गोनोरिया (सूजाक) के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव – Gonorrhoea in Hindi

गोनोरिया (सूजाक) के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव – Gonorrhoea in Hindi
Written by Daivansh

Gonorrhoea in hindi बैक्‍टीरिया और निसरेरिया गोनोरिया (neisseria gonorrhoeae) के कारण होने वाले संक्रमित संक्रमण को सूजाक या गोनोरिया कहा जाता है। इसके कारण आपके मूत्रमार्ग, गर्भाशय, गुदा, गले और आंखों में संक्रमण हो सकता है। नेइसेरिया गोनोरिया आपके रक्त में फैल सकता है जिससे बुखार, जोड़ो में दर्द और त्‍वचा में घाव हो सकते हैं। आइये जानते है गोनोरिया (सूजाक) रोग क्या है, कारण, लक्षण, उपचार, इलाज, दवा, परीक्षण, और जाँच के बारे में।

  1. गोनोरिया कैसे फैलता है – How is it Spread Gonorrhoea in Hindi
  2. गोनोरिया फैक्ट – facts on gonorrhoea in Hindi
  3. गोनोरिया के कारण क्‍या है – Causes of gonorrhoea in Hindi
  4. गोनोरिया के लक्षण क्‍या है – What are the Symptoms of gonorrhoea in Hindi
  5. पुरुषों में सूजाक (गोनोरिया) के लक्षण – Symptoms of gonorrhoea in Men
  6. महिलाओं में सूजाक (गोनोरिया) के लक्षण – symptoms of gonorrhoea in Women
  7. गोनोरिया की जाँच – Test for Gonorrhoea in Hindi
  8. गोनोरिया का इलाज – Gonorrhoea Treatment in Hindi
  9. कब तक करना चाहिए गोनोरिया का उपचार – How long should gonorrhoea be treated in Hindi
  10. गोनोरिया की जटिलताएं – Gonorrhoea Complications in Hindi
  11. गोनोरिया के दौरान यौन संबंध कब बनाना चाहिए – When is safe to have Sex again in Hindi
  12. क्‍या सहियोगी की जांच जरूरी है – Do I Let My Partners Knows in Hindi
  13. मैं कैसे फिर से संक्रमण से बच सकता हूं – How do I avoid re-infection in Hindi

गोनोरिया कैसे फैलता है – How is it Spread Gonorrhoea in Hindi

यह योनि, गुदा या मौखिक सेक्‍स (oral sex) और बिना कंडोम के असुरक्षित यौन संबंधों के कारण फैलता है। अगर इसकी सही समय पर पहचान ना की जाये तो गोनोरिया एक गंभीर समस्या बन सकता हैं।

गोनोरिया फैक्ट – facts on gonorrhoea in Hindi

  • गोनोरिया जीवाणु निसारिया गोनोरहोए के कारण होता है।
  • प्रसव के दौरान मां से बच्चे को गोनोरिया पास किया जा सकता है।
  • गोनोरिया और क्लैमिडिया का एक साथ अनुभव किया जा सकता है।
  • अगर इलाज नहीं किया जाता है, तो गोनोरिया एचआईवी प्राप्त करने या प्रसारित करने के व्यक्ति के जोखिम को बढ़ा सकता है।

गोनोरिया के कारण क्‍या है – Causes of gonorrhoea in Hindi

गोनोरिया जीवाणु निसारिया गोनोरहोए (Neisseria gonorrhoeae) के कारण होने वाला संक्रमण है। यह न केवल प्रजनन पथ को प्रभावित करता है, बल्कि मुंह, गले, आंखों और गुदाशय के श्लेष्म झिल्ली को भी प्रभावित कर सकता है।

संक्रमण लिंग, योनि, गुदा, या मुंह से जुड़े संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संपर्क के माध्यम से फैलता है। पुरुषों को गोनोरिया संचारित करने या अधिग्रहण करने के लिए यौन संबंध बनाते समय स्खलन की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

प्रसव के दौरान एक संक्रमित मां से उसके बच्चे को गोनोरिया पारित किया जा सकता है।

हालांकि सभी यौन सक्रिय व्यक्तियों को गोनोरिया होने का खतरा होता है, लेकिन किशोरों, और युवा वयस्कों में संक्रमण की दर उच्चतम होती है।

गोनोरिया के लक्षण क्‍या है – What are the Symptoms of gonorrhoea in Hindi

पुरुषों के लिंग में ये संक्रमण (infection) आमतौर पर दिखाई देते हैं, जबकि गुदा और गले में संक्रमण आमतौर पर स्‍पर्शोन्‍मुख (Asymptomatic) होता है। आइए जाने इसके क्‍या लक्षण हैं :

पुरुषों में सूजाक (गोनोरिया) के लक्षण – Symptoms of gonorrhoea in Men

  • एक पीली या सफेद या हरा मूत्रमार्ग निर्वहन
  • पेशाब करते समय दर्द या बेचैनी
  • टेस्टिकल्स या स्क्रोटम में दर्द
  • लिंग के सिर के आसपास लाली (Redness)
  • गुदा (Anal) निर्वहन में असुविधा
  • खुजली, निगलने में कठिनाई, या गर्दन लिम्फ नोड में सूजन
  • आंखों में दर्द, हल्की संवेदनशीलता, या आंखों का निर्वहन पस जैसा दिखता है
  • जोड़ों में सूजन, दर्द होना

(और पढ़े – पेनिस हेड में इन्फेक्शन (बैलेनाइटिस) के कारण, लक्षण और इलाज)

महिलाओं में सूजाक (गोनोरिया) के लक्षण – symptoms of gonorrhoea in Women

ज्यादातर महिलाओं में गोनोरिया के लक्षण नजर नहीं आते फिर इसके कुछ लक्षण हैं :

  • असामान्‍य योनि निर्वहन
  • दर्दनाक यौन संभोग
  •  बुखार
  •  उल्टी और पेट या श्रोणि दर्द
  •  संभोग के बाद खून बहना
  •  गले में दर्द, खुजली, निगलने में कठिनाई, या सूजन
  • अनियमित योनि रक्‍तस्राव
  • मूत्र विर्सजन के समय असुविधा
  • श्रोणि दर्द (Pelvic pain), विशेष रूप से संभोग के दौरान (और पढ़े – सेक्स के बाद योनि में दर्द के कारण और बचने के उपाय)
  • गुदा निर्वहन और असुविधा

अगर इलाज नहीं किया जाता है तो गोनोरिया गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूबों में फैल सकता है जिससे पेल्विक इन्‍फ्लैमरेटरी रोग होता है। ऐसी स्थिति जो बांझपन (infertility) सहित जटिलताओं का कारण बन सकती है।

अधिकांश पुरुष 1-3 दनों के भीतर लक्षण दिखने लगते हैं। अगर महिलाएं लक्षण विकसित करती हैं तो यह कुछ ज्‍यादा समय ले सकते हैं।

(और पढ़े – योनी में खुजली, जलन और इन्फेक्शन के कारण और घरेलू इलाज)

गोनोरिया की जाँच – Test for Gonorrhoea in Hindi

गोनोरिया का मूत्र नमूना या मूत्रमार्ग, गर्भाशय, गले और गुदा से एक तलछट (swab) के द्वारा परीक्षण किया जाता है। आमतौर पर संक्रमण के संपर्क में आने 2-4 दिन के अंदर गोनोरिया का पता लगा सकते हैं।

गोनोरिया का इलाज – Gonorrhoea Treatment in Hindi

एजीथ्रोमा‍इसिन (azithromycin) और कैफ्ट्रीयाजोन (ceftriaxone) एंटीबायोटिक्‍स का उपयोग कर आप गोनोरिया का इलाज कर सकते हैं। लेकिन ऐसी कोई भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें ।

कब तक करना चाहिए गोनोरिया का उपचार – How long should gonorrhoea be treated in Hindi

गोनोरिया के लक्षण आम तौर पर 24 घंटों के अंदर शांत हो जाते है। यदि लक्षण एक सप्‍ताह के बाद तक रहते हैं, तो आप डॉक्‍टर से संपर्क कर सकते हैं।

गोनोरिया की जटिलताएं – Gonorrhoea Complications in Hindi

सुजाक की कई गंभीर संभावित जटिलताएँ हैं, जो लक्षण होने पर त्वरित निदान और उपचार की आवश्यकता पर प्रकाश डालती हैं।

महिलाओं में, गोनोरिया निम्न लक्षणों का कारण बन सकता है:

  • श्रोणि (pelvic) सूजन की बीमारी, एक ऐसी स्थिति जो फोड़े का कारण बन सकती है
  • पुरानी श्रोणि दर्द
  • बांझपन
  • एक्टोपिक गर्भावस्था – गर्भावस्था जहां भ्रूण गर्भाशय के बाहर डेवलप होता है

(और पढ़े – एक्टोपिक प्रेगनेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव)

पुरुषों में, एक गोनोरियल संक्रमण का कारण बन सकता है:

  • Epididymitis – epididymis की सूजन, जो शुक्राणु के उत्पादन को नियंत्रित करता है
  • बांझपन

(और पढ़े – शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का घरेलू उपाय )

गोनोरिया के दौरान यौन संबंध कब बनाना चाहिए – When is safe to have Sex again in Hindi

गोनोरिया के दौरान यौन संबंध कब बनाना चाहिए – When is safe to have Sex again in Hindi

सूजाक का उपचार कराने के लगभग एक सप्‍ताह तक किसी भी प्रकार से यौन संबंध नहीं बनाना चाहिए, यहां तक की कंडोम का उपयोग के साथ भी नहीं। इसके उपचार के दौरान और निदान के एक सप्‍ताह बाद तक किसी भी साझेदार के साथ यौन संबंध नहीं रखना बेहतर होता है।

(और पढ़े – यौन शक्ति बढ़ाने के लिए प्राक्रतिक जड़ी बूटी)

क्‍या सहियोगी की जांच जरूरी है – Do I Let My Partners Knows in Hindi

हां आपको यह जानने की आवश्‍यक्‍ता है कि आपके 3 महीने पहले तक के सभी यौन भागीदार गोनोरिया से ग्रसित तो नहीं थे। यदि ग्रसित थे तो उनका परीक्षण करवाना अनिर्वाय है।

मैं कैसे फिर से संक्रमण से बच सकता हूं – How do I avoid re-infection in Hindi

मैं कैसे फिर से संक्रमण से बच सकता हूं - How do I avoid re-infection in Hindi

गोनोरिया से कैसे बचें

पुन: संक्रमण से बचने का सबसे अच्छा तरीका अपने साथी को सूचित करना है, यह भी सुनिश्चित करना कि मौजूदा साथी का इलाज किया जा चूका है और भविष्य में सम्भोग के समय हमेसा कंडोम का उपयोग किया जाना चाहिए।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration