मीठी नीम के फायदे और नुकसान – Curry Leaves (Meethi Neem) Benefits in Hindi

मीठी नीम के फायदे और नुकसान - Meethi Neem Khane Ke Fayde In Hindi
Written by Pratistha

Meethi Neem Benefits In Hindi मीठी नीम या कड़ी पत्ता भारत में अपनी सुगंध और अनोखे स्वाद के कारण लोकप्रिय हैं। करी पत्ते या मीठे नीम के पत्तों का उपयोग विभिन्न भारतीय व्यंजनों में किया जाता है। वे आपके व्यंजनों में सुगंध और स्वाद जोड़ने के लिए उपयोग किए जाते हैं। मीठी नीम खाने के फायदे और स्वास्थ्य लाभ काफी अधिक हैं। यह पाचन तंत्र को ठीक रखती हैं, दस्त को रोकने में मदद करती हैं और कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित करती हैं। आइये मीठी नीम के फायदे और नुकसान को विस्तार से जानते हैं।

करी पत्ते कई महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ के साथ भोजन को प्राकृतिक रूप से स्वादिष्ट बनाने का मसाला एजेंट हैं। यह पत्ता हर डिश में एक विशेष स्वाद जोड़ता है। कढ़ी पकोड़े में करी पत्ते एक आवश्यक सामग्री है जो देश के कई हिस्सों में काफी लोकप्रिय है। करी पत्ते अपने विभिन्न एंटीऑक्सीडेंट गुणों और डायरिया (दस्त) को नियंत्रित करने की क्षमता और कई गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं को दूर करने के लिए जाने जाते है। इसके अलावा करी पत्ते को कई व्यंजनों में जोड़ा जा सकता है। वजन कम करने के लिए भी करी पत्ते का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह विटामिन ए, बी, सी और बी-2 से भरपूर होते हैं।

करी पत्ते को आयरन और कैल्शियम का अच्छा स्रोत भी कहा जाता है। यह भी माना जाता है कि इसमें कैंसर से लड़ने वाले गुण होते हैं और यह लिवर की रक्षा करने के लिए भी जाना जाता है। यह संक्रमण से लड़ते हैं और जीवन शक्ति के साथ आपके बालों और त्वचा को निखार सकते हैं।

  1. मीठी नीम के पोषक तत्व – Nutritional Value of Curry Leaves in Hindi
  2. करी पत्तों की खेती – Cultivation of Curry Leaves in Hindi
  3. मीठी नीम का उपयोग – Uses of Curry Leaves in Hindi
  4. मीठी नीम के फायदे  – Curry Leaves Health Benefits in Hindi
  5. करी पत्ते के साइड-इफेक्ट्स और एलर्जी – Side-Effects & Allergies of Curry Leaves in Hindi

मीठी नीम के पोषक तत्व – Nutritional Value of Curry Leaves in Hindi

मीठी नीम के पोषक तत्व - Nutritional Value of Curry Leaves in Hindi

उच्च गति से बढ़ने वाली मीठी नीम भारतीय खाना पकाने का एक अनिवार्य हिस्सा हैं जहाँ सभी व्यंजन मसाला या गार्निशिंग के लिए इसका उपयोग किया जाता है। करी पत्ते तांबा, खनिज, कैल्शियम, फॉस्फोरस, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम और लोहा जैसे आवश्यक पोषक तत्वों में बहुत समृद्ध हैं। इसके अलावा इसमें कई प्रकार के विटामिन और अमीनो एसिड भी होते हैं। इच्छित उपयोग के आधार पर पत्तियों को सुखाया या तला जा सकता है, और मीठी नीम के पत्ते के ताजे रूप में भी उपयोग बहुत लोकप्रिय है।

(और पढ़े – कढ़ी पत्ते के फायदे और उपयोग जानकर हैरान हो जाएंगे आप…)

करी पत्तों की खेती – Cultivation of Curry Leaves in Hindi

करी पत्ता के पौधे भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश और अंडमान द्वीप समूह के मूल निवासी माने जाते हैं। यद्यपि भारत में इसकी व्यापक रूप से खेती की जाती हैं, जड़ी-बूटियाँ विशेष रूप से भारतीय व्यंजनों के साथ जुड़ी हुई हैं। वर्तमान में, मीठी नीम की खेती ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत द्वीप समूह और अफ्रीका में भी भोजन के स्वाद को बढ़ाने के लिए की जा रही है।

मीठी नीम का उपयोग – Uses of Curry Leaves in Hindi

एक मजबूत विशिष्ट गंध और तीखे स्वाद के अलावा, करी पत्ते विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन बी 2, कैल्शियम और आयरन का एक समृद्ध स्रोत हैं। पेचिश, दस्त, मधुमेह, मॉर्निंग सिकनेस (morning sickness) और मतली (nausea) के उपचार में भोजन के पत्तों में करी पत्ते को शामिल करना। करी पत्ते विषाक्त पदार्थों और शरीर की वसा को बाहर निकालने में भी मदद करते हैं।

मीठी नीम के फायदे  – Curry Leaves Health Benefits in Hindi

ये सुगंधित पत्ते न केवल भोजन में सुगंध जोड़ते हैं, बल्कि ये अपार स्वास्थ्य लाभ से भरे होते हैं। आइये इसके लाभों को विस्तार से जानते हैं।

मीठी नीम के फायदे वजन कम करने में – Benefits of Curry Leaves for Weight loss in Hindi

मीठी नीम के फायदे वजन कम करने में - Benefits of Curry Leaves for Weight loss in Hindi

करी पत्ते वजन घटाने में सहायता कर सकते हैं। यह आपको आश्चर्यजनक लग सकता है पर यह सच है। इसमें पाया जाने वाला कार्बोल अल्कलॉइड वजन बढ़ने से रोकने में आपकी मदद कर करता है और शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इस प्रकार वजन कम करने के लिए करी पत्ते का सेवन किया जा सकता है। इसके सेवन के लिए आप अपने भोजन में ताजा या सूखे करी पत्ते जोड़ सकते हैं। आप अपने सलाद में भी इसे शामिल कर सकते हैं। अपने स्वस्थ आहार के साथ करी पत्ते का सेवन करें और वजन कम करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें।

(और पढ़े – एक महीने में वजन घटाने का इंडियन डाइट प्लान…)

करी पत्ते के फायदे मधुमेह में – Meethi Neem Khane Ke Fayde diabetes me in Hindi

करी पत्ते के फायदे मधुमेह में - Kadi patta ke fayde diabetes me in Hindi

मीठी नीम या करी पत्ते रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से कम करते हैं। वे अग्न्याशय के इंसुलिन-उत्पादक कोशिकाओं को सुरक्षा प्रदान करते हैं और मुक्त कणों से होने वाले नुकसान को रोकते हैं। इसमें तांबा, लोहा, जस्ता और लोहे जैसे खनिजों के कारण होता है जो करी पत्ते इस कार्य को करते हैं। इस प्रकार मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए करी पत्ता सहायक हो सकता है।

(और पढ़े – मधुमेह को कम करने वाले आहार…)

मीठी नीम के फायदे तनाव कम करने के लिए – Meethi Neem Ke Fayde For Reduce stress in Hindi

मीठी नीम के फायदे तनाव कम करने के लिए - Curry Leaves For Reduce stress in Hindi

करी पत्ते का आवश्यक तेल तनाव को प्रभावी ढंग से कम करने में मदद कर सकता है। फूड केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित एक शोध ने संकेत दिया है कि करी पत्ते एंटीऑक्सिडेंट का एक अच्छा स्रोत होते हैं। इसमें उपस्थित विटामिन A, विटामिन B, विटामिन C, और विटामिन E जैसे विभिन्न विटामिन तनाव को कम करने में मदद करते है। इसलिए मीठी नीम अवसाद और चिंता से लड़ने के लिए भी जाना जाती है।

(और पढ़े – मानसिक तनाव दूर करने के घरेलू उपाय…)

मीठी नीम के उपयोग कब्ज और दस्त का इलाज करने के लिए – Meethi Neem Khane Ke Fayde For treating constipation and diarrhea in Hindi

मीठी नीम के उपयोग कब्ज और दस्त का इलाज करने के लिए - Curry Leaves For treating constipation and diarrhea in Hindi

करी पत्ते का उपयोग पेट की खराबी के इलाज के लिए किया जा सकता है। शोध से पता चलता है कि करी पत्तों में मौजूद कार्बाज़ोल एल्कलॉइड्स (carbazole alkaloids) में एंटी-डायरियल (anti-diarrheal) गुण होते हैं। लैब चूहों पर किए गए प्रयोगों से पता चला है कि करी पत्ते से कार्बोजल के अर्क ने अरंडी के तेल से प्रेरित दस्त को काफी नियंत्रित करता है। आप सूखे करी पत्ते को पीसकर छाछ में मिला इसका सेवन कर सकते हैं। दस्त, कब्ज और पेचिश जैसी स्थितियों से छुटकारा पाने के लिए इसे खाली पेट में पिएं।

(और पढ़े – कब्ज में क्या खाएं और क्या ना खाएं…)

करी पत्ता के फायदे बालों के लिए – kadi patta ke fayde balo ke liye in Hindi

करी पत्ता के फायदे बालों के लिए - kadi patta ke fayde balo ke liye in Hindi

करी पत्ते बालों की जड़ों को मजबूत करने में मदद करते हैं। करी पत्ते बालों के रोम को उत्तेजित करते हैं और सामान्य बाल वर्णक के साथ स्वस्थ किस्में के विकास को बढ़ावा देते हैं। करी पत्ते का उपयोग बालों के झड़ने और बालों के समय से पहले झड़ने से निपटने के लिए किया जा सकता है। करी पत्ता का रस रूसी और परतदार स्कैल्प से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है। इसके लिए तेल के साथ मीठी नीम के सूखे पत्तों का पाउडर मिला कर आपके बालों में लगाया जा सकता है। सफ़ेद बालों के लिए करी पत्ते का पेस्ट भी लगाया जा सकता है।

(और पढ़े – करी पत्‍ता के फायदे बालों को काला, घना, लंबा और मजबूत बनाने के…)

अच्छी आँखों की रोशनी के लिए मीठी नीम पत्ते – Meethi Neem Khane Ke Fayde For Good eyesight in Hindi

अच्छी आँखों की रोशनी के लिए मीठी नीम पत्ते - Curry Leaves For Good eyesight in Hindi

ऐसा माना जाता है कि करी पत्ते का आंखों की रोशनी पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है। करी पत्ते में उच्च मात्रा में विटामिन A होता है, जो आंखों की रोशनी के लिए अच्छा है। ये मोतियाबिंद की शुरुआत को रोकते हैं। विटामिन A में कैरोटीनॉयड होता है जो कॉर्निया और आंख की सतह की रक्षा करता है। विटामिन ए की कमी से रतौंधी और यहां तक कि कुछ मामलों में दृष्टि की हानि भी हो सकती है।

(और पढ़े – आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय…)

करी पत्ते के फायदे मितली से राहत दिलाएं – Meethi Neem Khane Ke Fayde for morning sickness and nausea in Hindi

करी पत्ते के फायदे मितली से राहत दिलाएं - Benefits of Curry Leaves for morning sickness and nausea in Hindi

गर्भावस्था की पहली तिमाही में सुबह की बीमारी और मितली से राहत पाने के लिए महिलाएं करी पत्ते का विकल्प चुन सकती हैं। करी पत्ते पाचन को बढ़ाने और मतली, सुबह की बीमारी और उल्टी से राहत देने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – उल्टी और मतली को रोकने के उपाय…)

मीठी नीम के पत्ते के गुण बैक्टीरिया को खत्म करे – Mithi neem ke patte ke gun bacteria ko khatm kare in Hindi

मीठी नीम के पत्ते के गुण बैक्टीरिया को खत्म करे - Mithi neem ke patte ke gun bacteria ko khatm kare in Hindi

हमारे शरीर में अधिकांश बीमारी संक्रमणों के कारण कारण होती है। इस तरह के संक्रमणों के लिए करी पत्तों का उपयोग एक प्राकृतिक उपचार के रूप में किया जा सकता है। करी पत्ते कार्बोराज अल्कलॉइड से भरे होते हैं जो जीवाणुरोधी, कैंसर रोधी और एंटी इन्फ्लामेट्री गुणों वाले यौगिक हैं। करी पत्ते में लिनालूल (Linalool) यौगिक भी होता है। यह यौगिक करी पत्ते को उनकी खुशबू देता है। इस यौगिक में बैक्टीरिया-मारने के गुण होते हैं। यह शरीर से हानिकारक मुक्त कणों को खत्म करने में भी मदद करता है।

(और पढ़े – फंगल इन्फेक्शन क्या है, कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार…)

घाव, जलन और त्वचा का फटना ठीक करता है करी पत्ता – Curry Leaves For Heals wounds, burns and skin eruptions in Hindi

घाव, जलन और त्वचा का फटना ठीक करता है करी पत्ता - Curry Leaves For Heals wounds, burns and skin eruptions in Hindi

करी पत्ते के पेस्ट को लगाने से घाव, चकत्ते, फोड़े और हल्के जलने पर रोगनिवारक प्रभाव पड़ता है। इन पत्तियों का पेस्ट किसी भी प्रकार के हानिकारक संक्रमण को रोकने और खत्म करने में मदद करता है। ताजा पेस्ट बनाने के लिए आप पत्तों के पीस कर इसमें थोड़ा सा पानी मिला सकते हैं।  फिर इसे सीधे फोड़े पर, त्वचा की जलन, खरोंच और त्वचा के फटने पर लगा सकते हैं। अच्छे परिणामों के लिए पेस्ट को रात भर के लिए लगा कर छोड़ दें। करी पत्तों में उपस्थित कार्बाज़ोल एल्कालॉइड यौगिक घाव भरने की प्रक्रिया को गति देता है। करी पत्ता त्वचा की सूजन, फोड़े और जलने पर एक समान प्रभाव पड़ता है।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

मीठी नीम के फायदे याददाश्त में सुधार करे – Benefits of Curry Leaves for Improves memory in Hindi

मीठी नीम के फायदे याददाश्त में सुधार करे - Benefits of Curry Leaves for Improves memory in Hindi

अपने आहार में करी पत्ते को शामिल करने से आपकी याददाश्त पर लाभकारी प्रभाव पड़ सकता है। यह अल्जाइमर जैसे ख़राब स्मृति विकारों से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय, दवा और तरीके…)

करी पत्ते के साइड-इफेक्ट्स और एलर्जी – Side-Effects & Allergies of Curry Leaves in Hindi

करी पत्ते के साइड-इफेक्ट्स और एलर्जी - Side-Effects & Allergies of Curry Leaves in Hindi

करी पत्ते के कोई गंभीर साइड-इफेक्ट्स नहीं हैं फिर भी अगर आपको करी पत्ते से एलर्जी है तो आपको इससे बचना चाहिए। गर्भवती, स्तनपान कराने वाली महिलाओं और बच्चों द्वारा उपयोग करने से पहले एक प्रशिक्षित चिकित्सक से परामर्श किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – एलर्जी लक्षण, बचाव के तरीके और घरेलू उपचार…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration