लौंग के फायदे, औषधीय गुण और नुकसान – Cloves Benefits and Side Effects in Hindi

लौंग के फायदे, उपयोग और नुकसान – Cloves Benefits and Side Effects in Hindi
Written by Jaideep

Cloves in Hindi लौंग (वैज्ञनिक नाम : यूजीनिया कैरेलफाइलेटा) एक सुगंधित फूल की कली होती है। यह दुनिया के अनेक क्षेत्रों में उगाया जाता है। यह अपने बहुमुखी मसालों और औषधीय गुणों के कारण बहुत प्रसिद्ध है। आज के लेख में आप जानेंगे लौंग के फायदे और लौंग के नुकसान (Laung ke Fayde aur Nuksan in hindi) के बारे में, यह स्वास्थ्य की द्रष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण है। इसका एक विशिष्ट स्‍वाद होता है जो दुनिया भर के व्यंजनों में औषधीय पूरक के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह ऐसी खाद्य सामग्री है जो हर जगह आसानी से उपलब्ध होती, जिससे इसे किसी भी व्यक्ति के लिए आसानी से सुलभ बनाया जा सकता है।

1. लौंग का पौधा – What is Clove plant in Hindi
2. लौंग में पाये जाने वाले पोषक तत्व  – Cloves Nutrients in Hindi
3. लौंग के फायदे – Health Benefits of Clove in Hindi

4.लौंग के नुकसान – Cloves Side effects in Hindi

लौंग क्‍या है – What is Cloves in Hindi

लौंग एक प्रकार का मसाला है जिसे एशियाई देशों में प्रमुख रूप से उपयोग किया जाता है। लौंग इंडोनेशिया के मलूकु द्वीपों के मूल निवासी हैं। लौंग को दुनिया भर में औषधीय उपयोग के लिए कई प्रकार से इस्‍तेमाल किया जाता है। एशिया में उत्‍पन्‍न होने वाले अन्‍य मसालों की तरह लौंग में भी कई औषधीय गुण होते हैं। जिसके कारण ही कई प्रकार की दवाओं में लौंग को प्रमुख घटक के रूप में उपयोग किया जाता है। लेकिन आप लौंग का इस्‍तेमाल कर अपने घर पर ही कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का इलाज कर सकते हैं।

लौंग का पौधा – What is Clove plant in Hindi

लौंग का पौधा - What is Clove plant in Hindi

Cloves/लौंग, जड़ी बूटी के लिए एक स्वास्थ्य नाम के रूप में  प्रयोग किया जाता है। रासायनिक यूजेनॉल को लौह के रासायनिक तत्वों में शामिल किया गया है। लौंग आमतौर पर एक सदाबहार वृक्ष में पाया जाता है। जिसे सामान्‍य रूप से संग्रहीत किया जा सकता है। एक हर्बल घटक के रूप में लौंग की उपयोगिता बहुत अधिक होती है।

लौंग का उपयोग कई प्रकार से किया जाता है, जैसे खाना पकाने के लिए और इन्हें विभिन्न खाद्य वस्तुओं के निर्माण में औद्योगिक रूप से भी उपयोग किया जाता है। आईए जानते लौंग खाने के फायदे और सबसे प्रभावी स्‍वास्‍थ्‍य लाभ क्या लाभ है।

 

लौंग में पाये जाने वाले पोषक तत्व  – Cloves Nutrients in Hindi

Cloves/लौंग में बहुत सारे पोषक तत्‍व होते है जो हमारे स्‍वास्‍थ के लिए लाभकारी होते है। यूएसडीए नेशनल न्यूट्रिएंट डेटाबेस के अनुसार, लौंग में पाए जाने वाले पोषक तत्वों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, ऊर्जा और आहार फाइबर शामिल हैं। लौंग में खनिज पोटेशियम, कैल्शियम, सोडियम, और मैग्नीशियम शामिल हैं। उनमें पाए जाने वाले विटामिन में विटामिन ई, फोलेट, और नियासिन शामिल हैं। इनमें फास्फोरस, लोहा, जस्ता, विटामिन सी, थायमिन, राइबोफ्लेविन और विटामिन ए और के भी होते हैं।

लौंग में पाए जाने वाले पोषक तत्‍व है: जो एक चम्मच (2 ग्राम) लौंग में होते हैं

  • कैलोरी : 21
  • कार्बोस : 1 ग्राम
  • फाइबर : 1 ग्राम
  • मैग्‍नीज : आरडी आई का 30 प्रतिशत
  • विटामिन K : आरडीआई का 4 प्रतिशत
  • विटामिन C : आरडीआई का 3 प्रतिशत

फाइबर कब्‍ज को रोकने और नियमितता को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है, विटामिन सी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद कर सकता है। और विटामिन k रक्‍त के थक्‍के के लिए एक महत्‍वपूर्ण पोषक तत्‍व है।

लौंग की तासीर – Loung ki taseer in Hindi

लौंग की तासीर गर्म होती है। जिसके कारण लौंग को प्रमुख रूप से सर्दी जूकाम जैसे वायरल संक्रमण को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसके अलावा लौंग में यूजेनॉल नामक सक्रिय घटक होता है जो दर्द के लक्षणों को कम करता है। लौंग की गर्म तासीर और तीखे स्‍वाद की बजह से इसे कई व्‍यंजनों और पकवानों में उपयोग किया जाता है। आइए जाने लौंग के फायदे क्‍या हैं।

लौंग के उपयोग – Clove Uses in Hindi

भारत और चीन में लौंग का इस्तेमाल हजारों सालों से न केवल मसाले के रूप में किया जाता है बल्कि कई बीमारियों के लिए एक औषधि के रूप में भी किया जाता है।

  • आयुर्वेदिक चिकित्सा में दांतों की सड़न, दुर्गंध और सांसों की बदबू के लिए लौंग का इस्तेमाल किया जाता है।
  • चीनी चिकित्सा में, लौंग को कामोद्दीपक गुण माना जाता था।
  • ग्राउंड लौंग पारंपरिक रूप से चिकित्सा प्रयोजनों के लिए मामूली कट के लिए उपयोग किया जाता है।
  • लौंग की चाय शरीर के किसी एक भाग में खून का असाधारण जमाव को राहत देने के लिए एक लोकप्रिय गर्म पेय है।
  • लौंग का तेल सिरदर्द, पेट फूलने के साथ-साथ स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में मदद करता है।
  • यह एक बग और कीट रेपेलेंट (मच्छर भगाने) के रूप में भी लोकप्रिय है। बस पानी में लौंग के तेल की कुछ बूँदें जोड़ें और उन्हें गायब होते देखें!

लौंग के फायदे – Health Benefits of Clove in Hindi

लौंग के फायदे - Health Benefits of Clove in Hindi

प्राथमिक लाभ यह है कि लौंग एक दर्द निवारक का काम करती है। यही कारण है कि कई औषधियों के घटकों में लौंग को व्‍यापक रूप से प्रयोग किया जाता है। आइये जानते है लौंग के फायदे क्या है

लौंग खाने के फायदे एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर –Laung ke Fayde High in Antioxidants in Hindi

Cloves/लौंग कई महात्‍वपूर्ण विटामिन और खनिजों युक्‍त होने के साथ साथ एंटीऑक्सिडेंट के अच्‍छे स्रोत होते है। एंटीऑक्सिडेंट ऐसे यौगिक हैं जो ऑकसीडेटिव तनाव को कम करते हैं, जो पुरानी बीमारी के विकास में योगदान कर सकते है।

लौंग में यूजीन (Eugene) भी पाया जाता है, जो एक प्राकृतिक एंटीआक्‍सीडेंट के रूप में कार्य करता है। वास्‍तव में, एक  अध्‍ययन में पाया गया कि यूजूनॉल, विटामिन E और अन्‍य ऑक्सिडेंट की तुलना में पांच गुना अधिक प्रभावी रूप से मुक्‍त कणों के आक्‍सीकरण को रोकने में सक्षम है। विटामिन C आपके शरीर में एक एंटीऑक्सिडेंटके रूप में कार्य करता है। और विषेले तत्‍वों को दूर करता है, जो ऑक्‍सीडेटिव तनाव (oxidative stress) पैदा कर सकते हैं।

आपके आहार में अन्‍य एंटीऑक्सिडेंट युक्‍त खाद्य पदार्थो के साथ लौंग को भी शामिल करना आपके समग्र स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

लौंग खाने के फायदे  लीवर की सुरक्षा – Laung khane ke Fayde for Liver Protection in Hindi

लौंग में उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो अंगों को मुक्त कणों (free radicals), विशेष रूप से जिगर को बचाने के लिए आदर्श होते हैं। लौंग लंबे समय में मेटाबॉलिज्म, लिवर में एंटीऑक्सीडेंट को कम करते हुए फ्री रेडिकल प्रोडक्शन और लिपिड प्रोफाइल बढ़ाता है। लौंग के अर्क इन प्रभावों को इसके हेपेट्रोप्रोटेक्टिव गुणों (hepatoprotective properties) के कारण इसमें सहायक होते हैं।

लौंग के फायदे पाचन के लिए – Loung ke fayde Pachan ke liye in Hindi

पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए लौंग एक प्रभावी औषधी मानी जाती है। लौंग पाचन एंजाइम के स्राव को उत्तेजित करती है। जिससे पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर किया जा सकता है। नियमित रूप से लौंग का सेवन करने से पेट फूलना, एसिडिटी, अपच और मतली जैसी समस्‍याओं को रोका जा सकता है। पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए आप लौंग को भूनकर, पाउडर बनाकर या शहद के साथ सेवन कर सकते हैं। लौंग पर हुए कुछ अध्‍ययनों से यह भी पता चलता है कि उचित मात्रा में लौंग का सेवन करने से पुरानी डायरिया और पेचिश जैसी समस्‍याओं का भी इलाज संभव है। यदि आप भी पाचन संबंधी समस्‍याओं का उपाय ढूंढ रहे हैं तो लौंग का उपयोग अच्‍छा विकल्‍प है।

लौंग के फायदे कैंसर से रक्षा के लिए – Laung ke Fayde Protect Against Cancer in Hindi

कुछ शोधों से पता चलता है कि लौंग में पाए जाने वाले यौगिक कैंसर से बचाव में मदद करते है। लौंग कैंसर के ट्यूमर के विकास को रोकने में मदद करता है। जिससे कैंसर के उपचार में एक उम्‍मीद बढ़ाती है।

एक अन्‍य शोध के परिणाम बतातें है कि 80% ऐसोफैवल कैंसर कोशिकाओं में लौंग तेल की केंद्रित मात्रा, कोशिकाओं की मृत्‍यू का कारण बना। लौंग में पाया गया यूजीन भी कैंसर विरोधी गुणों को दिखाता है।

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय)

लौंग के तेल के फायदे बैक्‍टीरिया को नष्ट करने में – Laung ke Fayde Can Kill of Bacteria in Hindi

लौंग में एंटीबायोटिक गुण होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे सूक्ष्‍मजीवों जैसे बैक्‍टीरिया की वृद्धि को रोकने में मदद कर सकते है। एक शोध यह बताता है कि लौंग तेल सामान्‍य रूप से तीन प्रकार के बैक्‍टीरिया या जीवाणूओं को मारने में प्रभावी था। जिसमें एक कोलाई बैक्‍टीरिया जो तनाव, ऐठन, दस्‍त, थकान आदि का कारण बनता है।

साथ ही यह मसूढ़ो में नुकसान पहुंचाने वाले दो प्रकार के बैक्‍टीरीया को भी रोकने में सफल है।

नियमित रूप से ब्रशिंग और उचित मोखिक स्‍वच्‍छता के संयोजन में, लौंग के जीवाणुरोधी प्रभाव से आपको मौखिक स्‍वास्‍थ्‍य लाभ हो सकता है।

लौंग के गुण लीवर को स्‍वस्‍थ रखे – loung ke gun liver ko swasth rakhe in Hindi

एंटीऑक्‍सीडेंट की उच्‍च मात्रा लौंग में होती है। इनकी मौजूदगी के कारण लौंग के औषधीय गुण फ्री रेडिकल्‍स से लीवर को सुरक्षा दिलाते हैं। नियमित उपभोग के दौरान लौंग चयापचय को बढ़ाता है। जिससे उत्‍पन्‍न फ्री रेडिकल्‍स को निय‍ंत्रित करने में भी लौंग प्रभावी होती है। ये फ्री रेडिकल्‍स आपके गुर्दे और यकृत दोनों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। आप भी लीवर संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए लौंग के औषधीय गुणों के लाभ ले सकते हैं।

लौंग के औषधीय गुण हड्डी मजबूत करे – Loung ke aushadhiya gun haddi majboot kare in Hindi

लौंग के हाइड्रो-अल्‍कोहलिक (hydro-alcoholic) अर्क में यूजेनॉल और डेरिवेटिव जैसे फ्लेवोन, इसोफ्लावोन और फ्लेवोनोइड जैसे आदि यौगिक होते हैं। इस तरह लौंग के औषधीय गुण हड्डी के घनत्‍व को बनाए रखने में सहायक होते हैं। इसके अलावा लौंग में मौजूद अन्‍य पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) जैसी हड्डीयों संबंधी समस्‍याओं को भी रोकने में प्रभावी होते हैं। यदि आप भी अपनी हड्डियों को स्‍वस्‍थ और मजबूत करना चाहते हैं तो अपनी दैनिक दिनचर्या में लौंग को शामिल कर सकते हैं।

लौंग खाने के फायदे प्रतिरक्षा के लिए – Clove Benefits for Boost immunity in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार आप अपनी प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाने के लिए लौंग का औषधीय उपयोग कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि लौंग में एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुणों के साथ कई पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ अच्‍छी मात्रा में होते हैं। लौंग के फूल में ऐसे बहुत से यौगिक होते हैं जो श्वेत रक्‍त कोशिकाओं के उत्‍पादन को बढ़ाते हैं। जिससे आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। यदि आप बार-बार सर्दी, खांसी और बुखार जैसी समस्‍याओं का शिकार हो रहे हैं तो यह आपकी कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के संकेत हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में नियमित रूप से लौंग का उपयोग करना आपके लिए फायदेमंद होता है।

लौंग के फूल सूजन से राहत दिलाये – Loung ke phul sujan se rakhat dilaye in Hindi

औषधीय गुणों से भरपूर लौंग में एंटी-इंफ्लामेटरी और दर्द नाशक गुण होते हैं। एक अध्‍ययन से पता चलता है कि लौंग के अर्क का उपयोग करने से सूजन संबंधी समस्‍याओं को कम किया जा सकता है। लौंग के अर्क में मौजूद यूजेनॉल एडिमा के कारण होने वाली सूजन को कम करता है। इसके अलावा अध्‍ययन यह भी पुष्टि करते हैं कि यूजेनॉल में दर्द रिसेप्‍टर्स को उत्‍तेजित करके दर्द को कम करने की क्षमता होती है। आप भी दर्द और सूजन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए लौंग और लौंग के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

लौंग के फायदे यकृत के लिए लाभकारी – Cloves Improve Liver Health in Hindi

अध्‍ययन बताते है कि लौंग फायदेमंद यौगिकों का भंडार है जो यकृत स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। ये योगिक जिगर की कार्यक्षमता को बढ़ाने, सूजन को कम करने और ऑक्‍सीडेंटिव तनाव को कम करने में भी सहायक होते  हैं। एक अन्‍य पशू शोध से पता चला है कि लौंग में पाया गया यूजोनॉल (Eugenol) जिगर सिरोसिस या जिगर के घाव को ठीक करने में मदद करता है। यूजेनॉल की खुराक लेने से जीएसटी के स्‍तर में गिरावट आती है जो कि एक एंजाइम है जिसमें विषाक्‍तता  शामिल होती है जो पेट की बीमारीयों का कारण बन सकते है।

(और पढ़े – लीवर की कमजोरी कारण लक्षण और दूर करने के उपाय)

शुगर कंट्रोल के लिए लौंग के फायदे – Cloves Help Regulate Blood Sugar In Hindi

लॉन्ग में पाए जाने वाले यौगिक रक्‍त शर्करा को नियंत्रित रखने में सफल होते है। लौंग के अर्क कुछ तरीकों से इंसुलिन की नकल करते हैं और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। लौंग और नाइलेरिसिन को खून कोशिकाओं को बढ़ाने, इंसुलिन के स्राव में वृद्धि करना और इंसुलिन का उत्‍पादन करने वाले कोशिकाओं के कार्य में सुधार करना पाया गया। इंसुलिन आपके रक्‍त में चीनी को आपके कोशिकाओं में ले जाने के लिए जिम्‍मेदार एक हार्मोन है। स्थिर शुगर स्‍तर को बनाए रखने के लिए इंसुलिन का उचित कार्य करना आवश्‍यक है।

(और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय)

लौंग के औषधीय गुण अल्‍सर के बचाव में –Cloves Reduce Stomach Ulcers in Hindi

कुछ अध्‍ययनों से पता चलता है कि लौंग में पाए जाने वाले तत्‍वों से पेट के अल्‍सर का इलाज हो सकता है। जो पेप्टिक (peptic) अल्‍सर के रूप में भी जाना जाता है, पेट के अल्‍सर दर्ददायक घाव होते है जो कि पेट, गले या घुटकी के नीचे होते है। ये सामान्‍यत: पेट के सुरक्षात्‍मक स्‍तर में कमी की वजह से होता है जो अवसाद, इंफैक्‍सन और आनुवंशिकी (Genetics) जैसे कारकों के कारण होता है।

एक पशू अध्‍ययन में पता चला है कि लौंग का तेल (Clove oil) गैस्ट्रिक बलगम के उत्‍पादन को बढ़ाने मे सहायक होती है। गैस्ट्रिक बलगम एक अवरोध के रूप में कार्य करता है जो पाचन एसिड से पेट की परत के क्षरण को रोकने में मदद करता है।

लौंग खाने के लाभ मौखिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए – Loung khane ke labh Oral Health ke liye in Hindi

लौंग मसूड़ों की बीमारियों जैसे मसूड़े की सूजन, मसूड़ों से खून आना और पीरियोडोंटाइटिस आदि का इलाज कर सकती है। लौंग के फूल और लौंग के अर्क का मौखिक रूप से सेवन करने पर मुंह में मौजूद बैक्‍टीरिया, और रोग जनकों को नियंत्रित किया जा सकता है। ये बैक्‍टीरिया मुंह संबंधी विभिन्‍न बीमारियों का प्रमुख कारण होते हैं। एक अध्‍ययन के अनुसार दांतों की समस्‍या को दूर करने में लौंग का तेल बहुत ही प्रभावी होता है। दांतों के दर्द को कम करने के लिए आप लौंग के तेल का उपयोग कर सकते हैं। प्रभावित जगह में आप लौंग के तेल से हल्‍की मालिश करें। ऐसा करने से आपको दांत दर्द से राहत मिल सकती है। साथ ही लौंग के तेल के औषधीय गुण मुंह में मौजूद रोगजनक जीवाणुओं को भी नष्‍ट कर सकते हैं।

पुरुषों के लिए लौंग लाभ – purusho ke liye Loung labh in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार लौंग में कामोद्दीपक गुण होते हैं। प्राचीन समय से ही यौन समस्‍याओं के उपचार के लिए आयुर्वेद और यूनानी चिकित्‍सा में लौंग का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि जायफल और लौंग के मिश्रित अर्क का सेवन पुरुषों के यौन स्वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होता है। अध्‍ययनों से यह भी स्‍पष्‍ट होता है कि जायफल और लौंग के अर्क के औषधीय गुण सेक्‍स पॉवर बढ़ाने वाली कुछ दवाओं से भी अधिक प्रभावी होते हैं। यदि आप भी यौन कमजोरी का अनुभव कर रहे हैं तो लौंग और लौंग के अर्क के सेवन को अपने दैनिक दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं।

लौंग का सेवन करे सिर दर्द दूर – Clove for Headache Treatment in Hindi

नियमित रूप से लौंग का इस्‍तेमाल करना आपके सिर दर्द जैसी समस्‍याओं को दूर कर सकता है। सिर के दर्द का उपचार करने के लिए आप लौंग को पीसकर पाउडर बनाएं। इस पाउडर में थोड़ा सा सेंधा नमक मिला कर एक मिश्रण बनाएं। इस मिश्रण को आप 1 गिलास दूध के साथ सेवन करें। ऐसा करना आपको जल्‍दी ही सिर के दर्द से छुटकारा दिला सकता है। यदि आप भी कभी सिर के दर्द जैसी समस्‍या का समना करें तो सिर दर्द के घरेलू उपचार में लौंग का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

लौंग का इस्‍तेमाल तनाव दूर करे – Loung ka Istemal Tanav dur kare in Hindi

तनाव संबंधी समस्‍या को दूर करने में लौंग प्रभावी औषधी का काम करती है। लौंग में मौजूद पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ मस्तिष्‍क में तनाव पैदा करने वाले हार्मोन को नियंत्रित करते हैं। इसके अलावा लौंग का नियमित सेवन करने से मूड को भी बढ़ावा मिलता है। यदि आप तनाव छुटकारा चाहते हैं तो लौंग का सेवन करें। इसके लिए आप मौखिक रूप से लौंग के फूलों का सेवन कर सकते हैं। आप चाहें तो लौंग की चाय या अन्‍य व्‍यंजनों में भी नियमित रूप से लौंग का प्रयोग कर सकते हैं। लौंग की चाय पीने के फायदे आपकी नसों को शांत करने और चिंता के प्रभाव को कम करने में सहायक होते हैं।

लौंग से करें घावों का इलाज – Loung se kare Ghav ka ilaj in Hindi

लौंग में दर्द को शांत करने वाले गुणों के साथ ही संक्रमण और बैक्‍टीरिया को भी रोकने की क्षमता होती है। एक असाधारण एनाल्‍जेसिक और एंटीसेप्टिक होने के कारण लौंग खरोंच, कट, चोट आदि का इलाज करने में प्रभावी होती है। इसके अलावा लौंग में मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण घाव की सूजन को भी कम करती है। यदि आपको भी किसी प्रकार की चोट या घाव है तो उपचार के लिए लौंग का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप लौंग का पेस्‍ट बनाएं और घाव के ऊपर लगाएं। इसके अलावा विकल्‍प के रूप में आप लौंग के तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं।

लौंग के फायदे त्‍वचा के लिए – Loung ke fayde Twacha ke liye in Hindi

स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी लाभ के साथ ही लौंग के फायदे त्वचा संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में सहायक होते हैं। आप अपनी त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए लौंग का उपयोग कर सकते हैं। आइए जाने लौंग किस तरह से हमारी त्‍वचा के लिए फायदेमंद होती है।

लौंग से करें मुंहासों का इलाज – Loung se kare muhaso ka ilaj in Hindi

यदि आप मुंहासे संबंधी समस्‍या से परेशान हैं तो लौंग का उपयोग किया जा सकता है। लौंग के जीवाणुरोधी गुण त्‍वचा पर मुंहासे को कम करने में सहायक होते हैं। मुंहासे त्‍वचा में मौजूद गंदगी और बैक्‍टीरिया की अधिक मात्रा के कारण होते हैं। लेकिन आप लौंग का प्रयोग इन बैक्‍टीरिया को नष्‍ट कर सकते हैं। लौंग के अर्क के जीवाणुरोधी गुण त्‍वचा की समस्‍याओं को कम करने और संक्रमण से बचाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा लौंग में मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण त्‍वचा में मौजूद मुंहासों की सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

लौंग का प्रयोग त्‍वचा को जवां बनाए – Clove for Youthful Skin in Hindi

लौंग में एंटीऑक्‍सीडेंट की मौजूदगी त्‍वचा को युवा बनाए रखने में सहायक होती है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि ये एंटीऑक्‍सीडेंट त्‍वचा कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव से बचाते हैं। ये फ्री रेडिकल्‍स त्‍वचा में झुर्रियां और अन्‍य प्रकार के दाग धब्‍बों का कारण होते हैं। लेकिन नियमित रूप से लौंग का उपयोग इन फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव को कम करता है। जिससे आपकी त्‍वचा स्‍वस्‍थ, सुंदर और जवां बनी रहती है।

एक दिन में कितना लौंग खाना चाहिए – ek din me kitni long khana chahiye in Hindi

लौंग एक विशेष जड़ी बूटी है जो हर किसी को आसानी से प्राप्‍त हो सकती है। हालांकि स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए लौंग के सेवन की कोई सीमा निर्धारित नहीं की गई है। लेकिन फिर भी एक दिन में कम से कम और अधिक से अधिक 5 से 6 लौंग का सेवन करना पर्याप्‍त है। साथ ही आपको यह भी ध्‍यान रखना चाहिए कि लौंग के फूल में मौजूद तेल बहुत ही शक्तिशाली होता है। जिसका अधिक मात्रा में सेवन करने से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। लौंग खाने के फायदे तो होते हैं लेकिन कुछ नुकसान भी हो सकते हैं।

लौंग के नुकसान – Cloves Side effects in Hindi

लौंग के नुकसान - Cloves Side effects in Hindi

  • लौंग के उपयोग से संबंधित अपेक्षाकृत कम नुकसान होता है। लेकिन कुछ प्रभाव हैं जो यूजेनॉल के साथ मिल सकते हैं। यह उत्‍पाद काफी हद तक सुरक्षित है। लेकिन फिर भी इसे कम ही उपयोग करना चाहिए। जरूरत से ज्‍यादा इस्‍तेमाल के कारण उपभोक्‍ताओं पर इसके सकारात्‍मक और नकारात्‍मक प्रभाव संभव है।
  • Cloves oil लौंग तेल बहुत सांद्रता (concentrated) वाला होता है, जिसे उपयोग किया जा सकता है। लेकिन उपयोग से पहले इसे पतला करना बेहतर होता है। लौंग का तेल बहुत अच्छा एनाल्‍जेसिक (analgesic ) है जो दांतों के दर्द में असरकारक है। लेकिन मसूढ़ों में लौंग के तेल का उपयोग ज्यादा करने से नुकसान हो सकता है।
  • सूखे लौंग को अगर बड़ी मात्रा में लिया जाता है तो यह स्‍वास्‍थय समस्‍याओं का कारण बनता है। बच्‍चों को विशेष रूप से लौंग तेल नहीं देना चाहिए कयोंकि स्‍वास्‍थ्‍य खतरों की संभावना बहुत अधिक होती है।
  • लौंग तेल खून को पतला करने के लिए भी जाना जाता है। गर्भवती महिलाओं को भी लौंग तेल के उपयोग से बचना चाहिए।

लौंग के फायदे कई हैं इसे चूर्ण के रूप में, तेल के रूप में या लौंग की चाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता है  हां, उनके कुछ नुकसान और दुष्प्रभाव होते हैं, लेकिन भोजन में इस्तेमाल करने पर वे ज्यादातर सुरक्षित होते हैं इसलिए आप भी लौंग के औषधीय गुणों का फायदा लेने के लिए इसे अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। ऊपर के लेख में जाना लौंग के फायदे और लौंग के नुकसान (Laung ke Fayde aur Nuksan in hindi ) के बारे में।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration