भूलने की बीमारी के लक्षण कारण जांच इलाज और उपचार – Amnesia Symptoms Causes Treatment In Hindi

भूलने की बीमारी के लक्षण कारण जांच इलाज और उपचार - Amnesia bhulne ki bimari ke karan lakshan ilaj in hindi
Written by Akansha

Amnesia in Hindi भूलने की बीमारी जिसे चिकित्सा भाषा में अम्नेसिया (Amnesia) कहा जाता है एक प्रकार का रोग है जिसमें व्यक्ति को स्मृति हानि होती है और उसे चीजे याद रखने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है। पुरानी चीजों और बातों को भी याद नहीं रख पाते है। हल्की स्मृति हानि मतलब थोड़ी बहुत भूलने की बीमारी आम है जो उम्र के साथ चलती है परन्तु अगर किसी व्यक्ति को कम उम्र में भी चीजे याद रखने में समस्या का सामना करना पड़े तो यह भूलने की बीमारी हो सकती है जो अम्नेसिया कहलाती है।

आज इस लेख में हम जानेंगे की भूलने की बीमारी क्या होती है इसके लक्षण और कारण क्या है और अम्नेसिया की बीमारी की जांच, इलाज और इसका उपचार कैसे संभव है।

1. भूलने की बीमारी क्या होती है – Bhoolne ki bimari kya Hoti hai in hindi
2. भूलने की बीमारी के प्रकार – bhoolne ki bimari ke prakar in Hindi

3. भूलने की बीमारी के लक्षण – Bhoolne ki bimari ke lakshan in hindi
4. भूलने की बीमारी के कारण – Bhulne ki bimari ke karan in hindi

5. भूलने की बीमारी के जोखिम और जटिलताएं – Bhoolne ki bimari ke jokhim aur jatila in Hindi
6. भूलने की बीमारी की जांच – Bhoolne ki bimari ki janch in hindi
7. भूलने की बीमारी का इलाज – Bhulne ki bimari ka ilaj in hindi
8. भूलने की बीमारी से बचाव – Bhoolne ki bimari se bachav in hindi

भूलने की बीमारी क्या होती है – Bhoolne ki bimari kya Hoti hai in hindi

भूलने की बीमारी क्या होती है - Bhoolne ki bimari kya Hoti hai in hindi

भूलने की बीमारी (amnesia) की समस्या अक्सर मस्तिष्क में किसी प्रकार की क्षति होने से या बीमारी के कारण होती है जिसमें यादें या बातें याद रखना बहुत ही मुश्किल होता है। कई व्यक्तियों को विभिन्न अवसादों और कृत्रिम नींद की दवाओं के उपयोग से भी अस्थायी रूप से भूलने की बीमारी हो सकती है। इस भूलने की बीमारी में स्मृति पूरी तरह से या आंशिक रूप से मेमोरी खोने की परेशानी होती है।

(और पढ़े – भूलने की बीमारी के घरेलू उपाय…)

भूलने की बीमारी के प्रकार – bhoolne ki bimari ke prakar in Hindi

  1. एन्टरोग्रेड अम्नेसिया – Anterograde amnesia in Hindi
  2. रेट्रोग्रेड अम्नेसिया – Retrograde amnesia in Hindi
  3. ट्रांसिएंट ग्लोबल अम्नेसिया – Transient global amnesia in Hindi
  4. ट्रॉमेटिक अम्नेसिया -Traumatic amnesia in Hindi
  5. चाइल्डहुड अम्नेसिया -Childhood amnesia in Hindi
  6. पोस्टहिप्नोटिक अम्नेसिया -Posthypnotic Amnesia in Hindi
  7. सोर्स अम्नेसिया – Source amnesia in Hindi
  8. प्रोसोपामनेसिया – Prosopamnesia in Hindi

भूलने की बीमारी के भी कई प्रकार होते है वो अलग अलग तरह के रोगियों में देखने को मिलते है, इस भूलने की बीमारी के प्रकारों में शामिल है-

एन्टरोग्रेड अम्नेसिया – Anterograde amnesia in Hindi

एन्टरोग्रेड अम्नेसिया - Anterograde amnesia in Hindi

इस प्रकार की भूलने की बीमारी में व्यक्ति नई जानकारी को याद नहीं रख पाता है। हाल ही में हुई चीजें और जानकारी जिन्हें शार्ट टर्म मेमोरी में संग्रहीत किया जाना चाहिए, वह गायब हो जाती हैं। यह रोग आमतौर पर मस्तिष्क आघात (brain trauma) की वजह से उत्पन्न होता है, जब सिर पर कोई जोरदार झटका लगता है जिसकी वजह से मस्तिष्क में क्षति पहुँचती है, उदाहरण के लिए। किसी व्यक्ति को चोट लगने से पहले हुई घटनाएं और डाटा याद रही होंगी।

(और पढ़े – ब्रेन स्ट्रोक के कारण लक्षण और बचाव…)

रेट्रोग्रेड अम्नेसिया – Retrograde amnesia in Hindi

रेट्रोग्रेड भूलने के बीमारी कुछ मायनों में एन्ट्रोग्रेड भूलने की बीमारी के बिलकुल विपरीत है, क्योकि इस प्रकार की भूलने की बीमारी में व्यक्ति आघात से पहले होने वाली घटनाओं को याद नहीं रख पाता है, लेकिन उन्हें आघात के बाद क्या हुआ इसका याद रहता है। कुछ दुर्लभ मामलों में ही, दोनों प्रकार की भूलने की बीमारी एक साथ देखी जाती है।

ट्रांसिएंट ग्लोबल अम्नेसिया – Transient global amnesia in Hindi

इस प्रकार की भूलने की बीमारी में टेम्परेरी मेमोरी लॉस की शिकायत होती है। और कुछ मामलों में यादो को फिर से याद करने में कठिनाई हो सकती है। इस तरह की भूलने की बीअरी बहुत ही दुर्लभ है यह ज्यादातर बड़े वयस्कों में होती है जिन्हें रक्त वाहिकाओं से सम्बंधित किसी प्रकार की बीमारी होती है।

ट्रॉमेटिक अम्नेसिया -Traumatic amnesia in Hindi

ट्रॉमेटिक भूलने की बीमारी की समस्या तब उत्पन्न होती है जब आपके सिर पर किसी प्रकार का कोई जोरदार झटका लगे या चोट लगे जैसा किसी कार एक्सीडेंट में होता है। इस तरह की स्थिति में व्यक्ति की मेमोरी जा सकती है या वो खुद कोमा में जा सकता है। अम्नेसिया आम तौर पर टेम्परेरी होता है पर यह इस बात पर निर्भर करता है की आपको कितनी गंभीर चोट आई है। ऐसे समय में भूलने की बीमारी की इस तरह की चोट का सबसे महत्वपूर्ण संकेत यह हो सकता है।

चाइल्डहुड अम्नेसिया -Childhood amnesia in Hindi

इस प्रकार की भूलने की बीमारी को शिशु रोग अम्नेसिया कहा जाता है। इस बीमारी में व्यक्ति को बचपन से होने वाली घटनाएं तक याद नहीं रहती है, यह समस्या अक्सर भाषा के विकास या मस्तिष्क के कुछ स्मृति क्षेत्रों के कारण बचपन में पूरी तरह से परिपक्व नहीं होने की वजह से होती है।

पोस्टहिप्नोटिक अम्नेसिया -Posthypnotic Amnesia in Hindi

पोस्टहिप्नोटिक भूलने की बीमारी में व्यक्ति सम्मोहन के दौरान भी घटनाओं को याद नहीं कर पाता है।

सोर्स अम्नेसिया – Source amnesia in Hindi

सोर्स अम्नेसिया में व्यक्ति कुछ सूचनाओं को तो याद रख सकता है लेकिन यह भूल जाता है कि उन्हें यह जानकारी कैसे या कहां से मिली है।

प्रोसोपामनेसिया – Prosopamnesia in Hindi

इस प्रकार की भूलने की बीमारी में व्यक्ति किसी के चेहरे को याद नहीं रख पाता है। इस तरह का रोग किसी व्यक्ति को बाद में होता है या उस व्यक्ति को पैदा होने के साथ ही यह बीमारी होती है।

भूलने की बीमारी के लक्षण – Bhoolne ki bimari ke lakshan in hindi

भूलने की बीमारी के लक्षण - Bhoolne ki bimari ke lakshan in hindi

भूलने की बीमारी के कुछ सामान्य से लक्षण देखने को मिलते है जिनसे भूलने की बीमारी के प्रकार का अंदाजा लगाया जा सकता है, जिनमें शामिल है-

  • यदि किसी व्यक्ति को एनोरोग्रेड भूलने की बीमारी है तो उसे नई जानकारी सीखने की क्षमता में परेशानी हो सकती है।
  • जब किसी व्यक्ति को रेट्रोग्रेड भूलने की बीमारी होती है तो उसमें जो लक्षण दिखाई देते है वह यह है की उस व्यक्ति को पिछली घटनाओं और पहले से परिचित जानकारी को याद रखने की क्षमता में परेशानी होती है।
  • अनियंत्रित मूवमेंट और झटके आने का मतलब किसी तरह की न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का संकेत हो सकता हैं।
  • भ्रम या भटकाव की स्थिति पैदा हो सकती है।
  • कुछ व्यक्तियों को शार्ट टर्म मेमोरी लोस, पार्शियल मेमोरी लॉस या टोटल मेमोरी लॉस की समस्याएं हो सकती हैं।
  • इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति चेहरे या स्थानों को पहचानने में असमर्थ हो सकता है।

(और पढ़े – अल्जाइमर डिजीज क्या है…)

भूलने की बीमारी के कारण – Bhulne ki bimari ke karan in hindi

  1. भूलने की बीमारी के मेडिकल कारण – Medical amnesia in Hindi
  2. भूलने की बीमारी के मनोवैज्ञानिक कारण – Psychological amnesia in Hindi

मस्तिष्क को प्रभावित करने वाली कोई भी बीमारी या चोट मेमोरी लॉस का कारण बन सकता है। मेमोरी फ़ंक्शन मस्तिष्क के कई अलग-अलग हिस्सों को एक साथ इकठ्ठा  करता है। मस्तिष्क संरचनाओं (brain structures) बनाने वाली लिम्बिक सिस्टम जैसे हिप्पोकैम्पस और थैलेमस को नुकसान पहुँचने से, भूलने की बीमारी हो सकती है क्योकि  लिम्बिक सिस्टम (limbic system) हमारी भावनाओं और यादों को नियंत्रित करता है।

भूलने के बीमारी के दो तरह के कारण होते है एक मेडिकल अम्नेसिया और दूसरा मनोवैज्ञानिक अम्नेसिया (Psychological amnesia) ।

भूलने की बीमारी के मेडिकल कारण – Medical amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी के मेडिकल कारण - Medical amnesia in Hindi

मस्तिष्क में किसी तरह की चोट या क्षति की वजह से होने वाली भूलने की बीमारी। इसके मुख्य कारण होते है-

  • आघात (stroke)
  • किसी तरह के बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण या एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया के कारण।
  • एन्सेफलाइटिस या मस्तिष्क की सूजन के कारण।
  • सीलिएक रोग की वजह से भी भूलने की बीमारी, भ्रम और व्यक्तित्व परिवर्तन हो सकता है।
  • ऑक्सीजन की कमी होने से, जिसके वजह से दिल का दौरा, श्वसन संकट या कार्बन मोनोऑक्साइड विषाक्तता (carbon monoxide poisoning) जैसी परेशानी हो सकती है।
  • कुछ दवाएँ लेने से, जैसे नींद की दवा।
  • Subarachnoid रक्तस्राव, जिसकी वजह से खोपड़ी और मस्तिष्क के बीच के क्षेत्र में रक्तस्राव होता है।
  • ब्रेन ट्यूमर की वजह से जिसके कारण मेमोरी में शामिल मस्तिष्क का एक हिस्सा प्रभावित होता है।
  • इलेक्ट्रोकोनवल्सी थेरेपी (ईसीटी), या इलेक्ट्रोशॉक थेरेपी, एक तरह का मनोरोग उपचार जिसमें दौरे के चिकित्सीय प्रभाव के कारण, अस्थायी मेमोरी लॉस हो सकता है।
  • किसी प्रकार की सिर की चोटें, जो मेमोरी को नुकसान पहुंचा सकती हैं जो आमतौर पर अस्थायी होती हैं।

(और पढ़े – एन्सेफलाइटिस (मस्तिष्क में सूजन) क्या है लक्षण कारण जांच इलाज और बचाव…)

भूलने की बीमारी के मनोवैज्ञानिक कारण – Psychological amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी के मनोवैज्ञानिक कारण - Psychological amnesia in Hindi

इस तरह की भूलने की बीमारी को विघटनकारी भूलने की बीमारी (dissociative amnesia) के रूप में भी जाना जाता है। यह समस्या एक तरह के भावनात्मक सदमे के कारण होती है, जैसे-

ऐसी कोई भी असहनीय जीवन की स्थिति जो गंभीर मनोवैज्ञानिक तनाव का कारण बन सकती है और आंतरिक संघर्ष की वजह से भूलने की बीमारी में परिवर्तित हो सकती है।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

भूलने की बीमारी के जोखिम और जटिलताएं – Bhoolne ki bimari ke jokhim aur jatila in Hindi

भूलने की बीमारी के जोखिम और जटिलताएं - Bhoolne ki bimari ke jokhim aur jatila in Hindi

भूलने की बीमारी के कुछ संभावित जोखिम और जटिलताएं भी हो सकती है, यदि आपने इसको पहले कभी अनुभव किया हो तो, जिसमें शामिल है-

  • मस्तिष्क की सर्जरी, सिर पर चोट या कोई आघात (Brain surgery, head injury or trauma)
  • शराब का सेवन करना (Alcohol abuse)
  • बरामदगी (Seizures)

(और पढ़े – शराब पीने के फायदे और नुकसान और शरीर पर इसका प्रभाव…)

भूलने की बीमारी की जांच – Bhoolne ki bimari ki janch in hindi

भूलने की बीमारी की जांच - Bhoolne ki bimari ki janch in hindi

भूलने की बीमारी की जांच किसी डॉक्टर या न्यूरोलॉजिस्ट के द्वारा की जा सकती है। भूलने की बीमारी की जांच करने के लिए, डॉक्टर मेमोरी लॉस के अन्य संभावित कारणों, जैसे

  • अल्जाइमर रोग, डिमेंशिया के अन्य रूपों, अवसाद या किसी प्रकार के ब्रेन ट्यूमर का पता लगाने के लिए एक व्यापक मूल्यांकन करते है।
  • शुरूआती जांच में डॉक्टर आपसे मेमोरी लॉस के साथ-साथ आपके अन्य लक्षणों के बारे में प्रश्न पूछकर जांच शुरू कर सकते है। डॉक्टर अपने मूल्यांकन में मदद के लिए परिवार के किसी सदस्य या देखभाल करने वाले से भी सवाल पूछ सकते हैं, क्योंकि हो सकता है कि आप उनके सवालों के जवाब याद न कर पाएं।
  • मेमोरी लॉस को समझने के लिए डॉक्टर कई प्रश्न पूछ सकते है। जिन सवालों पर ध्यान दिया जा सकता है,उनमें शामिल हैं-
  • मेमोरी लॉस का प्रकार- अभी का या दीर्घकालिक
  • भूलने की बीमारी की समस्याएं कब शुरू हुईं और कैसे आगे बढ़ीं
  • मेमोरी लॉस को ट्रिगर करने वाले कारक, जैसे कि सिर में चोट, स्ट्रोक या सर्जरी
  • भूलने की बीमारी का पारिवारिक इतिहास, विशेष रूप से कोई न्यूरोलॉजिकल रोग
  • नींद की दवा और शराब का उपयोग
  • अन्य लक्षण जैसे भ्रम, भाषा की समस्याएं, व्यक्तित्व में बदलाव या स्वयं की देखभाल करने में असमर्थ होना
  • दौरे पड़ना, सिरदर्द, अवसाद या कैंसर का इतिहास होना  

भूलने की बीमारी की जाँच के लिए शारीरिक परीक्षण (Physical examination)

शारीरिक परीक्षा में सजगता (reflexes), संवेदी कार्य (sensory functions), संतुलन (balance) और मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम के अन्य शारीरिक पहलुओं की जांच के लिए एक न्यूरोलॉजिकल परीक्षा की जा सकती है।

भूलने की बीमारी की जाँच के लिए संज्ञानात्मक परीक्षण (Cognitive tests)

  • इस तरह के परीक्षण में डॉक्टर व्यक्ति की सोच, निर्णय और हाल ही में और दीर्घकालिक स्मृति का परीक्षण करते है। वह व्यक्ति के ज्ञान की जांच सामान्य जानकारी के द्वारा करेंगे  जैसे कि वर्तमान राष्ट्रपति का नाम – साथ ही व्यक्तिगत जानकारी और पिछली घटनाएं। डॉक्टर पीड़ित व्यक्ति को शब्दों की एक सूची दोहराने के लिए भी कह सकते हैं।
  • स्मृति मूल्यांकन (memory evaluation) मेमोरी लॉस की सीमा निर्धारित करने में मदद कर सकता है और व्यक्ति को किस प्रकार की सहायता की आवश्यकता है, इसके बारे में जानकारी प्रदान करता है।

भूलने की बीमारी की जाँच के लिए नैदानिक ​​परीक्षण (Diagnostic tests)

इस परीक्षण में डॉक्टर आपकी जांच के लिए विभिन्न तरीके अपना सकता है, जैसे-

  • मस्तिष्क की क्षति या असामान्यता की जांच करने के लिए इमेजिंग परीक्षण करवा सकता है-जिसमें एमआरआई और सीटी स्कैन शामिल हैं।
  • संक्रमण, पोषण संबंधी कमियों या अन्य मुद्दों की जांच के लिए रक्त परीक्षण करवाया जा सकता है।
  • जब्ती गतिविधि (seizure activity) की उपस्थिति की जांच करने के लिए इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (electroencephalogram) का उपयोग किया जा सकता है।

(और पढ़े – सीटी स्कैन क्या है कैसे होता है, कीमत, फायदे और नुकसान…)

भूलने की बीमारी का इलाज – Bhulne ki bimari ka ilaj in hindi

भूलने की बीमारी का इलाज - Bhulne ki bimari ka ilaj in hindi

भूलने की बीमारी का इलाज करने के लिए तकनीक का सहारा लिया जा सकता है। वैसे तो कई प्रकार की भूलने की बीमारी अपने आप ही ठीक हो जाती है परन्तु कुछ अंतर्निहित (underlying) कंडीशन और रोगों की वजह से इसके इलाज में परेशानी भी हो सकती है। कुछ सामान्य इलाज की प्रक्रिया में शामिल है-

भूलने की बीमारी का इलाज व्यावसायिक चिकित्सा द्वारा (Occupational therapy)

कोई भी व्यक्ति भूलने की बीमारी का इलाज करने के लिए व्यावसायिक चिकित्सक (occupational therapist) की मदद ले सकता है। इस तरह के इलाज में डॉक्टर व्यक्ति द्वारा भूल गयी यादों और नाई जानकारियों को वापस लाने में मदद करता है। मेमोरी प्रशिक्षण का भी उपयोग किया जा सकता है जिसमें जानकारी के आयोजन के लिए अलग-अलग रणनीतियाँ शामिल होती हैं ताकि याद रखने में आसानी हो और विस्तारित बातचीत की समझ में सुधार हो सके।

भूलने की बीमारी का इलाज तकनीकी सहायता से (Technological assistance)

भूलने की बीमारी से पीड़ित कई लोगों को स्मार्ट तकनीक का उपयोग करने से इसका इलाज करने में मदद मिल सकती है, जैसे कि स्मार्टफोन या हाथ से पकड़े जाने वाले टैबलेट डिवाइस की सहायता से यह इलाज किया जा सकता है। कुछ प्रशिक्षण और अभ्यास के साथ, यहां तक ​​कि गंभीर भूलने की बीमारी वाले लोग भी इन इलेक्ट्रॉनिक आयोजकों का उपयोग दिन-प्रतिदिन के कार्यों में मदद करने के लिए कर सकते हैं, जैसे स्मार्टफ़ोन को पीड़ित व्यक्ति को महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में याद दिलाने या दवाएँ लेने के लिए प्रोग्राम किया जा सकता है।

कम तकनीक वाले मेमोरी डिवाइस में नोटबुक, वॉल कैलेंडर, पिल माइंडर्स और लोगों और स्थानों की तस्वीरें शामिल हो सकती हैं।

भूलने की बीमारी का इलाज के लिए दवाईयां और सप्लीमेंट (Medications or supplements)

अभी तक तो अधिकांश प्रकार के भूलने की बीमारी के इलाज के लिए कोई दवा उपलब्ध नहीं है। लेकिन कुछ बातों का ध्यान रख कर आप भूलने की बीमारी को ठीक करने में थोड़ी मदद कर सकते है। जिसमें भरपूर पोषक तत्त्व लेना और शराब आदि का सेवन ना करना शामिल है।

(और पढ़े – मानसिक रोग के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, और बचाव…)

भूलने की बीमारी से बचाव – Bhoolne ki bimari se bachav in hindi

भूलने की बीमारी से बचाव - Bhoolne ki bimari se bachav in hindi

भूलने की बीमारी का उपचार और बचाव कुछ संभावित तरीकों से किया जा सकता है, जैसा की हमने बताया मस्तिष्क को नुकसान पहुंचना ही भूलने की बीमारी का मूल कारण है। इसलिए मस्तिष्क को चोट से बचाने के लिए आप कुछ महत्वपूर्ण कदम उठा सकते है, जिनमें शामिल है- शराब का अधिक सेवन करने से बचें। गाड़ी चलाते समय हेलमेट पहनें और ड्राइविंग करते समय सीट बेल्ट लगायें। मस्तिष्क में हुए किसी भी संक्रमण का इलाज जल्दी से करें ताकि उसे मस्तिष्क में फैलने का मौका न मिल सके।

और यदि आपको गंभीर सिरदर्द या एक तरफ सुन्न जैसा एहसास हो या पैरालिसिस के लक्षण दिखाई दें तो तुरन्त इसका उपचार करवाएं नहीं तो इससे भी भूलने की बीमारी की संभावना बढ़ सकती है।

(और पढ़े – याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय, दवा और तरीके…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration