वीर्य पतला होने के कारण और उपाय - Virya Patla Hone Ke Karan Aur Upay - Healthunbox
सेक्स बीमारी

वीर्य पतला होने के कारण और उपाय – Virya Patla Hone Ke Karan Aur Upay

वीर्य पतला होने के कारण और उपाय - Virya Patla Hone Ke Karan Aur Upay

Virya Patla Hone Ke Karan Aur Upay: सामान्य तौर पर, वीर्य गाढ़ा सफेद रंग का तरल पदार्थ होता है। लेकिन कुछ कारणों से यह पतला और रंगहीन यानी पानी जैसा भी हो सकता है। इस लेख में हम आपको वीर्य पतला होने के कारण और उसे गाढ़ा करने के उपाय के बारे में बताएगें।

वीर्य पुरुषों में स्खलन के दौरान मूत्रमार्ग (लिंग) से निकलता है। इसमें शुक्राणु होते हैं और प्रोस्टेट और अन्य प्रजनन अंगों से निकले तरल पदार्थ होते हैं। वीर्य का पतला होना शुक्राणुओं की कमी का संकेत हो सकता है जिसके कारण पुरुषों में बच्चा पैदा न कर पाने की समस्या (इनफर्टिलिटी) हो सकती है। हालांकि, यह समस्या बिना किसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के भी अस्थायी रूप से कुछ समय के लिए हो सकती है।

आज के दौर में वीर्य का पतला होना एक आम समस्या बनती जा रही है और माँ बाप बनाए के इक्छुक कपल्स को परेशान कर रही है। वीर्य पतला होने के कारण निम्न है।

वीर्य पतला होने के कारण – Causes of watery semen in Hindi

वीर्य पतला होने के कारण - Causes of watery semen in Hindi

वीर्य के कमजोर पड़ने या वीर्य पतला होने के कई कारण हो सकते हैं। जिनमें से अधिकांश का इलाज या रोकथाम संभव है।

शुक्राणुओं की संख्या में कमी

शुक्राणुओं की संख्या में कमी

शुक्राणुओं की संख्या में कमी वीर्य के कमजोर पड़ने या वीर्य पतला होने का एक सामान्य कारण है। इसे ओलिगोस्पर्मिया भी कहा जाता है। वीर्य में शुक्राणु की एक सामान्य संख्या पाई जाती है। ऐसा कहा जाता है कि एक मिलीलीटर वीर्य में लगभग 150 मिलियन शुक्राणु होते हैं। जब यह कम होता है, तो वीर्य में शुक्राणुओं की कमी माना जाता है। ओलिगोस्पर्मिया होने के निम्नलिखित कारण हैं।

  • वैरिकोसेले – इस बीमारी में, अंडकोष और अंडकोश की नसों में सूजन होती है। यह पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है। इस समस्या को इलाज से ठीक किया जा सकता है।
  • ट्यूमर – अंडकोष में घातक और सौम्य ट्यूमर शुक्राणुओं के बनने की क्षमता को प्रभावित करते हैं।
  • हार्मोन असंतुलन – अंडकोष और पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा उत्पादित हार्मोन का असंतुलन। इससे स्पर्म काउंट में कमी आती है।
  • संक्रमण – उदाहरण के लिए यौन संचारित रोग (एसटीडी) जैसे कि गोनोरिया या कोई अन्य संक्रमण भी प्रजनन अंगों में सूजन का कारण बनता है। इससे अंडकोष में सूजन भी हो जाती है।
  • इसके अलावा प्रतिरक्षा प्रणाली के माध्यम से शुक्राणुओं की कमी के लिए एंटीबॉडी बनाना।
  • स्खलन समस्याएं, जैसे कि प्रतिगामी स्खलन। प्रतिगामी स्खलन में, वीर्य मूत्राशय में इकट्ठा होने लगता है और मूत्र के साथ बाहर आता है।
  • वीर्य में शुक्राणु लाने वाली नलियों में चोट या कोई अन्य समस्या भी वीर्य पतला होने का कारण हो सकती है।

कम समय में बार-बार स्खलित होना

कम समय में बार-बार स्खलित होना​

नियमित स्खलन या कम समय में बार-बार स्खलित होना भी आपके वीर्य को पतला करता है। यदि आप दिन में कई बार हस्तमैथुन करते हैं, तो पहली बार स्खलन के बाद वीर्य की गुणवत्ता पतली होने लगती है।

आपके वीर्य की क्वालिटी हर एक हस्तमैथुन के बाद कम हो सकती है। आपके शरीर को फिर से वीर्य बनाने के लिए कुछ घंटों की आवश्यकता होती है। स्वस्थ वीर्य एक निश्चित समय अंतराल के बाद फिर से उत्पन्न होता है।

वीर्य पतला होने का कारण जस्ता (Zinc) की कमी

वीर्य पतला होने का कारण जस्ता (Zinc) की कमी

वीर्य के पतला होने के कारण में जस्ता (Zinc) की कमी भी शामिल है, शरीर में जिंक की कमी होना भी वीर्य पतला होने का एक मुख्य कारण हो सकता है।

एक शोध से पता चला है कि पुरुषों में जिंक की एक निश्चित मात्रा होती है। अगर पुरुषों में जिंक एक निश्चित मात्रा से कम है, तो उनका स्पर्म काउंट कम हो जाता है। शुक्राणु की कमी के लिए जिम्मेदार एंटीबॉडी को कम करने के लिए जिंक सल्फेट का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़े – बच्चा पैदा करने के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए)

हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली इन एंटीबॉडी का उत्पादन करती है, जो स्पर्म को विदेशी हमलावर समझकर उससे लड़ने लगती हैं।

वीर्य पतला होने का कारण शीघ्रपतन

वीर्य पतला होने का कारण शीघ्रपतन

यदि आपका वीर्य पतला है, तो शीघ्रपतन (premature ejaculation) भी इसके पीछे एक कारण हो सकता है। कभी-कभी फोरप्ले के दौरान भी वीर्य निकल जाता है। इस वीर्य में शुक्राणु भी मौजूद होते हैं। इसके कारण भी वीर्य की गुणवत्ता प्रभावित होती है। और वीर्य पतला होने लगता है।

वीर्य का रंग अलग होने का क्या मतलब है?

वीर्य का रंग अलग होने का क्या मतलब है?​

यदि आपके वीर्य का रंग पानी जैसा है, तो यह एक स्वास्थ्य समस्या का प्रारंभिक संकेत हो सकता है।

गुलाबी या भूरा लाल वीर्य होने का मतलब है कि आपका प्रोस्टेट सूज गया है या उससे खून बह रहा है। यह रंग तब भी हो सकता है जब वीर्य पुटिकाओं में सूजन या उनसे  खून बह रहा हो। वीर्य पुटिकाएं प्रोस्टेट के पीछे की दो ग्रंथियां होती हैं जो वीर्य में मौजूद अधिकांश द्रव का उत्पादन करती हैं।

पीले वीर्य का अर्थ है इसमें मौजूद मूत्र की थोड़ी मात्रा या अत्यधिक सफेद रक्त कोशिकाएं (WBC) है।

हरा वीर्य, जिसमें हल्का पीलापन भी होता है, इसका मतलब है कि आपको प्रोस्टेट संक्रमण है।

वीर्य पतला होने पर डॉक्टर से मदद लें

वीर्य पतला होने पर डॉक्टर से मदद लें​

यदि आपका वीर्य हमेशा पतला या अलग रंग का हो जाता है, तो तुरंत किसी मूत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाएँ। यदि आपको बच्चा नहीं हो रहा है, तो एक प्रजनन विशेषज्ञ से मिलें।

डॉक्टर सबसे पहले आपका वीर्य विश्लेषण परीक्षण (semen analysis test) करवाएंगे। यह परीक्षण शुक्राणु और वीर्य के स्वास्थ्य को जानने के लिए किया जाता है।

साथ ही, इस टेस्ट के साथ निम्नलिखित बातों को भी जांचा जाएगा –

  • एक स्खलन में वीर्य की मात्रा
  • द्रवीकरण समय – वीर्य के सफेद होने से पतले होने में लगने वाला समय
  • शुक्राणुओं की संख्या
  • शुक्राणु की गतिशीलता – शुक्राणु को स्थानांतरित करने की क्षमता
  • शुक्राणु आकृति विज्ञान – शुक्राणु आकार

डॉक्टर आपसे आपके मेडिकल इतिहास के बारे में भी पूछेगा और आपकी शारीरिक जाँच भी करेगा।

आपसे आपकी जीवनशैली के बारे में भी सवाल पूछे जाएंगे, जैसे कि आप धूम्रपान करते हैं या शराब का सेवन करते हैं।

यदि डॉक्टर आपके हार्मोनल संतुलन या स्वस्थ जननांगों में कुछ गड़बड़ी महसूस करता है, तो वह उनकी जांच करवाने की सलाह भी दे सकता है।

वीर्य को गाढ़ा करने के उपाय व घरेलू नुस्खे – Home remedies to thicken semen in Hindi

कई शोधों में पाया गया है कि गाढ़ा और सफेद वीर्य स्वस्थ वीर्य की निशानी है। जब वीर्य में शुक्राणुओं की कमी होती है, तो यह पतला और पानी जैसा हो सकता है।

दूसरी ओर, पुरुष भी मर्दाना ताकत के साथ सफेद और गाढ़े वीर्य को जोड़ते हैं। आज कई पुरुषों में वीर्य के पतले होने की समस्या देखी जाती है। लेकिन आप वीर्य को गाढ़ा करने के उपाय और उपचार से इस समस्या को आसानी से ठीक कर सकते हैं। वीर्य को गाढ़ा करने के उपाय और घरेलू नुस्खे नीचे विस्तार से बताए गए हैं।

व्यायाम से करें वीर्य को गाढ़ा

व्यायाम से करें वीर्य को गाढ़ा

कई अध्ययनों से पता चला है कि वजन घटाने के व्यायाम से आपके शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती है। इसके अलावा, अध्ययन से यह भी पता चला हैं कि सप्ताह में कम से कम 15 घंटे व्यायाम करने से न केवल आपकी मांसपेशियों को लाभ होता है, बल्कि वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या भी बढ़ती है।

वीर्य को गाढ़ा करने के उपाय तनाव को कम करें

वीर्य को गाढ़ा करने के उपाय तनाव को कम करें

किसी भी तरह के तनाव का शरीर के अंगों पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। तनाव से मांसपेशियों में थकान होती है, साथ ही ऊर्जा का स्तर कम होता है।

तनावग्रस्त लोग सुस्ती और थकान के कारण प्रजनन क्षमता पर भी ध्यान नहीं दे पाते हैं। इसके लिए आपको तनाव के कारणों की पहचान करनी होगी और इसे कम करना होगा।

इसके अलावा, अपने आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करें जो आपको तनाव मुक्त रखने में सहायक हों। आप योग के माध्यम से भी तनाव को कम कर सकते हैं।

(यह भी पढ़ें – तनाव आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है जानें कैसे)

विटामिन डी और कैल्शियम का सेवन

विटामिन डी और कैल्शियम का सेवन

शोध में यह बताया गया है कि विटामिन डी और कैल्शियम की मदद से वीर्य के पतलेपन की समस्या को दूर किया जा सकता है। इसी समय, इस विषय पर कई अन्य अध्ययनों ने पुष्टि की है कि आप विटामिन डी और कैल्शियम के साथ वीर्य की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं। आहार में विटामिन डी के स्रोतों का कम सेवन करने पर, आप इसमें कमी महसूस कर सकते हैं और शुक्राणुओं की संख्या भी कम हो जाती है।

वीर्य को गाढ़ा बनाने वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करें

विटामिन डी और कैल्शियम का सेवन

आप कुछ खास खाद्य पदार्थों का सेवन करके अपने वीर्य को गाढ़ा कर सकते हैं। इसमें दही, लहसुन, बादाम,अनार, किडनी बीन्स यानी राजमा, केला, नींबू, ग्रीन टी, साबुत अनाज और दालें, डार्क चॉकलेट, मिल्क प्रोडक्ट और हल्दी शामिल हैं।

(और पढ़े – वीर्य गाढ़ा करने के घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक दवा)

निष्कर्ष

ज्यादातर मामलों में, वीर्य का पतला होना अस्थायी होता है और इसका इलाज किया जा सकता है।

यदि आपके वीर्य के पतले होने का कारण शुक्राणु की कमी है और आप एक बच्चा पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, तो कई चिकित्सा उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानकारी के लिए किसी अच्छे प्रजनन विशेषज्ञ से बात करें।

अंत में, कोई भी बड़ा फैसला लेने से पहले वीर्य पतला होने के कारण को लेकर आपने अपने डॉक्टर से खुलकर बात करें और उसके द्वारा बताये गए सभी टेस्ट करवाएं।

वीर्य पतला होने के कारण और उपाय (Virya Patla Hone Ke Karan Aur Upay) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration