हेपेटाइटिस बी के लक्षण, कारण, जांच, उपचार और रोकथाम – Hepatitis B symptoms, Causes, Diagnose, Treatment, and Prevention in Hindi

हेपेटाइटिस बी के लक्षण, कारण, जांच, उपचार और रोकथाम - Hepatitis B symptoms, Causes, Diagnose, Treatment, and Prevention in Hindi
Written by Rajendra Patel

Hepatitis B In Hindi हेपेटाइटिस बी यकृत संक्रमण से सम्बंधित रोग है। यह तब फैलता है जब लोग उस व्यक्ति के रक्त, खुले घावों, या शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में आते हैं जिनके पास हेपेटाइटिस बी वायरस होता है। इस लेख में आप जानेंगे हेपेटाइटिस बी के लक्षण, कारण, प्रकार, निदान, उपचार और रोकथाम के उपाय के बारे में।

यह बीमारी ज्यादातर लंबे समय तक नहीं टिकती हैं। शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र इस रोग को कुछ महीनों के भीतर पूरी तरह से ठीक कर देता है। अच्छी बात तो यह है कि हेपेटाइटिस बी वाले ज्यादातर वयस्क पूरी तरह ठीक हो जाते हैं, भले ही उनके लक्षण गंभीर क्यों ना हों।

1. हेपेटाइटिस बी क्या है – What is hepatitis B in Hindi
2. हेपेटाइटिस बी के लक्षण – Hepatitis B Symptoms in Hindi
3. हेपेटाइटिस बी के कारण – Hepatitis B Causes in Hindi
4. हेपेटाइटिस बी होने पर डॉक्टर को कब दिखाएँ – When To See A Doctor In Hindi
5. हेपेटाइटिस बी के प्रकार – Types of Hepatitis B in Hindi
6. हेपेटाइटिस बी का निदान – Hepatitis B Diagnosis in Hindi

7. हेपेटाइटिस बी के उपचार – Hepatitis B Treatments in Hindi
8. हेपेटाइटिस बी की जटिलताएं – Hepatitis B Complications in Hindi
9. हेपेटाइटिस बी से बचाव – Hepatitis B Prevention in Hindi
10. हेपेटाइटिस बी में क्या खाएं – Diet for Hepatitis B in Hindi
11. हेपेटाइटिस बी में परहेज  – Hepatitis B Food to Avoid in Hindi

हेपेटाइटिस बी क्या है – What is hepatitis B in Hindi

हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) रोग, हेपेटाइटिस बी वायरस (HBV) के कारण होने वाला एक गंभीर यकृत संक्रमण रोग है। हेपेटाइटिस बी वायरस (HBV) पांच प्रकार के वायरल हेपेटाइटिस के वायरस में से एक प्रमुख प्रकार का वायरस है। इसके आलावा अन्य हेपेटाइटिस ए, सी, डी, और ई भी होते हैं। प्रत्येक हेपेटाइटिस में अलग-अलग प्रकार के वायरस पाए जाते है।

कुछ लोगों के लिए हेपेटाइटिस बी संक्रमण क्रोनिक (chronic) होता है, इसका अर्थ यह कि यह छह महीने से अधिक समय तक रहता है। क्रोनिक हेपेटाइटिस बी से यकृत की विफलता, यकृत कैंसर या लिवर सिरोसिस (cirrhosis) विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। क्रोनिक हेपेटाइटिस बी बहुत धीरे-धीरे विकसित होने वाला संक्रमण है। तथा इसके लक्षण थोड़े से गंभीर होने पर ही दिखाई देते है। अगर इसका इलाज समय पर नहीं किया जाता है तो यह घातक हो सकता है। क्रोनिक हेपेटाइटिस बी संक्रमण शिशुओं और बच्चों को अधिक प्रभावित करता है।

टीका हेपेटाइटिस बी को रोकने में सहायक हो सकता है, लेकिन यदि हालात बहुत गंभीर हैं तो इसका कोई इलाज नहीं है। यदि आप संक्रमित हैं, तो वायरस को दूसरों तक फैलाने से रोकने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए।

(और पढ़े – कोलोरेक्टल कैंसर (कोलन कैंसर) के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

हेपेटाइटिस बी के लक्षण – Hepatitis B Symptoms in Hindi

हेपेटाइटिस बी के लक्षण - Hepatitis B Symptoms in Hindi

हेपेटाइटिस बी का इलाज समय पर न किया जाये तो इसके लक्षण सामान्य से गंभीर तक हो सकते हैं।   इस रोग के लक्षण आमतौर पर संक्रमित होने के लगभग एक से चार महीने बाद दिखाई देते हैं। तीव्र (acute) हेपेटाइटिस बी के लक्षणों को दो सप्ताह की संक्रमण अवस्था के बाद देखा जा सकता है। हेपेटाइटिस बी के संकेत और लक्षणों में निम्न कारक शामिल हो सकते हैं जैसे-

हेपेटाइटिस बी के किसी भी लक्षण को अनदेखा ना करें। तीव्र (acute) हेपेटाइटिस बी के लक्षण 60 साल से अधिक उम्र के लोगों में बहुत जोखिम दायक हो सकते हैं। यदि आप हेपेटाइटिस बी से  संक्रमित हैं तो डॉक्टर को तुरंत दिखायें।

(और पढ़े – पीलिया के कारण, लक्षण और उपचार…)

हेपेटाइटिस बी के कारण – Hepatitis B Causes in Hindi

हेपेटाइटिस बी के कारण - Hepatitis B Causes in Hindi

Hepatitis B : हेपेटाइटिस बी संक्रमण हेपेटाइटिस बी वायरस (Hepatitis B virus) के कारण होता है। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में रक्त से, वीर्य (semen) या अन्य शरीर के तरल पदार्थ के माध्यम से फैल सकता है। यह छींकने या खांसने से नहीं फैलता है।

HBV या हेपेटाइटिस बी वायरस निम्न तरीकों से फैल सकता है

यौन संबंध से (Sexual contact) – किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने से हेपेटाइटिस बी फैल सकता है। यह वायरस व्यक्ति के खून, लार, वीर्य या योनि स्राव के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर सकता है।

(और पढ़े – सुरक्षित सेक्स करने के तरीके…)

सुइयों का साझा करने से (Sharing of needles) – HBV या हेपेटाइटिस बी संक्रमित रक्त से दूषित सुइयां और सिरिंज भी इसके संक्रमण का कारण है। अंतःशिरा दवा सामग्री का साझा भी हेपेटाइटिस बी के जोखिम को बढ़ा देता है।

मां से बच्चे को (Mother to child) – HBV से संक्रमित गर्भवती महिलाओं के अजन्मे बच्चे को जन्म के दौरान वायरस फैलने का खतरा बहुत अधिक होता हैं। अतः नवजात शिशु को संक्रमित होने से बचने के लिए टीका लगाया जा सकता है।

(और पढ़े – 6 महीने के बच्चे को खिलाएं ये आहार…)

हेपेटाइटिस बी होने पर डॉक्टर को कब दिखाएँ – When To See A Doctor In Hindi

हेपेटाइटिस बी होने पर डॉक्टर को कब दिखाएँ - When To See A Doctor In Hindi

यदि किसी व्यक्ति को लगता है कि वह हेपेटाइटिस बी के संपर्क में आ चुका हैं, तो उसे तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। यदि संक्रमित व्यक्ति, वायरस के संपर्क में आने के 24 घंटों के भीतर इलाज प्राप्त करता है तो हेपेटाइटिस बी के जोखिम को बहुत जल्दी कम किया जा सकता है।

अगर आपको लगता है कि आप हेपेटाइटिस बी के लक्षणों का शिकार हैं, तो अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

(और पढ़े – खराब पेट को ठीक करने के घरेलू उपाय…)

हेपेटाइटिस बी के प्रकार – Types of Hepatitis B in Hindi

हेपेटाइटिस बी का संक्रमण या तो तीव्र हेपेटाइटिस बी या लंबे समय तक चलने वाला हेपेटाइटिस बी (Acute hepatitis B vs. Chronic hepatitis B) के रूप में हो सकता है।

तीव्र हेपेटाइटिस बी (Acute hepatitis B in hindi)

यह संक्रमण छह महीने से भी कम समय तक अपना प्रभाव रखता है। मरीज की प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर से तीव्र (Acute) हेपेटाइटिस बी को नष्ट करने में सक्षम हो सकती है, और मरीज कुछ महीनों में ही पूरी तरह से ठीक हो सकता।

क्रोनिक हेपेटाइटिस बी (chronic hepatitis B in hindi)

इस संक्रमण का छह महीने या उससे अधिक समय तक प्रभाव रहता है। यह बहुत देर तक ठहरता है क्योंकि प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लड़ में सक्षम नहीं होती है। क्रोनिक हेपेटाइटिस बी संक्रमण जीवनभर, सिरोसिस और यकृत कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के रूप में रह सकता है।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)

हेपेटाइटिस बी का निदान – Hepatitis B Diagnosis in Hindi

हेपेटाइटिस बी का निदान - Hepatitis B Diagnosis in Hindi

डॉक्टर संक्रमित व्यक्ति की जांच कर यकृत (liver) की क्षति के कारणों का पता लगाता है, जैसे पीले रंग की त्वचा या पेट दर्द। हेपेटाइटिस बी की जटिलताओं का निदान करने के लिए डॉक्टर द्वारा निम्न परीक्षण किए जा सकते हैं:

रक्त परीक्षण टेस्ट हेपेटाइटिस बी  – Hepatitis B Test Blood Test in Hindi

रक्त परीक्षण के आधार पर शरीर में हेपेटाइटिस बी वायरस के लक्षणों का पता लगाया जा सकता है और साथ ही साथ कि यह टेस्ट तीव्र (Acute) या पुरानी (chronic) हेपेटाइटिस बी की जानकारी डॉक्टर को प्रदान कर सकता है। एक साधारण रक्त परीक्षण से यह भी निर्धारित किया जा सकता है कि संक्रमण की स्थिति से निपटने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली सक्षम है या नहीं।

हेपेटाइटिस बी को स्क्रीन करने के लिए, डॉक्टर रक्त परीक्षण की एक श्रृंखला तैयार करता है।

(और पढ़े – सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या कैसे बढ़ाएं…)

हेपेटाइटिस बी सतह एंटीजन परीक्षण – Hepatitis B Surface Antigen Test in Hindi

इस परीक्षण से यह पता चलता है कि आप संक्रमण की चपेट में हैं या नहीं। यदि परिणाम सकारात्मक (positive)है, तब इसका मतलब है कि आपके पास हैपेटाइटिस बी है और वायरस फैल सकता है। और यदि परिणाम नकारात्मक (negative) हैं, तो इसका मतलब है कि वर्तमान में हेपेटाइटिस बी नहीं है। यह परीक्षण क्रोनिक और तीव्र (Acute) संक्रमण के बीच अंतर स्पष्ट नहीं कर पाता है।

(और पढ़े – लूपस (चर्मक्षय) क्या है इसके कारण, लक्षण, इलाज, रोकथाम और घरेलू उपचार…)

कोर एंटीजन परीक्षण हेपेटाइटिस बी – Hepatitis B Core Antigen Test In Hindi

वर्तमान में हेपेटाइटिस बी से संक्रमित होने की स्थिति का पता लगाने के लिए हेपेटाइटिस बी कोर एंटीजन परीक्षण किया जाता है। सकारात्मक (Positive) परिणाम का यह बताते है कि मरीज को तीव्र या क्रोनिक हेपेटाइटिस बी है।

(और पढ़े – ट्राइकोमोनिएसिस के कारण, लक्षण, इलाज एवं बचाव…)

हेपेटाइटिस बी सतह एंटीबॉडी परीक्षण – Hepatitis B Surface Antibody Test in hindi

एचबीवी के प्रतिरक्षा की जांच के लिए हेपेटाइटिस बी सतह एंटीबॉडी परीक्षण प्रयोग में लाया जाता है। इसके सकारात्मक परीक्षण यह जानकारी देते है कि हेपेटाइटिस बी रोग से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली सक्षम है।

(और पढ़े – इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के कारण, लक्षण, इलाज एवं बचाव…)

लिवर अल्ट्रासाउंड टेस्ट हेपेटाइटिस बी – Liver Ultrasound Test Hepatitis B in Hindi

एक विशेष अल्ट्रासाउंड जिसे transient elastography (क्षणिक इलास्टोग्राफी) के नाम से जाना जाता है, यकृत की क्षति का पता लगाने के लिए उपयोग में लाया जाता है।

(और पढ़े – अल्ट्रासाउंड क्या है और सोनोग्राफी की जानकारी…)

लीवर बायोप्सी टेस्ट हेपेटाइटिस बी – Hepatitis B test lever biopsy in Hindi

यकृत क्षति का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर यकृत बायोप्सी (Liver biopsy) का सहारा ले सकता है। इस परीक्षण में यकृत के ऊतक का एक छोटा नमूना लेने के लिए डॉक्टर त्वचा के माध्यम से यकृत में एक पतली सुई डालता है और प्रयोगशाला विश्लेषण के लिए ऊतक का नमूना ले लेता है।

(और पढ़े – बायोप्सी कराने का उद्देश्य, तरीका, फायदे और नुकसान…)

हेपेटाइटिस बी के उपचार – Hepatitis B Treatments in Hindi

यदि किसी व्यक्ति को ऐसा लगता है की वह पिछले 24 घंटों में हेपेटाइटिस बी के संपर्क में आ चुका है, तो उस व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। हेपेटाइटिस बी टीका और HBV इम्यूनोग्लोबुलिन (एंटीबॉडी) का इंजेक्शन प्राप्त करके संक्रमित होने से बचा जा सकता है। अतः टीकाकरण ही इससे बचने का सबसे आसान तरीका है।

हेपेटाइटिस बी के उपचार के लिए निम्न विकल्प होते हैं –

  • तीव्र (Acute) हेपेटाइटिस बी के लिए प्रायः उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। क्योंकि ज्यादातर लोग अपने आप पर इस गंभीर संक्रमण से ठीक हो जाते है। आराम और हाइड्रेशन (पर्याप्त पानी पीकर) इसके इलाज में मदद करते हैं।
  • पुराने (chronic) हेपेटाइटिस बी के इलाज के लिए एंटीवायरल दवाओं का उपयोग किया जाता है। इससे हेपेटाइटिस बी वायरस से लड़ने के लिए शरीर को मदद मिलती है।
  • हेपेटाइटिस बी के प्रभाव से यदि यकृत गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो जाता है तो यकृत प्रत्यारोपण के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। यकृत प्रत्यारोपण से तात्पर्य है क्षतिग्रस्त यकृत को, दाता यकृत के साथ बदल देना।

(और पढ़े – लीवर की कमजोरी कारण लक्षण और दूर करने के उपाय…)

हेपेटाइटिस बी की जटिलताएं – Hepatitis B Complications in Hindi

क्रोनिक हेपेटाइटिस बी से पीड़ित लोग गुर्दे की बीमारी या रक्त वाहिकाओं में सूजन, जैसी जटिल समस्याओं का सामना कर सकते हैं। क्रोनिक हेपेटाइटिस बी होने की जटिलताओं में शामिल हैं:

  • हेपेटाइटिस डी संक्रमण
  • यकृत स्कार्फिंग (सिरोसिस)
  • लीवर फेलियर
  • यकृत कैंसर
  • कुछ गंभीर मामलों में मौत भी हो सकती है
  • हेपेटाइटिस डी संक्रमण केवल हेपेटाइटिस बी वाले लोगों में हो सकता है।

(और पढ़े – अपच या बदहजमी (डिस्पेप्सिया) के कारण, लक्षण, इलाज और उपचार…)

हेपेटाइटिस बी से बचाव – Hepatitis B Prevention in Hindi

हेपेटाइटिस बी से बचाव - Hepatitis B Prevention in Hindi

Hepatitis B : हेपेटाइटिस बी संक्रमण को रोकने के लिए सबसे अच्छा और आसान तरीका टीकाकरण है। हेपेटाइटिस बी के टीके आमतौर पर छह महीने में तीन या चार इंजेक्शन के रूप में दिए जाते है। हैं। टीका से हेपेटाइटिस बी को संक्रमित होने से रोका जा सकता है। निम्नलिखित समूह वर्गों के लिए हेपेटाइटिस बी टीका की सिफारिश की जाती है।

  • नवजात शिशु को।
  • किसी भी बच्चे और किशोरावस्था वाले को, जिन्हें जन्म में टीका नहीं किया गया था।
  • वे लोग जो हेपेटाइटिस बी वाले संक्रमित व्यक्ति के साथ रहते हैं।
  • स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ता, आपातकालीन श्रमिक और अन्य लोग जो संक्रमित रक्त से संपर्क में आते हैं।
  • कोई भी व्यक्ति जिसके पास यौन संक्रमित संक्रमण है, जिसमें एचआईवी भी शामिल है।
  • यौन संक्रमित वयस्क जिनका संक्रमण के लिए इलाज किया जा रहा है।
  • वे लोग जो अवैध ड्रग्स इंजेक्ट करते हैं या सुई और सिरिंज साझा करते हैं।
  • यकृत रोग से पीड़ित लोग।
  • हेपेटाइटिस बी रोग से पीड़ित व्यक्ति के यौन साथी को।
  • हेपेटाइटिस बी वाले परिवार के सदस्य को।
  • एचआईवी पॉजिटिव व्यक्तियों को।

(और पढ़े – HIV एड्स के शुरुआती लक्षण जो आपको पता होने चाहिए…)

हेपेटाइटिस बी की रोकथाम और संक्रमण के जोखिम को कम करने के अन्य तरीके भी हैं :

  • यौन संबंधियों से हमेशा हेपेटाइटिस बी परीक्षण कराने के लिए पूछना चाहिए।
  • गुदा, योनि या मौखिक सेक्स होने पर कंडोम या dental dam का प्रयोग करना चाहिए।
  • यदि आप अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यात्रा करने के दौरान यह सुनिश्चित कर लें कि गंतव्य स्थान में हेपेटाइटिस बी की उच्च घटनाएं हैं या नहीं। और यदि है तो टीकाकरण कराना सुनिश्चित कर लें।

हेपेटाइटिस बी में क्या खाएं – Diet for Hepatitis B in Hindi

हेपेटाइटिस बी में क्या खाएं - Diet for Hepatitis B in Hindi

हेपेटाइटिस बी से यकृत को होने वाले नुकसान को कम करने के लिए स्वस्थ जीवनशैली अपनाना बहुत जरूरी होता है। “हेपेटाइटिस वाले व्यक्ति को स्वस्थ, संतुलित आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। अतः एक अच्छे आहार के रूप में निम्न सामग्री उपयोग में ला सकते है:

  • फल और सब्जियों का सेवन करें।
  • पूरे अनाज जैसे ओट्स (oats), ब्राउन चावल, जौ और किनोआ (Quinoa) को अपने आहार में सामिल करें।
  • लीन प्रोटीन (Lean protein) जैसे मछली, त्वचा रहित चिकन, अंडे का सफेद भाग, और फलियां  (beans) का सेवन करना लाभदायक होता है।
  • कम वसा या गैर वसा वाले डेयरी उत्पाद को अपनाएं।
  • नट्स, एवोकैडो, और जैतून का तेल जैसे स्वस्थ वसा का उपयोग करें।

(और पढ़े – ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर 10 खाद्य पदार्थ…)

हेपेटाइटिस बी में परहेज  – Hepatitis B Food to Avoid in Hindi

हेपेटाइटिस बी में परहेज  – Hepatitis B Food to Avoid in Hindi

  • हेपेटाइटिस बी से छुटकारा पाने के लिए नीचे दिए गए पदार्थों से सेवन से बचना चाहिए जैसे:
  • मक्खन, खट्टा क्रीम, और अन्य उच्च वसायुक्त डेयरी खाद्य पदार्थ, मांस, आदि।
  • तला हुआ भोजन में पाए जाने वाले संतृप्त वसा के सेवन से बचें।
  • मीठा खाना, केक, सोडा, और पैक किए गए और बेक्ड (baked) सामान का सेवन ना करें।
  • भोजन के साथ भारी मात्रा में नमक के सेवन से बचें।
  • शराब का सेवन ना करें

(और पढ़े – शाकाहारियों के लिए प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration