हस्तमैथुन के बारे में पूरी जानकारी – All information about masturbation in Hindi




हस्तमैथुन के बारे में पूरी जानकारी – All information about masturbation in Hindi
Written by Daivansh

हस्‍तमैथुन जिसे अंग्रेजी में मास्टरबेशन (Masturbation) कहते हैं यौन इच्‍छाओं को शांत करने का एक प्राकृतिक तरीका है। जिसे यौन सन्तुष्टि के लिए लड़का हो या लड़की, पुरुष हो या स्त्री, कभी न कभी सभी करते है। ऐसा पुरुष या महिलाएं दोनों ही यौन सुख प्राप्त करने के लिए करते हैं। इसे केवल जवान लड़के और लड़कियां ही नहीं बल्कि बूढ़े-बूढ़े लोग भी अपना लिंग खड़ा करने हेतु करते हैं। जिससे उन्हें यह अहसास होता है कि वे अभी भी यौन संबंध बनाने में सक्षम हैं। लेकिन यदि आप इसमें नए हैं तो आपको हस्‍तमैथुन के बारे में पूरी जानकारी होना भी आवश्‍यक है।

हस्‍तमैथुन करना यौन उत्‍तेजना या अन्‍य यौन सुख के लिए अपने जननांगों की यौन उत्‍तेजना है जो सामान्‍य रूप से कामोन्‍माद को दर्शाती है। यौन उत्‍तेजना बढ़ाने के लिए हाथ, उंगलियां, रोजमर्रा की वस्‍तुएं, सेक्‍स टॉय आदि का उपयोग किया जाता है। हस्‍तमैथुन मानव जीवन और यौन क्रिया का एक अभिन्‍न अंग है। लेकिन लोगों को हस्‍तमैथुन के बारे में पूरी जानकारी नहीं होती है। आज इस लेख में आप लड़के और लड़कियां हस्‍तमैथुन कैसे करती हैं की पूरी जानकारी प्राप्‍त करेगें।

  1. हस्‍तमैथुन क्‍या है – Masturbation in Hindi
  2. हस्‍तमैथुन क्‍यों किया जाता है – Hastmaithun kyu kiya jata hai in Hindi
  3. लड़के हस्थमैथुन कैसे करते हैं – How boy masturbate penis in Hindi
  4. लड़कियाँ हस्थमैथुन कैसे करती हैं – How girl masturbate organ in Hindi
  5. परस्पर हस्तमैथुन किसे और कैसे करते हैं – Mutual Masturbation in Hindi
  6. हस्तमैथुन पर शोध – Research on masturbation in hindi
  7. हस्तमैथुन की आवृत्ति, उम्र और सेक्स – masturbation Frequency, age, and sex in hindi

हस्‍तमैथुन क्‍या है – Masturbation in Hindi

हस्‍तमैथुन क्‍या है - Masturbation in Hindi

हस्‍तमैथुन में किसी व्‍यक्ति के जननांग या गुप्‍तांग क्षेत्र को छूना, दबाना, रगड़ना या मालिश करना शामिल है। इसके लिए या तो उंगलियां या हाथ के साथ कोई वस्‍तु जैसे तकिया आदि को रगड़ना, या योनि में उंग‍ली या अन्‍य इसी प्रकार की वस्‍तुओं को डालना, सेक्‍स टॉय जैसे वाइब्रेटर आदि का उपयोग करना शामिल है। इसके अलावा हस्‍तमैथुन के दौरान निपल्‍स या अन्‍य उत्‍तेजक अंगों को छूना, रगड़ना और चुटकी लेना भी यौन आनंद को बढ़ाता है। हस्‍तमैथुन करने के दौरान कई बार लोग घर्षण कम करने के लिए स्‍नेहक का भी उपयोग करते हैं।

(और पढ़े – हस्तमैथुन के फायदे और नुकसान जो आपको जानना है जरूरी…)

हस्‍तमैथुन क्‍यों किया जाता है – Hastmaithun kyu kiya jata hai in Hindi

हस्‍तमैथुन क्‍यों किया जाता है – Hastmaithun kyu kiya jata hai in Hindi

यौन सुख प्राप्‍त करने की एक शारीरिक क्रिया जिसमें केवल स्‍वयं की आवश्‍यकता होती है उसे हस्‍तमैथुन कहा जाता है। यह एक मनोवैज्ञान से संबंधित क्रिया है जिसमें यौन संबंधी मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार की संतुष्टि प्राप्‍त होती है। अपने यौनांगों को स्‍वयं ही संतुष्‍ट करना किसी भी महिला या पुरुष के लिए उस समय आवश्‍यक हो जाता है जब वे अपने यौन सहकर्मी के पास नहीं होते हैं। सामान्‍य रूप से हस्‍तमैथुन अकेले ही यौन सुख प्राप्‍त करने का तरीका है लेकिन कई मामलों में दो पुरुष या दो महिलाएं भी एक दूसरे को हस्‍तमैथुन कर यौन संतुष्टि प्रदान करते हैं। लेकिन अक्‍सर लोग हस्‍तमैथुन को गलत मानते हैं। साथ ही लोग इस विषय पर बात करने में असुविधा महसूस करते हैं। अब तो विज्ञान द्वारा भी यह सिद्ध किया जा चुका है कि यदि इसे सही तरीके से और सही मात्रा में किया जाये तो इससे कोई हानि नहीं होती। पुरुषों की तरह महिलाएँ भी अपने यौनांगों को स्वयं उत्तेजित करने के तरीके खोज ही लेती हैं जो उन्हें बेहद संवेदनशील अनुभव और प्रबल उत्तेजना प्रदान करते हैं। औसत तौर पर पुरुष 12-13 वर्ष की उम्र में ही हस्तमैथुन करना शुरू कर देते हैं जबकि महिलाएँ योवन (13 से 19 वर्ष) के अन्तिम दौर में हस्तमैथुन का आनन्द लेना शुरू करती हैं, आइए जाने लड़के और लड़कियां कैसे हस्‍तमैथुन करते हैं।

(और पढ़े – हस्तमैथुन करना सही या गलत जानें पूरा सच…)

लड़के हस्थमैथुन कैसे करते हैं – How boy masturbate penis in Hindi

लड़के हस्थमैथुन कैसे करते हैं - How boy masturbate penis in Hindi

जब लड़कों के पास यौन संबंध बनाने के लिए महिला साथी उपलब्‍ध नहीं होती है तब यौन सुख प्राप्‍त करने के लिए हस्‍तमैथुन किया जाता है। हस्‍तमैथुन के लिए सामान्‍य मुद्राओं में पीठ के बल लेटना, सीधे खड़े होना, बैठना, घुटने टेककर बैठना आदि का उपयोग किया जाता है। लड़कों के लिए हस्‍तमैथुन करने की सबसे आम तकनीक लिंग को ढीली मुट्ठी से पकड़ना और फिर हाथ को आगे-पीछे करना है। इस प्रक्रिया के दौरान आने वाली उत्‍तेजना स्‍खलन प्राप्‍त करने के लिए आवश्‍यक होती है। इसके अलावा भी पुरुषों के लिए हस्‍तमैथुन करने के अन्‍य तरीके होते हैं। जैसे कुछ पुरुष अपने लिंग के नीचे तकिया को रखकर लिंग को इसमें रगड़ते हैं। यह ठीक उसी तरह होता है जैसे कोई पुरुष अपने लिंग को महिला योनि में प्रवेश कराता है और धक्‍के लगाता है। लेकिन आजकल ऐसे कई यौन खिलौने (नकली महिला जननांग) बाजार में उपलब्‍ध हैं  जो सॉफ्ट फाइवर के बने होते हैं और महिला योनि की कमी को दूर कर सकते हैं।

(और पढ़े – लड़के हस्तमैथुन कैसे करते हैं जानें मास्टरबेशन का सही तरीका…)

लड़कियाँ हस्थमैथुन कैसे करती हैं – How girl masturbate organ in Hindi

लड़कियाँ हस्थमैथुन कैसे करती हैं - How girl masturbate organ in Hindi

पुरुषों की तरह ही महिलाएं भी हस्‍तमैथुन कर यौन संतुष्टि प्राप्‍त करती हैं। लड़कियां अपनी योनि को हिलाना, रगड़ना या लिंग की तरह अन्‍य वस्‍तु को योनि में प्रवेश कराकर हस्‍तमैथुन करती हैं। सामान्‍य रूप से महिलाएं हस्‍तमैथुन करने के लिए अपने हाथ की सबसे लंबी उंगली या तर्जनी का उपयोग करती हैं। कुछ महिलाएं अपनी योनि में एक बार में दो या इससे अधिक उंगलियां डालकर योनि को सहलाती हैं जिससे उन्‍हें यौन उत्‍तेजना और चरम सुख प्राप्‍त होता है। उंग‍ली करने के अलावा महिलाएं इलेक्‍ट्रानिक उपकरण जैसे वाइब्रेटर या डिल्‍डो आदि का भी उपयोग करती अपने जी स्‍पॉट पर करती हैं। हस्‍तमैथुन के दौरान कुछ महिलाएं अपनी उंगली डालकर गुदा को भी उत्‍तेजित करती हैं।

कुछ महिलाएं केवल यौन कल्‍पनाएं करते हुए भी चरम सुख प्राप्‍त कर लेती हैं। इसके अलावा लड़कियां अपने पैरों को कसकर बंद करने, बिस्‍तर पर सीधे लेटने और योनि पर दबाव देने, कुर्सी पर बैठकर या उखडूँ बैठकर योनि को दबाने जैसी क्रियाओं से भी चरमोत्कर्ष प्राप्‍त कर लेती हैं। लेकिन अधिकांश भारतीय महिलाएं हस्‍तमैथुन के लिए लंबे आकार की सब्जियां जैसे मूली, गाजर, बैंगन, लौंकी, ककड़ी आदि का उपयोग करती हैं।

स्कूल में पढ़ने वाली कुछ किशोर बालिकायें अपनी योनि में मोटा वाला पेन, मोमबत्ती या मोटी पेन्सिल डालकर हिलाती हैं। महिला हस्‍तमैथुन की इस क्रिया से भी उन्हें चरमोत्कर्ष की प्राप्ति हो जाती है। यह भी देखा गया है कि कुछ महिलायें कुर्सी या पलंग के किनारे से अपने जननांग को रगड़ कर ही यौन-सुख प्राप्‍त कर लेती हैं।

(और पढ़े – महिलाएं कैसे करती है हस्तमैथुन जाने सोलो प्ले के लिए टिप्स और ट्रिक्स…)

परस्पर हस्तमैथुन किसे और कैसे करते हैं – Mutual Masturbation in Hindi

परस्पर हस्तमैथुन किसे और कैसे करते हैं - Mutual Masturbation in Hindi

जब दो या दो से अधिक लोग जो आतमौर पर हाथों से एक दूसरे के जननांगों को उत्‍तेजित करते हैं उसे परस्‍पर हस्‍तमैथुन कहते हैं। यह महिला और पुरुष या केवल एक वर्ग के लोगों द्वारा किया जा सकता है जो अन्‍य यौन गतिविधियों का हिस्‍सा हो सकता है। इसका उपयोग फोरप्‍ले के रूप में, या यौन प्रवेश के रूप में किया जाता है। लेकिन जब महिला और पुरुष के बीच यौन संबंधों की बात आती है तब गर्भावस्‍था से बचने के लिए परस्‍पर हस्‍तमैथुन विधि का उपयोग किया जाता है।

परस्पर हस्‍तमैथुन का जोड़ों के रूप में, ग्रुप में या एक दूसरे को छूने के बिना किया जा सकता है। जैसे कि :

गैर-संपर्क आपसी हस्‍तमैथुन – ऐसी स्थिति में दो लोग एक दूसरे की मौजूदगी में हस्‍तमैथुन करते हैं। लेकिन इस दौरान वे एक दूसरे को स्‍पर्श नहीं करते हैं।

आपसी हस्‍तमैथुन – इस प्रकार के हस्‍तमैथुन के लिए एक व्‍यक्ति दूसरे व्‍यक्ति को छूता है और यौन उत्तेजना बढ़ाने के लिए सहलाता है। ठीक इसी तरह दूसरा व्‍यक्ति भी पहले व्‍यक्ति के साथ इसी प्रकार की क्रिया को दोहराता है।

गैर-संपर्क समूह हस्‍तमैथुन – इस स्थिति में हस्‍तमैथुन करने वाले लोगों की संख्‍या 2 से अधिक होती है। लेकिन इस दौरान कोई भी प्रतिभागी किसी अन्‍य व्‍यक्ति को स्‍पर्श किये बिना दूर से ही उनके शारीरिक अंगों को देखता है और हस्‍तमैथुन करता है।

संपर्क समूह हस्‍तमैथुन – इस प्रकार के हस्‍तमैथुन किया में 2 से अधिक लोगों का समूह होता है। जो एक दूसरे के जननांगों को छूने, रगड़ने या दबाने का काम करते हैं जिससे उन्‍हें और उनके अन्‍य साथियों को यौन सुख की अनुभूति होती है।

पारस्‍परिक हस्‍तमैथुन फोरप्‍ले इस प्रकार का हस्‍तमैथुन यौन क्रिया को शुरु करने के पहले किया जाता है। जिससे यौन उत्‍तेजना को बढ़ाया जाता है जो संभोग की स्थिति और यौन सुख की ओर ले जाता है।

म्युचुअल हस्तमैथुन सभी यौन झुकाव के लोगों द्वारा किया जाने वाला एक अभ्यास है जो पुरुष-लिंग को स्त्री-योनि में प्रवेश किये बिना एक विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। लड़कियों में उनके कौमार्य को सुरक्षित रखने के लिये या गर्भावस्था को रोकने के लिये भी यह सहायक हो सकता है। कुछ लोग इसे आकस्मिक सेक्स करने के लिये भी एक विकल्प के रूप में करते हैं, क्योंकि यह वास्तविक सेक्स के बिना ही यौन-सन्तुष्टि देता है।

(और पढ़े – महिलाओं और पुरुषों को उत्तेजित करने वाले वासना उत्तेजक अंग…)

हस्तमैथुन पर शोध – Research on masturbation in hindi

हस्तमैथुन पर शोध - Research on masturbation in hindi

हस्तमैथुन करने की आवृत्ति कई कारकों, जैसे यौन तनाव, हार्मोनल यौन आदतों, सहकर्मी को प्रभावित करने की मनोवृत्ति, उत्तम स्वास्थ्य और पारस्परिक यौन-क्रिया संस्कृति के अनुसार हर किसी में कम या ज्यादा हो सकती है। मसलन कोई लड़का या लड़की एक दिन में एक बार हस्तमैथुन करता है, कोई दो बार हस्तमैथुन करता है। इसे ठीक उसी तरह समझा जा सकता है जैसे कि भोजन कोई एक बार करता है तो कोई दो बार।

हस्तमैथुन करने का सीधा सम्बन्ध व्यक्ति की शारीरिक व मानसिक स्थिति पर निर्भर करता है। विभिन्न अध्ययनों से यह निष्कर्ष निकाला गया है कि हस्तमैथुन मनुष्यों में अक्सर होता ही है। अमेरिका की आबादी पर अल्फ्रेड किन्से द्वारा 1950 के अध्ययनों से पता चला है कि पुरुषों की 92% और महिलाओं की 62% संख्या ने उनके जीवन के दौरान हस्तमैथुन किया था। इसी तरह के परिणाम 2007 में किये गये ब्रिटिश राष्ट्रीय सम्भाव्यता सर्वेक्षण में भी पाये गये। उसके अनुसार 16 से 44 वर्ष की आयु वर्ग के व्यक्तियों में पुरुषों की संख्या में 95% और महिलाओं की संख्या में 71% के बीच हुए एक सर्वेक्षण में पुरुषों की 73% और महिलाओं की 37% आबादी ने अपने साक्षात्कार के दौरान हर चार हफ्तों में एक बार हस्तमैथुन किये जाने की सूचना दी, जबकि एक अन्य सर्वेक्षण में पुरुषों की 53% और महिलाओं की 18% संख्या ने हर सात दिनों में एक बार हस्तमैथुन करने की सूचना दी।

(और पढ़े – हस्तमैथुन कितनी बार करना चाहिए?)

हस्तमैथुन की आवृत्ति, उम्र और सेक्स – masturbation Frequency, age, and sex in hindi

मर्क मैनुअल का कहना है कि 97% पुरुषों और 80% महिलाओं ने हस्तमैथुन किया है और आम तौर पर महिलाओं के मुकाबले पुरुष अधिक हस्तमैथुन करते हैं।

बच्चों द्वारा हस्तमैथुन किए जाने को सामान्य माना जाता है, प्रारंभिक अवस्था में भी।  2009 में, शेफ़ील्ड एनएचएस हेल्थ ट्रस्ट ने “खुशी” नामक एक पैम्फलेट जारी किया जिसमें हस्तमैथुन के स्वास्थ्य लाभों पर चर्चा की गई।

2009 में, ब्रिटेन सरकार द्वारा किशोरावस्था में कम से कम दिन में एक बार हस्तमैथुन करने के लिए प्रोत्साहित करने की रेस में नीदरलैंड और अन्य यूरोपीय देश भी शामिल हो गये। प्रतिदिन एक “खुशी” “खुशी” (Pleasure) उनकी स्वास्थ्य निर्देश पुस्तिका में एक अधिकार के रूप में परिभाषित किया गया था। यह अन्य यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से डाटा और अनुभव के जवाब में किशोरों में अवांछित गर्भावस्था को रोकने, यौन रोगों (एसटीडी) को कम करने और स्वस्थ आदतों को विकसित करने में सहायक और स्वस्थ आदतों को बढ़ावा देने के लिए किया गया था।

लोकप्रिय धारणा यह दावा करती है कि यौन संबंधों में नहीं रहने वाले व्यक्तियों में से कोई भी व्यक्ति यौन संबंध रखने वालों की तुलना में अधिक बार हस्तमैथुन करता है; हालाँकि, ज्यादातर समय यह हस्तमैथुन के रूप में सही नहीं होता है या एक साथी के साथ अक्सर एक रिश्ते की विशेषता होती है। इस धारणा के विपरीत, कई अध्ययन वास्तव में हस्तमैथुन की आवृत्ति और संभोग की आवृत्ति के बीच एक सकारात्मक संबंध को प्रकट करते हैं। एक अध्ययन ने समलैंगिक पुरुषों और महिलाओं में हस्तमैथुन की उच्च दर की सूचना दी है जो रिलेशनशिप में थे।

लगभग 70 प्रतिशत विवाहित महिलाएं और पुरुष कभी-कभी हस्तमैथुन करते हैं।

(और पढ़े   हस्तमैथुन या सेक्स में से कौन बेहतर है…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration