प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) क्या है, कारण, लक्षण, निदान और इलाज – Pubic Lice Causes, Symptoms And Treatment In Hindi

प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) क्या है, कारण, लक्षण, निदान और इलाज - Pubic Lice Causes, Symptoms And Treatment In Hindi
Written by Anamika

Pubic Lice in Hindi प्यूबिक लाइस एक तरह के जूं होते हैं जिन्हें ‘क्रैब्स’ के नाम से भी जाना जाता है क्रैब्स या जघन जूँ या जूएं एक ऐसे व्यक्ति को प्रभावित करते हैं जो छोटे परजीवी से संक्रमित किसी व्यक्ति के सीधे संपर्क में आता है। आमतौर पर हर व्यक्ति के शरीर के विभिन्न हिस्सों पर बाल होते हैं। जाहिर है जब बाल हैं तो इनमें गंदगी के साथ परजीवी भी उपस्थित होंगे। हमारे शरीर के बालों में दो तरह के परजीवी यानि जूं पड़ते हैं। सिर के बालों में सामान्य जूं पड़ते हैं जबकि गुप्तांग या जननांगों के बालों (झाँट) में पड़ने वाले जूं को प्यूबिक लाइस के नाम से जाना जाता है। इसलिए इस आर्टिकल में हम आपको प्यूबिक लाइस क्या होता है, कैसे होता है, इसके लक्षण और इलाज के बारे में बताने जा रहे हैं।

  1. प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) क्या है – What are pubic lice in Hindi
  2. प्यूबिक लाइस (गुप्तांग में जूं) के कारण – Causes of pubic lice in hindi
  3. पप्यूबिक लाइस (जननांगो में जूं) के लक्षण – Symptoms of pubic lice in Hindi
  4. प्यूबिक लाइस का निदान और जांच – Diagnosis of pubic lice in Hindi
  5. जघन जूँ की जांच घर पर कैसे करें – Pubic lice diagnosis at home in Hindi
  6. प्यूबिक लाइस (जमजुई) का इलाज – Treatment of pubic lice in Hindi
  7. क्रैब्स या प्यूबिक लाइस से बचाव – Pubic lice Prevention in Hindi

प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) क्या है – What are pubic lice in Hindi

प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) क्या है - What are pubic lice in Hindi

क्रैब्स या प्यूबिक लाइस या जूं छोटे परजीवी होते हैं जो मानव शरीर के जननांगों के बालों में मौजूद रहते हैं। इसके अलावा ये अंडरआर्म, छाती, पैर और दाढ़ी के बालों में भी पाये जाते हैं। प्यूबिक लाइस को क्रैब्स (crabs) के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इनके पास केकड़े की तरह पंजे और कई बड़े पैर होते हैं। ये जहां उपस्थित होते हैं, वहां की चमड़ी से खून चूस लेते हैं। इनके अंडे पीले और भूरे रंग के होते हैं। इन्हें जीवित रहने के लिए मानव रक्त की आवश्यकता होती है, इसलिए प्यूबिक लाइस रेंगकर एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में स्थानांतरित होते रहते हैं। कभी कभी इन्हें नंगी आंखों से भी देखा जा सकता है।

(और पढ़े – बालों से जूँ (लीख) निकालने के घरेलू उपाय…)

प्यूबिक लाइस (गुप्तांग में जूं) के कारण – Causes of pubic lice in Hindi

प्यूबिक लाइस (गुप्तांग में जूं) के कारण - Causes of pubic lice in hindi

आमतौर पर प्यूबिक लाइस किसी भी व्यक्ति के जननांगों मुख्यतः पेडू के नीचे वाले हिस्से (Pubic Area) में हो सकते हैं। यह सामान्यतः कई कारणों से फैलते हैं। आइये जानते हैं प्यूबिक लाइस जननांगों के बालों में कैसे प्रवेश करते हैं।

जननांगो में प्यूबिक लाइस के मुख्य कारण निम्न हैं।

चूंकि प्यूबिक लाइस या जूं कूद, उड़ या तैर नहीं सकते, लेकिन वे एक व्यक्ति के बाल से रेंगकर दूसरे व्यक्ति के बाल में पहुंच सकते हैं। इसका अर्थ यह है कि जब कोई व्यक्ति शारीरिक संबंध बनाता है या जब शरीर दुसरे व्यक्ति के संपर्क में आता है तो दूसरा व्यक्ति प्यूबिक लाइस की चपेट में आ सकता है।

किसी व्यक्ति को चूमने, गले लगाने, फोर प्ले, ओरल सेक्स या अन्य यौन गतिविधियों के माध्यम से प्यूबिक लाइस दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है।

दूसरे व्यक्ति के साथ टॉवेल या बिस्तर, चादरें, कपड़े और कंबल साझा करने से या दूसरे की अन्य वस्तुओं का इस्तेमाल करने से भी आप प्यूबिक लाइस के चपेट में आ सकते हैं।

इंटरकोर्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करने से प्यूबिक लाइस के संक्रमण से सुरक्षा नहीं मिलती है। बल्कि इस दौरान जननांगों में रगड़ के कारण जूं दूसरे व्यक्ति के जननांगों के बालों में रेंगकर पहुंच जाते हैं।

(और पढ़े – गले लगाना स्वास्थ्य के लिए होता है फायदेमंद जाने कैसे…)

प्यूबिक लाइस (जननांगो में जूं) के लक्षण – Symptoms of pubic lice in Hindi

प्यूबिक लाइस (जननांगो में जूं) के लक्षण - Symptoms of pubic lice in Hindi

प्यूबिक लाइस के संक्रमण से ग्रसित लोगों में प्रारंभिक संक्रमण के कोई लक्षण दिखायी नहीं देते हैं। आमतौर पर जननांगों में प्यूबिक लाइस के लक्षण संक्रमण के लगभग पांच दिन बाद दिखायी देते हैं। प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) के लक्षण निम्न हैं।

  • जननांगों के आसपास या गुदा क्षेत्र में तेज खुजली का अनुभव होना।
  • रात में जननांगों में खुलजी बढ़ जाना।
  • प्यूबिक लाइस के काटने के बाद जननांगों की आसपास की त्वचा पर पीला धब्बा हो जाना।
  • शरीर में एनर्जी की कमी महसूस होना।
  • चिड़चिड़ापन होना या मूड खराब होना।
  • हल्के बुखार का अनुभव होना।
  • जननांगों के आसपास खुजली के कारण घाव होना।
  • गुप्तांग और बांहों में खरोंच के कारण सूजन और जलन होना
  • अंडरवियर में प्यूबिक लाइस के मल के कारण काला पाउडर जैसा पदार्थ दिखायी देना।
  • जांघों और पेट के निचले हिस्से पर नीला धब्बा या रक्त के छोटे धब्बे दिखायी देना।
  • छाती के बालों, बाहों के नीचे के बालों, पलकों, भौहों और पैर के बालों में खुजली होना।

(और पढ़े – गुप्‍तांगों में खुजली दूर करने के घरेलू उपाय…)

प्यूबिक लाइस का निदान और जांच – Diagnosis of pubic lice in Hindi

प्यूबिक लाइस का निदान और जांच - Diagnosis of pubic lice in Hindi

जननांगों में प्यूबिक लाइस का निदान करना बेहद आसान है। आप चाहें तो घर पर खुद से या हॉस्पिटल जाकर पेशेवर चिकित्सकों से अपनी इसका निदान करा सकते हैं। आमतौर पर चिकित्सक प्यूबिक लाइस के अंडों को देखने के लिए आवर्धक कांच (magnifying glass) का इस्तेमाल करते हैं। जिसमें प्यूबिक लाइस के अंडे दिखने पर आपको यौन संचारित संक्रमण (STI) का भी परीक्षण करवाना पड़ता है। हालांकि प्यूबिक लाइस से एचआईवी या एसटीआई नहीं होता है लेकिन फिर भी एहतिहात के तौर पर जांच करानी पड़ती है। इसके साथ ही अपने सेक्स पार्टनर के बारे में भी बताना पड़ता है ताकि उसका भी परीक्षण करके इलाज किया जा सके और शारीरिक संबंध बनाने पर आपको यह संक्रमण न फैले।

(और पढ़े – फर्स्ट टाइम सेक्स टिप्स महिला और पुरुष दोनों के लिए…)

जघन जूँ की जांच घर पर कैसे करें – Pubic lice diagnosis at home in Hindi

घर पर प्यूबिक लाइस की इस समस्या का निदान करने के लिए आपको प्यूबिक लाइस को सही तरीके से पहचानने की जरूरत होती है। वास्तव में प्यूबिक लाइस आमतौर पर हल्के भूरे रंग के होते हैं लेकिन वे आपका रक्त पीने के बाद काले रंग का हो जाते हैं। यदि आपके जननांगों या बगल के नीचे के बालों में छोटे या केकड़े के आकार के कीड़े दिखायी देते हैं तो यह प्यूबिक लाइस हो सकता है। इसके अलावा प्यूबिक लाइस के अंडे छोटे और सफेद होते हैं, और आमतौर पर जननांगों के बालों या शरीर के बालों की जड़ों में पाये जाते हैं जिससे आप निदान कर सकते हैं।

(और पढ़े – गुप्तांगों के बालों को साफ करने के प्राकृतिक उपाय…)

प्यूबिक लाइस (जमजुई) का इलाज – Treatment of pubic lice in Hindi

प्यूबिक लाइस (जमजुई) का इलाज - Treatment of pubic lice in Hindi

जमजुई या प्यूबिक लाइस के इलाज के लिए किसी विशेष दवा की आवश्यकता नहीं पड़ती है। आप जघन जूँ के उपचार डॉक्टर की सलाह से या सलाह के बिना मेडिकल स्टोर से क्रीम, लोशन या शैंपू खरीदकर इस समस्या का उपचार कर सकते हैं। आमतौर पर फार्मासिस्ट ही उचित दवा का सुझाव दे देते हैं। लेकिन गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर की सलाह से बिना दवाओं या क्रीम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

कुछ डॉक्टर प्यूबिक लाइस को दूर करने के लिए मैलाथियॉन (Malathion lotion) सहित अन्य लोशन लगाने की सलाह देते हैं। लेकिन आपको लोशन लगाने का सही तरीका डॉक्टर से पूछ लेना चाहिए।

इन लोशनों और क्रीमों को शरीर साफ करने यानि नहाने के बाद और शरीर को सूखाकर शरीर के बालों जैसे भौहों, कान के बालों, गर्दन और मूंछों और अंडरआर्म के बालों पर लगाया जाता है। इस दौरान इन क्रीमों के प्रभाव से अपनी आंखों को बचाएं।

आमतौर पर इवेरमेक्टिन (Ivermectin) नामक लोशन को प्रभावित क्षेत्र पर लगाकर 10 मिनट के लिए छोड़ा जाता है। मैलाथियॉन लोशन को लगाकर बारह घंटे या रातभर छोड़ा जा सकता है। इसके बाद गुनगुने पानी से प्रभावित हिस्से को साफ कर लेना चाहिए। एक हफ्ते के बाद दोबारा इस लोशन का इस्तेमाल करना चाहिए।

(और पढ़े – हेयर रिमूवर क्रीम का इस्तेमाल कैसे करें…)

क्रैब्स या प्यूबिक लाइस से बचाव – Pubic lice Prevention in Hindi

प्यूबिक लाइस से बचाव - Pubic lice Prevention in Hindi

  • किसी दूसरे व्यक्ति के टॉवेल, बिस्तर, चादर, कपड़े या अन्य सामानों का इस्तेमाल ना करें और ना ही अपने सामानों का उपयोग दूसरों को करने दें।
  • यदि कोई व्यक्ति प्यूबिक लाइस से संक्रमित है तो उससे चिपककर ना बैठें और ना ही उसके साथ शारीरिक संबंध बनाएं।
  • यौन संचारित रोगों के जोखिम को कम करने के लिए नियमित जांच कराएं।
  • यदि किसी व्यक्ति के सामानों जैसे तौलिया, बेडशीट आदि को इस्तेमाल करने की जरूरत पड़े तो उसे गर्म पानी में साफ कर लें और धूप में अच्छी तरह से सुखाने के बाद ही उपयोग में लाएं।
  • आमतौर पर प्यूबिक लाइस को जिंदा रहने के लिए खून की आवश्यकता पड़ती है इसलिए इसके ग्रसित व्यक्ति के आसपास बिल्कुल भी न जाएं।
  • चूंकि प्यूबिक लाइस बच्चों को भी अपनी चपेट में लेता है इसलिए यदि कोई व्यक्ति पहले से इससे संक्रमित है तो उसके बिस्तर पर बच्चों को ना सोने दें और न ही उनका सामान इस्तेमाल करने दें।

(और पढ़े – सबसे सामान्य योन संचारित रोग की जानकारी…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration