सेक्स लुब्रिकेंट क्या है, उपयोग का तरीका, फायदे और नुकसान - Best Lubricants for Sex in hindi
सेक्स एजुकेशन

सेक्स लुब्रिकेंट के प्रकार और उपयोग की जानकारी – Best Lubricants For Sex Life in Hindi

सेक्स लुब्रिकेंट प्रकार उपयोग की जानकारी - Best Lubricants for Sex Life in hindi

Best Lubricant for Sex in Hindi जब सेक्स करते है और यदि योनी में सूखापन होता है। ऐसी स्थिति में जादातर महिलाओ को अधिक दर्द का सामना करना पड़ता है जिससे उनकी सेक्स लाइफ बोरिंग बन जाती है। इसके लिए सेक्स लुब्रिकेंट आपकी मदद कर सकते है (best Lubricant for sex in Hindi) यहाँ आप जानेगे सेक्स के लिए लुब्रिकेंट्स क्या होता है (Sex Lubricants in Hindi), सेक्स लुब्रिकेंट क्या काम करता है और इसका इस्तेमाल कैसे किया जा सकता है, सेक्स लुब्रिकेंट कितने प्रकार के होते हैं और क्या इसे हस्तमैथुन के दौरान भी इनका उपयोग किया जा सकता है, सेक्स लुब्रिकेंट के फायदे और नुकसान क्या हैं और क्या योनी के सूखेपन में इसे इस्तेमाल करना चाहिए?

विषय सूची

1. सेक्स लुब्रिकेंट के प्रकार – Types of  Sex Lubricants in Hindi

2. सही तरीके से सेक्स लुब्रिकेंट का इस्तेमाल कैसे करें – How to use Sex Lubricants in Hindi
3. सेक्स लुब्रिकेंट के नुकसान – Sex Lubricant Side Effects in Hindi

सेक्स लुब्रिकेंट क्या है – What is sex lubricant in Hindi

एक सेक्स लुब्रिकेंट तरल या जेल की तरह एक पदार्थ है जो महिलाओं और उनके पार्टनर द्वारा योनि या गुदा क्षेत्र को चिकना करने के लिए सेक्स के दौरान लगाया जाता है। सेक्स के दौरान अधिक फिसलन बनाने के लिए इसे आदमी के लिंग या सेक्स टॉय पर भी संभोग स्नेहक लगाया जा सकता है। कई प्रकार के सेक्स लुब्रिकेंट हैं, प्रत्येक के अपने फायदे और नुकसान होते हैं।

यौन उत्तेजना के दौरान, एक महिला की योनि आमतौर पर खुद ही लुब्रिकेट हो जाती है, जिससे वह गीली हो जाती है और सेक्स के लिए तैयार हो जाती है। कई महिलाओं को लगता है कि सेक्स लुब्रिकेंट सेक्स को अधिक आरामदायक या सुखद बनाता है क्योंकि यह घर्षण और जलन को कम करता है।

हालांकि, कभी-कभी महिलाओं को योनि में सूखापन का अनुभव होता है। योनि में पर्याप्त चिकनाई नहीं होती है, जिससे दर्द या परेशानी होती है। यह तब हो सकता है जब महिलाओं में रजोनिवृत्ति के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर गिरता है। योनि में सूखापन तब भी हो सकता है जब एक महिला स्तनपान करा रही हो, कीमोथेरेपी से गुजर रही हो, या जब उसका इलाज स्तन कैंसर के लिए किया गया हो।

कभी-कभी, महिलाएं अपने शरीर के द्वारा प्रदान किये गए लुब्रिकेंट की तुलना में अलग से अधिक सेक्स स्नेहन का इस्तेमाल पसंद करती हैं।

सेक्स लुब्रिकेंट क्या काम करता है – What does sex lubricant work in Hindi

लुब्रिकेंट वह पदार्थ होते है जो सेक्स के दौरान दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। यह उस क्षेत्र से मृत कोशिकाओं को दूर करने में मदद करता है और आवश्यक बैक्टीरिया को पनपने के लिए सही वातावरण प्रदान करके योनी में संक्रमण को दूर रख सकता है। योनि का सूखापन दूर करने और यौन क्रिया को आसन बनाने के लिए लुब्रिकेंट का इतेमाल करना चाहिये। सेक्स लुब्रिकेंट का काम सेक्स को अधिक आसन और आरामदायक बनाना होता है।

लेकिन जब सेक्स लुब्रिकेंट को लेने की बात आती है तो बाजार में कई प्रकार के सेक्स लुब्रिकेंट मौजूद है लेकिन कभी आपने सोचा है की आपके लिए कौन सा लुब्रिकेंट सही है आज हम आपको बताने वाले है की लुब्रिकेंट कितने प्रकार के होते है और आप अपने लिए बेस्ट सेक्स लुब्रिकेंट को कैसे चुन सकते है।

सेक्स लुब्रिकेंट के प्रकार – Types of  Sex Lubricants in Hindi

जब आप सेक्स लुब्रिकेंट की खरीदारी करते है, तब आपको विभिन्न प्रकार के ल्यूब के बारे में जानकारी होना जरुरी होती है, जो आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प चुनने में मदद कर सकती हैं। लुब्रिकेंट निम्न प्रकार के आते है-

  • पानी आधारित स्नेहक – Water-based lubricants
  • सिलिकॉन आधारित स्नेहक – Silicone-based lubricants
  • तेल आधारित स्नेहक – Oil-based lubricants
  • हाइब्रिड, ऊपर के कुछ संयोजन – hybrid, combining a few of the above

हाइब्रिड सेक्स लुब्रिकेंट, अक्सर पानी और सिलिकॉन दोनों के संयोजन होते हैं, और दोनों के तत्व होते हैं। आपकी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए कई अलग-अलग कॉम्बिनेशन भी मौजूद हैं।

पेट्रोलियम-आधारित स्नेहक, जैसे कि पेट्रोलियम जेली, खनिज तेल या बेबी ऑयल से बने होते हैं, ये कुछ महिलाओं के लिए जलन या सूजन का कारण बन सकते हैं।

(और पढ़ें – सेफ सेक्स के लिए इन नेचुरल लुब्रिकेंट का ना करें इस्तेमाल)

1) जल आधारित सेक्स लुब्रिकेंट – Water-based Sex Lubricants in Hindi

जब स्नेहक का उपयोग करने की बात आती है, तो पानी आधारित सेक्स लुब्रिकेंट सुरक्षित होते हैं वे योनि में penetration को आसान बनाते हैं और संवेदनशील त्वचा वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित होते हैं। वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट का एक और प्लस प्वाइंट, यह है की यह सबसे अधिक कंडोम के साथ उपयोग किये जा सकते हैं जो कि सेक्स के दौरान कंडोम के फटने के खतरों को कम करते है। यह घर्षण को कम करने के दौरान योनि के पीएच को संतुलित करता है। इस प्रकार की चिकनाई तीन कारणों के लिए सबसे लोकप्रिय है: इससे आपके कपड़े को दाग नहीं लगेगा, यह त्वचा पर लगाने में आसान है, और इसे पानी से आसानी से धोया जा सकता है।

पानी आधारित स्नेहक आमतौर पर सस्ते और आसानी से मिल जाते हैं। ये आसानी से धुल भी जाते हैं। हालांकि, वे लंबे समय तक काम नहीं कर सकते हैं। नमी और चिकनाई बनाए रखने के लिए सेक्स के दौरान इन्हें पुन: लागू किया जा सकता है।

जल आधारित लुब्रिकेंट के उपयोग में सावधानियाँ

यदि आपने वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट का उपयोग किया है और इससे आपको, खुजली या यौन संबंध रखने के बाद योनि में जलन जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ता है तो इसका उपयोग करने से बचें। इसका कारण यह है कि कुछ पानी आधारित स्नेहकों में प्रोपलीन ग्लाइकॉल या क्लोरहेक्सिडाइन जैसी सामग्री होती है जो कुछ महिलाओं में एलर्जी का कारण हो सकती है।

(और पढ़ें – योनि में खुजली के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय)

2) सिलिकॉन-आधारित सेक्स लुब्रिकेंट – Silicone-based Sex Lubricants in Hindi

वे लंबे समय तक चलने वाले होते हैं और अन्य प्रकारों की तुलना में आपकी योनि अधिक समय के लिए मॉइस्चराइज करते हैं। हालांकि, एक सिलिकॉन-आधारित सेक्स लुब्रिकेंट के साथ, आपको केवल अपने बिस्तर तक सीमित नहीं रहना पड़ता है।

सिलिकॉन, स्नेहक के मुख्य घटक पानी के संपर्क में आने पर टूटते नहीं करता है। जिससे आप इनका इस्तेमाल बाथरूम में या पूल में भी सेक्स लरते समय कर सकते हैं और योनि सूखापन को दूर करते हुए प्यार में थोड़ा रोमांच ला सकते है साथ ही यदि आप कुछ अधिक लंबे समय तक सेक्स करने में दिलचस्पी रखते हैं और ऐसे लुब्रिकेंट की तलास कर रहे है जिसे कम बार या फिर से लगाने की आवश्यकता होती है, तो हो सकता है कि आपको अपना मैच इसमें मिल जाये।

साथ ही कंडोम के साथ सिलिकॉन-आधारित लुब्रिकेंट का उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं।

सिलिकॉन आधारित स्नेहक पानी आधारित स्नेहक की तुलना में अधिक समय तक चलते हैं। हालांकि, वे आसानी से साफ नहीं होते हैं और कुछ महिलाओं को इससे जलन होती है अगर वे इसे सेक्स के तुरंत बाद नहीं धोती हैं।

(और पढ़े – बाथरुम में सेक्स करने के लिए अपनाएं आसान सेक्स पॉजिशन)

सिलिकॉन-आधारित स्नेहक के उपयोग में सावधानियाँ

कुछ सिलिकॉन-आधारित स्नेहकों में ग्लिसरीन एक मुख्य घटक के रूप में होता है, जो कि सेक्स के बाद ठीक से साफ नहीं होने पर खमीर संक्रमण का कारण हो सकता है। तो अगर आपको अपने नीचे संक्रमण और एलर्जी की संभावना है, तो इस स्नेहक से दूर रहें।

(और पढ़े – सेक्स के बाद करेंगे ये काम तो, दोगुना हो जाएगा रोमांस)

3) तेल आधारित सेक्स लुब्रिकेंट – Oil-based Sex Lubricants in Hindi

ज्यादातर महिलाओं का मानना है कि तेल आधारित स्नेहक योनी स्नेहन के लिए सबसे अच्छा होता है। यही कारण है कि ज्यादातर लोग पेट्रोलियम जेली, कोल्ड क्रीम या विभिन्न प्रकार के तेलों जैसी आसान वस्तुओं पर भरोसा करते हैं। जो ओवर-द-काउंटर ल्यूब्रिकेंट्स के लिए प्राकृतिक प्रतिस्थापन के रूप में होते हैं। जादातर महिलाएं अपनी योनि में सेक्स से पहले ही घरेलू आयल का उपयोग करती हैं। याद रखें, इन उत्पादों का उपयोग कंडोम के फटने की संभावना को बढ़ा देता है, जब आप सेक्स करते समय चरम पर होती है।

इसके बजाय, एक अच्छा तेल आधारित स्नेहक में निवेश करें, लेकिन सुनिश्चित करें कि आपकी पसंद कंडोम के अपने साथी के विकल्प के साथ मिल जाये क्योकि कंडोम तेल आधारित स्नेहक के साथ अच्छी तरह से नहीं चलते हैं और बहुत ज्यादा घर्षण के कारण टूट भी सकते हैं वे पॉलीयुरेथेन कंडोम के साथ इस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित हैं, जो इन दिनों कम ही मिलते हैं। इसके आलावा सेक्सी और मज़ेदार मालिश के समय के लिए ऑयल-आधारित सेक्स लुब्रिकेंट दोहरा सकते हैं।

तेल आधारित स्नेहक का उपयोग सावधानी के साथ किया जाना चाहिए। इन स्नेहक का उपयोग लेटेक्स कंडोम के साथ नहीं किया जा सकता है, क्योंकि वे लेटेक्स को कमजोर कर देंगे, जिससे कंडोम के रिसाव या टूटने की अधिक संभावना होगी। बदले में, यह अनियोजित गर्भावस्था या यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) के संचरण के जोखिम को बढ़ाता है।

(और पढ़ें – सेक्स के दौरान कंडोम फट जाये तो करें ये उपाएं)

तेल आधारित स्नेहक के उपयोग में सावधानियाँ

यदि आप मूत्र पथ के संक्रमण (urinary tract infections) की सिकार होटी हैं, तो तेल आधारित स्नेहक से दूर रहें। क्योकि सम्भोग के बाद इसे साफ करना मुश्किल होता है, जिससे जीवाणु निर्माण हो सकता है और बाद में संक्रमण का कारण बन सकता है।इसके अलावा, ये लेटेक्स कंडोम के साथ अच्छी तरह से कार्य नहीं करते हैं, इसलिए, अगर आपकी सुरक्षा के लिए आपने कंडोम का उपयोग किया है तो निश्चित रूप से यह आपके लिए सही विकल्प नहीं है।

तेल आधारित स्नेहक भी संक्रमण के लिए उच्च दर, जैसे बैक्टीरियल वैजिनाइटिस और आपकी महंगी बेड शीट के कारण तेल आधारित सेक्स लुब्रिकेंट से दूर रहने का एक और कारण हो सकती है। तेल में चादरें और कपड़ों को दाग पड़ता है, और साफ करने में भी मुश्किल हो सकती है।

4) आर्गेनिक सेक्स लुब्रिकेंट – Organic Sex Lubricants in Hindi

ये सेक्स लुब्रिकेंट प्राकृतिक अवयव से बना होने का वादा करते हैं जो माना जाता है कि योनि पर कोमल है और आसान और गहरी पैठ बनाता है। ये आमतौर पर मोटी क्रीम आधारित होते हैं हालांकि, एक आर्गेनिक स्नेहक खरीदने से पहले दिए गए निर्देशों और सामग्री को पढ़ने के लिए सावधान रहें। क्योकि आर्गेनिक भी हानिकारक हो सकता है, सभी उत्पाद जननांग क्षेत्र के साथ संगत नहीं होते हैं।

नारियल का तेल एक लोकप्रिय विकल्प हो सकता भी है, हालांकि इसके कुछ नुकसान भी है। यह आपकी चादरों में दाग कर सकता है और कंडोम के टूटने की घटनाओं को बढ़ा सकता है।

आर्गेनिक स्नेहक के उपयोग में सावधानियाँ

लगभग हर महिला के लिए आर्गेनिक स्नेहक बाहरी उपयोग के लिए आम तौर पर सुरक्षित होते हैं हालांकि, यदि आपको इससे एलर्जी विकसित होती हैं या अन्य असामान्य लक्षणों से पीड़ित होते हैं जैसे अत्यधिक निर्वहन और जलती हुई संवेदनाएं (excessive discharge and burning sensations) तो इसका उपयोग करना बंद कर दें और एक अलग प्रकार का सेक्स लुब्रिकेंट लगाने का प्रयास करें।

(और पढ़े – योनि से सफ़ेद पानी आना (श्वेत प्रदर, ल्यूकोरिया) लक्षण, कारण और घरेलू उपचार)

2) सही तरीके से सेक्स लुब्रिकेंट का इस्तेमाल कैसे करें – How to use Sex Lubricants in Hindi

सेक्स लुब्रिकेंट का उपयोग करने का कोई “सही” रास्ता नहीं है। जैसे की आप हस्तमैथुन करने के मूड में लेकिन आपके शरीर ने अभी तक स्नेहक शुरू करने के लिए संदेश नहीं मिल रहा है? तो आप लुब्रिकेंट का उपयोग कर सकती है।

(और पढ़े – महिलाएं कैसे करती है हस्तमैथुन जाने सोलो प्ले के लिए टिप्स और ट्रिक्स)

कई महिलाएं उम्र के साथ , यौन संबंध के लिए स्वाभाविक रूप से पर्याप्त स्नेहक का उत्पादन नहीं कर सकती। वह अपने प्रेमी के साथ चिकनाई का उपयोग करती है और उसे अपने साथी की जननांगों पर रगड़ कर और सेक्स के दौरान इसे लगाती है।

शौकीन सेक्स लुब्रिकेंट उपयोगकर्ता, का कहना है कि वह 75% बार चिकनाई का उपयोग सेक्स करते समय करते हैं, या तो जब वह हस्तमैथुन करती है या जब वह एक पार्टनर के साथ होती है।

तो जितना चाहें उतना इस उपयोग करें, जहां आपको इसकी आवश्यकता है – योनि, लिंग, या गुदा में।

(और पढ़े – एनल सेक्स (गुदामैथुन) के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव)

आपके द्वारा यह पता लगाया गया है कि आपके लिए कौन से सेक्स लुब्रिकेंट सबसे अच्छा है, तो आप इसे अपने हाथों में थोड़ा सा गर्म करना चाहेंगे यह आवश्यक नहीं है, लेकिन यदि आप इस कदम को छोड़ देते हैं तो आपके नीछे के क्षेत्रों पर चिकनाई थोड़ी ठंडी हो सकती है। यदि आप कंडोम का उपयोग कर रहे हैं, तो बाहर से गैर-तेल आधारित चिकनाई को लागू करना मत भूलें!

3) सेक्स लुब्रिकेंट के नुकसान – Sex Lubricant Side Effects in Hindi

एक स्वस्थ योनि को पीएच स्तर 3.5 से 4.5 तक बनाए रखना चाहिए, इसलिए आपके द्वारा उपयोग करने वाली चिकनाई भी एक ही स्तर के आसपास होना चाहिए।

साथ  कुछ ऐसे नाम हैं जिनका उपयोग करने से आपको बचाना चाहिये हैं क्योंकि वे जलन या सूजन पैदा कर सकते हैं:

  • ग्लिसरीन
  • पेट्रोलियम
  • प्रोपलीन ग्लाइकोल
  • क्लोरहेक्सिडाइन ग्लूकोनेट

स्नेहक चुनना एक व्यक्तिगत निर्णय है। पार्टनर्स यह देखने के लिए विभिन्न प्रकारों के लुब्रिकेंट का उपयोग करने की कोशिश कर सकते हैं कि उनके लिए सबसे अच्छा क्या है। यदि एक विशेष स्नेहक जलन या एलर्जी की प्रतिक्रिया का कारण बनता है, तो कपल को इसका उपयोग बंद कर देना चाहिए और दूसरी तरह के लुब्रिकेंट का उपयोग करने की कोशिश करनी चाहिए। एक चिकित्सक या सेक्स चिकित्सक आवश्यकता पड़ने पर आपका मार्गदर्शन प्रदान कर सकता है।

यदि आप कंडोम और सेक्स खिलौने का उपयोग कर रहे हैं, तो लेटेक्स, रबड़ और प्लास्टिक के लिए मैत्रीपूर्ण विकल्प ढूंढें। और चिकनाई का उपयोग करने के लिए कोई भी कारण नहीं है, याद रखें – यह आपके यौन जीवन को अगले स्तर तक ले जाने का एक सरल और मजेदार तरीका है। तो आगे बढ़ो, और सेक्स लुब्रिकेंट का उपयोग करो!

References

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration