सहजन (मोरिंगा) के फायदे गुण लाभ और नुकसान - Drumstick (Moringa - Sahjan) Benefits And Side Effects in Hindi
हेल्दी रेसपी

सहजन (मोरिंगा) के फायदे गुण लाभ और नुकसान – Drumstick (Moringa – Sahjan) Benefits And Side Effects in Hindi

सहजन (मोरिंगा) के फायदे गुण लाभ और नुकसान - Drumstick (Moringa - Sahjan) Benefits And Side Effects in Hindi

सहजन औषधीय गुणों से भरपूर है इसे ड्रमस्टिक (drumstick) या मोरिंगा (Moringa) के नाम से जाना जाता है। इसे हिन्दी में सहजना, सहजन फली, सुजना, सेंजन और मुनगा जैसे नामों से भी जाना जाता है। सहजन के फायदे (Sahjan ke fayde in Hindi) गुण लाभ अनेक है सहजन के पेड़ पर वर्ष में एक बार फूल और फिर फल लगते हैं। इसका फल पतला लंबा और हरे रंग का होता है जो पेड़ के तने से नीचे लटका होता है। सहजन के पेड़ का हर एक हिस्सा बहुत फायदेमंद होता है और खाने के साथ ही बीमारियों के भी इलाज में उपयोग किया जाता है। सहजन जिसका वानस्पतिक नाम “मोरिंगा ओलिफेरा” है एक बहुत उपयोगी पेड़ है। सहजन के फायदे, गुण, लाभ, उपयोग और नुकसान (Moringa sahjan ke fayde aur nuksan in hindi) के बारे में विस्तार से जानने के लिए पढ़ें ये लेख।

इसमें हमने सहजन खाने के फायदे, सहजना के फूल के औषधीय गुण, मुनगा की पत्तियों के फायदे, मोरिंगा के आयुर्वेदिक उपयोग और सहजन (ड्रमस्टिक) के नुकसान के बारे में बताया है। मोरिंगा का उपयोग इसके औषधीय गुणों और स्वास्थ्य लाभों के कारण सदियों से किया जाता रहा है। इसमें एंटीफंगल, एंटीवायरल, एंटीडिप्रेसेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं।

ड्रमस्टिक या मोरिंगा के पेड़ के पत्ते, फूल और जड़ सभी खाने योग्य हैं। बीज का उपयोग तेल निकालने के लिए किया जाता है जबकि फूलों को पकाया जा सकता है और खाया जा सकता है। मोरिंगा के बारे में सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि इस पेड़ का हर हिस्सा स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है क्योंकि वे आवश्यक पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट्स से भरे होते हैं। यदि आपने पहले कभी इसका इस्तेमाल नहीं किया है, तो हम आपको इसके ऐसे फायदे बता रहें हैं जिससे आपको पता लग जायेगा कि आपको इसका इस्तेमाल क्यों करना चाहिए।

मोरिंगा के बारे में मुख्य तथ्य:

  • सहजन का पेड़ भारत का मूल निवासी है, लेकिन यह एशिया, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका में भी पाया जाता है।
  • ड्रमस्टिक स्वस्थ एंटीऑक्सिडेंट और बायोएक्टिव प्लांट यौगिकों में बहुत समृद्ध है।
  • मोरिंगा की पत्तियों में पालक की तुलना में तीन गुना अधिक आयरन होता है
  • मोरिंगा में फाइबर अधिक होता है जो आपके पेट को अधिक समय तक भरा हुआ रखने में मदद करता है
  • मोरिंगा में विभिन्न प्रकार के प्रोटीन, विटामिन और खनिज होते हैं।
  • मोरिंगा के पेड़ का हर हिस्सा स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है
  • मोरिंगा ओलीफेरा के कुछ ज्ञात दुष्प्रभाव भी हैं।
  • सहजन अर्क लेने से पहले किसी प्रकार की दवा लेने वाले लोगों को डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

मोरिंगा को माना जाता है:

  • वजन कम करने में मदद करें।
  • कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।
  • सूजन को रोकें।
  • शरीर को वसा को ऊर्जा में बदलने में मदद करें।
  • थकान को कम करने और ऊर्जा के स्तर में सुधार।

विषय सूची

1. सहजन के पेड़ का उपयोग – Drumstick Tree Uses in Hindi
2. सहजन खाने के फायदे – Health benefits of Moringa in hindi
3. सहजन के नुकसान – sahjan Side effects in hindi

सहजन के पेड़ का उपयोग – Drumstick Tree Uses in Hindi

सहजन के पेड़ का उपयोग - Drumstick Tree Uses in Hindi

औषधीय वनस्‍पति के रूप में सहजन की पत्तियां एवं फूल को घरेलू उपचार में हर्बल मेडिसिन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसके फूलों एवं फलों को सब्जियों के रूप में उपयोग किया जाता है। सहजन का गूदा और बीज का सूप, करी और सांभर में इस्तेमाल किया जाता है। सहजन का सूप इसकी पत्तियों, फूलों, गूदेदार बीजों से बनाया जाता है जोकि बहुत ही पोषण युक्त होता है और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

मोरिंगा (सहजन) के पोषक तत्व –  Nutrients of Moringa (Drumstick) in Hindi

मोरिंगा में कई स्वास्थ्यवर्धक यौगिक होते हैं जैसे:

  • विटामिन ए
  • विटामिन बी 1 (थायमिन)
  • बी 2 (राइबोफ्लेविन)
  • बी 3 (नियासिन), बी -6
  • फोलेट और एस्कॉर्बिक एसिड (विटामिन सी)
  • कैल्शियम
  • पोटैशियम
  • लोहा
  • मैग्नीशियम
  • फास्फोरस
  • जस्ता

यह वसा में भी बहुत कम है और इसमें कोई हानिकारक कोलेस्ट्रॉल नहीं है।

मोरिंगा की पत्तियां कई विटामिन और खनिजों का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं। एक कप ताजी, कटी हुई पत्तियां (21 ग्राम) में लगभग निन्न मात्रा में पोषक तत्व होते हैं:

  • प्रोटीन: 2 ग्राम
  • विटामिन बी 6: आरडीए का 19%
  • विटामिन सी: आरडीए का 12%
  • लोहा: 11% आरडीए
  • राइबोफ्लेविन (बी 2): आरडीए का 11%
  • विटामिन ए (बीटा-कैरोटीन से): आरडीए का 9%
  • मैग्नीशियम: आरडीए का 8%

पत्तियों की तुलना में, सहजन की फली आम तौर पर विटामिन और खनिज कम होते हैं। हालांकि, वे विटामिन सी में उच्च होती हैं। एक कप ताजा, सहजना की फली (100 ग्राम) में आपकी दैनिक आवश्यकता का 157% विटामिन सी होता है।

भारत जैसे देशों में लोगों के आहार में कभी-कभी विटामिन, खनिज और प्रोटीन की कमी होती है। इन देशों में, सहजन कई आवश्यक पोषक तत्वों का एक महत्वपूर्ण स्रोत हो सकता है।

हालांकि, इसका एक नकारात्मक पहलू भी है: मोरिंगा के पत्तों में उच्च स्तर के एंटीन्यूट्रिएंट्स भी हो सकते हैं, जो खनिजों और प्रोटीन के अवशोषण को कम कर सकते हैं।

सहजन के फायदे – Health Benefits of Moringa in Hindi

सहजन के फायदे - Health Benefits of Moringa in Hindi

आपको बता दें कि सहजन के पेड़ का कोई एक भाग ही नहीं बल्कि इसका फल, फूल, छाल, पत्तियां और जड़ सभी का उपयोग स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। कई बीमारियों के इलाज में विशेषरूप से ड्रमस्टिक का इस्तेमाल किया जाता है। माना जाता है कि मोरिंगा के कई फायदे हैं और इसका उपयोग स्वास्थ्य और सुंदरता से लेकर बीमारियों को रोकने और ठीक करने में मदद करता है। आइये जाने सहजन खाने से क्या फायदे होते हैं।

(और पढ़ें – सहजन या मोरिंगा पाउडर के फायदे और नुकसान)

मोरिंगा ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है – Moringa May Lower Blood Sugar Levels in Hindi

उच्च रक्त शर्करा एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। वास्तव में, यह मधुमेह का मुख्य लक्षण है। समय के साथ, उच्च रक्त शर्करा का स्तर हृदय रोग सहित कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ाता है। इस कारण से, अपने रक्त शर्करा को स्वस्थ सीमा के भीतर रखना महत्वपूर्ण है।

दिलचस्प बात यह है कि कई अध्ययनों से पता चला है कि मोरिंगा रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है । हालांकि, अधिकांश सबूत जानवरों के अध्ययन पर आधारित हैं। केवल कुछ मानव-आधारित अध्ययन मौजूद हैं, और वे आम तौर पर निम्न गुणवत्ता के हैं।

30 महिलाओं में एक अध्ययन से पता चला है कि तीन महीने के लिए हर दिन मोरिंगा लीफ पाउडर के 1.5 चम्मच (7 ग्राम) लेने से रक्त शर्करा के स्तर में औसतन 13.5% की कमी आई है ।

मधुमेह वाले छह लोगों में एक अन्य छोटे अध्ययन में पाया गया कि 50 ग्राम मोरिंगा के पत्तों को भोजन में शामिल करने से रक्त शर्करा में 21% की वृद्धि कम हो गई ।

वैज्ञानिकों का मानना है कि ये प्रभाव पौधों के यौगिकों जैसे कि आइसोथियोसाइनेट्स के कारण होते हैं।

मोरिंगा की पत्तियों से रक्त शर्करा के स्तर में कमी आ सकती है, लेकिन किसी भी ठोस सिफारिश को करने से पहले अधिक शोध की आवश्यकता है।

सहजन के फायदे ओवेरियन कैंसर के इलाज में – Moringa For Ovarian Cancer Treatment in Hindi

भोजन के रूप में उपयोग होने की अपेक्षा दवा के रूप में ड्रमस्टिक का उपयोग सबसे अधिक होता है सहजन के जड़ में उत्कृष्ट पोषक तत्व पाये जाते हैं और इसमें फाइटोकेमिकल कंपाउंड एवं एल्केनॉयड पाया जाता है और एक स्टडी में पाया गया है कि सहजन का जड़ अंडाशय के कैंसर (ovarian cancer) के इलाज में बहुत प्रभावी होता है।

मोरिंगा के अर्क में ऐसे गुण होते हैं जो कैंसर के विकास को रोकने में मदद कर सकते हैं । इसमें नियाजिमिसिन भी होता है, जो एक यौगिक है जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को दबाता है।

(और पढ़े – ओवेरियन सिस्ट (अंडाशय में गांठ) के घरेलू उपाय)

सहजन के औषधीय गुण स्पर्म बढ़ाने में सहायक – Drumstick For Sperm Production in Hindi

विटामिन के अलावा जिंक, कैल्शियम और आयरन जैसे मिनरल सहजन (drumstick) में पाये जाते हैं जो स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं। पुरुषों में स्पर्म बनने में जिंक की महत्वपूर्ण भूमिका होती है और कैल्शियम खून की कमी नहीं होने देता है। सहजन की छाल में पाये जाने वाले यौगिक पतले सीमेन (semen) की समस्या को खत्म कर स्पर्म की संख्या बढ़ाने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें – पानी जैसे पतले वीर्य के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय)

सहजन के फूल के फायदे यूटीआई के इलाज में – Moringa For UTI in Hindi

सूजन को कम करने वाली हर्बल क्रीम और मसल्स की पीड़ा को दूर करने वाली क्रीम बनाने में सहजन के फूलों का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा सहजन के फूलों का चाय बनाकर पीने से इसमें मौजूद पोषण की वजह से महिलाओं में यूटीआई की समस्या खत्म हो जाती है। इसके अलावा बच्चे को दूध पीलाने वाली महिलाओं को सहजन के फूलों का सेवन करने से दूध बढ़ता है।

(और पढ़े – यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) के लिए घरेलू उपचार

सहजन के फायदे वजन घटाने में – Moringa For Weight Loss in Hindi

सहजन के फायदे वजन घटाने में -  Moringa for Weight Loss in hindi

एक शक्तिशाली मूत्रवर्धक का कार्य करने के कारण सहजन का इस्तेमाल करने से यह वजन घटाने में मदद करता है। यह एंटीबायोटिक और पेनकिलर का भी काम करता है और सूजन एवं दर्द दूर करने में सहायक होता है। इसकी सब्जी खाने से क्षतिग्रस्त कोशिकाओं के मरम्मत में यह मदद करता है। मोरिंगा फाइबर में उच्च होता है जो आपके पेट को अधिक समय तक भरा रखने में मदद करता है। पत्तियों में क्लोरोजेनिक एसिड नामक एक एंटीऑक्सिडेंट होता है जो प्राकृतिक रूप से वसा को जलाने के रूप में कार्य करता है। जिससे आपका वजन कम होने लगता है।

(और पढ़े – जिम जाए बिना वजन कम करने के तरीके)

सेक्स के आनंद के लिए सहजन है फायदेमंद – Sahjan For Sexual Pleasure in Hindi

यौन रोगों को दूर कर यौन शक्ति बढ़ाने (sexual power), उत्तेजना पैदा करने और जननांगों की बीमारियों को दूर करने में सहजन का उपयोग बहुत लोकप्रिय है। अच्छा यौन सुख प्राप्त करने के लिए सहजन की फली का उपयोग किया जाता है।

(और पढ़े – अगर चाहिए वियाग्रा जैसा जोश तो खाएं ये फल और सब्जियां)

सहजन की पत्तियों के फायदे पाचन में – Moringa for Digestion in Hindi

सहजन के फायदे पाचन में - Moringa for Digestion in hindi

विटामिन B-कॉम्पलेक्स एवं फोलिक एसिड, पाइरीडॉक्सिन (pyridoxine) सहजन की पत्तियों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। ये सभी तत्व भोजन का आसानी से पचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ड्रमस्टिक की पत्तियों में मौजूद विटामिन पाचन क्रिया को रेगुलेट करते हैं। इसकी सूखी पत्तियों का पाउडर गर्म पानी से सेवन किया जा सकता है।

(और पढ़ें – मानव पाचन तंत्र कैसा होता है, और कैसे इसे मजबूत बनायें)

मोरिंगा के फायदे चेहरे पर ग्लो के लिए – Drumstick Leves For Glowing Skin in Hindi

पोषक तत्व जैसे विटामिन बी, प्रो विटामिन, बीटा-कैरोटीन और प्रोटीन आदि सहजन के पत्तियों में अधिक मात्रा में पाये जाते हैं। सहजन की पत्तियों का इस्तेमाल चेहरे पर चमक लाने और बालों की अच्छी सेहत के लिए किया जाता है। सहजन की हरी पत्तियों को पीसकर चेहरे एवं बालों में लगाने से लाभ मिलता है।

(और पढ़ें – चमकती खूबसूरत त्वचा के लिए आहार)

त्वचा और बालों की सुरक्षा और पोषण के लिए सहजन के फायदे – Protecting and nourishing skin and hair in Hindi

मोरिंगा सीड ऑयल बालों को फ्री रेडिकल से बचाने के लिए फायदेमंद है और इसे साफ और स्वस्थ रखता है। मोरिंगा में प्रोटीन भी होता है, जिसका अर्थ है कि यह त्वचा की कोशिकाओं को नुकसान से बचाने में सहायक है। इसमें हाइड्रेटिंग और डिटॉक्सीफाइंग तत्व भी होते हैं, जो बालों को भी बढ़ावा देते हैं। ड्रमस्टिक त्वचा के संक्रमण और घावों को ठीक करने में फायदेमंद हो सकता है।

ड्रमस्टिक के फायदे वाटर प्यूरीफिकेशन में – Drumstick Used in Water Purification in Hindi

स्वाद में मूली की तरह ही सहजन की जड़ का स्वाद होता है। सहजन की जड़ की कुछ मात्रा मसालों के रूप में उपयोग की जाती है। इसका उपयोग परफ्यूम, दवा, उर्वरक और पानी को प्यूरिफाई करने के लिए किया जा सकता है। इसलिए इसके जड़ को बहुत उपयोगी माना जाता है।

(और पढ़ें – खून साफ करने के घरेलू उपाय)

ड्रमस्टिक की जड़ के फायदे बीमारियों के इलाज में – Drumstick For Treatment of Illnesses in Hindi

एंटीबायोटिक गुणों से भरपूर होने के कारण ड्रमस्टिक की जड़ों का उपयोग बहुत सी बीमारियों को दूर करने में किया जाता है। सहजन अस्थमा, पाचन की बीमारी, गैस, त्वचा की समस्याएं, थायरॉइड और सूजन को दूर करने में बहुत उपयोगी होता है।

(और पढ़ें –सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय)

सहजन के तेल के फायदे मुंहासे के इलाज में – Moringa Seed Oil For Acne Treatment in Hindi

ड्रमस्टिक के बीज से तेल निकाला जाता है जो बिना महक के एवं साफ होता है और इस तेल में बेहेनिक एसिड (behenic acid) की अधिक सांद्रता पायी जाती है। सहजन के तेल को चेहरे पर लगाने से मुंहासे के दाग धब्बे (acne spot) एवं ब्लैक स्पॉट दूर हो जाते हैं और चेहरा एकदम साफ हो जाता है। सहजन के बीज का प्रयोग शरीर एवं चेहरे को पोषण देने के लिए फेशियल मास्क और बॉडी मास्क के रूप में भी किया जाता है।

(और पढ़े – मुंहासे दूर करने का आयुर्वेदिक उपाय)

सहजन की पत्तियों के फायदे पोषक तत्वों के लिए – Moringa For Nutritional Value in Hindi

पालक की ही तरह 100 ग्राम सहजन (moringa) की पत्तियों को पकाकर खाने से शरीर को पर्याप्त कैल्शियम प्राप्त हो जाता है। इसके अलावा इसके पत्तियों को सूखाकर पावडर का इस्तेमाल किया जा सकता है या सॉस या सूप बनाकर पोषक तत्वों को प्राप्त किया जा सकता है।

(और पढ़ें – हरी सब्जियां खाने के फायदे )

मोरिंगा कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकता है – Moringa Can Lower Cholesterol in Hindi

सहजन आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है, संभवतः हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है।
उच्च कोलेस्ट्रॉल होने से हृदय रोग के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है। सौभाग्य से, कई पौधे खाद्य पदार्थ प्रभावी रूप से कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते हैं। इनमें फ्लैक्ससीड्स, ओट्स और बादाम शामिल हैं।

जानवरों और मानव-आधारित अध्ययनों से पता चला है कि मोरिंगा (सहजन) में  कोलेस्ट्रॉल-कम करने वाले प्रभाव होते हैं।

सहजन के नुकसान – Moringa (Sahjan) Side effects in Hindi

सहजन के फायदे आपने जाने लेकिन अधिक मात्रा में ड्रमस्टिक का सेवन से आपको इससे नुकसान भी हो सकता है इसके बहुत कम साइड इफेक्ट बताए गए हैं।आइये जानते है सहजन के नुकसान क्या है

  • प्रेगनेंट महिलाओं को सहजन का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात का खतरा बना रहता है।
  • मोरिंगा में प्रजनन-विरोधी गुण होते हैं और इसलिए गर्भवती महिलाओं के लिए इसकी सिफारिश नहीं की जाती है।
  • सहजन की पत्तियों में लैक्जेटिव गुण होता है जिसकी वजह से पेट गड़बड़ हो सकता है और अधिक सेवन करने पर सीने में जलन और डायरिया हो सकता है।
  • जिन लोगों का रक्त अधिक पतला है और वे किसी दवा का सेवन कर रहे हों उन्हें सहजन का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह खून को अत्यधिक पतला कर देता है।

मोरिंगा ओलीफ़ेरा (सहजन) एक भारतीय पेड़ है जिसका उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। हालांकि, इसके कई प्रतिष्ठित स्वास्थ्य लाभों में से केवल कुछ का वैज्ञानिक रूप से अध्ययन किया गया है।

आज तक के अध्ययन बताते हैं कि सहजन रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल में मामूली कमी ला सकता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लामेट्री प्रभाव भी होते हैं।

मोरिंगा (ड्रमस्टिक) की पत्तियां भी अत्यधिक पौष्टिक होती हैं और उन लोगों के लिए फायदेमंद होती हैं, जिनमें आवश्यक पोषक तत्वों की कमी होती है।

सहजन के बारे में पूछे जाने वाले सामान्य प्रश्न

क्या मोरिंगा आपको वजन कम करने में मदद कर सकता है?

मोरिंगा को अक्सर वजन घटाने में सहायता के रूप में जाना जाता है, हालांकि, इसका समर्थन करने के लिए सीमित शोध है। कुछ शोध बताते हैं कि यह उपापचयी सिंड्रोम का इलाज करने में मदद कर सकता है, यह उन लक्षणों का एक समूह है जिसमें पेट का मोटापा शामिल है।

मोरिंगा का स्वाद कैसा लगता है?

मोरिंगा पाउडर का स्वाद अन्य सागों की तरह ही होता है और इसकी तुलना मका पाउडर और स्पाइरुलिना से की जाती है। मोरिंगा के बीज एक अधिग्रहीत स्वाद होते हैं और जब आप पहली बार उन्हें अपने मुंह में डालते हैं तो उन्हें मीठे स्वाद के रूप में वर्णित किया जाता है, लेकिन जब आप उन्हें चबाते हैं तो वह कड़वा हो जाता है।

मोरिंगा एक कामोद्दीपक है?

पारंपरिक चिकित्सा में, मोरिंगा का उपयोग स्तंभन दोष के इलाज के लिए किया जाता है। हालांकि यह प्रयोग मानव परीक्षणों में सिद्ध नहीं हुआ है, चूहों में अध्ययन से पता चलता है कि यह टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाकर पुरुषों में यौन क्रिया में सुधार कर सकता है।

Leave a Comment

3 Comments

Subscribe for daily wellness inspiration