बेचैनी और घबराहट दूर करने के उपाय – Natural Remedies To Reduce nervousness and anxiety In Hindi

बेचैनी और घबराहट दूर करने के उपाय - Natural Remedies To Reduce nervousness and anxiety In Hindi
Written by Anamika

ghabrahat dur karne ke gharelu upay in hindi आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में बेचैनी और घबराहट होना एक आम समस्या है और समय समय पर आमतौर पर सभी लोगों को बेचैनी और घबराहट महसूस होती है। यह समस्या सामान्य और गंभीर दोनों कारणों से होता है। उदाहरण के तौर पर यदि आप इंटरव्यू या किसी मीटिंग में जा रहे हैं तो आपको बेचैनी और घबराहट हो सकती है। इसके अलावा शरीर में कोई समस्या होने के कारण भी बेचैनी होती है। यह एक ऐसी समस्या है जो हमारी जीवनशैली और दिनचर्या दोनों को प्रभावित करती है और कुछ गंभीर परिस्थितियों में यह मानसिक समस्या का कारण भी बन जाती है। इस लेख में हम आपको प्राकृतिक तरीके से बेचैनी और घबराहट दूर करने के उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं।

(और पढ़ें – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार)

1. बेचैनी होने के कारण – Causes of nervousness in Hindi
2. घबराहट (बेचैनी) के लक्षण – Symptoms of nervousness in Hindi
3. बेचैनी और घबराहट दूर करने के घरेलू उपाय – Home remedies for nervousness and anxiety in Hindi

4. घबराहट रोकने का तरीका समस्या दूसरों को बताएं – Find Support to reduce anxiety in Hindi

बेचैनी होने के कारण – Causes of nervousness in Hindi

वैसे तो सामान्य बेचैनी या घबराहट ज्यादातर लोगों को होती है लेकिन यदि आपको रोज और लगातार इस समस्या का सामना करना पड़ रहा हो तो वास्तव में यह काफी गंभीर हो सकती है और यह मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। आमतौर पर बेचैनी और घबराहट कई कारणों से होता है। आइये जानते हैं इस समस्या के कुछ मुख्य कारण।

  • अधिक तनाव लेने से और जीवन के बुरे समय को याद करके व्यक्ति को बेचैनी होती है।
  • अधिक मात्रा में एल्कोहल, कैफीन या मीठा पेय पदार्थ पीने से घबराहट और बेचैनी होती है।
  • व्यक्ति के शरीर में हार्मोन के असंतुलन और थॉयराइड के कारण भी बेचैनी की समस्या होती है।
  • यदि परिवार में किसी व्यक्ति को मानसिक समस्या हो तो आनुवांशिक कारणों से भी बेचैनी और घबराहट हो सकती है।
  • आत्मविश्वास की कमी होने, काम का दबाव होने, परीक्षा और इंटरव्यू का डर आदि कारणों से भी बेचैनी और घबराहट होती है।
  • एक स्टडी में पाया गया है कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को अधिक बेचैनी और घबराहट का अनुभव होता है।

(और पढ़ें – मानसिक रोग के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, और बचाव)

घबराहट (बेचैनी) के लक्षण – Symptoms of nervousness in Hindi

रोजमर्रा की जिंदगी में आमतौर पर हम यह देखते हैं कि जब किसी व्यक्ति को बेचैनी और घबराहट होती है तो उसे तेज पसीना आता है और उसे किसी भी तरह से शांति नहीं मिलती है। लेकिन इसके अलावा भी कुछ अन्य लक्षण हैं जिनके जरिए बेचैनी और घबराहट के लक्षणों को पहचाना जा सकता है। ये लक्षण निम्न हैं।

  • मूड खराब होना, चिड़चिड़ापन और घबराहट
  • बार-बार दिमाग में किसी खतरे की आशंका और डर पैदा होना
  • हृदय की गति बढ़ जाना
  • अधिक पसीना आना और शरीर में कंपकंपी होना
  • कमजोरी और थकान का अनुभव होना
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होना
  • नींद न आना या बार-बार नींद टूटना
  • पाचन क्रिया खराब होना
  • गुस्सा अधिक आना और सीने में भारीपन महसूस होना।

(और पढ़ें – कमजोरी और थकान के कारण, लक्षण और इलाज)

बेचैनी और घबराहट दूर करने के घरेलू उपाय – Home remedies for nervousness and anxiety in Hindi

यदि किसी व्यक्ति को घबराहट या बेचैनी होती है तो वह तुरंत दवाएं लेना शुरू कर देता है। हालांकि यह बहुत बड़ी समस्या नहीं है और कई बार दवाओं का दुष्प्रभाव भी पड़ता है। इसलिए यदि आपको कभी भी बेचैनी और घबराहट महसूस हो तो इन घरेलू उपायों से अपनी समस्या दूर करें।

(और पढ़ें –मानसिक व्यग्रता (चिंता))

घबराहट को कम करने के उपाय लैवेंडर ऑयल सूंघें – Breathe in lavender for nervousness in Hindi

एक स्टडी के अनुसार लैवेंडर ऑयल की खुशबू से बेचैनी और घबराहट दूर होती है। यदि किसी व्यक्ति को अचानक से बेचैनी होने लगे या किसी कारणवश घबराहट शुरू हो जाए तो उसे लैवेंडर ऑयल को सूंघना चाहिए। लैंवेंडर ऑयल में एंटी एंग्जायटी गुण पाया जाता है जो बेचैनी दूर करने में दवा की तरह कार्य करता है। कुछ मामलों में यह बहुत कम समय में ही बेचैनी और घबराहट को पूरी तरह से दूर कर देता है।

(और पढ़ें – नींबू के तेल के फायदे और नुकसान)

ओमेगा 3 फैटी एसिड बेचैनी दूर करने के लिए – Omega-3 fatty acids for anxiety in Hindi

शोधकर्ताओं ने पाया है कि घबराहट और बेचैनी दूर करने में ओमेगा 3 फैटी एसिड की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। यदि कोई व्यक्ति एक से तीन ग्राम ओमेगा 3 फैटी एसिड रोजाना खाये तो उसे बेचैनी और घबराहट की समस्या नहीं होगी। इसके लिए आप अखरोट, टूना और सालमन मछली और फ्लैक्स सीड सहित ओमेगा 3 फैटी एसिड से युक्त अन्य खाद्य सामग्री खा सकते हैं। ओमेगा 3 फैटी एसिड मस्तिष्क में कार्टिसोल और एड्रेनेलिन(adrenaline) के स्तर को कम करता है जिसके कारण व्यक्ति को बेचैनी नहीं होती है।

(और पढ़ें – ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर 10 खाद्य पदार्थ)

घबराहट दूर करने के लिए हॉट बाथ लें – Take a hot bath with Epsom salts for anxiety in Hindi

गुनगुने पानी में इप्सम साल्ट मिलाकर नहाने से बेचैनी दूर हो जाती है। यह शरीर के तामपान को बढ़ाता है और मस्तिष्क को शांत रखने में मदद करता है। इप्सम साल्ट में मैग्नीशियम सल्फेट पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रिक करता है एवं बेचैनी और घबराहट को बढ़ने नहीं देता है। यदि किसी व्यक्ति को बेचैनी हो तो उसे यह समस्या दूर करने के लिए इप्सम साल्ट पानी में मिलाकर तत्काल नहाना चाहिए।

(और पढ़ें – गर्म पानी से नहाना सही या ठंडे पानी से, जानिए विज्ञान क्या कहता है)

बेचैनी दूर करने के उपाय मेडिटेशन करें – Mindfulness Meditation for anxiety in Hindi

कहा जाता है कि मेडिटेशन एक ऐसी चीज है जो स्थायी रूप से कुछ समस्याओं को खत्म कर देती है। बेचैनी और घबराहट की समस्या होने पर व्यक्ति को मेडिटेशन करना चाहिए, इसका कारण यह है कि जब व्यक्ति आंखें बंद करके मेडिटेशन करने बैठता है तो नासिका के माध्यम से फेफड़े में शुद्ध वायु पहुंचती है जिसके कारण व्यक्ति चिंता और तनाव को भूल जाता है और कुछ ही देर में मस्तिष्क पूरी तरह से शांत हो जाता है और व्यक्ति खुद को ऊर्जावान महसूस करता है।

(और पढ़ें –फेफड़ों का कैंसर कारण, लक्षण, इलाज और रोकथाम)

बेचैनी का इलाज अश्वगंधा से – Ashwagandha for for nervousness in Hindi

प्राचीन काल से ही घबराहट और बेचैनी दूर करने से लिए अश्वगंधा का उपयोग किया जा रहा है। अश्वगंधा एक ऐसी जड़ी बूटी है जो तनाव के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया को स्थिर रखती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि अश्वगंधा में कई चिकित्सकीय गुण पाये जाते हैं जो मस्तिष्क को शांत रखने में मदद करते हैं जिसके कारण व्यक्ति की बेचैनी और घबराहट दूर हो जाती है।

(और पढ़ें – याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय, दवा और तरीके)

घबराहट रोकने का तरीका समस्या दूसरों को बताएं – Find Support to reduce anxiety in Hindi

ऐसे लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है जो किसी बात से परेशान होकर बेचैन रहते हैं और फिर बाद में उनकी तकलीफ अधिक बढ़ जाती है। वास्तव में कोई बात जब मस्तिष्क से बाहर नहीं निकल पाती है तो व्यक्ति को बेचैनी और घबराहट होती है। इसलिए यदि किसी व्यक्ति को कभी भी बेचैनी की समस्या हो तो उसे अकेले नहीं रहना चाहिए और अपनी बातों एवं परेशानियों को अपने विश्वासपात्र लोगों से शेयर करना चाहिए। स्टडी में पाया गया है कि इस स्थिति में लोगों के बीच रहने और अपनी बातें उनसे शेयर करने से बेचैनी खत्म हो जाती है।

(और पढ़ें – हर किसी पर शक करने की बीमारी है पैरानॉयड पर्सनालिटी डिसऑर्डर)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration