जानिए यौन संबंध में सहमति का क्या है मतलब, यौन सहमति क्यों है जरूरी - Physical relationship with mutual consent in Hindi 
सेक्स एजुकेशन

शारीरिक संबंध बनाने से पहले यौन सहमति क्यों है जरूरी – Physical relationship with mutual consent in Hindi

शारीरिक संबंध बनाने से पहले यौन सहमति क्यों है जरूरी - Physical relationship with mutual consent in Hindi

Sex with mutual consent in Hindi: आपने वह मुहावरा तो जरूर सुना होगा कि “ना का मतलब सिर्फ ना” होता है। इस वाक्य का सामान्य सा अर्थ यह है कि जब कोई व्यक्ति यौन गतिविधि के लिए मना करता है तो इसका मतलब यह है कि वह इसके लिए तैयार नहीं है। लेकिन आज के समय में शारीरिक संबंधों में हमेशा सहमति का उल्लंघन किया जाता है और ज्यादातर लोग अपने पार्टनर से पूछे बिना या फिर उसकी मर्जी के खिलाफ उसके साथ शारीरिक संबंध बनाते हैं। अगर आप इसके बारे में अधिक जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि यौन सहमति का क्या अर्थ है और शारीरिक संबंध में यौन सहमति क्यों है जरूरी।

विषय सूची

  1. यौन सहमति क्या है? – What is sexual consent in Hindi
  2. यौन सहमति कैसे दी जाती है – How to give sexual consent in Hindi
  3. इन चीजों को यौन सहमति नहीं समझनी चाहिए – Sexual Consent should not be assumed in Hindi
  4. सेक्स के लिए सहमति क्यों जरूरी है – Sexual consent kyon hai jaruri in Hindi
  5. यौन सहमति नहीं मिलने पर क्या हो सकता है – Yon sahmati nhi milne par kya hota hai in Hindi
  6. किस करने की सहमति देना क्या यौन सहमति है – kiss karne ki sehmati kya yaun sehmati hai in Hindi

यौन सहमति क्या है? – What is sexual consent in Hindi

यौन सहमति क्या है? - What is sexual consent in Hindi

जब कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति के साथ यौन गतिविधि करने या शारीरिक संबंध बनाने के लिए तैयार या सहमत होता है या फिर उसे अनुमति देता है या हां कहता है तो इसे यौन सहमति कहा जाता है। सहमति हमेशा स्वतंत्र रुप से दी जाती है और इसके पीछे किसी तरह का कोई दबाव नहीं होता है। अपने साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए व्यक्ति हां और ना दोनों बोल सकता है और यहां तक कि सेक्स के दौरान उसे रोक भी सकता है।

वास्तव में प्रत्येक व्यक्ति को यह तय करने का अधिकार है कि वह सेक्स करना चाहता है या नहीं। इसके अलावा वह किसी भी बिंदु पर अपना मूड भी बदल सकता है।  इसके अलावा यौन सहमति का एक अर्थ यह भी है कि अगर आप कामुक तरीके से किसी व्यक्ति को स्पर्श करना या चूमना चाहते हैं या फिर शारीरिक संबंध बनाना चाहते हैं तो पहले आपको उससे पूछना पड़ेगा।

(और पढ़े – लड़की को सेक्स करने के लिए कैसे राजी करें?)

यौन सहमति कैसे दी जाती है – How to give sexual consent in Hindi

यौन सहमति कैसे दी जाती है - How to give sexual consent in Hindi

आमतौर पर यौन सहमति किसी के कहने से नहीं बल्कि अपनी मर्जी से दी जाती है। यौन सहमति के कई प्रकार हैं। आइये जानते हैं कैसे दी जाती है यौन सहमति।

स्वतंत्र रुप से: सेक्स के लिए सहमति अपनी मर्जी पर निर्भर करता है और यह बिना किसी दबाव या हेरफेर के होता है। इसके अलावा ड्रग्स या एल्कोहल देकर किसी से यौन सहमति लेना गुनाह है।

किसी भी समय रोका जा सकता है: शारीरिक संबंध बनाते समय आप किसी भी समय अपने सेक्स पार्टनर को रोक सकते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप उस व्यक्ति के साथ पहले भी सेक्स कर चुके हैं या फिर आप दोनों बिस्तर पर नंगे पड़े हैं। अगर आप असहज महसूस कर रहे हैं तो आपको रोकने का अधिकार है।

सूचित करना: यौन क्रिया करते समय कोई व्यक्ति अगर आपको कुछ बताकर करता है और आप राजी हैं तो यह यौन सहमति है। लेकिन अगर कोई व्यक्ति कहता है कि वह कंडोम लगाकर सेक्स करेगा लेकिन बाद में वह कंडोम नहीं लगाता है तो इसे आपकी सहमति नहीं मानी जाएगी।

उत्साहित होकर: जब सेक्स की बात आती है तो आप जो करना चाहते हैं आप उसके लिए सहमति दें ना कि उस चीज के लिए सहमति दें जिसके लिए दूसरा व्यक्ति आपसे उम्मीद लगा बैठा है लेकिन आप वैसा नहीं करना चाहते।

विशेष तरीके से: किसी एक चीज के लिए हां कहने का अर्थ यह नहीं है कि आपने सभी चीजों के लिए हां कह दिया। उदाहरण के लिए यदि आपने किसी को स्पर्श करने की सहमति दी है तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपने उसे सेक्स करने की भी अनुमति दे दी है।

(और पढ़े – यौन इच्छा क्या है, यौन इच्छा में कमी के कारण, लक्षण और उपचार…)

इन चीजों को यौन सहमति नहीं समझनी चाहिए – Sexual Consent should not be assumed in Hindi

इन चीजों को यौन सहमति नहीं समझनी चाहिए - Sexual Consent should not be assumed in Hindi

हम में से प्रत्येक को हर बार शारीरिक संबंध बनाने से पहले यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि दूसरा व्यक्ति इसके लिए राजी है या नहीं। अगर आप समझ नहीं पा रहे हैं कि वह राजी है या नहीं तो उससे दोबारा से पूछें लेकिन किसी भ्रम में ना रहें। नीचे दी गयी इन बातों को आप अपने पार्टनर की सहमति ना समझें।

बॉडी लैंग्वेज, अपीयरेंस या नॉन-वर्बल कम्युनिकेशन: यदि कोई व्यक्ति सेक्सी ड्रेस पहना हो, आपको देखकर मुस्कुराता हो या फिर आकर्षक दिखता हो तो इसे सेक्स के लिए सहमति ना समझ बैठें।

डेटिंग संबंध या पिछली यौन गतिविधि: किसी व्यक्ति को आप डेट कर रहे हैं या उसके साथ पहले शारीरिक संबंध बना चुके हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि इस बार भी वह आपके साथ सेक्स करने के लिए राजी है।

विवाह: शादी के बाद भी आप अपने पार्टनर की सहमति के बिना जबरदस्ती उसके साथ शारीरिक संबंध नहीं बना सकते हैं। वैवाहिक बलात्कार उतना ही गंभीर और दोषपूर्ण है जितना कि कोई और यौन उत्पीड़न।

चुप्पी, निष्क्रियता, प्रतिरोध की कमी या गतिहीनता: किसी व्यक्ति की चुप्पी को सहमति नहीं माना जाना चाहिए। एक व्यक्ति जो यौन गतिविधि में संलग्न होने के प्रयासों का जवाब नहीं देता है, भले ही वे मौखिक रूप से न कहें या शारीरिक रूप से विरोध न करें, स्पष्ट रूप से यौन गतिविधि के लिए सहमत नहीं है।

(और पढ़े – इन नॉन-सेक्शुअल तरीकों से भी बढ़ा सकते हैं पार्टनर की उत्तेजना…)

सेक्स के लिए सहमति क्यों जरूरी है – Sexual consent kyon hai jaruri in Hindi

सेक्स के लिए सहमति क्यों जरूरी है - Sexual consent kyon hai jaruri in Hindi

वास्तव में किसी भी व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बनाने से पहले उसकी सहमति लेना इसलिए जरूरी है ताकि इससे यह पता चल सके कि उस व्यक्ति की खुद की इच्छा है और वह अपने मन से प्रसन्नतापूर्वक और सहज रुप से आपके साथ शारीरिक संबंध बनाना चाहता है और उस पर किसी भी तरह का दबाव नहीं है। इसके अलावा आप उसकी मर्जी से उसे चूम रहे हैं या स्पर्श एवं पेनिट्रेट कर रहे हैं। अगर ये सभी गतिविधियां आप उसकी सहमति के बिना करदे हैं तो यह कानून के खिलाफ है। यौन उत्पीड़न एक गंभीर अपराध है और इसके लिए आपको दंड मिल सकता है।

आमतौर पर यह न सिर्फ एक अपराध है बल्कि बलात्कार और यौन उत्पीड़न के जुर्म में आपको आजीवन कारावास हो सकती है। सेक्स और सहमति को लेकर कई कानून हैं। हालांकि कुछ राज्यों में इससे जुड़े अलग अलग कानून हो सकते हैं लेकिन सजा का प्रावधान हर जगह है।

(और पढ़े – जानें क्या होता है शारीरिक संबंध बनाने के सही तरीका…)

यौन सहमति नहीं मिलने पर क्या हो सकता है – Yon sahmati nhi milne par kya hota hai in Hindi

यौन सहमति नहीं मिलने पर क्या हो सकता है - Yon sahmati nhi milne par kya hota hai in Hindi

यदि कोई व्यक्ति आपको यौन सहमति नहीं देता है तो आप जो कुछ करना चाहते हैं, वह सब कुछ उसके साथ जबरदस्ती नहीं कर सकते हैं।

यौन सहमति के बिना यौन क्रिया करने से आप उस व्यक्ति के व्यक्तिगत सीमाओं का उल्लंघन कर सकते हैं और उन्हें बुरी तरह चोट पहुँचा सकते हैं।

यदि आप किसी को उनकी सहमति के बिना यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर करते हैं तो आप पर यौन शोषण का आरोप लगाया जा सकता है और अदालत में ले जाया जा सकता है और एक आपराधिक कृत्य का दोषी ठहराया जा सकता है।

(और पढ़े – यौन उत्पीड़न क्या होता है इससे कैसे बचें…)

किस करने की सहमति देना क्या यौन सहमति है – kiss karne ki sehmati kya yaun sehmati hai in Hindi

किस करने की सहमति देना क्या यौन सहमति है - kiss karne ki sehmati kya yaun sehmati hai in Hindi

आमतौर पर अंतरंग होने के कई प्रकार होते हैं। उदाहरण लिए किसी व्यक्ति के हाथ को पकड़ना, उसे गले लगाना, लव लेटर लिखना और उसे किस करना। आपको किसी व्यक्ति ने किस करने की अनुमति दे दी है इसका अर्थ यह नहीं है कि आपको यौन सहमति भी मिल गयी है। और वह आपके साथ सेक्स करने के लिए तैयार है। इसलिए आप उस व्यक्ति की सहमति के बिना उसे चूमने से ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं। अगर आप इससे ज्यादा कुछ करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको उससे पूछना पड़ेगा और उसकी सहमति लेनी पड़ेगी।

(और पढ़े – कैसे पता करें कि गर्लफ्रेंड सेक्स के लिए राजी है…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration