लू लगने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Heat Stroke causes, symptoms and home treatment in Hindi

लू लगने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज - Heat Stroke causes, symptoms and home treatment in Hindi
Written by Anamika

loo in Hindi गर्मी के मौसम में लू लगना सामान्य बात है। जानिए लू लगने के कारण, लक्षण और लू से बचने के घरेलू उपाय lu lagne ka karan, lakshan aur gharelu upay in hindi के बारे में अत्यधिक गर्मी शरीर की ऊर्जा को चूस लेती है और व्यक्ति को कमजोरी और सुस्ती महसूस होने लगती है। यहां तक कि एक स्वस्थ व्यक्ति भी लू की चपेट में आ जाता है। शरीर में अत्यधिक डिहाइड्रेशन होने से व्यक्ति को बहुत आसानी से लू लग जाती है और वह तुरंत बीमार भी पड़ जाता है। इसलिए लू लगने के कारण और इसके लक्षणों के बारे में पहले से ही जानकारी होने पर इससे बचा जा सकता है। आइये जानते है लू लगने के कारण, लक्षण और लू से बचने के उपाय के बारे में। (heat stroke in hindi)

  1. प्याज का रस है लू से बचने के उपाय – Onion Juice hai loo lagne ka ilaj in Hindi
  2. लू से बचने के उपाय है एप्पल साइडर विनेगर – Apple Cider Vinegar for Heat Stroke treatment in Hindi
  3. लू लगने का घरेलू उपचार है चंदन पावडर – Sandalwood Paste hai lu lagne ke upay in Hindi
  4. लू का घरेलू उपचार है बटरमिल्क – Buttermilk For Heat Stroke in Hindi
  5. लू का घरेलू इलाज है ठंडे पानी से स्नान – Cold Bath For Heat Stroke in Hindi
  6. लू से बचने के उपाय है आम का पन्ना – lu lagne ke upay Aam Panna in Hindi
  7. लू लगने पर प्राथमिक उपचार इमली का रस – lu lagne ke upay Tamarind Juice in Hindi
  8. लू की घरेलू औषधि एलोवेरा – Aloe Vera Juice For Heat Stroke in Hindi

लू लगने के कारण – Causes of Heat Stroke in Hindi, loo lagne ka karan in hindi

गर्मी के मौसम में हमारे शरीर के तापमान को सामान्य बनाए रखने के लिए हमारे शरीर में मौजूद तरल पदार्थ जिम्मेदार होते हैं। जब शरीर से अत्यधिक पसीना निकलने लगता है तो शरीर में तरल पदार्थ की कमी हो जाती है जिसके कारण डिहाइड्रेशन (Dehydration) की समस्या उत्पन्न हो जाती है, और इसी कारण व्यक्ति को लू लग जाती है। लू लगने पर व्यक्ति के शरीर का तापमान बढ़ जाता है और जब यह तापमान 105 डिग्री फेरेनहाइट (Fahrenheit) से ऊपर हो जाता है तो यह लू की सबसे खतरनाक स्थिति होती है और इस स्थिति में व्यक्ति को न्यूरोलॉजिकल डैमेज (Neurological Damage) भी हो सकता है।

(और पढ़े – डिहाइड्रेशन से बचने के घरेलू उपाय, जानलेंगें तो कभी नहीं होगी पानी की कमी )

लू लगने के आमतौर पर दो मुख्य कारण (loo lagne ka karan in hindi) होते हैं-

  • गर्म मौसम में अत्यधिक शारीरिक परिश्रम करना जैसे- कई घंटो तक घर से बाहर खेलना, बोझ ढोना या धूप में खड़े होकर दिनभर काम करना।
  • बूढ़े लोगों, बच्चों और बीमार व्यक्तियों में शरीर के तापमान को रेगुलेट करने में समस्या होती है जिसके कारण उन्हें जल्दी ही लू लग जाती है और उनके शरीर का तापमान बढ़ जाता है।

लू लगने के लक्षण – Symptoms Of Heat Stroke in Hindi, loo lagne ka lakshan in hindi

लू लगने पर व्यक्ति को अपने शरीर में इस तरह के लक्षण (Symptoms) महसूस होते हैं-

  • शरीर का तापमान अत्यधिक बढ़ जाना
  • जी मिचलाना या उल्टी होना (vomiting)
  • सिर दर्द होना (Headache)
  • चक्कर आना और कमजोरी
  • सांस तेज होना और हृदय की गति बढ़ जाना
  • मांसपेशियों और पेट में ऐंठन होना
  • पसीना कम या बहुत अधिक निकलना (और पढ़े – पसीने की बदबू को दूर करने के घरेलू उपाय)
  • इसके अलावा चिड़चिड़ापन, भ्रम की स्थिति, व्यक्ति के व्यवहार में विचित्र परिवर्तन और मूड स्विंग होना भी लू लगने के लक्षण है।

गर्मी में लू से बचने के उपाय – Heat Stroke home treatment in Hindi, loo lagne ka ilaj in Hindi

लू से बचने के उपाय - Heat Stroke home treatment in Hindi, loo lagne ka ilaj in Hindi

loo lagne ka ilaj लू लगने के बाद इन घरेलू उपायों के जरिए व्यक्ति के शरीर से लू के लक्षणों को खत्म किया जा सकता है और लू से निजात पाया जा सकता है।

प्याज का रस है लू से बचने के उपाय – Onion Juice hai loo lagne ka ilaj in Hindi

लू या हीट स्ट्रोक के घरेलू उपचार के रूप में प्याज का रस और प्याज का लेप बहुत लोकप्रिय है। यह लू के लक्षणों को खत्म कर देता है और शरीर को आराम प्रदान करता है। लू लगने के बाद दो तरीकों से प्याज के रस का उपयोग किया जा सकता है। प्याज के रस को कान के पीछे, पैर के तलवों में, सीने पर लगाकर छोड़ दें और जब शरीर से लू के लक्षण समाप्त हो जाएं तब एक चम्मच प्याज के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर इसका सेवन करें। आप चाहें तो दिन में दो बार इसका सेवन कर सकते हैं। लू के लक्षण समाप्त हो जाएंगे।

लू से बचने के उपाय है एप्पल साइडर विनेगर – Apple Cider Vinegar for Heat Stroke treatment in Hindi

इसमें कई तरह के मिनरल और विटामिन पाये जाते हैं जो शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी को पूरा करने में मदद करते हैं। इसलिए लू लगने पर व्यक्ति को सेब के सिरके (Apple Cider Vinegar) का सेवन करना चाहिए। एक गिलास ठंडे पानी में एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं और इसे पी जाएं। आपके शरीर से लू के सभी लक्षण समाप्त हो जाएंगे।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान)

लू लगने का घरेलू उपचार है चंदन पावडर – Sandalwood Paste hai lu lagne ke upay in Hindi

ज्यादातर लोगों को यह मालूम है की चंदन की तासीर ठंडी होती है और यह शरीर के तापमान को कम करके शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है। इसलिए लू लगने पर 3 से 4 चम्मच चंदन पाउडर में पानी मिलाकर पेस्ट बना लें और माथें एवं सीने पर चंदन का लेप लगाकर कुछ घंटों के लिए छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। आपके शरीर को लू से आराम मिलेगा।

(और पढ़े – चंदन के फायदे जो शायद आपने अभी तक नहीं सुने होंगे )

लू का घरेलू उपचार है बटरमिल्क – Buttermilk For Heat Stroke in Hindi

यह शरीर को हाइड्रेट करता है और ठंडक प्रदान करता है। बटर मिल्क में प्रोबायोटिक्स, प्रोटीन, मिनरल और विटामिन पाये जाते हैं जो शरीर के लिए आवश्यक तत्वों की भरपायी करने में मदद करते हैं। इसलिए यदि आपको लू लग जाए तो चार चम्मच दही में एक गिलास पानी और एक चुटकी नमक एवं एक चुटकी जीरा पावडर मिलाकर पेय तैयार कर लें और प्रतिदिन एक से दो गिलास इस पेय का सेवन करें। आपको लू से निजात मिल जाएगी।

(और पढ़े – छाछ के फायदे और नुकसान)

लू का घरेलू इलाज है ठंडे पानी से स्नान – Cold Bath For Heat Stroke in Hindi

यदि घर के बाहर भागदौड़ या अधिक परिश्रम करने की वजह से आपको लू लगी हो तो इस स्थिति में डॉक्टर शरीर से लू के लक्षणों को समाप्त करने के लिए ठंडे पानी से स्नान करने की सलाह देते हैं। ठंडा पानी पूरे शरीर के तापमान को कम करता है और शरीर को लू से राहत प्रदान करता है। एक टब को ठंडे पानी से भरें और उसमें 15 से 20 मिनट तक बैठे रहें, आपके शरीर से लू के लक्षण खत्म हो जाएंगे।

(और पढ़े – ठंडा पानी पीने के फायदे और नुकसान)

लू से बचने के उपाय है आम का पन्ना – lu lagne ke upay Aam Panna in Hindi

लू लगने पर आम के पने का सेवन (Aam Panna) स्वास्थ्य के लिए टॉनिक का काम करता है। यह कच्चे आम और मसालों से बनाया जाता है जो शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है। लू लगने पर आम का पन्ना दिन में दो से तीन बार सेवन करने से शरीर को राहत मिलती है क्योंकि आम के पन्ने में जीरा, सौंफ, काली मिर्च और काला नमक होता है जो शरीर को एनर्जी और इलेक्ट्रोलाइट दोनों प्रदान करता है।

लू लगने पर प्राथमिक उपचार इमली का रस – lu lagne ke upay Tamarind Juice in Hindi

शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने में इमली बहुत फायदेमंद होती है। यह डिहाइड्रेशन के कारण इलेक्ट्रोलाइड की कमी को पूरा करती है और शरीर के तापमान को सामान्य रखने में भी मदद करती है। लू लगने पर इमली का उपयोग घरेलू उपचार के रूप में किया जा सकता है। इमली को कुछ देर तक उबालें और इसका तरल पदार्थ निकालकर इसमें चीनी या शहद मिलाकर कुछ देर ठंडा करें और इस हर्बल पेय का सेवन करें। लू से बचने का यह एक कारगर उपाय है।

(और पढ़े – पानी पीने का सही समय जानें और पानी पीने के लिए खुद को प्रेरित कैसे करें)

लू की घरेलू औषधि एलोवेरा – Aloe Vera Juice For Heat Stroke in Hindi

इसमें उच्च मात्रा में विटामिन और खनिज पाये जाते हैं। इसके अलावा इसे अनुकूलन (adaptogen) के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह प्राकृतिक रूप से वाह्य परिवर्तनों से लड़ने के लिए शरीर की क्षमता को बढ़ाता है और शरीर के रक्षात्मक तंत्र को उत्तेजित (stimulate) करता है। इसके अलावा यह शरीर के विभिन्न प्रणालियों को स्थिर रखता है। लू लगने पर शरीर पर एलोवेरा जेल का लेप लगाएं या एलोवेरा जूस का सेवन करें। यह शरीर को ठंडा रखता है और लू के लक्षणों को खत्म कर देता है।

(और पढ़े – एलोवेरा है 5 स्वास्थ्य फायदों से भरपूर)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration