यौन संचारित रोगों की रोकथाम और एसटीडी बचने के तरीके – Yon Sancharit Rog (STD) Se Bachne Ke Upay In Hindi

यौन संचारित रोगों की रोकथाम और एसटीडी बचने के तरीके - Yon Sancharit Rog (STD) Se Bachne Ke Upay In Hindi
Written by Daivansh

Sexually transmitted disease Prevention in Hindi एसटीडी एक यौन संचारित रोग या संक्रमण (STD full form Sexually transmitted disease) है जो किसी व्यक्ति के साथ यौन संपर्क के दौरान फैलता है। एसटीडी या सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज (यौन सं‍चारित रोग/संक्रमण) हैं जो, उन रोगाणुओं से होता हैं जो व्यक्ति की त्वचा पर या शरीर के तरल पदार्थ जैसे वीर्य, योनि का तरल पदार्थ या खून में रहते हैं और यौन संपर्क द्वारा एक व्‍यक्ति से दूसरे में सं‍चारित हो सकते हैं। आइये जानतें हैं एसटीडी की रोकथाम कैसे की जा सकती है और कैसे इससे बचा जा सकता है।

इसके अलावा एसटीडी (STD) में स्पर्श करना भी शामिल है, क्योंकि कुछ एसटीडी त्वचा से त्वचा के संपर्क से भी फैल सकते हैं। सामान्य तौर पर इस एसटीडी संक्रमण को रोका जा सकता हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार हर साल कई लाखों लोगों को एसटीडी संक्रमण से बचाया जाता है। एसटीडी (STD) संक्रमण अधिक गंभीर रूप से होने पर यह व्यक्ति के लिए बहुत ही हानिकारक होता हैं। एसटीडी (STD) संक्रमण को फैलने से रोकने का एकमात्र गारंटेड तरीका सभी यौन संपर्क से दूर रहना है। हालांकि इसे रोकना संभव नहीं है। आप यौन गतिविधि में संलग्न होने पर कुछ ऐसे कदम को अपना सकते है जो जिससे एसटीडी (STD) संक्रमण रोका जा सकता है।

  1. एसटीडी रोकथाम के लिए सेक्स से पहले सुरक्षा – Protection before sex for STD prevention in Hindi
  2. यौन संचारित रोगों को रोकने के लिए सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें – Practicing safe sex for STD prevention in Hindi
  3. यौन संचारित बीमारी(एसटीडी) से बचने के लिए कंडोम का सही इस्तेमाल करें – Using condoms correctly sex for STD prevention in Hindi
  4. एसटीडी (यौन संचारित रोग) होने के संभावित खतरे – Potential risks of STD in Hindi

एसटीडी रोकथाम के लिए सेक्स से पहले सुरक्षा – Protection before sex for STD prevention in Hindi

एसटीडी रोकथाम के लिए सेक्स से पहले सुरक्षा - Protection before sex for STD prevention in Hindi

यौन संचारित रोग एसटीडी (STD) संक्रमण रोकने के लिए आप यौन गतिविधि में संलग्न होने से पहले इससे बचने के उपाय कर सकते है।

यह अपने आपको और अपने पार्टनर को एसटीडी संक्रमण से बचाने का सबसे अच्छा तरीका है।

यौन संचारित संक्रमण को रोकने के लिए आप सेक्स के पहले निम्न बातों को अपने ध्यान में रखें।

  • सेक्स के लिए अपने यौन साथियों की संख्या को सीमित करें।
  • सेक्स करने से पहले अपने पार्टनर से अपने यौन इतिहास के बारे में इमानदारी से बात करें।
  • एसटीडी (STD) संक्रमण रोकने के लिए सेक्स करने से पहले अपने पार्टनर के साथ टेस्ट करवाएं।
  • यदि आप शराब या ड्रग्स के नशे में है तो उस दौरान सेक्स करने से बचें।
  • ह्यूमन पेपिलोमा वायरस (human papillomavirus) संक्रमण और हेपेटाइटिस बी (hepatitis B) के उपचार के लिए टीका अवश्य लगवाएं।

अपने साथी के साथ यौन स्वास्थ्य के बारे में बातचीत करना महत्वपूर्ण है, लेकिन एसटीडी (STD) संक्रमण से ग्रस्त हर व्यक्ति नहीं जानता कि वह संक्रमित हैं। नए साथी के साथ सेक्स करने से पहले यह टेस्ट करना अधिक महत्वपूर्ण है। यदि आपको एसटीडी है तो अपने साथी को बताएं। आपको अपने साथी से स्पष्ट रूप से पूछना चाहिए कि क्या उनको एसटीडी है। इस तरह आप दोनों एसटीडी (STD) संक्रमण के जोखिम के बारे में सही निर्णय ले सकते हैं।

(और पढ़े – यौन संचारित रोग एसटीडी को रोकने के तरीके…)

यौन संचारित रोगों को रोकने के लिए सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें – Practicing safe sex for STD prevention in Hindi

यौन संचारित रोगों को रोकने के लिए सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें - Practicing safe sex for STD prevention in Hindi

सुरक्षित सेक्स का मतलब है कि आप सभी प्रकार के सेक्स के लिए लेटेक्स (latex) या पॉलीयूरेथेन बैरियर (polyurethane barrier) का उपयोग करना। एसटीडी रोकने के लिए सुरक्षित सेक्स का अभ्यास में आप निम्न उपायों को अपनाएं।

  • एसटीडी (STD) संक्रमण रोकने के लिए संभोग के लिए पुरुष या महिला कंडोम का उपयोग करना चाहिए।
  • एसटीडी संक्रमण से बचने के लिए ओरल सेक्स के लिए कंडोम या डेंटल डैम का उपयोग करना चाहिए।
  • एसटीडी रोकने के लिए मैनुअल पेनिट्रेशन के लिए दस्ताने का उपयोग करना चाहिए।
  • सेक्स के बाद अपनी त्वचा को अच्छी तरह से साफ करना आपको त्वचा पर किसी भी संक्रामक पदार्थ को हटाने में मदद कर सकता है।
  • महिलाओं को विशेष रूप से सेक्स के बाद पेशाब करना चाहिए। यह मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) के जोखिम को कम कर सकता है।

(और पढ़े – सुरक्षित सेक्स करने के तरीके…)

यौन संचारित बीमारी(एसटीडी) से बचने के लिए कंडोम का सही इस्तेमाल करें – Using condoms correctly sex for STD prevention in Hindi

यौन संचारित बीमारी(एसटीडी) से बचने के लिए कंडोम का सही इस्तेमाल करें - Using condoms correctly sex for STD prevention in Hindi

सुरक्षित सेक्स के लिए और STIs के खतरों से बचने के लिए कंडोम का उपयोग करते समय, कंडोम के बॉक्स पर दिए गए निर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है। कंडोम का सही तरीके से उपयोग करना उन्हें अधिक प्रभावी बनाता है। कंडोम का उपयोग करते समय इन सुरक्षा सावधानियों का पालन करें।

  • कंडोम को खरीदते समय उसकी समाप्ति तिथि की जाँच करें।
  • कंडोम लेते समय सुनिश्चित करें कि कंडोम पैकेज में एक हवा का बुलबुला तो नहीं है, ऐसा होने पर कंडोम पंचर हो सकता हैं।
  • एसटीडी संक्रमण से बचने के लिए कंडोम को सही तरीके से लगाएं।
  • एसटीडी रोकने के लिए कंडोम को अपने लिंग पर सही तरीके से रोल करें।
  • सुरक्षित सेक्स के लिए और STIs के खतरों से बचने के लिए सेक्स के दौरान कंडोम-सुरक्षित लुब्रिकेंट का उपयोग करें।
  • सेक्स के बाद अपने लिंग को योनि से बाहर करते समय कंडोम को पकड़ कर रखें ताकि वह फिसले नहीं।
  • कंडोम को सुरक्षित स्थान पर रखें, कभी भी कंडोम को अपने पर्स में नहीं रखना चाहिए।
  • एक बार कंडोम का प्रयोग करने के बाद उसी कंडोम का प्रयोग दोबारा नहीं करना चाहिए।

(और पढ़े – सभी प्रकार के कंडोम का उपयोग कैसे करें…)

एसटीडी (यौन संचारित रोग) होने के संभावित खतरे – Potential risks of STD in Hindi

एसटीडी (यौन संचारित रोग) होने के संभावित खतरे - Potential risks of STD in Hindi

यौन संबंधों के दौरान संक्रमित शारीरिक तरल पदार्थों के आदान-प्रदान को रोकने के लिए कंडोम का प्रयोग अच्छा माना जाता हैं। यह त्वचा से त्वचा के संपर्क को कम करने में भी मदद करता है और स्पर्श से फैलने वाली बीमारियों के संचरण को भी कम करता है। हालंकि कंडोम एसटीडी (STD) संक्रमण को पूरी तरह से नहीं रोक सकता है। त्वचा से त्वचा के संपर्क में आने वाले एसटीडी (STD) संक्रमण निम्न हैं।

यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ यौन संबंध में हैं जिनके पास दाद है तो यह आपको भी हो सकती है। दाद के इलाज के लिए आप अपने डॉक्टर से चकित्सा सलाह लें। इस प्रकार की चिकित्सा दाद के प्रकोप को रोकने में मदद करती है। यह उपाय संचरण को रोकने में भी मदद करता है, लेकिन यह संक्रमण को ठीक नहीं करता है। ध्यान रखें कि दाद फैल सकती है भले ही यह व्यक्ति की त्वचा पर सक्रीय ना हो।

ऊपर एसटीडी (STD) संक्रमण को फैलने से रोकने के उपाय दिए गए है। यदि आपको या आपके पार्टनर को एसटीडी (STD) संक्रमण है तो आप इसके उपचार के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यौन संक्रमित संक्रमण (एसटीआई) का परीक्षण – Testing of Sexually Transmitted Infections (STIs) in Hindi

कुछ एसटीआई के प्रयोगशाला जाँच के लिए महंगी तकनीकों या विशेषज्ञ प्रयोगशाला की सुविधाओं की आवश्यकता होती है, जबकि अन्य का निदान सामान्य प्रयोगशालाओं में किया जा सकता है।

विकासशील देशों में अभी भी कुछ आबादी के पास एसटीआई जानकारी, परीक्षण या निवारक उपायों तक पहुंच नहीं है।

(और पढ़े – जननांग हरपीज (जेनिटल हर्पीज) के कारण, लक्षण, निदान और उपचार…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration