पेनिस हेड में इन्फेक्शन (बैलेनाइटिस) के कारण, लक्षण और इलाज – Balanitis Cause, Symptoms, Treatment in Hindi




पेनिस हेड में इन्फेक्शन (बैलेनाइटिस) के कारण, लक्षण और इलाज – Balanitis Cause, Symptoms, Treatment in Hindi
Written by Daivansh

Balanitis in hindi पेनिस हेड में इन्फेक्शन (बैलेनाइटिस) किसी संक्रमण या अन्य कारण से लिंग के सिर पर आई सूजन को कहते हैं। बैलेंटिस असुखद और कभी-कभी पीड़ादायक हो सकता है। लेकिन यह आमतौर पर गंभीर नहीं होता है। इसे सामयिक दवा (लोशन या क्रीम) (topical medication) से दूर किया जा सकता है।

लिंग में सूजन एक आम स्थिति है, जो हर 25 लड़कों मे से लगभग 1 को होती है जो उनके जीवन के कुछ समय को प्रभावित करती है। यह समस्‍या 4 साल के कम उम्र के लड़कों में ज्‍यादा देखी जाती है, लेकिन यह किसी भी उम्र में हो सकती है। एक ऐसी स्थिति जहां लिंग की फोरस्किन बहुत टाइट है वहां फिमोसिस (phomisis) होने की अधिक संभावना होती है। जब लड़के 5 साल की उम्र तक पहुंचते हैं तो फोरस्किन वापस लेने में आसान हो जाता है, और बैलेनाइटिस का खतरा कम हो जाता है। महिलाओं को भी बैलेनाइटिस हो सकता है। हांलाकि इस लेख में आप पुरुषों के लिंग पर होने वाली समस्‍याओं के बारे में जानेगें।

1. बैलेनाइटिस के लक्षण – Symptoms of balanitis in Hindi
2. बैलेनाइटिस विकसित होने के क्‍या कारण है – Causes of balanitis in Hindi
3. बैलेनाइटिस के प्रकार – Types of balanitis in Hindi
4. बैलेनाइटिस का निदान – Diagnosing balanitis in Hindi
5. बैलेनाइटिस की जटिलताएं – Complications in Hindi
6. बैलेनाइटिस का इलाज –  Treatment of balanitis in Hindi

7. आयुर्वेद ट्रीटमेंट बैलेनाइटिस का – Blanitis treatment in ayurveda in Hindi
8. बैलेनाइटिस को कैसे रोकें – How to prevent balanitis

बैलेनाइटिस के लक्षण – Symptoms of balanitis in Hindi

लिंग के सिर की सूजन और लाल होना बैलेंटिस का संकेत दे सकती है। इसके अन्‍य लक्षण भी हो सकते हैं जैसे कि :

  • लिंग की चमड़ी का कडा होना (tightened foreskin)
  • रिसाव (discharge)
  • जननांगों की खुजली (itchy genitals)
  • जननांग क्षेत्र में दर्द
  • लिंग की त्‍वचा में दर्द
  • फोरस्किन के नीचे एक मोटी, गंदे निर्वहन का होना
  • एक अप्रिय गंध
  • मूत्र त्‍याग करने में दर्द
  • यौन संभोग के 2 से 3 दिनों के बाद फोरस्किन के नीचे सूजन, जलन और निर्वहन हो सकता है।

आपके लिंग के सिर की सूजन आपके मूत्रमार्ग (urethra) पर दबाव डाल सकती है इससे पेशाब करते समय दर्द हो सकता है। बैलेनाइटिस के कुछ लक्षण एसटीआई के समान होते हैं।

बैलेनाइटिस विकसित होने के क्‍या कारण है – Causes of balanitis in Hindi

आमतौर पर संक्रमण या पुरानी त्‍वचा की स्थिति के कारण बैलेनाइटिस सूजन आती है। यह आपके लिंग की त्‍वचा में अस्‍वछता और जलन का कारण होता है। अपर्याप्‍त सफाई और बहुत अधिक सफाई दोनों इस समस्‍या का कारण हो सकते हैं। ऐसी स्थिति अक्‍सर बैक्‍टीरिया या खमीर के बढ़ जाने के कारण होती है। इन जीवों के बढ़ने के लिए लिंग के सिर के आसपास की चमड़ी अच्‍छा स्‍थान होती है क्‍योंकि इसके आसपास नमी बनी रहती है। आइए जाने बैलेनाइटिस होने के कारण क्या है-

  • लिंग या फोरस्किन की नोक पर चोट लगने से सूजन और दर्द हो सकता है।
  • इस क्षेत्र के आसपास जलन बैलेनाइटिस का कारण बन सकती है।
  • स्‍नान करने के बाद अपने लिंग से साबुन को अच्‍छी तरह साफ न करना।
  • अपने लिंग को साफ रखने के लिए सुगंधित साबुन का उपयोग करना।
  • अपने लिंग पर सुगंधित लोशन या स्‍प्रे का उपयोग करना।
  • रासायनिक कंडोम का उपयोग (और पढ़े – कहीं आप भी तो नहीं करते सेक्स के दौरान दो कंडोम का उपयोग)

कुछ औषधि जैसे नींद की गोलियां, दर्दनाशक और एंटीबायोटिक्‍स के दुष्‍प्रभावों के कारण बैलेनाइटिसस उत्पन्न हो सकता है। बैलेनाइटिस के अन्य कारणों में शामिल है :

(और पढ़े – यौन संचारित रोग एसटीडी को रोकने के तरीके)

बैलेनाइटिस के प्रकार – Types of balanitis in Hindi

बैलेनाइटिस तीन प्रकार के होते है।

  • जूँ बैलेनाइटिस (Zoon’s balanitis) : लिंग के सिर पर सूजन आमतौर पर वृद्ध और मध्यम उम्र वाले पुरुष वर्ग को प्रभावित करता है जिनका खतना नहीं हुआ है।
  • कुंडलित बैलेनाइटिस (Circinate balanitis) : आमतौर पर यह प्रति क्रियाशील गठिया के परिणामस्वरूप होता है।
  • स्‍यूटोपेथेलियोमैटस केराटोटिक और माइकियस बैलेनाइटिस (Pseudoepithelionatous keratotic and micaceous balanitis) : ऐसी स्थिति में लिंग के सिर पर परतदार (scaly), मस्‍सा (wart) जैसे त्वचा घाव होते हैं।

बैलेनाइटिस का निदान – Diagnosing balanitis in Hindi

लिंग की सुजन का आमतौर पर शारीरिक परीक्षणों (physical examination) दौरान निदान किया जा सकता है क्‍योंकि इसके अधिकांश लक्षण दिखाई देते हैं। यदि आपके लिंग से स्राव (discharge) हो रहा है तो आपके डॉक्‍टर रुई की पट्टी से इसका सैम्‍पल ले सकता है। वे बैक्‍टीरिया या फंगल कोरिशकाओं की उपस्थिति के लिए इसकी जांच करेंगे। यह बैलेंटिस के कारण को निर्धारित करने में मदद करता है।

डाक्‍टर रोगी को संभावित कारणों और उनसे बचने और अच्‍छी स्‍वच्‍छता के बारे में सलाह दे सकते हैं। डॉक्‍टर किसी भी लेटेक्‍स कंडोम उपयोग और यौन गतिविधि के बारे में रोगी से पूछेगा। अगर बैलेंटिस की सूजन संभावित कारणों से बचने के बाद भी दूर नहीं होती है तो उपचार के लिए डॉक्‍टर कुछ परीक्षणों को कह सकता है। संभावित परिक्षण है :

  • प्रयोगशाला में संक्रमण (infection) के जांच के लिए लिंग से स्रावित पदार्थ का सैम्‍पल ले सकता है।
  • एक मूत्र परिक्षण, अगर मधुमेह पर संदेह है तो ग्‍लूकोज के स्‍तर को निर्धारित करने के लिए एक रक्‍त परिक्षण
  • शायद कभी ही बायोप्‍सी (biopsy) किया जा सकता है, जिसमें सूजन की त्‍वचा का नमूना लिया जाता है और परीक्षण के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है।

बैलेनाइटिस की जटिलताएं – Complications in Hindi

बैलेनाइटिस की जटिलताएं – Complications in Hindi

बैलेनाइटिस का इलाज करना आसान है, लेकिन कुछ मामलों में जटिलताएं हो सकती हैं। इनमें शामिल हैं :

  • लिंग खोलने में दर्द
  • पेनिस की चमड़ी को पीछे करने में दर्द होना
  • लिंग के लिए अपर्याप्‍त रक्‍त आपूर्ति

एलर्जी डार्माटाइटिस (Allergic dermatitis) बैलेंटिस का कारण हो सकता है जिसमें अत्‍यधिक खुजली, पित्‍ताशय, और त्‍वचा की सूजन शामिल होती है।

बैलेनाइटिस का इलाज –  Treatment of balanitis in Hindi

बैलेनाइटिस का इलाज -  Treatment of balanitis in Hindi

बैलेंटिस (balanitis) के लिए उपचार उसके होने वाले कारणों पर निर्भर करता है। ज्यादातर मामलों में डॉक्‍टर सलाह देता है कि कौन से पदार्थों का उपयोग करना चाहिए और किन पदार्थों का उपयोग नहीं करना चाहिए। और वे रोगी को स्वच्छता की जानकारी भी देते हैं। बैलेनाइटिस के इलाज के लिए सभी सुगंधित साबुन, लोशन या पाउडर के उपयोग बंद करें, क्योंकि वे प्राय: फोरस्किन की जलन का कारण होते हैं। लिंग को साफ करने के लिए केवल गर्म पानी का उपयोग करें।

(और पढ़े – पेनिस (लिंग) पर स्कैबीज होने का कारण लक्षण और इलाज)

बैलेनाइटिस क्रीम – Balanitis cream in Hindi

एंटीफंगल क्रीम कैंडिडा का उपयोग बैलेनाइटिस के उपचार के लिए किया जा सकता है। सूजन अगर एलर्जी प्रतिक्रिया के कारण हो तो, सूजन के लिए डॉक्‍टर एक हल्‍के स्‍टेरॉयड क्रीम (steroid cream), जैसे एक प्रतिशत हाइड्रोकार्टिसोन (hydrocortisone) लिख सकता है।

एक एंटीफंगल या एंटीबायोटिक दवा भी निर्धारित की जा सकती है। ये दवा दुकान या ऑनलाइन कही से भी खरीदी जा सकती हैं। यदि कोई संक्रमण हो तो रोगी को स्‍टेरॉयड क्रीम का उपयोग बिना डॉक्‍टर की सलाह के नहीं करना चाहिए।

इलाज के दौरान सभी साबुनों और अन्‍य संभावित कारणों से बचना चाहिए जब तक की आपको इससे पूरी तरह आराम न मिल जाए।

पेनिस इन्फेक्शन क्रीम कैंडिडा के लिए – Penis Infection cream for Candida in Hindi

कैंडिड एक खमीर संक्रमण (yeast infection) है। डॉक्‍टर एक एंटीफंगल क्रीम जैसे क्‍लोट्रिमाजोल या माइक्रोनोजोल लिखेंगे। रोगी के यौन साथी का भी इलाज किया जाना चाहिए। उपचार के दौरान या तो सेक्‍स से दूर रहना चाहिए या कंडोम का उपयोग करना चाहिए।

(और पढ़े – क्या आप जानते है कंडोम का सही इस्तेमाल? अगर नहीं तो ये खबर आपके लिए है!)

बैलेनाइटिस दवा – Balanitis medication in Hindi

यदि जीवाणु संक्रमण होता है, तो डॉक्‍टर एंटीबायोटिक, जैसे एरिथ्रोमाइसिन या पेनिसिलिन लिखेंगे।

यदि कोई संक्रमण नहीं है और कोई अन्‍य कारण समझ न आये तो रोगी को त्‍वचा विशेषज्ञ (dermatologist) के पास जाना चाहिए, जो त्‍वचा की स्थितियों या एक जीनिटोरिनरी क्लिनिक में माहिर हैं।

बैलेनाइटिस पुनरागमन – Recurrence Balanitis in Hindi

अगर मरीज के पास एक टाइट फोरस्किन होता है और बैलेंटिस बार-बार वापस आ जाता है, तो डॉक्‍टर खतना (circumcision) का सुझाव दे सकता है। विकल्प के तौर पर लिंग से शीर्ष पर से चमड़ी का एक तुकड़ा काटा जा सकता है।

आयुर्वेद ट्रीटमेंट बैलेनाइटिस का – Blanitis treatment in ayurveda in Hindi

आयुर्वेद ट्रीटमेंट बैलेनाइटिस का – Blanitis treatment in ayurveda in Hindi

अच्छी स्वच्छता के अलावा, बैलेंटिस के लिए कोई वास्‍तविक घरेलू उपचार नहीं है। हर दिन नहाएं खासकर जब आप यौन संभोग में पसीन से भीग जाते हैं।

  • लिंग को प्रतिदिन साफ करें।
  • लिंग पर ज्‍यादा साबुन का उपयोग न करें।
  • मूत्र त्‍यागने के बाद फोरस्किन के नीचे कपडें से सुखाएं।
  • अपने लिंग पर सुगंधित उत्‍पादों का परहेज करें।
  • स्‍नान के बाद अपने लिंग को पूरी तरह से सुखा लें।

(और पढ़े – प्राइवेट पार्ट की सफाई कैसे करें)

बैलेनाइटिस को कैसे रोकें – How to prevent balanitis

बैलेंटिस को रोकना बड़ा ही आसन है उचित स्वच्छता रखकर इसे रोका जा सकता है। हर दिन नहाते समय अपने लिंग की फोरस्किन पीछे कर सफाई करें और जब भी यौन संबंध बनाये तो उसके बाद पेनिस की तुरंत और अच्छे से सफाई कर आप बालाइटिस को रोक सकते हैं।

बालाइटिस के लक्षण केवल कुछ दिनों तक ही रहते हैं। बालाइटिस का लम्बे समय तक रहना चिंता का कारण हो सकता है। इन मामलों को आमतौर पर निर्धारित दवाओं या ओवर-द-काउंटर उपचार से ठीक किया जा सकता है। लेकिन उचित निदान महत्वपूर्ण है। बालाइटिस के अधिकांश मामलों को बेहतर स्वच्छता और दवाओं के उपयोग के साथ इसे ठीक किया जा सकता है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration