प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक से करें शीघ्रपतन का उपचार - Natural Ejaculation Control Technique in Hindi - Healthunbox
सेक्स एजुकेशन

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक से करें शीघ्रपतन का उपचार – Natural Ejaculation Control Technique in Hindi

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक से करें शिघ्रपतन का उपचार - Natural Ejaculation Control Technique in Hindi

Natural Ejaculation Control Technique in Hindi: मनोवैज्ञानिक और शारीरिक मुद्दों को लेकर शीघ्रपतन के विभिन्न कारण हो सकते हैं। प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक के ये अभ्यास मर्द की उत्तेजना की दर को कम कर यौन आनदं के दौरान शीघ्रपतन के इलाज में स्वाभाविक रूप से मदद कर सकते हैं। अगर आप भी वीर्य को ज्यादा देर तक रोकना चाहते हैं और चाहते हैं की लम्बे समय तक स्पर्म बाहर न आये तो इस वीर्य नियत्रण विधि का इस्तेमाल करें।

ऐसा माना जाता है कि ताओवादी एक हजार से अधिक वर्षों से प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक का तरीका अपना रहे हैं। ताओवादी तकनीकें शरीर को मजबूत बनाने में मदद करती हैं, एक खुशहाल और स्वस्थ यौन जीवन का आनंद लेने देतीं हैं।

शीघ्र स्खलन या शीघ्रपतन (Premature ejaculation or PE) वह स्थिति है जिसमें किसी पुरुष का रिलेशन बनाने के दौरान उसके साथी की तुलना में शीघ्र ही स्खलन हो जाता है या डालते ही गिर जाता है। कई बार संभोग करने से पहले ही वीर्य गिर जाता है जिससे मर्द के मन में निराशा हो जाती है।

कभी-कभी शीघ्रपतन को शीघ्र स्खलन, समय से पहले चरमोत्कर्ष या जल्दी स्खलन के रूप में भी जाना जाता है। इसे पानी जल्दी निकल जाना भी कहते हैं। अगर आप भी जल्दी डिस्चार्ज समस्या का समाधान हिंदी में पढ़ना चाहते हैं तो इस लेख को पढ़ते रहें।

आमतौर पर पीई चिंता का कारण नहीं है। लेकिन अगर यह आप दोनों के रिश्ते को कम आनंददायक बनाता है और आपके साथी के साथ आपके रिश्ते को प्रभावित करता है तो यह निराशाजनक हो सकता है।

ऐसा अक्सर मर्दों के साथ होता है और समस्याएं बढ़ जाती हैं क्योंकि स्वस्थ और सुखी जीवन के लिए आपके साथी की संतुष्टि आवश्यक है।

ताओवादी की प्राकृतिक स्खलन तकनीक में एक आदमी को संबंध बनाते समय स्खलन में देरी करने में मदद मिलती है, यह तकनीक पुरुष के इरेक्शन को देर तक बनाये रखने में मदद करती है और कामक्रिया के दौरान स्खलन के लिए आग्रह को नियंत्रित करती है।

आइये इसके बारे में बिस्तर से जानतें हैं

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक क्या है?

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक क्या है

ताओवादी स्खलन तकनीक में जिसे तकनीक संख्या 70 के रूप में संदर्भित किया जाता है 45 वर्ष से कम उम्र के पुरुषों के लिए लागू होती है। जिनमे विशिष्ट लक्षणों में पंद्रह मिनट से कम समय के भीतर ही शीघ्रपतन होना शामिल है। इस विकार के संभावित कारणों में अधिक संवेदनशीलता, यौन प्रदर्शन की चिंता, तनाव, इंटिमेसी का डर, अत्यधिक हस्तमैथुन आदि शामिल हैं।

ताओवादी की प्राकृतिक स्खलन तकनीक कैसे काम करती है?

यह तकनीक शीघ्रपतन (premature ejaculation.) को रोकने के लिए शरीर की श्वास और ध्यान ऊर्जा को जोड़ती है। यह पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका को मजबूत करने में मदद करती है जो बदले में स्खलन वाल्व को लंबे समय तक बंद रखता है।

यह शरीर को पहले से बेहतर हो रहे इरेक्शन को बनाए रखने का आश्वासन देती है। एक स्वस्थ निर्माण सुनिश्चित करने के लिए यौन मोटरिंग तंत्रिका (sexual motoring nerve) को सामान्य रूप से कार्य करना चाहिए और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को जलते रहना चाहिए। दोनों कार्यों में से किसी में भी विचलन से शीघ्रपतन या समयपूर्व स्खलन हो सकता है।

ताओवादी की प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक का अपेक्षित परिणाम

ताओवादी की प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक का अपेक्षित परिणाम

यह प्राकृतिक स्खलन तकनीक लिंग में ऊर्जा प्रवाह को बढ़ाती है। उत्पन्न होने वाली यौन ऊर्जा पूरे शरीर में फिर से घूमती है- विशेष रूप से रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क के आसपास। केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका के साथ जुड़ जाता है और अनुकरण स्खलन वाल्व को टाइट करता है।

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक को ऐसें करें स्टेप बाय स्टेप

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक को ऐसें करें स्टेप बाय स्टेप

पहला स्टेप शरीर को ढीला करना और सांस को सामान्य रखना है। आंखें हल्की बंद होनी चाहिए और जीभ तालू के खिलाफ होनी चाहिए। भौहों के बीच में मन को केंद्रित करना चाहिए।

अगला स्टेप दो से पांच सेकंड के अंतराल के बाद श्वास लेना है जब तक कि पेट पूरा भर नहीं हो जाता। मन को सीधे नाभि की ओर शरीर के केंद्र में केंद्रित किया जाना चाहिए।

अब सांस रोककर रखनी चाहिए और सांस अंदर की ओर खींचते हुए पेट को सिकोड़ना चाहिए। यह प्रोस्टेट ग्रंथि और मूत्राशय की ओर दबाव बनाने में मदद करता है।

मानसिक ध्यान प्रोस्टेट क्षेत्र के पास होना चाहिए। यह स्टेप मुख्य रूप से सांस को पकड़ने और एक ही समय में प्रोस्टेट और मूत्राशय पर दबाव लागू करने पर केंद्रित है।

यह दबाव लिंग की संवेदनशीलता को अवरुद्ध करता है जिससे एक व्यक्ति को लिंग की स्तंभन स्थिति को लंबे समय तक बनाए रखने में मदद मिलती है।

गुदा को संकुचित किया जाना चाहिए और सांस को मुंह से बाहर निकालना चाहिए। प्रोस्टेट से गर्म ऊर्जा महसूस होने तक एकाग्रता को माथे के क्षेत्र पर केंद्रित किया जाना चाहिए।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) के लक्षण

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) के लक्षण

एक तेजी से उत्तेजना, निर्माण और स्खलन प्रक्रिया।

स्खलन आमतौर पर उत्तेजना के कुछ सेकंड या मिनट के भीतर होता है।

हालांकि, हस्तमैथुन के दौरान भी सभी यौन स्थितियों में शीघ्र स्खलन की समस्या हो सकती है। कई पुरुष मानते हैं कि उनमें शीघ्रपतन के लक्षण हैं, लेकिन वे लक्षण शीघ्रपतन के लिए निर्धारित मानदंडों को पूरा नहीं करते हैं। इसके बजाय इन पुरुषों में प्राकृतिक परिवर्तन के साथ शीघ्रपतन हो सकता है, जिसमें तीव्र स्खलन के साथ-साथ सामान्य स्खलन का समय भी शामिल है।

यदि आप किसी विशेष समस्या पर चर्चा करना चाहते हैं, तो आप एक किसी अच्छे सेक्सोलॉजिस्ट से परामर्श कर सकते हैं।

प्राकृतिक स्खलन नियंत्रण तकनीक (Natural Ejaculation Control Technique in Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें-

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration