बढ़ती उम्र के साथ योनि में आते है ये बदलाव – How Your Vagina Changes with age in Hindi




बढ़ती उम्र के साथ योनि में आते है ये बदलाव - Vagina Changes with age in Hindi
Written by Daivansh

Vagina Changes with age in Hindi आमतौर पर जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपके शरीर के बाकी हिस्सों की तरह, आपकी योनि भी कुछ बदलावों से गुजरती है। हालांकि इसमें डरने की बात नहीं है। यह सभी महिलाओं के साथ होता है और बिल्कुल सामान्य माना जाता है। स्त्री रोग विशेषज्ञ (gynecologist) और डॉक्टर समझाती हैं कि महिलाओं की योनि में परिवर्तन उनके यौवनावस्था से मेनोपॉज तक होता रहता है और इसकी गति भी विकसित होती रहती है। आमतौर पर बीस, तीस और चालीस की उम्र में योनि से सबसे बड़ा बदलाव देखने को मिलता है, क्योंकि यही वह समय होता है जब लड़की जवान होकर गर्भधारण (pregnancy) करने के लिए परिपक्व होती है। किशोरावस्था के दौरान आपकी योनि जिस स्थिति में होती है, आपके 40 साल के दौर में यह बिल्कुल वैसी नहीं रहती। यौवन से लेकर मासिक धर्म चक्र, यौन सम्बन्ध, गर्भावस्था, प्रसव और मेनोपॉज तक योनि कई बदलावों से गुजरती हैं।

इसलिए ध्यान रखें कि हर कोई अलग है इसलिए यह जरूरी नहीं है कि आप इन सभी चीजों का अनुभव करें ही। हालांकि बड़े स्तर पर योनि में परिवर्तन का सामना हर महिला को करना ही पड़ता है। इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि बढ़ती उम्र के साथ वजाइना में कौन से बदलाव आते है। आइए जानते हैं उम्र के साथ वेजाइना में क्या बदलाव आते हैं।

  1. यौवनावस्था में योनि में बदलाव – Vagina Change At puberty in Hindi
  2. बढ़ती उम्र के साथ योनि सिकुड़ती है – Normal Shrinkage in Vagina changes in Hindi
  3. मासिक धर्म चक्र के दौरान योनि कैसे बदलती है – How the vagina changes during the menstrual cycle in Hindi
  4. बढ़ती उम्र के साथ योनि के रंग में बदलाव – Dark Shadows in Vagina in Hindi
  5. लगातार सेविंग करने से योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to Constant shaving in Hindi
  6. योनि में स्ट्रेच के कारण बदलाव – Big Stretch in Vagina in Hindi
  7. सेक्स के दौरान योनि कैसे बदलती है – How the vagina changes during sex in Hindi
  8. लगातार सेक्स करने के कारण योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to  Continue having sex in Hindi
  9. बर्थ कंट्रोल के कारण योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to taking birth control in Hindi
  10. प्रेगनेंसी के कारण योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to pregnancy in Hindi
  11. आपकी योनि आपके 40 और 50 के दशक में कैसे बदल जाती है – How your vagina changes in your 40 and 50 in Hindi
  12. मेनोपॉज के दौरान योनि में परिवर्तन – Changes in Vagina due to menopause in Hindi
  13. मेनोपॉज के बाद योनि में बदलाव – Changes in Vagina After menopause in Hindi
  14. अपनी योनि को कैसे स्वस्थ रखें और अच्छी सेक्स लाइफ का आनंद लें – How to keep your vagina healthy in Hindi

यौवनावस्था में योनि में बदलाव – Vagina Change At puberty in Hindi

यौवनावस्था में योनि में बदलाव - Vagina Change At puberty in Hindi

यौवन के दौरान योनि की लेबिया (Vagina Labia) धीरे धीरे बड़ी और मोटी  होती जाती है। लेकिन मुख्य अंतर केराटिनाइजेशन (keratinization) में दिखायी देता है जो कि कोशिकीय स्तर (cellular level) पर बदलता है। यौवन के बाद लेबिया बहुत आसानी से दिखायी देने लगती है क्योंकि उनकी प्रमुखता बहुत बढ़ जाती है। हालांकि यह वो समय होता है जब लड़कियों के शरीर में हार्मोनल बदलाव के कारण यौन इच्छाओं का हल्का अनुभव होना शुरू हो जाता है। हालांकि लड़कियां इस ऐज में योनि एवं शरीर में होने वाले बदलाव को लेकर थोड़ी परेशान जरुर रहती हैं।

(और पढ़े – लड़कियों में किशोरावस्था (टीनएज) में दिखने लगते हैं ये लक्षण…)

बढ़ती उम्र के साथ योनि सिकुड़ती है – Normal Shrinkage in Vagina changes in Hindi

बढ़ती उम्र के साथ योनि सिकुड़ती है - Normal Shrinkage in Vagina changes in Hindi

यौवनावस्था खत्म होने के बाद लड़कियों का शरीर वयस्क आकार (adult size) में पहुंच जाता है। इस दौरान योनि की लेबिया मेजोरा (labia majora) जो कि योनि की बाहरी परत होती है, वह पूरी योनि को ढक लेती है। आमतौर पर लड़कियों की योनि (vagina) में यह परिवर्तन 20 साल की उम्र में आता है। जब लेबिया मेजोरा की बाहरी परत योनि को ढक लेती है तो यह अधिक पतली दिखायी देने लगती है। जैसे जैसे उम्र बढ़ती जाती है गुप्तांगों के नीचे की चर्बी घटती जाती है।

(और पढ़े – योनि के बारे में सम्पूर्ण जानकारी…)

मासिक धर्म चक्र के दौरान योनि कैसे बदलती है – How the vagina changes during the menstrual cycle in Hindi

मासिक धर्म चक्र के दौरान योनि कैसे बदलती है - How the vagina changes during the menstrual cycle in Hindi

मासिक धर्म चक्र के हार्मोनल उतार-चढ़ाव की प्रतिक्रिया में योनि भी बदलती है। मध्य- मासिक धर्म चक्र के आसपास, जब एस्ट्रोजन उच्चतम होता है, योनि ऊतक मोटा और फुलर हो जाता है।

योनि के शीर्ष पर गर्भाशय ग्रीवा, मासिक धर्म चक्र के पूरे चक्र में अपना आकार बदलती है। उपजाऊ खिड़की (fertile window) से पहले और बाद में, गर्भाशय ग्रीवा छोटी होती है। उपजाऊ खिड़की के दौरान, गर्भाशय में शुक्राणु के प्रवेश को सुविधाजनक बनाने के लिए गर्भाशय ग्रीवा में छेद खुलता है, गर्भाशय ग्रीवा योनि में अधिक आंगे बढ़ जाता है, और छूने पर नरम महसूस होता है। इस समय सेक्स करने की अधिक इक्षा होती है और सेक्स करने पर अधिक आनंद मिलता है।

(और पढ़े – योनि में कितने छेद होते हैं और क्या होता है उनका काम…)

बढ़ती उम्र के साथ योनि के रंग में बदलाव – Dark Shadows in Vagina in Hindi

बढ़ती उम्र के साथ योनि के रंग में बदलाव - Dark Shadows in Vagina in Hindi

जब लड़कियों का गर्भाशय प्रेगनेंसी के लिए तैयार होता है या जब उनकी उम्र बढ़ने लगती है तब शरीर में कई तरह के हार्मोन बनते हैं जिसके कारण योनि का लेबिया माइनोरा (labia minora) यानि योनि की आंतरिक परत योनि और क्लिटोरिस को घेर लेती है और इसका रंग काला हो जाता है। इसके बाद योनि का रंग गहरा पड़ना शुरू हो जाता है।

(और पढ़े – योनी के रंग को प्राक्रतिक तरीके से गोरा बनाते है ये 10 उपाय…)

लगातार सेविंग करने से योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to Constant shaving in Hindi

लगातार सेविंग करने से योनि में बदलाव - Changes in Vagina due to Constant shaving in Hindi

आमतौर पर लड़कियों का मासिक धर्म शुरू होने के बाद जननांगों (genitals) पर बाल आना शुरू हो जाते हैं। ज्यादातर लड़कियां और महिलाएं इन बालों को साफ करने के लिए लगातार सेविंग (Constant shaving), लेसर ट्रीटमेंट और अन्य प्रकार के हेयर रिमूवल क्रीम का इस्तेमाल करती हैं जिसके कारण त्वचा या रंगद्रव्य (pigment) में बदलाव दिखायी देता है और वह सामान्य नहीं होता है। आप चाहे कितनी भी सावधानी से अपने जननांगों के बाल हटाएं, वर्षों बाद आपकी योनि के आसपास की त्वचा हाइपर पिगमेंटेशन का शिकार हो जाती है, इस तरह से आपको योनि में एक बड़ा परिवर्तन देखने को मिल सकता है।

(और पढ़े – गुप्तांगों के बालों को साफ करने के प्राकृतिक उपाय…)

योनि में स्ट्रेच के कारण बदलाव – Big Stretch in Vagina in Hindi

योनि में स्ट्रेच के कारण बदलाव - Big Stretch in Vagina in Hindi

गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय के गुब्बारे (uterus balloon) का आकार तरबूज के बराबर हो जाता है। लेकिन जन्म के छह हफ्ते बाद यह सिकुड़ जाता है। आमतौर पर सी सेक्शन डिलीवरी कराने वाली लगभग 32 प्रतिशत महिलाओं की योनि खुल या फैल जाती है जो कि वर्षों तक वैसे ही बनी रहती है और जननांगों के आसपास सर्जरी के निशान दिखायी देते हैं। चूंकि ज्यादातर महिलाएं पहली बार 28 से 30 वर्ष की उम्र में गर्भवती होती हैं इसलिए इस अवस्था में उनकी  योनि में इस तरह के बदलाव दिखायी देते हैं।

(और पढ़े – स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय…)

सेक्स के दौरान योनि कैसे बदलती है – How the vagina changes during sex in Hindi

सेक्स के दौरान योनि कैसे बदलती है - How the vagina changes during sex in Hindi

यौन गतिविधि या सेक्स के दौरान योनि भी अधिक परिवर्तन से गुजर सकती है। जब योनि के साथ एक महिला यौन उत्तेजित होती है, तो बढ़े हुए रक्त प्रवाह को जननांगों की ओर निर्देशित किया जाता है, जिससे योनि ऊतक रक्त के साथ संलग्न हो जाता है, और अतिरिक्त स्नेहन का उत्पादन करना लगता है। इस द्रव को उत्तेजना द्रव कहा जाता है।

यौन उत्तेजना के दौरान (sexual excitement), योनि आकार में लंबी और चौड़ी फैलती है। इसे वेजाइनल टेंटिंग और बैलूनिंग (vaginal tenting and ballooning) कहा जाता है। यह आकार परिवर्तन तब होता है जब गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा को श्रोणि में अधिक खींचा जाता है, जो अधिक स्थान बनाता है और गर्भाशय ग्रीवा को योनि में स्खलित होने वाले किसी भी वीर्य से दूर ले जाता है। यह वीर्य को महिला जननांग तरल पदार्थ के साथ मिश्रण करने की अनुमति देता है, शुक्राणु को उत्तेजित करके एक अंडा का निषेचन के लिए महिला के शरीर को आवश्यक शारीरिक परिवर्तनों से गुजरना पड़ता है।

(और पढ़े – पहली बार सेक्स करने के बाद लड़कियों में दिखते हैं ये बदलाव…)

लगातार सेक्स करने के कारण योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to  Continue having sex in Hindi

लगातार सेक्स करने के कारण योनि में बदलाव - Changes in Vagina due to  Continue having sex in Hindi

कहा जाता है कि सेक्स करने की कोई उम्र नहीं होती है। आजकल लड़कियां मासिक धर्म शुरू होने के बाद सेक्स करना शुरू कर देती हैं। आप चाहे जिस भी उम्र में हों, आप जितना ज्यादा सेक्स करेंगी, सेक्स आपके लिए उतना ही आरामदायक होता जाएगा। जब आप सेक्स नहीं करेंगी तो आपकी योनि अधिक कठोर एवं संकरी दिखायी देगी और योनि के ऊतकों (vaginal tissue ) में कम लचीलापन रहेगा जिसके कारण आपकी योनि हमेशा एक जैसी बनी रहेगी। लेकिन सेक्स करने के बाद यह खुल जाती है और फैलती है। योनि के ऊतकों में भी लचीलापन (elasticity) आ जाता है।

(और पढ़े – ज्यादा सेक्‍स करने से योनी में ढीलापन बढ़ता है? जाने क्या है अन्दर की बात…)

बर्थ कंट्रोल के कारण योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to taking birth control in Hindi

बर्थ कंट्रोल के कारण योनि में बदलाव - Changes in Vagina due to taking birth control in Hindi

आमतौर पर योनि की सफाई अपने आप होती है और इसमें चिकनाहट (lubricating ) भी स्वतः आती है। जब आपको सेक्स के लिए उत्तेजना होती है तो विभिन्न प्रकार के शारीरिक परिवर्तन होते हैं जो अतिरिक्त तरल पदार्थ (fluid) स्रावित करते हैं और इसके कारण सेक्स आरामदायक और मजेदार बनता है। लेकिन बर्थ कंट्रोल पिल्स आपके शरीर की प्रक्रिया को बदल देता है क्योंकि यह अंडोत्सर्ग (ovulation) से बचाता है और हार्मोनल वातावरण को बदल देता है। वास्तव में जब भी आप पहली बार बर्थ कंट्रोल पिल्स लेना शुरू करती हैं आपकी योनि शुष्क पड़ने लगती है और इसमें से चिकनाई गायब होने लगती है।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं के नाम और उनसे शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव…)

प्रेगनेंसी के कारण योनि में बदलाव – Changes in Vagina due to pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी के कारण योनि में बदलाव - Changes in Vagina due to pregnancy in Hindi

आपका पहला बच्चा होने के बाद आपके निजी अंग (private parts) फिर से बदल जाते हैं, जो कई महिलाओं के लिए उनके 30 के दशक में होता है। वास्तव में हर बार बच्चे के जन्म के समय वह योनि के माध्यम से ही बाहर निकलता है जिसके कारण  योनि की पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों में खिंचाव (stretch) आ जाता है और यह समय के साथ टाइट नहीं होती हैं। कई महिलाएं अनुभव करती हैं कि उनकी योनि शुष्क होने लगती है और सेक्स के दौरान उन्हें ढीलापन (loose) महसूस होता है। हालांकि हर महिला की योनि में इस तरह का बदलाव अलग अलग हो सकता है।

(और पढ़े – जानिए सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे मे…)

आपकी योनि आपके 40 और 50 के दशक में कैसे बदल जाती है – How your vagina changes in your 40 and 50 in Hindi

आपकी योनि आपके 40 और 50 के दशक में कैसे बदल जाती है - How your vagina changes in your 40 and 50 in Hindi

बच्चे के जन्म के बाद, अगला मील का पत्थर पेरिमेनोपॉज है, जिसमे योनि बदलती है रजोनिवृत्ति से पहले 5-10 वर्ष की अवधि पेरिमेनोपॉज कहलाती है। पेरिमेनोपॉज़ के दौरान, आपका शरीर कम एस्ट्रोजन का उत्पादन शुरू करता है। “यह 40 बर्ष की उम्र में सबसे आम है, लेकिन कुछ महिलाओं के लिए बाद में भी हो सकता है,” एस्ट्रोजन योनि कोलेजन को मोटा और नम रखता है और क्षेत्र में अच्छे रक्त प्रवाह को प्रदान करने में मदद करता है।

एस्ट्रोजन फ्लैटलाइनिंग के बिना, योनि पतली और कम लोचदार हो जाती है, और यह कम स्नेहन पैदा करता है। रजोनिवृत्ति (औसत आयु 51 वर्ष) के बाद, आपकी योनि और भगशेफ सिकुड़ सकते हैं, और आपकी लेबिया कम हो जाएगी, संभवतः योनि के रंग में परिवर्तन और यहां तक कि शिथिलता भी दिखाई दे सकती है। वुलवा- योनी को टाइट कर सकते हैं, और यह सेक्स को दर्दनाक बना सकता है।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

मेनोपॉज के दौरान योनि में परिवर्तन – Changes in Vagina due to menopause in Hindi

मेनोपॉज के दौरान योनि में परिवर्तन - Changes in Vagina due to menopause in Hindi

आमतौर पर मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर गिर जाता है। वास्तव में एस्ट्रोजन योनि को मॉस्चराइज करने और योनि के ऊतकों को अच्छे आकार में रखने का कार्य करता है। एस्ट्रोजन का स्तर नीचे गिरने के कारण योनि के ऊतक ड्राई होने लगते हैं और इसमें लचीलापन कम हो जाता है जिसके कारण सेक्स कम आनंददायक होता है। इसके बाद योनि पर झुर्रियां (wrinkles) पड़ने लगती हैं। जब आपका मेनोपॉज हो जाता है तो शुष्कता के कारण आपकी योनि समतल (flatten ) हो जाती है।

(और पढ़े – योनि में सूखेपन का कारण और दूर करने के घरेलू उपाय…)

मेनोपॉज के बाद योनि में बदलाव – Changes in Vagina After menopause in Hindi

मेनोपॉज के बाद योनि में बदलाव - Changes in Vagina After menopause in Hindi

मेनोपॉज के बाद ब्लड में प्रोजेस्टेरोन का स्तर घट जाता है जिसके कारण डिंबग्रंथि की क्रिया (ovarian function) बाधित हो जाती है। पूरे शरीर में त्वचा के ऊतकों का क्षय (atrophy) होना शुरू हो जाता है। तब त्वचा अवरोधक (barrier) के रुप कार्य नहीं करती है और शुष्क हो जाती है। इसके परिणामस्वरुप त्वचा की मोटाई (thickness) घट जाती है और नमी भी कम हो जाती जिसके कारण योनि में सूजन का खतरा बना रहता है।

(और पढ़े – महिला शरीर के बारे मे जानकारी…)

अपनी योनि को कैसे स्वस्थ रखें और अच्छी सेक्स लाइफ का आनंद लें – How to keep your vagina healthy in Hindi

अपनी योनि को कैसे स्वस्थ रखें और अच्छी सेक्स लाइफ का आनंद लें - How to keep your vagina healthy in Hindi

आपके लिए अच्छी खबर है? इन उम्र से संबंधित परिवर्तनों को आप आसानी से ठीक कर सकतीं हैं और अपनी सेक्स लाइफ को फिर से मजेदार बना सकतीं हैं। जब आपकी योनि में समय के साथ कुछ परिवर्तन होते है तो आप इस उपायों को अपनाकर उनसे होने वाले लक्षणों से बच सकतीं हैं।

प्रकिर्तिक चिकनाई का उपयोग करें: यह रजोनिवृत्ति से संपर्क करने वाली महिलाओं के लिए है या जो महिलाएं योनि में सूखापन जैसे परिवर्तन से गुजर रहीं हैं, साथ ही साथ प्रसवोत्तर माताओं को अस्थायी एस्ट्रोजन में उतार-चढ़ाव के कारण योनि सूखापन का अनुभव होता है। जब व्यक्तिगत स्नेहक की बात आती है तो अधिक विकल्प उपलब्ध नहीं होते हैं, लेकिन केस्टर आयल और नारियल तेल जैसे प्राकृतिक विकल्प अच्छे माने जाते है। ये दिन-प्रतिदिन योनि में होने वाले सूखापन को कम कर सकते हैं, साथ ही सेक्स के दौरान सूखापन के कारण दर्द और असुविधा को भी कम किया जा सकता है।

सामयिक एस्ट्रोजन का उपयोग करें। पेरिमेनोपॉज शुरू होने और रजोनिवृत्ति के बाद, पूरक एस्ट्रोजन क्रीम या एक एस्ट्रोजन रिंग योनी का सूखापन को दूर करने में मदद कर सकती है और योनि के ऊतकों को अधिक मोटा और अधिक लोचदार रख सकती है। “ज्यादातर महिलाएं सुरक्षित रूप से योनि एस्ट्रोजन पूरक का इस्तेमाल कर सकती हैं”।

कुछ महिलाओं के लिए (स्तन कैंसर के बाद), किसी भी प्रकार के एस्ट्रोजन की खुराक – मौखिक या स्थानीय – की सिफारिश नहीं की जाती है। सुनिश्चित करें कि आप डॉक्टर से एस्ट्रोजन की खुराक लेने से पहले किसी भी जोखिम कारक के बारे में बात करें।

सेक्स करते रहें: जितना अधिक आप सेक्स करते हैं, उतना ही आसान है कि आप सेक्स करते रहें। जब आप संभोग नहीं करते हैं, योनि अधिक कठोर और योनि ऊतक कम लोचदार होती है। यह उन 40 के दशक की महिलाओं में पेरिमेनोपॉज़ के साथ-साथ रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं पर भी लागू होता है।

हाइड्रेट रहें: पीने का पानी आपकी त्वचा को हाइड्रेटेड रखता है, और यह आपकी योनि के लिए भी जरुरी होता है। अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहने से ऊर्जा और परिसंचरण में सुधार होता है – यह कमर के नीचे अधिक रक्त प्रवाह प्राप्त करने में मदद करता है, जो आपकी योनि को अधिक संवेदनशील बना सकता है। इसके अलावा, शराब का सेवन न करें, क्योंकि यह ऊतकों को निर्जलित करती है।

धूम्रपान बंद करें: आपको इस आदत को छोड़ने के लिए एक और कारण की आवश्यकता है, तो हम आपको बताते हैं कि धूम्रपान एस्ट्रोजन के स्तर को कम कर सकता है – हार्मोन में उम्र से संबंधित लक्षणों के प्रभाव को तेज करता है।

(और पढ़े – योनि को साफ और स्वस्थ कैसे रखें…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration