अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार – Irregular periods Causes, Symptoms, Treatment and Home remedies in Hindi

अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार - Irregular periods Causes, Symptoms, Treatment and Home remedies in Hindi
Written by Diksha

aniymit masik dharm in hindi मासिक धर्म पर कुछ लोग बात करने में संकोच करते हैं, लेकिन यह लड़कियों के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हम ये नहीं समझते की मासिक धर्म के आने के कारण ही लड़कियों में गर्भ धारण करने की क्षमता बनती है और वे आने वाली पीढ़ी को जन्म देने में सफल होती हैं। जब कोई स्त्री बच्चे पैदा करने में असमर्थ होती है या फिर उसको चेहरे पर बाल आने जैसी समस्याएं होने लगती हैं तब ये बात अच्छी नहीं लगती। लेकिन क्या आप जानते हैं की अनियमित माहवारी के चलते ही यह बुरे परिणाम सामने आते हैं इसलिए इस समस्या का वक़्त रहते निदान बहुत जरुरी है।

इर्रेगुलर पीरियड्स की समस्या कई वजहों से आ सकती हैं, जैसे खाने के विकार, वजन का घटना या बढ़ना, एनीमिया, रजोनिवृत्ति, थायराइड विकार, हार्मोनल असंतुलन, लीवर (liver) की बीमारी, तपेदिक (tuberculosis), गर्भपात (miscarriage), और अन्य स्वास्थ्य परिस्थितियां। लाइफस्टाइल ट्रिगर्स जैसे अत्यधिक व्यायाम, धूम्रपान, शराब का सेवन, कैफीन, अत्यधिक यात्रा, तनाव, और कुछ दवाएं जैसे जन्म नियंत्रण गोलियाँ इस समस्या का कारण बन सकती हैं। रजोनिवृत्ति के समय अनियमित पीरियड्स रहना आम बात है।

1. अनियमित मासिक धर्म क्या है – What is Irregular periods in Hindi
2. अनियमित पीरियड्स के अन्य प्रकार – Other types of irregular periods in Hindi
3. अनियमित मासिक धर्म के कारण – Aniyamit Mahwari Ke Karan in Hindi
4. निम्नलिखित कारक अनियमित या मिस्ड पीरियड्स को ट्रिगर कर सकते हैं- Causes that trigger irregular periods in Hindi

5. अन्य बीमारियां जिनके कारण हो सकती है अनियमित माहवारी – Other causes for and irregular periods in Hindi

6. अनियमित मासिक धर्म (इर्रेगुलर पीरियड्स) के लक्षण – Symptoms of irregular periods in Hindi
7. अनियमित माहवारी होने पर जोखिम – Risks related to irregular periods in Hindi
8. अनियमित मासिक धर्म या पीरियड्स की जांच – Tests for Irregular Menstruation in Hindi

9. अनियमित मासिक धर्म के लिए निम्नलिखित बाते शामिल हो सकतीं हैं – Other situations related to periods irregularity in Hindi

10. अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज – Home remedies for overcoming irregular periods in Hindi

अनियमित मासिक धर्म क्या है – What is Irregular periods in Hindi

महिला के अंडाशय में हर महीने एग बनता है। यदि महिला गर्भवती नहीं होती है तो यह एग गर्भाशय से बहार निकल जाता है इसी में पीरियड्स के दौरान, गर्भ की लाइनिंग से कुछ रक्त बहता है। मासिक धर्म चक्र की लंबाई आमतौर पर 28 दिन की होती है (पीरियड्स की शुरुआत और अगले पीरियड्स की शुरुआत के बीच का समय)। लेकिन यह एक सप्ताह से अधिक हो तो यह परेशानी का कारण बन जाता है। तब अनियमित पीरियड्स की स्तिथि होती है। एक सामान्य मासिक धर्म चक्र 28 दिन, या 28 दिन से सात दिन ऊपर या नीचे हो सकता है। मासिक धर्म रक्तस्राव को अनियमित माना जाता है जब ये हर 21 दिनों में बार बार होता है या 8 दिनों से अधिक समय तक चलता रहता है। मिस्ड, जल्दी शुरू होने वाले, या देर से हुए मासिक धर्म को भी अनियमित मासिक धर्म चक्र माना जाता है।

कुछ महिलाओं के लिए पीरियड्स वास्तव में दर्दनाक हो सकता है, और इसके साथ उन्हें गंभीर ऐंठन, पीठ दर्द, और सूजन हो सकती है।

(और पढ़े – पीरियड्स जल्दी लाने और रोकने के घरेलू उपाय…)

अनियमित पीरियड्स के अन्य प्रकार – Other types of irregular periods in Hindi

पीरियड्स में रक्तस्राव और उसकी गंभीरता हर महिला में अलग अलग होती है।

अन्य प्रकार की स्थितियों जिसमे “अनियमित मासिक धर्म” जैसे स्तिथि होतीं हैं वे इस प्रकार हैं:

  • मेट्रोराघिया (अंतर मासिक धर्म) (metrorrhagia)
  • ओलिगोमेनोरिया (Oligomenorrhea)
  • पौलीमेनोरिया (Polymenorrhea)
  • इसके अलाव एमेनोरिया (Amenorrhea) एक स्तिथि है जहाँ महिला को पीरियड्स आना बंद हो जाते हैं जैसे की गर्भवती होने पर।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) के शुरूआती लक्षण…)

अनियमित मासिक धर्म के कारण – Aniyamit Mahwari Ke Karan in Hindi

कई मामलों में, अनियमित पीरियड्स एनोव्यूलेशन (anovulation) नामक एक स्तिथि से संबंधित होतें  है। इसका मतलब है कि आपके मासिक धर्म चक्र के दौरान गंभीर हार्मोनल असंतुलन के कारण ओव्यूलेशन नहीं हुआ है।

कभी-कभी एक अनियमित पीरियड्स सूक्ष्म हार्मोनल असंतुलन (hormonal imbalance) के कारण हो सकते है। जब ये होता है तब आप ओव्यूलेट तो कर रही  होतीं हैं, लेकिन आपके अण्डोत्सर्ग का समय महीने दर महीने में अलग अलग हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जीवनशैली और चिकित्सा की स्थिति आपके मासिक धर्म चक्र पर प्रभाव डाल रही है और इसका इलाज ज़रूरी है ।

(और पढ़े – ओव्यूलेशन (अंडोत्सर्ग) क्या है, साइकिल, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण…)

निम्नलिखित कारक अनियमित या मिस्ड पीरियड्स को ट्रिगर कर सकते हैं- Causes that trigger irregular periods in Hindi

  1. जन्म नियंत्रण गोलियाँ का सेवन से अनियमित मासिक धर्म का होना – Birth control pills and lead to irregular periods in Hindi
  2. पॉलीसिस्टिक ओवेरी सिंड्रोम (पीसीओएस) और अनियमित पीरियड्स – Polycystic ovary syndrome (PCOS) and irregular menses in Hindi
  3. उम्र भी है अनियमित मासिक धर्म का कारण – Irregular menstruation due to age in Hindi
  4. अनियमित माहवारी का बड़ा कारण है तनाव- Stress a big factor causing irregular periods in Hindi
  5. माहवारी न होने के कारण अत्यधिक व्यायाम या डाइटिंग – Excessive exercise and dieting cause irregular periods in Hindi

आजकल की जीवनशेली और खानपान या किसी अन्य समस्या के कारण महिलाओं में अनियमित पीरियड्स (इर्रेगुलर पीरियड्स) की समस्या किसी भी उम्र में आ सकती है। यहाँ हम आपको इर्रेगुलर पीरियड्स के कारणों की जानकारी दे रहे हैं –

जन्म नियंत्रण गोलियाँ का सेवन से अनियमित मासिक धर्म का होना – Birth control pills and lead to irregular periods in Hindi

जन्म नियंत्रण गोलियों के सेवन से आपकी पीरियड्स हलकी हो सकती हैं, या मिस हो सकती है या कम-ज्यादा हो सकती है या यहां तक ​​कि कोई भी पीरियड्स नहीं आये ऐसा भी हो सकता है।

(और पढ़े – क्या आप जानती है गर्भ निरोधक गोली के साइड इफ़ेक्ट…)

पॉलीसिस्टिक ओवेरी सिंड्रोम (पीसीओएस) और अनियमित पीरियड्स – Polycystic ovary syndrome (PCOS) and irregular menses in Hindi

यह चिकित्सीय स्थिति अंडाशय पर छोटे सिस्ट बन जाने के कारण बनती है और  नियमित अण्डोत्सर्ग (ovulation) में हस्तक्षेप करती है। पीसीओएस वाली महिलाओं में आमतौर पर अनियमित पीरियड्स पाये जाते हैं। बांझपन के अलावा, पीसीओएस मधुमेह और हृदय रोग का भी खतरा बढ़ा सकती है।

(और पढ़े – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के कारण,लक्षण और उपचार के उपाय…)

उम्र भी है अनियमित मासिक धर्म का कारण – Irregular menstruation due to age in Hindi

जब किशोरावस्था में पहली बार पीरियड्स होते हैं, तो मासिक धर्म चक्र अनियमित हो सकते हैं। इसे एक पैटर्न में आने के लिए कई साल लग सकते हैं। इसके अलावा, रजोनिवृत्ति वाली महिलाओं में मिस्ड पीरियड्स और हल्का या भारी पीरियड्स होना आम बात है।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

अनियमित माहवारी का बड़ा कारण है तनाव- Stress a big factor causing irregular periods in Hindi

किसी गंभीर समस्या के बारे में तनाव करना या यहां तक ​​कि अल्पकालिक चिंता भी आपके हार्मोन संतुलन को नुकसान पंहुचा सकती है, जिससे मिस्ड पीरियड्स या अनियमित मासिक धर्म होता है।

(और पढ़े – कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) को कम करने के उपाय…)

माहवारी न होने के कारण अत्यधिक व्यायाम या डाइटिंग – Excessive exercise and dieting cause irregular periods in Hindi

बहुत अधिक व्यायाम मासिक धर्म के रक्तस्राव के समय को बिगाड़ सकता है और कभी-कभी इसे रोक भी सकता है। एथलीटों के लिए यह पीरियड्स सामान्य है। कम वजन होने के बावजूद, अत्यधिक व्यायाम करना, डाइटिंग करना, खाने के विकार, या कोई बीमारी से, पीरियड्स प्रभावित हो सकते हैं।

(और पढ़े – फिट रहने के लिए प्लैंक एक्सरसाइज जानें फायदे और सावधानियाँ…

अन्य बीमारियां जिनके कारण हो सकती है अनियमित माहवारी – Other causes for and irregular periods in Hindi

थायराइड विकार अनियमित पीरियड्स का कारण बन सकता है यदि थायरॉइड हार्मोन का रक्त स्तर बहुत कम या बहुत अधिक हो। अन्य स्वास्थ्य परिस्थितियां जो अनियमित मासिक धर्म चक्र का कारण बन सकती हैं उनमें यौन संक्रमित बीमारियां, मधुमेह, फाइब्रॉएड, ईटिंग डिसऑर्डर यानी खाने का विकार, और अन्तर्गर्भाशय अस्थानता (endometriosis) शामिल हैं।

(और पढ़े – थायराइड के लक्षण कारण व घरेलू उपचार…)

अनियमित मासिक धर्म (इर्रेगुलर पीरियड्स) के लक्षण – Symptoms of irregular periods in Hindi

आपको अपने जीवन में कभी भी अपनी पीरियड्स में कुछ अनियमितता का अनुभव हो सकता है। ऐसा होने पर आपको हमेशा डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता नहीं है लेकिन अगर निम्नलिखित लक्षण हैं तब आपको अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

यदि –

  • आपके पीरियड्स असामान्य रूप से भारी या दर्दनाक है
  • पीरियड्स एक सप्ताह से अधिक समय तक चलते हैं
  • आपको तीन महीने से कोई पीरियड्स नहीं आये हैं
  • यदि आपके पीरियड्स अचानक अनियमित हो जाते हैं
  • आपको हर 21 दिनों में एक से ज्यादा बार पीरियड्स होते हैं
  • यदि आपको हर 35 दिनों में एक बार से कम पीरियड्स होते हैं

आपको चेक-अप के लिए वर्ष में एक बार अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए। हालांकि, यदि आप निम्नलिखित परिस्थितियों में खून बह रहा है या स्पॉटिंग हो रही है तो आपको जाँच तुरंत करवानी चाहिए:

(और पढ़े – महिलाओं की सेक्‍सुअलिटी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य…)

अनियमित माहवारी होने पर जोखिम – Risks related to irregular periods in Hindi

(और पढ़े – पीरियड्स के दिनों में दर्द क्यों होता है जानें मुख्य कारण…)

अनियमित मासिक धर्म या पीरियड्स की जांच – Tests for Irregular Menstruation in Hindi

  1. श्रोणि अल्ट्रासाउंड से अनियमित माहवारी की जांच- Pelvic Ultrasound for irregular periods in Hindi
  2. एंडोमेट्रियल बायोप्सी से अनियमित पीरियड्स का परीक्षण – Endometrial Biopsy for irregular menstruation in Hindi
  3. पैप स्मीयर टेस्ट अनियमित माहवारी का परीक्षण – Pap Smear Test for Irregular periods in Hindi
  4. सोनोहिस्टेरोग्राम से अनियमित पीरियड्स की जांच – Sonohysterogram for testing irregular periods in Hindi
  5. अनियमित मासिक होने पर रक्त परीक्षण – Blood test for Irregular periods in Hindi

यदि आप असामान्य मासिक धर्म से पीड़ित हैं तो, तो आपका डॉक्टर शायद एक श्रोणि परीक्षा (pelvic examination) करेगा। वे आपका चिकित्सा इतिहास लेंगे, और आपको अपनी सभी दवाओं और सप्प्लीमेंट्स की सूची बनाने को कहेंगे।

नीचे हमने इस समस्या से निपटने के लिए चिकित्सक द्वारा किये जाने वाले परीक्षण और चिकित्सा शेली के बारे में बताया है –

श्रोणि अल्ट्रासाउंड से अनियमित माहवारी की जांच – Pelvic Ultrasound for irregular periods in Hindi

पेल्विक अल्ट्रासाउंड आपके गर्भाशय, अंडाशय और पेल्विक की छवियों की जांच करेगा।

(और पढ़े – अंडाशय का कैंसर: प्रारंभिक लक्षण, जाँच, और उपचार…)

एंडोमेट्रियल बायोप्सी से अनियमित पीरियड्स का परीक्षण – Endometrial Biopsy for irregular menstruation in Hindi

यदि आपका डॉक्टर आपके गर्भाशय के साथ संभावित अन्य समस्यायों की जांच करना चाहता है, तो वह एंडोमेट्रियल बायोप्सी कर सकते हैं, जिसमें आपके गर्भाशय ऊतक का नमूना लिया जाता है ताकि इसका विश्लेषण किया जा सके। वे आपके गर्भाशय के अंदर देखने के लिए डायग्नोस्टिक हिस्टोरोस्कोपी (diagnostic hysteroscopy) का भी उपयोग कर सकते हैं। हिस्टोरोस्कोपी के लिए, आपका डॉक्टर गर्भाशय को देखने और पॉलिप (polyp) को हटाने के लिए एक रोशनी ट्यूब का उपयोग करेगा।

(और पढ़े – बायोप्सी कराने का उद्देश्य, तरीका, फायदे और नुकसान…)

पैप स्मीयर टेस्ट अनियमित माहवारी का परीक्षण – Pap Smear Test for Irregular periods in Hindi

यह परीक्षण विभिन्न संक्रमण या कैंसर कोशिकाओं की जांच करता है।

(और पढ़े – पैप स्मीयर टेस्ट क्या होता है, प्रक्रिया, कीमत…)

सोनोहिस्टेरोग्राम से अनियमित पीरियड्स की जांच – Sonohysterogram for testing irregular periods in Hindi

आपके डॉक्टर सोनोहिस्टेरोग्राम का उपयोग भी कर सकते हैं, यह एक अल्ट्रासाउंड है जो आपके गर्भाशय गुहा की छवि को बनाने में मदद करता है। इस प्रक्रिया में आपके गर्भाशय में तरल पदार्थ को इंजेक्ट किया जाता है। इससे आपका डॉक्टर पॉलीप्स या फाइब्रॉएड की जांच करता है।

(और पढ़े – अल्ट्रासाउंड क्या है और सोनोग्राफी की जानकारी…)

अनियमित मासिक होने पर रक्त परीक्षण – Blood test for Irregular periods in Hindi

रक्त परीक्षण का उपयोग एनीमिया, रख्त का थक्का (blood-clotting), और थायराइड की जांच के लिए किया जाएगा।

(और पढ़े – क्या है एनीमिया? कारण, लक्षण और आहार…)

अनियमित मासिक धर्म के लिए निम्नलिखित बाते शामिल हो सकतीं हैं – Other situations related to periods irregularity in Hindi

  1. मासिक अनियमित होने से प्रजनन क्षमता कम होने का डर – Irregular periods and pregnancy in Hindi
  2. थायराइड की समस्याएं का भी अनियमित मासिक में योगदान – Thyroid responsible for irregular menstruation in Hindi
  3. जन्म नियंत्रण गोलियां से अनियमित मासिक का खतरा – Birth control pills reduce irregular periods occurrences in Hindi
  4. तनाव और खाने के विकार नियमित मासिक के दुश्मन – Stress and Eating disorder enemies of Regular periods in Hindi
  5. युवावस्था और रजोनिवृत्ति में है अनियमित पीरियड्स सामान्य – Teens and Menopause normal situations for irregular periods in Hindi
  6. पीसीओएस और मोटापा बढ़ाये अनियमित माहवारी की समस्या – PCOS and Obesity lead to irregular menses in Hindi
  7. मासिक धर्म में ओव्यूलेशन को ट्रैक करने के लिए आप कुछ चीजें कर सकती हैं: Track your ovulation cycle during periods in Hindi
  8. अनियमित माहवारी के उपचार के लिए स्वयं की देखभाल – Self-care for treating irregular periods in Hindi

मासिक अनियमित होने से प्रजनन क्षमता कम होने का डर – Irregular periods and pregnancy in Hindi

अनियमित पीरियड्स, आपकी गर्भवती होने की क्षमता में खलल डाल सकता है, लेकिन चिंता न करें, ऐसा हमेशा नहीं होता है। आपको पीरियड्स में ओव्यूलेशन हो सकता है, भले ही आपके मासिक धर्म अनियमित हो। लेकिन महिलायों का खुद का ध्यान रखना बहुत जरुरी है।

थायराइड की समस्याएं का भी अनियमित मासिक में योगदान – Thyroid responsible for irregular menstruation in Hindi

किसी अंतर्निहित समस्या के लिए उपचार निर्धारित करने की जरुरत है। इसमें उपचार स्वरुप दवाएं, रेडियोधर्मी आयोडीन थेरेपी (radioactive iodine therapy) या सर्जरी शामिल हो सकती है।

जन्म नियंत्रण गोलियां से अनियमित मासिक का खतरा – Birth control pills reduce irregular periods occurrences in Hindi

अगर अनियमित रक्तस्राव गर्भनिरोधक के कारण होता है, और यह कई महीनों तक जारी रहता है, तो महिला को अन्य विकल्पों के बारे में चिकित्सक से बात करनी चाहिए।

तनाव और खाने के विकार नियमित मासिक के दुश्मन – Stress and Eating disorder enemies of Regular periods in Hindi

भावनात्मक तनाव, खाने के विकार, या अचानक वजन घटाने से अनियमित पीरियड्स के ट्रिगर होने पर मनोवैज्ञानिक चिकित्सक सहायता कर सकते हैं। इसमें विश्राम तकनीक (relaxation techniques), तनाव प्रबंधन (stress management) और चिकित्सक से बात करना, शामिल हो सकता है।

युवावस्था और रजोनिवृत्ति में है अनियमित पीरियड्स सामान्य – Teens and Menopause normal situations for irregular periods in Hindi

युवावस्था के दौरान होने वाली अनियमित पीरियड्स या महिला के रजोनिवृत्ति के समय में आमतौर पर इलाज की आवश्यकता नहीं होती है।

पीसीओएस और मोटापा बढ़ाये अनियमित माहवारी की समस्या – PCOS and Obesity lead to irregular menses in Hindi

अगर महिला को पीसीओएस की समस्या है तो वजन कम करने या मोटापा घटाने से मासिक धर्म को स्थिर करने में मदद मिल सकती है। कम वजन का मतलब है कि शरीर को ज्यादा इंसुलिन उत्पन्न करने की आवश्यकता नहीं है। इससे महिला में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होता है और ओव्यूलेशन की प्रक्रिया बेहतर रूप से होती है।

मासिक धर्म में ओव्यूलेशन को ट्रैक करने के लिए आप कुछ चीजें कर सकती हैं: Track your ovulation cycle during periods in Hindi

मासिक धर्म को ट्रैक करने के लिए कैलेंडर पर पीरियड्स को चिह्नित करें, और पैटर्न की तलाश करें।

हर दिन अपना तापमान मापें और जब इसमें वृद्धी हो तो ध्यान दें। यह संकेत दे सकता है कि अंडोत्सर्ग हो रहा है।

गर्भाशय ग्रीवा के श्लेष्म (mucus) में परिवर्तन की जाँच करें। जैसे अंडोत्सर्ग होता है, श्लेष्म फिस्लाऊ, स्पष्ट, खिंचावट लिए और ज्यादा मात्रा में होता है।

अगर अनियमित पीरियड्स प्रजनन समस्याओं से जुड़ी हुई है, तो ये बात चिकित्सक को निदान तक पहुंचने में मदद करेंगी।

अनियमित माहवारी के उपचार के लिए स्वयं की देखभाल – Self-care for treating irregular periods in Hindi

अनियमित पीरियड्स का इलाज करने के लिए सबसे जरुरी है की आप अपने खान पान और शरीर पर ध्यान दें। स्वस्थ आहार से शरीर में विटामिन या मिनरल्स की कमी पूरी होगी और व्यायाम करने से आप सेहतमंद रहेंगे। आप कम्फर्टेबल कपडें चुने और पर्सनल केयर पर भी ध्यान दे। इसके अलावा हम आपको नीचे अनियमित पीरियड्स के घरेलू उपाए बता रहें हैं –

अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज – Home remedies for overcoming irregular periods in Hindi

  1. मासिक धर्म ठीक करने के लिए स्वस्थ आहार शैली – Healthy eating for treating irregular periods in Hindi
  2. अनियमित माहवारी में चक्र का रखे खास ध्यान – Keeping track of menstrual cycle for any irregularity in Hindi
  3. अनियमित माहवारी का इलाज नियमित रूप से व्यायाम करके – Exercise regularly to fight period irregularity in Hindi
  4. अनियमित माहवारी का आयुर्वेदिक इलाज जीरा से – Cumin for getting rid of periods irregularity in Hindi
  5. एलोवेरा अनियमित माहवारी का प्राकर्तिक इलाज- Aloe Vera for treating irregular periods naturally in Hindi
  6. हल्दी के गुण मासिक धर्म को नियमित करने में – Turmeric for overcoming irregular periods in Hindi
  7. दालचीनी के फायदे अनियमित मासिक धर्म ठीक करने में – Cinnamon for treating irregular menstruation in Hindi
  8. अनियमित मासिक धर्म का योग और ध्यान से करे इलाज – Yoga and Meditation in treating regular periods in Hindi
  9. अनियमित मासिक धर्म का घरेलू उपचार है कच्चा पपीता – Unripe papaya use in irregular period’s treatment in Hindi
  10. अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज अदरक – Ginger Home remedies for irregular menses in Hindi

अनियमित माहवारी का आयुर्वेदिक इलाज करने के लिये ब्लैक कोहॉश (black cohosh), चेस्टबेरी, मुलेठी (liquorice root), और हल्दी का उपयोग करना चाहिए। हालाँकि शोध ने इनकी प्रभावशीलता की पुष्टि नहीं की है, और उनके प्रतिकूल प्रभाव भी हो सकते हैं। इनका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से बात करना बेहतर होगा।

मासिक धर्म ठीक करने के लिए स्वस्थ आहार शैली – Healthy eating for treating irregular periods in Hindi

वसा युक्त खाना, भारी भोजन, जंक फ़ूड बहुत अधिक खाने आदि से बचना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़े – जानिए जंक फूड (फास्ट फूड) के नुकसान और हानिकारक प्रभावों को…)

अनियमित माहवारी में चक्र का रखे खास ध्यान – Keeping track of menstrual cycle for any irregularity in Hindi

अपने मासिक धर्म चक्रों का ट्रैक करते रहें, और नोट करें की आपका रक्त प्रवाह कितने  समय तक चलता है, और प्रत्येक चक्र के दौरान आपको कितने टैम्पॉन या सैनिटरी पैड इस्तेमाल करने पड़ते हैं। यह जानकारी आपके स्त्री रोग संबंधी जांच में सहायक होगी। उन उत्पादों से बचें जिनमें एस्पिरिन होता है क्योंकि वे रक्तस्राव में वृद्धि कर सकते हैं।

अनियमित माहवारी का इलाज नियमित रूप से व्यायाम करके – Exercise regularly to fight period irregularity in Hindi

स्वस्थ वजन बनाए रखने और तनाव को कम करने के लिए रोजाना व्यायाम करना या हफ्ते में 3-4 बार व्यायाम करना लाभकारी होगा।

अनियमित माहवारी का आयुर्वेदिक इलाज जीरा से – Cumin for getting rid of periods irregularity in Hindi

जीरा कई स्वास्थ्य लाभों से भरा हुआ है। अनियमित पीरियड्स के उपचार में भिगोये हुए  जीरे का उपयोग किया जा सकता है। 2 चम्मच जीरा लें और रात में पानी में भिगोएं और सुबह इसे पीएं। अपनी पीरियड्स नियमित करने के लिए आपको हर दिन इस पीने की जरूरत है।

(और पढ़े – जीरा के फायदे जानकर हैरान रह जायेगें आप…)

एलोवेरा अनियमित माहवारी का प्राकर्तिक इलाज- Aloe Vera for treating irregular periods naturally in Hindi

पीरियड्स के दौरान इस उपाय का प्रयोग न करें, उसके पहले या बाद में करें। एलोवेरा आपके हार्मोन को विनियमित करके स्वाभाविक रूप से मासिक धर्म की अनियमितताओं का इलाज करने में मदद करता है। सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, एलोवेरा के पत्ते से ताजा एलोवेरा जेल निकालें, शहद के एक चम्मच में मिलाएं और अपना नाश्ता करने से पहले इसे रोजाना खाएं।

(और पढ़े – एलोवेरा के फायदे और नुकसान…)

हल्दी के गुण मासिक धर्म को नियमित करने में – Turmeric for overcoming irregular periods in Hindi

हल्दी को सबसे अच्छी औषधीय जड़ी बूटियों में से एक माना जाता है जो काफी गर्म होती है। यह मासिक धर्म को विनियमित करने और हार्मोन को संतुलित करने में मददगार है। यह मासिक धर्म के दर्द से भी छुटकारा दिलाती है। दूध, शहद या गुड़ के साथ हल्दी के एक चौथाई चम्मच का सेवन करें। इसे कई हफ्तों तक लें या जब तक आप अनियमित माहवारी में सुधार न देखें।

(और पढ़े – हल्दी और दूध के फायदे और नुकसान…)

दालचीनी के फायदे अनियमित मासिक धर्म ठीक करने में – Cinnamon for treating irregular menstruation in Hindi

दालचीनी न केवल आपके व्यंजनों के स्वाद को बढ़ाने में मदद करता है बल्कि आपके मासिक चक्र को भी विनियमित करने में महत्वपूर्ण योगदान देता है। यह आपके शरीर के भीतर एक वार्मिंग प्रभाव उत्पन्न करता है। गर्म दूध से भरा हुआ एक गिलास लें और एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाएं और इसे पीएं। यह मासिक धर्म ऐंठन को खत्म करने में भी प्रभावी है।

(और पढ़े – दालचीनी के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान…)

अनियमित मासिक धर्म का योग और ध्यान से करे इलाज – Yoga and Meditation in treating regular periods in Hindi

तनाव शरीर में हार्मोनल असंतुलन के प्राथमिक कारणों में से एक है जो मासिक धर्म में अनियमितताओं को ट्रिगर करता है। योग और ध्यान तनाव से मुक्त होने में मदद करते हैं। ध्यान शरीर में सही हार्मोनल संतुलन सुनिश्चित कर सकता है। यह दवाओं के बिना अनियमित पीरियड्स को नियंत्रित करने के लिए सबसे प्रभावी तरीका हैं।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

अनियमित मासिक धर्म का घरेलू उपचार है कच्चा पपीता – Unripe papaya use in irregular period’s treatment in Hindi

ग्रीन, कच्चा पपीता मासिक धर्म प्रवाह को विनियमित करने में उपयोगी माना जाता है क्योंकि यह गर्भाशय में मांसपेशियों के फाइबर को सिकोड़ने में मदद करता है। कुछ महीनों के लिए नियमित रूप से कच्चे पपीते का रस पियें लेकिन पीरियड्स के दौरान इसे न पीएं।

(और पढ़े – पपीता खाना क्यों है सेहत के लिए लाभकारी…)

अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज अदरक – Ginger Home remedies for irregular menses in Hindi

5 मिनट के लिए 1 बड़ा चम्मच ताजा अदरक उबालें। थोड़ी सी चीनी मिलाएं और अपने भोजन के बाद दिन में तीन बार ये मिश्रण पीएं। मासिक धर्म चक्रों को विनियमित करने और अनियमित पीरियड्स से छुटकारा पाने के लिए अदरक काफी लाभकारी है।

इस प्रकार आप अनियमित मासिक धर्म के घरेलू उपचार अपना के अपने अनियमित पीरियड्स को ठीक कर सकेंगी और एक नार्मल रूटीन में आ सकेंगी।

(और पढ़े – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग और नुकसान…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration