पीलिया का घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज – Jaundice Home Remedies In Hindi

पीलिया का घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज - jaundice Home Remedies in Hindi
Written by Jaideep

जानिए पीलिया कैसे होता है, पीलिया का घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज क्या है, पीलिया में क्या खाएं और क्या न खाएं के बारे में। पीलिया होने का मुख्य कारण खून में बिलीरुबिन (bilirubin) का बढ़ना है। बिलीरुबिन एक पीले रंग का द्रव्य है जो लाल रक्त कणों के टूटने के दौरान उत्पन्न होता है। इसके कारण आपकी त्वचा, आंख और मसूड़ों (Eyes and gums) का रंग अत्यधिक पीला हो जाता है।

लीवर आमतौर पर रक्त से बिलीरुबिन को साफ करता है। इसलिए पीलिया आमतौर पर यकृत (लीवर) रोग या इसकी विफलता से संबंधित होता है। अधिकांशत: पीलिया नवजात शिशुओं, छोटे बच्‍चों और कम प्रतिरक्षा शक्ति (Low Immunity) वाले बच्चों और वयस्कों में होता हैं। ज्यादातर मामलों में खून में 2 से 3 मिलीग्राम प्रति डिकिलीटर (mg/dL) या इससे अधिक बिलीरुबिन मात्रा पीलिया के लक्षणों को पैदा करता है।

1. पीलिया होने के कारण – Causes of jaundice in Hindi
2. पीलिया के लक्षण – Symptoms of jaundice in Hindi
3. आहार की क्‍या भूमिका है पीलिया में – Role of your diet for jaundice in Hindi
4. पीलिया में क्या खाना चाहिए इन हिंदी – What to eat for Jaundice in Hindi

5. पीलिया में परहेज इन हिंदी – What foods should avoid jaundice in Hindi

6. पीलिया का घरेलू इलाज – jaundice Home Remedies in Hindi

7. पीलिया के अन्य घरेलू उपचार और नुस्खे – Ayurvedic Home Remedies for Jaundice in Hindi

पीलिया होने के कारण – Causes of jaundice in Hindi

वयस्कों और शिशुओं दोनों में, शरीर में अतिरिक्त बिलीरुबिन के कारण पीलिया होता है। बिलीरुबिन एक अशिष्ट उत्पाद है जो आपके लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने के परिणामस्वरूप उत्पादित होता है। यह यौगिक मल के माध्यम से उत्सर्जित किया जाता है।

तेल मसालेदार, खट्टा, नमकीन, क्षारीय और बहुत गर्म खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन और शराब आदि पीलिया रोग का कारण बनता है। बढ़ा हुआ पित्त (in the form of bile) तब यकृत के रक्‍त और मांसपेशीय ऊतको (muscular tissue) को कमजोर कर देता है जिससे यकृत के चैनलों में अवरोध उत्पन्न होता है और इस प्रकार पित्त को रक्‍त में वापस भेज दिया जाता है जिससे आंखों और त्वचा का रंग पीला हो जाता है। दिन में सोना, यौन गतिविधी में अतिसंवेदनशीलता, अधिक शारीरिक परिश्रम, वासना, भय, क्रोध और तनाव आदि भी पीलिया के कारण हो सकते हैं।

पीलिया के लक्षण – Symptoms of jaundice in Hindi

पीलिया के कुछ लक्षण (symptoms) होते हैं जो इस प्रकार हैं :

  • उंघाई आना (Drowsiness)
  • दुर्बलता, थकान
  • आंखों, त्‍वचा और नाखूनों का पीला होना
  • पेट फूलना, भूख की कमी
  • शरीर में जलन
  • कम मात्रा में बुखार बने रहना
  • खट्टी डकार, अत्‍याधिक प्‍यास लगना
  • कामेच्‍छा की कमी

आहार की क्‍या भूमिका है पीलिया में – Role of your diet for jaundice in Hindi

आप जो कुछ भी खाते हैं या पीते हैं उनसे पोषक तत्‍वों को और ऊर्जा प्राप्‍त करने में यकृत (liver) आपके शरीर की मदद करता है। आपका यकृत शरीर से विषाक्‍त पदार्थों और पुरानी क्षतिग्रस्‍त रक्‍त कोशिकाओं (toxins and damaged blood cells ) को भी दूर करता है। जब यह प्रक्रिया बाधित होती है तो यह अपशिष्‍ट उत्‍पाद बिलीरुबिन का निर्माण कर सकता है। इसके परिणाम स्‍वरूप आपको पीलिया (jaundice) हो सकता है।

आप जो कुछ भी सेवन करते हैं उसका प्रत्‍यक्ष प्रभाव आपके यकृत स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है। एक स्‍वस्‍थ्‍य भोजन खाने से आपके यकृत को अधिक कुशलता से काम करने और आपके शरीर से विषाक्‍त पदार्थों (excess toxins) को दूर करने में मदद मिलती है। एक स्‍वस्‍थ्‍य यकृत पीलिया के लक्षणों को कम करने और भविष्‍य में इसके होने की संभावना को कम करता है।

जब यकृत को काम करने की मात्रा बढ़ जाती है तो खाद्य पदार्थों को पचाना मुश्किल होता है। यह विशेष रूप से परिष्‍कृत शर्करा, नमक और असंतृप्‍त वसा आदि का अधिक मात्रा में सेवन करने के कारण होता है। शराब और कुछ दवाओं जैसे विषाक्‍त पदार्थ चयापचय (metabolism) के दौरान यकृत कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं। पीलिया वाले लोगों को आमतौर पर ऐसे भोजन और पेय की सलाह दी जाती है जो पाचन और चयापचय के सुधार में मदद करते हैं और यकृत को स्‍वस्‍थ्‍य रखते हैं।

(और पढ़े – लीवर की कमजोरी कारण लक्षण और दूर करने के उपाय)

पीलिया में क्या खाना चाहिए इन हिंदी – What to eat for Jaundice in Hindi

पीलिया रोगी को अपने उपचार के दौरान संतुलित भोजन की आवश्‍यक्‍ता होती है जिसमें कि सभी पोषक तत्‍वों की पूर्ति की जा सके। इसके कुछ त्‍वरित सुझाव इस प्रकार हैं :

  • प्रतिदिन कम से कम 8 गिलास तरल पदार्थ (liquid substance) पीएं। इसके लिए पानी और चाय अच्‍छे विकल्‍प हैं।
  • आप अपनी दिनचर्या में दूध के सेवन को शामिल करें। आप ताजा चाय का उपयोग कर सकते हैं या बीजों को स्‍नेक्‍स के रूप में खा सकते हैं।
  • पपीता और आम जैसे फलों का उपयोग करें जो पाचन एंजाइमों (digestive enzymes) में समृद्ध हैं।
  • सब्‍जीयों और फलों का अधिक से अधिक सेवन करें।
  • उच्‍च फाइबर (high fiber) युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करें जैसे दलिया, जामुन और बादाम आदि।

एक ऐसा संतुलित भोजन (balanced diet) जिसमें सभी पांच प्रकार के खाद्य पदार्थ शामिल हो इनका सेवन पीलिया के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। ये खाद्य सामग्री लीवर के स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने और पीलिया के प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं। यदि आपका इलाज किसी डॉक्टर के यहां चल रहा है तो डॉक्टर पीलिया रोगी (Jaundice) को आहार संबंधी सुझाव सहित एक व्यक्तिगत उपचार योजना प्रदान करता है। वह आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों और पेय की सलाह दे सकता है जो पीलिया रोगी के लिए फायदेमंद होते हैं। पीलिया रोगी के उपचार के दौरान उपभोग करने वाले खाद्य पदार्थों और पेय में शामिल हैं :

पीलिया रोगी के लिए फायदेमंद कॉफी या हर्बल चाय – Coffee or herbal tea for Jaundice in Hindi

कॉफी या हर्बल चाय (moderate coffee) का सेवन करके यकृत स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार किया जा सकता है। इसके साथ ही यह निम्न खतरों को भी कम करते है –

  • सिरोसिस का खतरा
  • हानिकारक यकृत एंजाइम
  • सूजन

यह आपके एंटीआक्सीडेंट स्‍तर को बढ़ा सकता है, जो शरीर से स्‍पष्‍ट विषाक्‍त पदार्थों को हटाने में मदद करता है। 2017 के शोध से पता चलता है कि प्र‍तिदिन लगभग तीन कप कॉफी या हर्बल चाय (herbal tea) पीने से यकृत की कठोरता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

दुग्ध रोम पीलिया रोगी के लिए उपयोगी – Milk thistle for Jaundice in Hindi

दुग्ध रोम पीलिया रोगी के लिए उपयोगी – Milk thistle for Jaundice in Hindi

जड़ी बूटी का नाम कुचले जाने पर पत्तियों से निकलने वाले दूधिया पदार्थ के नाम पर रखा जाता है इस जड़ी बूटी के दूध में न केवल एंटीआक्‍सीडेंट (antioxidant) गुण हैं बल्कि इसमें सिल्‍मरिन भी होता है। सिल्‍मरिन क्षतिग्रस्‍त यकृत कोशिकाओं की मरम्‍मत में मदद करता है।

इन लाभों को प्राप्त करने के लिए आप अपने सलाद में दुग्ध रोम के पत्तों का मिला सकते हैं और इसके बीजों को भून कर दोपहर के भोजन के साथ लें या ताजा हर्बल चाय तैयार करें। दुग्ध रोम आमतौर पर उपयोग के लिए सुरक्षित होती है, लेकिन कुछ लोगों को इसके उपयोग करने से पहले डाक्टर से संपर्क करना चाहिए जैसे कि :

  • यदि आप गर्भवती हैं।
  • आप स्‍तनपान करा रहे हैं।
  • यदि आप चिकित्सकीय दवा ले रहे हैं।

पीलिया रोगी के लिए फायदेमंद पाचक एंजाइम – Digestive enzymes for Jaundice in Hindi

पीलिया रोगी के लिए फायदेमंद पाचक एंजाइम – Digestive enzymes for Jaundice in Hindi

स्वाभाविक रूप से पाचन एंजाइम बिलीरुबिन के स्‍तर को कम करने में मदद करते हैं। आप पाचन एंजाइमों को इन चीजों से प्राप्त कर सकते हैं।

सब्जियां और फल पीलिया में आवश्यक – Fruits and vegetables for Jaundice in Hindi

सब्जियां और फल पीलिया में आवश्यक – Fruits and vegetables for Jaundice in Hindi

पाचन एंजाइम युक्‍त फल पीलिया रोगी के लिए सबसे अच्‍छे होते हैं। विभिन्‍न प्रकार के भोजन को करना आपके संपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होता है। यूएसडीए (USDA) के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रतिदिन कम से कम 2 कप सब्जियां और 2 कप फलों का सेवन किया जाना चाहिए। पीलिया में यकृत स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छे विकल्‍पों में शामिल हैं :

पीलिया होने पर खाएं फाइबर युक्त आहार – Fiber for Jaundice in Hindi

पीलिया होने पर खाएं फाइबर युक्त आहार – Fiber for Jaundice in Hindi

विषाक्‍त पदार्थों (toxic substances) को शरीर से बाहर निकालने के लिए घुलनशील फाइबर यकृत की मदद करता है और पाचन को आसान बनाता है। ये महात्‍वपूर्ण पोषक तत्‍व विभिन्‍न प्रकार के खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं जैसे कि :

  • फल
  • सब्जियां
  • फलियां
  • नट्स
  • साबुत अनाज आदि

उच्‍च फाइबर वाले खाद्य पदार्थों मे शामिल हैं :

भोजन करते समय उच्‍च फाइबर लेने का प्रयास करें। पुरुषों को प्रतिदिन 38 ग्राम और महिलाओं को 25 ग्राम फाइबर खाने का प्रयास करना चाहिए।

(और पढ़े – सेहत के लिए फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ)

पानी से पीलिया का आयुर्वेदिक उपचार – Treatment of jaundice with water in Hindi

पानी से पीलिया का आयुर्वेदिक उपचार – Treatment of jaundice with water in Hindi

यकृत को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए हाइड्रेटेड रहना सबसे अच्‍छे तरीका है। पानी न केवल पाचन में मदद करता है बल्कि यह यकृत और गुर्दे (liver and kidney) को विषाक्‍त पदार्थों से भी बचाता है। सभी लोगों को लगभग 2 लीटर पानी पीना चाहिए।

अगर लोगों को पानी पीने के दौरान यदि ब्‍लांड स्‍वाद (taste bland) मिलता है तो वे एंटीआक्‍सीडेंट की अतिरिक्‍त खुरांक के लिए एक चम्‍मच नींबू का रस या अंगूर के रस को पानी में मिला कर सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़े – क्या आप जानतें है आपको रोज कितना पानी पीना चाहिए)

पीलिया रोग के लिए साबुत अनाज के फायदे – Whole grains for jaundice in Hindi

स्‍वस्‍थ्‍य वसा, फाइबर, एंटीआक्‍सीडेंट और खनिज पदार्थ युक्त पूरे अनाजों में यकृत के अनुकूल पोषक तत्‍वों की अच्‍छी मात्रा होती है। 2013 के एक अध्ययन ने पुष्टि की है‍ कि जो लोग जई का सेवन करते हैं उनके यकृत स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा मिलता है क्योंकि जई में बीटा-ग्‍लुकन (beta-glucan) बहुत अच्‍छी मात्रा में होता है।

रामबाण औषधि नट्स और फलियां पीलिया में – Nuts and legumes for jaundice in Hindi

अधिकांश नट बीज और फलियों में विटामिन ई और फेलोलिक ऐसिड सहित कई एंटीआक्‍सीडेंट मौजूद रहते हैं। पूरे नट और फलियां आमतौर पर फाइबर और स्‍वस्‍थ वसा की अच्‍छी मात्रा रखते हैं। अध्‍ययनों से पता चलता है‍ कि अखरोट और अन्‍य पेड़ के सूखे मेवे का नियमित रूप सेवन करना यकृत के स्‍वास्‍थ्‍य (liver health) के लिए फायदेमंद होता है।

पीलिया के लिए दवा पतले प्रोटीन के रूप में – Lean proteins for jaundice in Hindi

टोफू, फलियां (legumes) और मछली आदि से मिलने वाला पतला प्रोटीन लाल मांस की तुलना में यकृत पर कम तनाव डालता है। मछली की प्रजातियां जैसे कि सैल्‍मन और मैकेरल आदि के तेल में ओमेगा-3 और जस्ता होता है, जो फैटी एसिड, अल्‍कोहल, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के चयापचय (metabolize) में मदद करता है।

पीलिया में परहेज इन हिंदी – What foods should avoid jaundice in Hindi

पीलिया में परहेज इन हिंदी – What foods should avoid jaundice in Hindi

खाने पीने की चीजों से बचने या सीमित करना पीलिया के उपचार के लिए बहुत आवश्‍यक है। इसके लिए कुछ त्‍वरित सुझाव दिये जाते हैं :

  • अल्‍कोहल (alcohol) आपके यकृत को नुकसान पहुंचा सकते हैं इसलिए इससे पूरी तरह बचना चाहिए।
  • मछली जैसे पतले प्रोटीन का चयन करें जो यकृत क्षति की संभावना को कम करता है।
  • मांस में पाए जाने वाले संतृप्‍त वसा (saturated fats) आपके यकृत को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • असंतृप्‍त वसा को नियंत्रित करने के लिए जैतून के तेल का उपयोग किया जा सकता है।
  • परिष्‍कृत चीनी यकृत में वसा (liver fat) बनाने का कारण बन सकती है इसलिए प्राकृतिक चीनी का उपयोग करें।
  • डिब्‍बा बंद और संसाधित खाद्य पदार्थों से दूर रहें क्‍योंकि यह आपके शरीर में सोडियम का स्‍तर बढ़ा सकता है।

आपके यकृत को नुकसान पहुंचाने के लिए निम्‍न कारण भी हो सकते है :

आयरन पीलिया रोगी के लिए हानिकारक होता है – avoid Iron in Hindi

आयरन पीलिया रोगी के लिए हानिकारक होता है – avoid Iron in Hindi

लौह का सेवन करने से सावधान रहना महत्‍वपूर्ण है। बहुत अधिक लोहा यकृत स्‍कार्फिंग का कारण बन सकता है।

प्रोटीन लोहे (Iron) का अच्‍छा स्रोत है इसलिए यकृत के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए इसे कम करने की कोशिश करना चाहिए। इसके लिए आप अपने डाक्‍टर से बात करें कि आपके लिए कितना प्रोटीन आवश्‍यक है।

पीलिया रोगी को चीनी के उपयोग से बचना चाहिए – avoid Sugar in Hindi

पीलिया रोगी को चीनी के उपयोग से बचना चाहिए – avoid Sugar in Hindi

परिष्‍कृत चीनी, उच्‍च फ्रक्‍टोज मकई सिरप (fructose corn syrup)और संसाधित चीनी के अन्‍य रूप भी यकृत में वसा का निर्माण कर सकते हैं। चीनी में उच्‍च प्रसंस्‍कृत खाद्य पदार्थ वसा में भी अधिक होते हैं जो नुकसान के खतरे को बढ़ा देते हैं।

पीलिया में नमक कम खाना चाहिए – Eat Low Salt in Hindi

पीलिया में नमक कम खाना चाहिए – Eat Low Salt in Hindi

नमक का ज्‍यादा उपयोग यकृत को नुकसान पहुंचा सकता है और जल प्रतिधारण में भी योगदान दे सकता है। प्रसंस्‍कृत और डिब्‍बा बंद खाद्य पदार्थो में सोडियम की मात्रा हो सकती है। नमक का उपयोग करने के बजाए आप अपने पकवानों में लहसुन पाउडर, प्‍याज पाउडर या अयस्‍कों जैसे पदार्थों का उपयोग करने का प्रयास करें।

(और पढ़े – सेंधा नमक के फायदे गुण लाभ और नुकसान )

शराब से परहेज पीलिया में – avoid Alcohol in Hindi

शराब से परहेज पीलिया में – avoid Alcohol in Hindi

यकृत सहित अधिकांश आंतरिक शारीरिक ऊतकों के लिए शराब हानिकारक होती है। अधिक मात्रा में शराब का उपयोग करना पुरानी लीवर की सूजन का कारण बन सकता है, जो यकृत को अस्‍वस्‍थ्‍य कर सकती है और फाइब्रोसिस (fibrosis) का कारण बन सकता है।

पीलिया या अन्‍य यकृत संबंधी समस्‍याओं बाले लोगों को शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

पीलिया का घरेलू इलाज – jaundice Home Remedies in Hindi

सूरज की रोशनी भी पीलिया का अनोखा इलाज है – jaundice Home Remedies Sunlight in Hindi

सूरज की रोशनी भी पीलिया का अनोखा इलाज है – jaundice Home Remedies Sunlight in Hindi

शिशुओं में पीलिया का इलाज करने के लिए सबसे व्‍यापक रूप से उपयोग किये जाने वाले उपचारों में से एक फोटोथेरेपी (phototherapy) है। हालाकि एक अध्‍ययन में कहा गया है कि नवजात बच्‍चों में पीलिया के उपचार में फोटोथेरेपी की तुलना मे सूरज की रोशनी के संपर्क में रखना और भी प्रभावी हो सकता है क्‍योंकि यह बिलीरुबिन अणुओं के आइसोमेराइजेशन में मदद करता है।

(और पढ़े – पीलिया के कारण, लक्षण और उपचार)

पीलिया का घरेलू इलाज गन्‍ने का रस – Sugarcane juice jaundice Home Treatment in Hindi

पीलिया का घरेलू इलाज गन्‍ने का रस – Sugarcane juice jaundice Home Treatment in Hindi

गन्‍ने का रस आपके यकृत को मजबूत करने में मदद करता है, इसलिए यह पीलिया (jaundice) का इलाज करने का एक अच्‍छा उपाय है। यकृत के कामकाज को बेहतर बनाने से आपके बिलीरुबिन के स्‍तर नियंत्रित किया जा सकता है।

आपको एक से दो गिलास गन्‍ने के रस (sugarcane juice) का सेवन करना चाहिए। ऐसा आपको तब तक करना चाहिए तब तक की आपकी हालत में सुधार ना हो जाए। आपको प्रतिदिन गन्‍ने के रस का सेवन करना चाहिए।

पीलिया का देसी इलाज बकरी का दूध – Piliya ka Desi Ilaj Goat Milk in Hindi

पीलिया का देसी इलाज बकरी का दूध – Piliya ka Desi Ilaj Goat Milk in Hindi

बकरी का दूध (Goat milk) गाय के दूध का अच्‍छा विकल्‍प होता है। यह कई महत्‍वपूर्ण पोषक तत्‍वों में समृद्ध होता है जो वयस्‍कों और शिशुओं दोनों के लिए फायदेमंद होता है। इसमें एंटीबॉडी (antibody) की उपस्थिति पीलिया को ठीक करने में मदद करती है।

इसके लिए आपको बकरी के दूध का सेवन करने की आवश्‍यकता है। इसका उपयोग आप पीलिया के उपचार के दौरान प्रतिदिन कर सकते हैं।

(और पढ़े – अगर आप दूध पीते है तो इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो फायदे की जगह होगा नुकसान)

लहसुन का सेवन पीलिया में – Garlic for jaundice Home Remedies in Hindi

लहसुन का सेवन पीलिया में – Garlic for jaundice Home Remedies in Hindi

लहसुन में एलिसिन मजबूत एंटीआक्‍सीडेंट (antioxidant) गुण प्रदर्शित करता है। यह आपके यकृत को डेटोक्‍सीफाइंग में मदद करता है और पीलिया के प्रभाव को कम करने में मदद करता है।

इसके लिए आपको मसले हुए लहसुन और 3-4 लोंग की आवश्‍यकता होती है। आप अपने दैनिक आहार में लहसुन के साथ लौंग का सेवन करें। आप लौंग और लहसुन को सीधे भी खा सकते हैं। ऐसा आपको प्रतिदिन करना है जब तक कि आप ठीक ना हो जाएं।

(और पढ़े – जानिए लहसुन के चमत्कारी स्वास्थ्यवर्धक गुणों के बारे में)

दही पीलिया का रामबाण इलाज – yogurt for jaundice Treatment in Hindi

दही पीलिया का रामबाण इलाज – yogurt for jaundice Treatment in Hindi

प्रोबायोटिक दही आपके प्रतिरक्षा (immunity) को बढ़ाकर और आपके शरीर में जीवाणु उपनिवेशों को विनियमित करके आने सीरम बिलीरुबिन के स्‍तर को कम करने में मदद कर सकता है। शिशुओं को प्रोबियोटिक पूरक (probiotic supplement) से भी फायदा होता है। इसलिए स्‍तनपान कराने वाली मां अपने बच्‍चे के उपचार के लिए प्रोबियोटिक दही का सेवन बढ़ा सकती हैं।

इसके लिए आप 1 कटोरी दही को प्रतिदिन खाएं।

(और पढ़े – दही खाने से सेहत को होते हैं ये बड़े फायदे )

पीलिया का घरेलू उपचार है विटामिन डी – Piliya Ka Gharelu Upchar Vitamin D in Hindi

पीलिया का घरेलू उपचार है विटामिन डी – Piliya Ka Gharelu Upchar Vitamin D in Hindi

नवजात शिशुओं को सूर्य के सीधे संपर्क में शायद ही छोड़ा जाता है। इसलिए उनमें अक्‍सर विटामिन डी की कमी रहती है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि बिना पीलिया ग्रस्‍त बच्‍चों की तुलना में पीलिया ग्रस्‍त बच्‍चों को विटामिन डी की कमी होती है।

स्‍तनपान करने वाले शिशुओं को रोजाना 400 आईयू विटामिन डी की आवश्‍यकता होती है। उन्‍हें या इस विटामिन की बूंदे दी जा सकती हैं, या स्‍तनपान कराने वाली मां अंडे, पनीर और मछली जैसे अधिक विटामिन डी समृद्ध खाद्य पदार्थों का उपभोग कर सकती हैं। वयस्‍कों को विटामिन डी में कमी होने पर भी इस उपाय से फायदा हो सकता है

(और पढ़े – अच्छी सेहत के लिए विटामिन डी युक्त भोजन)

पीलिया के अन्य घरेलू उपचार और नुस्खे – Ayurvedic Home Remedies for Jaundice in Hindi

  • एक गिलास पानी के साथ भुना हुआ 1 चम्‍मच जौ पाउडर मिलाएं। इसमें 1 चम्‍मच शहद मिला कर दिन में दो बार सेवन करें।
  • तुलसी के पत्‍तों के 1 चम्‍मच पेस्‍ट को एक गिलास मूली के रस में मिलाएं। 15-20 दिनों के लिए इस रस को दिन में दो बार लें।
  • 10 दिनों के लिए हर सुबह काले नमक और सूखे अदरक पाउडर के साथ 1 चम्‍मच ऐलोवेरा जेल का सेवन करें।

टमाटर का रस: एक गिलास टमाटर का रस, एक चुटकी नमक और काली मिर्च के साथ मिलाकर सुबह खाली पेट पीना पीलिया के लिए बहुत प्रभावी घरेलू उपाय है।

मूली के पत्ते: मूली के कुछ पत्ते लें और एक छलनी की मदद से इसका रस निकालें। लगभग आधा लीटर रस प्रतिदिन पीने से लगभग दस दिनों में रोगी को पीलिया रोग से छुटकारा मिल जाता है।

पपीता के पत्ते: एक चम्मच पपीते के पत्तों के पेस्ट में एक चम्मच शहद मिलाएं। इसे नियमित रूप से लगभग एक या दो सप्ताह तक खाएं। यह पीलिया के लिए एक बहुत प्रभावी घरेलू इलाज है।

गन्ना: गन्ना उचित पाचन और उचित यकृत के कार्य में मदद करता है, जिससे रोगी को पीलिया ( Jaundice) से जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है। एक गिलास गन्ने का रस लें और इसमें थोड़ा सा नींबू का रस मिलाएं। बेहतर परिणाम के लिए इस रस को रोजाना दो बार पियें। गन्ने से रस निकालने से पहले गन्ने को अच्छी तरह साफ करना सुनिश्चित करें।

तुलसी के पत्ते: लगभग 10-15 तुलसी के पत्ते लें और इसका पेस्ट बना लें। इसमें आधा गिलास ताजा तैयार मूली का रस मिलाएं। बेहतर परिणाम के लिए लगभग दो से तीन सप्ताह तक इस जूस को रोजाना पिएं।

आंवला (Gooseberry): आंवला विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है और Jaundice (पीलिया) के लक्षणों को कम करने में बहुत उपयोगी है।

जौ: जौ का पानी बनाने के लिए जो को लगभग तीन लीटर पानी में उबालें और इसे लगभग तीन घंटे तक उबालने दें।  Jaundice (पीलिया) से जल्दी ठीक होने के लिए इस पानी को दिन भर में जितनी बार पी सकें पीयें।

नींबू: नींबू में उपलब्ध एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पीलिया (jaundice) के इलाज में मदद करता है। यह पित्त नलिकाओं को भी अनब्लॉक करता है, जिससे यह पीलिया के लिए सबसे प्रभावी घरेलू उपाय बन जाता है। 2 नींबू का रस निचोड़ें और इसे एक गिलास पानी में मिलाएं। दिन में तीन बार इस थोड़ा-थोड़ा पीयें, क्योंकि यह जिगर की कोशिकाओं को नुकसान से बचाता है।

मटर के पत्ते / तूअर दाल: मटर के पत्तों के रस को कुचलकर रस निकाल लें और पीलिया के इलाज के लिए इस रस का कम से कम 60 मिली प्रतिदिन सेवन करें। इनमें से फलियां भी बहुत पौष्टिक होती हैं और इन्हें आहार में जोड़ा जा सकता है।

बादाम: बादाम की 8 गुठली, दो खजूर और पांच इलायची लें और उन्हें पानी में भिगो दें। इसे रात भर छोड़ दें। सुबह में, छिलके को हटा दें और इसका पेस्ट बनाएं। थोड़ी चीनी और मक्खन मिलाएं। इस मिश्रण को दिन में कई बार लें।

हल्दी: एक गिलास गर्म पानी लें और इसमें एक चुटकी हल्दी मिलाएं। अच्छी तरह से मिलाएं और दिन में तीन या चार बार पिएं।

स्नेक लौकी के पत्ते: लगभग 7-10 पत्ते लें और इसे एक कप पानी में उबालें और इसे ठंडा होने दें। 10-15 धनिया के बीज लें और इसे आधा लीटर पानी में उबालें। इसे पहले से तैयार काढ़े के साथ मिलाएं। पीलिया के प्रभावी इलाज के लिए दिन में कम से कम तीन बार पियें।

भारतीय एलो वेरा के पत्ते: भारतीय एलोवेरा की पत्तियों का गूदा लें और इसे काले नमक और अदरक के साथ मिलाएं। इसे रोज सुबह लगभग दस दिनों तक लें।

चुकंदर और नींबू का रस: एक कप चुकंदर का रस लें और इसमें नींबू का रस बराबर मात्रा में मिलाएं और प्रभावी परिणाम के लिए कुछ दिनों तक नियमित रूप से इसका सेवन करें।

चिकोरी प्लांट (Chicory): जड़ी बूटी (फल, पत्ते, फूल, बीज और जड़) का एक रस बनाएं। इस रस का एक चम्मच दिन में कई बार लें। इसका प्रयोग कम से कम 15 दिन करें। जिगर की समस्याओं को ठीक करने में पौधे के सभी भाग उपयोगी होते हैं। फूल, बीज और जड़ें उपयोग किए जाने वाले अधिक सामान्य भाग हैं। शिमला मिर्च का रस तिल्ली के बढ़ने, जिगर की सुस्ती का इलाज करने में मदद करता है और यह पित्त के स्वस्थ स्राव को भी बढ़ावा देता है।

कैमोमाइल चाय: इसे दिन में कम से कम एक बार कई हफ्तों तक लिया जाना चाहिए और एक निवारक उपाय के रूप में स्थिति को ठीक करने के बाद इसे जारी रखा जा सकता है। पीलिया को ठीक करने में कैमोमाइल से बनी चाय बहुत प्रभावी है।

छाछ: पर्याप्त मात्रा में छाछ लें, उसमें भुनी हुई फिटकरी (roasted alum) और थोड़ी सी काली मिर्च मिलाएं। इन्हें अच्छे से मिलाएं। बेहतर परिणाम के लिए दिन में कम से कम तीन बार तैयारी पियें।

केला: पके केले को मसल लें और थोड़ा शहद मिलाएं और इसे दिन में कम से कम दो बार पीलिया के प्रबंधन में बेहतर परिणाम के लिए लें।

गाजर का रस: ताजा गाजर का रस जूसर की मदद से या क्रशिंग और एक्सट्रैक्टिंग विधि से बनाएं।  Jaundice (पीलिया) के प्रभावी इलाज के लिए इस रस को दिन में कई बार पिएं। इसे रोगी के आहार में भी शामिल किया जा सकता है।

बेल के पत्ते: सूखे बेल के पत्ते लें और पीसकर पाउडर बना लें। इसे एक गिलास पानी में मिलाएं। पीलिया के प्रभावी इलाज के लिए इसे दिन में एक बार पियें।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration