पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण - Symptoms of male arousal in Hindi - Healthunbox
सेक्स एजुकेशन

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण – Symptoms of male arousal in Hindi

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण - Symptoms of male arousal in Hindi

महिला कामोत्तेजना के शारीरिक लक्षण की तुलना में पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण (Symptoms of male arousal in Hindi) को पहचानना आसन होता है जब एक आदमी में इरेक्शन होता है, तो उसका शरीर उत्तेजना के चार स्तरों से गुजरता है: उत्तेजना (excitement), पठार (plateau), ओर्गास्म (orgasm), स्थिरता (stability)।

पुरुष की कामोत्तेजना का लक्षण उसके लिंग से स्पष्ट होता है। उसका ढीला और नीचे लटकता हुआ लिंग कामोत्तेजना के समय कठोर, सीधा खड़ा और बड़ा हो जाता है। यह थोड़ा सा फूलता भी है, जिससे इसकी मोटाई भी बढ़ती है।

श्श्निमुंड को ढंकने वाली त्वचा (लिंग का सामने का हिस्सा, जो दिखने में लाल होता है) मूत्रमार्ग से पीछे की ओर खिसकती है और संभोग और हस्तमैथुन सहित यौन उत्तेजक गतिविधियों में भाग लेते समय, वीर्य श्वेत और पानी की बूंदों जैसा तरल पदार्थ के रूप में मूत्रमार्ग से बाहर आता है।

सेक्सुअल एक्टिविटी के स्टेप क्या हैं?

यौन कामोत्तेजना चक्र के चार चरण हैं: इच्छा (कामेच्छा), उत्तेजना (कामोत्तेजना), कामोन्माद और संकल्प या स्थिरता । पुरुष और महिला दोनों ही कामोत्तेजना के इन चरणों का अनुभव करते हैं, हालांकि समय आमतौर पर अलग होता है।

उदाहरण के लिए, यह संभावना नहीं है कि दोनों पार्टनर एक ही समय में ओर्गस्म तक पहुंच जाएंगे। इसके अलावा, प्रतिक्रिया की तीव्रता और कामोत्तेजना के प्रत्येक चरण में बिताए गए समय एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होते हैं।

कई महिलाएं इस क्रम में कामोत्तेजना के यौन चरणों से नहीं गुजरेंगी। इनमें से कुछ चरण सेक्स के दौरान अनुपस्थित हो सकते हैं, या दूसरों में अनुक्रम से बाहर हो सकते हैं। इंटिमेट होने की इच्छा कुछ व्यक्तियों में सेक्सुअल एक्टिविटी के लिए प्रेरणा की तरह हो सकती है। इन अंतरों को समझने से पार्टनर्स को एक दूसरे के शरीर और प्रतिक्रियाओं को बेहतर ढंग से समझने और यौन अनुभव को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

सेक्सुअल एक्टिविटी के विभिन्न चरणों के दौरान कई शारीरिक परिवर्तन हो सकते हैं। व्यक्तियों को इन परिवर्तनों में से कुछ, सभी या कोई भी अनुभव हो सकता है।

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण का पहला चरण : कामोत्तेजना या शारीरिक उत्तेजना

कामोत्तेजना या शारीरिक उत्तेजना

शारीरिक या मनोवैज्ञानिक उत्तेजना या दोनों के कारण पुरुष को स्तंभन या इरेक्शन होता है। यह पुरुष के लिंग के तीन स्पंजी भागों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है जिसे कॉर्पोरा कहा जाता है। ये भाग पूरे लिंग की लम्बाई में मौजूद होते हैं।

लिंग की त्वचा बहुत लचीली और चलायमान होती है जो पुरुष कामोत्तेजना के समय लिंग को बढ़ने में मदद करती है। पुरुषों का स्कॉर्टम या अंडकोश- त्वचा का वह बैग होता है जिसमें टेस्टिकल्स या वीर्यकोष होते हैं, पुरुष कामोत्तेजना के समय यह कठोर हो जाता है, जिससे वीर्यकोष या टेस्टिकल्स शरीर की ओर ऊपर की ओर खिंच जाता है। इस समय लिंग खड़ा होना शुरू कर देता है।

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण का दूसरा चरण : कामुक तीव्रता

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण का दूसरा चरण कामुक तीव्रता

लिंग की नोक (ग्लेन्स) का विस्तार होने लगता है और पेनिस के आसपास की रक्त कोशिकाओं में और उसके आसपास रक्त भरना शुरू हो जाता है। जिसके कारण इसका रंग गहरा होने लगता है और वीर्यकोष या टेस्टिकल्स 50 प्रतिशत तक बढ़ जाते हैं।

वीर्यकोष या टेस्टिकल्स लगातार बढ़ते हैं और टेस्टिकल्स और गुदा द्वार के बीच गर्मी बढ़ने लगती है।

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण (Symptoms of male arousal in Hindi) के दौरान दिल की धड़कन बढ़ जाती है, सांसे तेजी से चलने लगतीं हैं, रक्तचाप बढ़ जाता है। सांस की गति बढ़ जाती है और उसकी जांघों और गुदा में कसाव महसूस होने लगता है।

इस समय पुरुष अपनी कामोत्तेजना के चरम पर होता है और उसका लिंग सबसे अधिक टाइट होता है और छूने पर पत्थर जैसा सख्त खड़ा और टाइट लग सकता है इसके बाद वह रतिक्षण और स्खलन की ओर बढ़ने लगता है।

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण का तीसरा चरण : रतिक्षण और स्खलन

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण का तीसरा चरण : रतिक्षण और स्खलन

लगातार संकुचन होने से वीर्य मूत्र मार्ग से बाहर निकालने के लिए दबाव बनाता है। लिंग के इस मार्ग से मूत्र और वीर्य दोनों बाहर निकलते हैं।

ये पेल्विक फ़्लोर की मांसपेशियों से शुक्र वाहिका में होते हैं, जो वीर्य को टेस्टिकल्स या वीर्यकोष से लिंग तक ले जाते हैं।

वे पुरुष ग्रंथि में और वीर्य पुटिका / सेमिनल वेसीकल में भी होते हैं, जिससे दोनों शुक्राणु में तरल पदार्थ मिलाते हैं। शुक्राणु (5%) और द्रव (95%) के इस मिश्रण को वीर्य कहा जाता है।

ये संकुचन भी रतिक्षण और स्खलन का भी हिस्सा हैं। यह आदमी को ऐसी हालत में ले जाता हैं कि वह चाहकर भी स्खलन को रोक नहीं सकता है।

पहले पौरुष ग्रन्थि फिर श्रोणि तल की मांसपेशी में संकुचन के कारण स्खलन हो जाता है। जिसके कारण वीर्य लिंग से वेग के साथ बाहर आता है।

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण का चौथा चरण : सेक्स के बाद स्थिरता

Symptoms of male arousal in Hindi सेक्स के बाद स्थिरता

अब पुरुष वापस सामान्य होने लगते हैं जब लिंग और वीर्य कोष अपने सामान्य आकार में वापस सिकुड़ने लगते हैं। एक लड़के की सांस अभी भी तेज होती हैं, उसका दिल अभी भी तेजी से धड़क रहा होता है और उसे पसीना भी आ सकता है।

यह पुरुष कामोत्तेजना का स्खलन के बाद का चरण है जिसमें ओर्गंस्म फिर से संभव नहीं है। यह कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों या कुछ दिनों के बीच एक पुरुष से दूसरे पुरुष में भिन्न-भिन्न हो सकता है। आम तौर पर, यह समय मनुष्य की उम्र के साथ बढ़ता जाता है।

यदि कोई पुरुष उत्तेजित है, लेकिन स्खलन नहीं करता है, तो आदमी का संकुचन लंबे समय तक हो सकता है। इससे उसके टेस्टिकल्स या वीर्यकोष और श्रोणि में दर्द हो सकता है।

लिंग स्वास्थ्य के बारे में अधिक जानें, लिंग को कैसे धोया जाना चाहिए, और लिंग का सामान्य आकार क्या होता है

यदि आपको लिंग के तनाव में आने या तनाव (इरेक्शन) को बनाए रखने में कोई समस्या है, तो किसी सेक्स विशेषज्ञ से संपर्क करें।

पुरुष यौन समस्याओं के बारे में अधिक जानें।

अब तो आप समझ गए होगें की पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण क्या होते हैं पुरुषों में कामोत्तेजना के लक्षण शारीरिक होते है जिसके कारण उनका लिंग सख्त हो जाता है और फिर वह सेक्स करने के लिए तैयार हो जाते हैं। सेक्स की चाह में लड़को में इस तरह के परिवर्तन आते है।

निष्कर्ष

पुरुष की कामोत्‍तेजना के लक्षण सुबह के समय अधिक देखने को मिलते हैं इसलिए लगभग हर पुरुष और लड़के का लिंग सुबह के समय खड़ा और टाइट रहता है। और स्वप्नदोष भी इसी समय अधिक होता है पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण हस्तमैथुन (Masturbation) करने के दौरान भी सामान ही होते हैं।

पुरुष कामोत्तेजना के लक्षण (Symptoms of male arousal in Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration