गुदा मैथुन (एनल सेक्स) कैसे करें: विधि, जोखिम, मिथक, और टिप्स - Anal Sex Kaise Kare in Hindi - Healthunbox
सेक्स एजुकेशन

गुदा मैथुन (एनल सेक्स) कैसे करें: विधि, जोखिम, मिथक, और टिप्स – Anal Sex Kaise Kare in Hindi

गुदा मैथुन (एनल सेक्स) कैसे करें: विधि, जोखिम, मिथक, और टिप्स - Anal Sex Kaise Kare in Hindi

Anal Sex Kaise Kare: एनल सेक्‍स यानी गुदा सेक्‍स कम उम्र के कपल्स बीच काफी लोकप्रिय है। सेक्स के विभिन्न प्रकार में, गुदा सेक्स (Anal Sex) सबसे कम किया जाता है लेकिन यह समय के साथ यह लड़के और लड़कियों के बीच काफी पॉपुलर होता जा रहा है। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि एक नेशनल सर्वे में 36 % महिलाओं और 44 % पुरुषों ने बताया कि उन्होंने अपोजिट सेक्स के साथ गुदा मैथुन (एनल सेक्स) किया है।

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि कैसे बनाये अपने पहले गुदा मैथुन को सुरक्षित और मज़ेदार तो इस लेख में गुदा मैथुन (anal sex) के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है। एनल सेक्‍स यानी गुदा सेक्‍स क्या है? गुदा मैथुन कैसे करें? क्या पहली बार गुदा मैथुन करने पर क्या दर्द होता है, क्या पहली बार गुदा मैथुन करने से ब्लीडिंग हो सकती है? एनल सेक्स करने का सही तरीका और टिप्स।

आप गुदा मैथुन करने के लिए उत्सुक हैं लेकिन निश्चित नहीं है कि इसे कैसे किया जाता है? हेल्थअनबोक्स पर हम पहली बार सुरक्षित और आनंददायक गुदा मैथुन करने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड देने जा रहें हैं।

गुदा मैथुन करते समय लिंग किसी पुरुष (male) या महिला (female) पार्टनर के गुदा में प्रवेश करता है। यह समलैंगिक जोड़ों (gay couples) के बीच सेक्स का सबसे अधिक प्रचलित रूप है, लेकिन विषमलैंगिक पार्टनर्स (heterosexual partners) में भी एनल सेक्स काफी पॉपुलर है, जो आनंद के लिए, गर्भावस्था को रोकने या प्रोटेक्शन का उपयोग करने से बचने के लिए गुदा मैथुन का विकल्प चुन सकते हैं।

एनल सेक्स के बारे में याद रखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि यह वास्तव में सेक्स का एक रूप है; यह सिर्फ समलैंगिक लोगों के लिए नहीं है; इसमें प्रेग्नेंट होने की संभावना नहीं है और कंडोम का उपयोग किए बिना सुरक्षित एनल सेक्स करना संभव नहीं है।

जब आप गुदा मैथुन करना शुरू करते हैं, तो यह जरुरी है कि आप इसकी शुरुआत धीमी करें, लिंग के किसी पुरुष या महिला पार्टनर के गुदा में प्रवेश (penetration) से पहले पर्याप्त उत्तेजना (arousal) पैदा करना सुनिश्चित करें। सेक्स टॉयज (Sex toy) या उंगली (finger) का उपयोग करने से पार्टनर बेहतर महसूस कर सकता है।

गुदा मैथुन के दौरान पर्याप्त देखभाल महत्वपूर्ण है, और लुब्रिकेंट (lubricant) का होना आवश्यक है क्योंकि गुदा क्षेत्र योनि (vagina) की तरह अपना स्वयं के लुब्रिकेंट का उत्पादन नहीं करता है। एनल सेक्‍स यानी गुदा सेक्‍स करते समय यदि किसी प्रकार के अनचाहे रक्तस्राव या फटने के संकेत दिखते हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

एनल सेक्स के दौरान स्वच्छता बनाए रखना आवश्यक है। साथी को नाख़ून की चोट से बचाने के लिए दस्ताने (gloves) का उपयोग करना, गुदा मैथुन (एनल सेक्स) के करने के दौरान और बाद में स्वच्छता बनाए रखना और सेक्स के बाद गुदा क्षेत्र की देखभाल करना कुछ तरीके हैं जो न केवल गुदा सेक्स का आनंद बढ़ा देते हैं बल्कि यह भी सुनिश्चित करते हैं कि आप अगले गुदा मैथुन (एनल सेक्स) करने के लिए तैयार रहेंगें।

यद्यपि गुदा मैथुन सुखद है, लेकिन यह जटिलताओं (complications) के साथ आता है। मांसपेशियों में कमजोरी और शिथिलता, जीवाणु संक्रमण, ऊतक को आंतरिक क्षति और यौन संचारित संक्रमण (sexually transmitted infections) गुदा सेक्स में संलग्न होने पर आम हैं।

इन नुकसानों से अवगत होना महत्वपूर्ण है और सुनिश्चित करें कि आप उनके खिलाफ अच्छी तरह से सुरक्षित हैं। गुदा मैथुन करने वालों को एचआईवी (HIV) का खतरा होता है। जिस साथी में प्रवेश किया जा रहा है, वह संक्रमित होने की अधिक संभावना रखता है। आइये अब जानतें हैं एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है?

एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है – What is Anal sex in Hindi

एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है - What is Anal sex in Hindi

सेक्स के तीन मुख्य रूप हैं – ओरल सेक्स, पेनाइल-वेजाइनल सेक्स और एनल सेक्स यानि गुदा मैथुन। एनल सेक्स की तुलना में बहुत अधिक लोग अन्य दो रूपों के बारे में जानतें है। गुदा मैथुन में लिंग का प्रवेश साथी के गुदा (एनस) में किया जाता है, जो या तो पुरुष हो सकता है या महिला हो सकती है।

ज्यादातर लोग सोचते हैं कि गुदा मैथुन या एनल सेक्स करने का सही तरीका लिंग का गुदा में प्रवेश मात्र है। यह सच है, लेकिन इसके अलावा आपके पास एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने के और भी विकल्प होते हैं। सेक्स के खिलौने या अन्य चीजों का उपयोग गुदा सेक्स में भी किया जा सकता है। इसके लिए वाइब्रेटर, डिल्डो और बट प्लग जैसे सेक्स टॉय काफी लोकप्रिय हैं।

गुदा सेक्स किसी भी सेक्शुअल एक्टिविटी की तरह स्वाभाविक रूप से असुरक्षित नहीं है। इसके लिए केवल सेक्शुअल एक्टिविटी के दौरान अधिक योजना, तैयारी और एक दूसरे से बात करने की आवश्यकता होती है। गुदा सेक्स कैसे करें, इस सवाल के जवाब में, आपको इन तीन बातों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। एनल सेक्स या गुदा मैथुन का आनंद बाईसेक्शुअल, स्ट्रेट और गे द्वारा लिया जा सकता है। एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है ये तो आपने जान लिया आइये अब जानतें हैं गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है?

गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है Why is anal sex preferred in Hindi?

गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है - Why is anal sex preferred in Hindi?

गुदा मैथुन समलैंगिक जोड़ों में सेक्स का सबसे प्रचलित रूप है। हालांकि, यह देखा गया है कि करीब 10 प्रतिशत महिलाएं योनि (vaginal sex) और गुदा मैथुन (anal sex) का समान रूप से आनंद लेती हैं। चूंकि गुदा भी एक एरोजेनस ज़ोन (erogenous zone) है और उत्तेजित होने पर आनंद प्रदान करता है, इसलिए जोड़े गुदा मैथुन का आनंद लेते हैं।

कुछ कपल गुदा सेक्स पसंद करते हैं क्योंकि वह जानतें हैं कि एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने से गर्भवती होने का कोई जोखिम नहीं होता है, और वे कंडोम का उपयोग किए बिना भी सेक्स का आनंद ले सकते हैं। लड़कों द्वारा गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है, गुदा सेक्स पुरुषों को उनके लिंग (penis) के चारों ओर जकड़न (tightness) की भावना प्रदान करता है, जो गुदा सेक्स के दौरान पुरुष के लिए बहुत सुखद हो सकता है।

(और पढ़ें – महिलाओं और पुरुषों को उत्तेजित करने वाले वासना उत्तेजक अंग)

एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है?, गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है? ये तो आपने जान लिया आइये अब जानतें हैं गुदा मैथुन कैसे करें?

गुदा मैथुन कैसे करें?How to do Anal sex in Hindi

गुदा मैथुन कैसे करें? - How to do Anal sex in Hindi

आपसी सहमति: यह महत्वपूर्ण है कि दोनों साथी गुदा मैथुन करने के लिए सहमत हों और यह एक मजबूर निर्णय नहीं होना चाहिए। चूँकि सेक्स का कॉमन प्रकार नहीं हैं, इसलिए कुछ लोग इस विचार से विमुख हो सकते हैं, और उनके निर्णय के प्रति संवेदनशील और सम्मानित होना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, यह एक दर्दनाक अनुभव हो सकता है, खासकर शुरू में। यदि गुदा मैथुन के दौरान बहुत अधिक दर्द होता है , तो किसी भी अप्रिय क्षति से पहले तुरंत खुद को रोकना महत्वपूर्ण है।

इसे कैसे करना है? गुदा सेक्स करने के लिए अपने अपने पार्टनर से बात करना महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आप दोनों इसके बारे में बात करते हैं और एनल सेक्स या गुदा मैथुन अनुभव के बारे में समान रूप से सहज महसूस करते हैं, और यह कि आप दोनों इसे करने के लिए समान रूप से तैयार हैं।

गुदा मैथुन का सबसे अच्छा आनंद तब लिया जाता है, जब इसमें लिंग का प्रवेश शामिल होता है, तो इसे शुरू में धीमी गति से करना बुद्धिमानी होती है, एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने की शुरुआत केवल उंगली से इसे छूने, सहलाने और उस क्षेत्र को उत्तेजित करके की जा सकती है।

सुनिश्चित करें कि आप अपने साथी को एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने की पूरी प्रक्रिया में पूरी तरह से सहज रखते हैं। यह संभव है कि आप केवल पहले कुछ प्रयासों के दौरान अपनी उंगली का उपयोग करने में सक्षम हो सकते हैं जब तक कि आपका साथी आगे जाने के लिए तैयार न हो जाये।

इसे धीमी गति से करना शुरू करें, और लिंग को गुदा में प्रवेश कराते समय चिकनाई का भरपूर उपयोग करें। (और पढ़ें – सेक्स लुब्रिकेंट के प्रकार और उपयोग की जानकारी)

प्रवेश करते समय, बहुत धीरे-धीरे अंदर जाएं और पूरी तरह से अन्दर करने से पहले केवल थोड़ा अन्दर डालें। आप इसे उतना ही अन्दर कर सकते हैं जब तक कि आपका साथी अधिक लेने के लिए पूरी तरह से तैयार न हो जाये।

अब थोड़ा और पुश करें और फिर से पूरी तरह से बाहर खींचें। यह धीरे-धीरे किया जा सकता है जब तक कि आप पेनिस को गुदा में पूरी तरह से प्रवेश करने में कामयाब नहीं हो जाते।

पहली बार गुदा मैथुन करने से पहले, फोरप्ले के पहले 10 से 15 मिनट तक गुदा मैथुन नहीं करना चाहिए। फोरप्ले संभोग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इससे यौन इच्छा बढ़ती है।

गुदा मैथुन कैसे करें, इसके लिए याद रखने वाली सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि गुदा मैथुन एसटीआई के खतरे को बढ़ाता है। गुदा के अंदर या आस-पास रहने वाले बैक्टीरिया आसानी से गुदा मैथुन के द्वारा फैल सकते हैं। इसलिए, एनल सेक्स या गुदा मैथुन करते समय कंडोम का उपयोग करना न भूलें।

इसके साथ ही गुदा मैथुन के बाद भी स्वच्छता का ध्यान रखें। हेपेटाइटिस ए और और कोलाई जैसे बैक्टीरिया के प्रकोप का खतरा अनप्रोटेक्टेड गुदा मैथुन में रहता है।

एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है? गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है? गुदा मैथुन कैसे करें? ये तो आपने जान लिया आइये अब जानतें हैं क्या गुदा मैथुन से ऑर्गेज्म मिल सकता है।

क्या गुदा मैथुन से ऑर्गेज्म मिल सकता है?Can anal sex lead to orgasm in Hindi?

क्या गुदा मैथुन से ऑर्गेज्म मिल सकता है? - Can anal sex lead to orgasm in Hindi?

गुदा मैथुन करने से जरूरी नहीं कि हर कोई ऑर्गेज्म यानी चरम सुख प्राप्त करे। गुदा सेक्स, सेक्स लाइफ को मजेदार बनाने का सिर्फ एक तरीका है। कुछ लोगों के लिए, गुदा एक एरोजेनस ज़ोन की तरह काम करता है। गुदा संवेदनशील नसों से भी भरा है, इसलिए यह जल्दी से यौन उत्तेजना (Sexual stimulation) बढ़ाता है। इसके अलावा, गुदा के के चारों ओर पेनिस के कसने से प्रवेश करने वाले साथी के लिए एक आनंद हो सकता है।

गुदा मैथुन पुरुषों में प्रोस्टेट ग्रंथि को भी उत्तेजित करता है, जिससे पुरुष ऑर्गेज्म यानी संभोग सुख में वृद्धि हो सकती है। इसी समय, महिलाओं के लिए, चरमोत्कर्ष (orgasm) पर पहुचने के लिए गुदा संभोग के दौरान क्लिटोरल उत्तेजना आवश्यक हो सकती है। लेकिन जरूरी नहीं कि हर महिला इस तरह से ऑर्गेज्म तक पहुंचे। ऑर्गेज्म तक पहुँचने के लिए ओरल (oral sex) या वेजाइनल सेक्स (vaginal sex) आवश्यक हो सकता है।

एनल सेक्स या गुदा मैथुन क्या है? गुदा सेक्स क्यों पसंद किया जाता है? गुदा मैथुन कैसे करें? क्या गुदा मैथुन से ऑर्गेज्म मिल सकता है? ये तो आपने जान लिया आइये अब जानतें हैं गुदा सेक्स के जोखिम और जटिलताएं क्या हैं

गुदा सेक्स के जोखिम और जटिलताएं – Risks and complications of Anal sex in Hindi

गुदा सेक्स के जोखिम और जटिलताएं - Risks and complications of Anal sex in Hindi

कई समस्याएं हैं जो गुदा सेक्स या एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने से उत्पन्न हो सकती हैं, जिससे यह सेक्स के विभिन्न रूपों के बीच सबसे जोखिम भरा हो जाता है। एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने के कुछ जोखिम और जटिलताओं में शामिल हैं:

स्वास्थ्य जटिलताएं (Health complications)

चूंकि गुदा के अंदर कोई प्राकृतिक चिकनाई नहीं होती है, इसलिए गुदा में ऊतकों के फटने की संभावना अधिक होती है। यह क्षेत्र को वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण से ग्रस्त बनाता है। एचआईवी, गुदा कैंसर (anal cancer) और मस्सा (warts) जैसी बीमारियां कुछ जटिलताएं हैं जो एनल सेक्स या गुदा मैथुन करने के परिणामस्वरूप हो सकती हैं।

आंतरिक क्षति (Internal damage)

चूंकि गुदा के अंदर के ऊतक बाहरी ऊतक की तुलना में अधिक कोमल (tender) और संवेदनशील (sensitive) होते हैं, यह अधिक आसानी से संक्रमित (infected) हो सकते हैं।

कमजोर मांसपेशियां (Weakened muscles)

जबकि गुदा मैथुन को अपनी जकड़न के लिए पसंद किया जाता है, यह धीरे-धीरे दोहराए जाने वाले लिंग के साथ जकड़न बंद करना शुरू कर सकता है। इस मांसपेशी के कमजोर पड़ने को स्फिंक्टर मांसपेशी (sphincter muscle) कहा जाता है, जिससे गुदा के अन्दर मल को पकड़ना या मल त्याग को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है।

बैक्टीरियल संक्रमण (Bacterial infections)

चूंकि गुदा में बैक्टीरिया की उच्च सांद्रता होती है, इसलिए इस बात की काफी संभावना होती है कि यह साझीदार के बिना स्वयं को अच्छी तरह से साफ किए सेक्स के अन्य रूपों में जैसे की ओरल सेक्स या योनि सेक्स में संलग्न होने की स्थिति में अन्य भागों में फैल जाएगा।

दुर्लभ स्थितियां (Rare conditions)

हालांकि यह आम नहीं हैं, फिर भी गुदा मैथुन करने से कुछ जटिलताएं हो सकती हैं जैसे बृहदान्त्र का टूटना, बवासीर (haemorrhoid), हेपेटाइटिस (hepatitis) और हर्पीस (herpes)।

गुदा मैथुन और एच.आई.वी. – Anal sex and HIV in Hindi

गुदा मैथुन और एच.आई.वी. - Anal sex and HIV in Hindi

सेक्शुअल एक्टिविटी (sexual activity) जिसमे किस, मौखिक सेक्स, योनि सेक्स और गुदा सेक्स में से एचआईवी का सबसे बड़ा खतरा गुदा मैथुन में होता है। गुदा सेक्स करने पर (engaging in anal sex), संक्रमण को वीर्य, पूर्व-वीर्य द्रव, रक्त या मलाशय के तरल पदार्थ के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रान्सफर किया जा सकता है।

जो पार्टनर गुदा मैथुन कर रहा है या रिसेप्टिव पार्टनर, के मलाशय की पतली परत के कारण संक्रमित होने की संभावना अधिक होती है, जो टूटने या कटने पर वायरस को शरीर में प्रवेश करने की अनुमति देता है। जबकि इसकी संभावना कम है, लेकिन गुदा मैथुन करने वाला व्यक्ति भी लिंग पर घावों, खरोंच या कट के माध्यम से संक्रमित हो सकता है।

संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि गुदा मैथुन करते समय सुरक्षित सेक्स का अभ्यास किया जाए और कंडोम (condoms) का उपयोग किया जाए। स्नेहन (Lubricating) भी महत्वपूर्ण है क्योंकि गुदा स्व-चिकनाई नहीं करता है और गुदा मैथुन करने के दौरान घर्षण कंडोम को फाड़ सकता है।

कंडोम का उपयोग करते समय, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि उन्हें शुरुआत से ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए और न कि तब जब पार्टनर स्खलन के लिए तैयार हो। जो लोग एचआईवी के लिए उच्च जोखिम वाले समूह में आते हैं, उनके लिए वायरस के संभावित एक्सपोजर से पहले और बाद में दवाएं लेना भी एचआईवी होने का जोखिम कम कर सकता है।

जब आप गुदा मैथुन करें तो इन सेफ्टी टिप्स का पालन करें – Safety tips when you go for Anal sex in Hindi

जब आप गुदा मैथुन करें तो इन सेफ्टी टिप्स का पालन करें - Safety tips when you go for Anal sex in Hindi

अगर आप सावधान नहीं हैं तो गुदा मैथुन करना जोखिम भरा साबित हो सकता है। यहाँ कुछ चीजें हैं जिनके बारे में आपको सावधान रहने की जरूरत है, जब आप गुदा मैथुन करते हैं।

इसे धीमी गति से शुरू करें

यह आमतौर पर सामान्य संभोग का अभ्यास नहीं है, और इसे शुरू में धीमा करना महत्वपूर्ण है। यह जल्दी में किये जाने वाले सेक्स में संलग्न होने के बजाय स्टेप बाय स्टेप आंगें बढ़ने के लिए एक अच्छा विचार हो सकता है।

कंडोम का उपयोग करें

एसटीडी और संक्रमण से बचाने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि हमेशा गुदा सेक्स करने पर कंडोम का उपयोग करें। एक बार करने के बाद फिर से सेक्स करने से पहले एक नया कंडोम का उपयोग करना भी आवश्यक है।

लुब्रिकेंट का उपयोग करें

गुदा सेक्स दर्दनाक हो सकता है क्योंकि गुदा में लुब्रिकेंट नहीं है जो इसे स्वयं को चिकनाई करने की अनुमति देता है। एक कृत्रिम लुब्रिकेंट, जैसे कि पानी या सिलिकॉन-आधारित स्नेहक का उपयोग करना, गुदा मैथुन के अनुभव को सुरक्षित और कम दर्दनाक बनाता है।

चिकित्सा की तलाश करें

यदि आप गुदा सेक्स करने के बाद क्षेत्र में किसी भी रक्तस्राव, गांठ या घावों को नोटिस करते हैं, तो तत्काल डॉक्टर से मिलना महत्वपूर्ण है।

गुदा मैथुन करने के बाद क्या करें – Anal sex aftercare in Hindi

गुदा मैथुन करने के बाद क्या करें - Anal sex aftercare in Hindi

जिस तरह एक अच्छे यौन अनुभव की तैयारी के लिए महत्व दिया जाता है, उसी तरह गुदा सेक्स का आनंद लेने के बाद शरीर की कुछ देखभाल की जानी चाहिए। यहाँ कुछ चीजें हैं जो आपको गुदा मैथुन करने के बाद करनी चाहिए:

ठीक से साफ करें

किसी भी दस्ताने, तौलिये या नैपकिन को साफ करें या उन्हें सही जगह डिस्पोज करें जिनका गुदा मैथुन के दौरान उपयोग किया गया हो। गुदा मैथुन करने के बाद उपस्थित बैक्टीरिया को हटाने के लिए गुदा क्षेत्र को अच्छी तरह से साफ करें।

उचित देखभाल

गुदा सेक्स करने के बाद बहुत अधिक कोमलता, दर्द और पीड़ा हो सकती है। सौम्य वाइप्स का उपयोग करना या यहां तक कि सुखदायक गर्म स्नान करना उस क्षेत्र में पीड़ा को दूर करने में बहुत मदद कर सकता है।

कीगल व्यायाम

ये पैल्विक मांसपेशियों के व्यायाम हैं जो श्रोणि की मांसपेशियों को टाइट करने में मदद कर सकते हैं जो गुदा को घेरती हैं। इन अभ्यासों को करने से गुदा को ढीला होने से रोका जा सकेगा।

गुदा मैथुन से जुड़े मिथक – Myths about Anal sex in Hindi

गुदा मैथुन से जुड़े मिथक - Myths about Anal sex in Hindi

सभी रहस्य और मिथक से घिरे गुदा सेक्स के बारे में कई मिथक फैले हुए हैं। गुदा सेक्स के बारे में सच्चाई जानना महत्वपूर्ण है क्योंकि हर कोई इसके परिणाम के लिए तैयार नहीं हैं।

गुदा सेक्स वास्तव में सेक्स नहीं है

क्योंकि अधिकांश लोग केवल योनि सेक्स को संभोग मानते हैं और गुदा सेक्स के बारे में बात करने के लिए अनिच्छुक होते हैं, यह माना जा सकता है कि गुदा सेक्स वास्तव में सेक्स का एक रूप नहीं है। हालाँकि, ऐसा बिलकुल नहीं है।

गुदा मैथुन केवल समलैंगिक पुरुषों के लिए है

महिलाएं और पुरुष दोनों ही गुदा मैथुन का आनंद लेते हैं और गुदा मैथुन समान रूप से करते हैं, और यह केवल समलैंगिकों के लिए नहीं है।

गुदा मैथुन करने के बाद आप गर्भवती नहीं हो सकती हैं

जबकि यह सिद्धांत में सही हो सकता है, गर्भावस्था का एक छोटा मौका है जब वीर्य गुदा संभोग के बाद बेहता हुआ योनि में प्रवेश कर जाता है।

जब आप गुदा सेक्स करते हैं तो आप कंडोम के बिना सुरक्षित रहते हैं

गुदा मैथुन के कारण अन्य जटिलताओं के साथ यौन संचारित रोग (एसटीडी) और एड्स होने की संभावना सबसे अधिक होती है। गुदा मैथुन करते समय एसटीडी और एनी यौन संक्रमण से बचने के लिए कंडोम का उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

गुदा मैथुन कैसे करें, इस सवाल के अलावा भी लोगों के मन में कई सवाल आते हैं। जैसे-

गुदा मैथुन कैसे करें, इस सवाल के अलावा भी लोगों के मन में कई सवाल आते हैं। जैसे-

क्या एनल सेक्स दर्दनाक होता है?

यदि गुदा मैथुन सही तरीके से किया जाता है, तो यह बहुत अच्छा महसूस हो सकता है। हालांकि, आप पहली बार गुदा सेक्स के दौरान कुछ असुविधा या दर्द महसूस कर सकते हैं। धीरे-धीरे आप इसे पसंद करने लगेंगे।

क्या एनल सेक्स के दौरान ब्लीडिंग होना सामान्य है?

पहली बार एनल सेक्स करने पर ऐसा हो सकता है कि आपको गुदा मैथुन करने के बाद हल्का रक्तस्राव हुआ हो। हालांकि, बाद में ब्लीडिंग नहीं होनी चाहिए। यदि आप गुदा मैथुन के दौरान हर बार रक्तस्राव का अनुभव करते हैं, तो यह चिंता का विषय हो सकता है। इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। यह किसी भी आंतरिक स्वास्थ्य स्थिति के कारण भी हो सकता है। बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यदि आपके और आपके पार्टनर ने ऐसा रिश्ता स्थापित कर लिया है, जहाँ आप गुदा मैथुन के बारे में बात करते समय सहज महसूस करते हैं। तो आप गुदा सेक्स करना शुरू कर सकते हैं। गुदा मैथुन आपकी कामुकता को बढ़ाने का एक और मजेदार तरीका साबित हो सकता है।

हालांकि, गुदा सेक्स को सुरक्षित बनाना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। इसे सुखद बनाने के लिए उचित सावधानी बरतें। गुदा मैथुन के लाभ लेने के लिए सुरक्षित और कम्फर्टेबल होना बहुत जरूरी है। उम्मीद है कि इस लेख से आप समझ गए होंगे कि गुदा मैथुन कैसे किया जाता है? इससे संबंधित अधिक जानकारी के लिए आप सेक्सोलॉजिस्ट डॉक्टर से भी संपर्क कर सकते हैं।

क्या आपके पास गुदा सेक्स को कम दर्दनाक और अधिक सुखद बनाने के लिए कोई और उपाय है? साथ ही गुदा मैथुन कैसे करें? (Anal Sex Kaise Kare in Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration