ही अदरक में मौजूद घटक पुरुषों में स्‍तंभन दोष (dysfunction) का इलाज करने में भी मदद करते हैं।

(और पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन नपुंसकता (स्तंभन दोष) कारण और उपचार…)

अदरक की चाय बनाने की विधि – Adrak ki chai banane ki vidhi

अदरक की चाय बनाने की विधि - Adrak ki chai banane ki vidhi

अदरक की चाय के फायदे जानकर आप सोच रहें होंगे कि अदरक की चाय कैसे बनाये आइये अदरक की चाय बनाने की विधि सीखते हैं:

अदरक की चाय बनाने के लिए आवश्यक सामग्री-

  • अदरक – ताजा और लगभग 3 औंस
  • पानी – उबला हुआ और लगभग 3 कप
  • शहद / शक्कर – स्वाद के लिए
  • नींबू का रस – स्वाद के लिए वैकल्पिक

अदरक की चाय बनाने का तरीका – Adrak ki chai banane ka tarika

अदरक की चाय बनाने का तरीका - Adrak ki chai banane ka tarika

  • अदरक की चाय बनाने से पहले गंदगी को हटाने के लिए अदरक की जड़ों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। इसे प्रभावी ढंग से साफ करने के लिए बहते पानी से साफ किया जा सकता है।
  • अदरक की त्वचा को छीलने के बाद इसे बारीक टुकड़ों में काट या काट लेना है।
  • यदि आपने सफाई प्रक्रिया का अच्छी तरह से पालन किया है, तो छीले बगैर भी इसे काटा जा सकता है।
  • एक पैन में, उबालने के लिए थोड़ा पानी डालें।
  • अगला मुख्य चरण है जिसका अनुसरण नीचे दिए गए विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है:
  • आप उबलते पानी को एक कप में डाल सकते हैं जिसमें आपने पहले से ताजा कटा हुआ अदरक रखा हुआ है।
  • पानी गर्म रहे यह सुनिश्चित करने के लिए ढक्कन को कवर करें। यह सुगंध को फीका करने से भी रोकेगा। कम से कम 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • इसके अलावा अगर पानी को बर्तन में उबाला जा रहा है, तो आप इसमें सीधे अदरक मिला सकते हैं और फिर इसे अगले 20 मिनट के लिए धीमी आंच पर उबलने दें।
  • गैस बंद करें और अदरक के पानी का उपयोग करने से पहले इसे अगले 5 मिनट तक रहने दें।
  • ऊपर बताए गए तरीकों में से किसी एक का उपयोग करने के बाद, आप एक साफ छलनी का उपयोग करके पानी को एक कप में ले सकते हैं।
  • अदरक की चाय में अपने पसंदीदा स्वीटनर और नींबू का रस मिलाएं और फिर इसे तुरंत परोसें या इसका सेवन करें।
  • इसे गर्म किया जा सकता है या फिर फ्रिज में जार में रखा जाता है और फिर ठंडे तापमान पर इसका सेवन किया जाता है।

(और पढ़े – अदरक के पानी के फायदे और नुकसान…)

अदरक की चाय के नुकसान – Adrak ki chai ke nuksan in hindi

अदरक की चाय के नुकसान - Adrak ki chai ke nuksan in hindi

  • अदरक की चाय बेचैनी और नींद न आने का कारण बन सकती है।
  • गर्भावस्था के दौरान अदरक की चाय नहीं लेनी चाहिए।
  • पित्त पथरी के रोगियों को अदरक की चाय नहीं पीनी चाहिए।
  • खाली पेट पर अदरक की चाय के सेवन से बचें, क्योंकि इससे पेट खराब हो सकता है।
  • अदरक की चाय के ओवरडोज से दस्त, जलन, मतली और पेट खराब हो सकती है।

(और पढ़े – दस्‍त (डायरिया) के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या ना खाएं…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration