प्राइवेट पार्ट की सफाई कैसे करें – How to clean private parts in Hindi




प्राइवेट पार्ट की सफाई कैसे करें – How to clean private parts in Hindi
Written by Daivansh

How to clean private parts in Hindi पुरुष और महिलाएं दोनों को अपने प्राइवेट पार्ट की सफाई  का विशेष ख्याल रखना चाहिए। शरीर को स्वस्थ्य रखने और हानिकारक बैक्टीरिया से बचाए रखने के लिए गुप्तांग की सफाई करना बहुत ही आवश्यक है। गुप्तांगों (Private Parts) की नियनित सफाई ये सुनिश्चित करती है कि आपके प्राइवेट पार्ट स्वस्छ व स्वस्थ रहते है। आपको बता दें कि गुप्तांगों (Private Parts) के पास कुछ बैक्टीरिया होते है जो कि आपको नुकसान नहीं पहुंचाते है लेकिन अगर उस जगह की सफाई नहीं की जाती है तो ये बैक्टीरिया बढ़ सकते है जो आपके स्किन के लिए और प्राइवेट अंगों के लिए अच्छा नहीं है। आइए आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे है कि क्यों प्राइवेट पार्ट को साफ रखना जरूरी है। गंदगी के कारण प्राइवेट अंगों में होने वाली बीमारियां क्या है और इससे कैसे बच सकते है।

1.  पुरुष जननांगों को कैसे स्वच्छ रखा जाए – How to keep the Male Genitals Clean in hindi
2. निजी अंगों की त्वचा की सफाई – Cleaning the Foreskin in hindi
3. पेनिस की फोरे स्किन की सफाई – Cleaning the foreskin in Hindi
4. पुरुष गुप्त अंगों की सफाई कैसे करें – How to clean private parts of male in Hindi
5. महिलाएं ऐसे रखें अपने प्राइवेट पार्ट को साफ – How to clean private parts of female in Hindi
6. महिलाएं गुप्त अंगों की सफाई कैसे करें – How to clean private parts of female in Hindi

पुरुष जननांगों को कैसे स्वच्छ रखा जाए – How to keep the Male Genitals Clean in hindi

  • प्राइवेट पार्ट को साफ रखने के लिए हर दिन इसे धोएं। पेनिस, स्कोर्टम, गुदा (anus) के साथ साथ प्यूबिक हेयर को नरम साबुन और पानी से धोना चाहिए।
  • पेशाब करने के बाद पेनिस को हल्का हिला देना चाहिए जिससे पेशाब की शेष बूंदें भी निकल जाए ।
  • पेशाब करने और मल त्याग के बाद अपने हाथ को अच्छे से साफ करना चाहिए।
  • पेनिस और अंडकोष (testicles) की भी रोजाना सफाई करनी चाहिए जिससे प्यूबिक हेयर से पसीने की महक न आए।

(और पढ़े – प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) क्या है, कारण, लक्षण, निदान और इलाज)

निजी अंगों की त्वचा की सफाई – Cleaning the Foreskin in Hindi

जब लड़का का जन्म होता है तो पेनिस की त्वचा (foreskin) पीछे नहीं जाती है। ऐसे में युवा को पेनिस की त्वचा को पीछे करने की कोशिश नहीं करना चाहिए। बच्चा जब धीरे-धीरे बढ़ा होता है तो वह अपने आप ही पीछे चला जाता है। तब तक चमड़ी को रोजाना पानी से साफ करना चाहिए।

(और पढ़े – जाने पेनिस का एवरेज साइज कितना होता है)

पेनिस की फोरे स्किन की सफाई – Cleaning the foreskin in Hindi

  • आपका साबुन केमिकल फ्री होने के साथ ही ज्यादा खूशबूदार नहीं होना चाहिए।
  • कभी-कभी पेनिस की त्वचा के पास सफेद, पीले तेल जैसे पदार्थ देखने को मिल सकते है जिसको स्मेग्मा (Smegma) कहते है। इसकी सफाई करते रहना चाहिए। जिससे किसी भी प्रकार को दुर्गंध नहीं आए और कोई इंफेक्शन नहीं हो।
  • कई बार फोर स्किन में सूजन की समस्या हो जाती है ऐसे में खुशबूदार साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए साथ ही ढीला अंडरवियर पहनना चाहिए।
  • बच्चों की बात करें तो समय समय पर डायपर (diapers) को बदलते रहना चाहिए।

पुरुष गुप्त अंगों की सफाई कैसे करें – How to clean private parts of male in Hindi

प्राइवेट पार्ट को धोएं और सुखाएं – Wash and Dry your Private Part in Hindi

जननांग क्षेत्र का त्वचा शरीर के अन्य क्षेत्रों से अलग नहीं है इसलिए दिन में कम से कम एक बार सफाई जरूर करनी चाहिए। प्राइवेट पार्ट में खुजली से बचने के लिए इस जगह को सूखा बनाए रखने का प्रयास करें। इसके अलावा सेक्सुअल इंटरकोर्स से पहले भी प्राइवेट पार्ट की सफाई करनी चाहिए जिससे किसी  भी प्रकार परेशानी नहीं आएँ।

अंडरवियर जरूर बदलें –  Change Underwear Daily in Hindi

पुरुषों को अपनी अंडरवियर रोजाना बदलनी चाहिए। इससे संक्रमण, जलन और गंध से बचने में मदद मिल सकती है। अगर आप भागदौड़ वाले काम करते है या फिर आपको पसीना ज्यादा आता है तो आप दोपहर में भी इसे बदले सकते है।

प्राइवेट पार्ट की जांच करते रहे – Check Your Private Part In Hindi

लिंग और टेस्टिकल की जांच समय-समय पर करते रहना चाहिए। किसी भी तरह की परेशानी मसलन, धाव, सूजन, लाली, मस्सा आदि के पाए जाने पर एक बार डॉक्टर को जरूर सम्पर्क करें। ये एसटीडी, कैंसर या अन्य समस्याओं के संकेत हो सकते है।

(और पढ़े – लिंग की मालिश के लिए तेल और लिंग की मालिश का सही तरीका)

निजी अंगों को लेकर अपने साथी के साथ बात करें – Communicate with your Partner in Hindi

सेक्सुअल हाइजीन के लिए अपने साथी के साथ बातचीत करना बहुत जरूरी है। संबंध बनाने से पहले दोनों को अपना टेस्ट करा लेना चाहिए जिससे की अगर कोई यौन संबंधी समस्या है तो उसे दूर किया जा सकें। अगर ऐसा करना संभव नहीं है तो प्रोटेक्शन के साथ यौन संबंध बनाना चाहिए।

अपने डॉक्टर से बात करें – Talk to Your Doctor in Hindi

यह अनुशंसा की जाती है कि हर साल कम से कम एक बार अपने डॉक्टर से चेकअप कराया जाए। डॉक्टर से मिलने के दौरान कोई भी बात नहीं छिपाए।

प्राइवेट पार्ट के प्यूबिक हेयर की करें सफाई – Clean Pubic Hair in Hindi

प्यूबिक हेयर की साफ सफाई बहुत जरूरी है। इस जगह पर ज्यादा पसीना आने के कारण बैक्टिरिया और वायरस अपना घर बना लेते  है। ऐसे में बीमारियों से बचने के लिए प्यूबिक हेयर को रोजाना हल्के साबुन से साफ करें। अपने प्यूबिक हेयर को छोटे रखे और समय-समय पर उनकी ट्रिमिंग करते रहें।

(और पढ़े – गुप्तांगों के बालों को साफ करने के प्राकृतिक उपाय)

महिलाएं ऐसे रखें अपने प्राइवेट पार्ट को साफ – How to clean private parts of female in Hindi

हम सभी जानते है कि भारत में योनि और सेक्स के बारे में बात करना गलत माना जाता है। लेकिन आज धीरे-धीरे लोगों की मानसिकता में बदलाव आना शुरू हो गया है। लेकिन फिर भी महिलाएं अपने प्राइवेट पार्ट (Vagina) की स्वच्छता के बारे में बात करने से बचती है। योनि स्वच्छता को बनाए रखना बहुत जरूरी है जिसके लिए आपको इन बातों को ज्ञान होने बहुत जरूरी है।

(और पढ़े –बढ़ती उम्र के साथ योनि में आते है ये बदलाव)

महिलाएं गुप्त अंगों की सफाई कैसे करें – How to clean private parts of female in Hindi

महिलाओं को योनि स्राव, पसीना या फिर पेशाब के बाद योनि को साफ नहीं करने के कारण जांघें गीली होती है। लंबे समय तक गीले रहने के कारण बैक्टिरिया के पनपने का खतरा रहता है। इतना ही नहीं इंफेक्शन या फिर बदबू की समस्या का भी खतरा रहता है। इसलिए योनि की सफाई करने के साथ ही इस जगह को सूखा रखना भी जरूरी है।

(और पढ़े – योनी में गीलापन होने के कारण और उपाय)

सेनेटरी नैपकिन को बदलते रहे – Keep changing sanitary napkins in Hindi

मासिक धर्म के समय अधिकतर महिलाएं सेनेटरी नैपकिन को काफी लंबे समय तक नहीं बदलती है। आपको बता दें कि सेनेटरी नैपकिन को हर 5 से 7 घंटे में बदलना चाहिए। अगर सैनेटरी नेपकिंग लंबे समय तक पहने जाते है तो चकत्ते या फिर गंध के साथ इन्फेक्शन का कारण बन सकता है।

(और पढ़े – जानें पीरियड में पैड लगाने का सही तरीका क्या है वीडियो के साथ)

पीएच लेवल को मैंटेन रखना जरूरी – Maintaining pH level in Hindi

योनि खुद को बेक्टिरिया और इंफेक्शन से बचाने के लिए एक उचित तपमान, पीएच और नमी को बनाए रखने में मदद करती है। आम तौर पर, योनि का पीएच स्तर लगभग 3.8 से 4.5 होता है, जो कठोर साबुन या रासायनिक पदार्थ का उपयोग करने पर काफी बदल सकता है जिससे योनि को नुकसान पहुंच सकता है। पीएच लेवल को बनाए रखने के लिए माइल्ड साबुन को उपयोग करना चाहिए। कभी भी कठोर साबुन का इस्तेमाल योनि में ना करें। बाजार में योनि की सफाई के अन्य उत्पाद भी मौजूद हैं आप उनका भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

संभोग के बाद करे योनि की सफाई – Clean vagina after sexual intercourse in Hindi

इंफेक्शन से बचना है तो संभोग के बाद योनि की सफाई करना बहुत जरूरी है। बॉडी फ्यूल्ड और कंडोम के कुछ पार्टिकल योनि में संक्रमण का कारण बन सकता है। इसलिए, योनि को संक्रमण और बैक्टीरिया से सुरक्षित रखने के लिए हल्के साबुन और पानी के साथ साफ करना बहुत महत्वपूर्ण है।

योनी के प्यूबिक हेयर की सफाई करें – Clean Pubic Hair in Hindi

प्यूबिक हेयर की सफाई करते रहे,  कोशिश करें कि प्राइवेट एरिया में बाल छोटे हो या फिर नहीं हो। जिससे पसीने से होने वाली खुजली से निजात मिल सके। प्यूबिक हेयक को साफ करने के लिए हमेशा नया ब्लेड का उपयोग करें।

ऊपर लेख में आपने जाना की गुप्त अंगों की सफाई कितनी आवश्यक होती है इसलिए आप अपने प्राइवेट पार्ट को साफ रखे और रोगों से दूर रहें।

(और पढ़े – महिला पुरुष के गुप्तांगों की जानकारी)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration