साइनस क्या होता है कैसे कर सकते हैं घर ही इस बीमारी का ईलाज – what is sinus and home remedies for sinus in Hindi

साइनस क्या होता है कैसे कर सकते हैं घर ही इस बीमारी का ईलाज - what is sinus and home remedies for sinus in Hindi
Written by Anshika sarda

हमारी खोपड़ी में बहुत-सारी कैविटीज़ (खोखले छेद) होती हैं। ये छिद्र हमारे सिर को हल्का बनाए रखने में और सांस लेने में मदद करते हैं। इन्हीं छेदों को साइनस कहा जाता हैं। जब इन छिद्रों में बलगम भर जाए तो श्वसन में परेशानी होने लगती है। इस समस्या को ही साइनस कहते हैं।  पहले जुकाम और प्रदूषण की वजह से गले में खिचखिच पैदा होती है। इसी के साथ नाक बंद होना, नाक बहना और बुखार जैसी शिकायतें होने लगती हैं। अगर ये लक्षण कई दिनों तक बने रहें तो ये तीव्र साइनस हो सकता है। आज के लेख में आप जानेगें साइनस क्या होता है साइनस के लक्षण और साइनस को ठीक करने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Sinus in Hindi) के बारें में।

ये परेशानी लगातार होने लगे या  ज्यादा टाइम तक रहे तो यह पुराना साइनस माना जाता है। साइनस से पीड़ित लोग इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए  लोग अक्सर मेडिकल ट्रीटमेंट लेते हैं। साइनस का उपचार लंबा चलता है लेकिन कुछ घरेलू उपायों की सहायता से भी साइनस का उपचार किया जा सकता है। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में।

क्या होता है साइनस – What is sinus in Hindi

नैसेल पैसेज में संक्रमण हो जाने पर साइनस इंफेक्शन हो जाता  है। इस बीमारी से पूरी तरह से निजात पाना काफी मुश्किल होता है। वायरस, बैक्टीरिया और एलर्जी के कारण साइनस इंफेक्शन हो जाता है। मानव खोपड़ी में काफी सारे छिद्र होते हैं जिन्हें कैविटीज कहते है। इनसे हमारा सिर हल्का रहता है और सांस लेने में आसानी होती है। ये छिद्र ही साइनस कहलाते हैं। जब इन छिद्रों में बलगम भर जाता है तो श्वसन में परेशानी होती है जो कि साइनस की समस्या कहलाती है।

साइनस के लक्षण क्या होते हैं – Symptoms of sinus in Hindi

  • साइनस के दौरान सिर दर्द होता है
  • चेहरे में दर्द होना
  • बुखार होना
  • गले में जलन और दर्द
  • बलगम
  • नाक जमना
  • सांस लेने में दिक्कत होना

साइनस को ठीक करने के घरेलू उपाय – home remedies for sinus treatment in Hindi

1. साइनस को ठीक करने का घरेलू उपाय है लेमन बाम – Use Lemon Balm Home Remedies for Sinus in Hindi

लेमन बाम में पर्याप्त मात्रा में एंटी-वायरल, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-हिस्टामिनिक और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इन्हीं गुणों के कारल लेमन बाम भी लेमन बाम साइनस के लिए एक उपयोगी हर्ब होता है।

2. साइनस को ठीक करने के लिए सूप पीएं – Drinking soup as Home Remedies for Sinus in Hindi

इसलिए साइनस इंफेक्शन में सूप पीने से राहत मिलती है।  आप बोन ब्रोथ से लेकर चिकन सूप भी पी सकते हैं।

(और पढ़े – टमाटर का सूप पीने के स्वास्थ्यवर्धक लाभ)

3. साइनस को ठीक करने के लिए घरेलू उपाय है हल्दी – Turmeric as Home Remedies for Sinus in Hindi

हल्दी एक बहुत ही उपयोगी हर्ब होती है। हल्दी में पाए जाने वाले कुरकुमिन में स्वास्थ्य के लिए उपयोगी अनेक गुण होते हैं साथ ही इसके एंटी-इंफ्लेमेंट्री गुणों के कारण यह साइनस कैविटी को साफ रखता है जिससे साइनस की परेशानी में आराम मिलता है।

(और पढ़े – हल्दी और दूध के फायदे और नुकसान)

4. साइनस को ठीक करने के लिए तीखे मसालों का सेवन – Eat spicy food as Home Remedies for Sinus in Hindi

तीखे मसाले आपके नेजल पैसेज को साफ करते हैं। इसलिए आप साइनस में राहत के लिए गर्म मसाला, सरसों, करी पत्ता आदि तीखे मसालों का उपयोग कर सकते हैं। इससे साइनस की स्थिति में राहत मिलती है।

5. साइनस को ठीक करने के लिए ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें – Use humidifier as Home Remedies for Sinus in Hindi

साइनस के उपचार के लिए आप ह्यूमिडिफायर का उपयोग कर सकते हैं। ये हवा को नम करता है और साइनस की तकलीफ में राहत देता है। लेकिन  ह्यूमिडिफायर एकदम साफ होना जरुरी है।

6. साइनस को ठीक करने के लिए केयन पेपर की चाय – Cayenne Pepper Tea for Sinus in Hindi

केयन पेपर को हिंदी में लाल मिर्च भी कहा जाता है इसकी चाय कफ को तेजी से साफ करके साइनस में राहत देती है। इसके लिए  पानी गर्म करके आधा चम्मच केयन पीपर, आधा चम्मच नींबू का रस, थोड़ा सा शहद मिलाकर उबाल लें । इस चाय को आप दिन में एक बार पी सकते हैं।

7. साइनस के उपचार के लिए खूशबू वाला तेल – Essential Oils as Home Remedies for Sinus in Hindi

बहुत सारे तेलों में तेज खूशबू होती है जो नैसेल पैसेज को खोलने में मदद करती है। लेवेंडर, लेमन आदि के ऐसेंशियल ऑयल को सूंघ कर आपको साइनस में  आराम मिलता है।

8. साइनस के उपचार के लिए घरेलू उपाय ग्रेप फ्रूट – Grape fruit as Home Remedies for Sinus in Hindi

साइनस के ईलाज के लिए आप ग्रेपफ्रूट के एसेंस का प्रयोग करें। इसके अंदर फंगस और जीवाणुरोधी गुण होते हैं। पानी में यह एसेंस डालें गर्म पानी की वाष्प लेना उपयोगी होता है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration