ज्यादा देर तक पेशाब रोकने से हो सकते है ये नुकसान – Side Effects Of Holding Urine For Long Time In Hindi

ज्यादा देर तक पेशाब रोकने से हो सकते है ये नुकसान - Side Effects Of Holding Urine For Long Time In Hindi
Written by Pratistha

Peshab rokne ke nuksan in hindi क्या आप यूरिन रोकने के नुकसान जानते हैं कई बार ऐसा होता है की लोग अपने किसी भी जरुरी काम के कारण पेशाब जाने से अपने आप को रोकते रहते है। वैसे तो हमारे मूत्राशय की क्षमता भी कम से कम 2 कप के बराबर पेशाब को भरा रखने की है और लोग जब जबरदस्ती पेशाब रोकने की कोशिश करते है तो उनका मूत्राशय उससे ज्यादा भी कंट्रोल करके रख सकता है,परन्तु ऐसा करना बहुत ज्यादा नुकसानदायक हो सकता है और स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक हो सकता है इसलिए कभी भी ज़बरदस्ती अपनी पेशाब को रोकने की कोशिश ना करे इसके बहुत से नुकसान भी होते है। आज इस लेख में हम जानेंगे की ज्यादा देर तक पेशाब रोकने के क्या नुकसान हो सकते है।

1. ज्यादा देर तक पेशाब रोकने के नुकसान – Jyada der tak peshab rokne ke nuksan in hindi
2. पेशाब रोकने के नुकसान और खतरे – peshab rokne ke nuksan in hindi

3. यदि पेशाब रोकना पड़े तो क्या करें –yadi peshab rokna pade to kya kare in hindi

ज्यादा देर तक पेशाब रोकने के नुकसान – Jyada der tak peshab rokne ke nuksan in hindi

ज्यादा देर तक पेशाब रोकने के नुकसान - Jyada der tak peshab rokne ke nuksan in hindi

ज्यादा देर तक पेशाब रोकने के बहुत से नुकसान होते है क्योकि ज्यादा देर तक पेशाब रोकने से संक्रमण का खतरा बना रहता है और इससे कई तरह की गंभीर बीमारी भी हो सकती है जो जानलेवा भी साबित हो सकती है।

एक स्वस्थ वयस्क में, कभी-कभी पेशाब रोके रहने से समस्याएं नहीं होंगी, लेकिन अगर यह एक आदत बन जाए तो इसके कुछ गंभीर और खतरनाक प्रभाव हो सकते हैं।

जब मूत्राशय पेशाब से लगभग आधा भर जाता है, तो हमारा मस्तिष्क को एक संकेत भेजता है कि यह पेशाब करने का समय है। मूत्राशय में पेशाब भर जाने से मस्तिष्क पेशाब करने की इच्छा पैदा करता है।

पेशाब रोकने के लिए कैसे और कब सुरक्षित है इसके लिए कोई कठिन नियम नहीं हैं। कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में पेशाब रोकने से अधिक खतरा हो सकता है। आइये जानतें है पेशाब रोकने से क्या नुकसान होता है।

(और पढ़े – पेशाब में जलन और दर्द (डिस्यूरिया) के कारण, लक्षण और उपचार…)

पेशाब रोकने के नुकसान और खतरे – peshab rokne ke nuksan in hindi

  1. पेशाब रोकने के नुकसान से हो सकता है दर्द – peshab rokne ke nuksan se dard hona
  2. पेशाब रोकने के नुकसान से होता है मूत्राशय पथ संक्रमण – peshab rokne ke nuksan se urinary tract infection ka khtra
  3. यूरिन रोकने के नुकसान से मूत्राशय में खिंचाव होना – urine rokne ke nuksan se urinary bladder me khichav hona
  4. पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है – urine rokne ke nuksan Pelvic floor muscle damage in hindi
  5. ज्यादा देर पेशाब रोकने के नुकसान से किडनी स्टोन का खतरा – Peshab rokne ke nuksan Risk of Kidney Stone in hindi
  6. पेशाब रोकने के लिए अन्य स्थितियों के प्रभाव – Effect of other conditions to stop urination in hindi

पेशाब रोकने से कई तरह के नुकसान होते है और इससे बहुत सी गंभीर समस्या उत्पन्न होती है, इसमें कई समस्या शामिल है जैसे-

पेशाब रोकने के नुकसान से हो सकता है दर्द – peshab rokne ke nuksan se dard hona

पेशाब रोकने के नुकसान से हो सकता है दर्द - peshab rokne ke nuksan se dard hona

ज्यादा देर तक पेशाब रोकने से मूत्राशय और किडनी में दर्द हो सकता है जब कोई व्यक्ति बहुत देर बाद बाथरूम में पहुंचता है, तो उस व्यक्ति को पेशाब करने पर चोट लगने जैसा एहसास हो सकता है। पेशाब निकलने के बाद मांसपेशियां में आंशिक रूप से जकड़न होती है, जिससे पैल्विक ऐंठन (pelvic crumps) हो सकती है।

(और पढ़े – किडनी रोग क्या है कारण, लक्षण, जांच, इलाज और रोकथाम…)

पेशाब रोकने के नुकसान से होता है मूत्राशय पथ संक्रमण – peshab rokne ke nuksan se urinary tract infection ka khtra

पेशाब रोकने के नुकसान से होता है मूत्राशय पथ संक्रमण - peshab rokne ke nuksan se urinary tract infection ka khtra

कुछ मामलों में, बहुत लंबे समय तक पेशाब रोके रखने से बैक्टीरिया की संख्या में वृद्धि हो सकती है। इससे मूत्राशय पथ का संक्रमण (यूटीआई) हो सकता है।

वैसे तो आज तक किसी भी शोध से यह पता नहीं चला है कि पेशाब रोकने से यूटीआई का खतरा बनता है, लेकिन फिर भी डॉक्टर इससे बचने की सलाह देते हैं, खासकर अगर किसी व्यक्ति को पहले भी  यूटीआई की परेशानी रही हो तो।

जो लोग पर्याप्त पानी नहीं पीते हैं, उन्हें यूटीआई की परेशानी विकसित होने की अधिक संभावना हो सकती है क्योंकि मूत्राशय शरीर को अक्सर पर्याप्त पेशाब करने के लिए नहीं कह पाता है। इससे बैक्टीरिया मूत्र मार्ग से फैल सकता है, जिससे संक्रमण होने का खतरा हो सकता है।

यूटीआई के लक्षणों में शामिल हैं –

  • पेशाब के दौरान जलन होना या चुभन का एहसास होना
  • श्रोणि (pelvis) या निचले पेट में दर्द होना (lower abdomen)
  • मूत्राशय को खाली करने के लिए एक निरंतर एहसास होना
  • मजबूत या दुर्गंधयुक्त पेशाब का निकलना
  • बादल जैसा पेशाब लगातार गहरा रंग का पेशाब निकलना
  • पेशाब में रक्त निकलना

(और पढ़े – मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) के कारण, लक्षण और उपचार…)

यूरिन रोकने के नुकसान से मूत्राशय में खिंचाव होना – urine rokne ke nuksan se urinary bladder me khichav hona

यूरिन रोकने के नुकसान से मूत्राशय में खिंचाव होना - urine rokne ke nuksan se urinary bladder me khichav hona

लंबे समय तक नियमित रूप से पेशाब को रोके रखने से मूत्राशय में खिंचाव जैसा हो सकता है। यह मूत्राशय को सामान्य रूप से पेशाब करने के लिए मुश्किल या असंभव बना सकता है।

यदि किसी व्यक्ति का एक फैला हुआ मूत्राशय है, तो कैथेटर (catheter) जैसे अतिरिक्त उपाय आवश्यक हो सकता हैं।

(और पढ़े – मूत्राशय में संक्रमण के कारण, लक्षण और बचाव…)

पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है – urine rokne ke nuksan Pelvic floor muscle damage in hindi

पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है - urine rokne ke nuksan Pelvic floor muscle damage in hindi

बार-बार पेशाब रोकने से पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को नुकसान पहुंच सकता है।

इन मांसपेशियों में से एक होता है युरेथ्रल स्पिन्च्टर (urethral sphincter) जो एक मूत्रमार्ग को रोकने वाला यंत्र होता है, जो पेशाब को बंद रखने के लिए मूत्रमार्ग को बंद कर देता है। इस मांसपेशी को नुकसान पहुंचने पर पेशाब में असंयमता हो सकती है।

पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज जैसे केगल्स (kegels) करने से मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और रिसाव को रोकने या मांसपेशियों के नुकसान को रोकने में भी मदद मिलती है।

(और पढ़े – महिलाओं के लिए कीगल एक्सरसाइज के फायदे और करने का तरीका…)

ज्यादा देर पेशाब रोकने के नुकसान से किडनी स्टोन का खतरा – Peshab rokne ke nuksan Risk of Kidney Stone in hindi

ज्यादा देर पेशाब रोकने के नुकसान से किडनी स्टोन का खतरा - Peshab rokne ke nuksan Risk of Kidney Stone in hindi

पेशाब रोकने से किडनी स्टोन की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है जिससे जोखिम पैदा हो सकता है। ज्यादातर यह समस्या उन लोगों में उत्पन्न होती है जिनके पेशाब में उच्च खनिज की मात्रा होती है। पेशाब में अक्सर यूरिक एसिड और कैल्शियम ऑक्सालेट जैसे खनिज पाए जाते हैं। इसलिए पेशाब रोकने से किडनी स्टोन के साथ साथ और भी कई गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है।

(और पढ़े – पथरी होना क्या है? (किडनी स्टोन) पथरी के लक्षण, कारण और रोकथाम…)

पेशाब रोकने के लिए अन्य स्थितियों के प्रभाव – Effect of other conditions to stop urination in hindi

पेशाब रोकने के लिए अन्य स्थितियों के प्रभाव - Effect of other conditions to stop urination in hindi

आपका मूत्राशय आपके मूत्र प्रणाली का एक हिस्सा है। यह मूत्रमार्ग के माध्यम से आपके गुर्दे से जुड़ा हुआ है। दुर्लभ मामलों में, मूत्र गुर्दे में वापस आ सकता है और संक्रमण या गुर्दे की क्षति (kidney damage) हो सकती है।

कुछ पहले से उत्पन्न चिकित्सा परेशानियों से मूत्र प्रतिधारण (urine retention) हो सकता है। परन्तु ज्यादातर लोग इस पर ध्यान नहीं देते है, लेकिन यह समान जटिलताओं का कारण बन सकता है।

एक बढ़े हुए प्रोस्टेट (enlarged prostate), कमजोर मूत्राशय की मांसपेशियों, या पेशाब की  प्रणाली में तंत्रिका क्षति (nerve damage) पेशाब के प्रवाह को अवरुद्ध कर सकती है और शरीर को इसे बनाए रखने का कारण बन सकती है।

किडनी की परेशानी वाले लोग इन संभव जटिलताओं को रोकने के लिए, पेशाब को रोकने से बचने की कोशिश करते हैं।

(और पढ़े – प्रोस्टेट बढ़ने के लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव…)

यदि पेशाब रोकना पड़े तो क्या करें –yadi peshab rokna pade to kya kare in hindi

यदि पेशाब रोकना पड़े तो क्या करें –yadi peshab rokna pade to kya kare in hindi

यदि कभी ऐसे मजबूरी आ जाये की हम चाह कर भी पेशाब ना जा पाए तो कुछ उपाय अपना कर आप अपने मन को बहला सकते है और पेशाब को कंट्रोल कर सकते है, परन्तु अगर आपके पास बाथरूम जाने का रास्ता हो तो कभी पेशाब को रोके नहीं हमेशा सही समय पर बाथरूम का इस्तेमाल करें।

पेशाब को कंट्रोल करने के उपाय है –

अपने आप को किसी ऐसे कार्य में लगायें जो आपके मस्तिष्क को सक्रिय रूप से संलग्न करे, जैसे कि एक गेम या क्रॉसवर्ड पहेली। आप संगीत सुन सकते है। अगर आप पहले से बैठे हैं तो भी बैठे रहें। कोई किताब पढ़े। अपना फोन चलायें और सोशल मीडिया के माध्यम से अपना ध्यान भटकाये। अपने शरीर को गर्म रखें, क्योंकि शरीर ज्यादा ठंडा होने से आपको पेशाब करने की इच्छा ज्यादा हो सकती है।

(और पढ़े – किडनी को स्वस्थ रखने के लिए योग…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration