यूरिन इन्फेक्शन घरेलू उपचार - Urine Infection Gharelu Upchar in Hindi
घरेलू उपाय

यूरिन इन्फेक्शन घरेलू उपचार – Urine Infection Gharelu Upchar in Hindi

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) के लिए घरेलू उपचार - Urinary Tract Infection (UTI) Home Remedies In Hindi

मूत्र पथ संक्रमण एक गंभीर समस्‍या है जिसे यूरिन इन्फेक्शन के नाम से भी जाना जाता है, इससे अधिकांश लोग प्रभावित होते हैं, यूरिन इन्फेक्शन की समस्या महिलाओं में अधिक होती है। क़रीब 70 फीसदी महिलाओं को लाइफ में कभी न कभी यूरिन इन्फेक्शन की समस्या ज़रूर होती है। यूटीआई यानि यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्‍शन के लिए घरेलू उपचार (Urine Infection Gharelu Upchar in Hindi) को अपना कर आप इस समस्‍या से कुछ हद तक छुटकारा पा सकते हैं। यूटीआई मूत्र पथ का एक संक्रमण है, जिसे कभी-कभी मूत्राशय का संक्रमण भी कहा जाता है।

अक्सर यूटीआई यानी यूरिन इन्फेक्शन बैक्टीरिया के कारण होता है जो मूत्र पथ को संक्रमित करते हैं। यह कई कारणों से हो सकता है। उदाहरण के लिए, बैक्टीरिया सेक्स के दौरान या बाथरूम का उपयोग करने के बाद मूत्र पथ में प्रवेश कर सकते हैं। हालांकि इस प्रकार की समस्‍या का इलाज करने के के लिए पारंपरिक रूप से एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करना चाहिए। ये दवाएं मूत्र पथ संक्रमण के लक्षणों को प्रभावी रूप से रोक सकती हैं। लेकिन कुछ लोगों को इन दवाओं से नुकसान भी हो सकता है।

साथ ही सभी लोग इस समस्‍या के इलाज के लिए डॉक्‍टर के पास नहीं जाना चाहते हैं। इसलिए यूरिनरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन (यूटीआई) को रोकने के लिए घरेलू उपचार को भी अपनाया जा सकता है। आज इस आर्टिकल में आप यूरिन इन्फेक्शन से होने वाले संक्रमण को रोकने के प्रभावी घरेलू उपाय की जानकारी प्राप्‍त करेगें।

विषय सूची

  1. यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय पर्याप्त पानी पीए – Urine infection ka gharelu upay paryapt pani piye in Hindi
  2. यूरिन इन्फेक्शन का देशी उपाय बार-बार पेशाब जाना – Urine infection ka desi upay baar-baar pesab jana in Hindi
  3. पेशाब की नली में इन्फेक्शन का इलाज गर्म सिकाई – Pesab ki nali me infection ka ilaj garm sikai in Hindi
  4. यूटीआई से बचने के घरेलू उपाय ढ़ीले कपड़े – UTI Urine infection se bachne ke upay Dhile kapde in Hindi
  5. यूटीआई संक्रमण का घरेलू नुस्‍खा अजवाइन तेल – Urine infection thik karne ka upay Oregano Oil in Hindi
  6. यूरिन इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज विटामिन सी – Urine infection ka ayurvedic ilaj vitamin C in Hindi
  7. दादी माँ के नुस्खे फॉर यूरिन इन्फेक्शन क्रैनबेरी जूस – pesab rog ke lakshan door kare Cranberry Juice in Hindi
  8. यूटीआई संक्रमण का इलाज प्रोबायोटिक्‍स – UTI sankraman ka ilaj probiotic in Hindi
  9. मूत्र पथ संक्रमण रोकने के लिए जीवन शैली में परिवर्तन – UTI sankarman se bachne ke tips in Hindi
  10. मूत्र पथ के संक्रमण होने पर डॉक्टर को कब दिखाना है – When to see doctor when urinary tract infections occur in hindi

पेशाब में इन्फेक्शन होने का क्या कारण है? – Urine Infection Causes in Hindi

मूत्र पथ के संक्रमण यानी यूरिन इन्फेक्शन के कई कारण हो सकते हैं: –

  • पश्चिमी शैली के शौचालय का इस्तेमाल महिलाओं में यूरिन इन्फेक्शन का सबसे बड़ा कारण हैं। इसके अलावा, अस्वस्थ शौचालयों का उपयोग भी इस बीमारी का कारण बनता है।
  • बहुत देर तक पेशाब रोकने की आदत के कारण यूरिन इन्फेक्शन हो सकता है।
  • यह संक्रमण ज्यादातर ई. कोलाई बैक्टीरिया के कारण होता है। यह जीवाणु सामान्य रूप से पाचन तंत्र में मौजूद होता है। क्लैमाइडिया और माइकोप्लाज़्मा बैक्टीरिया भी मूत्रमार्ग संक्रमण का कारण बनते हैं।
  • मूत्र पथ के संक्रमण तब होते हैं जब पथरी के कारण मूत्र प्रवाह में दिक्कत होती है।
  • गर्भावस्था के दौरान।
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली।
  • कई लोगों के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने के कारण यूरिन इन्फेक्शन हो सकता है।
  • स्वच्छता का अभाव भी यूरिन इन्फेक्शन का कारण होता है।
  • गर्भनिरोधक का उपयोग।
  • मधुमेह।
  • एंटीबायोटिक दवाओं का अति प्रयोग।

यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय – Urine infection gharelu nuskhe in hindi

मूत्र पथ में संक्रमण यानी यूरिन इन्फेक्शन का यदि समय पर उपचार न किया जाए तो यह गंभीर हो सकता है। इसके उपचार के लिए आपको डॉक्‍टर से बात करनी चाहिए। लेकिन जिन लोगों के लिए यह संभव नहीं है या जिन्‍हें इस विषय पर बात करने में परेशानी होती है उनके लिए यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय (urine infection ke gharelu upay in hindi) भी मौजूद हैं। यूटीआई यूरिनरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन के देसी इलाज (desi ilaj for urine infection) को अपनाकर आप इस समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं। आइए इन्‍हें जाने।

यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय पर्याप्त पानी पीए – Urine infection ka gharelu upay paryapt pani piye in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय पर्याप्त पानी पीए - Urine infection ka gharelu upay paryapt pani piye in Hindi

जिन लोगों को यूरिन इन्फेक्शन होता है उन्‍हें अपने शरीर में पानी की कमी का विशेष रूप से ध्‍यान रखना चाहिए। भरपूर पानी पीने से बैक्टीरिया को मूत्र मार्ग से बाहर निकालने में मदद मिलेगी। पेशाब में संक्रमण है तो रोगी को उचित मात्रा में पानी का सेवन करते रहना चाहिए। भरपूर मात्रा में पानी का सेवन करने से बैक्‍टीरिया को मूत्र मार्ग से बाहर निकालने में मदद मिलती है। यह यूटीआई यानी यूरिन इन्फेक्शन के लिए सबसे प्रभावी घरेलू उपाय में से एक है। किसी भी सामान्‍य व्‍यक्ति को दिन में कम से कम 7-8 ग्लास पानी पीना चाहिए। हालांकि आप अपने शरीर की क्षमता और डॉक्‍टर की सलाह पर पानी की मात्रा का निर्धारण कर सकते हैं।

बहुत अधिक पानी पीना खतरनाक हो सकता है, विशेष रूप से पहले से मौजूद गुर्दे की बीमारियों के साथ।

(और पढ़े – पानी पीने का सही समय जानें और पानी पीने के लिए खुद को प्रेरित कैसे करें…)

यूरिन इन्फेक्शन का देशी इलाज बार-बार पेशाब जाना – desi ilaj for urine infection baar-baar pesab jana in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन का देशी उपाय बार-बार पेशाब जाना - Urine infection ka desi upay baar-baar pesab jana in Hindi

जिन लोगों को यूटीआई संक्रमण है उनके लिए घरेलू उपाय के रूप में बार-बार पेशाब जाना अजीब लग सकता है। लेकिन इस दौरान रोगी को बार-बार पेशाब जाने की इच्‍छा पैदा होती है भले ही उन्‍हें पेशाब न आया हो। हालांकि मूत्र त्‍याग करना संक्रमण को शरीर से बाहर करने का एक तरीका है। इसलिए अधिक मात्रा में पानी या तरल पदार्थ पीने की सलाह दी जाती है। और रोगी को बार- बार पेशाब जाना चाहिए चाहे वास्‍तव में उसे पेशाब आया हो या ना आया हो।

(और पढ़े – पेशाब में जलन और दर्द (डिस्यूरिया) के कारण, लक्षण और उपचार…)

पेशाब की नली में इन्फेक्शन का इलाज गर्म सिकाई – Pesab ki nali me infection ka ilaj garm sikai in Hindi

पेशाब की नली में इन्फेक्शन का इलाज गर्म सिकाई - Pesab ki nali me infection ka ilaj garm sikai in Hindi

यूटीआई के लिए उपयोग किये जाने वाले घरेलू उपाय इस समस्‍या के लक्षणों को कम कर सकते हैं। यूटीआई यूरिनरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन के लक्षणों में दर्द और जलन आदि शामिल हैं। इसका इलाज करने के लिए आप मूत्राशय या जांघ क्षेत्र में हीट पैड लगा सकते हैं। जिससे आपको दर्द और जलन से छुटकारा मिल सकता है। हालांकि मूत्र संक्रमण के उपचार के दौरान आपको गर्म सिकाई सीधे ही त्‍वचा पर नहीं करनी चाहिए। इसके अलावा आपको अपने सहने योग्‍य गर्मी का ही उपयोग करना चाहिए। इस तरह से आप मूत्र संक्रमण के घरेलू उपाय के रूप में आप गर्म सिकाई का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – पेशाब में जलन दूर करने के घरेलू उपाय…)

यूटीआई से बचने के घरेलू उपाय ढ़ीले कपड़े – UTI Urine infection se bachne ke upay Dhile kapde in Hindi

यूटीआई से बचने के घरेलू उपाय ढ़ीले कपड़े - UTI Urine infection se bachne ke upay Dhile kapde in Hindi

जो लोग मूत्र मथ के संक्रमण से गुजर रहे हैं उन्‍हें डॉक्‍टरी इलाज कराने की आवश्‍यकता है। लेकिन आप अपने दैनिक जीवन में कुछ परिवर्तन कर और यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय (urine infection gharelu upchar in hindi) को अपना कर भी यूरिन इन्फेक्शन के लक्षणों को कम कर सकते हैं। इसके लिए आप अपनी सुविधा के अनुसार ढ़ीले और जहां तक संभव हो कॉटन के कपड़े पहने। क्‍योंकि तंग कपड़े नमी को विकसित करने के लिए प्रोत्‍साहित कर सकते हैं। अधिकांश बैक्‍टीरिया नमी में ही पनपते हैं इसलिए यूरिन इन्फेक्शन के दौरान निजी अंगों का सूखा रहना आवश्‍यक है। इस तरह से आप ढ़ीले कपड़े पहनकर मूत्र पथ संक्रमण का घरेलू उपचार कर सकते हैं।

(और पढ़े – मूत्राशय में संक्रमण के कारण, लक्षण और बचाव…)

यूटीआई संक्रमण का घरेलू नुस्‍खा अजवाइन तेल – Urine infection gharelu nuskhe Oregano Oil in Hindi

यूटीआई संक्रमण का घरेलू नुस्‍खा अजवाइन तेल - Urine infection thik karne ka upay Oregano Oil in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन को रोकने के घरेलू उपचार के लिए आप अजवाइन के तेल का उपयोग कर सकते हैं। 2012 में हुए एक अध्‍ययन से पता चलता है कि अजवाइन तेल में मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल गुण मूत्र पथ संक्रमण फैलाने वाले बैक्‍टीरिया के विकास को रोकने और उन्‍हें नष्‍ट करने में प्रभावी होते हैं। अजवाइन तेल के औषधीय संक्रमण फैलाने वाले ई कोलाई (E.coli) बैक्‍टीरिया के विकास को सफलता पूर्वक रोक सकते हैं।

संक्रमण होने के दौरान अजवाइन तेल का उपयोग करते समय इस तेल को नारियल या पानी के साथ मिलाकर पतला करके ही उपयोग करना चाहिए। इस मिश्रण को सप्‍ताह में 1-2 उपयोग करना अच्‍छा होता है। लेकिन इससे अधिक बार उपयोग करने की सलाह नहीं दी जाती है। आपको यह भी सलाह दी जाती है कि अजवाइन तेल का उपयोग करने से पहले आप अपने डॉक्‍टर से जरूर सलाह लें।

(और पढ़े – अजवाइन के तेल के फायदे और नुकसान…)

यूरिन इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज विटामिन सी – Urine infection ka ayurvedic ilaj vitamin C in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज विटामिन सी - Urine infection ka ayurvedic ilaj vitamin C in Hindi

आपका आहार आपके स्‍वास्‍थ्‍य पर विशेष असर डालता है। यदि आपको मूत्र पथ संक्रमण है तो इसके आयुर्वेदिक उपचार के रूप में विटामिन सी युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करें। विटामिन सी यूरिनरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन फैलाने वाले बैक्‍टीरिया को नष्‍ट करने में सहायक होते हैं। लेकिन कुछ विशेष प्रकार के खाद्य पदार्थ इन लक्षणों को बढ़ा सकते हैं। इसलिए इन्‍हें खाने से बचना चाहिए।

इस प्रकार के खाद्य पदार्थों में

उच्‍च फाइबर युक्‍त खाद्य पदार्थ भी इस संक्रमण को रोकने में मदद कर सकते हैं। एक प्रकार का संतुलित और पौष्टिक भोजन शरीर को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक होता है। विटामिन सी मूत्र पथ के बैक्‍टीरिया के विकास को रोक सकता है क्‍योंकि यह मूत्र को अधिक अम्लीय बनाता है। हालांकि आपको सलाह दी जाती है विटामिन सी युक्‍त अलग-अलग खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इस तरह से आप अपने शरीर अन्‍य पोषक तत्‍वों को भी प्राप्‍त कर सकते हैं जो आपके शरीर को स्‍वस्‍थ रखने में विशेष योगदान देते हैं।

(और पढ़े – विटामिन सी की कमी दूर करने के लिए ये खाद्य पदार्थ…)

दादी माँ के नुस्खे फॉर यूरिन इन्फेक्शन क्रैनबेरी जूस – dadi maa ke nuskhe for urine infection Cranberry Juice in Hindi

दादी माँ के नुस्खे फॉर यूरिन इन्फेक्शन क्रैनबेरी जूस - pesab rog ke lakshan door kare Cranberry Juice in Hindi

मूत्र पथ संक्रमण के प्रभावी उपचारों में क्रैनबेरी जूस का सेवन भी शामिल है। क्रैनबेरी जूस का सेवन करने से मूत्र पथ में मौजूद बैक्‍टीरिया को नष्‍ट करने में मदद मिल सकती है। हाल ही में किये गए एक अध्‍ययन से पता चलता है कि यूटीआई संक्रमण से ग्रसित महिलाओं ने 24 सप्‍ताह तक नियमित रूप से प्रतिदिन 240 मिलीलीटर क्रैनबेरी रस का सेवन किया। उनमें मूत्र पथ संक्रमण के लक्षण अन्‍य महिलाओं की अपेक्षा कम पाए गए। इसके अलावा क्रैनबेरी जूस का नियमित सेवन उन महिलाओं के लिए भी फायदेमंद होता है जिन्‍हें यह संक्रमण बार-बार होता है। इस तरह से आप यूटीआई यूरिनरी इंफेक्‍शन के घरेलू उपचार के रूप में दादी माँ का बताया गया घरेलू नुस्खा में क्रैनबेरी जूस का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – करोंदा (क्रैनबेरी) के फायदे और नुकसान…)

यूटीआई संक्रमण का इलाज प्रोबायोटिक्‍स – Probiotic Home Remedies for Urine Infection Treatment in Hindi

यूटीआई संक्रमण का इलाज प्रोबायोटिक्‍स - UTI sankraman ka ilaj probiotic in Hindi

प्रोबायोटिक्‍स फायदेमंद सूक्ष्‍म जीव हैं जो भोजन या अन्‍य पूरक आहार के माध्‍यम से प्राप्‍त किये जाते हैं। प्रोबायोटिक्‍स आपके पेट में अच्‍छे बैक्‍टीरिया और बुरे बैक्‍टीरिया के बीच संतुलन बनाने का काम करते हैं। आप प्रोबायोटिक्‍स को पूरक के रूप में भी प्राप्‍त कर सकते हैं। जबकि ताजा दही प्रोबायोटिक्‍स का सबसे अच्‍छा उदाहरण होता है।

प्रोबायोटिक्‍स का उपयोग पाचन को बेहतर बनाने और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होता है। कुछ अध्‍ययनों से पता चलता है कि प्रोबायोटिक्‍स यूटीआई संक्रमण के लक्षणों को भी कम करने में सक्षम है। एक अध्‍ययन के अनुसार लैक्‍टोबैसिलस एक सामान्‍य प्रोबायोटिक्‍स है जो वयस्क महिलाओं में यूटीआई जैसे यूरिन इन्फेक्शन को रोकने में प्रभावी होता है। यदि आप भी यूटीआई संक्रमण का घरेलू उपाय करना चाहते हैं तो प्रोबायोटिक्‍स को पूरक के रूप में ले सकते हैं।

(और पढ़े – दही खाने से सेहत को होते हैं ये बड़े फायदे…)

मूत्र पथ संक्रमण रोकने के लिए जीवन शैली में परिवर्तन – UTI sankarman se bachne ke tips in Hindi

मूत्र पथ संक्रमण रोकने के लिए जीवन शैली में परिवर्तन - UTI sankarman se bachne ke tips in Hindi

मूत्र पथ संक्रमण को रोकने के लिए आपको अपनी दैनिक गतिविधियों में कुछ अच्‍छी आदतों को शामिल करने की आवश्‍यकता है। विशेष रूप से अच्‍छे बाथरूम और स्‍वच्‍छता की आदतों का अभ्‍यास करना। बार-बार पेशाब करना और संभोग के बाद पेशाब करना यूटीआई के खतरे को कम कर सकते हैं। जबकि शुक्राणुनाशक का उपयोग और टॉयलेट के बाद पीछे से सामने से पोंछने से यूटीआई का खतरा बढ़ सकता है। आइये जानतें हैं मूत्र पथ संक्रमण रोकने के लिए जीवन शैली में क्या परिवर्तन लाने की जरुरत होती है।

  • आपको अधिक समय तक पेशाब को रोक कर नहीं रखना चाहिए। क्‍योंकि पेशाब को अधिक समय तक रोकने से मूत्र संक्रमण या बैक्‍टीरिया उत्‍पन्‍न हो सकते हैं। जिसके परिणामस्‍वरूप यूटीआई संक्रमण हो सकता है।
  • संभोग के बाद पेशाब करने से भी मूत्र पथ संक्रमण के बैक्‍टीरिया के प्रसार को रोका जा सकता है। जिससे आप यूटीआई के लक्षणों को कम कर सकते हैं।
  • जो महिला और पुरुष यूटीआई संक्रमण से ग्रसित हैं उन्‍हें शुक्राणुनाशक का उपयोग करने से बचना चाहिए। क्‍योंकि यह संक्रमण के लक्षणों को बढ़ा सकता है।
  • शौचलय का उपयोग करते समय आपको आगे से पीछे ओर पौंछना चाहिए। पीछे से आगे की तरफ पौंछने पर बैक्‍टीरिया मूत्र मार्ग तक पहुंच सकते हैं। जिससे आपको मूत्र पथ संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। विशेष रूप से महिलाओं को इस विधि का उपयोग करना चाहिए। क्‍योंकि उनके योनि की बनावट बैक्‍टीरिया के प्रवेश के लिए बहुत ही अनुकूल होती है।

मूत्र पथ के संक्रमण एक आम समस्या है और इससे निपटने के लिए आपको निराशा हो सकती है।

हालांकि, हाइड्रेटेड रहना, कुछ स्वस्थ आदतों का अभ्यास करना और अपने आहार में कुछ यूटीआई से लड़ने वाली सामग्री के साथ पूरक आहार को शामिल करना, मूत्र पथ के संक्रमण होने के आपके जोखिम को कम करने के अच्छे तरीके हैं।

(और पढ़े – ज्यादा देर तक पेशाब रोकने से हो सकते है ये नुकसान…)

यूरिन इन्फेक्शन होने पर डॉक्टर को कब दिखाना है – When to see doctor when urinary tract infections occur in Hindi

मूत्र पथ के संक्रमण होने पर डॉक्टर को कब दिखाना है - When to see doctor when urinary tract infections occur in hindi

यदि यूटीआई के लक्षण गंभीर हैं या बिना सुधार के 1 सप्ताह से अधिक समय तक बने रहते हैं, तो डॉक्टर को दिखाना आवश्यक है। लंबे समय तक चलने वाले गंभीर लक्षण क्रॉनिक यूटीआई के संकेत दे सकते हैं।

कई मामलों में जहां यूटीआई हल्का या तीव्र है, यह केवल 2-3 दिनों में घरेलू उपचार के साथ ठीक हो सकता है।

(और पढ़े – यूरिन का कलर कैसा होना चाहिए और जाने पेशाब का रंग बदलने का कारण…)

पेशाब में संक्रमण के दौरान आपका खान-पान – Urine infection me kya khana chahiye

  • ज्यादा पानी पीना शुरू कर दें।
  • खट्टे फल जैसे संतरा, करोंदा, मौसमी आदि का सेवन करें।
  • तरबूज, सेब, अनार, फालसा आदि रसदार और ठंडे फलों का सेवन करना चाहिए।
  • दूध से बने लस्सी में थोड़ी इलायची पाउडर मिलाएं और इसका सेवन करें।
  • अधिक खट्टे फलों का सेवन करें।

पेशाब में संक्रमण के दौरान आपकी लाइफस्टाइल – Your Life Style During Urine Infection in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन या पेशाब में संक्रमण के दौरान आपकी लाइफस्टाइल कैसी होनी चाहिए: –

गुप्तांगों को साफ रखें।
शौच और पेशाब के बाद जननांगों को हमेशा धोना चाहिए।
महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए।
व्यक्तिगत स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए।
बहुत अधिक समय तक पेशाब को रोककर न रखें। यह मूत्राशय में बैक्टीरिया को बढ़ने में मदद करता है। जैसे ही मूत्र बढ़ना शुरू होता है, मूत्र त्याग करें।

यूरिन इन्फेक्शन के दौरान परहेज – Avoid These During Urine Infection in Hindi

पेशाब में संक्रमण (यूरिन इन्फेक्शन) होने पर इन चीजों से बचें: –

यूरिन इन्फेक्शन के समय चीनी और मीठी चीजों का सेवन न करें। मिठास मूत्र पथ के बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देती है।
क्रेनबेरी जूस का सेवन करें, लेकिन इसमें चीनी न डालें।
मूत्र संक्रमण के दौरान केक, कुकीज़, कार्बोनेटेड पेय और चीनी उत्पादों का सेवन नहीं करना चाहिए।
यूरिन इन्फेक्शन होने पर कॉफी का सेवन न करें। इससे अधिक पेशाब में जलन की समस्या हो सकती है।
जितना हो सके शराब और कैफीन के सेवन से दूर रहें।

पेशाब में संक्रमण से जुड़े सवाल-जवाब – FAQ Related Urine Infection in Hindi

रोगी अक्सर मूत्र पथ के संक्रमण से संबंधित ये प्रश्न पूछते हैं:

यूरिन इन्फेक्शन होने पर आसान उपाय में क्या करना चाहिए? (What is the fastest way to get rid of a urine infection?)

मूत्र संक्रमण के कारण मूत्राशय में बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं, इसलिए अधिक पानी पीएं। इससे पेशाब अधिक आता है। इससे बैक्टीरिया यूरिन के साथ बाहर निकल जाते हैं। यह पेशाब में जलन से भी राहत देता है।

यूरिन इन्फेक्शन कितने दिन में ठीक होता है (urine infection kitne din me thik hota hai)

अधिकांश यूटीआई (यूरिन इन्फेक्शन) को ठीक किया जा सकता है। उपचार शुरू होने के 24 से 48 घंटों के भीतर यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण दूर हो जाते हैं। यदि आपको गुर्दा संक्रमण है, तो लक्षणों को दूर होने में 1 सप्ताह या उससे अधिक का समय लग सकता है।

आपको कैसे पता चलेगा कि आपका यूटीआई (यूरिन इन्फेक्शन) ठीक हो रहा है? (How do you know if your UTI is healing?)

जब आप एक यूटीआई के लिए एंटीबायोटिक्स लेना शुरू करते हैं तो आपको पहले 12 – 24 घंटों के भीतर कुछ सुधार महसूस करना चाहिए। हालाँकि, आपका मूत्राशय अभी भी कच्चा और कोमल होगा, क्योंकि यह अभी भी ठीक हो रहा होता है, इसलिए मूत्राशय की ऐंठन जैसे लक्षणों के लिए कुछ दिन लग सकते हैं, जो मूत्र संबंधी आग्रह (अचानक पेशाब करने) में सुधार करते हैं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration