लू से बचने के घरेलू उपाय – Lu Se Bachne Ke Gharelu Upay In Hindi

गर्मी में लू से बचने के घरेलू उपाय - Garmi Me Lu Se Bachne Ke Gharelu Upay In Hindi
Written by Deepti

lu se bachne ke upay in hindi: गर्मी के दिनों में गर्म हवा और बढ़े हुए तापमान के कारण लू का खतरा बढ़ जाता है। वैसे तो लू से बचने के लिए आप खुद सर्तक रहते हैं, लेकिन फिर भी इन सबके बावजूद आपको लू लग जाए या फिर आप हल्का बुखार महसूस करें तो हमारे द्वारा बताए जा रहे घरेलू उपायों की मदद से लू से बचा जा सकता है। जैसे-जैसे गर्मी चरम पर पहुंचती हैं, लोग लू का शिकार होने लगते हैं। गर्मी बढ़ने के साथ ही लोगों को लू का डर सताने लगता है। जब कोई व्यक्ति तेज धूप में निकलता है और बहुत गर्म हवा के संपर्क में आता है तो व्यक्ति के शरीर का तापमान बढ़ जाता है।

गर्मियों में शरीर में ज्यादा पसीने के कारण नमक और पानी की मात्रा कम हो जाती है, जिससे ब्लड सकुर्लेशन में बाधा आती है और शरीर का तापमान लगभग एक साथ बढ़ने लगता है। इसी वजह से व्यक्ति लू की चपेट में आ जाता है।विशेषज्ञ कहते हैं कि बढ़ती गर्मी में लू से बचना बेहद जरूरी है। लू से बचने के लिए घरेलू उपचार काफी प्रभावी हो सकते हैं। तो आइए आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे गर्मी में लू या हीट स्ट्रोक या सन स्ट्रोक से कैसे बचा जा सकता है। लेकिन इससे पहले जानते हैं कि आखिर क्या होती है लू।

1. क्या होता है हीट स्ट्रोक या लू का लगना – What is Heat stroke in Hindi
2. लू लगने के कारण – lu lagne ke karan in Hindi
3. लू लगने के लक्षण – lu lagne ke lakshan in Hindi
4. लू लगने के घरेलू उपचार – lu lagne ke gharelu upay in hindi

5. लू से बचने के लिए टिप्स – Heatstroke prevention tips in Hindi
6. हीट स्ट्रोक या लू से बचने के लिए आहार – Recommended Diet for Heat Stroke in Hindi
7. लू से बचने के लिए क्या न करें – Restricted Diet for Heat Stroke in hindi
8. लू लगने पर प्राथमिक उपचार – lu lagne par prathmik upchar in Hindi
9. हीट स्ट्रोक के लिए रिकवरी टाइम क्या है? – What Is The Recovery Time For Heat Stroke in Hindi

क्या होता है हीट स्ट्रोक या लू का लगना – What is Heat stroke in Hindi

क्या होता है हीट स्ट्रोक या लू का लगना - What is Heat stroke in Hindi

हीट स्ट्रोक, सनस्ट्रोक सूरज की गर्मी के ज्यादा संपर्क में रहने से और शरीर की थर्मोसेटिंग में असंतुलन के कारण होता है। दरअसल, शरीर का ठंडा तंत्र पसीने के रूप में पानी के वाष्पीकरण पर निर्भर करता है। ठंडी हवा का सबसे अच्छा प्रभाव शुष्क हवा में देखा जाता है, लेकिन नम हवा के मामले में पसीना मुश्किल से इवेपोरेट होता है, इसी के कारण शरीर के तापमान में वृद्धि होती है और व्यक्ति हीट स्ट्रोक या सनस्ट्रोक या लू की चपेट में आ जाता है। यह गर्मियों के दिनों की सबसे गंभीर बीमारी है। पर्यावरणीय गर्मी के कारण शरीर की शीतकालीन प्रणाली काम करना बंद कर देती है और शरीर का तापमान बढ़ जाता है। जिससे मास्तिष्क के अन्य महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुंचता है।

विशेषज्ञों के अनुसार हीट स्ट्रोक एक गंभीर चिकित्सा स्थिति है, जिस पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत है। अगर समय पर ध्यान न दिया जाए तो इससे शॉक, ब्रेन डैमेज यहां तक की मृत्यु होने तक की संभावना भी रहती है। इसलिए इस तरह के गंभीर परिणामों से बचने के लिए डॉक्टर घरेलू उपचार का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं।

(और पढ़े – लू लगने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज…)

लू लगने के कारण – lu lagne ke karan in Hindi

लू लगने के कारण - lu lagne ke karan in Hindi

सन स्ट्रोक के सबसे सामान्य कारण हैं

  • सूर्य के संपर्क में लंबे समय तक, विशेष रूप से शुष्क और नम वातावरण में रहना
  • शरीर के थर्मोसेटिंग सिस्टम में असंतुलन
  • अधिक पसीना आने के कारण निर्जलीकरण
  • हीट स्ट्रोक पर्यावरणीय गर्मी के लिए ओवरएक्सपोजर के कारण होता है।

अन्य योगदान करने वाले कारकों में थायरॉयड असंतुलन, निम्न रक्त शर्करा, शराब का सेवन, उत्तेजक और अवसाद के उपचार में उपयोग की जाने वाली दवा शामिल हैं। शरीर के तापमान में वृद्धि भी गर्म और आर्द्र स्थितियों में चयापचय या शारीरिक व्यायाम में वृद्धि का परिणाम हो सकती है। बच्चों और बुजुर्गों को हीट स्ट्रोक की आशंका अधिक होती है।

(और पढ़े – पानी की कमी (निर्जलीकरण) क्या है, लक्षण, कारण और इलाज…)

लू लगने के लक्षण – lu lagne ke lakshan in Hindi

लू लगने के लक्षण - lu lagne ke lakshan in Hindi

अधिक गंभीर लू लगने के लक्षण

वास्तव में, कुछ लक्षण दिल के दौरे के समान हो सकते हैं। प्रभावित व्यक्ति का तापमान 104 डिग्री F या इससे भी अधिक हो जाता है।

(और पढ़े – बेहोशी के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

लू लगने के घरेलू उपचार – lu lagne ke gharelu upay in hindi

  1. लू लगने के लिए घरेलू उपाय प्याज है फायदेमंद – lu ke gharelu upchar pyaj in Hindi
  2. गर्मी में लू से बचने के उपाय जीरा – lu se bachne ke liye gharelu upay jeera in Hindi
  3. लू का प्राथमिक उपचार तुलसी – lu lagne par prathmik upchar tulsi in Hindi
  4. लू से बचने का घरेलू नुस्खा कच्चा आम – lu se bachne ke liye gharelu nuskha aam in Hindi
  5. गर्मी में लू लगने पर प्राकृतिक उपचार कच्चा आम का पना – lu lagne ka prakirtic upchar aam pana in Hindi
  6. धूप लगने पर घरेलू उपाय नारियल का दूध – dhoop lagne par upay nariyal la doodh in Hindi
  7. लू से बचने के लिए पीएं एलोवेरा जूस- loo lagne par gharelu upay aloe Vera juice in Hindi
  8. लू लगने पर करें छाछ का सेवन – loo lagne par gharelu upay chhach in hindi
  9. लू से बचने के लिए लें कोल्ड बाथ – lu se bachne ke upay cold bath in hindi
  10. लू से निपटने के लिए गुलाब की पंखुड़ियां घरेलू नुस्खा – lu se bachne ke liye upay gulab in hindi
  11. लू से बचने का प्राकृतिक इलाज जौ का आटा – lu se bachne ka prakritik upay jo ka aata in hindi
  12. गर्मी में लू से बचने के लिए खाएं पेठा – Garmi me lu se bachne ke upay petha in hindi
  13. लू लगने के घरेलू उपचार धनिया – Garmi me lu lagne ke gharelu upay dhaniya in hindi
  14. लू लगने के घरेलू नुस्खे आलू भुखारा – lu lagne ka gharelu nuskha aalu Bukhara in hindi

गर्मी में लू से बचने के लिए अपने शरीर को ठंडा रखना बेहद जरूरी है, ताकि शरीर जल्द से जल्द नॉर्मल टेम्परेचर पर पहुंच सके। लू से बचने के लिए घरेलू उपचार काफी प्रभावी साबित होते हैं। नीचे बताए जा रहे कुछ घरेलू उपचार गर्मी में लू से आपको बचाने में बहुत काम आएंगे।

लू लगने के लिए घरेलू उपाय प्याज है फायदेमंद – lu ke gharelu upchar pyaj in Hindi

लू लगने के लिए घरेलू उपाय प्याज है फायदेमंद - lu ke gharelu upchar pyaj in Hindi

अगर आपको तपती गर्मी में भी घर के बाहर जाना पड़े तो लू से बचने के लिए घर में रखी प्याज बहुत काम आएगी। इसके लिए प्याज का रस निकालें और रस को अपनी छाती और कान के पीछे लगाएं। यह हीट स्ट्रोक या लू के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए गए घरेलू नुस्खों में से एक है। इसके आलावा धूप में निकलने से पहले अपने जेब में छोटा सा प्याज रखें, यह लू को नहीं लगने देता है और सारी गर्मी खुद सोख लेता है।

(और पढ़े – प्याज के फायदे और नुकसान…)

गर्मी में लू से बचने के उपाय जीरा – lu se bachne ke liye gharelu upay jeera in Hindi

गर्मी में लू से बचने के उपाय जीरा - lu se bachne ke liye gharelu upay jeera in Hindi

लू से बचने के लिए किचन में रखा जीरा भी बहुत असरदार साबित होता है। इसके लिए आपको एक पैन में कुटा हुआ प्याज भुनना होगा फिर इसमें थोड़ा सा जीरा पाउडर और चीनी मिलाएं। इस मिश्रण का सेवन लू के लिए एक असरदार घरेलू उपाय है।

(और पढ़े – जीरा पानी पीने के फायदे और नुकसान…)

लू का प्राथमिक उपचार तुलसी – lu lagne par prathmik upchar tulsi in Hindi

लू का प्राथमिक उपचार तुलसी - lu lagne par prathmik upchar tulsi in Hindi

बहुत कम लोग जानते हैं कि तुलसी लू से बचाने में भी काम आती है। लू से बचने के लिए तुलसी के पत्तों का रस निकालें और इसमें थोड़ी सी चीनी मिलाएं। अब इस घोल को पी जाएं। इस घोल को पीने से शरीर का तापमान नॉर्मल बना रहेगा।

(और पढ़े – तुलसी के फायदे और नुकसान…)

लू से बचने का घरेलू नुस्खा कच्चा आम – lu se bachne ke liye gharelu nuskha aam in Hindi

लू से बचने का घरेलू नुस्खा कच्चा आम - lu se bachne ke liye gharelu nuskha aam in Hindi

कच्चा आम गर्मी से बचने के साथ ही इलाज के लिए सबसे लोकप्रिय प्राकृतिक उपचारों में से एक है। इसके लिए कुछ कच्चे आम लें, इन्हें उबालें और फिर ठंडे पानी में भिगो दें। इन आमों का गूदा लें और इसे एक ब्लेंडर में डालकर धनिया, जीरा, गुड़, नमक और काली मिर्च मिलाएं। इसमें थोड़ा सा पानी मिलाएं। हीट स्ट्रोक या लू को रोकने के लिए दिन में तीन से चार बार इस घरेलू दवा का 1 कप पीएं।

(और पढ़े – आम खाने के फायदे और नुकसान…)

गर्मी में लू लगने पर प्राकृतिक उपचार कच्चा आम का पना – lu lagne ka prakirtic upchar aam pana in Hindi

गर्मी में लू लगने पर प्राकृतिक उपचार कच्चा आम का पना - lu lagne ka prakirtic upchar aam pana in Hindi

लू को रोकने के लिए कच्चे आम का एक और घरेलू उपाय है। कच्चे आम को कोयले की राख में भूनें। इस भुने हुए आम के गूदे को थोड़ी सी शक्कर के साथ मिलाकर पीने से गर्मी से संबंधित लक्षणों में कमी आती है।

(और पढ़े – गर्मियों में आम पन्ना पीने के फायदे और बनाने की विधि…)

धूप लगने पर घरेलू उपाय नारियल का दूध – dhoop lagne par upay nariyal la doodh in Hindi

धूप लगने पर घरेलू उपाय नारियल का दूध - dhoop lagne par upay nariyal la doodh in Hindi

नारियल का दूध भी लू लगने से बचाने में बहुत काम आता है। इसके लिए नारियल के दूध में पिसी हुई काली मिर्च का पेस्ट तैयार करें। इस ठंडे मिश्रण को शरीर पर लगाने से हीट स्ट्रोक के इलाज में इस्तेमाल होने वाला एक अच्छा घरेलू उपाय है।

(और पढ़े – नारियल पानी के फायदे और स्वास्थ्य लाभ…)

लू से बचने के लिए पीएं एलोवेरा जूस- loo lagne par gharelu upay aloe Vera juice in Hindi

लू से बचने के लिए पीएं एलोवेरा जूस- loo lagne par gharelu upay aloe Vera juice in Hindi

लू से बचने के लिए रोजाना एलोवेरा जूस पीएं। यह हीट स्ट्रोक के लिए सबसे आसान प्राकृतिक घरेलू उपचारों में से एक है।

(और पढ़े – एलोवेरा जूस बनाने की घरेलू विधि और फायदे…)

लू लगने पर करें छाछ का सेवन – loo lagne par gharelu upay chhach in hindi

लू लगने पर करें छाछ का सेवन - loo lagne par gharelu upay chhach in hindi

घर से बाहर निकलने से पहले छाछ में नमक डालकर रोजाना पीएं। छाछ पीने से पूरी गर्मी में आपको लू नहीं लगेगी।

(और पढ़े – छाछ के फायदे और नुकसान…)

लू से बचने के लिए लें कोल्ड बाथ – lu se bachne ke upay cold bath in hindi

लू से बचने के लिए लें कोल्ड बाथ - lu se bachne ke upay cold bath in hindi

डॉक्टर्स लू से बचने के लिए कोल्ड बाथ ट्रीटमेंट लेने की सलाह देते हैं। दरअसल, गर्मी में पानी की ठंडक हीट स्ट्रोक के कारण बढ़े तापमान को कम करने में मदद करती है। यह एक प्राथमिकता चिकित्सा उपाय है और इसका इस्तेमाल लू से पीड़ित रोगी को अस्पताल ले जाने से पहले किया जा सकता है।

(और पढ़े – गर्म पानी से नहाना सही या ठंडे पानी से, जानिए विज्ञान क्या कहता है…)

लू से निपटने के लिए गुलाब की पंखुड़ियां घरेलू नुस्खा – lu se bachne ke liye upay gulab in hindi

लू से निपटने के लिए गुलाब की पंखुड़ियां घरेलू नुस्खा - lu se bachne ke liye upay gulab in hindi

लू से बचने के लिए गुलाब की पंखडिय़ों का घरेलू नुस्खा बहुत अच्छा माना जाता है। इसके लिए आपको 2 ग्राम गुलाब की पंखुड़ियां और 2 ग्राम जावा के फूल को मिलाकर पीसना है। अब इसमें थोड़ा दूध और चीनी मिला लें। हीट स्ट्राक अथवा लू से निपटने के दौरान लगभग तीन से चार दिनों के लिए इस मिश्रण की थोड़ी मात्रा का सेवन जरूर करें।

(और पढ़े – गुलाब के फूल (पंखुड़ियों) के फायदे और नुकसान…)

लू से बचने का प्राकृतिक इलाज जौ का आटा – lu se bachne ka prakritik upay jo ka aata in hindi

लू से बचने का प्राकृतिक इलाज जौ का आटा - lu se bachne ka prakritik upay jo ka aata in hindi

जौ का आटा भी लू से बचाने में बहुत काम आता है। इसके लिए आपको जौ के आटे में प्याज पीसकर लगाएं। अब इस मिश्रण का शरीर पर लेप करें। लू से तुरंत राहत मिलेगी।

(और पढ़े – जौ के पानी के फायदे, स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

गर्मी में लू से बचने के लिए खाएं पेठा – Garmi me lu se bachne ke upay petha in hindi

गर्मी में लू से बचने के लिए खाएं पेठा - Garmi me lu se bachne ke upay petha in hindi

गर्मी में लू से बचना चाहते हैं तो रोजाना पेठा, टमाटर की चटनी और नारियल का सेवन रोजाना करें।

(और पढ़े – पेठा के फायदे और नुकसान…)

लू लगने के घरेलू उपचार धनिया – Garmi me lu lagne ke gharelu upay dhaniya in hindi

लू लगने के घरेलू उपचार धनिया - Garmi me lu lagne ke gharelu upay dhaniya in hindi

लू से बचने के लिए धनिया का रस चीनी के साथ मिलाएं। यह एक सरल प्राकृतिक उपचार है, जिसका उपयोग हीट स्ट्रोक और गर्मी से जुड़ी बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

(और पढ़े – धनिया के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान…)

लू लगने के घरेलू नुस्खे आलू भुखारा – lu lagne ka gharelu nuskha aalu Bukhara in hindi

लू लगने के घरेलू नुस्खे आलू भुखारा - lu lagne ka gharelu nuskha aalu Bukhara in hindi

अगर आप लू से बचना चाहते हैं तो आलू भुखारे को पानी में तब तक भिगोकर रखें जब तक कर ये नरम ना हो जाएं। अब इन्हें पानी में ही मैश कर लें और छलनी से छान लें। इस समस्या और लू के लक्षणों को ठीक करने के लिए सोने से पहले इस काढ़े को पीएं।

(और पढ़े – आलूबुखारा के फायदे और नुकसान…)

लू से बचने के लिए टिप्स – Heatstroke prevention tips in Hindi

लू से बचने के लिए टिप्स - Heatstroke prevention tips in Hindi

  • धूप में बाहर निकलते समय अपने सिर को हमेशा स्कार्फ, टोपी या छाता से ढकें। गर्म ग्रीष्मकाल के दौरान हल्के रंग के कपड़ों का विकल्प चुनें क्योंकि वे कम गर्मी को अवशोषित करते हैं।हर दिन 6-8 घंटे सोएं और संतुलित, स्वस्थ आहार खाएं।
  • गर्मी में लू से बचने के लिए खाने के बाद हमेशा गुड़ खाएं। इससे लू लगने का डर कम होता है।
  • धूप में से आने के बाद प्याज के साथ शहद मिलाकर चाटें। इससे भी लू लगने का खतरा कम हो जाता है।
  • गर्मी में घर से बाहर निकलते समय छिली हुई प्याज अपने साथ जेब में रख लें। लू नहीं लगेगी।
  • लू से बचने के लिए कच्चे आम का लैप बनाकर रोजाना पैरों की मालिश करें। इस टिप को अपनाकर आप लू से बचे रहेंगे।
  • गर्मियों में हल्का खाना खाएं। दही को खासतौर से अपने भोजन में शामिल करें।
  • अगर आप वर्किंग हैं और धूप में जाना आपकी मजबूरी है तो नहाने से पहले जौ के आटे को पानी में मिलाकर इसका पेस्ट पूरी बॉडी पर लगाएं। कुछ देर बाद फिर ठंडे पानी से नहा लें। इससे लू का असर आपके ऊपर बहुत कम हो जाएगा।
  • धूप में बाहर निकलने से पहले अपने नाखूनों पर प्याज घिसकर लगाने से लू आपको छू भी नहीं सकती।
  • गर्मी में रोजाना सब्जियों के सूप का सेवन करने से भी लू से बचा जा सकता है।
  • गर्मी में कहीं बाहर जाने के लिए ढीले ढाले कपड़े पहनें ताकि आपकी त्वचा आसानी से सांस ले सके।
  • हाई ग्रेड बुखार से पीड़ित व्यक्ति के माथे पर आइस बैग या क्यूब डालना भी अच्छा होता है। हमेशा सूरज की गर्मी से खुद को बचाने के लिए टोपी और प्राकृतिक सन लोशन का उपयोग करें। गर्मी के दिनों में खुद को हाइड्रेट रखें। इसके लिए दिन में बार-बार पानी पीते रहें। ऐसा करने से आप लू से बचे रहेंगे। इन युक्तियों का पालन करने से व्यक्ति हीट स्ट्रोक से बच सकता है

(और पढ़े – गर्मी से बचने के आसान उपाय…)

हीट स्ट्रोक या लू से बचने के लिए आहार – Recommended Diet for Heat Stroke in Hindi

हीट स्ट्रोक या लू से बचने के लिए आहार - Recommended Diet for Heat Stroke in Hindi

  • विशेषज्ञों के अनुसार सही आहार का सेवन करने से लू की समस्या को काफी हद तक रोका जा सकता है। हम आपको नीचे कुछ ऐसे ही आहार के बारे में बताएंगे, जो लू से निपटने में बहुत फायदेमंद हैं।
  • गर्मी से संबंधित बीमारियों, विशेष रूप से हीट स्ट्रोक से बचने के लिए नियमित आहार में ताजे फल, सब्जियां और रस शामिल करना आवश्यक है। दरअसल ,इन वस्तुओं में पानी की मात्रा अधिक होती है और इसलिए वे शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखने में मदद करते हैं।
  • संतरे, अनानास, तरबूज, अंगूर, नींबू, और इसी तरह के फल इस स्थिति में बहुत उपयोगी हैं।
  • हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए प्याज, पुदीना, खीरा और दही में से एक भाग को सकारात्मक रूप से आहार में शामिल किया जाना चाहिए। न केवल इसके कूलिंग इफेक्ट के कारण, बल्कि ये समग्र स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है।
  • अपने आहार में प्रोटीन के स्वस्थ स्रोतों को शामिल करें, जिसमें मुख्य रूप से नट्स, बीन्स, दालें और जैतून का तेल शामिल हैं। यह रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाएगा, जिससे हीट स्ट्रोक को रोका जा सकेगा।
  • हो सके तो अपनी दिनचर्या में पुदीना की चाय और रास्पबेरी चाय सेवन शुरू कर दें। लू से बचने का ये बहुत ही प्रभावी तरीका है।

(और पढ़े – स्वस्थ आहार के प्रकार और फायदे…)

लू से बचने के लिए क्या न करें – Restricted Diet for Heat Stroke in hindi

लू से बचने के लिए क्या न करें - Restricted Diet for Heat Stroke in hindi

गर्मी में जितना हो सके नमक की मात्रा कम कर दें। क्योंकि नमक सोडियम में समृद्ध है और अतिरिक्त सोडियम शरीर में पसीने के नियमित उत्पादन को बाधित कर सकता है जो बदले में इस गर्मी की बीमारी के विकास के जोखिम को बढ़ाता है।

  • गर्मियों में तला हुआ खाना खाने से बचें।
  • ऐसे मसाले जो शरीर के तापमान को बढ़ाते हैं जैसे लहसुन, लौंग, दालचीनी, पेपरिका, जायफल और अदरक खाने से बचें।
  • सब्जियां जो शरीर के लिए गर्म होती हैं जैसे सहजन, मूली, और सरसों का साग का सेवन भूलकर भी न करें।
  • चाय, कॉफी और चॉकलेट के माध्यम से कैफीन का सेवन गर्मी में सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
  • शराब का सेवन भी कम से कम किया जाना चाहिए क्योंकि शराब शरीर में गर्मी बढ़ाने के लिए जानी जाती है। इसके अलावा, कैफीन युक्त पेय लगातार पेशाब को प्रेरित करते हैं और पानी की अनावश्यक हानि का कारण बनते हैं।

(और पढ़े – मसालेदार खाना खाने के फायदे और नुकसान…)

लू लगने पर प्राथमिक उपचार – lu lagne par prathmik upchar in Hindi

लू लगने पर प्राथमिक उपचार - lu lagne par prathmik upchar in Hindi

हीट स्ट्रोक से पीडि़त रोगी को अस्पताल तक ले जाने में कुछ समय तो लगता है, लेकिन इससे पहले आप खुद घर पर ही लू लगने पर प्राथमिक उपचार करके स्थिति को काबू में कर सकते हैं। आइये जानतें हैं लू लगने के बाद क्या करना चाहिए।

  • सबसे पहले व्यक्ति को ठंडी जगह पर लिटा दें।
  • सभी अनावश्यक कपड़ों को हटा दें ताकि त्वचा का अधिकतम सतह क्षेत्र ठंडी हवा के संपर्क में आ जाए।
  • पूरे शरीर पर ठंडा पानी स्प्रे करें। आप आइस पैक को गर्दन के पीछे, हथेलियों पर और तलवों पर भी लगा सकते हैं। तापमान की जाँच करते रहें, क्योंकि मुंह या कान का तापमान ऐसी स्थितियों में सही नहीं माना जाता है। शरीर के तापमान को 102°F (39°C) तक नीचे लाया जाना चाहिए।
  • व्यक्ति को ठंडा तरल पदार्थ जैसे नींबू पानी, छाछ, नारियल पानी या यहां तक ​​कि सादे पानी दें और उन्हें इसे पीते रहने दें। एस्पिरिन या किसी भी बुखार-रोधी दवा न दें।

(और पढ़े – शरीर का सामान्य तापमान कितना होता है, सामान्य रेंज और महत्व…)

हीट स्ट्रोक के लिए रिकवरी टाइम क्या है? – What Is The Recovery Time For Heat Stroke in Hindi

एक बार अस्पताल में भर्ती होने के बाद, शुरू में हीट स्ट्रोक से उबरने में 1-2 दिन लगते हैं। रिकवरी इस बात पर निर्भर करती है कि लक्षण कितने गंभीर थे और प्राथमिक चिकित्सा और उपचार को कितनी जल्दी दिया गया था।

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration