जननांग हरपीज (जेनिटल हर्पीज) के कारण, लक्षण, निदान और उपचार – Genital Herpes Causes, symptoms, and treatment in Hindi




जननांग हरपीज (जेनिटल हर्पीज) के कारण, लक्षण, निदान और उपचार – Genital Herpes Causes, symptoms, and treatment in Hindi
Written by Daivansh

Genital Herpes in hindi हरपीज एचएसवी (herpes simplex virus) के कारण होने वाला एक संक्रमण है। जननांग हरपीज (जेनिटल हर्पीज़) भी इस प्रकार के संक्रमण का एक प्रकार है। यह संक्रमण शरीर के विभिन्‍न हिस्‍सों में हो सकता है विशेष रूप से उन जगहों में जहां अधिक समय तक नमी होती है। हरपीज एक लंबी अवधि की स्थि‍ति है। हालांकि कुछ लोगों में इसके लक्षण नहीं देते हैं भले ही वे इस प्रकार की समस्‍या से पीड़ित हों। इसके लक्षणों में छाले, अल्‍सर, मूत्र त्‍याग करते समय दर्द, आदि शामिल हैं। आइए जाने जननांग हर्पीज क्‍या है, कारण, लक्षण और इलाज के बारे में।

1. जननांग हरपीज क्‍या है – Genital Herpes Kya Hai in Hindi
2. जननांग हरपीज के कारण – Genital Herpes Ke Karan in Hindi
3. जननांग हरपीज के लक्षण – Genital Herpes Ke Lakshan in Hindi
4. गर्भावस्‍था में जननांग हरपीज होने पर क्‍या करें – genital herpes during pregnancy in Hindi
5. जननांग हरपीज का निदान – Genital Herpes Ka Nidan in Hindi
6. जननांग हरपीज का इलाज – Genital Herpes Ka Ilaj in Hindi
7. जननांग हरपीज के घरेलू उपचार – Home Remedies For Genital Herpes in Hindi

जननांग हरपीज क्‍या है – Genital Herpes Kya Hai in Hindi

यह एक प्रकार का यौन संक्रमण से फैलने वाली बीमारी है। यह एसटीडी हर्पेटिक घावों का का कारण बनता है, जो कि दर्दनाक फोड़े है जो कि तरल पदार्थ से भरे होते हैं। इनसे चिपचिपा तरल निकलता है। जननांग हरपीज की समस्‍या 14 वर्ष की उम्र से लेकन 49 वर्ष की उम्र वाले लोगों को हो सकती है। यदि इसका समय पर उपचार नहीं किया जाता है तो इसके गंभीर परिणाम आ सकते हैं। आइए जाने जननांग हरपीज होने के कारणों के बारे में जिन्‍हें जानकर आप इससे बच सकते हैं।

जननांग हरपीज के कारण – Genital Herpes Ke Karan in Hindi

जननांग हरपीज के कारण – Genital Herpes Ke Karan in Hindi

यह यौन संक्रमण दो प्रकार के हरपीस सिम्‍प्‍लेक्‍स वायरस के कारण होता है। पहला एचएसवी-1 (herpes simplex virus-1) जो कि आमतौर पर मुंह या होंठों के आसपास होने वाली दाद से संबंधित है और दूसरा कारण एचएसवी-2 (herpes simplex virus-2) जो कि आमतौर पर जननांग हरपीज का कारण बनता है।

आपकी श्‍लेष्‍म झिल्‍ली ऊतकों की परतें पतली होती हैं, इस कारण ये वायरस श्‍लेष्‍म झिल्‍ली के माध्‍यम आपके शरीर में आते हैं। जो आपके शरीर के छोटे-छोटे घावों या चोटों, आपकी नाक, मुंह और जननांगों में पाए जा सकते हैं। यदि एक बार यह वायरस आपके शरीर में प्रवेश करता है तो वह आपके शरीर की कोशिकाओं में खुद को छिपा लेता है और अपने आस-पास के वातावरण को अनुकूलित कर लेता है। जिससे उन्‍हें ढूंढ़ पाना मुश्किल होता है। ये दोनों प्रकार के वायरस पीड़ित लोगों के निम्‍न शारीरिक तरल पदार्थों में शामिल हो सकते हैं :

(और पढ़े – जानें प्रेगनेंसी में योनि से सफेद स्राव होना सामान्य है या नहीं…)

जननांग हरपीज के लक्षण – Genital Herpes Ke Lakshan in Hindi

फफोलों की उपस्थिति के आधार पर जननांग हरपीज के लक्षणों की पहचान की जाती है। जननांग हरपीज होने की स्थिति में आपको इस प्रकार के लक्षण 2 दिन से लिए 30 दिनों के बीच में दिखाई देते हैं।

पुरुषों के लिए इसके सामान्‍य लक्षणों में लिंग, अंडकोश की थैली (scrotum) या गुदा क्षेत्र और इसके आस-पास छाले शामिल हैं।

महिलाओं के लिए सामान्‍य लक्षण योनि, गुदा (anus) और क्षेत्र के आस-पास फफोले शामिल हैं।

पुरुषों और महिलाओं के लिए सामान्‍य लक्षणों में शामिल हैं :

  • इस प्रकार के फफोले (Blisters) आपके मुंह में, होंठ, चेहरे और कहीं भी संक्रमित क्षेत्र में आ सकते हैं।
  • संक्रमित क्षेत्र में फफोले आने से पहले खुजली और तरल स्राव होता है।
  • फफोले छाले युक्‍त (ulcerated) और तरल पदार्थ से भरे हो सकते हैं।
  • इस प्रकार की समस्‍या होने पर एक सप्‍ताह के बाद संक्रमित क्षेत्र में एक सप्‍ताह के बाद परत दिखाई दे सकती है।
  • आपकी लसीका ग्रंथि (lymph glands) में सूजन हो सकती है जो कि आपके शरीर में आने वाले संक्रमण से लड़ती है।
  • आपको इस प्रकार के वायरस के संक्रमण के कारण सिर दर्द, बदन दर्द और बुखार (fever) भी हो सकता है।

एक गर्भवती मां जिसे हरपीस के लक्षण होते हैं उससे जन्‍मे बच्‍चे में हरपीज के सामान्‍य लक्षणों में चेहरे, शरीर और जननांगों पर अल्‍सर हो सकते है। कुछ मामलो में इस संक्रमण के गंभीर लक्षण भी देखने को मिलते हैं जैसे कि

  • अंधापन
  • मस्तिष्‍क क्षति
  • मौत

यह बहुत ही आवश्‍यक है कि ऐसी महिलाएं अपने डॉक्‍टर को अपने हरपीज संक्रमण को बताएं, ताकि प्रसव के दौरान आपके बच्‍चे को वायरस के संक्रमण से बचाया जा सके।

(और पढ़े – मानसिक रोग के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, और बचाव…)

गर्भावस्‍था में जननांग हरपीज होने पर क्‍या करें – genital herpes during pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था में जननांग हरपीज होने पर क्‍या करें - genital herpes during pregnancy in Hindi

वे महिलाएं जिन्‍हें गुप्‍तांग हरपीज की समस्‍या है, यदि वे गर्भवती (Pregnant) हैं तो उन्‍हें विशेष सावधानी की आवश्‍यकता होती है। यदि उन्‍हें किसी प्रकार का यौन संक्रमण है तो य‍ह होने वाले बच्‍चे के लिए घातक हो सकता है। यदि आप नार्मल डिलेवरी कराना चाहती हैं, तो यह संक्रमण आपके बच्‍चे को भी फैल सकता है। इसलिए ऐसी स्थिति में आपको अपने डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

आपका डॉक्‍टर आपके प्रसव के पूर्व और प्रसव के बाद होने वाली संभावनाओं की जांच करेगा। यदि आपकी समस्‍या ज्‍यादा गंभीर है तो वह बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए प्रसव के अन्‍य विकल्‍पों जैसे ऑपरेशन आदि को भी चुन सकता है। जननांग हरपीज गर्भपात या समयपूर्व जन्‍म (Miscarriage or premature birth) जैसी गंभीर गर्भावस्‍था जटिलताओं का कारण बन सकती है।

(और पढ़े – प्रेगनेंट हैं तो नॉर्मल डिलीवरी के इन लक्षणों को जानें…)

जननांग हरपीज का निदान – Genital Herpes Ka Nidan in Hindi

जननांग हरपीज का निदान – Genital Herpes Ka Nidan in Hindi

आपका डॉक्‍टर आमतौर पर हरपीज वायरस के संक्रमण द्वारा हुए घावों को देखकर इसका निदान कर सकता है। लेकिन आपका डॉक्‍टर इसके लिए कुछ परीक्षण भी कर सकता है। इस संक्रमण की पुष्टि करने से पहले वह एक रक्‍त परीक्षण कर के हर्पीज सिम्‍प्‍लेक्‍स वायरस (herpes simplex virus) की पुष्टि और निदान कर सकता है। यदि आपको ऐसा लगता है कि आप जननांग हरपीज के संपर्क में आ चुके हैं तो आपको अपने डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए, भले ही आपको इसके किसी प्रकार के लक्षण प्राप्‍त न हुए हों।

(और पढ़े – हर्पीस के कारण, लक्षण, दवा और उपचार…)

जननांग हरपीज का इलाज – Genital Herpes Ka Ilaj in Hindi

जननांग हरपीज का इलाज – Genital Herpes Ka Ilaj in Hindi

आप इस संक्रमण (Infection) का इलाज कराने से पहले इस बात को समझ लें कि उपचार इस संक्रमण के प्रकोप को कम कर सकता है, लेकिन यह आपके हर्पीज सिम्‍प्‍लेक्‍स वायरस का इलाज नहीं कर सकता है। आप इस प्रकार के संक्रमण का इलाज करने के लिए एंटीवायरल दवाओं का उपयोग कर सकते हैं। इन दवाओं का उपयोग आप अपने घावों के स्राव को रोकने और उनके दर्द को कम करने के लिए उपयोग कर सकते हैं। इस प्रकार की दवाओं का उपयोग जननांग हरपीज के अन्‍य लक्षणों जैसे कि खुजली और जलन (Itching and irritation) आदि का उपचार भी किया जा सकता है।

(और पढ़े – सिफलिस (उपदंश) के कारण लक्षण और उपचार…)

जननांग हरपीज के घरेलू उपचार – Home Remedies For Genital Herpes in Hindi

यौन संक्रमण से उत्पन्न जननांग हरपीज का उपचार करने के लिए हम कुछ विशेष प्रकार की दवाओं का उपयोग कर सकते हैं। लेकिन यदि आप चाहें तो इसके लिए कुछ प्रभावकारी घरेलू उपचार भी मौजूद हैं जो बिना किसी अतिरिक्‍त परेशानी के इस समस्‍या से छुटकारा दिला सकते हैं। आइए जाने जननांग हरपीज को दूर करने के घरेलू उपायो के बारे में।

  1. सेंधा नमक जननांग हरपीज के उपचार के लिए – Genital Herpes Ke Liye Sendha Namak in Hindi
  2. जननांग हरपीज का देसी इलाज है एलोवेरा – Genital Herpes Ke Liye Faydemand Aloe Vera in Hindi
  3. जननांग हरपीज के घरेलू उपचार में करें ठंडी शिकाई – Jannang Herpes Ke Upachar Thandi Shikai in Hindi
  4. नारियल तेल जननांग हरपीज के लिए लाभकारी – Jannang Herpes Ke Liye Labhkari Nariyal Tel in Hindi
  5. जननांग अल्‍सर का इलाज हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड – Genital Herpes for Hydrogen Peroxide in Hindi
  6. हर्पिस का देसी इलाज सेब का सिरका – Herpes Ka Desi Ilaj Seb Ka Sirka in Hindi
  7. जननांग हरपीज के घरेलू उपाय लहसुन – Jannang Herpes Ke Gharelu Upay Lahsun in Hindi
  8. बेकिंग सोडा जननांग हरपीज के लिए गुणकारी – Baking Soda Good For Genital Herpes in Hindi

सेंधा नमक जननांग हरपीज के उपचार के लिए – Genital Herpes Ke Liye Sendha Namak in Hindi

सेंधा नमक जननांग हरपीज के उपचार के लिए – Genital Herpes Ke Liye Sendha Namak in Hindi

उपचार गुणों की उपस्थिति के कारण सेंधा नमक का उपयोग गुप्‍तांग हरपीस के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है। यह न केवल आपकी त्‍वचा को पुनर्जीवित करने में मदद करता है, बल्कि यह आपके शरीर पर घावों को कम करने में भी मदद करता है। यदि आप जननांग हरपीज से ग्रसित हैं तो अपने नहाने के पानी में सेंधा नमक का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप 1 बाल्‍टी गर्म पानी में लगभग 1 चौथाई सेंधा नमक मिलाएं और इस पानी से नहाएं। यह आपके शरीर में मौजूद सभी प्रकार के हानिकारक विषाक्‍त पदार्थों को बाहर करने में मदद करता है। इस तरह से आप सेंधा नमक का उपयोग कर गुप्‍तांग हरपीज के लक्षणों को कम कर सकते हैं।

(और पढ़े – सेंधा नमक के फायदे गुण लाभ और नुकसान…)

जननांग हरपीज का देसी इलाज है एलोवेरा – Genital Herpes Ke Liye Faydemand Aloe Vera in Hindi

जननांग हरपीज का देसी इलाज है एलोवेरा – Genital Herpes Ke Liye Faydemand Aloe Vera in Hindi

दुनिया भर में प्रसिद्ध ऐलोवेरा त्‍वचा संबंधित समस्‍याओं के लिए औषधी का काम करती है। इसकी त्‍वचा उपचार क्षमता और गुणों के कारण यह विभिन्‍न प्रकार की त्‍वचा समस्‍याओं जिनमें हरपीज भी शामिल है का उपचार के लिए उपयोग किया जाता है। जननांग हरपीज प्रभावित क्षेत्र में एलोवेरा लगाने पर यह जलन और दर्द से छुटकारा दिला सकता है बल्कि यह संक्रमित त्‍वचा को शीतलन प्रभाव के कारण आराम भी दिलाने में मदद करती है। बस आपको प्रभावित क्षेत्र मे एलोवेरा लगाना और इसे सूखने दें। यह आपको हरपीज से छुटकारा दिलाने का सबसे आसान तरीका हो सकता है।

(और पढ़े – एलोवेरा जूस बनाने की घरेलू विधि और फायदे…)

जननांग हरपीज के घरेलू उपचार में करें ठंडी शिकाई – Jannang Herpes Ke Upachar Thandi Shikai in Hindi

जननांग हरपीज के घरेलू उपचार में करें ठंडी शिकाई - Jannang Herpes Ke Upachar Thandi Shikai in Hindi

गुप्‍तांग में होने वाले संक्रमण के कारण होने वाली खुजली और दर्द से छुटकारा पाने का सबसे अच्‍छा उपाय है क‍ि आप प्रभावित क्षेत्र में ठंडी शिकाई करें। ठंडी शिकाई त्‍वचा के नीचे रक्‍त वाहिकाओं को आराम दिलाने में मदद करता है जो बदले में दर्द और सूजन को कम करता है। यह उपचार प्रक्रिया को तेज करने और आपके घावों को कम करने में भी सहायक होता है।

इसके लिए आप किसी तौलिये में बर्फ के कुछ टुकड़ों को लें और थोड़ी-थोड़ी देर के बाद प्रभावित क्षेत्र में रखें। दर्द और संक्रमण के प्रभाव को कम करने के लिए आप इस प्रक्रिया को 2 से 3 घंटों के बाद दोहराते रहें। लेकिन इस प्रक्रिया को दोहराते समय इस बात का ध्‍यान रखें की हर बार आप साफ तौलिया का इस्‍तेमाल करें। अन्‍यथा यह आपके संक्रमण और और अधिक फैला सकता है।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

नारियल तेल जननांग हरपीज के लिए लाभकारी – Jannang Herpes Ke Liye Labhkari Nariyal Tel in Hindi

नारियल तेल जननांग हरपीज के लिए लाभकारी - Jannang Herpes Ke Liye Labhkari Nariyal Tel in Hindi

आप गुप्‍तांग में होने वाले हरपीज के उपचार के लिए नारियल तेल के औषधीय गुणों का उपयोग कर सकते हैं। नारियल तेल में एंटीवायरल गुण होते हैं इसके साथ ही इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट गुण भी पर्याप्‍त मात्रा मे होते हैं जिनके कारण यह हरपीज के वायरसों को नष्‍ट करने की क्षमता रखते हैं। साथ नारियल तेल में मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को भी कम करते हैं। आप रात में सोने से पहले प्रभावित क्षेत्र में नारियल तेल का उपयोग कर सकते हैं, रात भर नारियल तेल को लगे रहने के बाद आप सुबह इसे गर्म पानी से अच्‍छी तरह साफ करें।

आप इस तरह से नियमित रूप से प्रतिदिन नारियल तेल का उपयोग करें। इस उपचार को अधिक प्रभावी बनाने के लिए आप नारियल तेल में बराबर मात्रा में शहद मिलाएं और हरपीज के घावों के ऊपर लगाएं। आप इस विधि को दिन मे दो से तीन बार तक दोहराएं।

(और पढ़े – नारियल के तेल के फायदे और उपयोग…)

जननांग अल्‍सर का इलाज हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड – Genital Herpes for Hydrogen Peroxide in Hindi

जननांग अल्‍सर का इलाज हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड - Genital Herpes for Hydrogen Peroxide in Hindi

घरेलू उपचार के रूप में हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड का उपयोग जननांग हरपीज के इलाज के लिए किया जाता है। हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड में अतिरिक्‍त ऑक्‍सीजन अणु रासायनिक रूप से एनारोबिक (anaerobic) हानिकारक बैक्‍टीरिया और बायरस के साथ प्रतिक्रिया करता है और उन्‍हें नष्‍ट कर देता है और उपचार प्रक्रिया को गति देता है।

आप थोड़ी सी रूई में 3 प्रतिशत वाले हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड को लेकर प्रभावित क्षेत्र में लगाएं और कुछ देर के लिए छोड़ दें, और गर्म पानी से धो लें। कुछ दिनों तक आप इस प्रक्रिया को नियमित रूप से कुछ-कुछ देर के बाद दोहराते रहें। यह आपके जननांग हरपीज की समस्‍या को दूर करने में आपकी भरपूर मदद करती है।

(और पढ़े – गर्म पानी से नहाना सही या ठंडे पानी से, जानिए विज्ञान क्या कहता है…)

हर्पिस का देसी इलाज सेब का सिरका – Herpes Ka Desi Ilaj Seb Ka Sirka in Hindi

हर्पिस का देसी इलाज सेब का सिरका - Herpes Ka Desi Ilaj Seb Ka Sirka in Hindi

एंटीवायरल गुणों में समृद्ध होने के कारण सेब का सिरका इस संक्रमण के लिए जिम्‍मेदार वायरस को नष्‍ट करने में मदद करता है। सेब के सिरका में इन गुणों के अलावा कीटाणुशोधक, बांधने वाले और एंटी-इंफ्मेटरी गुण भी होते हैं जो जननांग हर्पिस के लक्षणों को कम करने और उनके पुन: उत्‍पन्‍न होने की संभावना को रोकने में मदद करते हैं।

सेब के सिरका में सूती कपड़े या कपास की रूई को भिंगों कर इसे प्रभावित क्षेत्र में रखें। इसे लगाने पर हल्‍की जलन होगी लेकिन इसे धोने से बचें। आप इस प्रक्रिया को दिन में 3 से 4 बार दोहराएं। इसके अलावा आप 1 बड़े चम्‍मच सेब के सिरका में थोड़ा सा शहद और 1 कप पानी मिलाएं। इस प्रकार के संक्रमण के प्रभाव को कम करने के‍ लिए आप इस मिश्रण को नियमित रूप से दिन में दो बार सेवन करें।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान…)

जननांग हरपीज के घरेलू उपाय लहसुन – Jannang Herpes Ke Gharelu Upay Lahsun in Hindi

जननांग हरपीज के घरेलू उपाय लहसुन - Jannang Herpes Ke Gharelu Upay Lahsun in Hindi

एलिसिन (allicin) की अच्‍छी मात्रा लहसुन में होती है जो कि एक रासायनिक यौगिक है। इस यौगिक में एंटीवायरल गुण होते हैं जो कि हरपीज के लिए जिम्‍मेदार वायरस को नष्‍ट करने में मदद करता है। इसके अलावा लहसुन में विटामिन सी भी होता है जो प्राकृतिक संक्रमण विरोधी इंटरफेरॉन (interferon) के उत्‍पादन को उत्‍तेजित करता है।

प्रभावित क्षेत्र में कच्‍चे लहसुन या लहसुन का तेल लगाएं और 15 मिनिट तक इंतेजार करें, शुरुआत में यह थोड़ा जलन करेगा लेकिन यह जल्‍द ही शांत हो जाता है। 15 मिनिट के बाद आप इसे गर्म पानी से साफ कर लें। अच्‍छे परिणाम प्राप्‍त करने के लिए आप इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहराएं। आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए प्रतिदिन खाली पेट कच्‍चे लहसुन की दो, तीन कलीयों का सेवन करें।

(और पढ़े – जानिए लहसुन के चमत्कारी स्वास्थ्यवर्धक गुणों के बारे में…)

बेकिंग सोडा जननांग हरपीज के लिए गुणकारी – Baking Soda Good For Genital Herpes in Hindi

बेकिंग सोडा जननांग हरपीज के लिए गुणकारी – Baking Soda Good For Genital Herpes in Hindi

गुप्‍तांग में होने वाली दाद का सबसे पुराने और प्रभावकारी उपचार के रूप बेकिंग सोडा का उपयोग किया जाता है। यह आपकी रसोई घर में आसानी से प्राप्‍त किया जा सकता है जो कि घावों का इजाल करने में मदद करता है। बेकिंग सोड़ा में घावों को सुखाने की क्षमता होती है। इसका उपयोग करने पर हरपीज की जलन और दर्द से भी छुटकारा दिला सकता है। इसका उपयोग करने के लिए आप कपास की रूई को पानी में गीला करें और फिर इसमें कुछ बेकिंग सोड़ा को डालें और इसे प्रभावित क्षेत्र में लगभग 1 घंटे के लिए लगाकर छोड़ दें। 1 घंटे के बाद आप इसे गर्म पानी से धो लें और इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहराएं। यह आपके जननांग हरपीज के प्रभाव और लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – बेकिंग सोडा से करें लिंग की जांच और जाने लड़का होगा या लड़की…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration