6 महीने के बच्चे को खिलाएं ये आहार – 6 Months Baby Food Chart in Hindi

6 महीने के बच्चे को खिलाएं ये आहार - 6 Months Baby Food Chart in Hindi
Written by Anamika

6 Months old Baby Food in Hindi बच्चे के 6 महीने का होने के बाद हर मां बच्चे को स्तनपान कराने के साथ ही उसे कुछ आहार भी खिलाना चाहती है। वास्तव में यह एक ऐसा समय होता है जब बच्चा दूध के अलावा किसी अन्य आहार का पहला स्वाद चखता है। लेकिन ज्यादातर मांओं को इस बारे में सही जानकारी नहीं होती है कि 6 महीने का होने के बाद आखिर बच्चे को किस तरह का आहार देना चाहिए। जानकारी के अभाव में ज्यादातर मांएं अपने बच्चे को ऐसा आहार खिला देती हैं जो कभी-कभी बच्चे के लिए नुकसानदायक भी हो जाता है। इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी देंगे कि जब बच्चा 6 महीने का हो जाए तो उसे किस तरह के आहार देने चाहिए।

1. 6 महीने के शिशु के लिए आहार – 6 month baby Food Chart in hindi

2. 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाना चाहिए – Healthy diet for 6-month baby in Hindi

3. 6 महीने के बच्चे के लिए नाश्ता – Breakfast for 6 Months old Baby in Hindi

4. लंच के लिए 6 महीने के शिशु का आहार – Lunch Recipes for 6 Months Baby in Hindi

5. 6 महीने के बच्चे के लिए रात का भोजन – Dinner Recipes for 6 Months old Baby in Hindi

6. 6 माह के बच्चे के लिए आहार तैयार करते समय सावधानियां – Precautions While Preparing Food for 6 Months Baby in Hindi

6 महीने के शिशु के लिए आहार – 6 month baby Food Chart in hindi

6 महीने तक बच्चे को लगातार स्‍तनपान कराएं – Milk for 6 Months old Baby in Hindi

बच्चे को बार-बार और लगातार स्तनपान कराते रहें क्योंकि जब तक बच्चा एक साल से अधिक उम्र का नहीं हो जाता है उसे सभी पोषक मां के दूध से ही प्राप्त होता है। प्रत्येक दो या तीन घंटे पर या जरूरत के हिसाब से बच्चे को स्तन पान कराएं।

7 महीने के बच्चे को खिलाये फल – Fruits for 7 Months old Baby in Hindi

7 महीने के बच्चे को खिलाये फल - Fruits for 7 Months old Baby in Hindi

सेब, एवोकैडो, खूबानी, केला, आम, नाशपाती, पपीता जैसे फल बच्चे को 6 महीने का होने के बाद खिलाते रहना चाहिए।

6 महीने के बच्चे को खिलाना चाहिए सब्जियां – Veggies for 6 Months Baby in Hindi

6 महीने के बच्चे को खिलाना चाहिए सब्जियां - Veggies for 6 Months Baby in Hindi

छह महीने का होने के बाद बच्चा उबली एवं मसली हुई सब्जियां जैसे हरी बीन्स, गाजर, स्वीट पोटैटो, हरी मटर और आलू को आसानी से पचा सकता है।

6 महीने के बाद बच्चे को पानी पिलाना शुरू करें – Water for 6 Months old Baby in Hindi

6 महीने के बाद बच्चे को पानी पिलाना शुरू करें - Water for 6 Months old Baby in Hindi

छह महीने का होने के बाद बच्चे को उबला हुआ पानी ठंडा करके दिन में कम से कम तीन बार पिलाएं।

अनाज एवं दालें भी खिलाएं 6 महीने के बच्चे को – Cereals and pulses for 6 Months Baby in Hindi

बच्चे को अनाज एवं दालें जैसे चावल, जौ, ओट्स और आवश्यक पोषक तत्व युक्त आहार दें।

6 महीने का बच्चा कितनी मात्रा में आहार लेता है – 6 Month Ka Baby Kitna Aahar khata hai in Hindi

जब बच्चा 6 महीने का हो जाए तो उसे धीरे-धीरे हल्का आहार देना शुरू कर देना चाहिए। शुरू में बच्चे को सिर्फ 5 से 10 मिलीलीटर या एक या दो चम्मच ही आहार खिलाएं। इसके बाद धीरे-धीरे इसकी मात्रा को बढ़ाएं। अगर बच्चा आधा या एक चम्मच से अधिक आहार नहीं लेता है तो उसे जबरदस्ती न खिलाएं। बच्चे का आहार तैयार करते समय यह ध्यान रखें कि उसे कोई ठोस आहार (solids) न खिलाएं अन्यथा उसका पेट खराब हो सकता है।

छह महीने के बच्चे के लिए डाइट चार्ट और रेसिपी – Six Months Baby Diet Chart And Recipes in Hindi

आपको बता दें कि जब आपका बच्चा 6 महीने का हो जाए तो उसे सुबह 7.30 से 8 बजे के बीच नाश्ता, 11.30 से 12.30 के बीच लंच और 6 से 7 बजे के बीच रात का आहार खिलाएं। इसके अलावा इन तीनों प्रकार के मील के अलावा बच्चे को बीच-बीच में मां के दूध के साथ ही पहले से तैयार आहार भी थोड़ी मात्रा में बच्चे को देते रहें।

6 महीने के बच्चे को क्या खिलाना चाहिए – Healthy diet for 6-month baby in Hindi

6 महीने के बच्चे को क्या खिलाना चाहिए - Healthy diet for 6-month baby in Hindi

6 महीने के बच्चे के लिए नाश्ता – Breakfast for 6 Months old Baby in Hindi

यदि आपका बच्चा 6 महीने का हो गया हो तो उसे 7.30 से 8 बजे के बीच नाश्ता खिलाना चाहिए। ज्यादातर नवजात बच्चे सुबह जल्दी जग जाते हैं जबकि कुछ बच्चे देर से जगते हैं। यदि आपका बच्चा सुबह 7 बजे से पहले जग जाता है तो उसे सबसे पहले स्तन का दूध पिलाएं। लेकिन यदि बच्चा 8 बजे के बाद जगता है तो उसे स्तन का दूध पिलाने की बजाय दूध में पकी सामग्री नाश्ते में खिलाएं।

खूबानी प्यूरी 6 महीने के शिशु का आहार – Apricot puree for 6 Months old Baby in Hindi

सूखी हुई खूबानी और दो कप कटी हुई नाशपाती को 15 मिनट तक हल्के आंच पर उबालें और इसे अच्छी तरह से मसलकर या पीसकर इसमें अंगूर का जूस या सेब का जूस मिलाकर प्यूरी को थोड़ा पतला कर लें और बच्चे को नाश्ते में खिलाएं। इसके अलावा दूध में जौ की खीर बनाकर भी बच्चे को खिलाया जा सकता है।

(और पढ़े – खुबानी के फायदे स्वास्थ्य लाभ और उपयोग…)

एप्पल प्यूरी बच्चे को नाश्ते में खिलाएं – Apple sauce for 6 Months old Baby in Hindi

एक कटे हुए सेब को दो कप पानी में उबालें और इसे अच्छी तरह से मसलकर (mash) थोड़ा सा पानी डालकर एप्पल सॉस को पतला कर लें और नाश्ते में बच्चे को खिलाएं। स्वीट कॉर्न वेजिटेबल को ब्लेंड करके इसका सूप तैयार करके 6 महीने से 1 साल तक के बच्चे को खिलाया जा सकता है।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान…)

केला प्यूरी खिलाएं 6 महीने के बच्चे को – Banana puree for 6 Months old Baby in Hindi

पके हुए केले को ब्लेंड (Blend) कर लें या एक कटोरी में अच्छी तरह से मसल लें और इसे लगभग 30 सेकेंड तक गर्म करें इससे केला प्यूरी और मुलायम हो जाएगी। इसके बाद इसमें पानी या दूध मिलाकर इसे पतला कर लें और बच्चे को नाश्ते में खिलाएं।

(ओर पढ़े – केला खाने के फायदे जो आपने अभी तक सुने नहीं होंगे…)

आम का रस भी दें नाश्ते में बच्चे को – Mango delight for 6 Months Baby in Hindi

एक पके हुए आम के गूदे को फूड प्रोसेसर में ब्लेंड कर लें और इसे एक कटोरी में निकालकर स्तन का दूध मिलाकर पतला कर लें और बच्चे को नाश्ते में चम्मच से खिलाएं। ओट्स एवं साबुदाने की खिचड़ी भी छोटे बच्चे को नाश्ते में खिलाना एक बेहतर विकल्प है।

(ओर पढ़े – आम रस के फायदे और बनाने की विधि…)

लंच के लिए 6 महीने के शिशु का आहार – Lunch Recipes for 6 Months Baby in Hindi

छह माह के बच्चे को 11.30 से 12.30 के बीच लंच के बीच लंच खिलाना चाहिए।

चावल की रेसिपी 6 महीने के बच्चे के लिए – Rice cereal for 6 Months Baby in Hindi

1/4 चावल को धोकर इसे पानी में अच्छी तरह से उबाल लें और उबलने के बाद इसे मैश करके इसमें स्तन का दूध (breast milk) या फॉर्मूला मिल्क मिलाकर पतला कर लें और लंच में इस आहार को बच्चे को खिलाएं।

(और पढ़े – राइस ब्रान आयल फायदे उपयोग और नुकसान)

8 महीने के बच्चे के लिए जौ की खिचड़ी – Barley apple porridge for 8 Months Baby in Hindi

एक भगौने में पानी गर्म करें और इसमें 1/4 कप जौ डालकर 10 मिनट तक उबालें। इसके बाद एक कप एप्पल के कटे टुकड़े डालें और 2 मिनट तक पकाएं। पकने के बाद इस पूरे मिश्रण को ब्लेंड करके प्यूरी तैयार कर लें और लंच में अपने बच्चे को खिलाएं। इसके अलावा अरहर की दाल को पकाकर दाल का पतला पानी भी 6 महिने से 1साल तक के बच्चों को दिया जाता है।

(और पढ़े – जौ के पानी के फायदे, स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

ओट मील आहार 8 महीने के बच्चे के लिए – Oatmeal cereal for 8 Months old Baby in Hindi

ओट मील आहार 8 महीने के बच्चे के लिए - Oatmeal cereal for 8 Months old Baby in Hindi

एक बर्तन में पानी उबालें और इसमें ओट्स डालकर धीमी आंच पर 10 मिनट तक पकाएं। इसके बाद इसमें पका केला मिलाएं और इस मिश्रण को अच्छी तरह से मसलें। पूरी तरह से ठंडा होने के बाद इसमें स्तन का दूध मिलाकर शिशु को खिलाएं। आप चाहें तो दूध में दलिया बनाकर भी लंच में बच्चे को खिला सकती हैं।

(और पढ़े – दूध के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान)

चावल का पानी दें 6 महीने के बच्चे को – rice water for 6 Months old Baby in Hindi

एक बर्तन में पानी गर्म करें और इसमें एक चौथाई कप चावल डालकर पकाएं। चावल जब पूरी तरह से न पका हो तब इसमें से चावल का पानी निकाल लें और उसमें जरा सा नमक मिलाकर ठंडा करके बच्चे को खिलाएं।

6 महीने के बच्चे के लिए रात का भोजन – Dinner Recipes for 6 Months old Baby in Hindi

रात में 6 से 7 बजे के बीच बच्चे को रात का आहार खिलाना चाहिए।

  1. 6 महीने के शिशु को खिलाएं लौकी प्यूरी – Pumpkin puree for 6 Months old Baby in Hindi
  2. हरी बीन्स की प्यूरी 6 माह के बच्चे के लिए – Green beans puree for 6 Months old Baby in Hindi
  3. गाजर प्यूरी 6 माह के बच्चे के लिए – Carrots puree for 6 Months old Baby in Hindi
  4. 6 महीने के शिशु के लिए दाल का पानी – Daal water for 6 Months old Baby in Hindi

6 महीने के शिशु को खिलाएं लौकी प्यूरी – Pumpkin puree for 6 Months old Baby in Hindi

6 महीने के शिशु को खिलाएं लौकी प्यूरी - Pumpkin puree for 6 Months old Baby in Hindi

एक मध्यम आकार की लौकी लें और इसका एक बड़ा टुकड़ा काटकर इसमें से बीज बाहर निकाल दें। इसके बाद लौकी के गूदे को 40 मिनट तक किसी बर्तन में पकाएं। जब लौकी पकने के बाद नरम हो जाए तो इसे से मसल लें और जरा सा चीनी मिलाकर ठंडा करने के बाद बच्चे को खिलाएं।

(और पढ़े – लौकी खाने और लौकी का जूस पीने के बेहतरीन फायदे…)

हरी बीन्स की प्यूरी 6 माह के बच्चे के लिए – Green beans puree for 6 Months old Baby in Hindi

हरी बीन्स की प्यूरी 6 माह के बच्चे के लिए - Green beans puree for 6 Months old Baby in Hindi

एक कप बीन्स को पानी में उबालें और उबलने के बाद इसे अच्छे से ब्लेंड करें और इसमें चीनी और स्तन का दूध मिलाकर प्यूरी बना लें और लंच में अपने बच्चे को खिलाएं।

(और पढ़े – ग्वार फली खाने के फायदे, गुण और नुकसान)

गाजर प्यूरी 6 माह के बच्चे के लिए – Carrots puree for 6 Months old Baby in Hindi

गाजर प्यूरी 6 माह के बच्चे के लिए - Carrots puree for 6 Months old Baby in Hindi

एक गाजर को बारीक काटकर इसे भाप में पकाएं और नरम होने पर इसे अच्छे से मसल लें और इसमें पानी या दूध मिलाकर पतला कर लें एवं थोड़ी मात्रा में चीनी मिलाकर बच्चे को खिलाएं।

(और पढ़े – गाजर खाने के फायदे और स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

6 महीने के शिशु के लिए दाल का पानी – Daal water for 6 Months old Baby in Hindi

6 महीने के शिशु के लिए दाल का पानी - Daal water for 6 Months old Baby in Hindi

रात के भोजन में भी बच्चे को दाल का पानी दिया जा सकता है। अरहर की दाल को अच्छी तरह से पका लें और पकाते समय नमक एवं हल्दी हल्का डालें। दाल पकने के बाद दाल का पानी निकाल लें और ठंडा करके बच्चे को चम्मच से चटाएं।

6 माह के बच्चे के लिए आहार तैयार करते समय सावधानियां – Precautions While Preparing Food for 6 Months Baby in Hindi

  • यदि बच्चा एक साल से कम उम्र का हो तो उसे गाय का दूध न पिलाएं। इसके अलावा उसे शहद भी न चटाएं क्योंकि शहद में जीवाणु (spores) होते हैं जो बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।
  • यदि बच्चा 6 महीने का है तो उसे टुकड़ों में कटा फल न खिलाएं अन्यथा उसे घिग्घी बंध सकती है।
  • बच्चे के एक समय में एक ही फल खिलाएं अन्यथा उसे एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है। दूसरा फल पहला फल खिलाने के चार दिन बाद खिलाएं।
  • अपने बच्चे को अच्छे एवं खुशनुमा वातावरण में आहार खिलाएं या स्तनपान कराएं।
  • बच्चे का भोजन कांच या स्टील के बर्तन में तैयार करें। प्लास्टिक के बर्तन का इस्तेमाल न करें।
  • बच्चे को बिस्किट न खिलाएं क्योंकि इसमें रिफाइंड आटा और कुछ संरक्षक रसायन (preservatives) मिले होते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration